भारत के राज्यों में मनाये जाने वाले प्रमुख त्योहारों की जानकारी – Indian States And Their Festivals List In Hindi

Famous Festival Of India In Hindi, भारत विविध संस्कृति का देश है। जहा भारत का प्रत्येक राज्य अपनी एक अलग संस्कृति का प्रतिनिधित्व करता है जो उसकी अपनी पहचान है। इस प्रकार भारत के हर राज्य के त्यौहार दूसरे राज्यों में भिन्न होते हैं। इस प्रकार हर राज्य का अपना त्यौहार और इन त्योहारों को मनाने का तरीका भी अनोखा है। जो अपने अपने राज्य की संस्कृति और कल्चर को प्रदर्शित करते है। और अपने राज्य के साथ-साथ पूरे भारत में प्रसिद्ध है।

इसलिए, प्रत्येक राज्यों के त्यौहार को याद करना बहुत मुश्किल है। इसीलिए हमने भारत के प्रत्येक राज्य के प्रमुख त्योहारों की एक सूची तैयार की है। जिनके बारे में हम आपको अपने लेख में बताने जा रहे है:

1. आंध्र प्रदेश राज्य भारत का प्रमुख त्यौहार ब्रह्मोत्सव – Andhra Pradesh Brahmotsava Famous Festival Of India In Hindi

आंध्र प्रदेश राज्य भारत का प्रमुख त्यौहार ब्रह्मोत्सव

ब्रह्मोत्सव आंध्रप्रदेश का प्रसिद्ध त्यौहार है जिसे आंध्र प्रदेश के तिरुपति में श्री वेंकटेश्वर मंदिर में सबसे महत्वपूर्ण और शुभ वार्षिक उत्सव माना जाता है। जिसमे इस संसार के रचनाकार ब्रम्हा जी को मानव जाति के संरक्षण के लिए धन्यवाद देने के लिए तिरुपति में पवित्र स्वामी पुष्करिणी के तट पर वेंकटेश्वर की पूजा की जाती है। जिसमे भगवान वेंकटेश्वर की उत्सव-मूर्ति उनकी संरक्षिका श्रीदेवी और भूदेवी के साथ, मंदिर के आसपास की सड़कों पर विभिन्न वाहनों से जुलूस निकाला जाता है। जिसमे भारतीय पर्यटकों के साथ-साथ विदेशी पर्यटक भी शामिल होते है।

ब्रह्मोत्सव के आयोजन का समय: अक्टूबर के महीनों में

ब्रह्मोत्सव की अवधि: 9 दिनों तक

आन्ध्र प्रदेश राज्य के इतिहास और अन्य जानकारी

2. भारत के अरुणाचल प्रदेश का प्रसिद्ध त्यौहार लोसार महोत्सव – Losar Festival The Famous Festival Of Arunachal Pradesh In Hindi

भारत के अरुणाचल प्रदेश का प्रसिद्ध त्यौहार लोसार महोत्सव

लोसार महोत्सव अरुणाचल प्रदेश का लोकप्रिय उत्सव है जिसे तिब्बती नव वर्ष के रूप में मोनपा जनजाति के लोगों द्वारा बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। जिसमे त्यौहार के दिन तवांग मठ में सबसे पहले पूजा की जाती है, उसके बाद घर के मंदिर में प्रसाद चढ़ाया जाता है। लोसार शब्द दो शब्दों से ,-Lo’- जिसका अर्थ है वर्ष और – Sar ’-जिसका अर्थ है ‘नया’ जो बुरी आत्माओं को दूर करने और नए साल का स्वागत करने के लिए मनाया जाता है। इस महोत्सव में विशेष रूप से नृत्य, संगीत  और राजा और उनके विभिन्न मंत्रियों के बीच मनोरंजक लड़ाई जैसे आनंददायक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। जो स्थानीय लोगो के साथ – साथ पूरे  देश में लोकप्रिय बना हुआ है।

लोसार महोत्सव कब मनाया जाता है: जनवरी या फरवरी के अंत में

लोसार महोत्सव की अवधि: 3 दिनों तक

अरुणाचल प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी 

3. उत्तर पूर्वी भारत के असम राज्य का लोकप्रिय त्यौहार भोग बिहू – Bhog Bihu Popular Festival In North East India Assam In Hindi

उत्तर पूर्वी भारत के असम राज्य का लोकप्रिय त्यौहार भोग बिहू

असम का प्रमुख त्यौहार भोग बिहू असमिया नव वर्ष की शुरुआत का प्रतीक के रूप में मनाया जाता है जो एक नए कृषि चक्र की शुरुआत का प्रतीक है। जिसमे कई मेले आयोजित किए जाते हैं  उत्सव में पारंपरिक पोशाक में युवा लड़कियां “बिहु गीत” गाती हैं और पारंपरिक “मुकोलीबिहू” नृत्य करती हैं। और देवताओं की पूजा और दावतें आयोजित की जाती हैं। और इस उत्सव के दौरान, मवेशियों को भी सजाया जाता है। जो स्थानीय लोगो द्वारा धूम धाम से मनाया जाता है।

भोग बिहू उत्सव कब मनाया जाता है: अप्रैल

भोग बिहू उत्सव की अवधि: 7 दिनों तक

असम के पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी 

4. भारत के बिहार राज्य के फेमस त्यौहार छठ पूजा – Bharat Ke Prasidh Tyohar Chhath Puja Bihar In Hindi

भारत के बिहार राज्य के फेमस त्यौहार छठ पूजा

छठ पूजा बिहार का सबसे प्रमुख त्यौहार है जहा स्थानीय लोग सभी शक्तियों का स्रोत माने जाने वाले सूर्य देव और उनकी पत्नी उषा की समृद्धि और कल्याण के लिए प्रार्थना करते है। जो बड़ी धूम धाम में मनाई जाती है छठ पूजा एक खुशी और रंगीन रूप धारण करता है जिसमे लोग अपने सबसे अच्छे कपड़े पहनते हैं और जश्न मनाने के लिए नदियों और अन्य जल निकायों पर इकट्ठा होते हैं। दीपक जलाए जाते हैं और छट मैया ’या गंगा के सम्मान में भक्ति लोक गीत गाए जाते हैं। और सूर्यास्त के बाद मिट्टी के दीये घरों के आँगन में जलाए जाते हैं।

छठ पूजा कब मनाई जाती है: अक्टूबर या नवंबर के महीने में

छठ पूजा की अवधि: 1 दिन

बिहार राज्य का इतिहास और संस्कृति की जानकारी 

5. छत्तीसगढ़ राज्य भारत का प्रसिद्ध फेस्टिवल बस्तर दशहरा – Bastar Dussehra Chhattisgarh India Ka Prasidh Tyohar In Hindi

छत्तीसगढ़ राज्य भारत का प्रसिद्ध फेस्टिवल बस्तर दशहरा

बस्तर दशहरा छतीसगढ़ का सबसे प्रसिद्ध व सबसे अधिक लम्बा चलने वाला त्यौहार है जो बस्तर में आयोजित किया जाता है। जिसमे विविध जनजातियाँ पारंपरिक रीति-रिवाजों के साथ भाग लेती हैं। यह छत्तीसगढ़ की अनूठी सांस्कृतिक विशेषता है। राज्य के स्थानीय लोगों द्वारा पर्याप्त उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया जाता है, दशहरा का त्यौहार देवी दंतेश्वरी की सर्वोच्च शक्ति का प्रतीक है। दशहरा के दौरान, बस्तर के निवासी जगदलपुर के दंतेश्वरी मंदिर में विशेष पूजा समारोह आयोजित करते हैं।

बस्तर दशहरा कब शुरू होता है: अगस्त के आसपास

बस्तर दशहरा की अवधि: 75 दिनों तक

6. इंडिया के फेमस फेस्टिवल गोवा कार्निवल – Goa Carnival Famous Indian Festival In Hindi

इंडिया के फेमस फेस्टिवल गोवा कार्निवल

कार्निवल गोवा का एक प्रमुख उत्सव है जिसे रियो कार्निवल कहा जाता है। यह मूल रूप से एक कैथोलिक त्यौहार, जो 18 वीं शताब्दी के बाद से मनाया जाता है और अब एक बड़े आयोजन में बदल गया है। जो दुनिया भर से हजारों पर्यटकों को अपनी और आकर्षित करता है। कार्निवल का मुख्य आकर्षण परेड है जिसमें, बैलगाड़ी, घोड़े से खींची जाने वाली गाड़ियां, और विस्तृत झांकियां शामिल है और शाम को नृत्य का आयोजन भी लोकप्रिय है।

कार्निवल कब मनाया जाता है: फरवरी

उत्सव की अवधि: 3 दिन

गोवा का लोकप्रिय त्योहार 

7. भारत के गुजरात का प्रमुख पर्व जन्माष्टमी उत्सव – Bharat Ke Gujarat Ka Pramukh Parv Janmashtami Festival In Hindi

भारत के गुजरात का प्रमुख पर्व जन्माष्टमी उत्सव

जन्माष्टमी गुजरात का सबसे लोकप्रिय त्यौहार है। वैसे तो जन्माष्टमी पूरे भारत में मनाई जाती है लेकिन गुजरात में इसे बहुत उत्साह और धूम धाम के साथ  मनाई जाती है जहा मंदिरों और घरों को खूबसूरती से सजाया जाता है। और लोग पूरे दिन उपवास रखते हैं और आधी रात के जन्म समारोह के बाद ही भोजन करते हैं। मथुरा में कृष्ण को समर्पित कई मंदिर हैं जहाँ रात भर प्रार्थना की जाती है और धार्मिक भजन गाए जाते हैं। इस दिन छोटे बच्चे भगवान कृष्ण की तरह तैयार होते हैं जहा एक अलग ही उत्साह देखा जाता है।

जन्माष्टमी उत्सव कब मनाया जाता है: रक्षाबंधन के बाद भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि

जन्माष्टमी उत्सव की अवधि: 1 दिन

गुजरात में घूमने की 17 ऐसी जगह, जहां आपको जरुर जाना चाहिए

8. बैसाखी हरियाणा भारत का प्रसिद्ध उत्सव – Baisakhi Haryana Bharat Ka Prasidh Utsav In Hindi

बैसाखी का त्यौहार हरियाणा और पंजाब का लोकप्रिय त्यौहार है जो किसानो द्वारा बहुत खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता हैं यह त्यौहार रबी की फसलों की कटाई के समय मनाया जाता है। यहाँ वैसाखी के दिन एक अलग ही उमंग देखनो को मिलती है इस दिन  जट्टा आया बैसाखी” के स्वर से पूरा हरियाणा गूंज उठता है।और ढोल की ताल पर पारंपरिक लोक नृत्य भांगड़ा और गानों का गायन बड़े उत्साह के साथ किये जाते है। और इसके अलावा  रंगीन बैसाखी मेलों, कुश्ती के मुकाबलों, गायन और कलाबाजी को संगीत प्रदर्शन के साथ आयोजित किया जाता है। जो हरियाणा और पंजाब में लोकप्रिय बना हुआ है।

बैसाखी कब मनाई जाती है: अप्रैल में रबी की फसलों की कटाई के समय

वैसाखी मानाने की अवधि: 1 दिन

हरियाणा घूमने की जानकारी और 10 पर्यटन स्थलों की सैर 

9. हिमाचल प्रदेश भारत के राज्य का लोकप्रिय उत्सव महाशिवरात्रि – Mahashivratri Himachal Pradesh Indian Festival In Hindi

हिमाचल प्रदेश भारत के राज्य का लोकप्रिय उत्सव महाशिवरात्रि

महाशिवरात्रि हिमाचल प्रदेश का लोकप्रिय उत्सव है जो देश के सबसे बड़े शिवरात्रि उत्सव की मेजबानी करता है। सप्ताह भर चलने वाला मंडी शिवरात्रि मेला हर साल भूतनाथ (भगवान शिव) के मंदिर के पास आयोजित किया जाता है जो पूरे देश और विदेशों से भी पर्यटकों को आकर्षित करता है। महाशिवरात्रि उत्सव के दोरान यहाँ हर साल एक शोभा यात्रा का आयोजन किया जाता है, जिसमें बेमिसाल उत्साह और अत्यधिक भागीदारी देखी जाती है। जहाँ भगवान शिव को दूध, मक्खन, दही, शहद और चीनी से युक्त पाँच शुद्ध सामग्रियों का एक भोग चढ़ाया जाता है।

महाशिवरात्रि उत्सव कब मनाया जाता है: फरवरी या मार्च में महाशिवरात्रि के दिन

महाशिवरात्रि उत्सव की अवधि: लगभग 1 सप्ताह

हिमाचल प्रदेश के 10 सबसे खास पर्यटन स्थल 

10. जम्मू कश्मीर के प्रमुख त्यौहार की ईद-उल-फितर और ईद-उल-अज़हा – Jammu And Kashmir Ke Pramukh Tyohar Eid-Ul-Fitr And Eid-Ul-Azha In Hindi

जम्मू कश्मीर के प्रमुख त्यौहार की ईद-उल-फितर और ईद-उल-अज़हा

ईद की असली मस्ती और जश्न का असली मजा जम्मू कश्मीर में देखा जाता है जहा मुस्लिम समुदाय के लोग इसी बड़े प्यार और धूमधाम के साथ मनाते है! ईद-उल-फितर रमजान के उपवास महीने के अंत का प्रतीक है। इस दिन, मुसलमान नए कपड़े पहनते हैं और कई भव्य दावतों में भाग लेते हैं। ईद-उल-अज़हा एक समान रूप से महत्वपूर्ण त्यौहार है, जो क़ुर्बानी (बलिदान) के लिए अधिक प्रमुख है। इस दिन लोग बकरियों, भेड़ों और कुछ ऊंटों की भी बलि देते हैं।

ईद-उल-फितर और ईद-उल-अज़हा कब मनाई जाती है: इस्लामी कैलेण्डर के दसवें महीने शव्वाल के पहले दिन

जम्मू कश्मीर में देखने वाली जगहें 

11. झारखण्ड भारत का लोकप्रिय उत्सव हाल पुन्हा – Hal Punhya Jharkhand Bharat Ke Lokpriya Utsav In Hindi

हाल पुन्ह्या झारखंड में मनाए जाने वाले आदिवासीयो के लोकप्रिय त्योहारों में से एक है। जो फसल के मौसम की शुरुआत को चिह्नित करता है। यह कृषि त्यौहार बीज बोने की शुरुआत को दर्शाता है यहाँ किसान अपनी भूमि के एक हिस्से की जुताई के माध्यम से त्यौहार का जश्न शुरू करते हैं। हाल पुन्हा  झारखंड में सबसे अधिक प्रतीक्षित त्योहारों में से एक, खुशी और समृद्धि का त्यौहार माना जाता है।जो यहाँ बहुत ही उत्साह और उमंग के साथ मनाया जाता है।

हाल पुन्हा कब मनाया जाता है: जनवरी – फरवरी

झारखण्ड के टॉप पर्यटन स्थल की जानकारी 

12. कर्नाटक राज्य का प्रसिद्ध पर्व उगादी – Ugadi Karnataka India Ka Prasidh Parv In Hindi

कर्नाटक राज्य का प्रसिद्ध पर्व उगादी

उगादी महौत्सव कर्नाटक का प्रमुख उत्सव है जो कर्नाटक में नए साल के प्रतीक के रूप में बहुत ही उत्साह और उल्लास के साथ मनाया जाता है। यहाँ उगादि को नए उपक्रम शुरू करने के लिए एक शुभ समय माना जाता है। और यहाँ स्थानीय लोगो द्वारा कहा जाता है की भगवान ब्रह्मा ने उगादि के शुभ दिन पर विशाल ब्रह्मांड का निर्माण शुरू किया था। इसी कारण स्थानीय लोगो के लिए यह बहुत ही महत्वपूर्ण दिन माना जाता है जहा लोग इस पावन उत्सव को मंनाने के लिए अपने घरों और पूजा के कमरों को फूलों और आम के पत्तों से सजाते हैं और विशेष व्यंजन तैयार कर उनका आनंद लेते है।

उगादी उत्सव कब मनाया जाता है: मार्च के दूसरे भाग में या अप्रैल की शुरुआत में

कर्नाटक के टॉप 10 पर्यटन स्थलों की जानकारी 

13. भारत के केरला राज्य का प्रसिद्ध त्यौहार ओणम – Kerala Onam Famous Indian Festival In Hindi

भारत के केरला राज्य का प्रसिद्ध त्यौहार ओणम

ओणम केरल के लोकप्रिय त्योहारों में से एक है, जिसे सभी समुदायों के लोगों द्वारा और खासकर मलयाली लोगों के द्वारा खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है। ओणम उत्सव के दौरान, फूलों के साथ विशाल रंगोली बनाई जाती है। और राज्य के विभिन्न हिस्सों में 30 से अधिक स्थानों पर नाव दौड़, रस्साकशी, संगीत और नृत्य प्रदर्शन, मार्शल आर्ट प्रदर्शन और अन्य कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। ओणम साध्या (दावत) समारोहों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। जिसमे 9 प्रकार के व्यंजनों को स्थानीय और मौसमी सब्जियों का उपयोग करके तैयार किया जाता है।

ओणम कब मनाया जाता है: अगस्त और सितम्बर

ओणम उत्सव की अवधि: 10 दिनों तक

केरल के 30 सबसे प्रसिद्ध मंदिर 

14.भारत राज्य के प्रमुख त्यौहार मध्यप्रदेश की दिवाली – Diwali Madhya Pradesh Famous Festival Of India In Hindi

भारत राज्य के प्रमुख त्यौहार मध्यप्रदेश की दिवाली

दीपावली हिन्दुओं का सबसे बड़ा व लोकप्रिय त्यौहारो में एक है जो अंधेरे पर प्रकाश, बुराई पर अच्छाई और अज्ञान पर ज्ञान” की जीत का प्रतीक है।  जिसे मध्य प्रदेश में उत्साह ,जोश और धूम-धाम के साथ मनाया जाता है। मध्य प्रदेश के हर नुक्कड़ और कोने को रंगीन रोशनी से रोशन किया जाता है।यह त्यौहार व्यापक रूप से समृद्धि की देवी लक्ष्मी से जुड़ा हुआ है।दिवाली हिन्दुओ का हर्षोल्लास और वैभव का त्यौहार है जो पांच दिनों तक मनाया जाता है। जिसमे पहले और दूसरे दिन, धनतेरस मनाया जाता है। तीसरे दिन, मुख्य त्यौहार दिवाली होती है जहां लोग देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं और पटाखे जलाते हैं। चौथा दिन गोवर्धन पूजा का उत्सव है। अंत में,अंतिम दिन भाई दूज मनाया जाता है। यह पांचवा दिन दिवाली उत्सव के अंत का प्रतीक है।

दीपावली कब मनाई जाती है: अक्टूबर या नवंबर और हिंदू कैलेंडर में कार्तिका के 15 वे दिन को

दीपावली उत्सव की अवधि: पांच दिन

मध्य प्रदेश के प्रमुख त्यौहार और मेलो की जानकारी 

15. महाराष्ट्र इंडिया के फेमस फेस्टिवल गणेश चौतुर्थी उत्सव – Ganesh Chaturthi Maharashtra Lokpriya Festival In India In Hindi

महाराष्ट्र इंडिया के फेमस फेस्टिवल गणेश चौतुर्थी उत्सव

गणेश चतुर्थी, महाराष्ट्र का सबसे महत्वपूर्ण व लोकप्रिय उत्सव है। जहा लोगों द्वारा पाँच से दस दिनों तक दिव्य अतिथि के रूप गणेश जी प्रतिमाएँ रखी जाती हैं। विशाल गणेश मूर्तियों की पूजा 8 से 10 दिनों के लिए अच्छी तरह से सजाए गए पंडालों में की जाती है। उत्सव के दौरान गायन, नृत्य और रंगमंच, की सांस्कृतिक गतिविधियाँ आयोजित की जाती हैं। और जहा भगवान् गणेश जी को उनका मनपसंद मोदक का भोग लगाया जाता है। और अंत में  गणपति बप्पा मोरया के नारे लगाकर विशाल जुलूस निकाला जाता है और गणेश जी की मूर्तियों को ढोल बाजो के साथ बड़ी धूम धाम से बिसर्जित कर दिया जाता है।

गणेश चौतुर्थी उत्सव कब मनाया जाता है: अगस्त – सितंबर में

गणेश चौतुर्थी उत्सव की अवधि: 8 से 10 दिनों तक

महाराष्ट्र के 15 पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी 

16. भारत के मणिपुर राज्य का लोकप्रिय याओशंग उत्सव – Yaoshang Festival Manipur Bharat Ka Pramukh Festival In Hindi

याओशंग उत्सव मणिपुर के प्रमुख त्योहारों में से एक है जो पांच दिनों के लिए मनाया जाता है त्यौहार का मुख्य आकर्षण थबल चोंगबा नृत्य है जो एक मणिपुरी लोक नृत्य है जहां लड़के और लड़कियां एक मंडली बनाते हैं और हाथ पकड़कर गाते हैं और नृत्य करते हैं। रंग भी इस खूबसूरत त्यौहार के महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक हैं; स्थानीय लोग एक-दूसरे के चेहरे पर रंग लगाते हैं और बच्चों को पानी की बंदूकों (पिचकारी) से लोगों को पानी छिड़कते देखा जा सकता है। जिस कारण याओशंग मणिपुर का लोकप्रिय व उत्साहपूर्ण त्यौहार बना हुआ है।

याओशंग उत्सव कब मनाया जाता है: फाल्गुन (फरवरी / मार्च) की पूर्णिमा के दिन से शुरू होता है

याओशंग उत्सव की अवधि: 5 दिन तक

मणिपुर राज्य के बारे में पूरी जानकारी 

17. भारत का प्रमुख त्यौहार नोंगकर्म नृत्य महोत्सव मेघालय – Bharat Ke Famous Festival Nongkarm Dance Festival Meghalaya In Hindi

भारत का प्रमुख त्यौहार नोंगकर्म नृत्य महोत्सव मेघालय

पहाड़ी राज्य मेघालय का नोंगकर्म नृत्य उत्सव खासी जनजाति के सबसे महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है और इसे धूमधाम से मनाया जाता है। नोंगकर्म नृत्य उत्सव पांच दिनों का धार्मिक त्यौहार है, जो देवी बंसी सिंसार को अच्छी फसल और लोगों की समृद्धि के लिए खुश करने के लिए समर्पित है। नोंगकर्म नृत्य उत्सव  में अनोखी वेशभूषा में सजे अविवाहित पुरुषों और महिलाओं द्वारा नृत्य किया जाता है। जिसमे पुरुषों का नृत्य स्वाभाविक रूप से अधिक जोरदार और ऊर्जावान होता है। नोंगकर्म नृत्य उत्सव स्थानीय लोगो के साथ भारतीय और विदेशी पर्यटकों को भी आकर्षित करता है ।

नोंगकर्म नृत्य उत्सव कब मनाया जाता है: हर बर्ष अप्रैल के दूसरे सप्ताह में

नोंगकर्म नृत्य उत्सव की अवधि: 5 दिनों तक

मेघालय के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी 

18. फेमस इंडियन फेस्टिवल चपचार कुट उत्सव मिजोरम – Famous Chapchar Kut Festival Mizoram India In Hindi

फेमस इंडियन फेस्टिवल चपचार कुट उत्सव मिजोरम

चपचार कुट उत्सव मिज़ोरम का सबसे बड़ा त्यौहार है जो खेती के लिए पहाड़ी ढलानों को साफ करने और तैयार करने का प्रतीक है। जो युवा और बुजुर्गों लोगो द्वारा उल्लास और उत्साह के साथ मनाया जाता है। इस दिन लोग रंग-बिरंगे परिधानों और विशिष्ट सिर वाले जेवर और गहने पहनते हैं, विभिन्न लोक नृत्यों को इकट्ठा करते हैं और नृत्य करते हैं, पारंपरिक गीत गाते हैं, जिसमें ढोल, बाजे और झांझ की धुन बजती है। और यहाँ चपचार कुट उत्सव के दौरान स्वदेशी हथकरघा और हस्तशिल्प उत्पादों और फ्लावर शो, फूड फेस्टिवल, संगीत प्रतियोगिता और विभिन्न पारंपरिक खेलों की प्रदर्शनी और बिक्री भी आयोजित की जाती है। जो स्थानीय लोगो के लिए लोकप्रिय बनी हई है।

चपचार कुट उत्सव कब मनाया जाता है: फरवरी के अंत और मार्च के प्रारंभ में

चपचार कुट उत्सव की अवधि: 2 दिन

मिजोरम राज्य के बारे में पूरी जानकारी  

19. होर्नबिल उत्सव नागालेंड राज्य भारत का प्रसिद्ध त्यौहार – Hornbill Festival Nagaland Bharat Ka Prasidh Toyhar In Hindi

होर्नबिल उत्सव नागालेंड राज्य भारत का प्रसिद्ध त्यौहार

नागालैंड का सप्ताह भर चलने वाला हॉर्नबिल फेस्टिवल नॉर्थ ईस्ट का सबसे बड़ा सांस्कृतिक महोत्सव है जो प्रत्येक वर्ष 1से 10 दिसम्बर तक आयोजित होता है। यह नागा विरासत और परंपराओं समृद्धि को पुनर्जीवित, संरक्षित, बनाए रखने और बढ़ावा देने का त्यौहार माना जाता है। जिसमे राज्य की सभी नागा जनजातियाँ अपनी सांस्कृतिक और पारंपरिक उत्सव के लिए एकत्र होती हैं और अपनी सदियों पुरानी परंपराओं का प्रदर्शन करती हैं। जिसमे पुष्प शो, नागा कुश्ती, खेल और बहुत कुछ शामिल हैं।

होर्नबिल उत्सव कब मनाया जाता है: 1 से 10 दिसम्बर तक

होर्नबिल उत्सव की अवधि: 10 दिन

नागालैंड राज्य के इतिहास से लेकर संस्कृति के बारे में पूरी जानकारी

20. भारत के उड़ीसा राज्य का लोकप्रिय उत्सव राजा पारबा – Raja Parba Orissa Famous Festival Of India In Hindi

राजा पारबा चार दिनों तक मनाया जाने वाला उड़ीसा राज्य का लोकप्रिय त्यौहार है जिसे उड़ीसा राज्य में धूमधाम से मनाया जाता है। वासु माता पृथ्वी देवी का समर्पित इस त्यौहार को मिथुना संक्रांति के रूप में भी जाना जाता है। जो ओडिशा की जीवित सांस्कृतिक, कृषि क्षेत्रों में समृद्धि लाने, और और नारीत्व का जश्न मनाने के लिए आयोजित किया जाता है। ऐसा माना जाता है की इस अवधि के दौरान देवी अपने मासिक धर्म से गुजरती हैं, जिससे धरती माता के नारीत्व के सम्मान करने के लिए, जुताई, पेड़ काटने, जैसी सभी कृषि गतिविधियों को रोक दिया जाता है। इन सबके के अलावा दावत और विभिन्न खेलो के साथ राजा पारबा का जश्न धूमधाम से मनाया जाता है।

राजा पारबा उत्सव कब मनाया जाता है: जून-जुलाई

राजा पारबा उत्सव की अवधि: 3 दिनों तक

उड़ीसा राज्य के बारे में पूरी जानकारी 

21. भारत में मनाये जाना वाला प्रसिद्ध त्यौहार लोहड़ी उत्सव पंजाब – Lohri Punjab Popular Indian Festival Celebration In Hindi

भारत में मनाये जाना वाला प्रसिद्ध त्यौहार लोहड़ी उत्सव पंजाब

लोहड़ी पंजाब का एक लोकप्रिय त्यौहार है जिसे मकर संक्रांति से एक दिन पहले 13 जनवरी को पंजाब में विशेष रूप से हिंदू और सिख धर्म द्वारा बहुत ही उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। लोहड़ी मूल रूप से सूर्य देव को समर्पित है। जिसमे लोहड़ी से एक सप्ताह पहले बच्चे जलाऊ लकड़ी इकट्ठा करना शुरू कर देते हैं और लोहड़ी की रात को नृत्य और गायन के साथ धूमधाम से लोहड़ी जलाई जाती है।

लोहड़ी उत्सव कब मनाया जाता है: मकर संक्रांति से एक दिन पहले 13 जनवरी को

पंजाब पर्यटन में घूमने की सबसे प्रसिद्ध जगह की जानकारी 

22. इंडिया के फेमस फेस्टिवल गणगौर त्यौहार राजस्थान – Gangaur Festival Rajasthan India Ke Pramukh Festival In Hindi

इंडिया के फेमस फेस्टिवल गणगौर त्यौहार राजस्थान

गणगौर त्यौहार राजस्थान का लोकप्रिय उत्सव है जो देवी पार्वती के सम्मान में मनाया जाता है। यह त्यौहार होली के एक पखवाड़े के बाद पड़ता है जिसमे राजस्थान की महिलाओं द्वारा देवी पार्वती को प्रसाद चढ़ाया जाता है और इस त्यौहार के दौरान, अविवाहित महिलाएँ एक अच्छे वर के लिए और विवाहित महिलाएँ अपने पति की सलामती के लिए प्रार्थना करती है। और त्यौहार के दौरान गौरी और शिव जी की तस्वीरें को जुलूस के साथ निकला जाता हैं। और अद्भुत आतिशबाजी के प्रदर्शन के साथ गणगौर त्यौहार का समापन किया जाता है। गणगौर त्यौहार पर्यटकों को सांस्कृतिक उत्सव का आनंद लेने का एक शानदार अवसर प्रदान करता है। जो पर्यटकों के लिए लोकप्रिय बना हुआ है।

गणगौर त्यौहार कब मनाया जाता है: मार्च में होली के एक पखवाड़े के बाद

गणगौर त्यौहार मनाने की अवधि: 18 दिनों तक

राजस्थान के इतिहास और संस्कृति के बारे में जानकारी 

23. भारत के सिक्किम राज्य का प्रसिद्ध उत्सव सागा दावा – Saga Dawa Sikkim India Famous Utsav In Hindi

भारत के सिक्किम राज्य का प्रसिद्ध उत्सव सागा दावा

सागा दावा सिक्किम के सबसे प्रसिद्ध और सबसे बड़े त्योहारों में से एक है। जिसे हर साल बहुत उत्साह और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। यह त्यौहार दुर्लभ और सुरुचिपूर्ण रंगों से भरा होता है जो समृद्धि और विविधता को बढ़ाता हैं। यह त्यौहार महायान बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए सबसे महत्वपूर्ण और पवित्र माना जाता है, जो इस शुभ अवसर पर भगवान बुद्ध के जन्म, उनकी आत्मज्ञान और इस शारीरिक दुनिया से मुक्ति की स्मृति में उन्हें स्मरण करते हैं दीप प्रज्वलित करते हैं। और बाद में एक भव्य समारोह का आयोजन किया जाता है।

सागा दावा उत्सव कब मनाया जाता है: तिब्बती वर्ष के चौथे महीने के दौरान और अंग्रेजी कैलेंडर में मई – जून के महीने में

सिक्किम यात्रा की जानकारी

24. तमिलनाडु राज्य भारत का लोकप्रिय त्यौहार पोंगल – Pongal Tamil Nadu Indian State Famous Festival In Hindi

तमिलनाडु राज्य भारत का लोकप्रिय त्यौहार पोंगल

पोंगल दक्षिण भारत के सबसे लोकप्रिय त्योहारों में से एक है। पोंगल हर साल जनवरी के मध्य में पड़ता है जो उत्तरायण की शुभ शुरुआत का प्रतीक है। तमिलनाडु का यह चार दिवसीय त्यौहार प्रकृति के प्रति आभार व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है। यह त्यौहार फसल उत्सव भोगी से शुरू होता है, जब उत्सव के पहले दिन सभी पुरानी चीजों और कृषि अपशिष्टों को जलाकर नई शुरुआत के लिए घरों की सफाई की जाती है। दूसरे लोग नए बर्तन में नई  फसल के कटे हुए चावल का उपयोग करके पकवान बनाते है या “पोंगल” तैयार करते हैं। और सूर्य देव से प्रार्थना की जाती हैं। तीसरा दिन “मट्टू पोंगल” है, जब गायों और बैल को नहलाया और सजाया जाता है। और प्रसिद्ध “जल्लीकट्टू” या बैल लड़ाई भी इस दिन होती है। चौथे दिन, लोग अपने रिश्तेदारों से मिलते हैं और मिठाइयों को एक दूसरे को बाटकर उत्सव मनाया जाता हैं।

पोंगल कब मनाया जाता है: जनवरी में

पोंगल मनाने की अवधि: 4 दिनों तक

तमिलनाडु के पर्यटन स्थल की जानकारी

25. भारत के तेलंगाना राज्य में मनाये जाना वाला लोकप्रिय उत्सव बोनालु – Bonalu Telangana Hindusthan Ke Pramukh Toyhar In Hindi

बोनालु तेलंगाना का एक प्रसिद्ध त्यौहार है जो महाकाली देवी को समर्पित है जिसमे इस उत्सव के दोरान लोग देवी महाकाली की पूजा करते हैं। त्यौहार के पहले और अंतिम दिन देवी येलम्मा के लिए विशेष पूजा की जाती है। मन्नत पूरी होने के बाद इस त्यौहार को देवी का धन्यवाद माना जाता है। बोनम का शाब्दिक अर्थ है तेलुगु में भोजन, जो देवी को भेंट है। घर की महिलाएं एक नए मिट्टी या पीतल के बर्तन में दूध, गुड़ के साथ पकाया जाने वाला चावल तैयार करती हैं, जिसे नीम के पत्तों, हल्दी और सिंदूर से सजाया जाता है। और महिलाएं इन बर्तनों को अपने सिर पर रखकर मंदिर ले जाती है और महाकाली देवी को अर्पित करती है।

बोनालु कब मनाया जाता है: जुलाई /अगस्त में

तेलंगाना के टॉप 15 पर्यटन स्थल की जानकारी

26. भारत के प्रमुख त्यौहार खारची पूजा त्रिपुरा – Kharchi Puja Tripura India Ke Pramukh Festival In Hindi

खारची पूजा त्रिपुरा के चौदह देवताओं की पूजा है जो जुलाई-अगस्त के महीने में मनाई जाती है। खारची पूजा का शाब्दिक अर्थ है – धरती माँ की पूजा; “ख्या” का अर्थ है पृथ्वी। पूजा के दिन, चौदह देवताओं को सैदरा नदी में ले जाया जाता है, पवित्र जल में स्नान कराया जाता है और मंदिर में वापस लाया जाता है। इस दिन लोग जैसे बकरी, भैंस, मुर्गे, मिठाई जैसे अलग-अलग तरह के प्रसाद चढ़ाते हैं और रात में कई सांस्कृतिक कार्यक्रम किए जाते हैं और इस अवसर पर एक बड़े मेले का भी आयोजन किया जाता है। और स्थानीय लोगो द्वारा माना जाता है कि यह त्यौहार धरती मां को शुद्ध करने के लिए मनाया जाने वाला त्यौहार है और इस दौरान बुवाई, कटाई आदि जैसी कोई गतिविधि नहीं की जाती है।

खारची पूजा कब मनाई जाती है: जुलाई-अगस्त के महीने

खारची पूजा की अवधि: 7 दिन

त्रिपुरा राज्य में घूमने लायक मशहूर जगहों की जानकारी

27. इंडियन स्टेट उत्तरप्रदेश का फेमस फेस्टिवल नवरात्रि उत्सव – Indian State Uttar Pradesh Famous Navratri Festival In Hindi

इंडियन स्टेट उत्तरप्रदेश का फेमस फेस्टिवल नवरात्रि उत्सव

नवरात्रि सबसे पवित्र हिंदू त्योहारों में से एक है जो उत्तर प्रदेश में बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। नवरात्रि को नौ रातों के लिए मनाया जाता है, जिसके दौरान लोग देवी दुर्गा और उनके नौ रूपों की पूजा करते हैं। जहा सुंदर ढंग से सजाए गए पंडालों में मां दुर्गा की प्रतिमाओं / मूर्तियों की स्थापना कर देवी की विशेष पूजन भी की जाती हैं। और साथ ही सांस्कृतिक गीतों, नृत्यों और नाटको का भव्य आयोजन भी किया जाता है। फिर अंत माता कि मूर्तियों को उत्साह के साथ नदियों में विसर्जित कर दिया जाता है।

नवरात्रि उत्सव कब मनाया जाता है: सितम्बर या अक्टूबर के मध्य

नवरात्रि उत्सव मानने की अवधि: 9 दिन

उत्तर प्रदेश के 10 प्रमुख पर्यटन स्थल की जानकारी 

28. भारत राज्य के लोकप्रिय त्यौहार गंगा दशहरा उत्तराखंड – Famous Ganges Dussehra Festival Of Indian State Uttarakhand In Hindi

भारत राज्य के लोकप्रिय त्यौहार गंगा दशहरा उत्तराखंड

गंगा दशहरा उत्तराखंड का एक लोकप्रिय उत्सव है जिसे वहा बड़े धूमधाम के साथ मनाया जाता है। उत्तराखंड के प्रमुख घाटों पर गंगा दशहरा मनाया जाता है। यह त्यौहार भक्ति और विश्वास का दिन है। गंगा में बड़ी संख्या में लोग पापों से मुक्ति पाने के लिए स्नान करते हैं और रात भक्त गंगा नदी को  मिठाइयों और फूलों की पत्तियां भेंट करते हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस दिन, पवित्र नदी गंगा स्वर्ग से पृथ्वी पर उतरी। उत्तराखंड में यह त्यौहार हिंदू कैलेंडर के अमावस्या की रात से शुरू होता है और दशमी तिथि (10 वें दिन) पर समाप्त होता है।

गंगा दशहरा का कब मनाया जाता है: मई-जून के महीने में

गंगा दशहरा मनाने की अवधि: 10 दिनों तक

उत्तराखंड के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी 

29. भारत का प्रसिद्ध त्यौहार दुर्गा पूजा पश्चिम बंगाल – Durga Puja West Bengal Famous Festival Of India In Hindi

भारत का प्रसिद्ध त्यौहार दुर्गा पूजा पश्चिम बंगाल

दुर्गा पूजा को पश्चिम बंगाल में दुर्गोत्सव के रूप में भी जाना जाता है जो यहाँ बहुत उल्लास और धूमधाम के साथ मनाया जाता है। जहा देवी दुर्गा की पूजा करके त्यौहार मनाया जाता है  जो बंगाल में सबसे बड़े त्योहारों में से एक है। जो  लगभग हर कोने पर पूजा पंडालों के साथ बड़े पैमाने पर मनाया जाता है। प्रत्येक इलाके में सामुदायिक पूजा का भी आयोजन किया जाता है। त्यौहार के दौरान पारंपरिक अनुष्ठानों के अलावा, कई सांस्कृतिक गतिविधियों जैसे गीत और नृत्य प्रतियोगिताओं, खेल और भ्रूण का भी आयोजन किया जाता है।

दुर्गा पूजा का कब मनायी जाती है: सितम्बर – अक्टूबर  के महीने में

दुर्गा पूजा मनाने की अवधि: 10 दिनों तक

पश्चिम बंगाल के पर्यटन स्थल की जानकारी

भारत त्यौहारों का देश है जहाँ सभी धर्मों के लोग सामंजस्य रखते हैं। त्यौहार इसकी संस्कृति और परंपराओं का एक सच्चा प्रकटीकरण त्योहारों के माध्यम से हैं। जो भारत के 29 राज्यों को परिभाषित करते हैं, यह आप पर निर्भर है कि आप उन्हें कितने धूमधाम से मनाते हैं।

 

Leave a Comment