Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Best Places To Visit In Arunachal Pradesh In Hindi, अरुणाचल प्रदेश भारत के एक ऐसा सुंदर राज्य है जो सुरम्य पहाड़ों, दर्रे, शांत झीलें और प्रसिद्ध मठों से भरा हुआ है। अगर आप छुट्टी मनाने के लिए किसी अच्छी जगह की तलाश में हैं तो आपको अरुणाचल प्रदेश के पर्यटन स्थलों की सैर करने के लिए जरुर जाना चाहिए। अरुणाचल प्रदेश दक्षिण में असम, भूटान के पश्चिम में, उत्तर और चीन द्वारा उत्तर-पूर्व में, और म्यांमार द्वारा पूर्व में “भारत के ऑर्किड राज्य” या “बोटनिस्ट्स का स्वर्ग” के रूप में जाना जाता है।

अरुणाचल प्रदेश में पक्षियों की 500 से अधिक प्रजातियाँ पाई जाती हैं, जिनमें से कई अत्यधिक लुप्तप्राय हैं। अरुणाचल प्रदेश निर्मल पहाड़ों से भरा हुआ है जो सर्दियों के दौरान पर्यटकों की यात्रा को यादगार बनाते हैं और लुहावने दृश्य प्रस्तुत करते हैं। अगर आप अरुणाचल प्रदेश के बारे में अन्य जानकारी चाहते हैं तो इस लेख को जरुर पढ़ें, यहां हम आपको राज्य के इतिहास, प्रमुख त्योहारों और पर्यटन स्थलों के बारे में बताने जा रहें हैं।

1. अरुणाचल प्रदेश का इतिहास – Arunachal Pradesh History In Hindi

अरुणाचल प्रदेश का इतिहास

अरुणाचल के क्षेत्र में निवास करने वाले लोगों का इतिहास ग्यारह हजार साल पुराना है और यहां के लोग वर्तमान भूटान, म्यांमार, चीन और तिब्बत के जनजातियों के साथ घनिष्ठ संबंध दिखाते हैं। यह राज्य वर्षों से सांस्कृतिक रूप से भारत में एकीकृत है, लेकिन जो अपनी विशिष्ट परंपराओं को बनाये रखे है। हाल की खुदाई में 14 वीं शताब्दी के सियांग की तलहटी में मंदिरों के अवशेष दिखाए गए हैं। आधुनिक इतिहास कई देशों की सीमा पर अपनी रणनीतिक स्थिति के कारण संघर्ष से भरा हुआ है। राज्य में मैकमोहन रेखा 1913-14 में खींची गई थी और तब से भारत और चीन के बीच सीमा के रूप में कार्य करती है। ब्रिटिश शासन के दौरान और 1972 तक अरुणाचल को उत्तर पूर्वी सीमांत एजेंसी के रूप में जाना जाता था। इसने 1962 में भारत और चीन के बीच एक खूनी युद्ध देखा है और यह अंतर्राष्ट्रीय सीमा अभी भी विवादित है लेकिन अरुणाचल अब एक राजनीतिक रूप से स्थिर क्षेत्र है और भारत की पर्यटन अर्थव्यवस्था का एक बड़ा हिस्सा है।

2. अरुणाचल प्रदेश के त्यौहार – Arunachal Pradesh Festival In Hindi

अरुणाचल प्रदेश के त्यौहार

अरुणाचल एक ऐसा राज्य है जहां हर समय कोई न कोई त्योहार होता है। सबसे प्रसिद्ध जीरो म्यूज़िक फेस्टिवल हैं जो नॉर्थ ईस्ट की संगीत प्रतिभा को बढ़ावा देने के लिए सितंबर में आयोजित किए जाते हैं। सांगकेन फेस्टिवल जहां क्षेत्र के जनजाति प्रत्येक वर्ष अप्रैल में बौद्ध धर्म के सिद्धांतों का जश्न मनाने के लिए इकट्ठा होते हैं, तवांग में आयोजित लोसार दो सप्ताह तक चलने वाले उत्सव है जो नए साल का सम्मान करने के लिए मनाया जाता है। सोलुंग, एक कृषि त्यौहार जो मानसून के मौसम (जुलाई / अगस्त) के दौरान आयोजित किया जाता है, न्याकि जनजाति का न्योकुम त्यौहार, द्री त्यौहार, बौरी बूट, खान, गोमकुम गोम्पा, तमालु, मोपिन और अरान कुछ अन्य सांस्कृतिक त्यौहार हैं, जो अरुणाचल प्रदेश में बहुत उत्साह के साथ मनाये जाते हैं।

और पढ़े: शिलांग यात्रा की जानकारी 

3. अरुणाचल प्रदेश के पर्यटन स्थल और दर्शनीय स्थल – Arunachal Pradesh Paryatan Me Ghumne Layak Jagah In Hindi

अरुणाचल प्रदेश के पर्यटन स्थल और दर्शनीय स्थल

अगर आप अरुणाचल प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थलों की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं तो नीचे दिए गए पर्यटन स्थलों को आप अपनी यात्रा की सूची में शामिल कर सकते हैं।

3.1 अरुणाचल प्रदेश के पर्यटन स्थल तवांग – Arunachal Pradesh Ke Paryatan Sthal Tawang In Hindi

अरुणाचल प्रदेश के पर्यटन स्थल तवांग

तवांग अरुणाचल प्रदेश का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है जो अपनी खूबसूरती से पर्यटकों को बेहद आकर्षित करता है। लगभग 3048 मीटर की ऊंचाई पर स्थित तवांग कई महत्वपूर्ण और सुंदर मठों के लिए जाना जाता है और दलाई लामा के जन्म स्थान के रूप में प्रसिद्ध है। तवांग एक ऐसी जगह है जो आध्यात्मिकता की खुशबू में लिपटी अपनी प्राकृतिक सुंदरता से आपको रोमांचित करेगी। सुंदर आर्किड अभयारण्य और टिपी ऑर्किड अभयारण्य तवांग में घूमने की अच्छी जगहों में शामिल शामिल हैं। यात्रा के दौरान इस क्षेत्र के अनूठे व्यंजनों का लुत्फ उठाना न भूलें।

3.2 अरुणाचल प्रदेश के दर्शनीय स्थल ईटानगर – Arunachal Pradesh Ke Darshaniya Sthal Itanagar In Hindi

अरुणाचल प्रदेश के दर्शनीय स्थल ईटानगर

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी इटानगर एक प्राकृतिक स्वर्ग है जो हिमालय के पर उत्तरी छोर पर स्थित है। हाल ही में इटानगर को सरकार द्वारा पर्यटकों के लिए हाल ही में खोला गया है। शहर की विरासत और आदिवासी संस्कृति, जो दशकों और सदियों पुरानी है वो आज भी यहां बरकरार है। 15 वीं शताब्दी का इटा-किला, पौराणिक गंगा झील, जिसे स्थानीय रूप से ग्यार सिनि और बुद्ध विहार के नाम से जाना जाता है, दलाई लामा द्वारा संरक्षित यह सबसे महत्वपूर्ण आकर्षण हैं। यहां का सुहाना मौसम साल भर पर्यटकों को आकर्षित करता है। यूपिया शहर ईटानगर के साथ राज्य का प्रमुख आकर्षण का हिस्सा है। आप दोनों शहरों को एक साथ कवर कर सकते हैं। अगर आप अरुणाचल प्रदेश की यात्रा करने जा रहें हैं तो आपको इटानगर को अपनी यात्रा सूची में जरुर शामिल करना चहिये।

और पढ़े: साँची स्तूप घूमने की जानकारी

3.3 अरुणाचल प्रदेश में घूमने लायक जगह जीरो – Arunachal Pradesh Mein Ghumne Layak Jagah Ziro In Hindi

अरुणाचल प्रदेश में घूमने लायक जगह जीरो

ज़ीरो अरुणाचल प्रदेश में एक विचित्र पुराना शहर है, जो अपा तानी जनजाति का घर है और अपनी देवदार की पहाड़ियों और चावल के खेतों के लिए प्रसिद्ध है। वर्ष के माध्यम से जीरों में जलवायु हल्की होती है, जिससे पूरे वर्ष यात्रा करना आरामदायक होता है।

3.4 अरुणाचल प्रदेश में देखने लायक जगह बोमडिला – Arunachal Pradesh Me Dekhne Layak Jagah Bomdila In Hindi

अरुणाचल प्रदेश में देखने लायक जगह बोमडिला

बोमडिला अरुणाचल प्रदेश का एक सुंदर शहर है जो पर्यटकों हिमालय पर्वत के आकर्षक दृश्य प्रदान करता है। बोमडिला कई स्थानों जैसे मंदिरों और वन्यजीव अभयारण्यों से भरपूर है। यहां पर बौद्ध और हिंदू दोनों मंदिर यहां पाए जाते है। इसके अलावा यहां पर्यटक सेब के बगीचे और ईगल नेस्ट वाइल्डलाइफ अभयारण्य की सैर भी कर सकते हैं।

3.5 अरुणाचल प्रदेश के आकर्षण स्थल भालुकपोंग – Arunachal Pradesh Ke Aakarshan Sthal Bhalukpong In Hindi

अरुणाचल प्रदेश के आकर्षण स्थल भालुकपोंग

भालुकपोंग अरुणाचल प्रदेश का प्रमुख पर्यटन स्थल है जो प्रकृति प्रेमी का स्वर्ग होने के अलावा कई वन्यजीवों को एक्स्प्लोर करने का मौका देता है। भालुकपोंग अपनी प्राकृतिक सुंदरता और वातावरण की वजह से कई गतिविधियों की मेजबानी करता है। यहां जगल में बहने वाली कामेंग नदी शहर को और भी आकर्षक बनाती है। भालुकपोंग में आप पैदल यात्रा, ट्रेकिंग, कैंपिंग और फिशिंग का मजा ले सकते हैं। पखुई खेल अभयारण्य में बाघों, हाथी। बार्किंग डियर के साथ कई तरह के पक्षियों को भी देख सकते हैं।

और पढ़े: मेघालय के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी 

3.6 अरुणाचल प्रदेश का दर्शनीय स्थल रोइंग – Arunachal Pradesh Ke Darshaniya Sthal Roing In Hindi

अरुणाचल प्रदेश का दर्शनीय स्थल रोइंग

Image Credits: Tapan Dutta

रोइंग अरुणाचल प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थलों में शामिल है जो अपने बर्फ से ढकी पहाड़ियों, गहरे घाटियों, अशांत नदियों, झरने, शांत झीलों, पुरातात्विक स्थल, शांति जैसे आकर्षक स्थलों भरा हुआ है। जो भी पर्यटक यहां की यात्रा करता है वो कभी निराश होकर वापस नहीं जाता। रोइंग में प्रकृति प्रेमियों के लिए कई झीलें और घाटियाँ है जो इसे स्वर्ग के सामान बनाती हैं। भीष्मनगर किला और नेहरू उद्योग इसके ऐतिहासिक महत्व को बताते हैं।

3.7 अरुणाचल प्रदेश के पर्यटन स्थल खोंसा – Arunachal Pradesh Ke Paryatan Sthal Khonsa In Hindi

अरुणाचल प्रदेश के पर्यटन स्थल खोंसा

Image Credits: Samkang Kitnya

समुद्र तल से लगभग 1,215 मीटर की औसत ऊँचाई पर, खोंसा एक सुंदर सा हिल स्टेशन है, जो अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। खोंसा अरुणाचल प्रदेश में तिरप जिले का मुख्यालय है और यह हिमालय पर्वतमाला से घिरे तिरप घाटी में स्थित है। खोंसा के मुख्य आकर्षण धाराएँ, गहरी घाटियाँ, घने जंगल और बर्फ से ढकी पहाड़ियाँ है जो पर्यटकों को यहां की यात्रा करने के लिए मजबूर करती हैं। बता दें कि पूर्व में म्यांमार की सीमा के साथ खोंसा एक सैन्य क्षेत्र है।

3.8 अरुणाचल प्रदेश में घूमने वाली जगह यिंगकिओनग – Arunachal Pradesh Me Ghumne Wali Jagah Yingkiong In Hindi

अरुणाचल प्रदेश में घूमने वाली जगह यिंगकिओनग

Image Credits: Getin Tali

यिंगकिओनग ऊपरी सियांग जिले का मुख्यालय है, जिसको अपना नाम सियांग नदी से मिलता है जो इस जिले में बहती है। यह क्षेत्र अपनी विविध और रंगीन जातीयता के लिए जाना जाता है जहां लोग प्यार से रहते हैं और उत्साह के साथ कई त्योहार मनाते हैं। इन सभी के अलावा यिंगकिओनग एडवेंचर लवर्स को ट्रेकिंग, पर्वतारोहण, मछली पकड़ने, राफ्टिंग, शिविर और अन्य चीजों में लिप्त होने का मौका देता है।

और पढ़े: सात बहनों के राज्य (सेवन सिस्टर्स) के बारे में जानकारी 

3.9 अरुणाचल प्रदेश देखने लायक जगह मेचुका – Arunachal Pradesh Dekhne Layak Jagah Mechuka In Hindi

अरुणाचल प्रदेश देखने लायक जगह मेचुका

अरुणाचल प्रदेश में मेचुका एक प्रसिद्ध स्थल है जो प्राकृतिक सौंदर्य से भरपूर है। मेचुका का दूसरा नाम मेनचूखा है। यह मेचुका घाटी में समुद्र तल से ऊपर एक छोटा शहर है। यह क्षेत्र मेम्बा, रामो, बोकार और लीबो जनजाति का घर है। मूल निवासी बौद्ध धर्म, डोनी-पोलोइज़्म और ईसाई धर्म के लोग हैं। समय के साथ मेचुका अपने ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व के कारण एक प्रसिद्ध पर्यटन स्थल बन गया है। सियोम नदी इस जगह की की सुंदरता को और भी बढ़ाती है।

3.10 अरुणाचल प्रदेश के पखुई वन्यजीव अभयारण्य – Pakhui Wildlife Sanctuary Arunachal Pradesh In Hindi

अरुणाचल प्रदेश के पखुई वन्यजीव अभयारण्य

पखुई वन्यजीव अभयारण्य शाही बेंगाल टाइगर और वनस्पतियों और जीवों की कई और किस्मों का घर है। पक्के टाइगर रिजर्व में कम से कम 40 स्तनपायी प्रजातियाँ पाई जाती हैं। अभयारण्य में टाइगर, जंगली कुत्ता जैकाल, हिमालयन ब्लैक बीयर, तेंदुआ, क्लाउडेड तेंदुआ, जंगल बिल्ली, बंट्टुरोंग, हाथी, गौर, समर, हॉग हिरण, बार्किंग हिरण, विल्बर, येलो थ्रैटेड मार्टिन के अलावा अन्य प्रजतियां पाई जाती हैं। इसके साथ ही पक्षियों की लगभग 300 प्रजातियां भी यहां निवास करती हैं। इस अभ्यारण्य को पक्के टाइगर रिजर्व के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि अभयारण्य का लक्ष्य रॉयल बंगाल टाइगर को संरक्षित करना है।

3.11 अरुणाचल प्रदेश के आकर्षण स्थल नूरनांग जलप्रपात – Arunachal Pradesh Ke Aakarshan Sthal Nuranang Falls In Hindi

अरुणाचल प्रदेश के आकर्षण स्थल नूरनांग जलप्रपात

नूरनांग जलप्रपात तवांग के जंगल में स्थित एक बड़े पैमाने पर अज्ञात और वर्जिन जगह है जो पर्यटकों को एक खास अनुभव प्रदान करती है। देश के सबसे शानदार झरनों में से एक, नूरनंग जलप्रपात पानी की एक सुंदर सफेद चादर है जो लगभग 100 मीटर की ऊँचाई से नीचे गिरती है। जलप्रपात नूरनांग नदी का एक हिस्सा जो सेला दर्रे से निकलता है। नूरनांग जलप्रपात ज्यादा लोकप्रिय पर्यटन स्थल नहीं होने की वजह से यहां पर्यटकों की ज्यादा भीड़ नहीं होती।

और पढ़े: मानस राष्ट्रीय उद्यान घूमने की जानकारी

3.12 अरुणाचल प्रदेश पर्यटन में देखने लायक जगह गोरीचेन पीक – Arunachal Pradesh Paryatan Me Dekhne Layak Jagah Gorichen Peak In Hindi

अरुणाचल प्रदेश पर्यटन में देखने लायक जगह गोरीचेन पीक

गोरीचेन पीक अरुणाचल प्रदेश की सबसे ऊंची चोटी है और यह अरुणाचल प्रदेश के तवांग और पश्चिम कामेंग जिलों के बीच स्थित है। समुद्र तल से 22,500 फीट की ऊंचाई पर स्थित गोरीचेन चोटी तवांग से लगभग 164 किलोमीटर दूर है और बेहतरीन ट्रेकिंग और पर्वतारोहण स्थल है।

3.13 अरुणाचल प्रदेश के दर्शनीय स्थल सेला दर्रा – Arunachal Pradesh Ke Darshniya Sthal Sela Pass In Hindi

अरुणाचल प्रदेश के दर्शनीय स्थल सेला दर्रा

सेला दर्रा अरुणाचल प्रदेश के लोगों के लिए एक जीवन रेखा है और हिमालय में सबसे लुभावनी जगहों में से एक है जो स्वर्ग के समान है। सेला दर्रा और हिमालय अपने रहस्यवादी सौंदर्य से पर्यटकों को मंत्रमुग्ध कर देते हैं। यहां पास अरुणाचल की सबसे खूबसूरत सेला झील का भी घर है। एक संवेदनशील क्षेत्र होने की वजह से सेला पास की यात्रा के लिए एक आंतरिक लाइन परमिट की आवश्यकता होती है।

3.14 अरुणाचल प्रदेश में घूमने के लिए अच्छी जगह माधुरी झील – Arunachal Pradesh Me Ghumne Ke Liye Achi Jagah Madhuri Lake In Hindi

अरुणाचल प्रदेश में घूमने के लिए अच्छी जगह माधुरी झील

हिमालय का घर होने की वजह से अरुणाचल प्रदेश कई सुंदर झीलों का घर है, लेकिन यहां माधुरी झील की तरह सुंदर और आकर्षक कोई भी नहीं है, जिसे संगतेसर झील भी कहा जाता है। माधुरी झील देश की और शायद दुनिया की सबसे रिमोट झीलों में से एक है। तवांग से 30 किमी उत्तर-पूर्व में समुद्र तल से 12,000 फीट की ऊँचाई पर स्थित माधुरी झील विशाल पहाड़ों के बीच टकराती हुई अदभुद दृश्य प्रस्तुत करती है। आपको बता दें कि बॉलीवुड फिल्म कोइला की यहां शूटिंग होने की वजह से झील को काफी लोकप्रियता मिली है इसी वजह से झील को माधुरी झील के नाम से भी जाना जाता है।

और पढ़े: गुवाहाटी के पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी 

4. अरुणाचल प्रदेश का प्रसिद्ध पकवान और खान पान – Famous Local Food Of Arunachal Pradesh In Hindi

अरुणाचल प्रदेश का प्रसिद्ध पकवान और खान पान

अरुणाचल प्रदेश में अधिकांश उत्तर-पूर्वी स्थानों की तरह मुख्य भोजन चावल, मछली, मांस और सब्जियाँ हैं। व्यंजन बहुत कम मसाले का उपयोग करते हैं, और वे ज्यादातर जड़ी-बूटियों, जैविक प्रस्तुतियों का उपयोग करते हैं। मोमोज और थुकपा की अलग-अलग वेराइटी इस क्षेत्र में लोकप्रिय और व्यापक हैं। अरुणाचल प्रदेश में नाश्ते के रूप में उबले हुए चावल केक का भी व्यापक रूप से आनंद लिया जाता है। इसके अलावा यहां चीनी व्यंजन भी चलन में हैं और यह अरुणाचल प्रदेश की रसोई में अपना विशिष्ट स्थान रखता है। इनके अलावा  चावल की बियर है जिसे अपांग कहा जाता है यहां काफी प्रसिद्ध है।

5. अरुणाचल प्रदेश की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय क्या है – Best Time To Visit Arunachal Pradesh In Hindi

अरुणाचल प्रदेश की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय क्या है

अरुणाचल प्रदेश की यात्रा करने के लिए सबसे बेहतर महीने अक्टूबर और अप्रैल के महीनों के बीच है, हालांकि अरुणाचल ऊंचाई पर स्थित है, और इसलिए पूरे वर्ष सुखद मौसम है। लेकिन यहां सभी गतिविधियाँ हर समय उपलब्ध नहीं हो सकती हैं, इसलिए यह सलाह दी जाती है कि प्रत्येक साइट या गतिविधि के लिए उपलब्धता और मौसम की जाँच करें। राज्य में अक्टूबर और फरवरी के बीच सर्दियों का मौसम और मार्च और अप्रैल के बीच वसंत का मौसम होता है।  जुलाई से सितंबर तक यहां पर मानसून का मौसम होता है, इस दौरान यह इलाका सुंदर हरे भरे स्वर्ग में बदल जाता है, लेकिन गर्मियों या सर्दियों के दौरान यात्रा करना ज्यादा अच्छा रहता क्योंकि मानसून में भारी बारिश के कारण कई पर्यटक आकर्षण बंद हो सकते हैं।

और पढ़े: पटना साहिब गुरुद्वारा बिहार घूमने की जानकारी 

6. अरुणाचल प्रदेश कैसे जाये – How To Reach Arunachal Pradesh In Hindi

अरुणाचल प्रदेश की यात्रा करना कोई मुश्किल बात नहीं है क्योंकि यहां पर्यटक परिवहन के सभी साधनों आसानी से पहुँच सकते हैं। राज्य दिल्ली, मुंबई और कोलकाता सहित सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

6.1 हवाई जहाज से अरुणाचल प्रदेश तक कैसे पहुंचे – How To Reach Arunachal Pradesh By Flight In Hindi

हवाई जहाज से अरुणाचल प्रदेश तक कैसे पहुंचे

अरुणाचल प्रदेश के लिए कोलकाता और गुवाहाटी से जुड़ा असम राज्य में लीलाबरी (उत्तर लखीमपुर) तेजपुर हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है, जो 260 किमी (लगभग 4hours ड्राइव) है। आप दिल्ली, मुंबई और पुणे सहित सभी प्रमुख शहरों से कोलकाता और गुवाहाटी के लिए सीधी उड़ानें पकड़ सकते हैं। राज्य में टैक्सियां और बस सेवाएं आसानी से उपलब्ध हैं।

6.2 अरुणाचल प्रदेश ट्रेन से कैसे पहुंचे – How To Reach Arunachal Pradesh By Train In Hindi

अरुणाचल प्रदेश ट्रेन से कैसे पहुंचे

राज्य की राजधानी इटानगर से लगभग 43 किमी (सिर्फ एक घंटे की ड्राइव) पर हरमुटी रेलवे स्टेशन (असम) है जो अरुणाचल प्रदेश को भारत के अन्य प्रमुख शहरों से जोड़ता है।

6.3 सड़क द्वारा अरुणाचल प्रदेश कैसे जाये – How To Reach Arunachal Pradesh By Road In Hindi

सड़क द्वारा अरुणाचल प्रदेश कैसे जाये

राज्य सभी प्रमुख शहरों और आसपास के राज्यों से सड़क द्वारा आसानी से पहुंच योग्य है। अरुणाचल प्रदेश के सभी प्रमुख शहरों से मेघालय (लगभग 790 किमी), असम (560 किमी) और नागालैंड (456 किमी) से अंतर बस सेवाएं उपलब्ध हैं।

और पढ़े: कामाख्या देवी मंदिर के बारे में रोचक तथ्य और इतिहास

7. अरुणाचल प्रदेश का नक्शा – Arunachal Pradesh Map

8. अरुणाचल प्रदेश की फोटो गैलरी – Arunachal Pradesh Images

और पढ़े:

 

Write A Comment