मध्य प्रदेश के प्रमुख त्यौहार और मेलो की जानकारी – Fairs And Famous Festivals Of Madhya Pradesh In Hindi

Festivals Of Madhya Pradesh In Hindi, भारत के दिल के रूप में जाने जाना वाला मध्य प्रदेश अपनी सांस्कृतिक विरासत और त्यौहार के लिए प्रसिद्ध है। मध्य प्रदेश में आयोजित होने वाले लोकप्रिय फेस्टिवलो को दुनिया में कहीं और नहीं देखा जा सकता है। भारत के किसी भी अन्य स्थान की तरह मध्य प्रदेश कई धर्मों का सह अस्तित्व है जो विभिन्न त्योहारों के उत्सव के साक्षी होते हैं। जिसमे धार्मिक त्योहारों के साथ-साथ आदिवासी त्योहार भी देखने को मिलते हैं। धार्मिक त्योहारों में दशहरा, दिवाली, ईद, जैन त्योहार और क्रिसमस शामिल हैं, जबकि आदिवासी त्योहारों में मडई, भगोरिया और करबा शामिल हैं। इनके अलावा झाबुआ में भगोरिया हाट, नृत्य खजुराहो का नृत्य समरोह, ग्वालियर का तानसेन संगीत समारोह, मडई त्यौहार, और प्रयागराज का मेला भी प्रसिद्ध हैं।

विभिन्न जनजातियों में उत्सव अपने तरीके से मनाये जाते है। मध्य प्रदेश के मेलों और त्यौहारों के दौरान, आपको पारंपरिक वेशभूषा, नृत्य, संगीत, भोजन और कला और स्थानीय जनजातियों के शिल्प भी देखने को मिलते हैं। विभिन्न जाति, धर्म और जनजाति के लोग मध्य प्रदेश में बसे हुए हैं। ये सभी मेले और त्यौहार विभिन्न धर्मों से को एक-दूसरे से जोड़ते हैं। मध्य प्रदेश में मानाये जाने वाले त्यौहार के रंग जब धरती पर बिखरते है तो इनके आकर्षण से पर्यटकों का बचना मुश्किल होता हैL तो यहाँ हम आपको मध्य प्रदेश के लोकप्रिय आकर्षक त्यौहारो के बारे में बताने जा रहे है –

1. मध्य प्रदेश में देखने लायक सांस्कृतिक त्योहार लोकरंग समारोह – Madhya Pradesh Mein Dekhne Layak Cultural Festival Lokrang Festival In Hindi

मध्य प्रदेश में देखने लायक सांस्कृतिक त्योहार लोकरंग समारोह

मध्यप्रदेश आदिवासी लोककला अकादमी द्वारा आयोजित होने वाला लोकरंग उत्सव मध्य प्रदेश का एक लोकप्रिय सांस्कृतिक त्योहार है जिसमें सभी नर्तक अपने एक पैर को आगे की ओर करते हुए लोक संगीत के साथ अपने कदम से कदम मिलाते हुए नृत्य करते हैं। त्योहार के दौरान मंच, लोक नृत्यों, संगीत और जातीय नृत्यों के विभिन्न रूपों को प्रदर्शित करता है। साथ ही मध्य प्रदेश के आदिवासी समुदाय द्वारा बनाए गए हस्तशिल्प के सुंदर संग्रह को भी प्रदर्शित करते हैं। इस त्यौहार का वास्तविक मकसद भू-राजनीतिक सीमांकन को मिटाते हुए भारत को एक एकीकृत बनाना है और वर्षो पुरानी परंपरा को पुनर्जीवित करना है।

लोकरंग समोरोह का आयोजन स्थल: भोपाल

लोकरंग समोरोह मनाये जाने का समय: जनवरी

लोकरंग समोरोह मानाने की अवधि: चार से पांच दिन

लोकरंग समोरोह का विशेष आकर्षण: लोक नृत्य प्रदर्शन और प्रदर्शनी

2. मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध साहित्यिक उत्सव अखिल भारतीय कालिदास समरोह – Madhya Pradesh Ka Prasidh Utsav Akhil Bhartiya Kalidas Samaroh In Hindi

मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध साहित्यिक उत्सव अखिल भारतीय कालिदास समरोह

उज्जैन कई प्रसिद्ध लेखकों जैसे कालिदास, पंडित सूर्य नारायण व्यास, बालकवि बैरागी जी का होमटाउन रहा है जिनमे से महान कवि कालिदास के सम्मान में आयोजित होने वाला अखिल भारतीय कालिदास समाँरोह मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध साहित्यिक उत्सव है।  जिसमे सात दिनों तक चलने वाले उत्सव में जब दुनिया भर के लेखक और कवि कविता पाठ, कहानी पढ़ने और सांस्कृतिक प्रदर्शन के लिए इकट्ठा होते हैं। आयोजन के दौरान यहाँ सामाजिक-राजनीतिक और सांस्कृतिक जैसे विभिन्न विषयों से संबंधित कालिदास के कई नाटकों का मंचन किया जाता है। जो स्थानीय लोगो के साथ साथ समस्त भारत में लोकप्रिय है।

अखिल भारतीय कालिदास उत्सव का आयोजन स्थल: उज्जैन

उत्सव आयोजन का समय: जनवरी

कालिदास उत्सव मानाने की अवधि: 7 दिन

समाँरोह का विशेष आकर्षण: कविता पाठ और कहानी पढ़ना

और पढ़े: दक्षिण भारत के 50 प्रमुख मंदिर की जानकारी 

3. मध्य प्रदेश का सबसे लोकप्रिय उत्सव खुजराहो उत्सव – Madhya Pradesh Ka Sabse Lokpriya Utsav Khajuraho Festival In Hindi

मध्य प्रदेश का सबसे लोकप्रिय उत्सव खुजराहो उत्सव

खुजराहो उत्सव मध्य प्रदेश के लोकप्रिय उत्सवो में से एक है, जो कथक, भरतनाट्यम, ओडिसी, कुचिपुड़ी, मणिपुरी और कथकली जैसे कई कला रूपों के प्रदर्शन के लिए प्रसिद्ध है।  सात दिन तक चलने वाले खुजराहो उत्सव का आयोजन चित्रगुप्त और विश्वनाथ मंदिर के ठीक सामने एक खुले मैदान में होता है। जहा भारत के प्रमुख नृत्य रूपों की अभिव्यक्ति देखी जाती है। त्योहार के दौरान मंदिर एक तारे की तरह चमकता है जो पर्यटकों के लिए अन्य आकर्षण केंद्र बना हुआ हैL  भारतीय पौराणिक कथाओं के अनुसार, देवी और देवता  संगीत, नृत्य, गायन और वाद्य संगीत के महान प्रेमी थे। हर साल इस विशाल मंदिर के रचनाकारों को श्रद्धांजलि अर्पित करने और भारत की नृत्य भावना का जश्न मनाने के लिए खुजराहो उत्सव का आयोजन किया जाता है।

खुजराहो उत्सव का आयोजन स्थल: खुजराहो

खुजराहो उत्सव मनाने का समय: फरवरी का पहला सप्ताह

उत्सव मानाने की अवधि: सात दिन

उत्सव का विशेष आकर्षण: नृत्य प्रदर्शन

4. मध्यप्रदेश पर्यटन में देखने लायक प्रमुख महोत्सव भगोरिया हाट महोत्सव – MP Paryatan Mein Dekhne Layak Pramukh Mahotsav Bhagoria Haat Festival In Hindi

मध्यप्रदेश पर्यटन में देखने लायक प्रमुख महोत्सव भगोरिया हाट महोत्सव

भगोरिया हाट महोत्सव भीलों द्वारा मनाया जाने वाला एक प्यार का त्यौहार माना जाता है जिसे मध्य प्रदेश के आदिवासी लोगों द्वारा बहुत धूमधाम के साथ मनाया जाता है।  इस त्योहार में एक लड़का और लड़की एक दूसरे को पसंद करने पर अपने साथी के चेहरे पर लाल पाउडर लगाते हैं। जिसमें युवा लड़कियां और लड़के अपना जीवन साथी चुनने के बाद वह एक मैदान में भाग जाते है। जिसके बाद माता पिता उनके रिश्ते को अस्वीकार नहीं कर सकते। कुछ लोग यहां तक कहते हैं कि त्योहार, फसल की कटाई को पूरा करने के लिए आयोजित किया जाता है।

भगोरिया हाट महोत्सव मानने का स्थान: पश्चिम निमाड़ (खरगोन) और झाबुआ

भगोरिया हाट महोत्सव मनाने का समय: मार्च, होली के त्योहार से पहले

महोत्सव विशेष आकर्षण: प्रेम का त्योहार

5. मध्य प्रदेश का प्रमुख फेस्टिवल होली – Holi Famous Festivals Of Madhya Pradesh In Hindi

मध्य प्रदेश का प्रमुख फेस्टिवल होली

होली मध्य प्रदेश के साथ-साथ पूरे भारत का लोकप्रिय फेस्टिवल है जिसे पुरे देश में बड़ी धूम धाम के साथ मनाया जाता है।  इस दिन लोग सर्दियों को अलविदा कहते हैं और रंगों के साथ एक दूसरे को रंग लगाकर और मिठाइयां बांटकर नए सीजन का स्वागत करते हैं। जिसमे गायन, नृत्य और ढोल की पारंपरिक बीट इस अवसर के उल्लास में चार चांद लगा देती है। होली के पांच दिन बाद, राज्य के आदिवासी समुदाय द्वारा रंग पंचमी मनाई जाती है।

होली कब मनाई जाती है: मार्च में चंद्र महीने का अंतिम पूर्णिमा दिन

होली कहा मनाई जाती है: मध्य प्रदेश में सभी जगह

होली मनाने की अवधि: 2 दिन मार्च, चंद्र महीने का अंतिम पूर्णिमा दिन

और पढ़े: गोवा की होली कैसे मनाई जाती हैं और क्यों खास है

6. मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा त्यौहार कुम्भ मेला – Madhya Pradesh Ka Sabse Bada Tyohar Kumbh Mela In Hindi

मध्य प्रदेश का सबसे बड़ा त्यौहार कुम्भ मेला

कुम्भ मेला मध्य प्रदेश के सबसे प्रसिद्ध मेलो में से एक है यह महोउत्सव भारत के चार शहरों- इलाहाबाद, हरिद्वार, उज्जैन और नासिक में प्रत्येक बारह वर्षों में चार बार आयोजित किया जाता है। कुंभ मेला बुराई के खिलाफ वर्चस्व की लड़ाई में अच्छाई की जीत की याद दिलाता है। पवित्र शिप्रा नदी में डुबकी लगाने से सभी पाप धुल जाते हैं और पुनर्जन्म का चक्र समाप्त हो जाता है। इसके बाद अनुष्ठान स्नान, कई अन्य गतिविधियां हैं, जिसमें पर्यटक भक्ति गायन, पौराणिक कथाओं के बारे में बहस और आसपास के लोगों को सामूहिक भोजन कराने में शामिल हो सकते हैं। जिसमे लाखों भक्तों द्वारा भाग लिया जाता है।

कुम्भ मेला कब मनाया जाता है: अप्रैल से मई हर 12 साल बाद।

कुम्भ मेला कहा मनाया जाता है: उज्जैन 2016 में उज्जैन में भव्य कुम्भ का आयोजन किया गया था

कुम्भ मेला की अवधि: 1 महिना

7. मध्यप्रदेश का सबसे शानदार त्यौहार मालवा उत्सव – MP Ka Famous Festival Malwa Utsav In Hindi

मध्यप्रदेश का सबसे शानदार त्यौहार मालवा उत्सव

मालवा उत्सव मध्य प्रदेश की सबसे बड़े और सबसे भव्य उत्सवो में से एक है। जिसमे नृत्य और संगीत प्रदर्शन, त्योहार का सबसे अभिन्न हिस्सा हैं। कला, संगीत, नृत्य, नाटक और संस्कृति के इस शानदार उत्सव का हिस्सा बनने के लिए दुनिया के विभिन्न हिस्सों से कलाकार आते हैं। यह भी कह सकते हैं की यह त्योहार संस्कृति और नृत्य का भंडार है। त्यौहार में, विभिन्न संस्कृतियों और परंपराओं के समृद्ध समामेलन को एक शानदार भव्य रूप में देखा जा सकता है।  मालवा उत्सव में सांस्कृतिक प्रदर्शन के अलावा उच्च-कलाकृतियों की शिल्पकारी में कुशल कारीगर की हस्तकला की वस्तुओं को भी प्रदर्शित करते हैं। और इस त्यौहार में न केवल मालवा बल्कि अन्य क्षेत्रों से भी व्यंजनों में लाया जाता है। जहा लोग मालवा उत्सव में सांस्कृतिक मनोरंजन से लेकर शानदार खरीदारी और स्वादिस्ट पकवानों का आनंद उठा सकते हैं।

मालवा उत्सव का आयोजन समय: मई

मालवा उत्सव आयोजन का स्थान: इंदौर और उज्जैन

मालवा उत्सव मनाने की अवधि: उज्जैन में 2 दिन और इंदौर में 5 दिन

विशेष आकर्षण: नृत्य और संगीत समारोह

8. मध्य प्रदेश का प्रमुख पर्व दशहरा – Madhya Pradesh Ka Pramuk Parv Dushera In Hindi

मध्य प्रदेश का प्रमुख पर्व दशहरा

बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक दशहरा मध्य प्रदेश के सबसे उल्लेखनीय त्योहारों में से एक है। जिसे विजयादशमी भी कहा जाता है। त्योहार का नाम संस्कृत शब्दों दशा (“दस”) और हारा (“हार”) से लिया गया है। दशहरा नवरात्रि के दसवें दिन राक्षस रावण पर भगवान राम की विजय के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। दशहरा भगवान राम के मार्ग और कर्मों का पालन करने के लिए भक्तों की प्रतिज्ञा को मजबूत करता है। दशहरा मुख्य रूप से भारतीय त्योहार है, जिसमे पटाखों से भरे रावण, मेघनाद (रावण के पुत्र) और कुंभकर्ण (रावण के भाई) के पुतले बनाकर इन्हें जलाकर दशहरा उत्सव को बहुत ही उत्साह और धूमधाम से मनाया जाता है। जिसमे भव्य राम लीला शामिल का आयोजन भी देखने को मिलता है।

दशहरा कब मनाया जाता है: अक्टूबर या नवंबर

दशहरा त्योहार की अवधि: 1 दिन

दशहरा विशेष आकर्षण: आतिशबाज़ी

9. मध्य प्रदेश में लगने वाला मशहूर मेला नागाजी का मेला – Madhya Pradesh Me Lagne Wala Mashhur Mela Nagaji Fair In Hindi

मध्य प्रदेश में लगने वाला मशहूर मेला नागाजी का मेला

नागजी का मेला मध्य प्रदेश के आदिवासी क्षेत्र का लोकप्रीय मेला है जिसका आयोजन महान संत नागजी के सम्मान में किया जाता हैL जो लगभग 400 साल पहले मुगल सम्राट अकबर के शासनकाल के दौरान के माने जाते है। इस मेले में इस त्यौहार में पहले के दिनों में बंदरों का व्यापार होता है। लेकिन अब यहाँ त्योहार के जश्न में सिर्फ घरेलू पशुओं का व्यापार किया जाता है। व्यापार के अलावा नागाजी मेले में कई सांस्कृतिक और पारंपरिक कार्यक्रम और आदिवासी समूह द्वारा संगीत की आकर्षक और मनोरंजक प्रस्तुति भी देखी जाती हैं।

नागजी का मेला का आयोजन कब किया जाता है: नवंबर या दिसंबर

नागजी का मेला का आयोजन स्थल: मुरैना

मेले की अवधि:1 महिना या उससे अधिक

मेले का विशेष आकर्षण: आदिवासी नृत्य प्रदर्शन

और पढ़े: प्रयागराज (इलाहाबाद) अर्धकुंभ मेला के बारे में संपूर्ण जानकारी 

10. मध्य प्रदेश का प्रमुख त्यौहार दिवाली – Diwali Festivals Of Madhya Pradesh In Hindi

मध्य प्रदेश का प्रमुख त्यौहार दिवाली

दीपावली हिन्दुओं का सबसे बड़ा व लोकप्रिय त्यौहारो में एक है जो अंधेरे पर प्रकाश, बुराई पर अच्छाई और अज्ञान पर ज्ञान” की जीत का प्रतीक है। भारत के अन्य राज्यों की तरह, यह त्योहार मध्य प्रदेश में भी उत्साह ,जोश और धूम-धाम के साथ मनाया जाता है। मध्य प्रदेश के हर नुक्कड़ और कोने को रंगीन रोशनी से रोशन किया जाता है। यह त्योहार व्यापक रूप से समृद्धि की देवी लक्ष्मी से जुड़ा हुआ हैL दिवाली हिन्दुओ का हर्षोल्लास और वैभव का त्यौहार है जो पांच दिनों तक मनाया जाता है। जिसमे पहले और दूसरे दिन, धनतेरस मनाया जाता है। तीसरे दिन, मुख्य त्योहार दिवाली होती है जहां लोग देवी लक्ष्मी की पूजा करते हैं और पटाखे जलाते हैं। चौथा दिन गोवर्धन पूजा का उत्सव है। अंत में,अंतिम दिन भाई दूज मनाया जाता है। यह पांचवा दिन दिवाली उत्सव के अंत का प्रतीक है।

दीपावली कब मनाई जाती है: अक्टूबर या नवंबर और हिंदू कैलेंडर में कार्तिका के 15 वे दिन को

दीपावली उत्सव की अवधि: पांच दिन

दीपावली का विशेष आकर्षण: रोशनी का त्योहार, आतिशबाजी, मिठाइयों का आदान-प्रदान

11. मध्य प्रदेश का आकर्षक महोत्सव चेथियागिरी विहार महोत्सव – Madhya Pradesh Ka Aakarshak Festival Chethiyagiri Vihara Festival In Hindi

मध्य प्रदेश का आकर्षक महोत्सव चेथियागिरी विहार महोत्सव

सांची में आयोजित चेथियागिरी विहार महोत्सव मध्य प्रदेश के आकर्षक उत्सवो में से एक है, जहाँ  हजारों बौद्ध भिक्षुओं और तीर्थयात्रियों द्वारा भाग लिया जाता है। प्रत्येक वर्ष चेथियागिरी विहार महोत्सव में सैकड़ों बौद्ध भिक्षु और तीर्थयात्रि बुद्ध के दो शुरुआती शिष्यों, साड़ी पुथा और महा मोगलाना के अवशेष देखने के लिए इस महौत्सव में शामिल होते हैL  इन खोजे गए अवशेषो को मूल रूप से 1853 में स्तूप 3 विहार में रखे गए थे जिन्हें चेथियागिरी विहार महोत्सव के दौरान प्रदर्शित किए जाते हैं।

चेथियागिरी विहार महोत्सव कब मनाया जाता है: नवंबर का अंत में

विहार महोत्सव आयोजन स्थल: साँची

चेथियागिरी विहार महोत्सव की अवधि: 1 दिन

चेथियागिरी विहार महोत्सव का विशेष आकर्षण: प्राचीन बौद्ध अवशेषो का प्रदर्शन

12. मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध तानसेन संगीत समारोह – Madhya Pradesh Ka Prasidh Tansen Sangeet Samaroh In Hindi

मध्य प्रदेश का प्रसिद्ध तानसेन संगीत समारोह

तानसेन संगीत समारोह मध्य प्रदेश के सबसे प्रसिद्ध संगीत समारोह में एक है जो प्रसिद्ध संगीत उस्ताद तानसेन को श्रद्धांजलि देने के लिए आयोजित किया जाता है।  संगीतकार तानसेन अकबर के दरबार के नौ रत्नों में से एक थे और उन्होंने लोकगीतों के सुगम रागों की रचना करके एक नए स्तर पर पहुँचाया था। तानसेन संगीत समारोह दौरान, व्यक्ति तानसेन मकबरे के नीचे चार दिनों के लिए संगीत प्रदर्शन के लिए इकट्ठा होते हैंL जो संगीत प्रेमियों के लिए लोकप्रिय उत्सव बना हुआ हैL  यह तानसेन संगीत समारोह दुनिया के सामने नए कलाकारों के लिए एक बेहतरीन मंच के रूप में काम करता है।

तानसेन संगीत समारोह कब मनाया जाता है: दिसंबर

तानसेन संगीत समारोह कहा मनाया जाता है: बेहट गांव, ग्वालियर

समारोह की अवधि: 4 दिन

तानसेन संगीत समारोह का विशेष आकर्षण: भारतीय शास्त्रीय गायन और संगीत प्रदर्शन

13. मध्य प्रदेश टूरिज्म में देखने लायक उत्सव पचमढ़ी उत्सव – Madhya Pradesh Ka Mukhya Utsav Pachmarhi Utsava In Hindi

पचमढ़ी उत्सव मध्य प्रदेश का एक आकर्षक उत्सव है जिसमें आकर्षक कला प्रदर्शनों के अलावा  शिल्प मेला और उत्सव के प्रत्येक दिन सांस्कृतिक संध्याओं का आयोजन किया जाता है।  जिसमें राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के कलाकारों को शामिल किया जाता है। इनमें से अधिकांश कार्यक्रम देश की लोक कलाओं का प्रदर्शन करते हैं, जिसमें देश की समृद्ध, सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जाती है। हथकरघा और हस्तशिल्प विकास निगम द्वारा प्रायोजित सक्षम कारीगरों के उत्पादों को प्रदर्शित करने और बेचने के लिए कई स्टॉल भी लगाए जाते हैं। पचमढ़ी उत्सव में आपको स्थानीय खाने के कई स्टाल भी मिलेंगे जो आगंतुकों को प्रसन्नता प्रदान करते हैं।

पचमढ़ी उत्सव कहा मनाया जाता है: पचमढ़ी                                

पचमढ़ी उत्सव कब मनाया जाता है: दिसंबर

उत्सव की अवधि: 5-6 दिन

पचमढ़ी उत्सव विशेष आकर्षण: प्रदर्शनी, सांस्कृतिक महोत्सव

और पढ़े: पचमढ़ी हिल स्टेशन की यात्रा और अन्य जानकारी 

14. मध्य प्रदेश का लोकप्रिय ध्रुपद समारोह – Madhya Pradesh Ka Lokpriya Samaroh Dhrupad Samaroh In Hindi

मध्य प्रदेश का लोकप्रिय ध्रुपद समारोह

हर साल भोपाल में आयोजित होने वाले ध्रुपद समारोह में दुनिया भर के गायक इस आयोजन का हिस्सा बनने के लिए आते हैं। जिसमे आपको ध्रुपद शैली सुनने को मिलती है, यह एक प्रकार का भक्ति संगीत है जो सैम वेद से अपने मूल को वापस लाता है। इस कार्यक्रम में प्रदर्शन करने के लिए द्रौपद घराने से संबंधित लोग आते हैं।

और पढ़े:

Leave a Comment