कर्नाटक राज्य की पूरी जानकरी – Complete information About Karnataka in Hindi

Karnataka in Hindi : कर्नाटक दक्षिण भारत का सबसे बड़ा राज्य और भारत का छठा सबसे बड़ा राज्य है। जबकि जनसंख्या के आधार पर आठवां सबसे बड़ा राज्य है, जिसमें 31 जिले शामिल हैं। कर्नाटक राज्य का गठन 1 नवंबर 1956 को राज्य पुनर्गठन अधिनियम के पारित होने के साथ हुआ था। कर्नाटक की सीमा पश्चिम में अरब सागर, उत्तर पश्चिम में गोवा, उत्तर में महाराष्ट्र, उत्तर पूर्व में तेलंगाना, पूर्व में आंध्र प्रदेश, दक्षिण-पूर्व में तमिलनाडु और दक्षिण में केरल से लगती है। यह एकमात्र दक्षिणी राज्य है जिसकी अन्य सभी 4 दक्षिणी भारतीय राज्यों के साथ भूमि सीमाएँ हैं।

इस लेख में आगे हम कर्नाटक राज्य से जुड़ी जानकारी जैसे – कर्नाटक का इतिहास, संस्कृति, भाषा, जनजातियाँ और इससे जुड़े अन्य विषय पर बात करने वाले है इसीलिए इस लेख को पूरा जरूर पढ़े –

Table of Contents

कर्नाटक की राजधानी – Capital of Karnataka in Hindi 

बता दे कर्नाटक की राजधानी बैंगलोर है।

कर्नाटक राज्य से जुड़े कुछ रोचक तथ्य और महत्वपूर्ण जानकारी – Some interesting facts and important information of Karnataka in Hindi

कर्नाटक राज्य से जुड़े कुछ रोचक तथ्य और महत्वपूर्ण जानकारी – Some interesting facts and important information of Karnataka in Hindi

  • इस राज्य की स्थापना 1 नवंबर 1956 में हुई थी जबकि इसे कर्नाटक नाम 1 नवंबर 1973 को मिला था इससे पहले यह मैसूर राज्य के रूप में जाना जाता था।
  • कर्नाटक की राजधानी और सबसे बड़ा शहर बैंगलोर है।
  • कर्नाटक की जनसंख्या 2011 जनगणना के अनुसार 61,130,704 थी जो जनसंख्या के मामले में आठवे नंबर पर है।
  • इसका एरिया 191,791 किमी2 (74,051 वर्ग मील) है जो पूरे भारत में 6 वे स्थान पर है।
  • कर्नाटक में वर्तमान में 31 जिले है जिनके अन्दर 29,483 गाँव बसे हुए है।
  • 2011 जनगणना के अनुसार कर्नाटक की साक्षरता 75.36% थी।
  • कर्नाटक आधिकारिक भाषा कन्नड़ जबकी क्षेत्रीय भाषाएँ तुलु, कोडाव, तमिल, तेलुगु, मलयालम, कोडवा आदि है।
  • बता दे कर्नाटक देश का सबसे बड़ा कॉफी निर्यातक है।
  • कर्नाटक में दुनिया की सबसे ऊँची गोमतेश्वर प्रतिमा की अखंड मूर्ति स्थापित है।

और पढ़े : भारत के 101 रोचक तथ्य जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए 

कर्नाटक का इतिहास – History of Karnataka in Hindi

कर्नाटक का इतिहास – History of Karnataka in Hindi

कर्नाटक का पूर्व-इतिहास पुरापाषाणकालीन हस्त-कुल्हाड़ी संस्कृति से संबंधित है जो इस क्षेत्र में अन्य चीजों के अलावा, हाथ की कुल्हाड़ियों और क्लीवर की खोजों से प्रमाणित है। राज्य में नवपाषाण और महापाषाण संस्कृतियों के साक्ष्य भी मिले हैं। हड़प्पा में खोजा गया सोना कर्नाटक में खदानों से आयात किया गया था, जिससे विद्वानों को प्राचीन कर्नाटक और सिंधु घाटी सभ्यता के बीच संपर्कों के बारे में अनुमान लगाने के लिए प्रेरित किया गया था।

कर्नाटक की मिट्टी कई राजवंशों के उत्थान और पतन की गवाह रही है, जिन्होंने वर्षों तक राज्य पर शासन किया। नंद, मौर्य, कदंब, बादामी चालुक्य और गंगा विभिन्न बिंदुओं पर कर्नाटक के प्रमुख शासक थे। विजयनगर, कल्याण चालुक्य, राष्ट्रकूट आदि सहित शासकों के राजवंश कर्नाटक के तत्कालीन साम्राज्य में छापे मारने के लिए जिम्मेदार थे। राज्य के अंतिम शासक मराठा थे क्योंकि उन्होंने मुगलों से कर्नाटक जीता था। मराठा के बाद स्वतंत्रता प्राप्ति तक कर्नाटक ब्रिटिश शासन के कब्जे में आ गया था। 1 नवंबर 1956 को राज्य पुनर्गठन अधिनियम के तहत राज्य का दर्जा मिला जिसे उस समय मैसूर के नाम जाना गया और 1 नवंबर 1973 को कर्नाटक को अपना नया नाम मिला।

और पढ़े : कर्नाटक के प्रमुख ऐतिहासिक स्थल

 कर्नाटक की भाषा और धर्म – Language and Religion of Karnataka in Hindi

भारत की शास्त्रीय भाषाओं में से एक कन्नड़ कर्नाटक राज्य की सबसे व्यापक रूप से बोली जाने वाली और आधिकारिक भाषा है। अन्य अल्पसंख्यक भाषाओं में उर्दू, कोंकणी, मराठी, तुलु, तमिल, तेलुगु, मलयालम, कोडवा और बेरी शामिल हैं। कर्नाटक में भारत के कुछ गाँव भी हैं जहाँ संस्कृत मुख्य रूप से बोली जाती है।

यदि हम कर्नाटक के धर्म की बात करें तो 2011 की जनगणना के अनुसार कर्नाटक में 84% हिन्दू, 12.92% मुस्लिम, 1.9% ईसाई और 1.2% अन्य धर्मो के लोग थे।

कर्नाटक की संस्कृति और परम्परायें – Culture and Traditions of Karnataka in Hindi

कर्नाटक की संस्कृति और परम्परायें – Culture and Traditions of Karnataka in Hindi

कर्नाटक की एक समृद्ध सांस्कृतिक विरासत है, जो विभिन्न साम्राज्यों के योगदान से निरंतर आगे बढ़ती रही है। कर्नाटक साहित्य, वास्तुकला, लोकगीत, संगीत, चित्रकला और अन्य कला रूपों का लोगों पर बहुत प्रभाव पड़ता है। राज्य के लोग पारंपरिक हैं उनकी जीवन शैली सरल है जो अपने अनूठे रीति-रिवाजों, मोहक संस्कृति और विश्वासों का पालन करते हैं। कर्नाटकीय लोगो के की संस्कृति और परम्परायें की झलक इनके त्यौहार, उत्सव, वेशभूषा, गहने, संगीत और उनके खान पान में भी देखी जा सकती है।

और पढ़े : भारत की 13 विचित्र और अजीबो गरीब परंपराएं जो आपको चौंका देंगी

कर्नाटक की कला और शिल्प – Arts and Crafts of Karnataka in Hindi

कर्नाटक लकड़ी की नक्काशी, हाथी दांत की नक्काशी, पत्थर की नक्काशी और चंदन शिल्प और गुड़िया बनाने में अपने शिल्प के लिए प्रसिद्ध है। लकड़ी के काम विशेष रूप से शीशम और चंदन की भारी मांग है। हाथीदांत कला राज्य में विशिष्ट है। रेशम की बुनाई भी कर्नाटक की अनूठी कला है जो मैसूर के लोगों का पारंपरिक व्यवसाय है। कर्नाटक के दुर्लभ हस्तशिल्प में से एक धातु बिदरीवेयर भी है। यह धातु हस्तशिल्प का एक दुर्लभ रूप है जिसकी उत्पत्ति उत्तरी कर्नाटक के बीदर में हुई थी। इन सबके अलावा मैसूर की पेंटिंग भी पूरी दुनिया में मशहूर है।

कर्नाटक की जनजातियाँ – Tribes of Karnataka in Hindi

राज्य लगभग 42,48,987 आदिवासी लोगों का घर है, जिनमें से 50,870 आदिम समूह के हैं। हालांकि ये लोग राज्य की आबादी का केवल 6.95 प्रतिशत प्रतिनिधित्व करते हैं। भारत सरकार द्वारा अधिसूचित कर्नाटक में रहने वाली 50 विभिन्न जनजातियां हैं, जिनमें से दो आदिम सहित 14 जनजातियां मुख्य रूप से इस राज्य की मूल निवासी हैं।

कर्नाटक की वेशभूषा – Costumes of karnataka in Hindi

कर्नाटक के लोगों का पहनावा हर जिले में अलग-अलग होता है। मुख्य कन्नडिगा पुरुष पोशाक पंछी या लुंगी, एंजी और पेटा है। पंछी या लुंगी को कमर के नीचे बांधा जाता है जबकि अंगी एक पारंपरिक शर्ट है और पेटा मैसूर शैली या धारवाड़ शैली में पहनी जाने वाली पगड़ी है। शायला लंबे कपड़े का एक टुकड़ा है जिसका इस्तेमाल कंधे पर किया जाता है।

इलकल साड़ी कर्नाटक में महिलाओं के लोकप्रिय पारंपरिक परिधानों में से एक है जबकि शहरी क्षेत्रों में सलवार कमीज भी काफी पहने जाते है। मैसूर की सिल्क साड़ी भी यहाँ काफी प्रसिद्ध है।

 कर्नाटक में मनाये जाने वाले प्रमुख त्यौहार और उत्सव – Festivals of Karnataka in Hindi

कर्नाटक में मनाये जाने वाले प्रमुख त्यौहार और उत्सव – Festivals of Karnataka in Hindi

कर्नाटक एक जीवंत राज्य है जो अपनी विरासत और संस्कृति के साथ साथ अपने भव्य त्योहारों के लिए प्रसिद्ध है। कर्नाटक के कई त्योहार कला, धर्म, मौसम आदि के नाम पर आयोजित किए जाते हैं। कर्नाटक अपने अजीबो गरीब कंबाला उत्सव के लिए काफी फेमस है जो एक तरह की भैस दौड़ प्रतियोगिता होती है। कर्नाटक के अन्य मुख्य त्योहार उगादी, कन्नड़ नव वर्ष, और मैसूर दशहरा, या लोकप्रिय रूप से नवरात्रि के रूप में जाना जाता है, जो हिंदू देवी चामुंडेश्वरी के सम्मान में दस दिवसीय त्योहार है।

और पढ़े : भारत के राज्यों में मनाये जाने वाले प्रमुख त्योहारों के बारे 

कर्नाटक का प्रसिद्ध स्थानीय भोजन – Local Food Of Karnataka In Hindi

कर्नाटक का प्रसिद्ध स्थानीय भोजन – Local Food Of Karnataka In Hindi

कर्नाटक के व्यंजन कनाड़ा संस्कृति के सबसे पुराने जीवित व्यंजनों में से एक है। यहां के मुख्य भोजन में चावल, दाल, गेहूं / ज्वार से बनी रोटी और मसालेदार करी शामिल है। कर्नाटक का भोजन अपने पड़ोसी राज्यों तमिलनाडु, केरल और महाराष्ट्र से भी मेल खाता है। कर्नाटक में शाकाहारी और मांसाहारी दोनों तरह के व्यंजन परोसे जाते हैं। यहाँ के प्रसिद्ध खाद्य पदार्थों में इडली-वड़ा सांभर, अक्की रोटी शामिल हैं। यहाँ मसाला डोसा और विभिन्न प्रकार की इडली, रवा डोसा और मेडु वड़ा, उडुपी व्यंजनों का हिस्सा हैं जो कर्नाटक में बेहद प्रसिद्ध हैं। मीठा मुंह करने के लिए आप सांभर और चावल, मैसूर पाक, धारवाड़ का पेड़ा, होलीगे और सज्जि जैसे व्यंजनों का स्वाद ले सकते हैं।

कर्नाटक पर्यटन – Karnataka Tourism In Hindi

कर्नाटक पर्यटन - Karnataka Tourism In Hindi

यह राज्य भारत के टॉप 4 पर्यटन स्थलों में से के है। कर्नाटक भारत में आकर्षण का एक गुलदस्ता है। उत्तर में बेलगाम से दक्षिण में बैंगलोर तक कर्नाटक में हर जगह घूमने और देखने के लिए बहुत कुछ है। यह राज्य खूबसूरत परिदृश्य से लेकर समृद्ध सांस्कृतिक विरासत तक, शांत समुद्र तट से लेकर शानदार भोजन और पर्यटन स्थलों से भरा हुआ है। मलयाली, तमिल, कोंकणी, कन्नडिगा के अलावा मुसलमानों और ईसाइयों ने कर्नाटक को अपना घर बना लिया है। आपको बता दें कि कर्नाटक प्राकृतिक आकर्षणों से भरपूर है। यहाँ पर 5 राष्ट्रीय उद्यान और 25 से अधिक वन्यजीव अभयारण्य हैं जिनमें से बांदीपुर और नागरहोल राष्ट्रीय उद्यान सबसे प्रसिद्ध हैं।

और पढ़े : कर्नाटक में घूमने के लिए 15 प्रसिद्ध तीर्थ स्थल और मंदिर

कर्नाटक का मौसम – weather of karnataka in Hindi

कर्नाटक का मौसम – weather of karnataka in Hindi

कर्नाटक का मौसम अप्रैल से जून तक गर्मियों के दौरान काफी आर्द्र रहता है। तटीय क्षेत्र अधिक गर्म होते हैं, और हिल स्टेशन हल्के और ठंडे होते हैं। जबकि मानसून के मौसम में कुछ क्षेत्रों में भारी वर्षा होती है, और तापमान भी चरम पर होता है। सर्दियों में कर्नाटक का मौसम सबसे अधिक सुखद और अनुकूल होता है इस दौरान पर्यटकों की सबसे अधिक भीड़ होती है जो सुखद माहौल में कर्नाटक के पर्यटक स्थलों की यात्रा पर आते हैं।

कर्नाटक कैसे पंहुचा जाये – How To Reach Karnataka In Hindi

कर्नाटक एक ऐसा पर्यटन स्थल है जहाँ की सांस्कृतिक विरासत और वन्य जीवन का अनुभव करने के लिए दुनिया भर से पर्यटक आते हैं। अगर आप कर्नाटक की यात्रा की योजना बना रहे हैं तो यहां आप तो भारत के प्रमुख शहरों और दुनिया भर के किसी भी कौने से पहुंच सकते हैं। पर्यटक कर्नाटक की यात्रा हवाई, रेल और सड़क नेटवर्क द्वारा आसानी से कर सकते हैं।

फ्लाइट से कर्नाटक कैसे पहुंचे – How To Reach Karnataka By Air In Hindi

फ्लाइट से कर्नाटक कैसे पहुंचे – How To Reach Karnataka By Air In Hindi

कर्नाटक की यात्रा अगर आप हवाई जहाज द्वारा करना चाहते हैं तो बता दें कि यहां 6 प्रमुख हवाई अड्डे हैं।, जो भारत के साथ दुनिया के कई देशों से अच्छी तरह जुड़े हुए हैं। कर्नाटक के प्रमुख हवाई अड्डों में बैंगलोर, मैंगलोर, हम्पी, हुबली, बेलगाम, बीजापुर और मैसूर के नाम शामिल है। मैंगलोर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा और बैंगलोर में एचएएल हवाई अड्डा दो ऐसे हवाई अड्डे हैं जहां के लिए आप दुनिया के किसी भी प्रमुख देश से फ्लाइट ले सकते हैं।

ट्रेन से कर्नाटक कैसे पहुंचें – How To Reach Karnataka By Train In Hindi

ट्रेन से कर्नाटक कैसे पहुंचें – How To Reach Karnataka By Train In Hindi

अगर आप रेल मार्ग द्वारा कर्नाटक की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि कर्नाटक व्यापक रेल नेटवर्क के माध्यम से देश के सभी शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। देश के प्रमुख शहरों से कर्नाटक के लिए कई सुपरफ़ास्ट ट्रेन भी उपलब्ध हैं।

सड़क मार्ग से कर्नाटक कैसे पहुंचें – How To Reach Karnataka By Road In Hindi

सड़क मार्ग से कर्नाटक कैसे पहुंचें – How To Reach Karnataka By Road In Hindi

अगर आप सड़क मार्ग द्वारा कर्नाटक की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि कर्नाटक राज्य सड़क परिवहन निगम (KSRTC) की बसें राज्य को अन्य प्रमुख शहरों और राज्यों से जोड़ती है। इसके साथ ही NEKRTC और NWKRTC कर्नाटक में दो अन्य सड़क परिवहन निगम हैं, जो दूरदराज के इलाकों और अन्य स्थानों से सड़क मार्ग द्वारा यात्रा को सुलभ बनाते हैं।

और पढ़े : कर्नाटक के टॉप 10 पर्यटन स्थलों की जानकारी

इस आर्टिकल में आपने कर्नाटक राज्य के बारे में जाना है आपको हमारा यह आर्टिकल केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

कर्नाटक का मेप – Map of Karnataka 

और पढ़े :

Leave a Comment