कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक के दर्शन की जानकारी – Kukke Shree Subrahmanya Temple Information In Hindi

Kukke Subrahmanya Temple In Hindi, कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर भगवान कार्तिकेय जी के लिए जाना जाता है, इस भव्य मंदिर में भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र कार्तिकेय जी को सुब्रमण्या देवता के रूप में पूजा जाता है। कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर का निर्माण लगभग 5000 साल पुराना माना जाता हैं। कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर भारत के कर्णाटक राज्य के दक्षिण में कन्नड़ जिले के सुब्रमण्या गांव में स्थित हैं। कुमार धारा नदी के तट पर स्थित कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर पर्यटकों और भगवान में आस्था रखने वालो के लिए हमेशा खुला रहता हैं। कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर खासतौर पर नाग दोष और नाग पूजा के लिया जाना जाता हैं। सुब्रमण्या मंदिर के अलावा भी इस गांव में कई मंदिर बने हुए हैं और भगवान में आस्था का केंद्र बने हुए हैं। धार्मिक स्थान होने के साथ-साथ यह अपनी आकर्षक सुन्दरता, झील, पर्वत और प्रकृति के खिलखिलाते हुए स्वरुप के लिए जाना जाता हैं। प्रकृति की गोद में स्थित भगवान श्री कार्तिकेय का यह कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर गांव के मध्य में स्थित हैं। यदि आप भी भगवान कार्तिकेय, नागराज और गरुण देव से जुड़े इस मंदिर के बारे में जाना चाहते है, तो हमारे इस लेख को पूरा जरूर पढ़े।

1. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक का इतिहास – Kukke Subramanya Temple History In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक का इतिहास
Image Credit: Rajath R Patil

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर के इतिहास के बारे में हमें पौराणिक कथाओं से पता चलता हैं। इन कथाओं के अनुसार भगवान सुब्रमण्या जिन्हें शनमुख देवता के नाम से भी जाना जाता है। एक बार अपने भाई भगवान गणेश के साथ यहां आए और दानव राज्य ताड़का सहित अन्य राक्षसों का बध किया। कार्तिकेय की जीत से अति-प्रशन्न होकर देवराज इंद्रा ने अपनी बेटी का हाथ उनके हाथ में सोप दिया। यह भी माना जाता हैं कि भगवन भोलेनाथ के परमभक्त वासुकी ने उनकी तपस्या की जिससे प्रसन्न होकर उन्होंने गरुंड से रक्षा करने का आश्वासन दिया और यही रुख गए। यह भी माना जाता हैं कि वासुकी के साथ मंदिर में निवास करते हैं। मंदिर की यात्रा पर आने वाले भक्तो का मानना हैं कि प्रभु के दर्शन से वह बुराई और सर्प दोष से दूर रहेंगे।

2. कर्नाटक के कुक्के सुब्रमण्या मंदिर की संरचना – Kukke Subrahmanya Temple Architecture In Hindi

कर्नाटक के कुक्के सुब्रमण्या मंदिर की संरचना
Image Credit: Albert Dsouza

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर की संरचना के बारे में बात करे तो हम देखते हैं कि मंदिर का मुख पूर्व दिशा की तरफ हैं और मंदिर का मुख्य द्वार गर्वाग्रह के पीछे हैं। गर्भगृह और प्रवेश द्वार के मध्य में सिल्वर प्लेटेड गरुड़ कम्बा है। माना जाता हैं कि यह स्तंभ मंदिर में आने वाले भक्तों को वासुकी की जहरीली सांस से बचाने के लिए है, जोकि मंदिर परिसर के अंदर हैं। इसके अलावा मंदिर में दो हाल हैं जो भीतरी गर्वाग्रह की ओर जाते हैं। पैदल मार्ग पर चलते हुए भगवान सुब्रमण्या के साथ वासुकी की प्रतिमा देखी जा सकती हैं। थोडा नीचे जाने पर शेषा फिगर देख सकते हैं।

और पढ़े: जाने उडुपी का कृष्ण मंदिर के बारे में 

3. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कहाँ हैं – Where Is Kukke Shri Subrahmanya Temple In Hindi

. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कहाँ हैं – Where Is Kukke Shri Su
Image Credit: Chetan Revankar

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरभारत के दक्षिणी राज्य कर्णाटक के कन्नड़ जिले में सुलिया नामक तालुके में सुब्रमण्या गांव में स्थित हैं। यह स्थान मुजराई विभाग के अंतर्गत आता है।

4. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक में पूजा की जानकारी – Kukke Subramanya Temple Pooja Details In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक में पूजा की जानकारी
Image Credit: Sravan Kumar

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर में कई प्रकार की पूजाएं होती है। जिनमे से कुछ विशेष प्रकार की पूजाओं की जानकारी हम आपको नीचे देने जा रहे हैं।

4.1 अश्लेषा बाली पूजा – Kukke Subramanya Temple Ashlesha Pooja In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदि रही एक मात्र ऐंसा मंदिर है, जहा अश्लेषा बलि पूजा  होती है। इस पूजा के लिए सबसे सबसे अच्छा समय जून–जुलाई और नबम्बर के महीने का होता हैं। यह पूजा कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर में दो चरणों में होती है,  पहला चरण सुबह 7 बजे से और दूसरा चरण सुबह 9:15 पर होता है। इस पूजा का आयोजन किसी भी अभिशाप से मुक्ति दिलाने के लिए किया जाता हैं।

4.2 सर्प संस्कार पूजा – Sarpa Samskara Pooja Details In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर में सर्प संस्कार पूजा भी होती है, यह पूजा काल सर्प दोष से मुक्ति दिलाने के लिए होती है। काल सर्प दोष वह दोष होता है जो किसी भी व्यक्ति से जाने-अनजाने में किसी भी सर्प को नुकसान पंहुचाने से होता है। अतः इस दोष की मुक्ति के लिए सर्प संस्कार पूजा अनिवार्य होती है और यह एक मात्र जगह हैं जहां यह पूजा होती हैं। कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर में इन पूजाओं के अलावा भी अन्य कई पूजायें भी होती है। जैंसे – नागप्रतिष्ठा पूजा, महा पूजा, सत्यनारायण कथा इत्यादि।

और पढ़े: सबरीमाला मंदिर के रोचक तथ्य 

5. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक में पूजा का समय – Kukke Subramanya Temple Pooja Timing In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक में पूजा का समय
Image Credit: Dishanth H M

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर में तीन बार पूजा आयोजित की जाती हैं। पहली बार पूजा सुबह 6 बजे से 7 बजे तक होती है, दूसरी बार पूजा दोपहर में 11 बजे से दोपहर 12 बजे तक होती है और अंतिम तीसरी पूजा रात में 7 बजे से 7:45 तक होती है।

6. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर में दर्शन करने का समय – Kukke Subramanya Temple Timings In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर में दर्शन का समय सुबह 7 बजे से दोपहर 1 बजे तक और शाम को 3 बजे से रात्रि के 8 बजे तक का होता हैं।

7. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Kukke Subramanya Temple In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय
Image Credit: Ambresh Cholkar

अगर आप कुक्के श्री मंदिर में एक पर्यटक की तरह जाना चाहते है, तो सबसे अच्छा समय सर्दियों का है। क्योकि कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरहरे-भरे पेड़-पौधो वाली बहुत ही आकर्षक जगह है। आप कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर में बहुत ही अद्भुत आनंद की अनुभूति करेंगे। अगर आप सर्दियों के मौसम में नही पहुच पाते है, तो मानसून भी बहुत अच्छा समय है। कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर में यात्रा करने के लिए गर्मियों का चुनाव नही करना चाहिए।

और पढ़े: महाबलीपुरम मंदिर घूमने की जानकारी और प्रमुख पर्यटन स्थल

8. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर के आसपास घूमने लायक पर्यटन स्थल – Places To Visit Near Kukke Subramanya Temple In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरके दर्शन के साथ- साथ आप इस मंदिर के आस–पास अनेक दर्शनीय स्थलों की यात्रा का आनंद प्राप्त कर सकते है। जिनमे से कुछ दर्शनीय स्थलों के बारे में हम आपको इस लेख के माध्यम से अवगत कराने जा रहे हैं। तो आप इन आकर्षित पर्यटन स्थलों पर एक बार जरूर जाएं।

8.1 श्रृंगेरी मठ – Shringeri Mutt In Hindi

श्रृंगेरी मठ

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरका प्रमुख आकर्षण श्रृंगेरी मठ धार्मिक स्थल होने के साथ–साथ एक पर्यटन स्थल भी है और यह मठ तुंगा नदी के किनारे स्थापित है। श्रृंगेरी मठ की स्थापना 8वीं शताब्दी के दौरान जगत गुरु आदि शंकराचार्य द्वारा की गई थी। विश्व के सबसे बड़े सनातन धर्म, इसकी पवित्रता और अखंडता से अवगत कराता हुआ यह श्रेंगेरी मठ एक खूबसूरत पर्यटन स्थल हैं। श्रृंगेरी मठ महा-प्रसिद्ध चार मठों में से एक है।

8.2 कुमार पर्वत – Kumar Parvat In Hindi

कुमार पर्वत

दक्षिण भारत के कर्नाटक राज्य के कन्नड़ जिले के सुब्रमण्या गाँव में स्थित कुमार पर्वत जिसे पुश्प्गिरी पर्वत के नाम से भी जाना जाता है। कर्नाटक की सबसे ऊँची चोटियों में 6वें नम्वर पर है। यह स्थान ट्रेकिंग के लिए सबसे अच्छा स्थान है क्योकि यह विशाल चोटी वन्य जीव अभ्यारण भी है। यह बहुत ही आकर्षक और मनोरम स्थान है, आपको यहाँ के मार्ग में कई प्रकार की चुनोतियों का सामना करना पड़ सकता है इन्ही चुनोतियों के कारण यह स्थान ट्रेकर्स को अपनी और आकर्षित करता है।

और पढ़े: तमिलनाडु के पर्यटन स्थल की जानकारी 

8.3 बिलावडा गुफा – Biladwara Cave In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरके दर्शनीय स्थानों में बिलवाडा गुफा रास्ते में ही पड़ती है, ऐसा माना जाता है की भगवान् गरुण के क्रोध से बचने के लिए सर्प देवता वासुकी ने इसी गुफा में भगवान सुब्रमण्या की शरण में अपनी रक्षा की थी।

8.4 मत्स्य और पंचमी तीर्थ – Matsya And Panchami Teerth In Hindi

मत्स्य और पंचमी तीर्थ

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरगाँव में कुमार धारा नदी के तट पर स्थित मत्स्य और पंचमी नामक स्थान बहुत ही पवित्र तीर्थ स्थल है। यहां के स्थानीय लोगो का ऐसा मानना हैं कि इस पवित्र नदी में स्नान करने से सभी प्रकार के पापों से मुक्ति प्राप्त की जा सकती है।

8.5 मुलायनगिरी चोटी – Mullayanagiri Peak In Hindi

मुलायनगिरी चोटी
Image Credit: Muralidhar Setty

मुलायनगिरी चोटी चिकमगलूर शहर के निकट स्थित है और यह चोटी समुद्र तल से लगभग 1930 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। पर्यटकों का मुलायांगिरी पर्वत की ओर आकर्षित होने का सबसे बड़ा कारण इस क्षेत्र में होने वाली ट्रेकिंग हैं। यह स्थान कॉफ़ी वगानो के लिए भी जाना जाता है।

8.6 आदि सुब्रमण्या कुक्के सुब्रमण्य – Adi Subramanya Kukke In Hindi

आदि सुब्रमण्या कुक्के सुब्रमण्य
Image Credit: Sri Kanth

आदि सुब्रमण्या तीर्थस्थल कुक्के सुब्रमण्य मंदिर के पास ही स्थित हैं। जिसमे वासुकी आदेश के रूप में पूज्यनीय हैं। दर्शनीय स्थल होने के अलावा यह मंदिर यहां की प्राकृतिक सौन्दर्यता के कारण पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ हैं। आसपास नदी-नाले, झील-झरने और प्रकृति की सुन्दरता देखने लायक हैं।

और पढ़े: बृहदेश्वर मंदिर तंजावुर के दर्शन की पूरी जानकारी

8.7 धर्मस्थल – Dharmasthala In Hindi

धर्मस्थल

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरके धार्मिक पर्यटन स्थलों में शैव, वैष्णव और जैन समुदायों के लिए यह एक प्रसिद्ध मंदिर हैं। यह प्राकृतिक रूप से सम्पन और आकर्षित स्थान हैं। यहां के ख़ास पर्यटन स्थल में शामिल शिव मंदिर, मंजूनाथ मंदिर, मंजुशा संग्रहालय, वसंत महल, नेलियादी बीडू आदि हैं। इसके अलावा बाहुबली की प्रतिमा मुख्य आकर्षण हैं जिसकी ऊंचाई 39 फिट हैं।

8.8 कुक्के सुब्रमण्या में खरीदारी – Shopping In Kukke Subramanya In Hindi

कुक्के सुब्रमण्या में खरीदारी

कुक्के सुब्रमण्या में खरीदारी में खरीदारी के लिए कोई विशेष स्थान नही हैं लेकिन फिर भी आपको कुछ ऐसे जगह मिल जाएंगी जहां से आप स्मृति चिन्हों को खरीद सकते हैं। खासकर यहां के स्थानीय वस्तुओ को आप खरीद सकते हैं।

और पढ़े: केरल में घूमने की जगह की जानकारी 

8.9 सोमनाथ मंदिर अग्रहारा – Somnath Temple Agrathara In Hindi

सोमनाथ मंदिर अग्रहारा जिसे पंचमी सिद्धांत के रूप में भी जाना जाता है। यह मंदिर भी श्री सुब्रमण्या मंदिर के करीब स्थित है। इस मंदिर में  सुब्रमण्याम मठ के स्वामीजी 16 कब्रे बनी हुई हैं।

8.10 काशीकटे गणपति – Kashikatte Ganapathi In Hindi

काशीकटे गणपति
Image Credit: Ashok Hp

काशीकटे गणपति श्री सुब्रमण्या के मंदिर के निकट स्थित है। यहां आने पर्यटक काशीकटे गणपति मंदिर के पास अंजनेया मंदिर के दर्शन का लाभ भी उठा सकते हैं। माना जाता हैं कि पौराणिक कथाओं के अनुसार देव ऋषि नारद ने इस मंदिर में भगवान गणपति की मूर्ति स्थापित की थी।

और पढ़े: मदुरई का मीनाक्षी मंदिर के दर्शन की जानकारी

9. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर के पास खाने के लिए स्थानीय भोजन – Kukke Shree Subrahmanya Temple Famous Local Food In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर के पास खाने के लिए स्थानीय भोजन

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरअपने यहां आने वाले पर्यटकों का स्वागत स्वादिष्ट और शानदार भोजन के साथ करता हैं। यहां का स्थानीय भोजन चखने के बाद आप उंगलियां चाठते रह जाएंगे। यहां के स्थानीय भोजन में सबसे अधिक प्रसिद्ध डोसा, बस्सी बील बाथ, जोलदा रोटी, इडली, वड़ा, सांभर, रसम, केसरी स्नान और मैसूर पाक आदि शामिल हैं।

10. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक के आसपास कहाँ रुके – Where To Stay Near Kukke Shree Subrahmanya Temple In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक के आसपास कहाँ रुके

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरके दर्शन के बाद यदि आप यहाँ के आसपास के पर्यटन स्थलों पर भी घूमने के लिए रुकना चाहते हैं। तो हम आपको बता दें कि सुब्रमण्या गांव में आपको लो-बजट से लेकर हाई-बजट होटल मिल जाएंगे। जिसका चुनाव आप अपनी सुविधा और बजट के हिसाब से कर सकते हैं।

  • मयूरा रेजीडेंसी
  • वी सदन लॉज
  • शेषनाग आश्रय
  • कुमार कृपा होटल
  • अश्लेषा गेस्ट हाउस
  • महामाया रेजीडेंसी
  • व्यास मंदिर

और पढ़े: कोयम्बटूर पर्यटन स्थल के बारे में जानकारी 

11. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक कैसे जाये – How To Reach Kukke Subramanya Temple In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरजाने के लिए आप फ्लाइट, ट्रेन या बस किसी का भी चुनाव कर सकते है।

11.1 फ्लाइट से कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कैंसे पहुंचे – How To Reach Kukke Shree Subrahmanya Temple By Flights In Hindi

फ्लाइट से कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कैंसे पहुंचे

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरजाने के लिए यदि आपने हवाई मार्ग का चुनाव किया हैं, तो हम आपको बता दे की कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरका निकटतम हवाई अड्डा मैंगलोर इंटरनेशनल एअरपोर्ट है। जोकि कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरसे लगभग 84 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। हवाई अड्डे से आप यहां के स्थानीय साधनों की मदद के रूप बस, कार या टैक्सी ले सकते हैं।

11.2 कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर ट्रेन से कैंसे पहुंचे – How To Reach Kukke Shree Subrahmanya Temple By Train In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर ट्रेन से कैंसे पहुंचे

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरजाने के लिए यदि आपने रेल मार्ग से जाने की योजना बनाई है, तो हम आपको बता दे की सुब्रमण्या रेलवे स्टेशन सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन हैं। जोकि शहर से 7 किलोमीटर की दूरी पर हैं। यह मैंगलोर और बंगलौर रेलवे मार्ग पर हैं। यहा से स्थानीय साधनों की मदद से आप मंदिर तक पहुंच जाएंगे।

11.3 कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक कैसे पहुंचे बस से – How To Reach Kukke Shree Subrahmanya Temple By Bus In Hindi

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक कैसे पहुंचे बस से

कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरजाने के लिए यदि आपने सड़क मार्ग का चुनाव किया हैं, तो हम आपको बता दे की कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिरसडक मार्ग के माध्यम से आसपास के प्रमुख शहरो से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं। आप बस, टैक्सी या अपने निजी साधनों से मंदिर के दर्शन के लिए जा सकते हैं।

और पढ़े: रामेश्वरम मंदिर के इतिहास, दर्शन पूजन और यात्रा के बारे में संपूर्ण जानकारी

12. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक का नक्शा – Kukke Subramanya Temple Map

13. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक की फोटो गैलरी – Kukke Subramanya Temple Images

View this post on Instagram

Blessed

A post shared by rajeshka09 (@rajeshka09) on

और पढ़े:

Featured Image: Reethu Puttur

Leave a Comment