Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Madurai Ka Meenakshi Mandir In Hindi, मीनाक्षी मंदिर तमिलनाडु के शहर मदुरई में वैगई नदी के दक्षिणी तट पर स्थित है, जिसका निर्माण वर्ष 1623 और 1655 के बीच किया गया था और इसकी अद्भुत वास्तुकला विश्व स्तर पर प्रसिद्ध है। मीनाक्षी मंदिर मुख्य रूप से पार्वती को समर्पित है, जिसे मीनाक्षी और उनके पति को सुंदरेश्‍वर (शिव) के रूप में जाना जाता है। यह मंदिर देश के बाकि मंदिरों से काफी अलग है क्योंकि इस मंदिर में शिव और देवी पार्वती दोनों की एक साथ पूजा की जाती है। पौराणिक कथाओं की माने तो सुंदरेश्‍वर के रूप में जन्‍मे भगवान शिव ने पार्वती (मीनाक्षी) से शादी करने के लिए मदुरई का दौरा किया था।

यह स्थान देवी पार्वती के जन्म स्थान होने की वजह से शरू से ही पवित्र रहा है, इसलिए पार्वती का स्मरण करने और उनकी पूजा करने के लिए इस मिनाक्षी मंदिर का निर्माण किया गया था। मीनक्षी मंदिर दिखने में बेहद खूबसूरत है जिसमें 14 प्रवेश द्वार या ‘गोपुरम’, स्वर्ण टावर, पवित्र गर्भगृह शामिल हैं। इस मंदिर की पवित्रता और आकर्षणों की वजह से रोजाना हजारों भक्त इस मंदिर की यात्रा करते हैं।

1. मीनाक्षी मंदिर की कहानी या पौराणिक कथा – Meenakshi Temple Story In Hindi

मीनाक्षी मंदिर की कहानी या पौराणिक कथा

मीनाक्षी अम्मन मंदिर से जुड़ी कई पौराणिक कथाएं जुड़ी हुई है। इसी तरह एक कहानी है कि इस मंदिर का निर्माण इंद्र देव ने करवाया था, जब वे अपने पापों का प्रायश्चित करने के लिए यहां आये थे। एक अन्य पौराणिक कथा कहती है कि देवी पार्वती पांड्य राजा मलयाद्वाज पांड्या की बेटी के रूप में प्रकट हुईं, क्योंकि उन्होंने भगवान से बहुत प्रार्थना की थी। बता दें कि उस लड़की के तीन स्तन थे और कहा जाता है कि जब वह अपने पति से मिली थी तो उसका तीसरा स्तन अपने आप गायब हो गया था। राजा की बेटी का नाम “तदातगाई” था और वह सिंहासन की उत्तराधिकारी थी। वह 64 शास्त्रों में अच्छी तरह से प्रशिक्षित थी और उसे राज्य को बुद्धिमानी से शासन करने के लिए सभी विषयों का ज्ञान था।

और पढ़े: सबरीमाला मंदिर के रोचक तथ्य

2. मीनाक्षी मंदिर का इतिहास – Meenakshi Temple History In Hindi

मीनाक्षी मंदिर का इतिहास

मीनाक्षी मंदिर का इतिहास 7 वीं शताब्दी के रूप में पुराने समय में उल्लेख करता है। बताया जाता है कि मीनाक्षी मंदिर की संरचना में पहले परिवर्तन 1560 में मदुरई के राजा विश्वनाथ नायक के द्वारा किए गए थे, तिरुमलाई नायक (1623–55) के शासनकाल के समय मंदिर में कई परिसरों का निर्माण हुआ था, जिसमें वसंत मंडपम और किलिकोकोंडू मंडपम शामिल हैं। मीनाक्षी अम्मन मंदिर के टैंक और मीनाची नायकर मंडपम के गलियारों का निर्माण रानी मंगलम ने किया था।

14 वीं शताब्दी के आसपास पांड्या सिंहासन के उत्तराधिकार को लेकर कई विवाद सामने आए। दिल्ली के अलाउद्दीन ने 1310 में मदुरै पर आक्रमण किया था और अराजकता का शोषण किया। शहर की व्यापक लूट के पीछे उसका जनरल मलिक काफूर था जिसने आम जनता के जीवन को अस्त-व्यस्त कर दिया था। मीनाक्षी मंदिर के चौदह मीनारों में से केवल सुंदरेश्वर और मीनाक्षी को छोड़कर सभी को नष्ट कर दिया गया था।

3. मीनाक्षी अम्मन मंदिर की वास्तुकला – Meenakshi Temple Architecture In Hindi

मीनाक्षी अम्मन मंदिर की वास्तुकला

मीनाक्षी अम्मन मंदिर द्रविड़ वास्तुकला को दर्शाता है। यह मंदिर अपने टावरों या ‘गोपुरम’ के लिए सबसे प्रसिद्ध है, बहुत दूर से भी दिखाई देते हैं। लगभग 12 गोपुरम ने मीनाक्षी मंदिर को सुशोभित किया, जिसमें चार बाहरी 160 फीट से अधिक की ऊँचाई पर थे। मंदिर के परिसर उच्च ईंटवर्क की दीवारों से बने हैं और कई वर्ग परिक्षेत्रों में विभाजित हैं। मीनाक्षी मंदिर तमिलनाडु के कुछ ऐसे मंदिरों में से एक है जिसमें चार दिशाओं से चार प्रवेश द्वार हैं। इस मंदिर के भवन में लगभग हजार स्तंभ हैं। इस मंदिर के प्रदेश द्वार से लेकर खंभों तक सभी में विभिन्न देवताओं और देवी की छवियों को उकेरा गया है।

मंदिर की संरचना 1623 और 1655 के बीच बनाई गई थी। इसमें 14 गेटवे टॉवर हैं, जिनकी ऊँचाई 450 मीटर है। उनमें से सबसे ऊँचा टॉवर दक्षिणी टॉवर है, जो 170 फीट की ऊँचाई पर है। मंदिर परिसर में एक बड़ा टैंक या पोट्रामारिककुलम भी है, जिसमें पवित्र जल भरा हुआ रहता है। आपको बता दें कि यहां मुख्य मंदिर जो मीनाक्षी और सुंदरेश्वर को समर्पित है, तीन परिसरों से घिरा हुआ है और चार छोटे टॉवरों द्वारा संरक्षित हैं। मीनाक्षी का तीर्थ सुंदरेश्वर के तीर्थस्थल के दक्षिण पश्चिम में स्थित है, जहाँ देवी स्वयं एक काले पत्थर के रूप मे हैं। सुंदरेश्वर का मंदिर केंद्र में है और दोनों के मंदिरों में सोने के टावर हैं, जो दूर से भी दिखाई देते हैं। भगवान गणेश की एक मूर्ति जो एक ही पत्थर से तराशी गई है, यहाँ पर विनायक मंदिर में मौजूद है। मंदिर का गर्भगृह इंद्र विष्णुम और भगवान शिव के कई स्वरूपों से सुशोभित है। सुंदरेश्वर मंदिर परिसर के भीतर नटराज का एक मंदिर है जिसमें स्थित भगवान शिव की नटराज मूर्ति तांडव (विनाश का लौकिक नृत्य) को प्रदर्शित करती है।

और पढ़े: तमिलनाडु के पर्यटन स्थल की जानकारी

4. मीनाक्षी मंदिर मदुरई का धार्मिक महत्व – Religious Significance Of The Meenakshi Amman Temple In Hindi

मीनाक्षी मंदिर मदुरई का धार्मिक महत्व

इस मंदिर में देवी मीनाक्षी अपने दाहिने हाथ में एक तोते के साथ दिखाई देती हैं। ऐसा माना जाता है कि तीर्थ उन पांच स्थानों में से एक है जहां शिव ने तांडव किया था। यहां चांदी से बनी भगवान शिव की नटराज के रूप में एक विशाल प्रतिमा स्थापित है, जिसमें नटराज को दाहिना पैर उठा कर नाचते हुए दिखाया गया है और यह नटराज की बाकी छवि से बिलकुल अलग है क्योंकि बाकी में उनका बायां पैर उठा हुआ होता है।

यहाँ हर साल अप्रैल में “मीनाक्षी थिरुकल्याणम” या मीनाक्षी के दिव्य विवाह का त्यौहार बड़े धूम-धाम से मनाया जाता है। यहाँ उत्सव एक महिला वर्चस्व समारोह का एक उत्कृष्ट उदाहरण है, जिसे मदुरै विवाह भी कहा जाता है। आपको बता दें कि यह उत्सव एक महीने तक चलता है जिसमें रथ महोत्सव और फ्लोट उत्सव जैसे कई कार्यक्रम शामिल होते हैं। नवरात्रि और शिवरात्रि के उत्सव भी यहां मनाये जाते हैं।

5. मदुरई का मीनाक्षी अम्मन मंदिर में दर्शन के लिए टिप्स – Tips For Visiting Meenakshi Mandir In Hindi

मदुरई का मीनाक्षी अम्मन मंदिर में दर्शन के लिए टिप्स

  1. मीनाक्षी अम्मन मंदिर में या परिसर में धूम्रपान, शराब और तंबाकू उत्पादों की अनुमति नहीं है।
  2. यह पूजा स्थल है, इसलिए यहां पर उचित कपड़े पहने।
  3. अपने जूते मंदिर के उतारें।
  4. मंदिर के भीड़-भाड़ वाले इलाकों में अपने सामान की सुरक्षा करें।
  5. अगर दान करना चाहें तो इस मंदिर में किया जा सकता है।

और पढ़े: कोयम्बटूर पर्यटन स्थल के बारे में जानकारी 

6. कैसे पहुंचें मीनाक्षी मंदिर – How To Reach Meenakshi Mandir In Hindi

मंदिर से निकटतम बस स्टॉप पेरियार है जो 1.3 किलोमीटर की दूरी पर है। पेरियार से मीनाक्षी मंदिर के लिए नियमित रूप से बसें चलती हैं। आप मंदिर जाने के लिए टैक्सी भी किराए पर ले सकते हैं।

6.1 फ्लाइट से मीनाक्षी मंदिर मदुरई कैसे पहुंचें – How To Reach Meenakshi Temple Madurai By Flight In Hindi

फ्लाइट से मीनाक्षी मंदिर मदुरई कैसे पहुंचें

अगर आप मीनाक्षी मंदिर के लिए हवाई यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि हवाई मार्ग से मदुरै पहुंचना बहुत सुविधाजनक है। मदुरई शहर कई नियमित उड़ानों से देश के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। हवाई अड्डा मुख्य शहर से हवाई अड्डा केवल 10 किमी दूर है। आप हवाई अड्डे से टैक्सी या कैब की मदद से मंदिर तक पहुँच सकते हैं.

6.2 सड़क मार्ग से मीनाक्षी मंदिर कैसे पहुंचें – How To Reach Meenakshi Temple Madurai By Road In Hindi

सड़क मार्ग से मीनाक्षी मंदिर कैसे पहुंचें

मदुरई के लिए दक्षिण भारत के अधिकांश प्रमुख शहरों से बस सेवाएं हैं। नेशनल हाईवे 44 शहर की ओर जाता है। मदुरई दक्षिण भारत के सभी हिस्सों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। शहर में 5 प्रमुख बस स्टैंड हैं, जहाँ से आप तमिलनाडु के लगभग हर शहर के लिए बस पकड़ सकते हैं।

6.3 ट्रेन से मीनाक्षी मंदिर मदुरई कैसे पहुँचे – How To Reach Meenakshi Temple Madurai By Train In Hindi

ट्रेन से मीनाक्षी मंदिर मदुरई कैसे पहुँचे

मदुरई शहर मदुरई-तिरुचिरापल्ली-डिंडीगुल-क्विलोन लाइन दक्षिणी रेलवे का एक महत्वपूर्ण जंक्शन है। पूरे साल भर में मदुरै के लिए ट्रेन आसानी से उपलब्ध हैं। हालांकि, गर्मियों और छुट्टी के मौसम के यात्रा करने से पहले बुकिंग कर लें।

और पढ़े: मदुरई के दर्शनीय स्थल की जानकारी 

7. मीनाक्षी मंदिर मदुरई का नक्शा – Meenakshi Temple Madurai Map

8. मीनाक्षी मंदिर मदुरई की फोटो गैलरी – Meenakshi Temple Madurai Images

और पढ़े:

Write A Comment