Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Siddivinayak Temple In Hindi, मुंबई में स्थित सिद्दिविनायक मंदिर भारत में श्री गणेश के सबसे प्रमुख मंदिरों में से एक है। इस मंदिर की दुनिया भर में अपनी एक अलग पहचान है जिसकी वजह से देश-विदेश से लोग श्री गणेश भगवान के दर्शन के लिए आते हैं। इस मंदिर में भगवान गणेश की एक मूर्ति स्थापित है जिसके पीछे एक बहुत खास कहानी है। इस मंदिर का नाम सिद्दिविनायक इसलिए पड़ा क्योंकि इस मंदिर में गणेश जी की मूर्ति की सूड दाई ओर मुड़ी होती हैं और सिद्धि पीठ से जुड़ी है। भगवान के शरीर से ही इस मंदिर का नाम सिद्दिविनायक हुआ है। इस मंदिर में आने वाले भक्तों को गणेश के ऊपर अटूट विश्वास होता है उनका मानना है कि भगवान उनकी मनोकामना पूरी करेंगे। बता दें कि यह मंदिर मुंबई के सबसे धनी मंदिरों में से एक है, जहां पर प्रतिदिन भारी संख्या में लोग आते हैं। माना जाता है कि इस मंदिर में भगवान गणेश की प्रतिमा स्वयंभू है।

सिद्धिविनायक मंदिर में श्री गणेश जी की जो मूर्ति है वो ढाई फीट चौड़ी है और काले रंग के पत्थरों के टुकड़ों से बनी हुई है। बता दें कि मंदिर में श्री गणेश की मूर्ति की सूंड दाईं ओर झुकती है और उनकी चार भुजाएँ हैं और जिसकी वजह से उन्हें ‘चतुर्भुज’ भी कहा जाता है। श्री गणेश जी की मूर्ति के ऊपरी दाहिने हाथ में एक कमल, अपने ऊपरी बाएं हाथ में एक छोटी कुल्हाड़ी और नीचे वाले बाएं हाथ में एक माला और अपने पसंदीदा  ‘मोदक’ से भरा एक कटोरा है। अगर आप भी सिद्दिविनायक मंदिर के दर्शन करने के बारे में विचार बना रहे हैं तो यहां जाने की पूरी जानकारी हमने इस लेख में दी है।

सिद्धिविनायक मंदिर खास क्यों है- Siddhivinayak Mandir Ki Khasiyat in Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर का इतिहास- Siddhivinayak Temple History In Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर वास्तुकला – Siddhivinayak Temple Architecture In Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर आरती का समय- Siddhivinayak Temple Aarti Timings In Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय- Best Time To Visit Siddhivinayak Temple In Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर का प्रवेश शुल्क- Entry Fees Of Siddhivinayak Temple In Hindi

कैसे पहुंचे सिद्धिविनायक मंदिर- How To Reach Siddhivinayak Temple In Hindi

  1. हवाई जहाज से सिद्धिविनायक मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Siddhivinayak Temple In Hindi
  2. ट्रेन से सिद्धिविनायक मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Siddhivinayak Temple By Train In Hindi
  3. सड़क मार्ग से सिद्धिविनायक मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Siddhivinayak Temple By Bus In Hindi

क्या सिद्धिविनायक मंदिर में मोबाइल की अनुमति है- Is Mobile Allowed In Siddhivinayak Temple In Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर की लोकेशन का मैप – Siddhivinayak Temple Location

सिद्धिविनायक मंदिर की फोटो गैलरी – Siddhivinayak Temple Images

1. सिद्धिविनायक मंदिर खास क्यों है- Siddhivinayak Mandir Ki Khasiyat in Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर भारत का एक ऐसा प्रसिद्ध मंदिर है जो भगवान गणेश को समर्पित है। महाराष्ट्र राज्य के मुंबई शहर के प्रभादेवी में सबसे महत्वपूर्ण और व्यस्त मंदिर है, जिसका निर्माण वर्ष 1801 में लक्ष्मण विठू और देउबाई पाटिल ने करवाया था। कहा जाता है कि इस दंपत्ति की कोई संतान नहीं थी और उन्होंने फिर द्धिविनायक मंदिर बनाने का फैसला किया ताकि यहां बांझ महिलाओं की इच्छा पूरी हो सके।

2. सिद्धिविनायक मंदिर का इतिहास- Siddhivinayak Temple History In Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर को बनवाने के पीछे एक कहानी है जिसके बारे में शायद आप नहीं जानते होंगे। बता दें कि लक्ष्मण विठू और देउबाई पाटिल दंपत्ति की कोई संतान नहीं थी तो उन्होंने साल 1801 में भगवान गणेश का एक मंदिर बनाने का फैसला लिया ताकि उस मंदिर में आकर निःसंतान दंपतियों की इच्छायें पूरी हो सके और उन्हें आर्शीर्वाद के रूप में बच्चा प्राप्त हो।

इस मंदिर की मूल संरचना चौकोर नुकीला एक गुंबद के आकार के शिखर से सजी है। बता दें कि एक बार रामकृष्ण जम्भेकर महाराज ने हिंदू संत अक्कलकोट स्वामी समर्थ के एक शिष्य अपने गुरु की आज्ञा का पालन करते हुए पर मंदिर के इष्टदेव के सामने दो दिव्य मूर्तियों को गढ़ा दिया था। स्वामी समर्थ की भविष्यवाणी के अनुसार 21 वर्षों की अवधि के बाद दफन मूर्तियों से एक मंदार का पेड़ उग आया जिसकी इसकी शाखाओं में स्वयंभू गणेश की छवि सामने आई।

3. सिद्धिविनायक मंदिर वास्तुकला – Siddhivinayak Temple Architecture In Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर की भव्य संरचना में एक प्राथमिक ‘कलश’ शामिल है, जो 12 फीट की ऊँचाई तक, तीन 5 फीट तक और 33 अन्य जो 3.5 फीट की ऊंचाई पर खड़े हैं। इस तरह यह 37 गुंबद मुख्य मंदिर परिसर को आकर्षित करते हैं। सिद्धिविनायक मंदिर के पुराने भाग में एक हॉल, मुख्य गर्भगृह, एक बरामदा और एक पानी की टंकी है। इस मंदिर की भव्यता को बढाने के लिए एक नया मंदिर परिसर बनाया गया है जिससे कि इस मंदिर की भव्यता को बढाया जा सके।

वास्तुकार शरद अथले ने मंदिर के डिजाइन को अंतिम रूप देने से पहले राजस्थान और तमिलनाडु में मंदिरों का अध्ययन किया। सारी जरुरी व्यवस्था करने के बाद वर्ष 1990 में सिद्धिविनायक मंदिर का निर्माण शुरू किया गया था। भगवान की पुरानी मूर्ति को बहु कोणीय छः मंजिला रखा गया था, जो सोने की परत वाले गुंबदों के ऊपर बनी थी। अंदर जाने के लिए तीन मुख्य प्रवेश द्वारों को बनाया गया और इस मंदिर के मुकुट को भी एक नया रूप दिया। तीन साल तक काम चलने के बाद सिद्धिविनायक मंदिर एक आकर्षक मंदिर के रूप में हम सभी के सामने आया।

और पढ़े: कुमारी अम्मन मंदिर या कन्याकुमारी मंदिर

4. सिद्धिविनायक मंदिर आरती का समय- Siddhivinayak Temple Aarti Timings In Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर आरती का समय- Siddhivinayak Temple Aarti Timings In Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर में भगवान् गणेश जी की आरती बेहद खास होती है। यहाँ हम आपको इस मंदिर की आरती के बारे में पूरी जानकारी दे रहे हैं जो आपको सिद्धिविनायक में यहां मनाए जा रहे खास उत्सव् और त्योहार के अनुसार अपनी यात्रा की योजना बनाने में मदद करेगा

4.1 बुधवार से सोमवार आरती का समय

काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:30 बजे से शाम 6 बजे तक
श्री दर्शन – सुबह 6:00 बजे से दोपहर 12:15 बजे तक
नैवेद्य – दोपहर 12:15 बजे से 12:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर 12:30 बजे से शाम 7:20 बजे तक
आरती या शाम की प्रार्थना अनुष्ठान – शाम 7:30 बजे से 8:00 बजे तक
श्री दर्शन – रात्रि 8:00 बजे से 9:50 बजे तक
मंदिर बंद होने से पहले शेज आरती या अंतिम आरती – सुबह 9:50 बजे

4.2 मंगलवार को आरती का समय

श्री दर्शन – सुबह 3:15 से  4:45 तक
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 बजे से शाम 5:30 बजे तक
श्री दर्शन – प्रातः 5:30 से 12:15 बजे
नैवेद्य – दोपहर 12:15 बजे से 12:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर 12:30 बजे से 8:45 बजे तक
आरती या रात की प्रार्थना -9:30 बजे से रात 10:00 बजे तक
मंदिर बंद होने से पहले शेज आरती या अंतिम आरती – 12:30 पूर्वाह्न

4.3 विनायकी चतुर्थी

काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:30 बजे से शाम 6:00 बजे तक
श्री दर्शन – सुबह 6:00 बजे से शाम 6:30 बजे तक
अभिषेक, नैवेद्य और पूजा आरती – सुबह 7:30 बजे से दोपहर एक बजे तक (इस दौरान मंदिर में भक्तों को प्रवेश की अनुमति नहीं है)
श्री दर्शन – दोपहर 1:30 से 7:20 तक
आरती या शाम की प्रार्थना – शाम 7:30 बजे से 8:00 बजे तक
श्री दर्शन – रात्रि 8:00 बजे से 9:50 तक
मंदिर बंद होने से पहले शेज आरती या अंतिम आरती – रात 9:50 बजे

4.4 संकष्टी चतुर्थी

श्री दर्शन प्रातःकालीन दर्शन- सुबह 4:00 बजे से 4:45 बजे तक
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 बजे से शाम 5:30 बजे तक
श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – सुबह 5:30 बजे से 90 मिनट रात में चन्द्रोदय से पहले
पूजा, अभिषेक, नैवेद्य – चंद्रोदय से 90 मिनट पहले (इस दौरान मंदिर में भक्तों को अनुमति नहीं है)
रात में आरती या प्रार्थना – चंद्रोदय के बाद (अभिषेक के बाद पूजा)
मंदिर के बंद होने से पहले शेज आरती या अंतिम आरती – चंद्रोदय के 90 मिनट बाद शेजार्ट

4.5 माघी श्री गणेश जयंती

श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – सुबह 4:00 बजे से 4:45 बजे तक
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 बजे से शाम 5:30 बजे तक
श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – प्रातः 5:30 से प्रातः 10:45 तक
पूजा, अभिषेक, नैवेद्य और आरती – सुबह 10:45 बजे से दोपहर 1:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर 1:30 से 7:20 तक
आरती या प्रार्थना – शाम 7:30 बजे से 8:00 बजे तक
श्री दर्शन या रात दर्शन: शाम 8:00 बजे से शेजारती तक
मंदिर बंद होने से पहले दिन की शेज आरती या अंतिम आरती – रथ-शोभा यात्रा के बाद शेज आरती

4.6 भाद्रपद श्री गणेश चतुर्थी

श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – सुबह 4:00 बजे से 4:45 बजे तक
काकड़ आरती या सुबह की प्रार्थना – सुबह 5:00 बजे से शाम 5:30 बजे तक
श्री दर्शन या प्रातःकालीन दर्शन – प्रातः 5:30 से प्रातः 10:45 तक
पूजा, अभिषेक, नैवेद्य और आरती – सुबह 10:45 बजे से दोपहर 1:30 बजे तक
श्री दर्शन – दोपहर 1:30 से 7:20 तक
शाम को आरती या प्रार्थना – शाम 7:30 बजे से 8:00 बजे तक
श्री दर्शन या रात्रि दर्शन – रात्रि 8:00 बजे से 10:00 बजे तक
मंदिर बंद होने से पहले दिन की शेज आरती या अंतिम आरती – रात 10:00 बजे

और पढ़े: वाराणसी के 10 प्रमुख मंदिर

5. सिद्धिविनायक मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय- Best Time To Visit Siddhivinayak Temple In Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर जाने का सबसे अच्छा समय- Best Time To Visit Siddhivinayak Temple In Hindi

बता दें कि मुंबई जाने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से फरवरी तक है। मुंबई में मानसून के दौरान अच्छी बारिश होती है। गर्मियों में मुंबई की यात्रा करना अच्छा समय नहीं है क्योंकि यह बेहद गर्म और आर्द्र है। सर्दियों का मौसम मुंबई में बहुत सुखद होता है। अगर मंदिर की बात करें तो बता दें कि दोपहर का समय सिद्धिविनायक मंदिर की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय है क्योंकि इस समय मंदिर में कम भीड़ रहती है। इसके अलावा, आप विनायकी चतुर्थी, संकष्टी चतुर्थी, माघी श्री गणेश जयंती और भाद्रपद श्री गणेश चतुर्थी जैसे त्योहारों के दौरान मंदिर जा सकते हैं, जिसमें विशेष प्रार्थना सेवाएं हैं।

6. सिद्धिविनायक मंदिर का प्रवेश शुल्क- Entry Fees Of Siddhivinayak Temple In Hindi

सिद्धिविनायक मंदिर में कोई प्रवेश शुल्क नहीं लगता।

7. कैसे पहुंचे सिद्धिविनायक मंदिर- How To Reach Siddhivinayak Temple In Hindi

अगर आप सिद्धिविनायक मंदिर जाना चाहते हैं तो आपको दादर से प्रभादेवी तक पहुंचने के लिए मुंबई शहर के किसी भी कोने से बीईएसटी द्वारा संचालित बस मिल जायेंगी। दादर पहुंचने के लिए आप लोकल ट्रेन की मदद भी ले सकते हैं, इसके साथ ही दादर से प्रभादेवी तक के लिए कैब सेवाएं भी उपलब्ध हो जाती है। आप कैब की मदद से शहर के किसी भी हिस्से से प्रभादेवी तक पहुंच सकते हैं। अगर आप देश या विदेश से सिद्धिविनायक मंदिर के दर्शन करने के लिए मुंबई आ रहे हैं तो मुंबई कैसी पहुंचे इसकी जानकारी हम आपको देने जा रहे हैं।

7.1 हवाई जहाज से सिद्धिविनायक मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Siddhivinayak Temple In Hindi

अगर आप मुंबई हवाई जहाज से सिद्धिविनायक मंदिर के दर्शन करने आ रहे हैं तो बता दें कि मुंबई देश के साथ-साथ दुनिया से हवाई मार्ग की मदद से अच्छी तरह कनेक्टेड है। छत्रपति शिवाजी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा शहर से लगभग 30 किलोमीटर उत्तर में स्थित है यहां पहुंचने के बाद आप किसी कैब या बस की मदद से  प्रभादेवी पहुंच सकते हैं।

7.2 ट्रेन से सिद्धिविनायक मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Siddhivinayak Temple By Train In Hindi

मुंबई शहर भारत से रेलगाड़ियों द्वारा बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। मध्य, पूर्व और पश्चिम भारत से आने वाली ट्रेनें छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, या वीटी पर आती है। और उत्तर भारत से ट्रेनें मुंबई सेंट्रल स्टेशन पर आती हैं।

7.3 सड़क मार्ग से सिद्धिविनायक मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Siddhivinayak Temple By Bus In Hindi

भारत के कई राज्यों और शहरों से बसें मुंबई सेंट्रल बस स्टेशन पर आती हैं। ज्यादातर अंतर-महाराष्ट्र बसें इस स्टेशन पर आती हैं। लेकिन पुणे और नासिक से चलने वाले लोग दादर रेलवे स्टेशन के पास एएसआईएडी बस स्टैंड पर पहुंच सकते हैं।

7.4 क्या सिद्धिविनायक मंदिर में मोबाइल की अनुमति है- Is Mobile Allowed In Siddhivinayak Temple In Hindi

यह मंदिर प्रभादेवी में स्थित है और यहां जाने वाले व्यक्ति के लिए यह जानना अवश्य है। मंदिर में दो लाइनें हैं, एक पूजा के लिए और दूसरी दर्शन के लिए। जूते, मोबाइल और कैमरे को मंदिर के अंदर ले जाने की अनुमति नहीं है।

और पढ़े: मुंबई की यात्रा और मुंबई के दर्शनीय स्थल

8. सिद्धिविनायक मंदिर की लोकेशन का मैप – Siddhivinayak Temple Location

9. सिद्धिविनायक मंदिर की फोटो गैलरी – Siddhivinayak Temple Images

View this post on Instagram

#siddhivinayaktemple

A post shared by nikon_crazy_jp (@nikon_crazy_j.p) on

और पढ़े:

Write A Comment