क्या सच में राम सेतु में घुमने लायक पर्यटन स्थल है? क्या है राम सेतु का इतिहास?

Ram Setu In Hindi राम सेतु एक मानव निर्मित पुल हैं जो कि भारत के तमिलनाडु राज्य में दक्षिण पूर्वी तट पर रामेश्वरम् द्वीप से शुरू होकर श्रीलंका के मन्नार द्वीप को जोड़ता हैं। राम सेतु को एडम ब्रिज के नाम से भी जाना जाता हैं। पौराणिक कथाओं से पता चलता हैं कि राम सेतु का निर्माण अयोध्या के राजा श्री राम की सहायता करने के लिए उनकी वानर सेना ने किया था। राम सेतु को बनाने का उद्देश्य वानर सेना का समुद्र पार करके लंका (वर्तमान में श्रीलंका) के राजा रावण पर हमला करना था जिसने छलपूर्वक श्री राम की पत्नी (भार्या) देवी सीता का हरण कर लिया था।

राम सेतु की सुन्दरता और इससे जुडी रोचक कथा पर्यटकों अपनी ओर आकर्षित करती हैं। राम सेतु धनुषकोडि द्वीप से थोड़ी ही दूरी पर स्थित हैं और धनुषकोडि रामेश्वरम द्वीप का अंतिम छोर है। यह आकर्षित पुल अब क्षतिग्रस्त हो गया हैं। राम सेतु और इसके आकर्षण के बारे में यदि आप अधिक से अधिक जानकारी लेना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को एक बार पूरा जरूर पढ़े –

1. राम सेतु का इतिहास – Ram Setu History In Hindi

राम सेतु का इतिहास
Image Credits: Google Map

राम सेतु के इतिहास के बारे इतिहासकार एक मत नहीं हैं खास कर इसके निर्माण की अवधि को लेकर एडम ब्रिज की उम्र कुछ गणनाओं के मुताबिक लगभग 125,000 वर्ष से 3500 वर्ष के बीच बताई जाती है। जोकि किसी तरह से रामायण की आयु से मेल खाती हैं। 15 वीं शताब्दी के दौरान यह पुल पैदल चलने योग्य बताया जाता हैं। लेकिन 1480 ईस्वी में आय चक्रवात में यह पुल नष्ट हो गया था और यह समुद्र में नीचे की ओर धस गया। रामेश्वरम मंदिर के रिकॉर्ड से पता चलता है कि राम सेतु (एडम ब्रिज) एक बार समुद्र तल से पूरी तरह से ऊपर था। माना जाता हैं कि भगवान राम और उनकी वानर सेना ने इसी पुल से चलते हुए लंका तक का सफ़र तय किया था। राम सेतु विवाद हमेशा से चर्चा का विषय रहा हैं। श्रीलंका के इतिहासकारों ने इस सिद्धांत की बहुत अधिक निंदा की है और वह इसे श्रीलंकाई इतिहास का घोर विरूपण मानते हैं। मद्रास उच्च न्यायालय ने विभिन्न अदालती मामलो और हलफनामो पर फैसला सुनाते हुए राम सेतु को एक मानव निर्मित पुल बताया हैं। नासा द्वारा किए गए अध्यन के मुताबिक यह पुल सैंडबैंक की एक श्रृंखला हैं।

और पढ़े: महाबलीपुरम मंदिर घूमने की जानकारी और प्रमुख पर्यटन स्थल

2. राम सेतु की वास्तुकला – Ram Setu Architecture In Hindi

 राम सेतु की वास्तुकला
Image Credit: Mohith Kothapalli

राम सेतु चट्टानों, छोटे द्वीपों, भित्तियों और सैंडबैंक से बना हुआ हैं। राम सेतु के बिंदु पर समुद्र काफी उथला है जोकि नेविगेशन सिस्टम साफ दिखाई देता हैं। इसके आसपास अधिकांश स्थानों पर समुद्र 3 फीट गहरा है और कुछ स्थानों पर अधिकतम 30 फिट तक की गहराई देखी जा सकती हैं। एडम ब्रिज की लंबाई लगभग 48 किमी या 30 मील है और चौड़ाई लगभग 3 किलोमीटर है। राम सेतु के रूप में चूना पत्थर की यह खूबसूरत श्रृंखला भारत और श्रीलंका के बीच एक प्राचीन सम्बन्ध की गाथा वयान करती हैं।

3. रामसेतु की लंबाई कितनी है – Ram Setu Ki Lambai Kitni Hai In Hindi

राम सेतु की लम्बाई (ram setu length) लगभग 48-50 किलोमीटर है और इसकी चौड़ाई 3 किलोमीटर हैं।

4. राम सेतु का निर्माण किसने किया – Ram Setu Ka Nirman Kisne Kiya In Hindi

राम सेतु का निर्माण अयोध्या के राजा राम और श्री लक्ष्मण की सहायता करने के लिए वानर सेना ने किया था। इस सेना में नल-नील नाम के दो वानर थे जिन्हें वरदान था की वह जिस पत्थर को पानी में डालेंगे वह डूबेगा नही। नल और नील ने वानर सेना की मदद से एक – एक पत्थर पर जय श्री राम लिख कर पानी में डालना शुरू किया और पत्थर पानी में तैरने लगे। इस तरह राम सेतु या एडम ब्रिज का निर्माण हुआ।

5. रामसेतु के अस्तित्व – Ram Setu Ka Astitva In Hindi

राम सेतु के अस्तित्व की बात करे तो यह एक सदियों पुरानी संरचना है और इसे लगभग 1.7 मिलियन वर्ष पुराना माना जाता है। राम सेतु का वर्णन सबसे पहले वाल्मीकि द्वारा लिखित भारतीय संस्कृत महाकाव्य रामायण में किया गया था।

और पढ़े: बृहदेश्वर मंदिर तंजावुर के दर्शन की पूरी जानकारी

6. रामेश्वरम से राम सेतु की दूरी – Rameshwaram To Ram Setu Distance In Hindi

रामेश्वरम से राम सेतु की दूरी

रामेश्वरम् से राम सेतु या एडम ब्रिज की दूरी लगभग 36 किलोमीटर हैं।

7. रामसेतु की आयु – Adam’s Bridge Kitna Purana Hai In Hindi

राम सेतु की आयु के बारे में कोई स्पष्ट मत अभी तक नही हैं। कुछ ज्ञातकर्ता राम सेतु की आयु को 3500 वर्ष बताते हैं तो कुछ इसको नकारते हुए 7000 वर्ष बताते हैं। जबकि कुछ तो राम सेतु की आयु को 17 लाख वर्ष पुराना भी बता चुके हैं।

8. राम सेतु के आसपास घूमने लायक पर्यटन और दर्शनीय स्थल – Best Tourist Places To Visit Near Ram Setu In Hindi

राम सेतु एक आकर्षण संरचना हैं जोकि प्राचीन कथाओं से जुडी हुई हैं। राम सेतु के पास ही रामेश्वरम् पर्यटन स्थल भी मौजूद हैं जोकि पर्यटन के लिए बहुत अधिक प्रसिद्ध हैं। तो आइए हम आपको राम सेतु या एडम ब्रिज के प्रमुख पर्यटन स्थलों की यात्रा अपने इस लेख से कराते हैं।

8.1 रामेश्वरम मंदिर तमिलनाडु – Rameshwaram Temple In Hindi

रामेश्वरम मंदिर तमिलनाडु

रामेश्वरम मंदिर भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक हैं। दर्शनीय वास्तुकला और आध्यात्मिक महत्व का एक आदर्श मिश्रण पर्यटकों को रामेश्वरम मंदिर देखने को मिलता हैं। तमिलनाडु में रामेश्वरम मंदिर को रामनाथस्वामी मंदिर भी कहा जाता है। रामेश्वरम मंदिर दुनिया के सबसे लंबे गलियारे के साथ -साथ आकर्षित खंभों पर नक्काशीदार सुन्दरता का अदभुत उदहारण हैं।

और पढ़े: रामेश्वरम मंदिर के इतिहास, दर्शन पूजन और यात्रा के बारे में संपूर्ण जानकारी 

8.2 धनुषकोडी – Dhanushkodi Ram Setu In Hindi

धनुषकोडी

धनुषकोडी तमिलनाडु में स्थित है कम आबादी वाला शहर हैं जिसमे एक खूबसूरत बीच भी हैं। वर्ष 1964 में आए देश के सबसे भयंकर तूफ़ान को झेलने वाला स्थान हैं। धनुषकोडी राम सेतु के नजदीक स्थित हैं और पर्यटन के लिहाज से अधिक प्रसिद्ध स्थान बन गया है।

8.3 अग्निथीर्थम – Agni Theertham Rameshwaram In hindi

अग्निथीर्थम

राम सेतु के नजदीक रामेश्वरम में 64 पवित्र स्नान में से एक माना जाने वाला अग्निथीर्थम सबसे महत्वपूर्ण थेरथम में से एक है। इस पवित्र स्थान पर आने वाले पर्यटकों को संख्या प्रतिदिन बहुत अधिक होती हैं। श्री रामनाथस्वामी मंदिर के तट के किनारे पर स्थित अग्निथीर्थम का एक अलग ही महत्व हैं। इस तीर्थस्थल पर आने वाले भक्त देवताओं की की पूजा अर्चना करने से पहले इस पवित्र जल में डुबकी लगाकर अपने पापों का प्राश्चित करते हैं।

और पढ़े: मदुरई का मीनाक्षी मंदिर के दर्शन की जानकारी

8.4 पंचमुखी हनुमान मंदिर रामेश्वरम – Panchmukhi Hanuman Temple Rameshwaram In Hindi

एडम ब्रिज के नजदीक ही पंचमुखी हनुमान मंदिर रामेश्वर में स्थित है जोकि यहाँ के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। मंदिर को पांच मुख वाले हनुमान मंदिर के नाम से भी जाना जाता हैं। पंचमुखी हनुमान मंदिर में राम, लक्ष्मण, सीता की मूर्तियों को भी रखा गया हैं। पंचमुखी हनुमान कवच स्तोत्र मंदिर की ख़ास विशेषता है। भक्त दूर दूर से श्री शंकटमोचन हनुमान जी महाराज के दर्शन करने के लिए यहाँ आते हैं।

8.5 अन्नाई इंदिरा गांधी रोड ब्रिज – Annai Indira Gandhi Road Bridge Rameshwaram In Hindi

अन्नाई इंदिरा गांधी रोड ब्रिज

अन्नाई इंदिरा गांधी रोड ब्रिज दक्षिणी भारत का सबसे लंबा पुल है और रामेश्वरम द्वीप को मुख्य भूमि से संपर्क में लाता है। रामेश्वरम से 7 किलोमीटर की दूरी पर यह खाड़ी के ऊपर निर्मित है। इस आकर्षित ब्रिज को पम्बन ब्रिज के नाम से भी जाना जाता हैं। यह पुल कई इंजीनियरों को आश्चर्यचकित कर चुका हैं।

8.6 लक्ष्मण तीर्थम रामेश्वरम – Lakshmana Tirtham In Hindi

लक्ष्मण तीर्थम रामेश्वरम
Image Credit: Shiv Vikas

लक्ष्मण तीर्थम का निर्माण भगवान राम के छोटे भाई लक्ष्मण की स्मृति में किया गया हैं। रामेश्वरम के पर्यटन स्थलों में श्री लक्ष्मण का परम धाम स्थित हैं और उनकी पूजा और प्राथन यहाँ की जाती हैं। भगवान राम और देवी सीता की सुन्दर प्रतिमाओं के दर्शन भी आप इस मंदिर में कर सकते हैं।

8.7 विलौंडी तीर्थम रामेश्वरम – Villoondi Tirtham In Hindi

विलौंडी तीर्थम रामेश्वरम
Image Credit: Vettri Selvan

विलौंडी तीर्थम रामेश्वरम में स्थित एक समुद्र तट है जिसे एक पवित्र प्राकृतिक जल निकाय के रूप में जाना जाता हैं और यह खूबसूरत स्थान पर्यटकों के बीच एक पसंदीदा बन गया है। विलौंडी तीर्थम का समुद्र के अंदर एक झरना भी है जो इसे आकर्षण के उच्च शिखर तक पहुंचाता हैं। माना जाता हैं कि यह स्थान रामायण की कथा के साथ जुड़ा हुआ है। कहते हैं भगवान राम ने अपनी सेना को पीने के लिए तीर मार कर जल निकाला था।

8.8 मन्नार मरीन नेशनल पार्क की खाड़ी – Gulf Of Mannar Marine National Park In Hindi

मन्नार मरीन नेशनल पार्क की खाड़ी

मन्नार मरीन नेशनल पार्क की खाड़ी 21 छोटे छोटे और आकर्षित द्वीपों का एक समूह हैं। यह पार्क मन्नार बायोस्फीयर रिजर्व की खाड़ी के लिए प्रमुख क्षेत्र माना जाता हैं। इस स्थान पर समुद्री, इंटरटाइडल और निकटवर्ती आवासों में पौधों और जानवरों की बहुत अधिक संख्या देखी जाती हैं। भित्ति, समुद्री घास और मैंग्रोव यहां का आकर्षण है जोकि पर्यटको के लिए प्रिय हैं।

8.9 अरियमन बीच रामेश्वरम – Ariyaman Beach In Rameshwaram In Hindi

अरियमन बीच रामेश्वरम

अरियमन बीच राम सेतु के प्रमुख पर्यटन स्थलों में शामिल है और अपनी सफेद रंग की सुंदरता के लिए प्रसिद्ध हैं। बीच पर प्राचीन सफेद रेत समुद्र तट का एक लंबा खंड है जोकि बीच सोभा और अधिक बढ़ा देता हैं। बीच का साफ पानी और कोमल लहरें पर्यटकों के लिए मनमोहक वातावरण बनाती हैं। पर्यटक इस स्थान पर आते हैं और ढेर सारी मस्ती करते हैं।

8.10 एपीजे अब्दुल कलाम हाउस रामेश्वरम – Abdul Kalam House Rameswaram In Hindi

एपीजे अब्दुल कलाम हाउस रामेश्वरम
Image Credit: Ayabalaji S

एपीजे अब्दुल कलाम हाउस या कलाम हाउस भारत के पूर्व राष्ट्रपति का निवास स्थान हैं। एपीजे अब्दुल कलाम एक कुशल वैज्ञानिक होने के साथ साथ एक प्रेरणादायक व्यक्ति थे वह अपनी बातो से उर्जा की एक नई रोशनी प्रज्वलित कर देते थे। इसी स्थान पर उन्होंने अपना बचपन अपने माता, पिता और भाई-बहनों के साथ बिताया था। लेकिन अब यह घर एक संग्रहालय के रूप में तब्दील हो गया हैं।

8.11 थिरुपुल्लानी रामेश्वरम – Thiruppullani Navagraha Temple In Hindi

थिरुपुल्लानी रामेश्वरम
Image Credit: Sankara Nrayanan

थिरुपुल्लानी एक प्राचीन मंदिर है जोकि भगवान विष्णु को समर्पित है। लेकिन यहाँ के पीठासीन देवता भगवान दरवाहा सयाना राम हैं और उनकी मूर्ती एक वैराग्य मुद्रा में दिखाई देती है। यह मंदिर द्रविड़ वास्तुकला का एक अच्छा उदाहरण हैं। इस मंदिर परिसर का निर्माण उस समय किया गया था, जब चोल साम्राज्य सत्ता में था।

9. राम सेतु की यात्रा पर जाने के लिए सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Ram Setu In Hindi

राम सेतु की यात्रा पर आप कभी भी जा सकते हैं लेकिन मौसम के दृष्टीकोण से देखे तो राम सेतु या एडम ब्रीज जाने के लिए सबसे अच्छा समय नवम्बर से मार्च के महीने का माना जाता हैं।

और पढ़े: कोयम्बटूर पर्यटन स्थल के बारे में जानकारी 

10. राम सेतु का स्थानीय भोजन – Local Food Of Ram Setu In Hindi

राम सेतु का स्थानीय भोजन -

राम सेतु के स्थानीय भोजन के रूप में हम इसके नजदीकी पर्यटन स्थल रामेश्वरम का स्वादिष्ट भोजन चख सकते हैं। यहाँ के भोजन में विस्तृत दक्षिण-भारतीय थाली जोकि ज्यादातर शाकाहारी होती हैं मिल जाएगी। हालाँकि यहाँ के रेस्टोरेंट में कई प्रकार के मांसाहारी व्यंजन भी आपको मिल जाते हैं। जिनमे सांभर, इडली, वड़ा, डोसा, फ़िल्टर कॉफी, केकड़ा मांस, बेबी ऑक्टोपस, कटल मछली, केमा वाडस, रसम और बहुत कुछ शामिल हैं।

11. राम सेतु के नजदीक कहाँ रुके – Where To Stay Near Ram Setu In Hindi

राम सेतु के नजदीक कहाँ रुके

राम सेतु के आसपास यदि आप किसी होटल की तलाश में हैं तो हम आपको बता दें कि राम सेतु लगभग 36 किलोमीटर की दूरी पर रामेश्वरम् में आपको लों-बजट से लेकर हाई बजट तक होटल मिल जायंगे।

  • जीवन रेजीडेंसी
  • ताज होटल
  • होटल रॉयल रेजिडेंसी
  • श्री पलान्यदावर लॉज (Sri Palaniandavar Lodge)
  • श्रीराम होटल आईलैंड स्टार

12. राम सेतु कैसे जाए – How To Reach Ram Setu In Hindi

राम सेतु या एडम ब्रिज की यात्रा के लिए आप फ्लाइट, ट्रेन और बस में से किसी का भी चुनाव कर सकते हैं।

12.1 फ्लाइट से राम सेतु कैसे पहुचे – How To Reach Ram Setu By Flight In Hindi

फ्लाइट से राम सेतु कैसे पहुचे

राम सेतु की यात्रा के लिए यदि आपने हवाई मार्ग का चुनाव किया हैं तो हम आपको बता दें कि रामेश्वरम का निकटतम हवाई अड्डा मदुरै हवाई अड्डा है। जोकि रामेश्वरम शहर से लगभग 149 किलोमीटर की दूरी पर हैं और राम सेतु के लिए भी सबसे नजदीकी एयरपोर्ट हैं।

12.2 राम सेतु ट्रेन से कैसे जाए – How To Reach Ram Setu By Train In Hindi

राम सेतु ट्रेन से कैसे जाए

यदि आपने राम सेतु जाने के लिए रेल मार्ग का चुनाव किया हैं तो हम आपको बता दें कि रामेश्वरम चेन्नई, मदुरै, कोयम्बटूर, त्रिचि, तंजावुर और अन्य महत्वपूर्ण शहरों से रेलमार्ग द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आप यहाँ से स्थानीय साधनों की मदद से राम सेतु पहुँच जायेंगे।

12.3 बस से राम सेतु कैसे जाए – How To Reach Ram Setu By Bus In Hindi

 राम सेतु कैसे जाए बस से

राम सेतु सड़क मार्ग से बहुत अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं। जोकि रामेश्वरम, मदुरै, कन्याकुमारी, चेन्नई और त्रिचि से सड़क मार्ग के संपर्क में है। इसलिए आप बस से भी अपनी यात्रा कर सकते हैं.

और पढ़े: कुमारी अम्मन मंदिर या कन्याकुमारी मंदिर 

इस आर्टिकल में आपने राम सेतु ब्रिज से जुड़े सभी रोचक तथ्यों को जाना है आपको हमारा यह लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

13. राम सेतु का नक्शा – Ram Setu Map

14. राम सेतु की फोटो गैलरी – Ram Setu Images

View this post on Instagram

: Кто построил Адамов мост? Если лететь над морем между Индией и Шри-Ланкой (Цейлоном), то в какой-то момент можно заметить находящуюся буквально у самой поверхности странную отмель, которая, слегка изгибаясь, соединяет остров и континент. Эту отмель называют по-разному. Мусульмане называют мостом Адама, а Индуисты – мостом Рамы. Мусульманское название связано с тем, что последователи этой религии считают, что изгнанный из рая #Адам сошел на землю именно на Цейлоне. А на континент, в Индию, он перешел по этой странной отмели, столь похожей на #мост. Индуисты и вовсе считают, что это действительно рукотворный мост, построенный в незапамятные времена по приказу императора Рамы войском обезьян под предводительством Ханумана. На арабских средневековых картах он отмечен как самый настоящий возвышающийся над водой мост, по которому любой желающий мог перейти из Индии на #Цейлон. Ситуация изменилась в 1480 году, когда в результате сильного землетрясения и последовавшего за ним сильнейшего шторма мост просел и был частично разрушен. Однако португальцы и англичане по-прежнему обозначали его на картах как искусственное сооружение, дамбу или мост. Длина моста составляет без малого 50 км, ширина его колеблется в пределах примерно от 1,5 до 4 км, глубина морского дна вокруг сооружения – 10-12 метров. Большая часть его скрыта водой, иногда на глубине более метра. Так что по нему и сейчас вполне можно пройти от начала до конца, то бредя по каменному полотну по колено в воде, то углубляясь по пояс и более. Хотели бы прогуляться по Адамову мосту? #dolcevita #дольчевита #сладкаяжизнь #нашасладкаяжизнь #адамовмост #шриланка #индия

A post shared by ?ТУРЫ ПО МИРУ И РФ (@dolce_vita_18) on

https://www.instagram.com/p/BpHl4K0B6Zc/?utm_source=ig_web_button_share_sheet

और पढ़े:

Leave a Comment