Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Karnataka Ke Tirth Sthal In Hindi, कर्नाटक भारत का एक ऐसा राज्य है जो कई तरह के तीर्थ और धमिल स्थलों से समृद्ध है। आपको बता दें कि कर्नाटक में मंदिरों, मस्जिदों, गिरिजाघरों और गुरुद्वारों के साथ कई तीर्थ स्थल हैं जहाँ की यात्रा करने के लिए हर साल लाखों की संख्या में तीर्थ यात्री आते हैं। कर्नाटक के इतिहास और कला में ही नहीं बल्कि यहां के धर्म और जाति में भी विविधता है। यहां के धार्मिक स्थल देश के हर कोने से तीर्थ यात्रियों को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं। अगर आप भी कर्नाटक के तीर्थ स्थलों की यात्रा करने की योजना बना रहें हैं तो इस लेख को जरुर पढ़ें, यहां हम आपको कर्नाटक के 15 प्रमुख तीर्थ स्थलों के बारे में जानकारी दे रहें हैं।

कर्नाटक पर्यटन में घूमने लायक प्रमुख धार्मिक स्थल – Karnataka Ke 15 Pramukh Tirth Sthal In Hindi

1. कर्नाटक के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल मुरुदेश्वर – Murudeshwar Karnataka Ke Tirth Sthal In Hindi

कर्नाटक के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल मुरुदेश्वर

मुरुदेश्वर कर्नाटक का एक बहुत ही प्रसिद्ध मंदिर है जो भगवान शिव को समर्पित है। आपको बता दें कि मुरुदेश्वर एक धार्मिक स्थल है, जो लोकप्रिय स्कूबा डाइविंग स्थल नेतरानी के लिए संपर्क बिंदु के रूप में भी काम करता है। मुरुदेश्वर में भगवान शिव की दुनिया में दूसरी सबसे ऊंची मूर्ति है। मुरुदेश्वर कर्नाटक का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है और इसके साथ ही यह केरल के लोगों का भी एक बेहद पसंदिता स्थान है। अक्सर यहां पर कर्नाटक के साथ केरल के पर्यटक भी पिकनिक मानाने के लिए आते हैं। यहां स्थित नेतरानी द्वीप के चारों ओर समुद्र तट और साहसिक गतिविधियाँ पर्यटकों को बेहद आकर्षित करती हैं। अगर आप कर्नाटक राज्य के पर्यटन स्थलों की सैर करने की योजना बना रहें हैं तो आपको एक बार अवश्य मुरुदेश्वर (Murudeshwar) की यात्रा करना चाहिए। नेतरानी, स्नोर्केलिंग और स्कूबा डाइविंग के लिए काफी प्रसिद्ध है जो आपकी मुरुदेश्वर यात्रा को और भी ज्यादा ख़ास बना देगा।

2. कर्नाटक पर्यटन में घूमने के लिए प्रमुख धार्मिक स्थल बादामी – Badami Karnataka Ke Tirth Sthal In Hindi

कर्नाटक पर्यटन में घूमने के लिए प्रमुख धार्मिक स्थल बादामी

बादामी कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है। लाल पत्थर की एक घाटी में स्थित बादामी अगस्त्य झील, बलुआ पत्थर की गुफा मंदिरों, खूबसूरत किलों के लिए जाना जाता है। चालुक्यों की शाही राजधानी, बादामी एक ऐसी अनोखी जगह है जहां की यात्रा आपको एक बार जरुर करना चाहिए। यह जगह द्रविड़ वास्तुकला के कई उदाहरणों का घर है। बादामी गुफाओं में तीन हिंदू मंदिर और एक जैन मंदिर हैं, जो हर साल भारी संख्या में पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं। अपनी कर्नाटक यात्रा के दौरान आपको एक बार जरुर बादामी की यात्रा के लिए जाना चाहिए।

और पढ़े: चालुक्य वंश के बादामी गुफा घूमने की जानकारी 

3. कर्नाटक के मंदिर श्रीरंगपटना – Srirangapatna Karnataka Ke Mandir In Hindi

कर्नाटक के मंदिर श्रीरंगपटना

Image Credit: Swami Sarveshananda

कर्नाटक के मंड्या जिले में कावेरी नदी के बीच श्रीरंगपट्टन एक अंडे के आकार का द्वीप शहर है जो मैसूर से 18 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां स्थित रंगनाथस्वामी मंदिर कर्नाटक एक प्रमुख तीर्थ स्थल है, जो हजारों भक्तों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। यह मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है जो भारत में अपनी तरह का सबसे बड़ा मंदिर है। एक बार हैदर अली और टीपू सुलतान की राजधानी रहा, यह शहर कई ऐतिहासिक स्थलों का घर भी है। मंदिरों, मकबरों, सैन्य गोदामों और महलों जैसे पर्यटकों के आकर्षण के अपने दिलचस्प मिश्रण के साथ श्रीरंगपटना का ऐतिहासिक और धार्मिक महत्व भी है। अगर आप कर्नाटक में किसी ऐतिहासिक और धार्मिक जगह की तलाश में हैं तो आपको यहां की यात्रा अवश्य करना चाहिए।

4. कर्नाटक के मशहूर मंदिर विरुपाक्ष मंदिर – Karnataka Ke Mashhur Mandir Virupaksha Temple In Hindi

कर्नाटक के मशहूर मंदिर विरुपाक्ष मंदिर

विरुपाक्ष मंदिर कर्नाटक राज्य के हम्पी में तुंगभद्रा नदी के तट पर स्थित है। आपको बता दें कि यह मंदिर 7 वीं शताब्दी के दौरान निर्मित एक प्रमुख मंदिर है।जिसकी सुंदर वास्तुकला और इतिहास ने इसे एक यूनेस्को का विश्व विरासत स्थल बना दिया है। यह मंदिर भगवान शिव के एक रूप को समर्पित है जिसे भगवान विरुपाक्ष कहते हैं। वर्तमान में यह मंदिर हम्पी में स्थित है लेकिन यह प्राचीन और राजसी विजयनगर साम्राज्य के बीच में एक छोटा सा मंदिर था। अगर आप इस मंदिर की यात्रा करने के लिए जाते हैं तो आपको इसकी दीवार पर 7 वीं शताब्दी में अपनी समृद्ध विरासत के प्रमाण के रूप में सुंदर पत्थर के शिलालेख मिलेंगे। विरुपाक्ष मंदिर कर्नाटक का एक प्रमुख तीर्थ स्थल है जहां की यात्रा वास्तुकला प्रेमी और इतिहास प्रेमी भी कर सकते हैं। बता दें कि आम दिनों में इस मंदिर में काफी कम भीड़ होती है लेकिन किसी खास त्यौहार और मौसम में मंदिर में भक्तों की भीड़ देखी जा सकती है।

5. कर्नाटक टूरिज्म के तीर्थ स्थल तालकाड़ – Karnataka Tourism Ke Teerth Sthan Talakad In Hindi

कर्नाटक टूरिज्म के तीर्थ स्थल तालकाड़

Image Credit: G.Mohanraj Raj

तालकाड़ एक छोटा सा रहस्यमय शहर है जो कि कावेरी नदी के बाएं किनारे पर शानदार अतीत और विरासत में डूबा हुआ है। आपको बता दें कि तालकाड़ का नाम कर्नाटक के प्रमुख तीर्थस्थलों में शामिल है। यह शहर कभी चोल, पल्लव, गंगास, विजयनगर और होयसलास सहित कई महान राज्यों के उत्थान और पतन का गवाह रहा है। लोकगीत और किंवदंतियां शहर के हर नुक्कड़ और कोने में छिपी हुई हैं। तालकाड़ को दक्षिण की कासी के नाम से भी जाना जाता है और इसे पांच पवित्र शिवलिंगों के साथ सुशोभित किया गया है। अगर आप कर्नाटक में किसी धार्मिक जगह की तलाश में हैं तो आपको तालकाड़ की यात्रा जरुर करना चाहिए। कीर्ति नारायण मंदिर, मल्लिकार्जुन मंदिर और पत्थलेश्वर मंदिर तालकाड़ के प्रमुख मंदिर हैं।

6. कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल कुंडापुर – Kundapur Karnataka Ke Pramukh Teerth Sthal In Hindi

 कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल कुंडापुर

Image Credit: Gagan Shetty

कुंडापुर- को कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थलों में गिना जाता है। आपको बता दें कि यह जगह सांस्कृतिक, प्राकृतिक और आध्यात्मिक रूप से समृद्ध है। कुंडेश्वरा मंदिर कुंडापुर का प्रमुख मंदिर है। आपको बता दें कि यहां पर्यटक लंबी पैदल यात्रा, ट्रैकिंग, रॉक क्लाइंबिंग और बोटिंग कर सकते हैं। कुंडापुर तीर्थ यात्रियों साथ प्रकृति प्रेमियों के लिए एक खास जगह है।

और पढ़े: कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर कर्नाटक के दर्शन की जानकारी 

7. कर्नाटक के तीर्थ स्थल पट्टडकल – Pattadakal Karnataka Ke Pramukh Tirth Sthal In Hindi

कर्नाटक के तीर्थ स्थल पट्टडकल

पट्टडकल एक छोटा सा गाँव है, जिसे रक्तापुरा या पट्टडाकल्लू के नाम से भी जाना जाता है, इसमें दस शानदार पत्थर के मंदिर हैं, जो 7 वीं और 8 वीं शताब्दी के समय में बनाए गए थे। आपको बता दें कि पट्टडकल कर्नाटक का एक प्रसिद्ध हिंदू तीर्थ स्थल है क्योंकि यहां पर स्थित दस में से नौ हिंदू मंदिर हैं और एक जैन मंदिर है। यह सभी मंदिर पट्टडकल का प्रमुख आकर्षण हैं, जो आश्चर्यजनक रूप से बनाए गये हैं। यह सभी मंदिर विभिन्न प्रकार की वास्तुकला का बेहतरीन प्रदर्शन करते हैं। अगर आप पट्टडकल की यात्रा करने की योजना बना रहें हैं तो आपको यहां के जैन मंदिर, पापनाथा मंदिर, गलगनाथ मंदिर, संगमेश्वर मंदिर और अन्य सभी मंदिरों के दर्शन करने चाहिए।

8. कर्नाटक के प्रमुख धार्मिक स्थल आइहोल – Aihole Karnataka Ke Pramukh Dharmik Sthal In Hindi

कर्नाटक के प्रमुख धार्मिक स्थल आइहोल

Image Credit: Sanjay P. K.

आइहोल को कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल और धार्मिक स्थल के रूप में जाना जाता है। आपको बता दें कि आइहोललगभग 125 चालुक्य मंदिरों के घर के रूप में जाना जाता है, यह शहर एक शानदार पर्यटन स्थल है। कर्नाटक के बागलकोट जिले में स्थित बंगलौर से 510 किमी दूर आइहोल अपने चालुक्य वास्तुकला के लिए जाना जाता है। यह यूनेस्को की विश्व धरोहर में स्थान पाने के दावेदारों में भी शामिल है। शहर के कुछ आवश्यक मंदिरों में दुर्गा मंदिर, लाड खान मंदिर, रावणपदी गुफा मंदिर, हुचीमल्ली मंदिर, मेगनगुड़ी समूह, गौड़ा मंदिर और हचप्पय्यागुड़ी मंदिर के नाम शामिल है।

9. कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल शिवगंगे – Shivagange Karnataka Ke Pramukh Teerth Sthal In Hindi

कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल शिवगंगे

Image Credit: Naveen Kumar.s

शिवगंगे एक पहाड़ी है जो बंगलौर से 56 किमी दूर स्थित मंदिरों और प्राकृतिक सुंदरता का एक संयोजन है जो इसे तीर्थ यात्रा के साथ ही एक साहसिक स्थान भी बनाता है। आपको बता दें कि जब भी दूर से इस पहाड़ी को कोई देखता है तो यह शिव लिंग’ की तरह दिखती है। पहाड़ी की चोटी के रास्ते में कई पानी के धब्बे हैं और लोगों का मानना है कि पानी पवित्र गंगा नदी का है। इसी वजह से इस पहाड़ी को अपना नाम शिवांगे मिला है। यहां पर पत्थर पर भगवान शिव के बैल नंदी की नक्काशी यहां का प्रमुख आकर्षण है। गंगाधरेश्वरा मंदिर, ओलकला तीर्थ, नंदी प्रतिमा, पाताल गंगे इस जगह को और भी ज्यादा पवित्र बनाते हैं। एक धामिक स्थल के साथ ही यह पहाड़ी साहसिक खेल पसंद करने वालों को भी आकर्षित करती है। यहां पर्यटक ट्रेकिंग और रॉक क्लाइम्बिंग का मजा भी ले सकते हैं।

और पढ़े: रामेश्वरम मंदिर के इतिहास, दर्शन पूजन और यात्रा के बारे में संपूर्ण जानकारी

10. कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल होरानडू – Horanadu Karnataka Paryatan Me Ghumne Ke Liye Tirth Sthal In Hindi

कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल होरानडू

Image Credit: Hemanth Hkp

होरानाडू एक विचित्र सा गाँव है, जिसके आसपास का प्राकृतिक दृश्यों से भरा हुआ है। होरानाडू देवी अन्नपूर्णुनेश्वरी मंदिर और इसके सुंदर स्थलों के लिए सबसे प्रसिद्ध है। होरानाडू, बैंगलोर से लगभग 330 किमी मालाड में स्थित है। यह क्षेत्र क्षेत्र घनी वनस्पतियों भरा हुआ है और यहां आने वाले पर्यटकों को एक शानदार वातावरण प्रदान करता है। अगर आप कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल होरानडू की यात्रा करने हैं तो यहां रस्ते में पड़ने वाले कुक्के सुब्रह्मण्य, धर्मस्थल, श्रृंगेरी, उडुपी कृष्णा मंदिर और कोलोरु मुक्काम्बिक भी जा सकते हैं। यात्रा के दौरान आपको इन मंदिरों के दर्शन करने और यहां की प्राकृतिक सुन्दरता का आनंद लेने के लिए जरुर रुकना चाहिए।

11. कर्नाटक के प्रमुख धार्मिक स्थल श्रृंगेरी – Sringeri Karnataka Ke Dharmik Sthal In Hindi

कर्नाटक के प्रमुख धार्मिक स्थल श्रृंगेरी

श्रृंगेरी कर्नाटक का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है जो चिकमंगलुरु जिले में स्थित एक पहाड़ी शहर कहा जाता है। यह प्रथम मठ- श्रृंगेरी शारदा पीठ का स्थल है, जिसे आदि शंकराचार्य द्वारा स्थापित किया गया था।

12. कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल धर्मस्थल – Dharmasthala Karnataka Ke Tirth Sthal In Hindi

कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल धर्मस्थल

Image Credit: Ramesh Sinde

धर्मस्थल कर्नाटक का एक प्रमुख तीर्थ केंद्र है जो शैव, वैष्णव और जैन समुदायों के लिए एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थान के रूप में जाना जाता है। धर्मस्थल नाम का अर्थ है धर्म की भूमि जो विरासत, संस्कृति और धर्म का एक सुंदर मिश्रण है। धर्मस्थल में बहुत सारे स्थल हैं जिनमें शिव मंदिर, मंजूनाथ मंदिर, वसंतमहल, नेलियादी बीडू के नाम शामिल हैं। धर्मस्थल का प्रमुख आकर्षण बाहुबली प्रतिमा है, जो 39 फीट ऊंची एक ही पत्थर पर बनी है और नक्काशीदार है। धर्मस्थल तीर्थस्थलों के साथ ही प्राकृतिक आकर्षणों से भी भरा हुआ है। अगर आप कर्नाटक राज्य की यात्रा करने जा रहें हैं तो आपको एक बार जरुर धर्मस्थल की यात्रा करना चाहिए।

और पढ़े: कर्नाटक के टॉप 10 पर्यटन स्थलों की जानकारी

13. कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल हासन – Hassan Karnataka Tourism Me Ghumne Layak Tirth Sthal In Hindi

कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल हासन

हासन का नाम भी कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थलों में शामिल है। आपको बता दें कि हासन को कर्नाटक की मंदिर-वास्तुकला की राजधानी के रूप में भी जाना जाता है। हासन शहर राजधानी बैंगलोर से 187 किमी दूर स्थित है जो हासन अपनी कई प्राचीन संरचनाओं और स्मारकों के लिए प्रसिद्ध है। यहां पर प्राचीन समय में होयसला साम्राज्य ने शासन किया था। यह शहर मुख्य रूप से अपने जैन मंदिरों और हसांम्बा मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। अगर आप कर्नाटक के तीर्थ स्थलों की यात्रा करने जा रहें हैं तो हासन को भी अपनी सूची में शामिल कर सकते हैं।

14. कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल श्रवणबेलगोला – Shravanabelagola Karnataka Ke Tirth Sthal In Hindi

कर्नाटक के प्रमुख तीर्थ स्थल श्रवणबेलगोला

श्रवणबेलगोला कर्नाटक का एक महत्वपूर्ण जैन तीर्थ स्थल है, जहां पर भगवान गोमतेश्वर की 57 मीटर लंबी एक विशाल मूर्ति स्थापित है। बता दें कि इस विशाल मूर्ति तो बाहुबली प्रतिमा के नाम से भी जाना जाता है। कर्नाटक बेंगलुरु से 144 किमी दूर हासन जिले में स्थित श्रवणबेलगोला में जैन मंदिरों की यात्रा करने के लिए हर साल कई तीर्थ यात्री आते हैं। श्रवणबेलगोला चंडीगिरी और विंध्यगिरि पहाड़ियों के बेच में ‘बेलागोला’ नामक शहर के टैंक के पास स्थित है। श्रवणबेलगोला में स्थित सभी स्मारकों को देखने के लिए एक दिन का समय चाहिए होता है। जिन भी लोगों को पहाड़ी पर चढ़ने में दिक्कत होती है वे लोग पालकी की मदद से ऊपर जा सकते हैं, जिसके लिए 800 रूपये तक चार्ज किये जाते हैं। बता दें कि हर 12 साल में यहां पर भगवान बाहुबली का महामस्तकाभिषेक किया जाता है, इस दौरान भारी संख्या में भक्त शामिल होते हैं।

15. कर्नाटक तीर्थ स्थल उडुपी – Udupi Karnataka Tirth Sthal In Hindi

कर्नाटक तीर्थ स्थल उडुपी

उडुपी वैसे तो कर्नाटक का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है जो एक एक तटीय शहर है। अपने पर्यटन आकर्षण के अलावा उडुपी एक तीर्थ स्थल के रूप में भी जाना जाता है। मैंगलोर से 60 किमी की दूरी पर स्थित उडुपी अपनी संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है। एक तरफ अरब सागर और दूसरी तरफ पश्चिमी घाटों से घिरा, यह तीर्थ स्थल बेंगलुरु और मैंगलोर के बाद कर्नाटक के सबसे प्रमुख शहरों में से एक है। उडुपी का प्रमुख आकर्षण यहां स्थित एक कृष्ण मंदिर जो इसे एक प्रमुख धार्मिक स्थल बनाता है। 13 वीं शताब्दी के समय के इस श्रीकृष्ण मंदिर में भगवान कृष्ण की प्रतिमा है जो कई तीर्थयात्रियों को आकर्षित करती है। इसके निकट ही एक प्राचीन अनंतेश्वर मंदिर भी स्थित है, जो भगवान शिव को समर्पित है। यात्री एक तीर्थ स्थल के अलावा एक पर्यटन स्थल के रूप में भी उडुपी की यात्रा कर सकते हैं।

और पढ़े:

Write A Comment