भारत की 13 विचित्र और अजीबो गरीब परंपराएं जो आपको चौंका देंगी – 13 strange traditions of India that will surprise you In Hindi

13 strange traditions of India that will surprise you In Hindi, भारत देश बिभिन्न विविधातायों और संस्कृति से भरा देश है। जहाँ भारत का प्रत्येक राज्य, धर्म, समुदाय और प्रत्येक जनजाति के लोग अपनी संस्कृति और परम्परायों का पालन करते हैं। भारत में मनाए जाने वाले त्योहारों की एक विस्तृत विविधता इसकी समृद्ध संस्कृति और परंपराओं की एक सही अभिव्यक्ति है। लेकिन क्या आप जानते हैं इन रंगीन त्योहारों और जीवंत समारोहों के बीच, भारत में कुछ ऐसी प्रथाएं भी हैं जो असाधारण रूप से अजीब हैं। जिनमे से कुछ खतरनाक और दर्दनाक है जबकि कुछ मनोरंजन से भरी हुई है । लेकिन फिर भी इन्हें पूरी निष्ठा के साथ पालन किया जाता हैं।

अगर आप भी भारत में मनाई जाने वाली इन अजीबो गरीब प्रथायों के बारे में उत्सुक है तो आप हमारे इस लेख को पूरा अवश्य पढ़े जहाँ हमने आपके लिए भारत की विचित्र परंपराओं की सूची तैयार की है जो आपको हैरान और आश्चर्यचकित कर देंगी-

सिर पर नारियल फोड़ना – Coconuts On The Head In Hindi

अच्छे स्वास्थ्य और सफलता के लिए आप क्या करेंगे? क्या आप एक पुजारी को अपने सिर पर नारियल फोड़ने देंगे? शायद ऩही! लेकिन आश्चर्यजनक रूप से तमिलनाडु के एक दूरदराज के गांव में ऐसा ही होता है*  माना जाता है कि सिर पर नारियल फोड़ने से देवता प्रसन्न होंगे और कस्बों को समृद्धि और कल्याण की ओर ले जाएंगे। चिकित्सा चिकित्सकों से चेतावनी के बावजूद, इस परंपरा का स्थानीय लोगों द्वारा बहुत निष्ठा के साथ पालन किया जाता है।

मेंढक की शादी – Frog wedding In Hindi

आपने भारत में आमतौर में पेड़ से शादी करने वाले लोगों के बारे में सुना होगा लेकिन कभी आपने मेंढक की शादी के बारे में सुना है? अगर नही सुना है तो आप थोड़ा आश्चर्यचकित हो सकते हैं लेकिन यह सत्य है। असम के जोरहाट जिले में पूर्ण विधिविधान के साथ मेढको की आपस में शादी कराई जाती है। असम के जोरहाट जिले के गाँव के लोगों का मानना ​​है कि अगर पारंपरिक हिंदू विवाह में जंगली मेंढकों की शादी की जाती है, तो इससे लंबे समय तक सूखे का अंत होता है और कुछ दिनों के भीतर भारी बारिश होती है। और इन मेढको की  शादी सभी हिंदू विवाह परंपराओं का पालन करती है जो एक पुजारी की उपस्थिति में आयोजित की जाती है।

जलते अंगारों पर चलना – Burning Embers In Hindi

जलते अंगारों पर चलना – Burning Embers In Hindi

तमिलनाडु में लोकप्रिय तिमिथी नामक त्योहार भारत की सबसे विचित्र परम्परायों में से एक है। इस उत्सव में भक्त हिंदू देवी द्रौपती अम्मान का सम्मान करने के लिए जलते हुए कोयला पर नंगे पैर चलकर त्योहार मनाते हैं। यदि आपको लगता है कि भक्त गर्म कोयले में तेजी से चल सकते हैं, तो आप फिर से गलत है! देवी को प्रसन्न करने के लिए, भक्तों को वास्तव में धीमी गति से चलना पड़ता है। जो वास्तव में बहुत खतरनाक और दर्दनाक है।

हवा में लटकना – Hanging In The Air In Hindi

क्या आपने सुना है की लोग अपने पूजनीय देवताओं को प्रसन्न करने के लिए किसी भी लम्बाई पर जा सकते हैं। लेकिन यह सत्य है एक ऐसी ही परंपरा केरला के काली मंदिरों में मनाई जाती है। जहाँ अनुष्ठान में भाग लेने वाले व्यक्ति एक नृत्य करते हैं और फिर अपनी पीठ पर हुक लगाते हैं और काली को प्रसन्न करने के लिए खुद को ईगल की तरह हवा में लटकते हैं!  कभी-कभी ये अनुष्ठान एक विचित्र मोड़ ले सकते हैं।

सिर के बाल उखाड़ना – Self-Induced Hair Fall In Hindi

धार्मिक प्रथाओं अक्सर एक दर्दनाक मोड़ ले सकती हैं। इसी तरह जैन धर्म, एक लोकप्रिय और व्यापक रूप से प्राचीन भारतीय धर्म का पालन करता है, जो सांसारिक सुखों से छुटकारा पाने और एक साधारण जीवन जीने के लिए प्रोत्साहित करता है। जैन धर्म के कट्टर विश्वासियों द्वारा इस  दर्दनाक परंपरा का पालन किया जाता है जहां वे पूरी तरह से गंजे होने तक अपने सिर के एक एक बालों को उखाड़ देते है। जो अत्यंत दर्द और कष्ट से भरा होता है और बाद में घावों को गाय के गोबर से बने एक विशेष उपाय से ठीक किया जाता है।

गरबड़ा एकादशी – Garbada Ekadashi In Hindi

गरबड़ा एकादशी – Garbada Ekadashi In Hindi

गरबड़ा गुजरात का एक शहर है जहाँ गरबड़ा एकादशी के दौरान भारत की सबसे अजीबो गरीब परम्परा को देखा जा सकता है। बता दे यह शहर लोगो की पीठ के उपर से गायों के चलने की परंपरा का घर है। जो कभी कभी अत्यंत दर्दनाक और खतरनाक साबित होता है। चूँकि हिंदू धर्म में गायों को पवित्र माना जाता है। इसलिए माना जाता है कि गायों के आपके ऊपर रौंद कर निकलने से आपकी समस्याएं कम हो जाएंगी। जो बाकई आश्चर्यचकित करने वाली है।

और पढ़े : भारत में मनाये जाने वाले 21 लोकप्रिय त्यौहार

जानवर से शादी – Marriage To Animal In Hindi

चलिये मानते है आपने दो मेढको की आपस में शादी के बारे में सुना होगा, लेकिन क्या आपने कभी एक लड़की की किसी जानवर या कुत्ते से शादी के बारे में सुना है। जो वास्तव में हैरान कर देने वाली है, लेकिन हम आपको बता दे आज भी भारत के कुछ दूरदराज गाँव में ऐसी परम्परायों का पालन किया जा रहा है। गांवों के लोगों का मानना ​​है कि अगर कोई लड़की किसी विकृति के साथ पैदा होती है, और उस पर किसी बाहरी हवा का शाया है। तो इस समस्या से लड़की को बचाने और राक्षसों को खुद से भगाने के लिए एक जानवर से शादी करनी होती है। एक बार ऐसा हो गया, तो वह एक लड़के से शादी करने के लिए स्वतंत्र हो जाती है।

बच्चो को हवां में फेकना – Throwing Children Into The Air In Hindi

हमने आमतौर पर बच्चो को हवा में फेकते हुए उनको खिलाते हुए देखा है। लेकिन क्या कभी आपने इसी चीज की कल्पना की होगी की बच्चो को उपर से नीचे हवा में फेकना भी एक परम्परा का हिस्सा हो सकता हैं। लेकिन यह बिलकुल सही है। यह विवादास्पद उत्सव महाराष्ट्र के सोलापुर में होता है जिसमे माता पिता अपने बच्चो को उपर से नीचे हवा में छोड़ते हैं। यह उत्सव कहनो को खतरनाक है लेकिन ग्रामीणों का कहना है कि यह अनुष्ठान बच्चों को स्वस्थ जीवन का आशीर्वाद देता है। यह अनुष्ठान आम तौर पर उन माता-पिता द्वारा किया जाता है जिन्होंने अपनी गर्भावस्था के लिए बाबा उमर दरगाह पर प्रार्थना की है। लेकिन इन दिनों यह उत्सव किसी एक धर्म से बंधा हुआ नहीं है; यहं मुसलमानों, हिंदुओं और सभी धर्मो के लोगो को देख सकते हैं।

पुली काली महौत्सव – Puli Kali Festival In Hindi

पुली काली महौत्सव – Puli Kali Festival In Hindi

पुली काली महौत्सव भारत की एक अजीबोगरीब परम्परा के रूप में कार्य करता है। यह त्यौहार केरल के त्रिशूर जिले में हर साल मनाया जाता है जहां प्रशिक्षित कलाकार, टाईगर के रूप में तैयार होते हैं, और सडको पर चलते हुए पारंपरिक लोक गीतों पर प्रस्तुति देते हैं। हालाकि यह परम्परा कोई खतरनाक परंपरा नही है लेकिन अभी भी कुछ हद तक विचित्र और मनोरंजक है।

देवताओं का नृत्य – Dance Of The Gods In Hindi

अगर हम आपसे कहें की भगवान इंसान के अन्दर प्रवेश करते है तो शायद आप वैज्ञानिक रूप से यह मानने से इंकार कर देंगे। लेकिन आध्यात्मिक रूप से यह सत्य माना जाता है। केरला में कुछ इसी तरह के एक उत्सव का आयोजन किया जाता है, जहाँ लोगो के अनुसार माना जाता है की ईश्वर व्यक्तियों के शरीर में प्रवेश करते हैं, ढोल की थाप पर नृत्य करते हैं, और आग पर चलते हैं। और भक्तों को आश्रीबाद देते हैं, जहाँ उत्सव के दौरान भक्तो और श्रद्धालुयों की काफी भीड़ देखी जा सकती है।

 बानी महोत्सव खुनी दशहरा – Bani Mahotsav Khuni Dussehra In Hindi

देवारागट्टू मंदिर बानी महोत्सव के लिए प्रसिद्ध है। यह त्योहार निश्चित रूप से भारत का सबसे अजीब और सबसे खूनी दशहरा उत्सव है। जहाँ कर्नाटक और आंध्र प्रदेश के सैकड़ों ग्रामीण इस खतरनाक उत्सव का हिस्सा बनने के लिए कुरनूल में इकट्ठा होते हैं। जहाँ लोग उत्सव में एक दूसरे पर लाठियों से प्रहार करते है, चाहे उससे किसी का सिर फूटे या कुछ भी लेकिन उत्सव नही रोका जाता है। और माना जाता है की कुछ 100 बर्षो पहले यह उत्सव कुल्हाड़ियों और भाले के साथ मनाया जाता था। लेकिन अब यह वर्तमान स्वरूप में सिर्फ लाठी के साथ मनाया जाता है। जबकि पूरा उत्सव दर्शकों को झकझोर कर रख देता है, यह स्थानीय लोगों का “मारने या मारने” का उत्साह है जो हमें आश्चर्यचकित करता है कि हम बुराई पर अच्छाई की जीत का जश्न मनाने के लिए कितना दूर जाते हैं।

और पढ़े : तमिलनाडु राज्य के प्रमुख त्यौहार

केमल फेस्टिवल – Camel festival In Hindi

केमल फेस्टिवल – Camel festival In Hindi

केमल फेस्टिवल नवंबर के महीने में राजस्थान के पुष्कर शहर में मनाया जाता है। इस फेस्टिवल की सबसे विचित्र और रोमंचक बात यह है यह उत्सव 5 दिनों तक चलता है। जिसमे लगभग  50,000 से अधिक ऊँटो को सजाया जाता है और उनकी परेड निकली जाती है। पुष्कर झील के किनारे आयोजित होने वाला यह वार्षिक पांच दिवसीय ऊंट मेला है और यहां पर दुनिया के सबसे बड़े ऊँटों को देखा जा सकता हैं। पशुओ को खरीदने और बेचने के अलावा यहां पर कुछ रोमांचित कर देने वाली पर्तियोगिताएं जैसे – सबसे लंबी मूंछें, मटका फोड़, और दुल्हन प्रतियोगिता जैसी विभिन्न प्रतियोगिताएं भी आयोजित होती हैं।

लठ मार होली – Lathi Holi In Hindi

लठ मार होली – Lathi Holi In Hindi

जैसा की हम जानते है होली पूरे भारत देश में धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है। लेकिन क्या आप जानते है होली वनारस शहर में कुछ अलग ही ढंग से मनाई जाती हैं। जिसे लठ मार होली के नाम से जाना जाता है और इसके  नाम से ही अंदाजा लगाया जा सकता है की यह होली किस तरह की होगी। लठ मार होली में महिलाये पुरुषो को लठ से मरती है जबकि पुरुष ढाल से अपने आपको बचाते हैं। और इसी कारण इसे एक विचित्र परम्परायों का हिस्सा माना गया है।

और पढ़े :

Leave a Comment