गोवा में बिलकुल अलग तरीके से मनाई जाती है दिवाली, राम के आने का नहीं मनाते जश्न

Diwali In Goa In Hindi, दिवाली एक ऐसा त्यौहार है जिसे पूरे देश में रोशनी के साथ धूम-धाम से मनाया जाता है। दिवाली का त्योहार इसलिए बेहद खास होता है क्योंकि इस दिन भगवान राम 14 साल के वनवास के बाद अयोध्या लौटे थे। बता दें कि उस समय राज्य के लोगों ने इस त्योहार को मिटटी के दिए जलाकर बनाया था। इस त्योहर का इतना महत्व है कि आज भी इसे पूरे देश में बहुत ही धूम धाम के साथ दिए जलाकर और पटाखे फोड़कर मनाया जाता है। पूरे देश में इस दिन लक्ष्मी जी की पूजा की जाती हैं। लेकिन बता दें कि भारत के राज्य गोवा में दिवाली के त्योहार एक अनोखे तरीके से मनाया जाता है जिसके बारे में हम आपको बताने जा रहें हैं। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि गोवा में दिवाली किसी अलग वजह से मनाई जाती है। गोवा भारत का एक ऐसा राज्य है जहाँ की संस्कृति काफी समृद्ध है और यहां दिवाली मानाने का जो कारण है उसे जानकर आप सच में हैरान रह जाने वाले हैं।

गोवा भारत की ऐसी जगह जहाँ पर काफी समय तक पुर्तगाली रहे हैं लेकिन इसके बाद भी यहां पर हिंदू धर्म और इसके देवी देवताओं का प्रभाव देखने को मिलता है। आपको बता दें कि इस राज्य में दिवाली का पवित्र त्योहार नर्क चतुर्दशी के दिन मनाया जा है। जहां एक तरफ पूरे भारत में दिवाली भगवान राम के अयोध्या वापस आने के उत्सव के रूप में मनाई जाती है लेकिन गोवा में दिवाली एक अलग ही कारण से मनाई जाती है।

1. गोवा की दिवाली कैसे अलग हैं – Goa Ki Diwali Kaise Alag Hai?

आपको बता दें कि गोवा में नर्क चतुर्दशी के दिन मनाई जाने वाली दिवाली को छोटी दिवाली भी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु के अवतार कृष्ण ने राक्षस नरकासुर का वध किया था। कहा जाता है कि नरकासुर ने यहाँ रहने वाले लोगों को बहुत परेशान कर दिया था जिसके बाद यहां के लोगों ने भगवान श्रीकृष्ण से मदद मांगी थी। जिसके बाद कृष्ण जी ने राक्षस नरकासुर से युद्ध लड़ा था और उसका वध कर दिया।

और पढ़े:  गोवा का कल्चर और संस्कृति 

2. गोवा में दीपावली क्यों मानते हैं? – Goa Mein Diwali Kyon Manate Hain?

पौराणिक कथा की माने तो प्राचीन काल में नरकासुर ने गोवा पर शासन किया था, यहां लड़कियों का अपहरण किया और गांवों को आतंकित किया। इसके बाद यहां लोगों ने मदद के लिए भगवान कृष्ण से प्रार्थना की। जिसके बाद कृष्ण ने अपने सुदर्शन चक्र से राक्षस का सिर और उसकी जीभ काट दी, इसके बाद लोगों को उसके आतंक से मुक्ति मिली। नरकासुर के मारे जाने पर यहां के गाँव में शांति लौट आई, जिसे यहां के लोगों ने दीप जलाकर मनाया।

और पढ़े: गोवा का लोकप्रिय त्योहार

3. गोवा में दिवाली के दिन नरकासुर का किया जाता है दहन

गोवा में दिवाली का त्योहार बहुत ही धूम धाम के साथ मनाया जाता है। बता दें कि जिस तरह पूरे भारत में दशहरे पर रावण का पुतला बना कर उसका दहन किया जाता है और इसे बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है। उसी तरह गोवा में दिवाली के दिन नरकासुर का पुतला बनाया जाता है जिसमें पेपर, पटाखे और घास का इस्तेमाल करते हैं। इसके बाद इस पुतले को यहां की सड़कों और गलियों में घुमाया जाता है और यहां के लोग नरकासुर के पुतले को किसी मैदान में ले जाकर दहन कर देते हैं। गोवा की दिवाली की सबसे अजीब बात यह है कि यहां पर लोग नरकासुर का दहन करने के बाद अपने आप को पवित्र करने के लिए शरीर पर तेल का लेप लगाते हैं।

और पढ़े: गोवा की होली कैसे मनाई जाती हैं और क्यों खास है 

4. गोवा में दिवाली कैसे मानते हैं – Goa Me Diwali Kaise Manaate Hain?

गोवा में दिवाली पर नरकासुर का दहन करने के बाद लोग अपने शरीर पर चंदन, सुगंधित तेल और अन्य सुगंधित सामग्रियों का लेप अपने शरीर पर लागते हैं जिसे उटनम कहते हैं। इसके बाद यहां के लोग माता लक्ष्मी की पूजा करते हैं और मंदिर में दर्शन करने जाते हैं और इस त्योहार पर लोग एक दूसरे को मिठाई भी बांटते हैं। आपको बता दें कि गोवा में दिवाली के दिन हर जगह सजावट की जाती है और लोग इस खुशी के अवसर पर पटाखे भी फोड़ते हैं।

जिस तरह गोवा में दीपावली को मनाया जाता है उसे जानकर हर कोई हैरान रह जाने वाला है। इस लेख को पढ़ने के बाद आप गोवा को एक अच्छे पर्यटन स्थल के साथ ही यहां की दिवाली के लिए भी जानेगे। अगर आप गोवा की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं तो गोवा में अलग तरीके से मनाई जाने वाली दिवाली में आपको जरुर शामिल होना चाहिए।

और पढ़े: गोवा के 10 प्रसिद्ध जायके जिनका आपको स्वाद एक बार जरुर लेना चाहिए

5. गोवा में दिवाली की फोटो – Diwali In Goa Images

https://www.instagram.com/p/BMGfPnKDVVd/?utm_source=ig_web_button_share_sheet

और पढ़े:

Leave a Comment