तमिलनाडु राज्य के प्रमुख त्यौहार – Festivals Of Tamil Nadu In Hindi

Festival Of Tamil Nadu In Hindi, तमिलनाडु की भूमि को त्योहारों की भूमि के नाम से जाना जाता हैं। तमिलनाडु के प्रमुख त्यौहार राज्य की संस्कृति, परम्पराओं और रीति-रिवाजो से अवगत कराते है। बता दें कि तमिलनाडु एक धार्मिक राज्य हैं जोकि अपने त्योहारों का स्वागत बहुत ही धूमधाम से करता हैं। तमिल संस्कृति और जातीयता का प्रतिबिम्ब यहाँ के त्योहारों में देखा जा सकता हैं। तमिलनाडु के प्रमुख त्यौहार में कुछ खेती से सम्बंधित हैं जोकि फसलो बुआई और कटाई के अवसर पर मनाए जाते हैं। हम इस लेख के माध्यम से आपको तमिलनाडु राज्य के प्रमुख त्योहारों के बारे में बताने जा रहे हैं, जानने के लिए लेख को पूरा जरूर पढ़े।

Table of Contents

तमिलनाडु का सबसे खुबसूरत त्यौहार नाट्यंजलि नृत्य महोत्सव – Tamil Nadu Ka Sabse Khubsurat Tyohar Natyanjali Dance Festival In Hindi

तमिलनाडु का सबसे खुबसूरत त्यौहार नाट्यंजलि नृत्य महोत्सव

नाट्यंजलि नृत्य महोत्सव तमिलनाडु राज्य का खूबसूरत त्यौहार हैं जोकि नाट्य और नृत्य दो शब्दों से मिलकर बना हैं। इसमें नाट्य का अर्थ नृत्य और अंजलि अर्थ मिलना (भेंट) होता हैं। इस त्यौहार का आयोजन भगवान नटराज को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए किया जाता हैं। इस त्यौहार का आयोजन चिदंबरम में नटराज मंदिर में किया जाता हैं। बता दें कि शुरुआत महाशिवरात्री के दिन होती हैं और यह त्यौहार पांच दिन का होता हैं। नाट्यंजलि नृत्य महोत्सव में देश भर से लगभग 300-400 नर्तक अपनी नृत्य कला का प्रदर्शन करते हैं। जिसमे विशेष रूप से भरतनाट्यम, कथक, कुचिपुड़ी, मोहिनीअट्टम आदि शामिल हैं।

और पढ़े: गोवा का लोकप्रिय त्योहार 

तमिलनाडु का सबसे लोकप्रिय त्यौहार तमिल नव वर्ष दिवस – Most Popular Festival Tamil New Year’s Day In Hindi

तमिलनाडु राज्य में नव वर्ष का त्यौहार शानदार ढंग से मनाया जाता हैं और यह त्यौहार पुथंडु के रूप में जाना जाता है। तमिलनाडु में न्यू ईयर का सेलिब्रेसन तमिल कैलेंडर के पहले महीने (अप्रैल) के मध्य में किया जाता हैं। इस दिन यहाँ कि महिलाए आकर्षित रंगोली से अपने घर के द्वार को सजाती हैं। नववर्ष के अवसर पर लोग नए नए वस्त्र पहनते हैं और स्वादिष्ट व्यंजन खाते हैं। इस दिन का सबसे ख़ास पकवान माँगा पचादी हैं जोकि गुड, आम और नीम के फूलो से बनाया जाता हैं।

थिपुसुम त्यौहार तमिलनाडु का प्रमुख त्यौहार – Tamil Nadu Ka Pramukh Tyohar Thaipusam Festival In Hindi

थिपुसुम त्यौहार तमिलनाडु का प्रमुख त्यौहार

थिपुसुम त्यौहार तमिलनाडु राज्य का एक प्रमुख त्यौहार है जोकि भगवान शिव के छोटे पुत्र के सुब्रमण्य के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता हैं। तमिल कैलेंडर के अनुसार थाई महीने की पूर्णिमा के दिन इस त्यौहार का आयोजन किया जाता हैं। साल 2020 में थिपुसुम त्यौहार 8 फरवरी (Thaipusam 2020 Date In Tamilnadu) को मनाया जाएगा। यह दिन भक्तो के लिए तपस्या के दिन के रूप में जाना जाता हैं और भक्त यहाँ कबाड़ लेकर आते है। साथ ही कुछ भक्त अपने शरीर को नुकीली वस्तुओं से छेद लेते हैं कहते हैं कि भगवान की महिमा कुछ ऐसी होती हैं कि उन्हें कोई दर्द महसूस नही होता हैं और न ही खून निकलता हैं। यहाँ कि सबसे कठिन अग्नि कावड़ी जिसमे भक्तो को अंगारों से होकर गुजरना होता हैं और भालू मंदिर में पहुंचते हैं।

तमिलनाडु का प्रसिद्ध महोत्सव महामहम महोत्सव – Tamil Nadu Me Famous Festival Mahamaham Festival In Hindi

तमिलनाडु का प्रसिद्ध महोत्सव महामहम महोत्सव

तमिलनाडु राज्य के प्रमुख त्योहारों में शामिल महामहम महोत्सव हिन्दू धर्म से सम्बंधित हैं। जोकि राज्य में 12 वर्षो के अन्तराल आयोजित किया जाता हैं। महामहम महोत्सव का आयोजन तमिलनाडु राज्य के कुंभकोणम नामक एक छोटे से शहर में किया जाता हैं। बता दें कि त्यौहार के अवसर पर लोग प्रसिद्ध ‘महामहाम टैंक’ में डुबकी लगाना पवित्र मानते हैं। यह टैंक लगभग 6 एकड़ से अभी अधिक क्षेत्र में बना हुआ हैं और मंदिर, कुओं आदि से घिरा हुआ हैं। यहाँ स्थित 20 कुओं में डुबकी लगाने के बाद भक्त कुंभेश्वर मंदिर की यात्रा पर निकलते हैं।

तमिलनाडु के फेमस फेस्टिवल थिरुवयारु फेस्टिवल – Thiruvaiyaru Festival Of Tamil Nadu In Hindi

थिरुवयारु फेस्टिवल तमिलनाडु राज्य के तंजावुर जिले के एक शहर थिरुवयारु में प्रति वर्ष जनवरी माह में पुष्य बहुला पंचमी पर मनाया जाता है। बता दें कि यह त्यौहार प्रसिद्ध संगीतकार और संत त्यागराज के सम्मान में आयोजित किया जाता हैं।

तमिलनाडु राज्य का मुख्य त्योहार कार्तिगई दीपम त्यौहार – Tamil Nadu Ka Tyohar Karthigai Deepam Festival In Hindi

तमिलनाडु राज्य का मुख्य त्योहार कार्तिगई दीपम त्यौहार

कार्तिगई दीपम तमिलनाडु राज्य का एक प्रमुख त्यौहार हैं जोकि लाइट्स के त्योहार के नाम से भी जाना जाता हैं। इस त्यौहार का आयोजन नवम्बर से दिसंबर के बीच चंद्रमा को नक्षत्र कार्तिगई के साथ जुड़ने के लिए किया जाता हैं। तमिलनाडु राज्य में मनाया जाने वाले इस त्यौहार को मुख्य उद्देश्य जीवन से बुराइयों को दूर करना और अच्छाई का दामन थामना हैं। त्यौहार के अवसर पर लोग मिठाइयाँ बांटते हैं और नए वस्त्र धारण करते हैं।

और पढ़े: भारत के राज्यों में मनाये जाने वाले प्रमुख त्योहारों की जानकारी 

तमिलनाडु का सबसे मशहूर फेस्टिवल जल्लीकट्टू बुल फेस्टिवल – Most Popular Festival In Tamil Nadu Jallikattu Bull Festival In Hindi

तमिलनाडु का सबसे मशहूर फेस्टिवल जल्लीकट्टू बुल फेस्टिवल

जल्लीकट्टू बुल फेस्टिवल तमिलनाडु राज्य के परंपरा और संस्कृति को उजागर करता हैं। जल्लीकट्टू बुल त्यौहार का आयोजन पोंगल फेस्टिवल के तीसरे दिन किया जाता हैं। जल्लीकट्टू तमिलनाडु राज्य के गांवों में खेला जाने वाला एक पारंपरिक खेल है जोकि बैल के कूबड़ या सींगों पर बैठ कर उसे नियंत्रित करने जैसी गतिविधियों के लिए जाना जाता हैं। बता दें कि तमिलनाडु राज्य के इस त्यौहार को देखने के लिए दुनियाभर से पर्यटक आते हैं।

तमिलनाडु में मनाये जाने त्यौहार विनायक चतुर्थी फेस्टिवल – Vinayaka Chaturthi Famous Festival Of Tamil Nadu In Hindi

तमिलनाडु में मनाये जाने त्यौहार विनायक चतुर्थी फेस्टिवल

विनायक चतुर्थी महोत्सव का आयोजन अगस्त से सितम्बर माह के दौरान किया जाता हैं। तमिलनाडु राज्य के लोग भगवान गणेश के स्वागत में गणेश चतुर्थी फेस्टिवल को धूमधाम से मनाते हैं। गणेश चतुर्थी का त्यौहार 11 दिन तक चलता है जिसमे भगवान गणेश की कई प्रतिमाओं के दर्शन जगह जगह पर कर सकते हैं।

तमिलनाडु राज्य का लोकप्रिय त्यौहार नवरात्रि महोत्सव – Navratri Festival In Tamil Nadu In Hindi

तमिलनाडु राज्य का लोकप्रिय त्यौहार नवरात्रि महोत्सव

नवरात्रि का त्यौहार न केवल दक्षिण भारत में बल्कि पूरे भारत में धूमधाम से मनाए जाने वाले त्योहारों में से एक हैं। यह देवी दुर्गा के नवरूपो के लिए जाना जाता हैं। तमिलनाडु राज्य में नवरात्री के त्यौहार का एक अलग ही महत्व हैं, नवरात्री का त्यौहार तमिलनाडु के सबसे प्राचीन पारंपरिक त्योहारों में से एक हैं। नवरात्रि में 9 दिन तक देवी की पूजा अर्चना की जाती हैं और उपवास रखा जाता हैं। देवी की आकर्षित मूर्तियों का दर्शन करना एक सुखद अनुभव होता हैं।

तमिलनाडु का प्रमुख त्यौहार दिवाली – Tamil Nadu Ka Pramukh Tyohar Diwali Festival In Hindi

तमिलनाडु का प्रमुख त्यौहार दिवाली

दीपावली का त्यौहार तमिलनाडु में मनाया जाने वाला एक प्रमुख त्यौहार हैं जोकि नरक चतुर्दशी को मनाया जाता हैं। इस त्यौहार से पहले लोग अपने घरो की साफ सफाई करते हैं, घरो को अच्छे से सजाते हैं और दीपक से रोशन करते हैं। दीपावली का 5 दिवसीय त्यौहार दूसरे दिन विशेष रूप से पूजनीय है। बता दें कि दक्षिण भारतीय राज्य उत्तर भारतीयों से एक दिन पहले दीवाली का त्यौहार मनाते है। दीपावली फेस्टिवल के अनुष्ठान में पूजा के लिए सुपारी, फल, फूल, गिंगेली का तेल, कुमकुम, चंदन का पेस्ट, हल्दी और सुगंधित पाउडर आदि रखा जाता है।

और पढ़े: गोवा में बिलकुल अलग तरीके से मनाई जाती है दिवाली, राम के आने का नहीं मनाते जश्न

तमिलनाडु का मुख्य त्योहार सरस्वती पूजा फेस्टिवल – Saraswati Puja Festival Celebration In Tamil Nadu In Hindi

तमिलनाडु का मुख्य त्योहार सरस्वती पूजा फेस्टिवल

तमिलनाडु राज्य में मनाए जाने वाला सरस्वती पूजा फेस्टिवल नवरात्री के नौवे दें बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता हैं। सरस्वती पूजा फेस्टिवल न केवल बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक हैं बल्कि उपासना का सही अर्थ भी बताता हैं। इस दिन कला, ज्ञान और साहित्य की देवी सरस्वती जी की पूजा अर्चना की जाती हैं।

चित्रि राय महोत्सव तमिलनाडु का प्रमुख महोत्सव – Chitri Rai Festival Tamil Nadu In Hindi

चितरी राय महोत्सव तमिलनाडु राज्य के प्रसिद्ध त्योहारों में से एक हैं। इस त्यौहार का आयोजन अप्रैल महीने में दक्षिण भारत के लोकप्रिय पर्यटन स्थल मदुरे मिनाक्षी मंदिर में किया जाता हैं। यह मंदिर भगवान शिव (भगवान सुंदरेश्वर) और देवी मिनाक्षी को समर्पित हैं। चित्रि राय त्योहार पाच दिवसीय हैं जोकि भगवान सुन्दरेश्वर और देवी मीनाक्षी के प्रेम का प्रतीक हैं। तमिलनाडु वासी इस त्यौहार को बहुत ही धूमधाम से मनाते हैं।

तमिलनाडु राज्य का प्रसिद्ध पोंगल त्यौहार – Tamil Nadu Ka Prasidh Festival Pongal Festival In Hindi

तमिलनाडु राज्य का प्रसिद्ध पोंगल त्यौहार

तमिलनाडु राज्य का प्रमुख त्यौहार पोंगल तमिलनाडु के लोगों द्वारा बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता हैं। पोंगल फेस्टिवल 4 दिन की अवधि के लिए होता हैं और खासकर प्रत्येक वर्ष 13 जनवरी से 16 जनवरी के बीच मनाया जाता है। कृषि और उर्जा के लिए पोंगल त्यौहार पर सूर्य देव की पूजा की जाती हैं। सूर्य देव को धन्यवाद देने के लिए पोंगल त्यौहार के अवसर पर तमिलनाडु राज्य के लोग चावल बनाते हैं। पोंगल त्यौहार से एक महीने पहले यहाँ कि महिलाएं चावल और रंगीन पाउडर के साथ घरो के द्वारो पर रंगोली बनाती और घरो को सजाती हैं। बता दें कि माह को मार्गाली कहा जाता है।

पोंगल त्यौहार का पहला दिन :

पोंगल त्यौहार का पहला दिन देवराज इंद्र को समर्पित किया जाता हैं क्योंकि वह फसलो के लिए वर्षा करते हैं जिससे फसले अच्छी पैदा होती हैं। इस दिन तमिलनाडु के लोग कुछ पुरानी चीजो से छुटकारा पा कर कुछ नया करना चाहते हैं। त्यौहार के मुख्य आकर्षण में भैंसों के सींग चित्रित करना प्रमुख हैं।

पोंगल त्यौहार का दूसरा दिन :

पोंगल फेस्टिवल के दूसरे दिन को थाई पोंगल कहा जाता है और पोंगल त्यौहार मुख्य दिन यही होता हैं। बता दें कि थाई तमिल कैलेंडर में 10 वां महीना माना जाता है। त्यौहार के दूसरे दिन पति पत्नी जोड़े से पूजा करते हैं और सभी लोग पारंपरिक वस्त्र पहनते हैं। साथ ही प्रसाद के रूप में नारियल और गन्ने का उपयोग किया जाता हैं।

पोंगल त्यौहार का तीसरा दिन :

पोंगल त्यौहार के तीसरे दिन को मट्टू पोंगल कहा जाता हैं। बता दें कि त्योहार का तीसरा दिन मुख्य रूप से गायों के लिए मनाया जाता है। इस दिन गाय को मोतियों, घंटियों और फूलों से अच्छी तरह से सजाया जाता हैं। गाय की पूजा की जाती हैं और पोंगल के साथ अन्य व्यंजन खिलाए जाते हैं। गाय को गाँव के आसपास घुमाया जाता हैं जिससे सभी लोग उनके साथ शामिल हो सके।

पोंगल त्यौहार का चौथा दिन :

पोंगल त्यौहार के अंतिम दिन कन्नुम पोंगल दिवस के नाम से जाना जाता हैं। इस दिन लोग परिवार की सुख समृधि की प्रार्थना करते हैं और अपने परिवार से मिलते हैं, साथ एक दूसरे को कुछ उपहारों का आदान प्रदान भी करते हैं।

और पढ़े:

Leave a Comment