Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Monsoon Tourist Places In India In Hindi, बारिश का मौसम साल का ऐसा समय होता है, जिसमें बहुत से लोग अपने घर पर ही रहना पसंद करते हैं और गंदगी व कीचड़ से बचना चाहते हैं। वहीँ दूसरी तरफ कुछ ऐसे लोग भी होने हैं जो बारिश के मौसम में घूमना बेहद पसंद करते हैं, क्योंकि इस मौसम में प्राकृतिक स्थल बहुत सुंदर और आकर्षक हो जाते हैं। अगर आप दुनिया के प्राकृतिक सौंदर्य आनंद लेना चाहते हैं तो इसके लिए बरसात का मौसम सबसे अच्छा होता है। इस मौसम ऑफबीट जगहों पर घूमकर प्रकृति के नजारों का आनंद लिया जा सकता है। अगर आप भी बारिश में घूमने का मजा लेना चाहते हैं तो इस लेख को जरुर पढ़ें, यहां हम आपको भारत में बारिश के मौसम में घूमने की उन जगहों के बारे में बता रहे हैं, जहां आप आने वाले मानसून में घूम कर मजा ले सकते हैं।

भारत में बरसात के मौसम में घूमने लायक स्थान – Places To Visit In Monsoon Season In India In Hindi

बारिश के मौसम में नदिया, झरने, और प्राकृतिक स्थल आपको एक खूबसूरत दृश प्रदान करते है जो की अपने आप में एक अद्भुत नज़ारा होता है।

1. दार्जिलिंग – Darjeeling In Hindi

दार्जिलिंग

जब बारिश में घूमने की अच्छी जगहों की बात आती है तो दार्जिलिंग का नाम जरुर आता है। वैसे तो दार्जिलिंग भारत का एक बेहद सुंदर और प्राकृतिक पर्यटन हैं जो अपने चाय के बागानों, हरे भरे पहाड़ों और अपनी सुंदरता के लिए जाना जाता है, लेकिन बारिश के मौसम में दार्जिलिंग की यात्रा करना सच में बेहद खास अनुभव होता है। मानसून के दौरान यह जगह और भी ज्यादा हरी-भरी और खूबसूरत हो जाती है। दार्जिलिंग अपनी टॉय ट्रेन के लिए काफी प्रसिद्ध हैं। इस ट्रेन में यात्रा करना पर्यटकों को एक खास अनुभव देता है। आपको बता दें कि इस टॉय ट्रेन को यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहरों की सूची में भी जगह दी गई है।

भारत में बारिश में घूमने के लिए कौन जा सकता है दार्जिलिंग:

प्रकृति प्रेमी, हनीमून मानाने वाले, परिवार वाले

बारिश में दार्जिलिंग यात्रा में घूमने की जगह:

चाय बागान की यात्रा, मठ की यात्रा, टॉय ट्रेन की सवारी, खरीदारी।

भारत के दार्जिलिंग शहर के प्रमुख आकर्षण स्थल:

बटेसिया लूप, शांति पैगोडा, टाइगर हिल, जापानी मंदिर, रॉक गार्डन आदि।

दार्जिलिंग में मॉनसून का समय (जून – सितंबर)

दार्जिलिंग में भारी बारिश कुछ पर्यटक गतिविधियों को रोक देती है – इस दौरान टॉय ट्रेन और केबल कार की सवारी को अस्थायी रूप से निलंबित किया जा सकता है, लेकिन शहर में बारिश का मौसम सुहावना लगता है। यदि आप दर्शनीय स्थलों और आकर्षक दृश्यों के यात्रा कर रहें हैं, तो दार्जिलिंग मानसून में बहुत आकर्षक है।

और पढ़े: दार्जिलिंग टूरिज्म के बारे में संपूर्ण जानकारी

2. कर्नाटक – Karnataka In Hindi

कर्नाटक

अगर आप मानसून का पूरा मजा लेना चाहते हैं तो कर्नाटक एक बहुत अच्छी जगह है। दक्षिण भारत में स्थित कर्नाटक में जुलाई-अगस्त के महीने में पर्यटकों की भीड़ उमड़ पड़ती है। आपको बता दें कि यहां के पहाड़ और घाटियाँ कई झरनों का घर है, यह झरने बरसात के मौसम में बेहद खूबसूरत दिखाई देते हैं, जो भारी मात्र में पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करते हैं। बारिश के मौसम में यह जगह बिलकुल स्वर्ग के सामान दिखाई देती है। बता दें कि यहां एक सनसेट पॉइंट भी है जहां से अरब सागर का साफ दृश्य नजर आता है।

कौन कौन जा सकता है मानसून में कर्नाटक घूमने:

प्रकृति प्रेमी, हनीमून मानाने वाले

बारिश के मौसम में कर्नाटक में कहा घूमे:

सनसेट पॉइंट, झरने।

कर्नाटक में प्रमुख आकर्षण स्थल:

मैसूर पैलेस, बैंगलोर पैलेस, विठला मंदिर, विरुपाक्ष मंदिर हम्पी आदि।

कर्नाटक में मानसून सीजन (जुलाई – सितंबर)

कर्नाटक में हर साल जुलाई से सितंबर तक मानसून का मौसम रहता है, इस दौरान क्षेत्र के आधार पर तापमान में 28 डिग्री सेल्सियस के आसपास होता है।

और पढ़े: बैंगलोर में घूमने वाली जगहें 

3. कौसानी – Kausani In Hindi

कौसानी

कौसानी उत्तराखंड राज्य में स्थित एक छोटा सा गाँव है जो अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए जाना जाता है। बारिश में मौसम में यह जगह काफी खूबसूरत हो जाती है क्योंकि इस मौसम में यहां पर बादल घरों के ऊपर तक आ जाते हैं और यह गाँव एकदम स्वर्ग के सामान नजर आता है। जैसे ही बारिश का मौसम शुरू होता है तो यहां का वातावरण बेहद आकर्षक हो जाता है। अगर आप बारिश के घूमने की कोई अच्छी जगह तलाश रहें हैं तो एक बार कौसानी की यात्रा जरुर करें।

मानसून सीजन में कौन जा सकता है कौसानी घूमने:

प्रकृति प्रेमी

बारिश में कौसानी की यात्रा में क्या करे:

ट्रेकिंग, दर्शनीय स्थल की सैर

कौसानी में प्रमुख पर्यटन और आकर्षण स्थल:

गांधी आश्रम, रुद्रधारी फाल्स और गुफाएं, चाय के बागान, अनासक्ति आश्रम, नाशपाती फार्म, बैजनाथ मंदिर आदि।

कौसानी में मानसून (जून-अगस्त)

मानसून सीजन को कौसानी की यात्रा के लिए ऑफ सीजन माना जाता है। यह जून में शुरू होता है और सितंबर तक चलता है। इस स्थान पर मध्यम मात्रा में वर्षा होती है जो इसे हरे-भरे स्वर्ग में बदल देती है।

और पढ़े: कौसानी के 5 प्रमुख दर्शनीय स्थल

4. पंचगनी – Panchgani In Hindi

पंचगनी

पंचगनी भारत के महारष्ट्र में घूमने की सबसे अच्छी जगहों में से एक है। वैसे तो आप पंचगनी की यात्रा साल के किसी भी महीने में कर सकते हैं लेकिन बारिश के मौसम में यह जगह और भी ज्यादा खूबसूरत हो जाती है। पंचगनी 1334 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है, जब पर्यटक मानसून के मौसम में इस जगह की यात्रा करते हैं तो यह जगह तरफ हरी भरी दिखाई देती है। प्रकृति प्रेमी और पर्यटकों के लिए पंचगनी स्वर्ग के समान है। बरसात के मौसम में पंचगनी की यात्रा करना आपको एक अदभुद अनुभव प्रदान करेगा।

कौन जा सकता है बारिश में घूमने के लिए अच्छी जगह पंचगनी:

प्रकृति प्रेमी

पंचगनी में बारिश के मौसम में क्या करना चाहिए:

ट्रेकिंग, दर्शनीय स्थल की सैर

पंचगनी में मानसून (जुलाई – सितंबर)

पंचगनी, हिल स्टेशन और मानसून प्रेमियों के लिए एक बहुत खास जगह है। यहाँ तेज गर्मी के बाद, जुलाई में बारिश होती है जिसके परिणामस्वरूप तापमान में भारी गिरावट होती है। मानसून का मौसम इस क्षेत्र में वनस्पतियों की भरपाई करता है, जिससे वातावरण में शुष्कता आती है और शुष्क इलाके, हरे-भरे परिदृश्य में बदल जाते हैं।

और पढ़े: पंचगनी के बारे में जानकारी और घूमने की टॉप 10 जगह

5. लोनावला – Lonavala In Hindi

लोनावला

अगर आप मुंबई के पास या महाराष्ट्र में रहते हैं तो बारिश के मौसम में घूमने के लिए लोनावला से अच्छी जगह और कोई नहीं हो सकती। लोनावला के पास गर्मियों में मौसम बदलता रहता है लेकिन बारिश के मौसम में यहां का वातावरण अदभुद होता है। यहां घूमने का जो मजा बारिश के मौसम में आता है वो और किसी मौसम में नहीं आता। बरसात के मौसम में यहां पर पर्यटकों की सबसे ज्यादा भीड़ दिखाई देती है। यहां हरियाली के बीच बारिश का मजा लेना पर्यटकों के लिए यादगार साबित हो सकता है।

मानसून के मौसम में लोनावला यात्रा पर कौन जा सकता है:

प्रकृति प्रेमी

लोनावला ट्रिप पर क्या क्या कर सकते है:

ट्रेकिंग, दर्शनीय स्थल, शिविर, घुड़सवारी।

लोनावला के आकर्षण स्थल:

भजा गुफाएं, बुशी बांध, कराला गुफाएं, राजमाची किला, रायवुड झील।

लोनावाला में मानसून का समय (जुलाई – सितंबर)

यदि आप मानसून के दौरान यात्रा करने की योजना बना रहे हैं, तो आप कपड़े बदलने के लिए एक दो जोड़ी कपड़ें और रेन जैकेट्स जरुर लेकर जाए और बारिश में यहाँ झरनों में मस्ती करने के लिए तैयार हो जाएं।

और पढ़े: पुणे में घूमने की 10 सबसे अच्छी जगह

6. कोडाइकनाल तमिलनाडु – Kodaikanal In Hindi

कोडाइकनाल तमिलनाडु

कोडाइकनाल तमिलनाडु में बरसात के मौसम में यात्रा के लिए एक बहुत अच्छी जगह है। आपको बता दें कि कोडाइकनाल एक पर्वतीय क्षेत्र है जो बिलकुल हरा भरा है। मानसून के दौरान यहां चारों तरफ हरियाली काफी बढ़ जाती है और मौसम बेहद सुहावना हो जाता है। अगर आप बारिश के मौसम में कही घूमने की योजना बना रहें हैं और अपनी यात्रा का पूरा मजा लेना चाहते हैं तो कोडाइकनाल की यात्रा अवश्य करें।

भारत में बारिश के मौसम में तमिलनाडु के कोडाइकनाल घूमने कौन जा सकता है:

प्रकृति प्रेमी

तमिलनाडु के कोडाइकनाल की यात्रा पर कहा घूमे:

ट्रेकिंग पर जा सकते है, दर्शनीय स्थल की सैर, बोटिंग

कोडाइकनाल में प्रमुख आकर्षण स्थल:

कोदई झील, पिलर रॉक, डेविल्स किचन, कोकर्स वॉक

मानसून सीजन में कोडाइकनाल (जून-सितंबर)

कोडाइकनाल में मानसून के मौसम के दौरान औसतन वर्षा होती है। मानसून में जगह चारों ओर ताज़ी हरियाली के साथ यह जगह एक नया रूप ले लेती है और पर्यटकों के लिए स्वर्ग बन जाती है।

और पढ़े: ऊटी के पर्यटन स्थलों के बारे में जानकारी 

7. मुन्नार केरल – Munnar Kerala In Hindi

मुन्नार केरल

अगर आप मानसून के मौसम कोई खूबसूरत जगह जाना चाहते हैं तो केरल के इद्दुकी जिले में स्थित मुन्नार से अच्छी जगह आपके लिए और कोई नहीं हो सकती। आपको बता दें कि मुन्नार समुद्री स्तर से 1600 फिट की उंचाई पर स्थित एक बेहद आकर्षक और मन को लुभाने वाला हिल स्टेशन है जिसके आसपास के नजारे दिल को खुश कर देते हैं। मानसून के मौसम में मुन्नार और भी ज्यादा खूबसूरत हो जाता है और यहां चारों तरफ का हरा-भरा वातावरण पर्यटकों की आँखों को एक अदभुद सुकून देता है। आपको बता दें कि मुन्नार में तीन नदियां मधुरपुजहा, नल्‍लाथन्‍नी और कुंडाली एक ही स्थान पर मिलती हैं।

मानसून सीजन में कौन जा सकता है मुन्नार घूमने:

प्रकृति प्रेमी, हनीमून मनाने वाले

मुन्नार ट्रिप पर क्या क्या घूम सकते है:

वृक्षारोपण पर्यटन, दर्शनीय स्थल, पक्षी विहार

मुन्नार में प्रमुख दर्शनीय और आकर्षण स्थल:

मधुरपुजहा, नल्‍लाथन्‍नी और कुंडाली नदी।

मुन्नार में मानसून (जुलाई – नवंबर)

मुन्नार में बारिश आने से बहुत से लोग बचते हैं क्योंकि बारिश से शहर के आसपास के दर्शनीय स्थलों की यात्रा बाधित हो सकती है। लेकिन आपको बता दें कि मुन्नार की यात्रा के लिए मानसून का मसुं एक अच्छा समय है।

और पढ़े: केरल में घूमने की जगह की जानकारी

8. चेरापुंजी – Cherrapunji In Hindi

चेरापुंजी

चेरापुंजी भारत के राज्य मेघालय का एक शहर है। आपको बता दे चेरापूंजी बारिश का मजा लेने के लिए एक बहुत अच्छी जगह है। यह एक ऐसा स्थान है जहां पर साल भर बारिश होती है, अगर आप बारिश के मौसम का मजा लेना चाहते हैं तो आपको यहां की यात्रा जरुर करना चाहिए। चेरापूंजी शिलांग से 53 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां पर एक नोहकालीकाई झरना स्थित है जिसे आपको अपनी यात्रा के दौरान देखने के लिए जरुर जाना चाहिए।

बारिश के मौसम में कौन जा सकता है चेरापुंजी:

हनीमूनर्स, प्रकृति प्रेमी, वन्यजीव उत्साही

चेरापुंजी में करने के लिए चीजें:

ट्रैकिंग, नौका विहार, दर्शनीय स्थलों की सैर

चेरापुंजी में प्रमुख आकर्षण:

नोहकलिकाई फाल्स, मवस्माई गुफा, लिविंग रूट ब्रिज, मवडोक दंपप घाटी, सेवन सिस्टर फाल्स आदि।

चेरापूंजी में मानसून (जून – सितंबर)

सितंबर से मई तक आपको चेरापूंजी में अच्छी सुविधा उपलब्ध होती हैं। जून में यहाँ सबसे अधिक वर्षा होती है। जुलाई और अगस्त भी भारी बारिश वाले महीने हैं और इन 3 महीनों में आपको यात्रा करने से बचना चाहिए।

और पढ़े: मेघालय के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

9. जीरो अरुणाचल प्रदेश – Ziro Arunachal Pradesh In Hindi

जीरो अरुणाचल प्रदेश

जीरो वैली अरुणाचल प्रदेश का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है जो बारिश के दौरान बेहद खूबसूरत हो जाता है। जीरो अरुणांचल प्रदेश की सबसे खूबसूरत जगहों में से एक है, अगर आप इस जगह की असली सुंदरता देखना चाहते तो बरसात के मौसम में यहां की यात्रा जरुर करें। जीरो वैली एक ऐसी जगह है जहां की यात्रा को आप कभी नहीं भूल पाएंगे।

मानसून में घूमने कौन जा सकता है अरुणाचल प्रदेश:

प्रकृति प्रेमी

अरुणाचल प्रदेश में करने के लिए चीजें:

नौका विहार, दर्शनीय स्थलों की सैर

जीरो के प्रमुख आकर्षण स्थल:

नौका विहार

जीरो में मानसून (जुलाई – अक्टूबर)

जुलाई से सितंबर तक मानसून के दौरान जीरो में तेज वर्षा देखी जाती है, और कई बाहरी गतिविधियाँ रोक दी जाती हैं।

और पढ़े: सात बहनों के राज्य (सेवन सिस्टर्स) के बारे में जानकारी

10. उदयपुर – Udaipur In Hindi

उदयपुर

उदयपुर राजस्थान का एक प्रमुख शहर और पर्यटन स्थल है जो बरसात के दिनों में बेहद खूबसूरत हो जाता है। अगर आप उदयपुर की यात्रा करने जा रहें तो आपको बारिश के दिनों में यहां की यात्रा जरुर करना चाहिए। यह शहर अरावली पहाड़ी बसा हुआ है जिसे झीलों का शहर भी कहा जाता है। मानसून के दौरान यहां की झीलें बेहद आकर्षक नज़र आती है।

बारिश में उदयपुर यात्रा किसके लिए हो सकती है खास:

विरासत प्रेमी, हनीमून मनाने वाले

उदयपुर ट्रिप पर क्या घूमे:

नौका विहार, दर्शनीय स्थल की सैर

उदयपुर के प्रमुख आकर्षण स्थल:

सिटी पैलेस, पिछोला, मानसून पैलेस, फतेह सागर झील, गुलाब बाग, मोती मगरी आदि।

उदयपुर में मानसून (जुलाई-सितंबर)

उदयपुर में मानसून का मौसम जुलाई में शुरू होता है और सितंबर के अंत तक रहता है। इस दौरान तापमान 25 डिग्री सेल्सियस से 35 डिग्री सेल्सियस के बीच बदलता है, जिससे यह शहर सुखद रूप से गर्म होता है।

और पढ़े: उदयपुर घूमने की जानकारी और इसके 10 प्रमुख पर्यटन स्थल

11. माजुली असम – Majuli Assam In Hindi

माजुली असम

माजुली असम में स्थित दुनिया का सबसे बड़ा नदी द्वीप है, जो चारों तरफ से महानदी ब्रह्मपुत्र से घिरा हुआ है। आपको बता दें कि यह शहर पुराने समय से सांस्कृतिक केंद्र रहा है लेकिन यह द्वीप अब बड़ी ही तेजी से सिकुड़ रहा है। अगर आप मानसून में किसी अच्छी जगह की तलाश में हैं तो माजुली की खूबसूरती देखने के लिए जरुर जाएं।

बरसात में कौन जा सकता है माजुली घूमने:

विरासत प्रेमी, हनीमून मनाने वाले

माजुली में करने के लिए चीजें:

नौका विहार, दर्शनीय स्थल की सैर

माजुली में प्रमुख आकर्षण स्थल:

ब्रह्मपुत्र नदी, नौका विहार

माजुली में मानसून (जुलाई-सितंबर)

मानसून का मौसम जुलाई के महीने से शुरू होता है और सितंबर तक बढ़ जाता है। बारिश का मौसम माजुली के वातावरण में एक नई ताजगी लाता है। मानसून के मौसम में तापमान 20 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहता है, और पूरे मौसम में मौसम ठंडा रहता है।

12. लद्दाख – Ladakh In Hindi

लद्दाख

अगर आप मानसून के मौसम में घूमने की किसी अच्छी जगह की तलाश में हैं तो लद्दाख आपके लिए एक अच्छा विकल्प हो सकता है। लद्दाख के शानदार लेक, नदियाँ और ऊँचे पेड़ बारिश के मौसम में काफी आकर्षक नज़र आते हैं। बारिश के मौसम में यहां आकर ऐसा लगता है जैसे कोई सपनों की दुनिया में आ गया हो। लद्दाख में आप हेमिस नेशनल पार्क, खरदूंग-ला पास, पांगोंग टासो लेक, स्पितुक गोम्‍पा, जंगस्‍कर वैली की यात्रा भी कर सकते हैं।

बरसात में कौन जा सकता है लद्दाख ट्रिप पर:

प्रकृति प्रेमी, हनीमून मनाने वाले

बरसात में लद्दाख में घूमने की जगह:

दर्शनीय स्थल की सैर जैसे हेमिस नेशनल पार्क, खरदूंग-ला पास, पांगोंग टासो लेक, स्पितुक गोम्‍पा, जंगस्‍कर

लद्दाख में प्रमुख आकर्षण जगह:

थिकसे मठ, पैंगोंग त्सो झील, खारदुंगला दर्रा, नुब्रा घाटी, लामायुरू मठ।

लेह लद्दाख में मानसून (जुलाई-अगस्त)

जुलाई के अंत से सितंबर के मध्य तक लद्दाख के अधिकांश स्थानों पर भारी वर्षा होती है। बारिश सड़कों पर ड्राइव करने या चलने के लिए बहुत जोखिम भरा बना देती है।

और पढ़े: लेह लद्दाख में पर्यटन स्थल

13. धर्मशाला – Dharamshala In Hindi

धर्मशाला

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश राज्य के कांगड़ा जिले में स्थित एक बहुत ही सुंदर पर्यटन स्थल है। अगर आप बारिश में मौसम में किसी अच्छी जगह पर घूमने जाना चाहते है तो आपके लिए धर्मशाला एक परफेक्ट जगह है। यहां पर पर्यटक जंगलों और पहाड़ों के साथ बारिश का भरपूर मजा ले सकते हैं।

मानसून सीजन में धर्मशाला क्यों है खास:

प्रकृति प्रेमी, हनीमून मनाने वाले

बारिश के मौसम में क्या कर सकते है धर्मशाला में:

दर्शनीय स्थल की सैर

धर्मशाला में प्रमुख आकर्षण स्थान:

एचपीसीए स्टेडियम, तिब्बती संग्रहालय, कालचक्र मंदिर, कांगड़ा घाटी और युद्ध स्मारक

धर्मशाला में मानसून (जुलाई-सितंबर)

धर्मशाला में जुलाई से अगस्त तक भारी वर्षा होती है और तापमान 18 से 22 डिग्री सेल्सियस तक होता है।

और पढ़े: धर्मशाला में घूमने की 10 खास जगह

14. पचमढ़ी – Pachmarhi In Hindi

पचमढ़ी

पचमढ़ी मध्यप्रदेश राज्य के होशंगाबाद जिले में स्थित एक प्रमुख हिल स्टेशन है जो बरसात में मौसम में घूमने के लिए एक अच्छा स्थान है। पचमढ़ी अपने कई प्राचीन स्थलों के अलावा कई प्राकृतिक आकर्षणों के लिए भी जाना जाता है। कुल मिलकर यह पर्यटन स्थल बारिश के मौसम में घूमने के लिए परफेक्ट है।

बारिश में कौन जा सकता है पचमढ़ी घूमने:

प्रकृति प्रेमी, हनीमून मनाने वाले, इतिहास प्रेमी

पचमढ़ी में कहा कहा घूम सकते है:

दर्शनीय स्थल और मंदिरों की सैर

पचमढ़ी में मानसून (जुलाई – सितंबर)

पचमढ़ी में वर्ष के इस समय मध्यम बारिश और सुखद मौसम का अनुभव होता है। आमतौर पर 785 मिमी औसत वर्षा के साथ तापमान 20 से 28 डिग्री सेल्सियस के बीच रहता है। मानसून के दौरान और बाद में, पचमढ़ी चारों ओर धुंध, कोहरे और बादलों के साथ बहुत खूबसूरत दिखता है।

और पढ़े: पचमढ़ी हिल स्टेशन की यात्रा और अन्य जानकारी

15. फूलों की घाटी – Flower Valley In Hindi

फूलों की घाटी

उत्‍तराखंड में स्थित फूलों की घाटी बरसात में घूमने की सबसे अच्छी जगहों में से एक है। इस पर्यटन स्थल को वर्ल्‍ड हैरिटेज साइट् का दर्जा दिया गया है। बारिश के बाद इस जगह पर सिर्फ फूल ही फूल नजर आते हैं। फूलों की घाटी हिमालय की सबसे ऊंची घाटी में से एक है। आपको बता दें कि यहां पर विभिन्न प्रजाति के फुल पाए जाते हैं। बारिश के मौसम में यहां खूबसूरत फूलों को देखना आपको एक खास अनुभव दे सकता है।

फूलों की घाटी किसके लिए है खास:

प्रकृति प्रेमी

बरसात में देखने लायक जगह फूलों की घाटी:

दर्शनीय स्थलों की सैर

फूलों की घाटी में प्रमुख आकर्षण स्थल:

फूलों की घाटी, एशियाई काले भालू, हिम तेंदुए और पक्षियों सहित लुप्तप्राय जानवर।

फूलों की घाटी में मानसून (जुलाई – सितंबर)

फूलों की घाटी की यात्रा के लिए यह सबसे अच्छा समय है, क्योंकि मानसून की बौछारें यहाँ कई रंगों के लुभावने फूलों को जन्म देती हैं।

16. महाबलेस्‍वर – Mahabaleshwar In Hindi

महाबलेस्‍वर

महाबलेस्‍वर महाराष्ट्र राज्य का एक प्रमुख हिल स्टेशन है जो बारिश के मौसम में बेहद आकर्षक हो जाता है। मानसून के मौसम में यहां भारी संख्या में पर्यटक आते हैं। यहां के हरे भरे वातावरण में बारिश के पानी में गीले होने के बाद आप बेहद ताजा महसूस करेंगे। अगर आप बारिश में घूमने की कोई अच्छी जगह तलाश रहें हैं तो महाबलेस्‍वर की यात्रा जरुर करें।

कौन जा सकता है महाबलेस्‍वर:

प्रकृति प्रेमी

बरसाती सीजन में घूमे महाबलेस्‍वर:

दर्शनीय स्थलों की सैर

महाबलेस्‍वर में प्रमुख आकर्षण स्थल:

महाबलेश्वर स्ट्रॉबेरी, अपनी कई नदियों, शानदार झरनों और राजसी चोटियों के लिए भी जाना जाता है।

महाबलेश्वर में मानसून (जुलाई – अक्टूबर)

महाबलेश्वर में मानसून प्रचंड और व्यापक है। जुलाई से सितंबर के मानसून महीनों के दौरान तापमान 20 से 25 डिग्री सेल्सियस तक रहता है। इसका मतलब है कि मानसून के दौरान जलवायु गीली, ठंडी और यहाँ अक्सर धुंध होती है।

और पढ़े: महाबलेश्वर पर्यटन स्थलों का भ्रमण

17. माउंट आबू – Mount Abu In Hindi

माउंट आबू

माउंट आबू राजस्थान का एक हिल स्टेशन होने की वजह से एक सुंदर जगह है। इस पर्यटन स्थल की सैर करने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। बरसात के मौसम में यह जगह बहुत खूबसूरत लगती है, जब आकाश में बादल छा जाते हैं। माउंट आबू उन लोगों के लिए सही विकल्प है जो प्रकृति, आध्यात्मिकता और रोमांच की एक परिपूर्ण जगह की तलाश में हैं।

कौन जा सकता है माउंट आबू:

हनीमून मनाने वाले, प्रकृति प्रेमी

माउंट आबू में करने के लिए चीजें:

नौका विहार, दर्शनीय स्थलों की सैर

माउंट आबू में मानसून (जुलाई – अक्टूबर)

प्रकृति प्रेमियों के लिए, मानसून माउंट आबू जाने के लिए एक आदर्श समय है। भले ही इस क्षेत्र में कम बारिश होती है, लेकिन बारिश कम बारिश भी जगह को ताजा और हरियाली बना देते हैं।

और पढ़े: माउंट आबू घूमने की पूरी जानकारी और 11 खास जगह

18. गोवा – Goa In Hindi

गोवा

गोवा भारत में बरसात के मौसम में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक होगा। समुद्र तटों की भूमि पर मानसून के दौरान रेत, रिमझिम बरसात और सुरम्य दृश्यों का आनंद लेने के लिए एक बेस्ट जगह है। यह बारिश में भीगने के लिए सही जगह है और यहाँ आप कुछ अच्छे व्यंजनों का आनंद ले सकते हैं।

मानसून सीजन में कौन जा सकता है गोवा घूमने:

प्रकृति प्रेमी, साहसिक उत्साही, समुद्र तट प्रेमी,

गोवा ट्रिप पर क्या क्या कर सकते है:

जेट स्काई, स्कूबा, ट्रेकिंग, हेरिटेज टूर, शॉपिंग, बर्डवॉचिंग

गोवा में प्रमुख आकर्षण स्थान:

झरने, वास्तुकला, भोजन, सस्ती शराब

गोवा में मानसून सीजन (जुलाई – सितंबर)

ज्यादातर लोग गोवा धूप और रेतीले समुद्र तटों की वजह से जाते हैं लेकिन बरसात के समय बहुत से लोग यात्रा करने से बचते हैं। मानसून में समुद्र तट की सुविधाएं, साथ ही स्कूबा-डाइविंग जैसे अन्य पानी के खेल, आमतौर पर बंद कर दिए जाते हैं।

और पढ़े: गोवा का रात का जीवन और टॉप 10 क्लब

19. मांडू – Mandu In Hindi

मांडू

मांडू मध्य प्रदेश राज्य के धार जिले में स्थित एक पर्यटन स्थल है। यह पर्यटन स्थल विन्ध्य की पहाडियों में 2000 फीट की उंचाई पर स्थित है और बरसात के मौसम में घूमने की सबसे अच्छी जगहों में से एक है। अगर आप बरसात के मौसम में मांडू की यात्रा करने हैं तो यहाँ के कई दर्शनीय स्थलों की सैर भी कर सकते हैं।

कौन जा सकता है मांडू घूमने बरसात में:

प्रकृति प्रेमी, साहसिक उत्साही, इतिहास प्रेमी,

मांडू यात्रा में क्या घूम सकते है:

दर्शनीय स्थलों की सैर

मांडू के प्रमुख आकर्षण जगह:

जहाज महल, हिन्डोला महल, शाही हमाम

मांडू में मानसून (जुलाई – सितंबर)

जुलाई से सितंबर तक मांडू की यात्रा की योजना बना सकते हैं। इस मौसम में यहाँ भीड़ कम और वर्षा औसत होती है।

और पढ़े: खजुराहो दर्शनीय स्थल, मंदिर और घूमने की जगह

20. शिलांग – Shillong In Hindi

शिलांग

मानसून में घूमने की सबसे अच्छी जगहों में से है जो बारिश के मौसम में सबसे भारी वर्षा प्राप्त करता है। कई झरनों के साथ सजी हुई खासी और जयंती पहाड़ियों की सुरम्य घाटियों से घिरा, शिलांग हरे प्राकृतिक दृश्यों का मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। अगर आप मानसून में घूमने की कोई अच्छी जगह तलाश रहें हैं तो शिलांग की यात्रा जरुर करें।

बरसात में कौन जा सकता है शिलांग घूमने:

हनीमून मनाने वाले, प्रकृति प्रेमी, वन्यजीव उत्साही

शिलांग में करने के लिए चीजें:

वन्यजीव देखना, ट्रैकिंग, नौका विहार

शिलांग में प्रमुख आकर्षण स्थल:

एलिफेंट फॉल्स, शिलांग पीक, उमियाम लेक, डॉन बॉस्को म्यूजियम, मावसिनराम आदि।

शिलॉन्ग में मानसून (जुलाई – सितंबर)

शिलॉन्ग में हर साल जुलाई से सितंबर के बीच मानसून का मौसम रहता है। इस क्षेत्र में मौसम के दौरान भारी गिरावट आती है। यहाँ पर औसत वार्षिक वर्षा लगभग 3300 मिमी है और तापमान 12 ° C और 16 ° C के बीच रहता है।

और पढ़े: शिलांग यात्रा की जानकार

Write A Comment