क्या सच में फूलों की घाटी की यात्रा करनी चाहिए

Valley Of Flowers In Hindi, फूलों की घाटी या वैली ऑफ फ्लावर्स भारत के उत्तराखंड राज्य में चमोली जिले में स्थित हैं। पश्चिमी हिमालय में स्थित फूलों की घाटी एक प्राकृतिक और सुंदर राष्ट्रीय उद्यान के रूप में जाना जाता है। अल्पाइन फूलों और घास के मैदानों से सुसज्जित यह प्राकृतिक स्थान प्रकृति प्रेमियों और फोटोग्राफी के शौकीन व्यक्तियों के लिए किसी स्वर्ग से कम नही हैं। वैली ऑफ फ्लावर्स पर्यटन स्थल में सैंकड़ों प्रजाति और रंगों के फूल पाएं जाते है। यही फूलो की घाटी की लौकप्रियता का रहस्य हैं जोकि पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता हैं। फूलों की घाटी को वर्ष 2005 में यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थलों की सूची में भी शामिल कर लिया हैं। फूलों की घाटी राष्ट्रीय उद्यान को शुरुआत में भुइंदर घाटी के नाम से जाना जाता था। लेकिन बाद में ब्रिटिश पर्वतारोही फ्रैंक एस स्माइथ द्वारा वर्ष 1931 में इसका नाम बदलकर वैली ऑफ फ्लॉवर्स कर दिया गया।
यदि आप रंग-रंग के फूलों के बारे में जानना चाहते हैं या कुछ सीखना चाहते हैं तो वैली ऑफ फ्लावर्स से शानदार डेस्टिनेशन आपके लिए कही ओर नही हो सकती हैं। फूलों की घाटी में अलग-अलग मौसम में भिन्न-भिन्न प्रकार के फूल इसकी सुंदरता को और अधिक खूबसूरत कर देते हैं, जिससे फूलो की घाटी की सुंदरता परिवर्तनशील प्रतीत होती हैं। हिमालय की ऊँची-ऊँची चोटियों जोकि वर्फ से ढंकी हुई सफ़ेद प्रतीत होती हैं, अपने आप में ही एक रमणीय दृश्य प्रस्तुत करती हैं। यदि आप भी फूलों की घाटी के बारे में जानना चाहते हैं या घूमने की चाहत रखते हैं तो हमारे इस लेख को पूरा जरूर पढ़े।

1. फूलों की घाटी का इतिहास – Valley Of Flowers History Of In Hindi

फूलों की घाटी का इतिहास

फूलों की घाटी के इतिहास से पता चलता हैं कि यह स्थान हिमालय पर्वतमाला ज़ांस्कर और पश्चिमी-पूर्वी हिमालय के मिलन बिंदु पर स्थित हैं। फूलों की घाटी को खोजने का श्रेय वर्ष 1931 में एक पर्वतारोही फ्रैंक एस स्मिथ को जाता हैं। जिन्होंने इस आकर्षित फूलों की घाटी को सफेद चोटियों से घिरे घने जंगल में खोज निकाला। माना जाता हैं कि रामायण काल के दौरान हनुमान जी महाराज ने फूलों की घाटी में ही संजीवनी बूटी की खोज की थी। वर्ष 1980 में सरकार द्वारा फूलों की घाटी को राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया और सन 1982 में इसका नाम बदलकर नंदा देवी रख दिया गया था। 1988 के दौरान नंदा देवी बायोस्फीयर रिजर्व की स्थापना के दौरान इसे मुख्य क्षेत्र घोषित किया गया था।

2. फूलों की घाटी भारत के किस राज्य में स्थित है – Bharat Mein Phoolon Ki Ghati Kaha Par Sthit Hai

फूलों की घाटी भारत के किस राज्य में स्थित है

फूलों की घाटी भारत के उत्तराखंड राज्य के चमोली जिले में स्थित हैं।

और पढ़े: देवप्रयाग की यात्रा के बारे में पूरी जानकारी 

3. फूलों की घाटी का रहस्य – Phoolon Ki Ghati Ka Rahasya In Hindi

फूलों की घाटी का रहस्य

फूलों की घाटी कई प्रकार की औषधीय जड़ी-बूटियों के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध हैं। वेल्ली ऑफ फ्लावर्स में देशी और विदेशी सभी प्रकार की कष्ट निवारक जड़ी बूटियाँ मिलती हैं। यहाँ प्राप्त हुई जड़ी बूटियाँ बड़ी से बड़ी बीमारियों से छुटकारा दिलाने के लिए जानी जाती हैं।

4. क्या फूलों की घाटी में ट्रेकिंग की अनुमति है – Valley Of Flowers Trek In Hindi

क्या फूलों की घाटी में ट्रेकिंग की अनुमति है

फूलों की घाटी में ट्रेकिंग का शानदार नाजरा देखने को मिलता हैं और पर्यटक इस स्थान पर ट्रेकिंग का जमकर लुत्फ उठाते हैं। प्राकृतिक रूप से सम्पन वेल्ली ऑफ फ्लावर्स के आसपास ट्रेकिंग जैसी गतिविधिया पर्यटकों के मन को अधिक लुभाती हैं। शानदार पैकेज के शानदार इस स्थान पर ट्रेकिंग का मजा लिया जाता हैं।

5. फूलों की घाटी खुलने और बंद होने का समय 2019 – Valley Of Flowers Opening Dates 2019 In Hindi

फूलों की घाटी खुलने और बंद होने का समय 2019

फूलों की घाटी साल 2019 में 1 जून को खोली गई थी और यह आकर्षित पर्यटन स्थल हर साल अक्टूबर / नवंबर में बंद कर दिया जाता है। साल 2019 में भी यह अक्टूबर-नवम्बर में बंद कर दी जाएगी।

और पढ़े: हरिद्वार में घूमने की जगह और दर्शनीय स्थल की जानकारी 

6. फूलों की घाटी उत्तराखंड में घूमने लायक प्रसिद्ध पर्यटन और आकर्षण स्थान – Best Nearby Places To Visit In Valley Of Flowers In Hindi

वेल्ली ऑफ फ्लावर्स या फूलों की घाटी के आसपास कई आकर्षित और रहस्यमयी पर्यटन स्थल मौजूद हैं जिनकी यात्रा करना यहाँ आने वाले पर्यटकों को अधिक पसंद हैं। आइए हम आपको नीचे कुछ प्रमुख पर्यटन स्थलों की जानकारी आपको देते हैं।

6.1 फूलों की घाटी के पास घूमने लायक पर्यटन स्थल हेमकुंड साहिब – Valley Of Flowers Uttarakhand Ke Pass Ghumne Layak Paryatan Sthal Hemkund Sahib In Hindi

फूलों की घाटी के पास घूमने लायक पर्यटन स्थल हेमकुंड साहिब

श्री हेमकुंड साहिब पर्यटन स्थल हिमालय पर्वत के बीचो-बीच उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित है। हर साल हजारों सिखों द्वारा इस पूजनीय पवित्र तीर्थ स्थल का दौरा किया जाता है। हेमकुंड साहिब यह दुनिया का सबसे ऊंचा गुरुद्वारा माना जाता हैं जिसकी ऊँचाई समुद्र तल से 4633 मीटर है। हेमकुंड साहिब पर्यटन स्थल बर्फ से ढके पहाड़ों पर स्थित है। श्री हेमकुंड साहिब गुरद्वारे को श्री हेमकुंट साहिब के नाम से भी जाना जाता है। हेमकुंड साहिब गुरुद्वारे के नजदीक कई झरने, हिमालय का मनोरम दृश्य और घने जंगल हैं, जो ट्रेकिंग की सुविधा प्रदान करते हैं। श्री हेमकुंड साहिब गुरुद्वारा वह स्थान जो श्री गुरु गोविन्द सिंह जी की आत्मकथा से सम्बंधित हैं और बर्फ से ढंकी सात पहाड़ियों के लिए जाना गया हैं। हेमकुंड साहिब गुरूद्वारे को बर्फ की झील के नाम से भी जाना जाता हैं।

और पढ़े: श्री हेमकुंड साहिब यात्रा की जानकारी और इसके प्रमुख पर्यटन स्थल

6.2 फूलों की घाटी का प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल घांघरिया – Valley Of Flowers Famous Tourist Spot Ghangaria In Hindi

फूलों की घाटी का प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल घांघरिया

घांघरिया पर्यटन स्थल हेमकुंड साहिब और फूलों की घाटी के रास्ते में यह अंतिम मानव निवास केंद्र है। घांघरिया पर्यटन स्थल गोविंद घाट से लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर और वैली ऑफ फ्लावर्स से मात्र 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। यदि आप हेमकुंड साहिब की दिशा में यात्रा कर रहे हैं तो रास्ता यही से होते हुए जाता हैं जोकि 3050 मीटर की ऊंचाई पर स्थित हैं। घांघरिया पर्यटन स्थल में सर्दियों के मौसम में भारी बर्फबारी होती हैं जिससे यह स्थान पर्यटकों के लिए मई से अक्टूबर तक खुला रहता हैं।

6.3 फूलों की घाटी के पास मशहूर धार्मिक स्थल गौरीकुंड – Valley Of Flowers Ke Pass Mashuur Dharmik Sthal Gaurikund In Hindi

फूलों की घाटी के पास मशहूर धार्मिक स्थल गौरीकुंड

फूलों की घाटी के प्रमुख पर्यटन स्थल में शामिल गौरीकुंड केदारनाथ के पवित्र मंदिर से लगभग 10 किलोमीटर (gaurikund to kedarnath distance) की दूरी पर स्थित हैं। गौरीकुंड समुद्र तल से 1,982 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और यहाँ देवी पार्वती का गौरी मंदिर भी स्थित हैं। इस पवित्र स्थान का नाम भगवान शिव और माता पार्वती के नाम पर रखा गया हैं। गौरीकुंड की यात्रा पर्यटकों के द्वारा संख्या में की जाती हैं।

6.4 फूलों की घाटी में देखने लायक खुबसूरत जगह बेदिनी बुग्याल – Valley Of Flowers Me Dekhne Layak Khubsurat Jagha Bedni Bugyal In Hindi

 फूलों की घाटी में देखने लायक खुबसूरत जगह बेदिनी बुग्याल

फूलों की घाटी के यात्रा में घूमने लायक स्थान बेदिनी बुग्याल एक हिमालयी अल्पाइन घास का मैदान है जोकि लगभग समुद्र तल से लगभग 3,354 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। यह पर्यटन स्थल बेदिनी बुग्याल वान गांव के निकट रूपकुंड के रास्ते में पड़ता है। त्रिशूल और नंदा घुँटी दर्शनीय स्थल यहाँ से स्पष्ट दिखाई देते हैं।

6.5  फूलों की घाटी उत्तराखंड में घूमने वाली अच्छी जगह बद्रीनाथ मंदिर के दर्शन – Uttarakhand Me Ghumne Ki Achi Jagah Badrinath Temple In Hindi

फूलों की घाटी उत्तराखंड में घूमने वाली अच्छी जगह बद्रीनाथ मंदिर के दर्शन

फूलों की घाटी पर्यटन स्थल मे शामिल बद्रीनाथ मंदिर यहाँ का प्रमुख दर्शनीय मंदिर हैं जिसे बद्रीनारायण मंदिर के नाम से भी जाना जाता हैं। बद्रीनारायण मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य में अलकनंदा नदी के किनारे स्थित है एक हिंदू मंदिर है जोकि भगवान विष्णु को समर्पित है।

और पढ़े: बद्रीनाथ मंदिर के दर्शन की पूरी जानकारी 

6.6 फूलों की घाटी के पास देखने वाली जगह गोविंदघाट उत्तराखंड – Phoolon Ki Ghati Ke Pass Dekhne Wali Jagah Govindghat Uttarakhand In Hindi

फूलों की घाटी के पास देखने वाली जगह गोविंदघाट उत्तराखंड

फूलों की घाटी का आकर्षण गोविंदघाट उत्तराखंड में चमोली जिले में अलकनंदा और लक्ष्मण गंगा नदी के संगम स्थल पर स्थित है। गोविन्दघाट समुद्रतल से लगभग 6000 फीट की ऊंचाई पर स्थित हैं जोकि NH-58 पर जोशीमठ से लगभग 22 किलोमीटर की दूरी पर है। हेमकुंड साहिब और फूलों की घाटी की शानदार ट्रैकिंग के लिए शुरुआती बिंदु के रूप में जाना जाता है। गोविन्दघाट पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता हैं।

6.7  फूलों की घाटी का आकर्षण स्थल वसुधारा झरना – Valley Of Flowers Ka Aakarshan Sthal Vasudhara Falls In Hindi

फूलों की घाटी का आकर्षण स्थल वसुधारा झरना

वैली ऑफ फ्लावर्स के खूबसूरत नजारों में शामिल वसुधारा जलप्रपात भारत के उत्तराखंड राज्य में बद्रीनाथ के पास स्थित एक आकर्षित  झरना है। बद्रीनाथ से वसुधारा झरने की कुल दूरी लगभग 9 किलोमीटर है। वसुधरा झरना देखने लिए आने वाले पर्यटकों का जमाबडा लगा रहता हैं।

6.8  उत्तराखंड के दर्शनीय स्थल भीम पुल माना – Valley Of Flowers Ke Darshaniya Sthal Bheem Pul Mana In Hindi

उत्तराखंड के दर्शनीय स्थल भीम पुल माना
Image Credit: Chandu Pharswan

फूलों की घाटी में घूमने वाली जगह भीम पुल माना गांव उत्तराखंड में स्थित हैं। प्राचीन कथाओं से पता चलता हैं कि अपने अंतिम समय के दौरान पांडवों के स्वर्ग जाने के वाले मार्ग में एक नदी पड़ती हैं, जिसे पार करने से द्रौपदी के मना करने के बाद भीम ने एक विशाल पत्थर उठा कर नदी पर रख दिया जिससे इस पुल का निर्माण हुआ और फिर द्रौपदी सहित सभी पांडवो ने पुल पार किया। महाभारत काल से जुड़े इस पुल को भीम पुल नाम दिया गया।

6.9  फूलों की घाटी उत्तराखंड में घूमने की जगह लक्ष्मण गंगा नदी – Valley Of Flowers Uttarakhand Me Ghumne Ki Jagah Lakshman Ganga River In Hindi

फूलों की घाटी उत्तराखंड में घूमने की जगह लक्ष्मण गंगा नदी

फूलों की घाटी की प्रसिद्ध लक्ष्मण गंगा या भुइंदर गंगा एक छोटी नदी है। यह नदी हेमकुंड झील से भुआंदर घाटी से होते हुए प्रवाहित होती हैं और आगे चलते हुए घांघरिया में पुष्पावती नदी में विलीन हो जाती हैं। आपको जानकारी के लिए बता दें कि इसे ब्यूंदर गंगा भी कहा जाता है। लक्ष्मण गंगा नदी की उत्पत्ति का पता हेमकुण्ड साहिब झील से चलता हैं।

और पढ़े: ऋषिकेश में घूमने वाली जगह और पर्यटन स्थल 

6.10 फूलों की घाटी के पर्यटन स्थल नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान – Nanda Devi National Park Uttarakhand In Hindi

फूलों की घाटी के पर्यटन स्थल नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान फूलों और पर्वत श्रृंखलाओं के बीच हिमालयी हिम तेंदुआ नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान का प्रमुख आकर्षण है जिसकी मौजूदगी यहाँ आने वाले पर्यटकों अधिक लुभाती हैं। नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान में पाए जाने वाले जीव-जंतुओं की बात करे तो लुप्तप्राय एशियाई काले भालू, नीली भेड़ और भूरे भालू यहाँ का प्रमुख आकर्षण हैं। यह उद्यान अपने औषधीय पौधों और जड़ी बूटियों के लिए भी प्रसिद्ध है।

और पढ़े: नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान घूमने की जानकारी 

6.11 फूलों की घाटी के धार्मिक स्थल नरसिंह मंदिर जोशीमठ उत्तराखंड – Valley Of Flowers Ke Dharmik Sthal Narsingh Bhagwan Temple Uttarakhand In Hindi

फूलों की घाटी के धार्मिक स्थल नरसिंह मंदिर जोशीमठ उत्तराखंड

फूलों की घाटी का दर्शनीय नरसिंह मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित हैं। यह मंदिर लगभग 1200 साल पुराना माना जाता है। मंदिर के पीठसीन देवता भगवान विष्णु के अवतार नरसिंग भगवान हैं। जोकि आधे इंसान और आधे सिंह के रूप में महल के खम्बे से प्रगत हुए थे और भगवान विष्णु के चौथे अवतार थे। नरसिंह मंदिर में भगवान के दर्शन के लिए दूर-दूर से पर्यटक आते हैं।

6.12 फूलों की घाटी पर्यटन में घूमने की अच्छी जगह पुष्पावती नदी – Phoolon Ki Ghati Tourism Me Ghumne Ki Achi Jagah Pushpawati River Uttarakhand In Hindi

फूलों की घाटी पर्यटन में घूमने की अच्छी जगह पुष्पावती नदी

फूलों की घाटी के प्रमुख रोचक स्थलों में यहाँ की प्रसिद्ध पुष्पावती नदी भी शामिल हैं। घांघरिया गांव में यह नदी हेमकुंड गंगा के साथ मिल जाती है। यहाँ का प्रसिद्ध कुंडलिनिसन पठार इसी नदी के किनारे पर स्थित है। घांघरिया में पुष्पवती नदी हेमकुंड से प्रवाहित होते हुए लक्ष्मण गंगा से मिल जाती है।

और पढ़े: हरिद्वार में घूमने की जगह और दर्शनीय स्थल की जानकारी 

7. फूलों की घाटी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Valley Of Flowers In Hindi

फूलों की घाटी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

फूलों की घाटी की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय मई से लेकर अक्टूबर तक का माना जाता हैं। क्योंकि ठंडी के मौसम में इस क्षेत्र में बर्फबारी बहुत अधिक होती हैं जिसे मार्ग बंद हो जाते हैं। मानसून के दौरान पर्यटक ट्रेकिंग जैसे शानदार गतिविधियों का हिस्सा भी बन सकते हैं।

8. फूलों की घाटी के पास खाने के लिए प्रसिद्ध स्थानीय भोजन – Local Food Available In Valley Of Flowers Uttarakhand In Hindi

फूलों की घाटी के पास खाने के लिए प्रसिद्ध स्थानीय भोजन

फूलों की घाटी की यात्रा के दौरान हम उत्तराखंड राज्य का प्रसिद्ध भोजन भी चख सकते हैं जोकि बहुत ही स्वादिष्ट होता हैं। यहां कई तरह के स्वादिष्ट व्यंजन पर्यटकों मिल जाते हैं। वैली ऑफ फ्लावर्स के स्थानीय भोजन में भांग की चटनी, गढ़वाल का पन्हा, कफुली, फानू, बड़ी, चैन्सू, कंडाली का साग, कुमौनी रायता, आलू का झोल, डुबुक, झंगोरा की खीर, गुलगुला, अर्सा और सिंगोरी के अलावा भी कई प्रकार का भोजन आप यहाँ चख सकते हैं।

9. फूलों की घाटी के आसपास कहाँ रुके – Where To Stay Near Valley Of Flowers In Hindi

फूलों की घाटी के आसपास कहाँ रुके

फूलों की घाटी और इसके पर्यटन स्थलों का भ्रमण करने के बाद यदि आप इसके आसपास किसी होटल की तलाश में हैं। तो हम आपको बता दें कि घाटी से कुछ ही दूरी पर कुछ होटल उपलब्ध हैं जोकि लो-बजट से लेकर हाई-बजट की रेंज में आपको मिल जाएंगे हैं।

  • क्लिफ टॉप क्लब
  • द टाटवा रिसोर्ट
  • माउंट व्यू एनेक्सी
  • भजन आश्रम

और पढ़े: मनसा देवी मंदिर हरिद्वार 

10. फूलों की घाटी उत्तराखंड कैसे जाये – How To Reach Phoolon Ki Ghati Uttarakhand In Hindi

फूलों की घाटी जाने के लिए आप फ्लाइट, ट्रेन और बस में से किसी का भी चुनाव कर सकते हैं।

10.1 फ्लाइट से फूलों की घाटी कैसे पहुंचे – How To Reach Valley Of Flowers By Flight In Hindi

फ्लाइट से फूलों की घाटी कैसे पहुंचे

फूलों की घाटी की यात्रा के लिए यदि आपने हवाई मार्ग का चुनाव किया हैं तो हम आपको बता दें कि फूलों की घाटी के लिए फ्लाइट से कोई डायरेक्ट कनेक्टिविटी नही हैं। लेकिन फूलों की घाटी का सबसे नजदीकी हवाई अड्डा जॉली ग्रांट एयरपोर्ट देहरादून में स्थित हैं। जॉली ग्रांट हवाई अड्डे से फूलों की घाटी की दूरी लगभग 284 किलोमीटर हैं।

10.2 फूलों की घाटी ट्रेन से कैसे पहुंचे – How To Reach Valley Of Flowers By Train In Hindi

फूलों की घाटी ट्रेन से कैसे पहुंचे

फूलों की घाटी की यात्रा के लिए यदि आपने रेलवे मार्ग का चुनाव किया हैं तो हम आपको बता दें कि फूलों की घाटी के रेल मार्ग से कोई डायरेक्ट कनेक्टिविटी नही हैं। फूलों की घाटी का सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन ऋषिकेश है जोकि वैली ऑफ फ्लावर्स से लगभग 272 किलोमीटर की दूरी पर हैं। ऋषिकेश से फूलों की घाटी के लिए नियमित बसे और टैक्सी चलती हैं।

10.3 फूलों की घाटी तक कैसे पहुंचे बस से – How To Reach Valley Of Flowers By Bus In Hindi

फूलों की घाटी तक कैसे पहुंचे बस से

फूलों की घाटी जाने के लिए यदि आपने सड़क मार्ग का चुनाव किया हैं तो हम आपको बता दें कि फूलों की घाटी सड़क मार्ग के माध्यम से आसपास के शहरो से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं। इसलिए आप बस के माध्यम से भी फूलों की घाटी आसानी से पहुँच जाएंगे। फूलों की घाटी का सबसे नजदीकी बस स्टैंड गोविन्दघाट हैं जोकि 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं।

और पढ़े: उत्तराखंड के पंच प्रयाग की यात्रा और इसके प्रमुख पर्यटन स्थल की जानकारी 

11. फूलों की घाटी उत्तराखंड का नक्शा – Valley Of Flowers Uttarakhand Map

12. फूलों की घाटी की फोटो गैलरी – Valley Of Flowers Images

View this post on Instagram

Happy world photography day !!!!!!

A post shared by [email protected]? (@shwetavaje) on

और पढ़े:

Leave a Comment