Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Nanda Devi National Park In Hindi, नंदा देवी भारत की दूसरी सबसे ऊंची चोटी है जो उत्तराखंड के चमोली जिले में नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान में स्थित है। आपको बता दें कि यह नेशनल पार्क एक यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल, और यह दुनिया के सबसे अधिक जैव विविधता वाले क्षेत्रों में से एक है। इस क्षेत्र को वर्ष 1982 में इस क्षेत्र में विदेशी वनस्पतियों और जीवों की रक्षा, संरक्षण और इसे पर्यावरणीय क्षरण से बचाने के लिए एक राष्ट्रीय उद्यान बनाया गया था। इस क्षेत्र आज दुनिया में कुछ दुर्लभ और अद्वितीय उच्च ऊंचाई वाले वनस्पतियों और जीवों का घर है। आज नंदा देवी नेशनल पार्क दुनिया से सबसे प्रमुख पारिस्थितिक आकर्षण केंद्रों में से एक और यह कई तरह के पक्षियों, स्तनधारियों, पौधों, पेड़ों और तितलियों आवास स्थान है।

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान पर्यटकों को ट्रेकिंग और लंबी पैदल यात्रा का एक खास अवसर प्रदान करता है। यह जगह एडवेंचर और प्रकृति प्रेमियों के लिए स्वर्ग के सामान है। नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान 1 मई से 31 अक्टूबर तक पूरे वर्ष में केवल छह महीने के लिए आगंतुकों के लिए खुला है। अगर आप प्रकृति की सुंदरता की खोज करना चाहते हैं तो आपके लिए नंदा देवी पार्क एक परफेक्ट पर्यटन स्थल है।

1. नंदा देवी नेशनल पार्क में वनस्पति और जीव – Flora And Fauna At Nanda Devi National Park In Hindi

नंदा देवी नेशनल पार्क में वनस्पति और जीव

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान वन्य जीवन में समृद्ध है और यहाँ पर प्रचुर मात्रा में विभिन्न प्रजातियों के पौधों और जानवरों की एक विस्तृत विविधता पाई जाती है। पार्क में वन कवर ऋषि कण्ठ तक सीमित है, इस पार्क में प्राथमिक वनस्पति में देवदार, सन्टी और जुनिपर शामिल हैं। इस पार्क के अंदरूनी हिस्सों में नंदादेवी ग्लेशियर के पास लगभग वनस्पति की सूखने की स्थिति है। पार्क में वनस्पतियों की कुल 312 प्रजातियाँ पाई जाती हैं, जिनमें से लगभग 17 को दुर्लभ माना जाता है। नंदा देवी नेशनल पार्क जानवरों की आबादी से भी भरा हुआ है। यहां पाए जाने वाले जीवों हिम तेंदुए, हिमालयी काले भालू, भूरे भालू, तेंदुए, हिमालयन कस्तूरी मृग, कॉमन लंगूर, गोरल और भारल जैसी प्रजातियां पाई जाती हैं। यहां 80 एवियफुनल प्रजातियां पाई गई हैं, जिनमें भारतीय पेड़ के पिपिट, ब्लू-फ्रंटेड रेडस्टार्ट, रोज फिंच और रूबी थ्रोट शामिल हैं।

और पढ़े: राजाजी नेशनल पार्क हरिद्वार उत्तराखंड घूमने की जानकरी 

2. नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान का इतिहास – Nanda Devi National Park History In Hindi

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान का इतिहास

नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान आज जिस जगह पर है उस क्षेत्र को 1982 में एक राष्ट्रीय उद्यान का दर्जा दिया गया था, लेकिन इसका एक लंबा और रोमांचक इतिहास है। इस क्षेत्र में सबसे पहले पहुंचने वाला व्यक्ति वर्ष 1883 में डब्ल्यू.डब्ल्यू.गार्डन था। लेकिन सबसे अफसोस की बात तो यह है की उसके यहां पहुंचने का कोई मतलब नहीं निकला था। 1934 से पहले तक यह क्षेत्र हिमालय क्षेत्र के सबसे कम देखे जाने वाले और दुर्गम क्षेत्रों में से एक था। 1936 में, तिलमन और एन ई।

ओडेल ने इस क्षेत्र का विकास किया और दूसरे लोगों ने भी उन्हें फ़ॉलो किया। इसके बाद नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान को भारत सरकार द्वारा यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल और बायोस्फीयर रिजर्व घोषित किया गया है। वर्ष 1939 इस क्षेत्र को एक अभ्यारण्य घोषित कर दिया गया और 1982 में, इसे लगभग 630 वर्ग किलोमीटर के अतिरिक्त क्षेत्र को जोड़कर एक राष्ट्रीय उद्यान बना दिया गया। नंदा देवी की बढ़ती लोकप्रियता और प्रसिद्धि की वजह से यहां पर कई अभियान चलाये गए जिसकी वजह से यहां के प्राकृतिक और प्राचीन क्षेत्र को नुकसान होने लगा। 1984 में राष्ट्रीय उद्यान को बंद करने का निर्णय लिया गया। लेकिन मई 2013 में इस उद्यान को फिर से खोल दिया गया। इसके बाद इस नेशनल पार्क में कड़े नियमों और नीतियों के तहत एक ही दिन में पांच लोगों के केवल दो समूहों का प्रवेश और प्रत्येक सप्ताह चार ऐसे समूहों के दौरे से ज्यादा की अनुमति नहीं है।

और पढ़े: उत्तराखंड के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी 

3. नंदा देवी नेशनल पार्क घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Nanda Devi National Park In Hindi

नंदा देवी नेशनल पार्क घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

नंदा देवी नेशनल पार्क 1 मई से 31 अक्टूबर तक केवल छह महीने के लिए पर्यटकों के लिए खुला रहता है। इस दौरान यहां पर बर्फ साफ हो जाती है और यह जगह ट्रेकर्स को राष्ट्रीय उद्यान में सुरक्षित यात्रा करने की अनुमति मिलती है। यह महीनों में पार्क का मौसम सुहावना होता है लेकिन काफी ठंडा होता है। अगर आप नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान की यात्रा करने जा रहें हैं तो ठंड से बचने के लिए अपने साथ मल्टी लेयर वूलेन जरुर लेकर जाएं।

और पढ़े: पिन वैली नेशनल पार्क घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

4. नंदादेवी राष्ट्रीय उद्यान के दर्शन के लिए टिप्स – Tips For Visiting Nanda Devi National Park In Hindi

नंदादेवी राष्ट्रीय उद्यान के दर्शन के लिए टिप्स

  • नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान ने पर्यटकों की नीति को प्रतिबंधित कर दिया है, जिसमें पूरे दिन केवल 10 पर्यटकों को ही पार्क में प्रवेश करने की अनुमति है, इसलिए आप यात्रा से पहले जोशीमठ में DFO के कार्यालय से संपर्क करके अपनी राष्ट्रीय उद्यान की यात्रा के लिए तारीख प्राप्त करें।
  •  बता दें कि नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान में ट्रेक कठिन है, इसलिए सुनिश्चित करें कि आप ट्रेक करने के लिए पूरी तरह से फिट हैं।

और पढ़े: पेंच राष्ट्रीय उद्यान घूमने की पूरी जानकारी

5. कैसे पहुंचें नंदा देवी नेशनल पार्क – How To Reach Nanda Devi National Park In Hindi

5.1 हवाई जहाज से नंदा देवी नेशनल पार्क कैसे जाये – How To Reach Nanda Devi National Park By Air In Hindi

हवाई जहाज से नंदा देवी नेशनल पार्क कैसे जाये

अगर आप नंदा देवी नेशनल पार्क की यात्रा हवाई जहाज से करना चाहते हैं तो बता दें कि देहरादून में जॉली ग्रांट हवाई अड्डा नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान के लिए निकटतम हवाई अड्डा है और राष्ट्रीय उद्यान से 295 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां से पर्यटक आसानी से टैक्सी और कैब की मदद से राष्ट्रीय उद्यान तक पहुंच सकते हैं, या जोशीमठ तक बस से करता कर सकते हैं और फिर राष्ट्रीय उद्यान के लिए एक साझा जीप ले सकते हैं।

5.2 नंदा देवी नेशनल पार्क रेल से कैसे पहुंचे – How To Reach Nanda Devi National Park By Train In Hindi

नंदा देवी नेशनल पार्क रेल से कैसे पहुंचे

नंदा देवी नेशनल पार्क निकटतम रेलहेड ऋषिकेश में है जो नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान से लगभग 280 किमी दूर है। ऋषिकेश रेलवे स्टेशन से नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान तक एक टैक्सी आसानी से पहुंचा जा सकता है या जोशीमठ तक बस पकड़ कर रेलवे स्टेशन से राष्ट्रीय उद्यान के लिए एक साझा जीप ले सकते हैं।

5.3 नंदादेवी राष्ट्रीय उद्यान कैसे पहुंचे सड़क मार्ग से – How To Reach Nanda Devi National Park By By Road In Hindi

नंदादेवी राष्ट्रीय उद्यान कैसे पहुंचे सड़क मार्ग से

आपको बता दें कि नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान, जोशीमठ के माध्यम से लता गाँव तक मोटर योग्य सड़कों से जुड़ा हुआ है, जो पार्क के लिए प्रवेश द्वार है। सार्वजनिक और निजी बसें आपको राज्य के अधिकांश हिस्सों से जोशीमठ तक आसान पहुंचा देंगी, जहाँ से आपको लता गाँव तक एक जीप साँझा करके या बस की मदद से पहुँच सकते हैं।

और पढ़े: सतपुड़ा राष्ट्रीय उद्यान घूमने पूरी जानकारी 

6. नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान का नक्शा – Nanda Devi National Park Map

7. नंदा देवी नेशनल पार्क की फोटो गैलरी – Nanda Devi National Park Images

View this post on Instagram

Crimson sunbird

A post shared by Dharmendra Rawat (@rawatdharmendra19) on

और पढ़े:

Write A Comment