Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Things To Do In Himachal Pradesh In Hindi, हिमाचल प्रदेश भारत का एक ऐसा राज्य है जो अपने पर्यटन शहरों, रिसॉर्ट्स, शानदार बर्फ से ढकी चोटियों और बहती नदी घाटियों के लिए जाना जाता है। हिमाचल प्रदेश के प्रमुख शहरों में मनाली, शिमला, कुल्लू, डलहौजी, कसौली, भागसू, धर्मशाला और चंबा सहित कई पर्यटन शहरों के नाम शामिल हैं। हिमाचल प्रदेश के पर्यटन स्थलों की यात्रा करने के अलावा भी पर्यटक यहाँ एडवेंचर खेलों का मजा भी ले सकते हैं, जो यात्रा को बेहद यादगार बन देंगे। हिमाचल प्रदेश अपने पर्यटन स्थलों के साथ विभिन्न गतिविधियों जैसे स्कीइंग, ट्रेकिंग, एंगलिंग, रिवर राफ्टिंग, आइस स्केटिंग, पैराग्लाइडिंग और रॉक क्लाइम्बिंग के लिए भी प्रसिद्ध है।

शानदार पहाड़ों और नदियों की घाटियों के साथ हिमाचल प्रदेश भारत के साहसिक खेल का मैदान है। पर्यटक अपनी यात्रा के साथ हिमाचल प्रदेश में साहसिक गतिविधियों में भाग लेकर अपने जीवन आनंद उठा सकते हैं। अगर आप हिमाचल प्रदेश के विभिन्न पर्यटन स्थलों में साहसिक गतिविधियों (Adventure Activities) का मजा लेना चाहिए तो इस लेख को जरुर पढ़ें, इसमें हम आपको हिमाचल प्रदेश में होने वाली एडवेंचर एक्टिविटी के बारे में बताने जा रहें हैं।

1. हिमाचल प्रदेश में एडवेंचर एक्टिविटी ट्रेकिंग – Trekking Adventure Sports Activities In Himachal Pradesh In Hindi

हिमाचल प्रदेश में एडवेंचर एक्टिविटी ट्रेकिंग

ट्रेकिंग हिमाचल प्रदेश की प्रमुख साहसिक गतिविधि है। यहां के विभिन्न पर्यटन स्थलों पर पर्वतों और जगलों से होकर ट्रेकिंग करना और रास्तों में नदियों, झरनों और हरे भरे पर्वतों को देखना पर्यटकों को एक शानदार अनुभव करवाता है। यहाँ पर पर्यटक अपनी इच्छा या विशेषज्ञता के अनुसार भिन्न अवधि और कठिनाई स्तर के ट्रेकिंग मार्ग का चयन कर सकते हैं। हम्पा दर्रा के लिए ट्रेकिंग करना काफी लोकप्रिय है। जिन की लोगों ने इस यहां पर ट्रेकिंग की है वो इसकी काफी तारीफ करते थकते नहीं हैं। आइये हम आपको हिमाचल प्रदेश में ट्रेकिंग करने लायक जगहों के बारे में बताते हैं।

1.1 हम्प्टा पास ट्रेकिंग – Hampta Pass Trekking in Hindi

हम्प्टा पास ट्रेकिंग

 

हम्प्टा दर्रा, हिमाचल प्रदेश के मनाली क्षेत्र में स्थित है, जो सबसे सुविधाजनक और सुखद ट्रेकों में से एक है। इस ट्रेक में प्रकृति की सुंदरता के साथ देवदार के जंगल, प्राचीन ग्लेशियल घाटियां और विशाल घास के मैदान शामिल हैं। बता दें कि हम्प्टा पास समुद्र तल 14000 फीट की ऊँचाई पर स्थित है। यह 5 दिन का ट्रेक है और मनाली से शुरू होता है।

1.2 मलाना चंदेरखानी पास ट्रेकिंग – Malana Chanderkhani Pass Trekking in Hindi

मलाना चंदेरखानी पास ट्रेकिंग

मलाना चंदेरखानी पास ट्रेक मनाली से शुरू होता है और यह आपको लगभग अधिकतम 12000 फीट ऊंचाई तक ले जाता है। भले ही यह ट्रेक 4 दिनों का है लेकिन यह हिमाचल प्रदेश के सबसे चुनौतीपूर्ण ट्रेकों में से एक है।

1.3 पिन पार्वती पास ट्रेकिंग – Pin Parvati Pass Trekking in Hindi

पिन पार्वती पास ट्रेकिंग

पिन पार्वती दर्रा एडवेंचर पसंद करने वाले ट्रेकर्स के लिए एक आदर्श पर्यटन स्थल के रूप में काम करता है। बता दें कि यह एक अद्भुत ट्रांस हिमालयन ट्रेक है जो कठिन रास्तों से 17450 फीट की अधिकतम ऊंचाई तक लेकर जाता है। एक कठिन ट्रेक होने की वजह से अनुभवी ट्रेकर्स को ही यहां ट्रेकिंग करने की सलाह दी जाती है क्योंकि यहां पार्वती नदी और उसकी विभिन्न सहायक नदियों को पार करना थोड़ा दिक्कत भरा हो सकता है।

और पढ़े: पिन वैली नेशनल पार्क घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल 

1.4 स्पीति वैली ट्रेकिंग – Spiti Valley Trekking in Hindi

स्पीति वैली ट्रेकिंग

स्पीति वैली दुनिया में सबसे दुर्गम स्थानों में से एक है। ट्रेकिंग के माध्यम से इस घाटी को एक्सप्लोर करना पर्यटकों को एक खास अनुभव प्रदान करता है। अपनी ट्रेकिंग के दौरान पर्यटक कुछ उच्चतम और अद्भुत मठों की यात्रा कर सकते हैं और एक होमस्टे के रूप में यहां के स्थानीय लोगों के साथ रह सकते हैं। यहां के रास्तों पर ट्रेकिंग करना अपनी जिंदगी को एक यादगार अनुभव देगा।

और पढ़े:  स्पीति घाटी घूमने की जानकारी और आकर्षक स्थल 

2. हिमाचल प्रदेश में एडवेंचर एक्टिविटी स्कीइंग – Skiing Adventure Activities In Himachal Pradesh In Hindi

हिमाचल प्रदेश में एडवेंचर एक्टिविटी स्कीइंग

मनाली के मुख्य शहर के उत्तर पश्चिम में 14 किलोमीटर दूर सोलंग घाटी हिमाचल प्रदेश के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक है। सोलांग, मनाली से रोहतांग के रास्ते पर स्थित है जो हर साल भारी संख्या में पर्यटकों और एडवेंचर के शौकीनों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। सोलंग घाटी में स्कीइंग के सर्दियों का मौसम सबसे अच्छा माना जाता है। सोलंग घाटी समुद्र तल से 8400 फीट की ऊंचाई पर स्थित होने की वजह से यहां की ढलाने स्कीइंग के लिए एक दम परफेक्ट हैं और दुनिया की सबसे अच्छी प्राकृतिक ढलानों में शामिल है।

2.1 सोलंग घाटी में स्कीइंग का सीजन – Season Of Skiing In Solang Valley In Hindi

सोलंग घाटी में स्कीइंग का सीजन

सोलंग घाटी में स्कीइंग बर्फ की उपलब्धता पर निर्भर करती है। यहां पर्यटक केवल केवल दिसंबर, जनवरी और फरवरी के महीनों में स्कीइंग का मजा ले सकते हैं जब यहां पर बर्फ गिरती है।

और पढ़े:  सोलंग वैली घूमने के बारे में संपूर्ण जानकारी 

2.2 सोलंग घाटी में स्कीइंग के लिए अच्छा समय – Good Time For Skiing In Solang Valley In Hindi

सोलंग घाटी में स्कीइंग के लिए अच्छा समय

सोलंग घाटी में स्कीइंग का अच्छा समय दिन में दोपहर के दौरान होता है जब सूरज अपने सबसे मजबूत स्थान पर होता है। यह समय स्कीइंग जैसी गतिविधि के लिए आदर्श है, क्योंकि गर्मी बर्फ को रोएँदार बनाए रखेगी और बर्फ में बदलने से रोकेगी।

3. हिमाचल प्रदेश में एडवेंचर एक्टिविटी बीर बिलिंग पैराग्लाइडिंग – Paragliding In Bir Billing Adventure Tourism In Himachal Pradesh In Hindi

हिमाचल प्रदेश में एडवेंचर एक्टिविटी बीर बिलिंग पैराग्लाइडिंग

 

अगर आप हिमाचल प्रदेश में पैराग्लाइडिंग का मजा लेना चाहते हैं तो गर्मियों के मौसम में इस साहसिक गतिविधि के लिए एकदम परफेक्ट है। हिमाचल प्रदेश में बीर-बिलिंग मुख्य रूप से पैराग्लाइडिंग के लिए जाना जाता है जो हर साल भारी संख्या में पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। पैराग्लाइडिंग के लिए एक आदर्श जगह होने की वजह से मार्च से नवंबर तक के महीनों में हजारों पर्यटकों यहां पैराग्लाइडिंग के लिए आते हैं। इस जगह के खूबसूरत पहाड़, हरियाली, मौसम के साथ यहां का शांत वातावरण पैराग्लाइडिंग के लिए अनुकूल है।

आपको बता दें कि पैराग्लाइडिंग की बीर टेक-ऑफ साइट है और बिलिंग, बीर लगभग 14 किमी की दूरी पर स्थित है, जो कि लैंडिंग साइट है। अगर आप पैराग्लाइडिंग के शौकीन है तो इस जगह पर जरुर जाएं। पैराग्लाइडिंग विश्व कप भारत में पहली बार साल 2015 में बीर-बिलिंग में हुआ था। बीर-बिलिंग अपने पैराग्लाइडिंग अनुभवों के लिए देश के लोगों के साथ-साथ साथ विदेशियों के साथ भी उतना ही प्रसिद्ध है।

3.1 बीर बिलिंग में पैराग्लाइडिंग की कीमत– Cost Of Paragliding In Bir Billing In Hindi

बीर बिलिंग में पैराग्लाइडिंग की कीमत

बीर बिलिंग में पैराग्लाइडिंग की 30 मिनट की उड़ान के लिए 2,500 प्रति व्यक्ति लिए जाते हैं और यह भारत में पैराग्लाइडिंग के लिए सबसे सस्ती जगहों में से एक है। यहाँ कई स्थानों पर पैराग्लाइडिंग की पेशकश की जाती है, 10-15 मिनट की उड़ान के लिए 1,500 से 2,000 लिए जाते हैं।

और पढ़े:  बीर बिलिंग में पैराग्लाइडिंग की जानकारी

4. हिमाचल प्रदेश में एडवेंचर एक्टिविटी कैंपिंग – Camping Things To Do In Himachal Pradesh In Hindi

हिमाचल प्रदेश में एडवेंचर एक्टिविटी कैंपिं

अगर आप हिमाचल प्रदेश में विभिन्न पर्यटन स्थलों की सैर करने के अलावा यहां पर कैंपिंग करना चाहते हैं तो बता दें कि यहां पर कई ऐसे सुंदर और शांत स्थान है जहाँ आप डेरा डाल सकते हैं। हिमाचल के ठंडे पर्यटन स्थलों की यात्रा करना और यहां पर शिविर लगाना पर्यटकों को एक यादगार अनुभव प्रदान करता है। आइये हम आपको हिमाचल प्रदेश में कैंपिंग के लिए अच्छे स्थानों के बारे में बताते हैं।

4.1 शिमला में कैंपिंग – Camping in Shimla

शिमला में कैंपिंग

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला कैंपिंग के लिए राज्य के सबसे प्रमुख स्थानों में से एक है। इसकी सुंदरता, शांत मौसम इसे डेरा डालने और शांति से समय बिताने के लिए एक आदर्श स्थल बनाते हैं।

और पढ़े:  शिमला में घूमने की 15 जगह

4.2 जुन्गा में कैंपिंग – Camping in Junga

जुन्गा में कैंपिंग

हिमाचल प्रदेश में स्थित जुन्गा में प्रकृति की गोद में बसा सदाबहार बर्फ के पहाड़ों के मोहक दृश्य के साथ एक अच्छा स्थान है जो कैंपिंग के लिए एक दम परफेक्ट है। इस जगह की मध्यवर्ती ऊंचाई और तापमान में कम भिन्नता है।

4.3 शोघी में कैंपिंग – Camping in Shoghi

हिमाचल प्रदेश में समुद्र से लगभग 5700 फीट ऊपर स्थित, शोगी राज्य में टेंट (कैंपिंग के लिए) लगाने के लिए एक बेहद खास और अदभुद जगह है। यहां की चीड़ के पेड़ों से छनती हुई सुगंधित हवा आपको हमेशा तरोताजा रखेगी।

4.4 धर्मशाला में कैंपिंग – Camping in Dharamsala

धर्मशाला में कैंपिंग

धर्मशाला हिमाचल प्रदेश का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है जहां पर पर्यटन स्थलों की सैर करने के साथ पर्यटक तंबू में रहते हुए, इस क्षेत्र और धौलाधार रेंज के दृश्यों के बहुत सारे फोटो क्लिक कर सकते हैं। धर्मशाला भी हिमाचल प्रदेश में कैंपिंग के लिए एक दम परफेक्ट जगह है।

4.5 काजा में कैंपिंग – Camping in Kaza

Camping in Kaza

काजा हिमाचल प्रदेश के कोने में स्पीति नदी के मैदानों पर एक शांत जगह है, जो पर्यटकों को अपने शांत वातावरण और आकर्षण से बेहद प्रभावित करती है। काजा समुद्र से लगभग 12000 फीट ऊपर एक समर हॉलिडे डेस्टिनेशन है और अपने करामाती परिदृश्य के लिए जाना जाता है। पर्यटक यहां पर कैंप लगाकर अपनी यात्रा का पूरा मजा ले सकते हैं।

और पढ़े: काजा घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल 

4.6 सांगला घाटी में कैंपिंग – Camping in Sangla Valley

सांगला घाटी में कैंपिंग

सांगला घाटी को किन्नौर की सबसे खूबसूरत जगह माना जाता है। यहां पर कैंपिंगसाइट समुद्र तल से 2600 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। इस घाटी के ढलान देवदार, देवदार, अखरोट, खुबानी के पेड़, सेब के बाग, खेत और सुरम्य घाटों के बीच पर्यटक कैंपिंग का मजा ले सकते हैं।

4.7 सोजा में कैंपिंग – Camping in Sojha

सोजा में कैंपिंग

हिमाचल प्रदेश में स्थित सोजा गांव की ऊंचाई लगभग 8860 फीट की उंचाई पर स्थित है और यहां का परिदृश्य पूरी तरह से शंकुधारी पेड़ों से ढका है। चेरी और सेब के गुच्छे जगह को भी सुंदर बनाते हैं, और यहाँ की जाने वाली चीजों में कैंपिंग, ट्रेकिंग और वाइल्डलाइफ स्पॉटिंग शामिल हैं।

5. हिमाचल प्रदेश में एडवेंचर एक्टिविटी मोटरबाइकिंग – Adventurous Motor Biking Activities In Himachal Pradesh In Hindi

हिमाचल प्रदेश में एडवेंचर एक्टिविटी मोटरबाइकिंग

हिमाचल प्रदेश के कुछ बेहतरीन एडवेंचर टूर आपको पहाड़ों की कठिन और घुमावदार सड़कों से मनाली-लेह तक ले जाते हैं। पर्यटक यहां पर गाटा लूप्स, मोरे प्लेन्स, बारालाचा ला, खारदुंगला, नुब्रा वैली, कारगिल, द्रास, पैंगोंग त्सो, कीलोंग, तानलांग ला और रुमसे जैसे पर्यटन साइटों के माध्यम से ड्राइव करते हुए मोटरबाइकिंग का मजा ले सकते हैं। यहां के मैदानों का समतल इलाका पर्यटकों को आरामदायक ड्राइविंग का अनुभव देते देते हैं।

5.1 दिल्ली से मनाली के रास्ते स्पीति मोटरबाइक अभियान

दिल्ली से मनाली के रास्ते स्पीति मोटरबाइक अभियान

भारत की सबसे अनएक्सप्लोर और ऑफबीट स्थलों में 11 दिनों की बाइक यात्रा करने से ज्यादा साहसिक और कुछ नहीं हो सकता है। हिमाचल प्रदेश में 1000 साल पुराने मठों और चंद्रताल झील के बदलते रंग, स्पीति के परिदृश्य, और हिमालय की चोटियों को देखते हुए मोटरबाइकिंग का मजा लेना आपको एक खास अनुभव देगा।

5.2 मनाली से लद्दाख तक मोटरबाइक अभियान

मनाली से लद्दाख तक मोटरबाइक अभियान

मनाली से लद्दाख तक बाइक से यात्रा करना आपको स्वर्ग की सैर कराने और हिमालय के बीच 12 दिन बिताने के लिए एक बहुत अच्छा तरीका है। यह बाइक ट्रिप आपको सुंदरता और रोमांच एक अनोखा मिश्रण पेश करेगी। हिमाचल प्रदेश के दूरदराज के गांवों से लेकर हाई एल्टीट्यूड की भूमि तक, बाइकर्स अपने सपनों की बाइक यात्रा में खूबसूरत घाटियों को एक्सप्लोर कर सकते हैं।

और पढ़े:  लेह लद्दाख ट्रिप के बारे में संपूर्ण जानकारी 

6. हिमाचल प्रदेश में रिवर राफ्टिंग – River Raftig In Himachal Pradesh In Hindi

 हिमाचल प्रदेश में रिवर राफ्टिंग

रिवर राफ्टिंग एक ऐसा साहसिक खेल है जो एडवेंचर प्रेमियों को बेहद पसंद आता है। आपको बता दें कि हिमाचल प्रदेश भारत का एक ऐसा राज्य है जो अपने खास पर्यटन स्थलों के अलावा रिवर राफ्टिंग के लिए भी काफी लोकप्रिय है। हिमाचल प्रदेश में रिवर राफ्टिंग करने के लिए भी जाना जाता है। जब यहां के पर्वतों की बर्फ पिघलती है तो नदियों का स्तर काफी बढ़ जाता है। अगर आप एक एडवेंचर और प्रकृति प्रेमी हैं तो यहां की नदियों में रिवर राफ्टिंग करना जरुर पसंद करेंगे। हिमाचल प्रदेश की नदियाँ काफी रोमांचक और काफी बहाव वाली हैं, जो रिवर राफ्टिंग के लिए एकदम सही है। अगर आप हिमाचल प्रदेश की यात्रा पर है या यात्रा करने की योजना बना रहे हैं और रिवर राफ्टिंग का मजा भी लेना चाहते हैं तो बता दें कि यहां पर रिवर राफ्टिंग के लिए लाहौल में चेनाब, चंबा के पास रावी, शिमला के पास सतलुज और कुल्लू के पास ब्यास चार प्रमुख नदियाँ है, जो हिमाचल प्रदेश निकलती हैं। आइये अब हम आपको हिमाचल प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में होने वाली रिवर राफ्टिंग के बारे में बताते हैं।

6.1 शिमला के पास सतलुज में रिवर राफ्टिंग – River Rafting In Sutlej Near Shimla Himachal Pradesh In Hindi

शिमला के पास सतलुज में रिवर राफ्टिंग

सतलुज नदी भारतीय हिमालय में बहने वाली सबसे चुनौतीपूर्ण नदियों में से एक है। सतलुज नदी पर राफ्टिंग तातापानी के आसपास के क्षेत्र में की जाती है। इस स्थान सल्फर स्प्रिंग्स से अपना नाम मिलता है। यह शिमला से 50 किमी दूर है और यहां पर पर्यटक कार से आसानी से पहुँचा जा सकता है। सतलुज नदी के ठंडे पानी में रिवर राफ्टिंग करना पर्यटकों को एक खास अनुभव प्रदान करता है। सतलुज नदी भारत की सबसे लंबी नदियों में से एक है जहां राफ्टिंग करना बहुत मज़ेदार और रोमांचक साबित हो सकती है। आकर्षक परिदृश्यों के साथ पर्यटक इस गतिविधि के लिए मई और जून के शिमला की यात्रा कर सकते हैं। पर्यटक चब्बा (12 किलोमीटर) से तत्तापानी या सुन्नी (5 किलोमीटर) से तत्तापानी तक रिवर राफ्टिंग का मजा ले सकते हैं। इसके अलावा अन्य विकल्प के रूप में पंडोवा से तत्तापानी मार्ग को भी शामिल कर सकते हैं।

6.2 चंबा के पास रावी में रिवर राफ्टिंग – River Rafting In Ravi Near Chamba In Hindi

चंबा के पास रावी में रिवर राफ्टिं

रिवर राफ्टिंग चंबा के लोकप्रिय खेलों में से एक है, जिसे रावी और साला नदी में किया जा सकता है। पर्यटकों को यह सलाह दी जाती है कि वे जून और अक्टूबर के महीनों के बीच इस जगह की यात्रा करें। चंबा में रिवर राफ्टिंग का मजा लेने के लिए पर्यटक सरकारी या निजी टूर ऑपरेटरों से संपर्क कर सकते हैं।

और पढ़े: हिमाचल प्रदेश के चंबा के दर्शनीय स्थल और घूमने की जानकारी 

6.3 हिमाचल प्रदेश में स्पीति नदी पर रिवर राफ्टिंग – River Rafting Spiti River Himachal Pradesh In Hindi

हिमाचल प्रदेश में स्पीति नदी पर रिवर राफ्टिंग

हिमाचल प्रदेश राज्य में स्पीति नदी में रिवर राफ्टिंग करना आपकी जिंदगी को एक शानदार अनुभव देगा। स्पीति नदी भारत में रिवर राफ्टिंग करने की सबसे अच्छी जगहों में से एक है। यहां आप पानी में 6 दिनों तक रह सकते हैं और यहां के स्थानीय गांवों की झलक, बर्फ से ढके ग्लेशियर और वातावरण आपकी राफ्टिंग को बेहद यादगार बना देंगे। राफ्टिंग ट्यूटिंग क्षेत्र से शुरू होती है और पासीघाट को कवर करती है जिसका समापन बिंदु सूमो है। यहां जाने का सबसे अच्छा समय जुलाई और अगस्त के महीनों में है।

और पढ़े: हिमाचल प्रदेश में रिवर राफ्टिंग 

6.4 ब्यास नदी-कुल्लू मनाली में रिवर राफ्टिंग – Beas River Kullu Manali White Water Rafting In Hindi

ब्यास नदी-कुल्लू मनाली में रिवर राफ्टिंग

कुल्लू मनाली में ब्यास नदी रिवर राफ्टिंग के लिए भारत की सबसे अच्छी जगहों में से एक है। यहाँ पर रिवर राफ्टिंग पिरडी से शुरू होती है और झुरी पर समाप्त होती है। यहां पर साल में मार्च और जुलाई के महीनों में आप राफ्टिंग के लिए जा सकते हैं। पिरडी से राफ्टिंग मार्ग में बाजौरा, साराबाई, भुंतर और शमशी, मोहाल, रायसोल और कट्रेन शामिल हैं। रैपिड्स रोमांच और सबसे लंबा होने के कारण सबसे ज्यादा पसंद किया जाने वाला मार्ग पिरडी से लेकर बाजौरा तक है। यह मार्ग 14 किमी का है और इसको पूरा करने में लगभग 1.5 घंटे का समय लगता है। पीरडी से भुंतर तक का मार्ग भी राफ्टिंग के लिए बेहद सुखद है।

6.5 लाहौल में चंद्रभागा (चिनाब) में रिवर राफ्टिंग – River Rafting In Chandrabhagga (Chenab) In Lahaul In Hindi

लाहौल में चंद्रभागा (चिनाब) में रिवर राफ्टिंग

लाहौल और स्पीति क्षेत्र साल 2011 में रिवर राफ्टिंग सहित अन्य वाटर स्पोर्ट्स को शुरू किया गया था। कोकसर, लाहौल स्पीति क्षेत्र में रिवर राफ्टिंग के लिए प्रारंभिक बिंदु है। यह मार्ग टाँडी तक 90 किलोमीटर की दूरी तक जाता है। इसके अलावा यहां एक और अन्य मार्ग है जो कीलोंग-लेह मार्ग पर 70 किमी की दूरी पर दारचा से उदयपुर की ओर जाता है।

और पढ़े:

Write A Comment