भारत में 17 सर्वश्रेष्ठ और रोमांचक ट्रेक्स – 17 Best And Thriller Treks In India In Hindi

17 Best And Thriller Treks In India In Hindi, अगर कहा जाए कि ट्रेकिंग भारत में सबसे लोकप्रिय साहसिक खेलों में से एक है, जो विश्व प्रसिद्ध है तो शायद यह कहना बिलकुल गलत नही होगा। भारत अपने पर्यटकों के लिए एक से बढ़कर एक ट्रेक मार्ग की पेशकश करता है जो बिभिन्न रोमांच से भरे हुए है और यह ट्रेक आसान से लेकर बेहद कठिन हैं। भारत के इन रोमांचक ट्रेक्स पर ट्रेकिंग करना आपके जीवन का यादगार अनुभव हो सकता है, जो आपको एक उच्च एड्रेनालाईन रश और प्रकृति के चमत्कारों के करीब आने का मौका प्रदान करता है। इस तरह के ट्रेक्स में वनस्पतियों, जीवों, मानव निर्मित संरचनाओं, सांस्कृतिक अनुभवों, का मिश्रण देखा जा सकता हैं। यदि आप भी ऐसे अद्भुत और रोमांच से भरपूर ट्रेक मार्गो की तलाश में हैं, तो भारत के प्रमुख और रोमांच से भरपूर ट्रेक मार्गो की जानकारी के लिए आप हमारे इस लेख को पूरा अवश्य पढ़े, जहाँ हमने आपके लिए भारत के सबसे 17 सर्वश्रेष्ठ और रोमांचक ट्रेक्स की सूची तैयार की है-

हम्प्टा दर्रा ट्रेक – Hampta Pass Trek In Hindi

हम्प्टा दर्रा ट्रेक – Hampta Pass Trek In Hindi

भारत के सबसे साहसिक ट्रेको में से एक हम्प्टा दर्रा ट्रेक कुल्लू घाटी के हम्प्टा गाँव से शुरू होकर लाहौल और स्पीति घाटी के चतरू में समाप्त होता है जो लगभग 35 किमी का है। बता दे हम्प्टा दर्रा ट्रेक की ऊंचाई 4400 मीटर है और इसकी रोमंचक ट्रेकिंग के लिए 4 से 5 दिनों तक समय लगता है। यदि यह आपका पहला उच्च ऊंचाई वाला ट्रेक है, तो यह आपके लिए एक आदर्श विकल्प है। इस ट्रेक में आप क्षेत्र की सुंदरता का अनुभव कर सकते हैं, जहाँ  चौड़ी हरी चरागाहें, हिमाच्छादित घाटियाँ और उदात्त पहाड़, ये प्रकृति के कुछ ऐसे चेहरे हैं जो इस ट्रेक को रोमांचक के साथ साथ मनमोहनीय भी बनाते  है।

बता दे हम्प्टा दर्रा ट्रेक में आप बर्फ से ढकी घाटियों, घने देवदार के जंगलों, फूलों के मेड़ों, क्रिस्टल के साफ पानी की धाराओं, का आनंद लेते हुए हिमालयी अविफुना और अंत में लाहौल-स्पीति की बंजर भूमि से गुजरते हुए इसे रोमांचक ट्रेक को समाप्त करते हैं। इसके साथ में आप अपनी ट्रेकिंग में चंद्रा ताल पर रात्रि शिविर प्रवास में भी शामिल हो सकते है।

  • क्षेत्र – पीर पंजाल रेंज
  • ऊंचाई – 3850 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 4-5 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – सितम्बर और अक्टूबर के मध्य

चादर ट्रैक –  Chadar Trek In Hindi

चादर ट्रैक -  Chadar Trek In Hindi

चादर ट्रैक लेह लद्दाख के सबसे कठिन और सबसे साहसिक ट्रेक में से एक है। इस ट्रैक को चादर ट्रैक इसलिए कहा जाता है क्योंकि जांस्कर नदी सर्दियों के दौरान नदी से बर्फ की सफेद चादर में बदल जाती है। चदर फ्रोजन रिवर ट्रेक दूसरे ट्रेकिंग वाली जगह से बिलकुल अलग है। चादर ट्रेक के माध्यम से आप ट्रांस जंस्कार पर्वतमाला में स्थित प्राचीन बौद्ध मठों और एकांत गांवों की यात्रा का आनंद ले सकते है।

  • क्षेत्र – लद्दाख
  • ऊंचाई – 3850 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 13 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – मध्य जनवरी-फरवरी

और पढ़े : लेह लद्दाख में घूमने लायक टॉप 15 पर्यटन स्थल की जानकारी

कंचनजंगा बेस कैंप ट्रेक – Kanchenjunga Base Camp Trek In Hindi

कंचनजंगा बेस कैंप ट्रेक - Kanchenjunga Base Camp Trek In Hindi
Image Credit : Prashant-K

कंचनजंगा बेस कैंप ट्रेक भारत में सबसे रोमांचक ट्रेक में से एक है। 8586 मीटर की ऊँचाई पर स्थित कंचनजंगा पर्वत चोटी दुनिया की तीसरी सबसे ऊँची चोटी है। पश्चिम सिक्किम के एक नींद गांव से शुरू होने वाले इस ट्रेक पर आप फ्राय पीक से काबरू पीक तक के मनोरम दृश्यों का आनंद ले सकते हैं। ट्रेक के दौरान, आपको राठोंग नदी, सुंदर ऑर्किड, दुर्लभ पक्षी और सदाबहार फ़र्न प्लांटेशन के भव्य दृश्य पेश किए जाते हैं। जबकि  इस ट्रेक का मुख्य आकर्षण दज़ोंगरी को पार करने वाला मार्ग है जो पूरी तरह रोमांच से भरा हुआ है। जो आपको तशोका हैमलेट के पीछे ले जाता है, इसके बाद पांडिम, थेचिंखांग और झुपोनू पर्वत से होते हुए ट्रेक समाप्त हो जाता है।

  • क्षेत्र – सिक्किम हिमालयन
  • ऊंचाई – 4940 मी
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 10 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – सितम्बर और अक्टूबर के मध्य

गोमुख तपोवन ट्रेक – Gomukh Tapovan Trek In Hindi

गोमुख तपोवन ट्रेक - Gomukh Tapovan Trek In Hindi

गोमुख तपोवन ट्रेक को भारत में सबसे अच्छा ट्रैकिंग स्थल कहा जा सकता है, क्योंकि यह ट्रेकिंग के साथ साथ अद्भुत पर्यटन स्थल प्रदान भी करता है, और इससे आध्यात्मिक महत्व भी जुड़ा हुआ है। ट्रेक पवित्र भागीरथी नदी के किनारे से शुरू होती है इसीलिए इसे आमतौर पर गोमुख तपोवन ट्रेक के रूप में जाना जाता है। तपोवन का शिविर हिमालय के कुछ दुर्लभ स्थलों को प्रस्तुत करता है। गोमुख तपोवन ट्रेकिंग में आठ चोटियों शिवलिंग, चतुरंगी, मेरु पर्वत, भृगुपंत और सुदर्शन गंगोत्री ग्लेशियर के साथ शानदार दृश्य प्रस्तुत करने वाली कई अन्य चोटियाँ भी इस ट्रेक का आकर्षक हिस्सा हैं। ट्रेक के दौरान, आप हरे-भरे घास के मैदान में भी घूमते हुए गढ़वाल हिमालय की विशाल चोटियाँ के सुंदर दृश्यों को महसूस कर सकते हैं। गोमुख तपोवन ट्रेक रोमांचकारी शौकीनों के लिए आदर्श जगह है लेकिन ट्रेकिंग करने से पहले ये सुनश्चित करे लें की आप पूरी तरह स्वस्थ और फिट है।

  • क्षेत्र – गढ़वाल हिमालय
  • ऊंचाई – 4465 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 9 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – मई या अक्टूबर के मध्य

मारखा घाटी ट्रेक – Markha Valley Trek In Hindi

मारखा घाटी ट्रेक - Markha Valley Trek In Hindi

मारखा घाटी लद्दाख क्षेत्र की सबसे बड़ी घाटियों में से एक है और यह घाटी इस क्षेत्र में सबसे लंबी पैदल यात्रा ट्रेल्स में से एक है। लद्दाख के सबसे प्रसिद्ध ट्रेकों में से एक, मारखा घाटी की ट्रेकिंग दूरदराज के पहाड़ी दर्रों, विचित्र मठवासी बस्तियों, और कांग यात्ज़ पीक के सिल्हूट में निमलिंग के हल्के अल्पाइन घास के मैदानों से गुजरती है। मारखा घाटी ट्रेक मार्ग में अधिकाँश गावों में आपको रुकने के लिए पैराशूट टेंट आवास मिलते है जहाँ आप ट्रेकिंग के दौरान रात रुक सकते हैं। ठंडी रेगिस्तानी घाटी की ट्रेकिंग में पर्यटकों को ज़ांस्कर और लद्दाख पर्वतमाला, कांग यात्ज़े और स्टोक कांगड़ी के मनोरम दृश्य देखने को  मिलते है। इस ट्रेक एक और रोमांचक हिस्सा मारखा नदी है जिसे ट्रेकर्स को पार करना होता है हालाकि यह नदी जाड्या गहरी नही होती है। इसके अलावा इस ट्रेक के बारे में और कई बातें हैं जो इस ट्रेक को आकर्षक और रोमांचक बनाती है।

  • क्षेत्र – लद्दाख हिमालय
  • ऊंचाई – 5150 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 10 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – जून या अक्टूबर के मध्य

कुरी पास ट्रेक – Kuari Pass Trek In Hindi

कुरी पास ट्रेक - Kuari Pass Trek In Hindi

भारत के सबसे रोमांचक ट्रेक्स में से एक कुरी पास ट्रेक हिमालयन रेंज की बर्फ से ढकी चोटियों की शानदार वादियों का आकर्षक दृश्य पेश करता है। ट्रेकिंग के शौकीनों के बीच प्रसिद्ध कुरी पास ट्रेक को लॉर्ड कर्जन ट्रेल के नाम से भी जाना जाता है। बता दे कुरी पास ट्रेक हरे-भरे घाटियों, जंगलों और छोटे गांवों से होकर गुजरता है। इसके साथ ही इस ट्रेक में ट्रकिंग के दौरान नंदादेवी, चौखम्बा, कामेट, हाथी-घोड़ी पर्वत और द्रोणागिरी की शानदार चोटियों के मनोरम दृश्यों को देखा जा सकता है। माना जाता है अपने आकर्षक और रोमांचक नजारों से कुरी पास ट्रेक हर साल हजारों भारतीय और विदेशी ट्रेकर्स को अपनी और आकर्षित करता है।

  • क्षेत्र – गढ़वाल हिमालय
  • ऊंचाई – 4268 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 9 -10 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – अर्प्रैल और जून या सितम्बर और नवम्बर के मध्य

और पढ़े : जाने भारत की 10 सबसे ऊँची चोटियों की जानकारी

पार्वती घाटी ट्रेक – Parvati Valley Trek In Hindi

पार्वती घाटी ट्रेक - Parvati Valley Trek In Hindi

पार्वती घाटी ट्रेक हिमालयी क्षेत्र में सबसे चुनौतीपूर्ण ट्रेक में से एक के रूप में माना जाता है, जो रोमांच की तलाश करने वालों के लिए एकदम सही है। यहाँ के चारों ओर के मनमोहक दृश्य आपको अपनी सुंदरता से मंत्रमुग्ध कर देंगे। पार्वती घाटी ट्रेक काफी लंबा और काफी हैरान कर देने वाला है लेकिन यह बेहद शानदार है। जैसे-जैसे ऊंचाई बढ़ती है, आसपास के घने जंगलों, हरे-भरे घास के मैदान और नदियाँ आपको अपने आकर्षण से मोहित कर देंगे। पार्वती घाटी ट्रेक, हिमालय पास ट्रेक के बाद सबसे ज्यादा पसंद किये जाने वाले ट्रेक में से एक है।

  • क्षेत्र – हिमाचल प्रदेश
  • ऊंचाई – 5335 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 15-16 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम –जून या अक्टूबर के मध्य

नंदा देवी ग्लेशियर ट्रेक – Nanda Devi Glacier Trek In Hindi

नंदा देवी ग्लेशियर ट्रेक – Nanda Devi Glacier Trek In Hindi

नंदा देवी ट्रेक कुमाऊं हिमालय का एक अद्भुत ट्रेक है जो आकर्षक नंदा देवी पूर्व बेस कैंप और अद्भुत मिलम ग्लेशियर की खोज करता है। नंदा देवी ट्रेक हिमालय पर्वत श्रृंखला का घर है, जो इसकी सबसे ऊंची चोटी है। हिमालय के इस हिस्से नंदा देवी चोटी ने कई खोजकर्ताओं और पर्वतारोहियों को मोहित किया है। बता दे नन्दा देवी ट्रेक, भारत के सबसे अच्छे ट्रेक में गिना जाता है, नंदा देवी ट्रेक गोरी गंगा के किनारे मिलम गाँव से होते हुए ईस्ट बेस कैंप तक जाता है, और हिमालय की मनोरम और सबसे प्रभावशाली पहाड़ी क्षेत्रों में में प्रवेश करता है।

  • क्षेत्र – कुमाऊं हिमालय
  • ऊंचाई – 4670 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 15-16 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – मई – जून या अक्टूबर के मध्य

 Dzongri गोएचा ला ट्रेक – Dzongri-Goecha La Trek In Hindi

Dzongri गोएचा ला ट्रेक – Dzongri-Goecha La Trek In Hindi

Dzongri गोएचा ला ट्रेक भारत में सबसे रोमांचक ट्रेको में से एक है जो साहसिक पर्यटकों के बीच प्रसिद्ध और लोकप्रिय बना हुआ है। बता दे यह ट्रेक युक्सोम शहर से शुरू होता है, जो अपने ऐतिहासिक महत्व के लिए प्रसिद्ध है। यहां आपको लोगों की पारंपरिक संस्कृति और जीवन शैली का पता लगाने का अवसर मिलता है। एक और बात जो आपका ध्यान आकर्षित करती है वह है लकड़ी की बाड़ लगाने की अनूठी शैली जो सौंदर्यवादी रूप से मनभावन है। यह ट्रेक आपको साचेन, बख्खिम, तशोखा, काचेनजुंगा नेशनल पार्क, कई लटके पुलों से होते हुए  सफेद और लाल रोडोडेंड्रॉन फूलों के साथ-साथ शानदार झरनों तक ले जाती है। चूंकि ट्रेक सिक्किम हिमालय के माध्यम से मार्ग का अनुसरण करता है, इसलिए आपको कंचनजंगा पर्वत के लुभावने दृश्यों को देखना का भी अवसर मिलता है।

  • क्षेत्र – सिक्किम हिमालय
  • ऊंचाई – 4940 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 10-11 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – मार्च- जून या सितम्बर से नवम्बर के मध्य

चोपता चंद्रशिला ट्रेक – Chopta Chandrashila Trek In Hindi

चोपता चंद्रशिला ट्रेक – Chopta Chandrashila Trek In Hindi

चोपता चंद्रशिला ट्रेक भारत के सबसे प्रसिद्ध और उच्च ऊंचाई वाले ट्रेको में से एक है। इसके अलावा चोपता चंद्रशिला ट्रेक भारत के चुनिन्दा ट्रेको में से एक है जिसकी ट्रेकिंग बर्ष के किसी भी समय की जा सकती है,हालांकि सर्दियों के मौसम में बर्फबारी के कारण यह ट्रेक कठिन हो जाता है क्योंकि चोपता के लिए रास्ता बंद हो जाता है। इस ट्रेक के दौरान केदारनाथ, चौखम्बा, नंदा देवी और त्रिशूल जैसे विभिन्न हिमालयी चोटियों के 360 ° दृश्यों को देखा जा सकता है। साथ ही यह क्षेत्र अल्पाइन वनस्पति की सुंदरता के लिए भी प्रसिद्ध है। जबकि ट्रेक का मुख्य आकर्षण भगवान शिव को समर्पित 1000 साल पुराना तुंगनाथ मंदिर हैं। लगभग 3048 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, तुंगनाथ मंदिर दुनिया में सबसे ऊंचा भगवान शिव मंदिर होने के लिए प्रसिद्ध है।

  • क्षेत्र – गढ़वाल हिमालय
  • ऊंचाई – 3962 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 5-6 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – मार्च- जून या सितम्बर से दिसम्बर के मध्य

और पढ़े : तुंगनाथ की चंद्रशिला शिखर घूमने की पूरी जानकारी

रूपकुंड ट्रेक – Roopkund Trek In Hindi

रूपकुंड ट्रेक - Roopkund Trek In Hindi

उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित रूपकुंड ट्रेक उत्तराखंड में सबसे लोकप्रिय ट्रेक में से एक है। रूपकुंड रोमांचक स्थान के साथ साथ रहस्यमयी स्थान के रूप में भी जाना जाता हैं, यह अपने पांच सौ कंकालों के लिए प्रसिद्ध है जो इसके किनारे पर पाए जाते हैं। इसी कारण से इसे मिस्ट्री लेक कहा जाता है।  रूपकुंड ट्रेक 3200 मीटर की ऊँचाई पर लोहाजंग से शुरू होता है जो आपको घास के मैदान, झरने और बेडनी बुग्याल जैसे स्थानों से होते हुए रूपकुंड झील तक ले जाता है। इनके अलावा ट्रेक का एक विशेष रूप से आकर्षक हिस्सा चांग मा के बर्फ से ढके पहाड़ पर चढ़ना है। जैसे ही ट्रेकिंग करके आप रूपकुंड झील पहुचते हैं यकीन मानिये तुरंत ही इसकी सुंदरता पर फिदा हो जायेगे।

  • क्षेत्र – गढ़वाल हिमालय
  • ऊंचाई – 5029 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 7-8 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – मार्च-जून

वैली ऑफ़ फ्लावर्स ट्रेक – Valley of Flowers Trek In Hindi

वैली ऑफ़ फ्लावर्स ट्रेक - Valley of Flowers Trek In Hindi

वैली ऑफ़ फ्लावर्स ट्रेक भारत के सबसे अच्छे ट्रेकिंग टूर में से है जो यूनेस्को की विश्व धरोहर में शामिल है।  इस क्षेत्र में 300 से अधिक प्रकार के अल्पाइन फूल हैं, इसके अलावा एक जैव विविधता भी है जो अपेक्षाकृत अछूती रही है। वैली ऑफ़ फ्लावर्स नंदा देवी बायोस्फीयर रिजर्व का एक हिस्सा है, और इसके लिए ट्रेक घांघरिया से शुरू होता है। बता दे वैली ऑफ़ फ्लावर्स ट्रेक का सबसे अच्छा समय मानसून का समय है, क्योंकि मानसून के मौसम के दौरान, यह प्राचीन घाटी विभिन्न प्रकार के हजारों रंगीन और उच्च-ऊंचाई वाले हिमालयी फूलों से भर जाती है जिससे यह एक स्वर्ग जैसी प्रतीत होती है। यदि आप ट्रेकिंग करते हुए मनमोहनीय सुन्दरता में खोना चाहते है तो वैली ऑफ़ फ्लावर्स की ट्रेकिंग आपने लिए रोमांचक और यादगार अनुभव हो सकता है।

  • क्षेत्र – गढ़वाल हिमालय
  • ऊंचाई – 4389 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 7-8 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – जुलाई और अगस्त के मध्य

और पढ़े : वैली ऑफ फ्लावर्स उत्तराखंड घूमने की पूरी जानकारी 

 आदि कैलाश ट्रेक – Adi Kailash Trek In Hindi

 आदि कैलाश ट्रेक - Adi Kailash Trek In Hindi

आदि कैलाश ट्रेक एक धार्मिक ट्रेक है जो आपको कुमाऊं हिमालय के केंद्र में ले जाता है। पिथौरागढ़ जिले में 6310 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, आदि कैलाश ट्रेक भारत के प्रमुख पर्वतारोहण स्थलों में से एक है। बता दे आदि कैलाश ट्रेक निश्चित रूप से आसान नहीं है इसीलिए यहाँ अनुभव प्राप्त पर्यटकों को ही ट्रेकिंग की सलाह दी जाती है। ट्रेकिंग में आप लामरी, बुधी, नाभि, नम्फा, कुट्टी, ज्योलींगकोंग, नबीढांग और काला पानी से होते हुए कैलाश पहुचते हैं। जहाँ आप ट्रेक के दौरान, अन्नपूर्णा, काली नदी, जंगलों और प्रसिद्ध नारायण आश्रम की शानदार पर्वत श्रृंखलाओं के सुंदर दृश्यों को महसूस कर सकते हैं। इनके अलावा यह ट्रेक आपको काली मंदिर में ले जाता है, जो भगवान शिव और देवी काली को समर्पित है।

  • क्षेत्र – कुमाओं हिमालय
  • ऊंचाई – 6191 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 11-12 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – जून और अक्टूबर

औली गोरसों बुग्याल ट्रेक – Auli Gorson Bugyal Trek In Hindi

औली गोरसों बुग्याल ट्रेक – Auli Gorson Bugyal Trek In Hindi

औली गोरसों बुग्याल ट्रेक उत्तराखंड में सबसे प्रसिद्ध ट्रेक में से एक है। यह ट्रेक आपको गढ़वाल हिमालय क्षेत्र के सबसे खूबसूरत स्थानों में ले जाता है। गर्मियों के मौसम में आप घास के मैदानों पर जाते हैं जहाँ छोटे-छोटे रंग-बिरंगे फूलों के पौधे हवा में जोर से नाचते हैं और आपके मन को प्रसन्न करते हैं। जबकि देवदार और ओक के पेड़ों के साथ अल्पाइन की सुन्दरता इस ट्रेक को और अधिक आकर्षक बनाती है। लेकिन गोरसों बुग्याल ट्रेक सर्दियों में बर्फ में ढंक जाता है, जिससे ट्रेक करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। इसीलिए औली गोरसों बुग्याल ट्रेक में ट्रेकिंग करने के लिए मई से जून का समय सबसे अच्छा समय होता है।

  • क्षेत्र – कुमाओं हिमालय
  • ऊंचाई – 6191 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 5-6 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – मई से जून

सैंडकफू ट्रेक – Sakdakphu Trek In Hindi

सैंडकफू ट्रेक – Sakdakphu Trek In Hindi

सैंडकफू ट्रेक (11,941 फीट) पश्चिम बंगाल की सबसे ऊँची चोटी है और इसे ‘ट्रेकर के वंडरलैंड’ के रूप में जाना जाता है। सैंडकफू ट्रेक मार्ग आपको दुनिया की पाँच सबसे ऊँची चोटियों में से चार का शानदार नज़ारा दिखाती है। संभवत: सबसे अच्छा दृश्य पर्वत कंचेंदज़ोंगा का है। इस ट्रेक का मुख्य आकर्षण रंगीन वनस्पतियां हैं जिनमें फ़र्न, ऑर्किड और मैगनोलियस शामिल हैं। जबकि  बौद्धों द्वारा पवित्र माने जाने वाला कालापोखरी या काला तालाब इस ट्रेक का एक और आकर्षण है। चूँकि यह एक कठिन ट्रेक है, इसलिए आपकी पूरी फिटनेस सुनिश्चित करने के बाद ही इस ट्रेक पर ट्रेकिंग करने का प्लान बनाये।

  • क्षेत्र – पश्चिम बंगाल
  • ऊंचाई – 11500 फिट
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 8-9 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – अप्रैल -मई और अक्टूबर- फरवरी के मध्य

चेनाप घाटी ट्रेक – Chenap Valley Trek In Hindi

चेनाप घाटी ट्रेक - Chenap Valley Trek In Hindi

चेनाप घाटी ट्रेक भारत के सर्वश्रेष्ठ ट्रेक मार्गो में से एक है, जो आपको क्षेत्र की सुंदरता का पता लगाने का अवसर प्रदान करता है। यह ट्रेक उन लोगों के लिए बहुत अच्छा है जो प्रकृति के साथ-साथ एकांत वातावरण को प्यार करते हैं। चेनाप घाटी ट्रेक आपको उत्तराखंड के चिनाब घाटी में स्थित चेनाप झील के प्राकृतिक सौंदर्य की ओर ले जाता है इसीलिए इसे भारत के सबसे अच्छे ट्रेक में गिने जाते हैं। चेनाप घाटी ट्रेक की ट्रेकिंग का मुख्य आकर्षण 500 प्रजातियों के फूलों से लदी हुई घाटी है जहाँ आप इन बिभिन्न फूलों की सुंदरता का आनंद ले सकते है।

  • क्षेत्र – गढ़वाल हिमालय
  • ऊंचाई – 2050 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 8-9 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – जून से सितम्बर के मध्य

ग्रीन लेक ट्रेक – Green Lake Trek In Hindi

ग्रीन लेक ट्रेक - Green Lake Trek In Hindi

ग्रीन लेक ट्रेक सिक्किम के सबसे प्रमुख ट्रेको में एक है जिसका आकर्षण इसकी अछूती सुंदरता और बर्फ से ढकी ट्रेक है। ग्रीन लेक ट्रेक के परिदृश्य बर्फीले झील, पहाड़ों, रंगीन मैदानी और घने जंगलों से युक्त है। ट्रेक का नाम ग्रीन लेक के नाम पर रखा गया है, जो कंचनजंघा चोटी के साथ अन्य राजसी चोटियों के अविश्वसनीय दृश्य प्रस्तुत करता है। बता दे ग्रीन लेक ट्रेक का पूरा मार्ग बोल्डर और घने रोडोडेंड्रन जंगलों से युक्त है और ट्रेक के दौरान आप फोडोंग मठ, काबी लोंगस्टोक, मंगन, चांगथांग और लाचेन के अविश्वसनीय दृश्यों को देख सकते हैं। जबकि इस ट्रेक का मुख्य आकर्षण बर्फ से ढका ट्रेक मार्ग है जो आपको ग्रीन लेक तक ले जाता है।

  • क्षेत्र – उत्तर सिक्किम हिमालय
  • ऊंचाई – 5050 मीटर
  • ट्रेकिंग का समय – लगभग 12-13 दिन
  • ट्रेकिंग का बेस्ट टाइम – अप्रैल और अक्टूबर के मध्य

और पढ़े :

Leave a Comment