Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Devprayag Information In Hindi देवप्रयाग भारत में उत्तराखंड राज्य के टिहरी गढ़वाल जिले का एक कस्बा है। यह एक पवित्र स्थान जहाँ से गंगा नदी भागीरथी और अलकनंदा नदियों के संगम के बाद निकलती है। यह स्थान पंच प्रयाग का भी एक हिस्सा है और हिंदू भक्तों के दिलों में इसका अत्यधिक महत्व है। देवप्रयाग में पूरे देश से सालभर हिंदू तीर्थयात्री और पर्यटक आते हैं। इस स्थान पर न केवल आध्यात्मिक माहौल है, बल्कि शांत वातावरण के बीच एकांत का आनंद लेने के लिए सबसे अच्छा स्थान है। नदियों और पहाड़ियों का मनमोहक दृश्य पर्यटकों को यहां खींच लाता है। यह उत्तराखंड के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में एक है।

  1. देवप्रयाग के बारे में रोचक तथ्य – Interesting Facts About Devprayag In Hindi
  2. देवप्रयाग से जुड़ी पौराणिक कथा – Story Of Devprayag In Hindi
  3. देवप्रयाग के आसपास घूमने की जगह – Places To Visit Near The Devprayag In Hindi
  4. देवप्रयाग क्यों जाएं – Why To Visit Devprayag In Hindi
  5. देवप्रयाग जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Devprayag In Hindi
  6. देवप्रयाग कैसे पहुंचें – How To Reach Devprayag In Hindi
  7. देवप्रयाग में रुकने की जगह – Where To Stay In Devprayag In Hindi
  8. देवप्रयाग का पता – Devprayag Location
  9. देवप्रयाग की फोटो गैलरी – Devprayag Images

1. देवप्रयाग के बारे में रोचक तथ्य – Interesting Facts About Devprayag In Hindi

  • देवप्रयाग का नाम संस्कृत से लिया गया है, जहां देव का अर्थ भगवान और प्रयाग का अर्थ संगम होता है। इस प्रकार देवप्रयाग का अर्थ  ईश्वर का संगम है।
  • देवप्रयाग में एक खगोल विज्ञान वेधशाला है जिसमें 2 दूरबीनें लगी हैं। यह पं चक्रधर जोशी द्वारा स्थापित किया गया था।
  • देवप्रयाग के किनारे एक ही राजमार्ग, रुद्रप्रयाग, कर्णप्रयाग, नंदप्रयाग, चमोली, जोशीमठ जैसे प्रमुख स्थानों को कवर करते हुए बद्रीनाथ तक जाता है।
  • देवप्रयाग में अलकनंदा शांत रूप से बहती है और  भागीरथी बहुत उबड़-खाबड़ होकर बहती है और जब वे विलीन होती हैं, तो पवित्र नदी गंगा का निर्माण करती हैं।
  • देवप्रयाग को सुदर्शन क्षेत्र के नाम से भी जाना जाता है। यहां की सबसे खास बात यह है कि यहां कौवे दिखायी नहीं देते हैं।

2. देवप्रयाग से जुड़ी पौराणिक कथा – Story Of Devprayag In Hindi

देवप्रयाग से जुड़ी पौराणिक कथा - Story Of Devprayag In Hindi

पौराणिक कथाओं के अनुसार भगवान राम जब रावण का वध करके लंका से भारत वापस आ रहे थे तब ऋषिमुनि ने उन्हें एक ब्राह्मण के वध के पाप के दोष को दूर करने के लिए देवप्रयाग में भागीरथी और अलकनंदा के संगम तट पर तपस्या करने के लिए कहा था। इसलिए भगवान राम ने नदियों के इस संगम स्थल पर साधना की थी। तभी से यह स्थान पवित्र माना जाता है। इसके अलावा यह भी मान्यता है कि राजा भागीरथ ने गंगा को जब पृथ्वी पर उतरने के लिए मनाया था तब स्वर्ग से करोड़ों देवी देवता उनके साथ ही देवप्रयाग में उतरे थे। इसलिए इसे देवी देवताओं का संगम और गंगा की जन्मभूमि माना जाता है।

और पढ़े: ज्वाला देवी मंदिर कांगड़ा

3. देवप्रयाग के आसपास घूमने की जगह – Places To Visit Near The Devprayag In Hindi

देवप्रयाग के आसपास घूमने की जगह - Places To Visit Near The Devprayag In Hindi

देवप्रयाग उत्तराखंड का एक ऐसा स्थल है जहां घूमने के लिए बहुत सारी जगहें नहीं हैं। इसलिए यदि आप देवप्रयाग की यात्रा करने जा रहे हैं तो इसके आसपास मौजूद कुछ सीमित स्थलों को देख सकते हैं।

3.1 संगम
यहां का नजारा बहुत ही अद्भुत है। यहां दो दिव्य नदियों का मिलन स्थान है जो पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है।

3.2 दशरथशिला
स्थानीय लोक कथाओं के अनुसार, यह माना जाता है कि राजा दशरथ ने इस स्थान पर तपस्या की थी। वह शिला आज भी मौजूद है जिसे देखा जा सकता है।

3.3 रघुनाथजी मंदिर
भागीरथी और अलकनंदा के संगम पर स्थित है। यह दस हजार साल से अधिक पुराने भगवान राम के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। मंदिर विशाल चट्टानों से बना है। जो देखने लायक है।

3.4 चंद्रबदनी मंदिर
यह देवी सती का मंदिर है और शक्तिपीठ में से एक है। कथाओं के अनुसार, जब भगवान शिव देवी सती की लाश को ले जा रहे थे, तब उनका धड़ इसी स्थान पर गिरा था। मंदिर बहुत छोटा है और इसमें मूर्ति की बजाय एक सपाट पत्थर रखा गया है।

3.5 सस्पेंशन ब्रिज
सस्पेंशन ब्रिज देवप्रयाग के लोकप्रिय आकर्षणों में से हैं, जो भागीरथी और अलकनंदा नदियों पर स्थित हैं। ये पुल पूरे शहर को एक सुंदर दृश्य प्रदान करता है।

3.6 तीन धारा
ऋषिकेश देवप्रयाग राजमार्ग पर स्थित एक रेस्टिंग प्लेस है। यहां नदियों की तीन धाराएं मिलती हैं जिन्हें एनएच 58 से देखा जा सकता है।

4. देवप्रयाग क्यों जाएं – Why To Visit Devprayag In Hindi

  • देवप्रयाग को रहस्यमयी अनुभव प्राप्त करने वाले और साहसिक गतिविधियों के लिए भी उपयुक्त माना जाता है।
  • लोग मुख्य रूप से भगवान से आशीर्वाद लेने और चिंतन मनन एवं ध्यान करने के लिए यहां आते हैं।
  • नीरसता को दूर करने के लिए देवप्रयाग एक उत्तम स्थान है। यहां आप अपनी छुट्टियां बेहतर तरीके से बिता सकते हैं।
  • यह जगह तीर्थयात्रा के लिए भी प्रसिद्ध है इसलिए आप घर के बूढ़े सदस्यों को इस स्थान की यात्रा करा सकते हैं।
  • देवप्रयाग न केवल एक पवित्र स्थान है बल्कि यह साहसिक खेलों का केंद्र भी है। आप यहां एक शानदार राफ्टिंग का आनंद ले सकते हैं। हालांकि, यदि आप बहुत सारे दर्शनीय स्थलों की तलाश कर रहे हैं, तो देवप्रयाग में ये नहीं मिलेगा।

और पढ़े: शेषनाग झील के बारे में जानकारी और रहस्य

5. देवप्रयाग जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Devprayag In Hindi

देवप्रयाग के सुंदर परिवेश, मंदिरों और धार्मिक एवं पवित्र स्थान होने के कारण पर्यटक इस स्थान पर साल भर आते हैं। हालांकि गर्मी के मौसम में देवप्रयाग की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय होता है। ग्रीष्मकाल देवप्रयाग में मध्यम ठंडी जलवायु काफी सुखद होती है इसलिए आम तौर पर मार्च से मई के बीच यहां अधिक संख्या में पर्यटक आते हैं। देवप्रयाग में जुलाई से सितंबर के महीनों में भारी वर्षा होती है। इस दौरान यहां की ताजगी और कायाकल्प करने वाली हरियाली देखने लायक होती है। लेकिन चूकिं पहाड़ी क्षेत्र होने के कारण भूस्खलन और बारिश की जोखिम के डर से इस मौसम में कम संख्या में पर्यटक यहां आते हैं।

6. देवप्रयाग कैसे पहुंचें – How To Reach Devprayag In Hindi

देवप्रयाग कैसे पहुंचें - How To Reach Devprayag In Hindi

देवप्रयाग में देश के कोने कोने से भारी संख्या में पर्यटक आते हैं। इसलिए यदि आप उत्तराखंड राज्य में स्थित देवप्रयाग की यात्रा करना चाहते हैं तो इसके लिए कई विकल्प मौजूद हैं। आइये जानते हैं देवप्रयाग कैसे पहुंचा जाए।

6.1 हवाई जहाज से

देवप्रयाग का निकटतम हवाई अड्डा जॉली ग्रांट एयरपोर्ट है जो यहां से 91 किमी दूर है। दिल्ली सहित कई अन्य शहरों से इस एयरपोर्ट के लिए दैनिक उड़ानें हैं।आप हवाई अड्डे से देवप्रयाग टैक्सी या बस से जा सकते हैं।

6.2 ट्रेन से

ऋषिकेश रेलवे स्टेशन देवप्रयाग का निकटतम रेलवे स्टेशन है। इस रेलवे स्टेशन पर देश के प्रमुख शहरों से रेलगाड़ियों की सुविधा है। रेलवे स्टेशन पर उतरने के बाद आप निजी परिवहन या उत्तराखंड राज्य की बसों से देवप्रयाग पहुंच सकते हैं। ऋषिकेश रेलवे स्टेशन से देवप्रयाग की दूरी लगभग 72 किलो मीटर है।

6.3 बस से

सड़कमार्ग से देवप्रयाग जाने वाले पर्यटकों की संख्या सबसे ज्यादा है। देवप्रयाग उत्तराखंड के कई शहरों और भारत के विभिन्न शहरों से मोटर योग्य सड़कों से भी जुड़ा हुआ है। सड़कें देवप्रयाग को भारत के उत्तरी राज्यों से भी जोड़ती हैं। आईएसबीटी कश्मीर गेट से देवप्रयाग और ऋषिकेश के लिए नियमित रूप से बसें चलती हैं। श्रीनगर, हरिद्वार, देहरादून, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी और टिहरी जैसे प्रमुख शहरों से बसें और टैक्सियां सुलभ हैं। जिसके माध्यम से आप यहां आ सकते हैं।

7. देवप्रयाग में रुकने की जगह – Where To Stay In Devprayag In Hindi

देवप्रयाग में पर्यटकों के रुकने के लिए बहुत सी सुविधाएं हैं। यहां डीलक्स और मध्यम बजट वाले भी कई सस्से होटल उपलब्ध हैं। जैसे रामकुंड रिसॉर्ट्स, जो पौड़ी रोड पर स्थित है, शहर का एक लोकप्रिय डीलक्स होटल है। इसके अलावा जीएमवीएन टूरिस्ट बंगला देवप्रयाग और मोटल देव गोविंद पुरम में स्थित है।इसके अलावा रिवरसाइड रिजॉर्ट कीर्तिनगर में और धनेश्वर रिसॉर्ट्स जैसे होटल उपलब्ध हैं। आपको बता दें कि देवप्रयाग में वन स्टार से लेकर फाइव स्टार होटल मौजूद हैं लेकिन सभी होटलों में कमरे का किराया अलग अलग है। आप अपने बजट के अनुसार होटल चुन कर सकते हैं।

और पढ़े: कालीघाट मंदिर की जानकारी 

8. देवप्रयाग का पता – Devprayag Location

9. देवप्रयाग की फोटो गैलरी – Devprayag Images

और पढ़े:

Write A Comment