Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Kalighat Temple Kolkata In Hindi कोलकाता का कालीघाट मंदिर (काली माता मंदिर) देवी काली को समर्पित एक प्रसिद्ध हिंदू मंदिर है। मां काली का आशीर्वाद लेने के लिए देशभर से लोग मंदिर आते हैं। कालीघाट मंदिर कलकत्ता शहर में हुगली नदी पर एक पवित्र घाट है। समय के साथ नदी मंदिर से दूर चली गई। मंदिर अब आदि गंगा नामक एक छोटी नहर के किनारे है जो हुगली से जुड़ता है। कहा जाता है कि कलकत्ता शब्द कालीघाट शब्द से लिया गया है।

कालीघाट को भारत के 51 शक्तिपीठों में से एक माना जाता है, जहां शिव के रुद्र तांडव के दौरान सती के शरीर के विभिन्न अंग गिर गए थे और कालीघाट उस स्थल का प्रतिनिधित्व करता है जहाँ दक्षिणायन या सती के दाहिने पैर के पंजे गिरे थे। वर्तमान मंदिर 19 वीं शताब्दी का है। हालांकि इसका 15 वीं और 17 वीं शताब्दी के बंगाल के कुछ भक्ति साहित्य में संदर्भ मिलता है।
माना जाता है कि कालीघाट मंदिर चंद्रगुप्त द्वितीय के समय से अस्तित्व में है। मूल मंदिर एक छोटी झोपड़ी के आकार का ढांचा था, जिसे राजा मानसिंह ने 16वीं शताब्दी में बनवाया था। वर्तमान संरचना 1809 में सबरन रॉय चौधरी के मार्गदर्शन में पूरी हुई। मंदिर के मुख्य मंदिर में देवी काली की एक अनूठी प्रतिमा है।

मां काली की वर्तमान मूर्ति दो संतों – ब्रह्मानंद गिरि और आत्माराम गिरि द्वारा बनाई गई थी। मूर्ति की तीन विशाल आंखें और एक लंबी जीभ और चार हाथ हैं, जो सोने से बने हैं। मंदिर में पुष्प और मोर-आकृति की टाइलें हैं जो इसे विक्टोरियन रूप प्रदान करती हैं। इसके अलावा मंदिर में “कुंडूपुकर” नामक एक पवित्र तालाब है जो मंदिर परिसर के दक्षिण पूर्व कोने में स्थित है। इस तालाब के पानी को गंगा के समान पवित्र माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि पानी में बच्चे के वरदान को पूरा करने की शक्ति होती है। अगर आप भी कोलकाता के प्रसिद्ध कालीघाट मंदिर की यात्रा करना चाहते हैं तो हमारे इस आर्टिकल को जरूर पढ़ें, जिससे आपकी धार्मिक यात्रा सरल और सुखद बन सके।

  1. कालीघाट मंदिर किसने बनवाया था – Who Built Kalighat Temple In Hindi
  2. कालीघाट मंदिर का इतिहास – Kalighat Temple History In Hindi
  3. कालीघाट मंदिर की कहानी – Kalighat Mandir Ki Kahani In Hindi
  4. कालीघाट मंदिर की वास्तुकला – Architecture Of Kalighat Temple In Hindi
  5. कालीघाट मंदिर में दर्शन और आरती का समय – Darshan Timings In Kalighat Temple In Hindi
  6. कालीघाट एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल – Kalighat A Popular Tourist Spot In Hindi
  7. कब जाएं कालीघाट मंदिर – Best Time To Visit Kalighat Temple In Hindi
  8. कालीघाट मंदिर के आसपास घूम सकते हैं इन जगहों पर भी – Things To Do Around Kalighat Temple Kolkata In Hindi
  9. कालीघाट मंदिर जाने के टिप्स – Tips To Travel For Kalighat Temple In Hindi
  10. कालीघाट कैसे पहुंचे – How To Reach Kalighat Temple In Hindi
  11. कालीघाट क्या है और यह प्रसिद्ध क्यों है – What Is Kalighat And Why It Is Famous In Hindi
  12. कालीघाट मंदिर कब बनाया गया था – When Kalighat Temple Was Built In Hindi
  13. क्या कालीघाट एक शक्ति पीठ है – Is Kalighat A Shakti Peeth In Hindi
  14. कोलकाता के कालीघाट में दर्शन के लिए कौन सा समय बेहतर रहेगा – What Time Will Be Better For Dharshan In Kalighat In Hindi
  15. क्या कालीघाट मंदिर के अंदर फोटोग्राफी की अनुमति है – Is Photography Allowed Inside The Kalighat Temple In Hindi
  16. कालीघाट मंदिर का पता – Kalighat Temple Location
  17. कालीघाट मंदिर की फोटो गैलरी – Kalighat Temple Images

1. कालीघाट मंदिर किसने बनवाया था – Who Built Kalighat Temple In Hindi

1809 में, कालीघाट काली मंदिर का निर्माण सबर्ना रॉय चौधरी द्वारा किया गया था। कालीघाट मंदिर को अक्सर 15 वीं शताब्दी के मानसर भासन जैसे ग्रंथों में संदर्भित किया गया है। मूल मंदिर राजा बसंत राय द्वारा बनाया गया था, जो प्रतापदित्य के चाचा और जेसोर (बांग्लादेश) के राजा थे।

2. कालीघाट मंदिर का इतिहास – Kalighat Temple History In Hindi

कालीघाट मंदिर का इतिहास - Kalighat Temple History In Hindi

कालीघाट मंदिर अपने वर्तमान स्वरूप में लगभग 200 वर्ष पुराना है, हालांकि इसे 15 वीं शताब्दी में मानसर भासन में और 17 वीं शताब्दी के कवि कंकण चंडी में संदर्भित किया गया है। वर्तमान संरचना 1809 में सबरन रॉय चौधरी के मार्गदर्शन में पूरी हुई। काली मंदिर का उल्लेख लालमोहन बिद्यानिधि के ‘संम्बन्द् निनोय’ में भी मिलता है। चन्द्रगुप्त द्वितीय के केवल दो प्रकार के सिक्के, जिन्होंने गुप्त साम्राज्य में वंगा को समेकित किया, बंगाल से जाने जाते हैं। उनकी आर्चर तरह के सिक्के, जो कालीघाट में कुमारगुप्त के पाए जाने के बाद मुख्य प्रकार के सिक्के में बदल गए। यह जगह के अवशेष का प्रमाण है।

इतिहास के अनुसार मूल मंदिर एक छोटी सी झोपड़ी थी। सोलहवीं शताब्दी के प्रारंभ में राजा मानसिंह द्वारा एक छोटे से मंदिर का निर्माण कराया गया था। वर्तमान मंदिर बनिशा के सबरन रॉय चौधरी परिवार के संरक्षण में बनाया गया था। यह 1809 में पूरा हुआ। हालांकि हल्दर परिवार मंदिर की संपत्ति का मूल मालिक होने का दावा करता है। लेकिन यह बनिशा के चौधरी द्वारा विवादित था। 1960 के दशक में सरकार और हलधर परिवार के प्रतिनिधित्व के साथ मंदिर के प्रशासनिक प्रबंधन के लिए एक समिति का गठन किया गया था।

इसके बाद पश्चिम बंगाल सरकार ने कालीघाट मंदिर को बेहतर बनाने में दिलचस्पी ली और आज यह मंदिर कोलकाता के पर्यटन स्थलों में आकर्षण का केंद्र है। हालांकि इसके बाद भी कुछ भक्तों ने मंदिर में सुधार के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है, जिसके बाद कोर्ट ने मंदिर को बेहतर बनाने में दिलचस्पी ली जिसके बाद मंदिर में बहुत सारे सुधार लाए गए हैं।

3. कालीघाट मंदिर की कहानी – Kalighat Mandir Ki Kahani In Hindi

एक प्रचलित पौराणिक कथा के अनुसार एक बार एक भक्त ने भागीरथ नदी से प्रकाश की उज्जवल किरण देखी। उसने प्रकाश स्थित किया और एक मानव पैर की उंगली के रूप में पत्थर के टुकड़े की खोज की। इसके आसपास के क्षेत्र में उन्होंने नकुलेश्वर भैरव का एक स्वयंभू लिंगम पाया। इन छवियों को उसने छोटे से मंदिर में रखा और जंगल में इनकी पूजा करने लगा। मंदिर की लोकप्रियता समय के साथ बढ़ती गई और इस तरह कालीघाट मंदिर को मान्यता मिली।

और पढ़े: दिलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू की पूरी जानकारी

4, कालीघाट मंदिर की वास्तुकला – Architecture Of Kalighat Temple In Hindi

कालीघाट मंदिर की वास्तुकला - Architecture Of Kalighat Temple In Hindi

मंदिर पारंपरिक बंगाल स्कूल ऑफ आर्किटेक्चर की शैली में बनाया गया है, जिसके शीर्ष पर एक बड़ा गुंबद है। मंदिर के भीतर विभिन्न वर्गों को अलग-अलग उद्देश्यों के लिए रखा गया है। नटमंदिर और जोर बंगला गर्भगृह का बेहतर दृश्य प्रदान करते हैं और हरताल यज्ञ वेदी है।

राधा-कृष्ण को समर्पित एक मंदिर परिसर के पश्चिमी भाग के भीतर स्थित है। एक अन्य मंदिर, नकुलेश्वर महादेव मंदिर (भगवान शिव को समर्पित) मुख्य कालीघाट मंदिर के सामने स्थित है।

काली देवी की टचस्टोन से बनी प्रचंड प्रतिमा स्थापित है। इस प्रतिमा में मां काली भगवान शिव की छाती पर पैर रखे हुए नजर आती हैं। गले में नरमुंडों की माला पहने हैं और हाथ में कुल्हाड़ी और नरमुंड हैं। काली मां की जीभ बाहर निकली हुई है, जिससे रक्त की कुछ बूंदें भी टपकती नजर आएंगी। इस मूर्ति के पीछे कुछ किवदंतियां भी प्रचलित हैं।

काली माता की मूर्ति श्याम रंग की है। आंखें और सिर सिंदुरिया रंग में हैं। यहां तक की मां काली के तिलक भी सिंदुरिया रंग में लगा हुआ है। वे हाथ में एक फांसा पकड़े हैं जो सिंदुरिया रंग का ही है।

कहा जाता है कि एक बार देवी काली को किसी बात पर गुस्सा आ गया था, जिसके बाद उन्होंने नरसंहार करना शुरू कर दिया। उनके रास्ते में जो भी कोई आता वह उसे मार देतीं। जिस मूर्ति में काली देवी शिव की छाती पर पैर रखे नजर आ रही हैं, उसका अर्थ यही है कि उनके क्रोध को शांत करने के लिए भगवान शिव उनके मार्ग में लेट गए। भगवान शिव का ये प्रयास भी देवी को क्रोध को शांत नहीं कर पाया और देवी ने गुस्से में उनकी छाती पर पैर रख दिया। इसी दौरान उन्होंने भगवान शिव को पहचान लिया और उनका गुस्सा शांत हो गया।

5. कालीघाट मंदिर में दर्शन और आरती का समय – Darshan Timings In Kalighat Temple In Hindi

जहां तक ​​कालीघाट मंदिर के समय की बात है तो, मंदिर सुबह 5 से दोपहर 2 बजे तक और फिर शाम 5 बजे से रात 10:30 बजे तक सार्वजनिक रूप से खुला रहता है। हालांकि मंदिर की पहली आरती सुबह 4 बजे होती है, इसके अलावा भोग या प्रसाद का समय दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक है, लेकिन फिर मंदिर का गर्भगृह उस समय प्रार्थना या सार्वजनिक दर्शन के लिए खुला नहीं रहता। कोलकाता में कालीघाट मंदिर शहर के शीर्ष पर्यटक आकर्षणों में से एक है। 51 शक्तिपीठों में से एक यह मंदिर एक छोटी नहर के बगल में स्थित है, जो मूल रूप से आदि गंगा नदी का एक हिस्सा है, जिसका शाब्दिक अर्थ है गंगा नदी का पुराना हिस्सा जो सीधे हुगली नदी से जाकर मिलती है। बता दें कि धार्मिक मान्यता के कारण ‘स्नान यात्रा'(स्नान समारोह) के दिन, देवी को स्नान कराते समय पुरोहितों की आंखों पर पट्टी बांध दी जाती है।

6. कालीघाट एक लोकप्रिय पर्यटक स्थल – Kalighat A Popular Tourist Spot In Hindi

हजारों श्रद्धालु इस पवित्र स्थान कालीघाट पर प्रतिदिन प्रार्थना करने और आशीर्वाद लेने के लिए आते हैं। गंगा नदी के तट पर स्थित, कालीघाट मंदिर शहर के सबसे प्रतिष्ठित मंदिरों में से एक है। आप यहां मां का आशीर्वाद प्राप्त करने के साथ गंगा नदी में स्नान भी कर सकते हैं। जब भी आप कोलकाता की यात्रा पर आएं तो कालीघाट मंदिर के दर्शन किए बगैर वापस ना जाएं, क्योंकि कालीघाट में मां के दर्शन किए बिना आपकी कोलकाता यात्रा अधूरी मानी जाती है। यदि आप कालीघाट मंदिर के आसपास ठहरने के लिए जगह चाहते हैं तो यहां मंदिर के पास काफी होटल हैं जो आपके बजट में हैं। चूंकि इसे शहर के सबसे पवित्र मंदिरों में से एक माना जाता है, इसलिए स्थानीय लोग भी इस मंदिर में प्रार्थना करने के लिए भारी संख्या में आते हैं।

और पढ़े: कन्दारिया महादेव मंदिर का इतिहास 

7. कब जाएं कालीघाट मंदिर – Best Time To Visit Kalighat Temple In Hindi

कब जाएं कालीघाट मंदिर - Best Time To Visit Kalighat Temple In Hindi

कालीघाट मंदिर जाने के लिए नवरात्रि का समय सबसे अच्छा माना जाता है। इस दौरान यहां बड़ी धूम-धाम के साथ नवरात्रि मनाई जाती है। इस समय आप यहां बंगाली लोगों को मां काली की पारंपरिक पूजा करते हुए देख सकते हैं। कोलकाता आने के लिए अक्टूबर से मार्च तक का समय भी बहुत अच्छा माना जाता है।

8. कालीघाट मंदिर के आसपास घूम सकते हैं इन जगहों पर भी – Things To Do Around Kalighat Temple Kolkata In Hindi

कालीघाट मंदिर के दर्शन करने के बाद अगर आपके पास समय है, तो मंदिर के आसपास भी घूमने के लिए कई जगहें हैं। इनमें पास में ही बस्तुहरु मार्केट है, जो शॉपिंग करने वालों के लिए अच्छा ऑप्शन है। देवी मार्केट, गोपाल नगर ओल्ड मार्केट, चेतला मार्केट, सर्दन मार्केट और सिटी मार्केट में भी आप खूब सारी खरीददारी कम बजट में कर सकते हैं। इसके अलावा मंदिर के आसपास वाले इलाकों में कई बार और रेस्टोरेंट्स भी हैं, जहां आप इंडियन, साउथ इंडिया के अलावा बंगाली डिशेज और कई ड्रिंक्स का स्वाद भी ले सकते हैं।

9. कालीघाट मंदिर जाने के टिप्स – Tips To Travel For Kalighat Temple In Hindi

  • कालीघाट मंदिर में मंगलवार, शनिवार और रविवार को भीड़ रहती है। यदि आप कर सकते हैं तो बुधवार की सुबह अपनी यात्रा की योजना बनाएं।
  • मंदिर में सेल फोन और डिजिटल कैमरा ले जाने से बचें। यदि आपको ले जाना है, तो मंदिर में प्रवेश करते समय सेल फोन और डिजिटल कैमरा अपने हैंडबैग के अंदर रखें।
  • पर्स खुले तौर पर न रखें। यहां पर कई बार पर्स काटने वाले लोग घूमते रहते हैं, जिनसे आपको सावधान रहने की जरूरत है।
  • मंदिर के पास आपको कई ऐसे लोग मिलेंगे (जिन्हें पंडा या दलाल कहते हैं) जो आपको मंदिर के दर्शन जल्दी कराने का वदा करेंगे। बता दें कि इन लोगों का मंदिर अथॉरिटी से कोई लेना-देना नहीं होता, बल्कि ये सिर्फ आपका पैसा लेने के चक्कर में रहते हैं। इसलिए पैसे मांगकर दर्शन कराने वाले लोगों से यहां बचकर रहें।

10. कालीघाट कैसे पहुंचे – How To Reach Kalighat Temple In Hindi

कालीघाट जाने के लिए आपको कोलकाता रेलवे स्टेशन के लिए ट्रेन पकड़नी होगी। स्टेशन से कालीघाट की दूरी 12 किमी है। यहां से आप कोई भी सार्वजनिक वाहन लेकर कालीघट बस स्टॉप तक उतर सकते हैं और काली मंदिर मार्ग से मंदिर तक जाते हैं। कालीघाट मेट्रो रेलवे द्वारा भी जुड़ा हुआ है। निकटतम मेट्रो स्टेशन जतिनदास पार्क और कालीघाट है। जतिन दास पार्क मेट्रो स्टेशन पर उतरने के बाद कालीघाट जाने के लिए नॉर्थ एग्जिट लें और कालीघाट स्टेशन से साउथ एग्जिट लें।

11. कालीघाट क्या है और यह प्रसिद्ध क्यों है – What Is Kalighat And Why It Is Famous In Hindi

कालीघाट क्या है और यह प्रसिद्ध क्यों है - What Is Kalighat And Why It Is Famous In Hindi

कालीघाट देवी को समर्पित प्रसिद्ध कालीघाट काली मंदिर कालीघाट में स्थित है। यह 51 शक्तिपीठों में से एक है। कहा जाता है कि दक्षिणायणी सती का दाहिना पैर का अंगूठा यहां गिरा था। यहां की शक्ति दक्षिणा कालिका के रूप में जानी जाती है, जबकि भैरव नकुलेश हैं।

12. कालीघाट मंदिर कब बनाया गया था – When Kalighat Temple Was Built In Hindi

काली मंदिर की वर्तमान संरचना का निर्माण लगभग 200 साल पहले किया गया था। 1809 में कालीघाट काली मंदिर का निर्माण बारिशा के सबर्ना रॉय चौधरी द्वारा किया गया था। कालीघाट मंदिर को अक्सर 15 वीं शताब्दी के मानसर भासन जैसे ग्रंथों में संदर्भित किया गया है।

13. क्या कालीघाट एक शक्ति पीठ है – Is Kalighat A Shakti Peeth In Hindi

कालीघाट काली मंदिर पश्चिम बंगाल, भारत में एक हिंदू मंदिर है जो हिंदू देवी काली को समर्पित है। यह 51 शक्तिपीठों में से एक है। कहा जाता है कि कलकत्ता नाम कालीघाट शब्द से लिया गया है।

14. कोलकाता के कालीघाट में दर्शन के लिए कौन सा समय बेहतर रहेगा – What Time Will Be Better For Dharshan In Kalighat In Hindi

आप किसी भी समय दर्शन के लिए मंदिर जा सकते हैं, तुलनात्मक रूप से कम भीड़ के कारण देर शाम मंदिर के दर्शन करने जाना बेहतर है।

15. क्या कालीघाट मंदिर के अंदर फोटोग्राफी की अनुमति है – Is Photography Allowed Inside The Kalighat Temple In Hindi

नहीं, किसी भी उद्देश्य से कालीघाट मंदिर के अंदर फोटोग्राफी की अनुमति नहीं है।

और पढ़े: हिडिम्बा देवी मंदिर का इतिहास

16. कालीघाट मंदिर का पता – Kalighat Temple Location

17. कालीघाट मंदिर की फोटो गैलरी – Kalighat Temple Images

View this post on Instagram

#Kolkata #KaliMandir #KaliGhat #KaliGhatTemple

A post shared by Yatin Vij (@yatinvij) on

और पढ़े:

Write A Comment