Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Kandariya Mahadeva Temple In Hindi कन्दारिया महादेव मंदिर 1025-1050 ईस्वी में निर्मित एक ऐसा मंदिर है जो अपनी वास्तुकला की भव्यता और सुंदरता के लिए जाना-जाता है। कन्दारिया महादेव मन्दिर मध्य प्रदेश में राज्य के खजुराहो गांव में स्थित है। कंदारिया अर्थ होता है “गुफा” और महादेव भगवान शिव का एक नाम है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। इसलिए इस मंदिर को कन्दारिया महादेव मन्दिर कहते हैं। इस मंदिर के गर्भ गृह में एक शिवलिंगम है। कन्दारिया मंदिर की दीवारों पर विशिष्ट बलुआ पत्थर से बनी संरचना की कामुकता का कलात्मक प्रतिनिधित्व हमारी सांस्कृतिक को एक नया दृष्टिकोण देता है। इस मंदिर की सबसे खास बात यह है कि इस मंदिर की दीवारों पर महिलाओं की सुशोभित करने वाली विभिन्न मुद्राओं के सुंदर चित्र बने हुए हैं जो यहाँ आने वाले पर्यटकों को बेहद आनंदित करते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि कन्दारिया महादेव मंदिर में 800 से अधिक महिलाओं के चित्र बने हुए है जिनमे से कई चित्र तीन फीट से भी ज्यादा बड़े हैं।

  1. कन्दारिया महादेव मन्दिर का इतिहास – Kandariya Mahadeva Temple History in Hindi
  2. कन्दारिया महादेव मंदिर की संरचना – Kandariya Mahadeva Temple Architecture in Hindi
  3. कंदरिया महादेव मंदिर में उत्सव – Festivals Celebrated At The Kandariya Mahadeva Temple in Hindi
  4. कन्दारिया महादेव मंदिर के आस-पास के मंदिर – Temples Near Kandariya Mahadev Temple In Hindi
  5. कन्दारिया महादेव मंदिर खुलने और बंद होने का समय – Opening & Closing Time Of Kandariya Mahadev Temple In Hindi
  6. कन्दारिया महादेव मंदिर का प्रवेश शुल्क – Kandariya Mahadeva Temple Entry Fees in Hindi
  7. कन्दारिया महादेव मंदिर आने का सबसे अच्छा समय क्या है – Best Time To Visit Kandariya Mahadeva Temple In Hindi
  8. कन्दारिया महादेव मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Kandariya Mahadeva Mandir Khajuraho In Hindi
  9. हवाई जहाज से कन्दारिया महादेव मंदिर कैसे पहुंचे- How To Reach Kandariya Mahadeva Temple By Flight In Hindi
  10. ट्रेन से कन्दारिया महादेव मंदिर कैसे पहुँचे – How To Reach Kandariya Mahadeva Temple By Train In Hindi
  11. सड़क मार्ग से कन्दारिया महादेव मंदिर कैसे पहुँचे – How To Reach Kandariya Mahadeva By Road In Hindi
  12. खजुराहो मध्य प्रदेश में होटल – Hotels In Khajuraho Madhya Pradesh In Hindi
  13. खजुराहो मध्य प्रदेश में खाना – Where To Eat In Khajuraho Madhya Pradesh In Hindi
  14. कन्दारिया महादेव मंदिर का पता – Kandariya Mahadev Temple Loacation
  15. कन्दारिया महादेव मंदिर की फोटो – Kandariya Mahadev Temple Images

1. कन्दारिया महादेव मन्दिर का इतिहास – Kandariya Mahadeva Temple History in Hindi

कन्दारिया महादेव मन्दिर मध्ययुगीन काल के मंदिरों में से सबसे ज्यादा संरक्षित मंदिर है। यह मंदिर खजुराहो परिसर में मंदिरों के पश्चिमी समूह का सबसे बड़ा मंदिर है जिसका निर्माण 1025-1050 ई में चन्देल वंश के राजा विद्याधर द्वारा करवाया गया था। यह मंदिर खजुराहो में सबसे सबसे बड़ा, ऊँचा और कलात्मक मंदिर है जिसे ‘चतुर्भुज मन्दिर’ भी कहा जाता है। बता दें कि कन्दारिया महादेव मंदिर सहित सभी विलुप्त मंदिरों को वर्ष 1986 में इनकी कलात्मकता की वजह से यूनेस्को विश्व धरोहर स्थलों की सूचि में शामिल किया था।

मुस्लिम इतिहासकार Ibn-Al-Athir की माने तो कंदारिया महादेव मंदिर की ईमारत का निर्माण करवाने वाला विद्याधर बहुत ही पराक्रमी और शक्तिशाली शासक था। इस शासक ने 1019 के आक्रमण में ग़ज़नी के मुहम्मद महमूद ग़ज़नवी के साथ लड़ाई की थी। लेकिन इस लड़ाई का कोई निर्णय नहीं निकला जिसके बाद मुहम्मद को वापस जाना पड़ा। महम्मद ने 1022 में विद्याधारा के खिलाफ फिर से युद्ध किया और उसने कालिंजर के किले पर हमला कर दिया। लेकिन वो किले की घेराबंदी में असफल रहा। इसके बाद विद्याधर ने मुहम्मद से जीत की ख़ुशी में कंदारिया महादेव मंदिर की ईमारत का निर्माण करवाया। जो भगवान शिव को समर्पित था।

2. कन्दारिया महादेव मंदिर की संरचना – Kandariya Mahadeva Temple Architecture in Hindi

कन्दारिया महादेव मंदिर की संरचना - Kandariya Mahadeva Temple Architecture in Hindi

  • कन्दारिया महादेव मंदिर खजुराहो के सबसे खास मंदिरों में से एक है जिसकी उंचाई 31 मीटर है। यह मंदिर खजुराहो के मंदिरों में सबे बड़ा है।
  • मंदिर परिसर 6 वर्ग किलोमीटर (2.3 वर्ग मील) के क्षेत्र में फैला हुआ है।
  • इस मंदिर के परिसर में कन्दारिया मतंगेश्वर और विश्वनाथ मंदिर भी शामिल हैं।
  • यह मंदिर बड़े खम्बो और टावर से मिलकर बना हुआ है जो बहुत उंचाई पर समाप्त होता है।
  • वास्तुशिल्प योजना में, यह परस्पर जुड़े कक्षों की एक श्रृंखला प्रदान करता है, जो निम्नलिखित क्रम में पर्यटकों द्वारा देखे जाते हैं: एक आयताकार प्रवेश द्वार (अर्धमंडप) जो एक केंद्रीय खंभे वाले हॉल (मंडप) में ले जाता है। यह अंधेरे गर्भगृह की ओर जाता है जिसके ऊपर मुख्य मीनार और शिखर है। गर्भगृह के अंदर लिंग है जो संगमरमर से बना है।
  • कन्दारिया महादेव मंदिर का निर्माण 13 फिट ऊँचे चबूतरे पर करवाया गया है। इस मंदिर को सही योजना और मनभावन रूप से बनाया गया है।
  • कन्दारिया महादेव मंदिर एक खड़े पहाड़ के सामने बना हुआ है।
  • इस मंदिर का निर्माण राजपूतो के वंशजो चंदेलो द्वारा किया गया था। इन मंदिर के परिवार में हिन्दू और जैन धर्म के कुल 85 मंदिर थे। इसका निर्माण 5 भागो के डिजाइन हुआ है। यह मंदिर शिखर पर खत्म होता है जिसमे 84 मीनारे है।

3. कंदरिया महादेव मंदिर में उत्सव – Festivals Celebrated At The Kandariya Mahadeva Temple in Hindi

खजुराहो डांस फेस्टिवल हर साल फरवरी के अंतिम सप्ताह से मार्च तक आयोजित किया जाता है। इस उत्सव में दुनिया भर के प्रसिद्ध नर्तक भाग लेते हैं। पूरे भारत के सर्वश्रेष्ठ शास्त्रीय नर्तक खजुराहो समूह के मंदिरों के ओपन एयर कोरिडोर (खुले हवाई गलियारों) में अपनी प्रस्तुति देते हैं। यहां आप कथक, भरतनाट्यम, कुचिपुड़ी, ओडिसी, मणिपुरी जैसे भारत के लोकप्रिय नृत्यों का आनंद ले सकते हैं।

इस मंदिर में महा शिवरात्रि भी बड़े धूमधाम से मनाई जाती है। दूर-दूर के लोग इस मंदिर में प्रार्थना करने के लिए इकट्ठा होते हैं और भगवान का आशीर्वाद लेते हैं। इस अवसर पर भक्त पूरे दिन भक्ति के साथ उपवास करते हैं।

इस मंदिर में त्योहारों का आनंद लेने के लिए आने वाले कुछ अन्य त्योहारों में होली, दशहरा और दिवाली शामिल हैं।

4. कन्दारिया महादेव मंदिर के आस-पास के मंदिर – Temples Near Kandariya Mahadev Temple In Hindi

लक्ष्मी और वराह मंदिर

लक्ष्मी और वराह मंदिर

यह दो छोटे मंदिरों है जो भगवान विष्णु को समर्पित हैं। इस मंदिर को शहर के सबसे खूबसूरत मंदिरों में से एक माना जाता है। महादेव से आशीर्वाद लेने के लिए पूरे साल लोग इस मंदिर में आते हैं।

लक्ष्मण मंदिर

लक्ष्मण मंदिर

यह एक प्रसिद्ध मंदिर है जिसे पत्थर से बनाया गया है। खजुराहो में यह एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण है क्योंकि इसे भारत के सबसे पुराने पत्थर मंदिरों में गिना जाता है। यह बहुत अच्छी तरह से संरक्षित है।

चौसठ योगिनी मंदिर

यह पवित्र स्थान मध्य प्रदेश राज्य में मंदिरों के समूह के दक्षिण-पश्चिमी भाग में स्थित है। इस प्रकार यह 64 योगिनियों को समर्पित है जो देवी की अभिव्यक्ति हैं।

जवारी मंदिर

जवारी मंदिर

यह उन मंदिरों में से एक है जो अपनी स्थापत्य कला और जटिल डिजाइन के लिए प्रसिद्ध हैं। इसकी खजुराहो में सर्वश्रेष्ठ प्रतिष्ठा है और यह भगवान विष्णु को समर्पित है। इस मंदिर का विस्तृत प्रवेश द्वार कई विशिष्ट विशेषताओं में से एक है। मंदिर के अंदरूनी हिस्से में जटिल मूर्तियां और दीवारें समान रूप से पुरुषों और महिलाओं को विभिन्न मुद्राओं में चित्रित करती हैं। इस लोकप्रिय मंदिर का निर्माण कई शताब्दियों पहले हुआ है।

ब्रह्मा और हनुमान मंदिर

प्राचीन मंदिरों की यात्रा करने के इच्छुक लोगों के लिए, ब्रह्मा और हनुमान मंदिर को खजुराहो के सबसे पुराने मंदिरों में गिना जाता है। यह पूर्वी समूह मंदिरों का है और दुनिया भर से लाखों पर्यटकों को आकर्षित करता है।

विश्वनाथ और नंदी मंदिर

विश्वनाथ और नंदी मंदिर

यह मंदिर पांच भागों वाले मंदिर के डिजाइन पहलू के संबंध में कंदरिया महादेव मंदिर के समान है। भगवान शिव को समर्पित होने के कारण, यह शहर के सबसे सुंदर मंदिरों में से एक है। कंदरिया महादेव मंदिर जाने वाले लोग इस मंदिर में दर्शन करने जरूर जाते हैं। यह भगवान शिव के भक्तों के लिए बहुत महत्व का स्थान है।

पार्श्वनाथ मंदिर

खजुराहो में सबसे प्रभावशाली मंदिरों में से एक के रूप में गिना जाता है, पार्श्वनाथ मंदिर को पूर्वी मंदिर समूह के तहत वर्गीकृत किया गया है। वास्तुशिल्प पैटर्न के साथ विस्तृत मूर्तिकला के कार्य इसे देशी और अंतर्राष्ट्रीय दोनों पर्यटकों के लिए खजुराहो की यात्रा के लिए सबसे प्रसिद्ध स्थलों में से एक बनाते है। इसका निर्माण 10 वीं शताब्दी के मध्य में धनदेव के शासनकाल के दौरान किया गया था।

5. कन्दारिया महादेव मंदिर खुलने और बंद होने का समय – Opening & Closing Time Of Kandariya Mahadev Temple In Hindi

कन्दारिया महादेव मंदिर खुलने और बंद होने का समय - Opening & Closing Time Of Kandariya Mahadev Temple In Hindi

अगर आप कन्दारिया महादेव मंदिर देखना चाहते हैं तो बता दें कि यह मंदिर पूरे साल और हर दिन खुला रहता है। लेकिन इस मंदिर के खुलने और बंद होने के एक निर्धारित समय हैं। कन्दारिया मंदिर सुबह 5 बजे से दोपहर 12  बजे तक खुला रहता है और शाम को यह मंदिर शाम को 4 बजे से रात 9 बजे तक खुला रहता है।

6. कन्दारिया महादेव मंदिर का प्रवेश शुल्क – Kandariya Mahadeva Temple Entry Fees in Hindi

कन्दारिया महादेव मंदिर में प्रवेश करने के लिए भारतीय पर्यटकों को 10 रूपये प्रवेश टिकट के लिए देने होंगे। वहीं दूसरे देशों से आने वाले लोगो को इस मंदिर के दर्शन के लिए 250 रूपये का टिकट लेना होगा। इस मंदिर परिसर में आप किसी भी तरह का कैमरा लेकर नहीं का सकते।

15 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए कोई प्रवेश शुल्क नहीं लिया जाता है।

7. कन्दारिया महादेव मंदिर आने का सबसे अच्छा समय क्या है – Best Time To Visit Kandariya Mahadeva Temple In Hindi

कन्दारिया महादेव मंदिर आने का सबसे अच्छा समय क्या है - Best Time To Visit Kandariya Mahadeva Temple In Hindi

अगर आप कन्दारिया महादेव मंदिर के दर्शन करने के लिए जाना चाहते हैं तो आपको बता दें कि अक्टूबर से फरवरी तक सर्दियों का सुहावना मौसम खजुराहो आने के लिए सबसे अच्छा समय है। दर्शनीय स्थलों के लिए सर्दियों मौसम सबसे खास होता है। जो सुंदर रूप से बने इस ऐतिहासक मंदिर को घूमने के लिए सबसे अच्छा समय है। गर्मियों का समय इस जगह जाने के लिए अच्छा समय नहीं है क्योंकि यहाँ की चिलचिलाती गर्मी आपकी यात्रा का मजा किरकिरा कर सकती है।

8. कन्दारिया महादेव मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Kandariya Mahadeva Mandir Khajuraho In Hindi

खजुराहो सड़क और हवाई मार्ग द्वारा देश के प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। खजुराहो में खजुराहो नाम का रेलवे स्टेशन है जिस पर देश के कई प्रमुख शहरों से ट्रेन आती है। आइये आपको कन्दारिया महादेव मन्दिर या खजुराहो जाने के सभी साधनों के बारे में जानकारी देते हैं।

9. हवाई जहाज से कन्दारिया महादेव मंदिर कैसे पहुंचे- How To Reach Kandariya Mahadeva Temple By Flight In Hindi

अगर आप कन्दारिया महादेव मन्दिर के दर्शन करना चाहते हैं तो आपको बता दें कि खजुराहो का हवाई अड्डा यहाँ के लिए निकटतम हवाई अड्डा है। खजुराहो हवाई अड्डा इस पर्यटक स्थल को देश के बाकी प्रमुख शहरों जैसे नई दिल्ली, भोपाल आदि शहरों से जोड़ता है। एयर इंडिया, इंडिगो जैसी उड़ानें खजुराहो के हवाई अड्डे पर उतरती हैं।

10. ट्रेन से कन्दारिया महादेव मंदिर कैसे पहुँचे – How To Reach Kandariya Mahadeva Temple By Train In Hindi

कन्दारिया महादेव मन्दिर खजुराहो के सबसे खास और बड़े मंदिरों में से एक है। बता दें कि खजुराहो में एक रेलवे स्टेशन भी है जो देश के कई प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है। खजुराहो रेलवे स्टेशन मुख्य शहर से केवल 5 किमी दूर है।

11. सड़क मार्ग से कन्दारिया महादेव मंदिर कैसे पहुँचे – How To Reach Kandariya Mahadeva By Road In Hindi

सड़क मार्ग से कन्दारिया महादेव मंदिर कैसे पहुँचे - How To Reach Kandariya Mahadeva By Road In Hindi

सड़क मार्ग से इस पवित्र स्थान तक पहुँचना संभव है। खजुराहो के लिए नियमित रूप से बस सेवा उपलब्ध हैं। बता दें कि खजुराहो के लिए आपको कई बड़े शहर जैसे भोपाल, इंदौर, नई दिल्ली जैसी जगहों से बस मिल जाएगी। इसके अलावा टैक्सी या कैब भी ले सकते हैं। खजुराहो शहर झांसी, सतना आदि स्थानों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

12. खजुराहो मध्य प्रदेश में होटल – Hotels In Khajuraho Madhya Pradesh In Hindi

खजुराहो आने वाले लोगों के लिए यहां पर्याप्त आराम का आनंद लेने के अवसर प्राप्त होते हैं। पर्यटक अपनी जरूरत के मुताबिक खजुराहो में बजट होटलों से लेकर लग्जरी लिविंग होटल तक चुन सकते हैं। परिवार के साथ यात्रा करने वाले यात्री डबल से ट्रिपल बेड वाले कमरों में रुक सकते हैं। और ऐसे यात्री जो अकेले यात्रा करना पसंद करते हैं, वे साझाकरण के आधार पर कमरे किराए पर ले सकते हैं। कुछ होटल ऐसे यात्रियों के लिए डॉर्मिटरी भी प्रदान करते हैं। जो भी आप चुनते हैं, किसी भी अंतिम-मिनट की देरी से बचने के लिए अपने होटल के रूम को पहले से बुक करना आपके लिए अच्छा होगा। और इसके अलावा, यदि आप अपने होटल को प्री-बुक करते हैं, तो आप कुछ आकर्षक डील और आश्चर्यजनक छूटों का भी फायदा ले सकते हैं। कुछ होटल अपने ग्राहकों के लिए सेवाएं पिक अप (लेने) और ड्राप (छोड़ने) की भी पेशकश करते हैं, जो पहले से अपने होटल को बुक करते हैं।

13. खजुराहो मध्य प्रदेश में खाना – Where To Eat In Khajuraho Madhya Pradesh In Hindi

खजुराहो की इस खूबसूरत जगह पर जाने वाले लोगों के लिए भोजन एक अभिन्न अंग है। यद्यपि इस क्षेत्र में कोई भी भारतीय व्यंजन खाया जा सकता है, इसके अलावा यहां कई अंतरराष्ट्रीय भोजनालय हैं जो प्रतिस्पर्धी मूल्य पर विदेशी व्यंजनों की एक विस्तृत श्रृंखला पेश करते हैं। इसके अलावा, कई लोकल रेस्तरां हैं जो भोजन बनाते समय अच्छी स्वच्छता बनाए रखते हैं और पर्यटकों को गुणवत्तापूर्ण भोजन प्रदान करते हैं। खजुराहो मध्य प्रदेश के खाने के नाश्ते में मुख्य रूप से पोहा, जलेबी, और समोसा होता है, लंच में थाली के रूप में जाना जाने वाले एक पूर्ण भोजन होता है जिसमे अधिक विविधता होती है। एक पारंपरिक थाली में चावल, रोटी, दाल, सब्जियाँ, अचार, सलाद और दही शामिल होता हैं। मांसाहारी व्यंजन भी उपलब्ध हैं। कुछ हाई-एंड रेस्तरां अपने पर्यटकों को बढ़िया भोजन और लाइव संगीत का अनुभव प्रदान करते हैं। इसलिए,आप अपने बजट के अनुसार इन विकल्पों में से अपने लिए खास भोजनालय चुन सकतें हैं।

और पढ़े: खजुराहो दर्शनीय स्थल, मंदिर और घूमने की जगह – Khajuraho Temple History, Tourist Places In Hindi

14. कन्दारिया महादेव मंदिर का पता – Kandariya Mahadev Temple Location

15. कन्दारिया महादेव मंदिर की फोटो – Kandariya Mahadev Temple Images

और पढ़े: दिलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू की पूरी जानकारी – Dilwara Jain Temple Mount Abu In Hindi

Write A Comment