Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages
Tag

madhya pradesh tourism

Browsing

Shaurya Smarak In Hindi शौर्य स्मारक भारत के मध्य-प्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल में स्थित एक युद्ध स्मारक है। शौर्य स्मारक का उद्घाटन भारत के वर्तमान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 14 अक्टूबर 2016 को किया था। शौर्य स्मारक का निर्माण मध्य-प्रदेश सरकार द्वारा भोपाल के अरेरा हिल्स क्षेत्र में एमपी नगर के पास किया गया है। शौर्य स्मारक लगभग 12.67 एकड़ के क्षेत्र में फैला हुआ एक भव्य सैन स्मारक (The War Memorial) है। इस स्मारक को देश के वीर सैनिकों को समर्पित किया गया हैं। सिपाही और स्वतंत्रता सैनानियों के बलिदान की कहानी और उनके योगदान को कल्पनाशील और दिलचस्प वास्तुशिल्प प्रतिष्ठानों को संजोते हुए चित्रित किया गया हैं। यदि आप देश के वीर शहीदों से जुड़े हुए तथ्य और उनके बारे में जानने के लिए उत्सुक हैं तो शौर्य स्मारक जरूर जाए।

भीमबेटका गुफ़ाएँ (भीमबेटका रॉक शेल्टर या भीमबैठका) भारत के मध्य-प्रदेश राज्य के रायसेन जिले में एक पुरापाषाणिक पुरातात्विक स्थल है। जो मध्य-प्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल के दक्षिण-पूर्व में लगभग 46  किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। भीमबेटका यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों में से एक है और इस स्थल को सन 2003 में वर्ल्ड हेरिटेज साइट घोषित किया जा चुका है। इस प्रकार की सात पहाड़ियाँ में से एक भीमबेटका की पहाड़ी पर 750  से अधिक रॉक शेल्टर (चट्टानों की गुफ़ाएँ) पाए गए है जोकि लगभग 10  किलोमीटर के क्षेत्र में फैले हुए है। भीमबेटका भारतीय उपमहाद्वीप में मानव जीवन की उत्पति की शुरुआत के निशानों का वर्णन करती है। इस स्थान पर मौजूद सबसे पुराने चित्रों को आज से लगभग 30,000 साल पुराना माना जाता है। माना जाता है कि इन चित्रों में उपयोग किया गया रंग वनस्पति था। जोकि समय के साथ-साथ धुंधला होता चला गया। इन चित्रों को आंतरिक दीवारो पर गहरा बनाया गया था। यदि आप भीम बेटका से जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में जानना चाहते है तो हमारे आर्टिकल को पूरा पढ़े और जब भी आपको भीमबेटका घूमने का सौभाग्य मिले तो इसके जरूर भुनाए।

Upper Lake Bhopal In Hindi भोजताल जिसे बड़ा तालाब या बड़ी झील के नाम से भी जाना जाता है मध्य-प्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल के बिल्कुल मध्य में है। इस झील का निर्माण परमार राजा भोज द्वारा 11वी सदी में करवाया गया था। इस तालाब के मध्य में राजा भोज की एक प्रतिमा स्थापित है जो पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र है इस प्रतिमा में उनके हाथ में एक तलवार सुशोभित हो रही है। बड़ी झील भोपाल की सबसे महत्वपूर्ण झील है जिसे आमतौर पर भोजताल के नाम से जाना जाता है इसी तालाब से भोपाल के निवासियों के लिए 40% पीने के पानी की पूर्ती की जाती है।