Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

भीमबेटका गुफ़ाएँ (भीमबेटका रॉक शेल्टर या भीमबैठका) भारत के मध्य-प्रदेश राज्य के रायसेन जिले में एक पुरापाषाणिक पुरातात्विक स्थल है। जो मध्य-प्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल के दक्षिण-पूर्व में लगभग 46  किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। भीमबेटका यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों में से एक है और इस स्थल को सन 2003 में वर्ल्ड हेरिटेज साइट घोषित किया जा चुका है। इस प्रकार की सात पहाड़ियाँ में से एक भीमबेटका की पहाड़ी पर 750  से अधिक रॉक शेल्टर (चट्टानों की गुफ़ाएँ) पाए गए है जोकि लगभग 10  किलोमीटर के क्षेत्र में फैले हुए है। भीमबेटका भारतीय उपमहाद्वीप में मानव जीवन की उत्पति की शुरुआत के निशानों का वर्णन करती है। इस स्थान पर मौजूद सबसे पुराने चित्रों को आज से लगभग 30,000 साल पुराना माना जाता है। माना जाता है कि इन चित्रों में उपयोग किया गया रंग वनस्पति था। जोकि समय के साथ-साथ धुंधला होता चला गया। इन चित्रों को आंतरिक दीवारो पर गहरा बनाया गया था। यदि आप भीम बेटका से जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में जानना चाहते है तो हमारे आर्टिकल को पूरा पढ़े और जब भी आपको भीमबेटका घूमने का सौभाग्य मिले तो इसके जरूर भुनाए।

  1. भीमबेटका कहां स्थित है – Bhimbetka Location In Hindi
  2. भीमबेटका का नाम कैसे पड़ा – How Did Bhimbetka Name In Hindi
  3. भीमबेटका का इतिहास – History Of Bhimbetka In Hindi
  4. भीमबेटका किस लिए प्रसिद्ध है – Bhimbetka Is Famous For In Hindi
  5. भीमबेटका की संरचना – Bhimbetka Structure In Hindi
  6. भीमबेटका सभागार गुफा – Bhimbetka Auditorium Cave In Hindi
  7. भीमबेटका की चित्रकला और पेंटिंग – Bhimbetka Rock Art And Paintings In Hindi
  8. भीमबेटका में चित्रों का वर्गीकरण – Classification Of Pictures In Bhimbetka In Hindi
  9. भीमबेटका घूमने का सही समय – Best Time To Visit Bhimbetka In Hindi
  10. भीमबेटका के आस पास कहा-कहा घूम सकते है – Nearest Place To Bhimbetka In Hindi
  11. भीमबेटका घूमने की एंट्री फीस – Bhimbetka Entry Fee In Hindi
  12. भीमबेटका कैसे पहुँचे – How To Reach Bhimbetka In Hindi
  13. भीमबेटका फ्लाइट से कैसे पहुँचे – How To Reach Bhimbetka By Flight In Hindi
  14. भीमबेटका ट्रेन से कैसे पहुँचे – How To Reach Bhimbetka By Train In Hindi
  15. भीमबेटका रोड मार्ग से कैसे पहुँचे – How To Reach Bhimbetka By Road In Hindi
  16. भीमबेटका के नजदीकी होटल – Nearest Hotel To Bhimbetka In Hindi
  17. भीमबेटका का पता – Bhimbetka Address
  18. भीमबेटका की फोटो गैलरी – Bhimbetka Images

1. भीमबेटका कहां स्थित है – Bhimbetka Location In Hindi

भीमबेटका कहां स्थित है - Bhimbetka Location In Hindi

भीमबेटका की गुफा मध्य प्रदेश भोपाल के दक्षिण-पूर्व में 45 किलोमीटर और मध्य प्रदेश के रायसेन जिले में ओबेदुल्लागंज शहर से 9 किलोमीटर की दूरी पर विंध्य पहाड़ियों के दक्षिणी किनारे पर स्थित है। इन गुफाओं के दक्षिण में सतपुड़ा पहाड़ियों की क्रमिक श्रेणियाँ हैं। यह रातापानी वन्यजीव अभयारण्य के अंदर है, जो विंध्य रेंज की तलहटी में, बलुआ पत्थर की चट्टानों में अंत:स्थापित है। भीमबेटका साइट में सात पहाड़ियाँ शामिल हैं: विनायका, भोंरावली, भीमबेटका, लाखा जुआर (पूर्व और पश्चिम), झोंद्रा और मुनि बाबाकी पहाड़ी।

2. भीमबेटका का नाम कैसे पड़ा – How Did Bhimbetka Name In Hindi

भीमबेटका (भीमबेटका) नाम भीम, महाकाव्य महाभारत के नायक-देवता भीम से जुड़ा है। भीमबेटका शब्द भीमबैठका से लिया गया है, जिसका अर्थ है “भीम के बैठने की जगह”।

3. भीमबेटका का इतिहास – History Of Bhimbetka In Hindi

भीमबेटका का इतिहास बहुत पुराना है और सबसे पहले एक ब्रिटिश अधिकारी डब्लू किन्काइद ने सन 1888 के दौरान एक विद्वान के पत्र के माध्यम से भीमबेटका स्थान का वर्णन किया था। उन्होंने भोजपुर क्षेत्र के आदिवासियों से मिली जानकारी के आधार पर भीमबेटका नामक इस स्थल को एक बौद्ध स्थल के रूप में स्थान दिया। सबसे पहले इन गुफाओं की खोज करने वाले पहले पुरातात्विक वी.एस.वाकणकर थे। उन्होंने यहा की रॉक संरचनाओ को देखने के बाद एक टीम बनाकर इस क्षेत्र का दौरा किया। उन्हें ऐसा लगा की यह रॉक शेल्टर वैसी ही है, जैसी फ्रांस और स्पेन में देखी गयी थी। उन्होंने सन 1957 के दौरान इस जगह पर विधमान कई प्रागैतिहासिक रॉक आश्रयों की सूचना दी।

4. भीमबेटका किस लिए प्रसिद्ध है – Bhimbetka Is Famous For In Hindi

भीमबेटका की गुफ़ाएँ आदि-मानव द्वारा बनाये गए शैलचित्रों और शैलाश्रयों के लिए प्रसिद्ध है। यहां बनाये गए चित्र भारतीय उपमहाद्वीप में मानव जीवन के सबसे प्राचीनतम चिह्न हैं।

यहाँ पर अन्य पुरातात्विक अवशेष भी मिले हैं जिनमें प्राचीन किले की दीवार, शुंग-गुप्त कालीन अभिलेख, लघुस्तूप, पाषाण काल में निर्मित भवन, शंख के अभिलेख और परमार कालीन मंदिर के अवशेष सम्मिलित हैं।

5. भीमबेटका की संरचना – Bhimbetka Structure In Hindi

भीमबेटका में दुनिया की सबसे पुराने पत्थर की दीवार और फर्श बने होने का प्रमाण मिलता है। यहा की एक चट्टान जिसे चिड़िया रॉक चट्टान के रूप में भी जाना जाता है। इस चट्टान पर हिरन, बाइसन, हाथी और बारहा सिंघा को चित्रित किया गया है। इसके अलावा एक अन्य चट्टान मोर, साप, सूरज और हिरन की एक तस्वीर को चित्रित करती है। शिकार करने के दौरान शिकारियों को तीर, धनुष, ढोल,रस्सी और एक सूअर के साथ भी चित्रित किया गया है। इस तरह की और भी कई चट्टानें और गुफाएँ यहा विधमान है। जिनकी मौजूदगी से हजारो साल पुराने कई रहस्यों का प्रमाण मिलता है।

6. भीमबेटका सभागार गुफा – Bhimbetka Auditorium Cave In Hindi

भीमबेटका सभागार गुफा - Bhimbetka Auditorium Cave In Hindi

कई गुफाओं में से, ऑडिटोरियम गुफा भीमबेटका स्थल की महत्वपूर्ण विशेषताओं में से एक है। जो क्वार्ट्जाइट टावरों से घिरी कई किलोमीटर की दूरी से दिखाई देती हैं, ऑडिटोरियम रॉक भीमबेटका में सबसे बड़ा आश्रय है। रॉबर्ट बेड्नारिक ने प्रागैतिहासिक ऑडिटोरियम गुफा का वर्णन “कैथेड्रल-जैसे” वातावरण के साथ किया है, जिसमें “इसके गोथिक मेहराब और बड़े स्थान” शामिल हैं। इसकी रचना चार कार्डिनल दिशाओं से जुड़ी अपनी चार शाखाओं के साथ एक “समकोण क्रॉस” जैसा दिखती है। मुख्य प्रवेश द्वार पूर्व की ओर है। इस पूर्वी मार्ग के अंत में, गुफा के प्रवेश द्वार पर, एक पास-ऊर्ध्वाधर पैनल के साथ एक बोल्डर है जो विशिष्ट है, जो सभी दिशाओं से दिखाई देता है। पुरातत्व साहित्य में, इस बोल्डर को “चीफ रॉक” या “किंग्स रॉक” के रूप में वर्णित किया गया है। ऑडिटोरियम गुफा के साथ बोल्डर, भीमबेटका की केंद्रीय विशेषता है, इसके 754 नंबरों वाले शेल्टर दोनों तरफ कुछ किलोमीटर में फैले हुए हैं, और लगभग 500 स्थानों पर जहां रॉक पेंटिंग मिल सकती है।

और पढ़े: पचमढ़ी हिल स्टेशन की यात्रा और अन्य जानकारी

7. भीमबेटका की चित्रकला और पेंटिंग – Bhimbetka Rock Art And Paintings In Hindi

भीमबेटका के शैल आश्रयों और गुफाओं में बड़ी संख्या में चित्र हैं। भीमबेटका की गुफा में सबसे पुरानी पेंटिंग 30,000 साल पुरानी पाई जाती हैं। भीमबेटका की गुफाओं में पेंटिंग के लिए उपयोग किए जाने वाले रंग वनस्पति रंग हैं जो समय के माध्यम से समाप्त हो गए हैं क्योंकि चित्र आम तौर पर एक आला के अंदर या आंतरिक दीवारों पर बनाये जाते थे। चित्र और पेंटिंग को सात विभिन्न अवधियों (काल) के अंतर्गत वर्गीकृत किया जा सकता है।

अवधि I – (ऊपरी पेलियोलिथिक):

ये हरे और गहरे लाल रंग में, बिसन, बाघ और गैंडे जैसे जानवरों के विशाल आंकड़ों के रैखिक प्रतिनिधित्व हैं।

अवधि II – (मेसोलिथिक):

आकार में तुलनात्मक रूप से छोटे आकार इस समूह में शरीर पर रैखिक सजावट दिखाते हैं। जानवरों के अलावा मानव आकृति और शिकार के दृश्य हैं, जो उनके द्वारा उपयोग किए गए हथियारों की स्पष्ट तस्वीर देते हैं: कांटेदार भाले, नुकीले डंडे, धनुष और तीर। भीमबेटका की गुफा में कुछ दृश्यों की व्याख्या उनके पशु कुलदेवता के प्रतीक तीन जनजातियों के बीच आदिवासी युद्ध को दर्शाती है। सांप्रदायिक नृत्यों, पक्षियों, संगीत वाद्ययंत्रों, माताओं और बच्चों, गर्भवती महिलाओं, मृत जानवरों को ले जाने वाले लोगों, शराब पीने और दफनाने का चित्रण लयबद्ध तरीके से दिखाई देता है।

अवधि III – (चालकोलिथिक):

मेसोलिथिक के चित्रों के समान, इन चित्रों से पता चलता है कि इस अवधि के दौरान इस क्षेत्र के गुफा निवासी मालवा मैदानों के कृषि समुदायों के संपर्क में थे, और उनके साथ सामान का आदान-प्रदान किया करते थे।

अवधि IV और V – (प्रारंभिक ऐतिहासिक):

इस समूह के आंकड़ों में एक योजनाबद्ध और सजावटी शैली है और इसे मुख्य रूप से लाल, सफेद और पीले रंग में चित्रित किया गया है। भीमबेटका की गुफा में संघ सवारों, धार्मिक प्रतीकों के चित्रण, अंगरखा जैसी पोशाक और विभिन्न अवधियों की लिपियों के अस्तित्व का है। धार्मिक मान्यताओं का प्रतिनिधित्व यक्षों, वृक्ष देवताओं और जादुई आकाश रथों द्वारा किया जाता है।

अवधि VI और VII – (मध्ययुगीन):

ये पेंटिंग ज्यामितीय रैखिक और अधिक योजनाबद्ध हैं, लेकिन वे अपनी कलात्मक शैली में पतन और अशिष्टता दिखाते हैं। गुफा के निवासियों द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले रंगों को काले मैंगनीज ऑक्साइड, लाल हेमटिट और चारकोल के संयोजन से तैयार किया गया था।

एक चट्टान, जिसे लोकप्रिय रूप से “चिड़ियाघर रॉक” (Zoo Rock) के रूप में जाना जाता है, हाथियों, बारासिंघा (दलदल हिरण), बाइसन और हिरण को दर्शाती है। एक अन्य चट्टान पर पेंटिंग एक मोर, एक साँप, एक हिरण और सूरज दिखाती है। एक अन्य चट्टान पर, दो हाथी दाँत के साथ चित्रित किए गए हैं। शिकारियों के साथ धनुष, तीर, तलवार और ढाल लेकर शिकार के दृश्य भी इन पूर्व-ऐतिहासिक चित्रों के समुदाय में अपना स्थान पाते हैं। गुफाओं में से एक में, एक बाइसन को एक शिकारी का पीछा करते हुए दिखाया गया है जबकि उसके दो साथी असहाय रूप से खड़े दिखाई देते हैं, दूसरे में, कुछ घुड़सवार तीरंदाजों के साथ दिखाई देते हैं। एक पेंटिंग में, एक बड़ा जंगली सूअर देखा जाता है।

8. भीमबेटका में चित्रों का वर्गीकरण – Classification Of Pictures In Bhimbetka In Hindi

चित्रों को बड़े पैमाने पर दो समूहों में वर्गीकृत किया गया है, एक शिकारी और भोजन इकट्ठा करने वालों के चित्रण के रूप में, जबकि एक अन्य लड़ाकू विमानों के रूप में, घोड़ों और हाथी पर सवार होकर धातु हथियार लेकर।

चित्रों का पहला समूह प्रागैतिहासिक काल का है जबकि दूसरा ऐतिहासिक समय का है। ऐतिहासिक काल के अधिकांश चित्रों में तलवार, भाले, धनुष और तीर चलाने वाले शासकों के बीच लड़ाई को दर्शाया गया है।

एक उजाड़ भीमबेटका की गुफा में, त्रिशूल के समान औजार को पकड़ने और नृत्य करने वाले व्यक्ति का नाम पुरातत्वविद वी एस वाकणकर द्वारा “नटराज” रखा गया है। यह अनुमान लगाया गया है कि कम से कम 100 चट्टानों वाले चित्रों को मिटा दिया गया होगा या वह स्वयं ही नष्ट हो गई होंगीं।

9. भीमबेटका घूमने का सही समय – Best Time To Visit Bhimbetka In Hindi

भीमबेटका घूमने का सही समय - Best Time To Visit Bhimbetka In Hindi

भीमबेटका घूमने के लिए सबसे अच्छा और आदर्श समय अक्टूबर से मार्च महीने का होता है। क्योंकि इस समय के दौरान जलवायु अनुकूल होती है और पर्यटक भीमबेटका में सुविधापूर्वक अपनी यात्रा सफल बना सकते है। हालाकि बारिश का मौसम भी यहा घूमने के लिए अच्छा माना जाता है। आप चाहे तो बारिश के मौसम में भी भीमबेटका की सैर पर बिना किसी झिझक के निकल सकते है। लेकिन गर्मी के मौसम में यहा जाने से यदि आप परहेज करेंगे तो वही सही रहेगा। क्योंकि पथरीला स्थान होने की वजह से यहा आपको गर्मी की मार झेलनी पड़ेगी।

(रोजाना प्रातः 7 बजे से शाम के 6 बजे तक आप भीमबेटका का भ्रमण कर सकते है)

और पढ़े: ताज उल मस्जिद भोपाल की जानकारी

10. भीमबेटका के आस पास कहा-कहा घूम सकते है – Nearest Place To Bhimbetka In Hindi

भीमबेटका के आसपास बहुत सारे ऐसे स्थान है जहाँ आप घूमने जा सकते है। भीमबेटका की अपनी इस यात्रा के दौरान आप आस-पास के अन्य हिस्सों से भी रूबरू हो सकते है और अपनी यात्रा में कुछ और यादगार लम्हों को अपने साथ संजो कर ले जा सकते है। तो आइयें हम आपको भीमबेटका के पास के कुछ स्थानों की यात्रा हम अपने इस आर्टिकल के माध्यम से कराते है।

10.1 भोजपुर – Bhojpuri

भोजपुर - Bhojpuri

भोजपुर मध्य-प्रदेश राज्य की राजधानी भोपाल से लगभग 28 किलोमीटर और भीमबेटका से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह स्थान एक छोटा सा गांव है लेकिन इसके पीछे इसका एक बड़ा इतिहास छुपा हुआ है। इस स्थान का नाम भोजपुर परमार राजा भोज के नाम पर रखा गया था। राजा परमार द्वारा यहा एक बांध बनबाया गया था, जिसे बाद में होशंगशाह ने तुड़वा दिया था। भोजपुर स्थान यहां बने भगवान शिव के विशाल मंदिर के लिए प्रसिद्ध है श्रद्धालु बहुत दूर-दूर से इस स्थान पर भगवान  शिव के दर्शन के लिए आते है। इस मंदिर के नजदीक में एक बांध भी बना हुआ है।

10.2 भोपाल – Bhopal

भोपाल - Bhopal

भोपाल शहर भारत के मध्य-प्रदेश राज्य की राजधानी है। यह सिटी आपके पर्यटन स्थल भीमबेटका से लगभग 45 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शानदार शहर है। भोपाल शहर का निर्माण भी परमार राजा भोज ने ही करवाया था। भोपाल शहर में आपके घूमने के लिए अनेक ऐसी जगह विधमान है जिन्हें देखकर आपका दिल बागबाग हो जायेगा। आपकी शोपिंग के लिए कई मोल है, लेकिन एमपी नगर में बोर्ड ऑफिस के पास बना डीबी मोल भोपाल शहर का सबसे बड़ा आकर्षित शोपिंग मॉल है। भोपाल में बड़ा तालाब, छोटा तालाब, वन विहार राष्ट्रीय उद्यान, शोर्य स्मारक, इंद्रा गाँधी रास्ट्रीय मानव संग्रहालय, गोहर महल, शौकत महल इत्यादि स्थान है।

10.3 होशंगाबाद – Hoshangabad

होशंगाबाद - Hoshangabad

होशंगाबाद शहर मध्य-प्रदेश राज्य का एक बहुत ही सुंदर जिला है यह शहर नर्मदापुरम के नाम से भी जाना जाता है। नर्मदा नदी अपने मधुर जल की कल्कलाहट की ध्वनि के साथ होशंगाबाद शहर को स्पर्स करते हुए प्रभाहित हो रही है। होशंगाबाद में नर्मदा नदी के किनारे पर कई घाट बने हुए है, इनमें से सेठानी घाट सबसे अहम है। नर्मदा जयंती का त्यौहार सेठानी घाट पर बहुत ही धूम-धाम और भव्य तरीके से मनाया जाता है। इस दिन नर्मदा नदी में चारो तरफ दीपक ही दीपक प्रज्वलित होते हुए नजर आते है, ऐसा लगता है जैसे असमान से तारे जमीन पर उतर आए हो। होशंगाबाद में नर्मदा नदी के किनारे होशंगशाह का किला बना हुआ। इस शहर का निर्माण यहा के एक शासक होशंगशाह के द्वारा करबाया गया था। उन्हीं के नाम पर इस शहर का नाम होशंगाबाद रखा गया था। विन्ध्याचल पर्वत श्रंख्ला इसी शहर के नजदीक है। भारतीय मुद्रा  बनाने के लिए कागज का निर्माण होशंगाबाद के एसपीएम नामक स्थान पर किया जाता है।

10.4 सलकनपुर माता मंदिर – Salkanpur Mata Mandir

सलकनपुर माता मंदिर – Salkanpur Mata Mandir

Image Source: Youtube/Anmol Bharat

सलकनपुर मध्य-प्रदेश राज्य के सीहोर जिले में एक छोटा सा गांव है। यह स्थान विज्यासन माता के भव्य मंदिर के लिए प्रसिद्ध है। इस मंदिर में देश के कौने-कौने से श्रद्धालु आते है। सलकनपुर धाम का सबसे लोकप्रिय त्यौहार नवरात्री का पावन त्यौहार होता है। नवरात्री में देवी माँ के नौ रूपों का दर्शन करने वाले श्रद्धालुओं की नौ दिन तक लम्बी कतार लगी रहती है। माता रानी का जयकारा लगाते हुए भक्तजन दूर-दूर से पैदल चल कर भी आते है। नवरात्री में यहा शानदार मेला भी लागता है। सलकनपुर का विज्यासन माता का मंदिर 800 फीट ऊंचाई की एक पहाड़ी पर स्थित है। इस मंदिर में 1000 से अधिक सीढ़ियां चड़ने के बाद भक्त माता रानी के मंदिर में पहुँच जाते है। यहा रोप-वे सेवा भी उपलब्ध है, मंदिर के आप-पास और सीडियों पर चड़ते समय आप बहुत सारे बंदरो का जमघट देख सकत है। मदिर के पीछे से भी एक रास्ता है और इस रस्ते से दो पहिया वाहन और चार पहिया वाहन सीधे ऊपर तक पहुँच जाते है। सलकनपुर मंदिर की अपने आसपास के इलाको से दूरी लगभग में- होशंगाबाद – 25 किलोमीटर,  इटारसी से 45 किलोमीटर और भोपाल से 70 किमी है

11. भीमबेटका घूमने की एंट्री फीस – Bhimbetka Entry Fee In Hindi

यदि आप भीमबेटका रॉक शेल्टर घूमने की योजना बना चुके है तो आपको भीमबेटका में लगने वाली प्रवेश शुल्क की जानकारी होना अति-आवश्यक है आइए हम आपको इसकी पुख्ता जानकारी से रुबारु कराते है।

भीमबेटका आने वाले भारतीय नागरिकों के लिए प्रवेश शुल्क 10 रूपये प्रतिव्यक्ति और विदेशी नागरिकों के लिए यह शुल्क 100 रूपये प्रतिव्यक्ति निर्धारित है।

मोटर राइड- यदि आप मोटर राइड का आनंद लेना चाहते है तो इसके लिए भारतीय नागरिकों को 50 रूपये प्रति व्यक्ति और विदेशी नागरिकों को 200 रूपये प्रति व्यक्ति शुल्क चुकाना होगा।

12. भीमबेटका कैसे पहुँचे – How To Reach Bhimbetka In Hindi

भीमबेटका कैसे पहुँचे - How To Reach Bhimbetka In Hindi

यदि आप भीमबेटका जाने का मन बना चुके है तो हम आपकों बता दें कि आप भीमबेटका फ्लाइट, ट्रेन, बस और अपने व्यक्तिगत साधन में से किसी का भी चुनाव अपनी सुविधा के अनुसार कर सकते है।

13. भीमबेटका फ्लाइट से कैसे पहुँचे – How To Reach Bhimbetka By Flight In Hindi

यदि आप भीमबेटका जाने के लिए फ्लाइट का चुनाव करते है तो हम आपको बता दें कि इसके लिए आपको सबसे नजदीकी एयर पोर्ट, भोपाल का राजा भोज एयर पोर्ट है। जो भीमबेटका से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर है। एयर पोर्ट से आप टैक्सी या स्थानीय साधन के माध्यम से आसानी से भीमबेटका पहुँच जाएंगे।

14. भीमबेटका ट्रेन से कैसे पहुँचे – How To Reach Bhimbetka By Train In Hindi

भीमबेटका रॉक शेल्टर घूमने के लिए यदि आप ट्रेन से यात्रा करना चाहते है तो हम आपको बता दें की इसके लिए आप हबीबगंज रेलवे स्टेशन पर उतर सकते है। यहा से भीमबेटका की दूरी लगभग 38 किलोमीटर है। भोपाल जंक्शन पर भी उतर सकते है यहा से आपके पर्यटक स्थल भीमबेटका की दूरी लगभग 53 किलोमीटर है। यहा से स्थानीय साधन या भोपाल शहर में चलने वाली सिटी बस के माध्यम से आप अपने गंतव्य स्थान भीमबेटका पहुँच जाएंगे। इसके अलावा मंडीदीप और अब्दुल्लागंज रेलवे स्टेशन भी है लेकिन यहा पर अधिकतर ट्रेने नही रूकती है।

15. भीमबेटका रोड मार्ग से कैसे पहुँचे – How To Reach Bhimbetka By Road In Hindi

यदि आप भीमबेटका जाने के लिए बस या अपने व्यक्तिगत साधन के माध्यम से जाना चाहते है तो आप रोड मार्ग से बहुत आसानी से पहुँच सकते है। होशंगाबाद रोड से 3 किलोमीटर की दूरी पर भीमबेटका पर्यटक स्थल है।

16. भीमबेटका के नजदीकी होटल – Nearest Hotel To Bhimbetka In Hindi

भीमबेटका स्थल घूमने के बाद यदि आप आराम करना चाहते है या रुकना चाहते है तो नजदीकी स्थान ओब्दुल्लागंज में आपको लो-बजट से लेकर हाई बजट तक के होटल आपको मिल जाएंगे और अपनी सुविधा और बजट के हिसाब से आप होटल का चुनाव कर सकते है।

और पढ़े: बड़ा तालाब भोपाल घूमने की जानकारी

17. भीमबेटका का पता – Bhimbetka Address

18. भीमबेटका की फोटो गैलरी – Bhimbetka Images

View this post on Instagram

Cave Paintings

A post shared by Partho Basu (@parthosarothi.basu) on

और पढ़े: वन विहार नेशनल पार्क भोपाल घूमने की जानकारी 

Write A Comment