माउंट आबू के दिलवाड़ा जैन मंदिर की पूरी जानकारी – Dilwara Jain Temple Mount Abu In Hindi

Dilwara Jain Mandir In Hindi, दिलवाड़ा जैन मंदिर मंदिर राजस्थान की अरावली पहाड़ियों के बीच स्थित जैनियों का सबसे सबसे सुंदर तीर्थ स्थल है। इस मंदिर का निर्माण 11 वीं और 13 वीं शताब्दी के बीच वास्तुपाल तेजपाल द्वारा किया गया था। यह मंदिर अपनी जटिल नक्काशी और हर कोने से संगमरमर से सजे होने के लिए प्रसिद्ध है। यह मंदिर बाहर से बहुत ही सामान्य दिखता है, लेकिन जब आप इस मंदिर को अंदर से देखेंगे तो इसकी छत, दीवारों, मेहराबों और स्तंभों पर बनी हुई डिजाइनों को देखकर हैरान रह जायेंगे। यह सिर्फ जैनियों का तीर्थ स्थल ही नहीं बल्कि एक संगमरमर से बनी एक जादुई संरचना है। जो यहाँ आने वाले पर्यटकों को बार-बार यहां आने पर मजबूर करती है।

Table of Contents

दिलवाड़ा जैन मंदिर कहाँ है – Where Is Dilwara Temple Located In Hindi

माउंट आबू जैन मंदिर राजस्थान के एकमात्र हिल स्टेशन माउंट आबू से लगभग 2½ किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं।

माउंट आबू के दिलवाड़ा जैन मंदिर किसने बनवाया – Dilwara Jain Mandir Kisne Banaya In Hindi

इस जैन मंदिर का निर्माण 11 वीं और 13 वीं शताब्दी ईस्वी में विमल शाह द्वारा करवाया गया था और यह ढोलका के जैन मंत्रियों, वास्तुपाल-तेजपाल द्वारा डिजाइन क्या गया था। यह मंदिर जटिल संगमरमर की नक्काशी के लिए जाने जाते हैं।

दिलवाड़ा जैन मंदिर का इतिहास – Dilwara Jain Mandir History In Hindi

Dilwara Jain Mandir History In Hindi

माउंट आबू जैन मंदिर के इतिहास के बारे में आपको बता दें कि इस मंदिर का निर्माण चालुक्य वंश द्वारा 11 वीं और 13 वीं शताब्दी ईस्वी में किया गया था। भले ही यह मंदिर बाहर से बहुत सामान्य दिखता है, लेकिन इनके प्रवेश द्वार के असाधारण दरबाजो से इसकी वास्तु श्रेष्ठता के बारे में पता चलता है। इस मंदिर की छत, द्वार, स्तंभ और पैनल में बहुत ही बारीकी से साथ नक्काशीदार सजावट की गई है, जो इसकी वास्तुकला की अद्वितीयता को बताते हैं। इस मंदिर की सबसे हैरान कर देने वाली बात यह है कि उस ज़माने में 1200 मीटर की ऊंचाई पर संगमरमर के इतने बड़े ब्लॉकों को ले जाने की कोई सुविधा नहीं थी। तब हाथियों का इस्तेमाल करके उनकी पीठ पर अम्बाजी से माउंट आबू तक संगमरमर ले जाने का काम किया जाता था।

दिलवाड़ा मंदिरों की वास्तुकला – Dilwara Temples Architecture In Hindi

Dilwara Temples Architecture In Hindi

जैन मंदिरों की वास्तुकला नगर शैली से प्रेरित है और प्राचीन पांडुलिपियों का एक संग्रह है। दिलवाड़ा मंदिरों में एक ही आकार के पांच मंदिर शामिल हैं, और ये सभी एकल मंजिला हैं। सभी मंदिरों में कुल 48 स्तंभ हैं जिनमें विभिन्न नृत्य मुद्राओं में महिलाओं की सुंदर आकृतियाँ हैं। मंदिर का मुख्य आकर्षण ‘रंगा मंडप’ है जो गुंबद के आकार की छत है। इसकी छत के बीच में एक झूमर जैसा ढांचा है, और पत्थर से बनी विद्यादेवी की सोलह मूर्तियाँ हैं, जो ज्ञान की देवी हैं। नक्काशी के अन्य डिजाइनों में कमल, देवता और अमूर्त पैटर्न शामिल हैं।

और पढ़े: नारेली जैन टेम्पल अजमेर राजस्थान घूमने की जानकारी

दिलवाड़ा मंदिरों के पाँच चमत्कार – The Five Marvels Of Dilwara Jain Mandir In Hindi

बता दें कि भव्य दिलवाड़ा मंदिर में पाँच समान रूप से मंदिर बने हुए हैं जिनके नाम है विमल वसाही, लूना वसाही, पित्तलहर, पार्श्वनाथ और महावीर स्वामी मंदिर है। यह मंदिर क्रमश: भगवान आदिनाथ, भगवान ऋषभभो, भगवान नेमिनाथ, भगवान महावीर स्वामी और भगवान पार्श्वनाथ को समर्पित हैं। इन सभी मंदिरों में से हर एक मंदिर में मंडप, गर्भग्रह, एक केंद्रीय कक्ष और अंतरतम गर्भगृह जहाँ भगवान का निवास माना गया है। इन मंदिरों में नवचोकी है जो नौ सजावट वाली छतों का एक समूह है। कुछ अन्य संरचनाओं में किर्थी स्तम्भ और हाथिशला भी है जो अपने जैन मूल्यों और सिद्धांतों को बताता है।

विमल वसाही मंदिर – Vimal Vasahi Temple In Hindi

Vimal Vasahi Temple In Hindi

विमल वसाही मंदिर पहले जैन तीर्थंकर भगवान आदिनाथ को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण 1021 में गुजरात के सोलंकी महाराजा विमल शाह ने करवाया था। यह मंदिर सभी मंदिरों में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध और पुराना है। इस मंदिर में मंडप, छत और दरवाजे हैं। इस मंदिर की पंखुड़ियों, फूलों, कमलों, भित्ति चित्रों और पौराणिक कथाओं के चित्र बहुत आकर्षित करते हैं। विमल वसाही मंदिर एक खुले प्रांगण में स्थित है जो एक गलियारे से घिरा हुआ है। इस गलियारे में तीर्थंकरों की छोटी-छोटी मूर्तियाँ हैं। गुढ़ मण्डप इस मंदिर का सबसे मुख्य कमरा है, जिसमे भगवान आदिनाथ की मूर्ति विराजमान है। बताया जाता है कि इस मंदिर को बनवाने में ,500 राजमिस्त्री और 1,200 मजदूरों लगे थे जिसमे 14 साल लग गए थे।

लूना वसाही मंदिर – Luna Vasahi Temple In Hindi

लूना वसाही मंदिर का निर्माण 1230 में किया गया था। यह मंदिर 22 वें जैन तीर्थंकर भगवान नेमिनाथ को समर्पित है। यह मंदिर इस परिसर का दूसरा प्रमुख मंदिर है। इस मंदिर को 1230 में दो पोरवाड भाई वास्तुपाल और तेजपाल द्वारा बनवाया गया था। मंदिर में रंग मंडप एक केंदीय हाल है। जिसमे एक वृत्ताकार रूप में तीर्थंकरों की 72 और जैन भिक्षुओं की 360 आकृतियाँ हैं। लूना वसाही मंदिर में एक हाथीशिला भी है, जिसमे 10 संगमरमर हाथी और एक विशाल काले पत्थर का स्तंभ है, जिसको किर्थी स्तम्भ कहते हैं।

पित्तलहर मंदिर – Pittalhar Temple In Hindi

Pittalhar Temple In Hindi

पित्तलहर मंदिर यहां का तीसरा प्रमुख मंदिर है जो जैन तीर्थंकर भगवान ऋषभदेव को समर्पित है। इस मंदिर का निर्माण भीम सेठ द्वारा किया गया था। इस मंदिर में भगवान आदिनाथ की पांच धातुओं और पीतल से बनी एक विशाल मूर्ति स्थापित है। इस मंदिर के अंदर भी गर्भगृह, गुड़ मंडप और नवचौकी है।

पार्श्वनाथ मंदिर – Parshwanatha Temple In Hindi

पार्श्वनाथ मंदिर एक तीन मंजिला इमारत मंदिर है जो सभी मंदिरों की सबसे ऊँची इमारत है। इसे मंडली द्वारा 1459 में 23 वें जैन तीर्थंकर भगवान पार्श्वनाथ के समर्पण के रूप में बनवाया था। बता दें कि इस मंदिर में चार मुख्य हॉल हैं जिसकी दीवारों पर ग्रे बलुआ पत्थर की नक्काशी है।

महावीर स्वामी मंदिर – Mahavir Swami Temple In Hindi

Mahavir Swami Temple In Hindi

1582 में निर्मित महावीर स्वामी मंदिर 24 वें जैन तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी के समर्पण के रूप में बना है। यह मंदिर बाकी मंदिरों की तुलना में काफी छोटा है। यह मंदिर सिरोही के कलाकारों के कई चित्रों को बताता है।

दिलवाड़ा जैन मंदिर खुलने और बंद होने का समय – Mount Abu Dilwara Jain Temple Timings In Hindi

जैन मंदिर जैन भक्तों सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक खुला रहता है और अन्य धर्म के लोगो के लिए यह दोपहर 12 से शाम 6 बजे तक खुला रहेगा। यहाँ जाने से पहले इस बात का जरुर ध्यान रखे कि इस मंदिर में किसी भी पर्यटक और तीर्थ यात्री को मंदिर परिसर में फोटो खींचने की अनुमति नहीं है।

दिलवाड़ा जैन मंदिर का प्रवेश शुल्क – Dilwara Jain Temple Entry Fees In Hindi

अगर आप दिलवाड़ा मंदिर घूमने या दर्शन करने जा रहे हैं तो बता दें कि इन मंदिर में प्रवेश के लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाता।

दिलवाड़ा मंदिरों की यात्रा के सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Dilwara Temples In Hindi

Best Time To Visit Dilwara Temples In Hindi

अगर आप दिलवाड़ा मंदिरों की यात्रा के लिए जा रहे हैं तो आपको बता दें कि माउंट आबू में पूरे साल अच्छा मौसम रहता है। हालांकि अप्रैल से लेकर जून के महीने गर्म होते हैं। लेकिन मानसून और सर्दियों का मौसम यह जगह घूमने के लिए बहुत अच्छी है। क्योंकि इस जगह न बहुत ज्यादा ठंड पड़ती है न बहुत ज्यादा बरसात होती है।

और पढ़े: रणकपुर जैन मंदिर के बारे में जानकारी 

दिलवाड़ा मंदिर के आस पास में घूमने लायक जगह – Best Places To Visit Near Dilwara Jain Mandir In Hindi

अगर आप अपने परिवार या दोस्तों के साथ माउंट आबू की यात्रा का प्लान बना रहे है तो नीचे दिए गए जगह पर अवश्य घुमने जाये।

माउंट आबू वन्यजीव अभयारण्य – Mount Abu Wildlife Sanctuary In Hindi

Mount Abu Mein Ghumne Ki Achi Jagah Mount Abu Wildlife Sanctuary In Hindi

माउंट आबू वन्यजीव अभयारण्य एक समृद्ध जैव विविधता वाली ऐसी जगह है जो इसे एक छोटे और अच्छे पर्यटक स्थलों की सूची में शामिल करता है। यह अभयारण्य माउंट आबू पर्वत श्रृंखलाओं की सबसे पुरानी जगहों में से एक है और यहां के कई उत्तम दृश्यों के साथ आपको कई दर्शनीय स्थल भी देखने को मिलते हैं। इस पूरे क्षेत्र को वनस्पतियों और जीवों को संरक्षित करने के लिए एक वन्यजीव अभयारण्य बनाया गया था। यह अभयारण्य एक ऐसी जगह है, जिसमे सदाबहार जंगलों की जीवंत वनस्पति पाई जाती है। अगर आप राजस्थान की यात्रा के समय कुछ अच्छे वन्यजीवों को देखना और प्राकृतिक जगह का अनुभव लेना चाहते हैं तो यह इसके लिए बहुत अच्छा स्थान है।

और जाने: माउंट आबू वनजीव अभ्यारण की जानकारी

नक्की झील – Nakki Lake In Hindi

Mount Abu Ki Famous Tourist Spot Nakki Lake In Hindi

माउंट आबू में अरावली पर्वतमाला में स्थित एक नक्की लेक है जिसे स्थानीय रूप से नक्की झील के नाम से भी जाना जाता है। यह झील प्रकृति प्रेमियों के लिए स्वर्ग के सामान मानी जाती है क्योंकि अद्भुत प्राकृतिक द्रश्यों से भरी हुई यह झील वास्तव में माउंट आबू का सबसे प्रमुख आकर्षण है। नक्की लेक भारत की पहली मानव निर्मित झील है जिसकी गहराई लगभग 11,000 मीटर और चौड़ाई एक मील है। माउंट आबू के केंद्र में स्थित यह आकर्षक झील हरे भरे पहाड़ों, पहाड़ों और अजीब आकार की चट्टानों से घिरी हुई है। माउंट आबू की उड़ने वाली हवाएं और सुखदायक तापमान में बोटिंग  करना आपके दिल को खुश कर देगी। बताया जाता है कि नक्की झील में, महात्मा गांधी की राख को 12 फरवरी 1948 को विसर्जित कर दिया गया था और गांधी घाट का निर्माण किया गया था। यह झील प्रकृति प्रेमियों और फोटोग्राफी के शौकीनों के लिए एक बेहद लोकप्रिय जगह है।

और जाने: नक्की झील घूमने की जानकारी

गुरु शिखर – Guru Shikhar In Hindi

Mount Abu Mein Ghumne Layak Jagah Guru Shikhar In Hindi

अगर आप शहर के तेज और व्यस्त जीवन बोर हो गए है तो गुरु शिखर आपके लिए सबसे अच्छी जगह है। गुरु शिखर अरावली रेंज की सबसे ऊँची चोटी है जो माउंट आबू से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस शिखर की समुद्र तल से ऊँचाई 1722 मीटर है जिसकी वजह से यहाँ से अरावली रेंज और माउंट आबू के हिल स्टेशन का बहुत ही आकर्षक दृश्य देखने को मिलता है। इस जगह पर आबूवेधशाला और गुरु दत्तात्रेय का गुफा मंदिर जो भगवान विष्णु को समर्पित है। ऑब्जर्वेटरी में 1.2 मीटर का इंफ्रारेड टेलीस्कोप है। 15 किलोमीटर की ड्राइव के बाद आपको गुरु शिखर पर जाने के लिए कुछ सीढ़ियां चढ़नी होंगी। अगर आप अक्टूबर और नवंबर के समय इस जगह पर जाते हैं तो यहाँ पर बहुत अधिक बादल और धुंध हो जाती है। यहां आने वाले पर्यटकों को इस समय ऐसा महसूस होता है जैसे वो बादलों की मदद से गुरु शिखर पर जा रहे हैं क्योंकि चारों ओर धुंध दिखाई देती है। यह जगह यहां आने वाले पर्यटकों के मन को आनंदित कर देती है।

और जाने: गुरु शिखर घूमने की जानकारी

गौमुख मंदिर – Gaumukh Temple In Hindi

Mount Abu Ka Pramukh Dharmik Sthal Gaumukh Temple In Hindi
Image Credit: Megh Gandhi

माउंट आबू में शहर से एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित गौमुख मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक मंदिर है। इस मंदिर के दर्शन करने के लिए आपको 700 सीढ़ियों की पवित्र चढ़ाई करके जाना होता है। यह मंदिर अपने आस-पास की घाटी का मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। गौमुख मंदिर में पूरे साल पर्यटकों और भक्तों की भीड़ होती है। घने जंगल के बीच स्थित इस मंदिर में गौमुख (गाय काप्मुख) भगवान कृष्ण, भगवान राम और ऋषि वशिष्ठ की मूर्तियों के साथ नंदी की मूर्ति आपका स्वागत करता है। इस मंदिर में संगमरमर के बैल की मूर्ति (मुंह से पानी गिरने वाली) हिंदू पौराणिक कथाओं में भगवान शिव के बैल नंदी को समर्पित है। यहाँ आकर आप प्रकृति की सुंदरता देखने के साथ ट्रेकिंग का भी भरपूर आनंद ले सकते हैं। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यह मंदिर संत वशिष्ठ के समर्पण में बनाया गया था जिन्होंने चार प्रमुख राजपूत वंशों के निर्माण के लिए एक यज्ञ किया था। जिस अग्नि कुंड में यज्ञ किया गया था वो इस मंदिर के मुख्य आकर्षणों में से एक है। रामायण की कथा से यह ज्ञात हुआ है कि राम वनवास के समय राम और लक्ष्मण ज्ञान की प्राप्ति के लिए इस जगह पर आये थे और उन्होंने यहां रहने वाले ऋषि वशिष्ठ से आशीर्वाद लिया था।

अर्बुदा देवी मंदिर – Arbuda Devi Temple In Hindi

Mount Abu Ka Darshaniya Sthal Arbuda Devi Temple In Hindi

अर्बुदा देवी मंदिर को माउंट आबूका सबसे पवित्र तीर्थ बिंदु माना जाता है। इस मंदिर को 51 में से छठा शक्तिपीठ माना जाता है। अर्बुदा देवी को कात्यायनी देवी का अवतार कहा जाता है। नवरात्र के मौके पर माउंट आबू का पर्यटन स्थान एक आध्यात्मिक नगरी के रूप में बदल जाता है। यहाँ पर दूर से लोग अर्बुदा देवी मंदिर के दर्शन के लिए आते हैं। आपको बता दें कि यह मंदिर एक गुफा के अंदर स्थित है जिसके दर्शन के लिए आपको 365 सीढ़ियां चढ़कर जाना होता है। बताया जाता है कि मंदिर के पास दूध के रंग के पानी से बना पवित्र कुआँ है। यहाँ के स्थाई निवासी इस कुएं को कामधेनु (पवित्र गाय) के रूप में मानते हैं। यह पवित्र कुआँ मंदिर के लिए पानी का मुख्य स्रोत भी है। विशाल ठोस चट्टानों से निर्मित यह मंदिर भारत के चट्टानों पर बने मंदिरों के सर्वश्रेष्ठ नमूनों में से एक है।

और जाने: अर्बुदा देवी मंदिर के बारे और जानकारी

ट्रेवर टैंक – Trevors Tank In Hindi

Mount Abu Ka Prasidh Paryatan Sthal Trevors Tank In Hindi

माउंट आबू से 5 किमी दूर स्थित ट्रेवर्स टैंक प्रकृति प्रेमियों के लिए एक बेहद लोकप्रिय जगह है। इसका नाम एक ट्रेवर नामक एक इंजीनियर के नाम पर रखा गया है जिसने इसे डिजाइन किया था। मगरमच्छ, पक्षी और अन्य वन्यजीवों को देखने के लिए लोकप्रिय एकांत जंगल में जलाशय बना हुआ है। वर्तमान में यह स्थानीय और यहां हर साल आने वाले पर्यटकों दोनों के लिए एक लोकप्रिय पिकनिक स्पॉट है। यह जगह आपको प्रकृति का शानदार नजारा दिखाती है।

टॉड रॉक – Toad Rock In Hindi

Mount Abu Ka Aakarshan Sthal Toad Rock In Hindi

टॉड रॉक को माउंट आबू के शुभंकर के रूप में जाना जाता है, यह चट्टानों से बनी एक बहुत ही अद्भुद जगह है जहां पर आपको बड़ी-बड़ी चट्टानें देखने को मिलेंगी। टॉड रॉक माउंट आबू आने वाले सभी पर्यटकों के द्वारा में सबसे ज्यादा बार देखी जाने वाली जगह है। आसपास की झील और हरे भरे पहाड़ी क्षेत्रों केआकर्षक दृश्यों को देखने के लिए आप यहाँ चट्टान पर चढ़ सकते हैं और अपने कैमरा की मदद से कुछ लुहावने दृश्यों को कैद कर सकते हैं।

और जाने: टॉड रॉक घूमने की जानकारी

श्री रघुनाथ मंदिर – Shri Raghunath Temple In Hindi

Mount Abu Ka Lokpriya Mandir Shri Raghunath Temple In Hindi
Image Credit: Rohit Kaushal

भगवान विष्णु के पुनर्जन्म को समर्पित श्री रघुनाथ जी मंदिर निकी झील के तट पर एक 650 साल पुराना मंदिर। जो मुख्य रूप से वैष्णवों द्वारा देखा गया ऐसा मंदिर है जिसे पृथ्वी पर सबसे पवित्र मंदिरों में से एक माना जाता है। श्री रघुनाथ जी के बारे में  माना जाता है कि वे अपने अनुयायियों को सभी प्राकृतिक आपदाओं से बचाते हैं। इसके साथ ही उनके भक्तों का यह भी मानना है कि वे उन्हें जीवन के दर्द और सभी समस्याओं से मुक्त करेंगे। इस मंदिर की दीवारों पर मेवाड़ की स्थापत्य विरासत को शिलालेखों की मदद से देखा जा सकता हैं। इस मंदिर में नाजुक पेंटिंग और नक्काशी भी देखने को मिलती है। श्री रघुनाथ जी की उत्कृष्ट नक्काशीदार मूर्ति माउंट आबू का सबसे मुख्य आकर्षण है।

यूनिवर्सल पीस हॉल – Universal Peace Hall In Hindi

Mount Abu Ki Famous Tourist Place Universal Peace Hall In Hindi

यूनिवर्सल शांति हॉल जो कि ब्रह्म कुमारी आध्यात्मिक विश्वविद्यालय का मुख्य सभा हॉल है जिसको ओम शांति भवन भी कहा जाता है। इस भवन का निर्माण 1983 में किया गया था। शांति से भरपूर सफेद संरचना के इस हाल में लगभग 5,000 लोग बैठ सकते हैं। इस हाल में किसी भी आयोजन के दौरान 16 बिभिन्न भाषाओं में अनुवाद की सुविधा है। जब से इस हाल को सार्वजनिक पर्यटन स्थल घोषित किया गया है तब से करीब 8,000 से अधिक लोग रोज यहां आते हैं। जब आप यूनिवर्सल पीस हॉल में आते हैं तो यहाँ पर ब्रह्मा कुमारियों का एक सदस्य आपको एक परस्पर संवादात्मक समूह में ले जायेगा जहां किसी भी इंसान की रोज की परेशानी और तनाव को दूर किया जाता है।

सूर्यास्त बिंदु – Sunset Point In Hindi

Best Place To Visit In Mount Abu Tourism Sunset Point In Hindi

अगर आप माउंट आबू घूमने के लिए आ रहे हैं तो आपकी यात्रा यहां के सन सेट पॉइंट पर्यटन के खास स्थल के बिना पूरी नहीं होगी। इस जगह पर आपको ऐसा नजारा देखने को मिलता है जो अपने कभी सोचा नहीं होगा। सूर्यास्त के समय बीहड़ अरावली पर्वतमाला के बाहर सूर्य की किरणों दृश्य पर्यटकों को बेहद आकर्षित करता है। इस जगह पूरे साल एक सुखद जलवायु होती है। यह जगह किसी भी प्रकृति प्रेमी के लिए बेहद खास है क्योंकि जब सूर्य डूबता है तो इसकी किरणे लाल और नारंगी रंग के रंगों में अरावली की समृद्ध हरियाली में बहुत खूबसूरत दिखाई देती हैं। जो भी पर्यटक शहर के भीड़-भाड़ वाले माहोल से दूर रह कर शांति से सूर्यास्त का आनंद लेना चाहते हैं, उनके लिए माउंट आबू की यह जगह बहुत अच्छी है।

अचलगढ़ क़िला – Achalgarh Fort In Hindi

Mount Abu Me Ghumne Layak Aetihasik Sthal Achalgarh Fort In Hindi

माउंट आबू से 11 किमी की दूरी पर स्थित अचलगढ़ किला राजस्थान के प्रसिद्ध प्राचीन किलो में से एक है। अचलगढ़ गाँव माउंट आबू में एक सुरम्य गाँव है जो अचलगढ़ किले, अचलेश्वर मंदिर और ऐतिहासिक जैन मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है। किले के परिसर में एक प्रसिद्ध शिव मंदिर, अचलेश्वर महादेव मंदिर और मंदाकिनी झील है।

अचलेश्वर महादेव के केंद्र में एक नंदी जी की एक मूर्ति भी स्थापित है जो 5 धातु (कांस्य, सोना, जस्ता, तांबा और पीतल) से मिलकर बनी हुई है। अचलगढ़ क़िला घूमने के लिए इतिहास प्रेमियों के साथ-साथ तीर्थ यात्रियों के लिए भी एक प्रसिद्ध स्थल बना हुआ है। जहा के कई ऐतिहासिक अवशेष और महान धार्मिक महत्व के पुराने मंदिर पर्यटकों के लिए आकर्षण केंद्र बने हुए है।

और जाने: अचलगढ़ किले घूमने की जानकारी

माउंट आबू में में खाने के लिए मशहूर स्थानीय भोजन – Best Local Food In Mount Abu In Hindi

Best Local Food In Mount Abu In Hindi

माउंट आबू एक लोकप्रिय और सरल हिल स्टेशन होने के साथ प्रकृतिक शुद्ध शाकाहरी भोजन मिलने की भी खास जगह है। एक बेहद लोकप्रिय जैन तीर्थ स्थल होने की वजह से यहां पर बड़ी संख्या में शुद्ध-शाकाहारी रेस्तरां हैं, इसलिए यहां पर आपको मांसाहारी भोजन मिलने की उम्मीद काफी कम रखना चाहिए। माउंट आबू में स्थानीय राजस्थानी , पंजाबी और चीनी भोजन आसानी से मिल जाता है। लेकिन आपको पंजाबी और चीनी भोजन शहर के केंद्र के आसपास के रेस्तरां में ही मिल पायेगा। इसलिए आप यहां के स्थानीय भोजन का स्वाद ही चखें तो ज्यादा अच्छा होगा।

और पढ़े: राजस्थान के फेमस ऐतिहासिक मंदिर

माउंट आबू के दिलवाड़ा जैन मंदिर कैसे पहुँचे – How To Reach Dilwara Temples Mount Abu In Hindi

माउंट आबू और दिलवाड़ा मंदिर के बीच की दूरी सिर्फ 2.5 किलोमीटर है। यदि आपके पास अपना वाहन है, तो आप आसानी से मंदिर तक या तो देलवाड़ा रोड या तीर्थयात्रा मार्ग से पहुँच सकते हैं। इस मार्ग पर बसें नहीं चलती हैं, हालांकि, टैक्सी या ऑटोरिक्शा यहां उपलब्ध हैं।

हवाई मार्ग से दिलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू कैसे पहुंचे – How To Reach Dilwara Jain Temple By Air In Hindi

How To Reach Mount Abu By Air In Hindi
अगर आप दिलवाड़ा जैन मंदिर घूमने के लिए हवाई जहाज से जाने का प्लान बना रहे हैं, तो आपको बता दें कि माउंट आबू से कोई डायरेक्ट एअरपोर्ट जुड़ा नहीं है। इसका निकटतम हवाई अड्डा उदयपुर राजस्थान में है। अगर आप किसी और देश से आ रहे हैं तो आपको अहमदाबाद हवाई अड्डा उतरना बेहतर होगा, जो एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है। इसके अलावा आप दिल्ली, मुंबई, जयपुर से उदयपुर के लिए कनेक्टिंग फ्लाइट ले सकते हैं। इसके बाद आप माउंट आबू या दिलवाड़ा जैन मंदिर पहुँचने के लिए टैक्सी या कैब ले सकते हैं।

ट्रेन के माध्यम से दिलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू कैसे जाये – How To Reach Dilwara Jain Temple By Train In Hindi

How To Reach Mount Abu By Train In Hindi
अगर आप ट्रेन से सफर करना चाहते हैं तो आपको जयपुर और अहमदाबाद से माउंट आबू के लिए कई नियमित ट्रेन मिल जाएँगी। यदि आप जयपुर और अहमदाबाद के अलावा किसी दूसरे शहर से यात्रा कर रहे हैं तो हम आपको यही कहना चाहते हैं कि टैक्सी को प्राथमिकता दें क्योंकि ट्रेन से आने में आपको दिक्कत हो सकती है। आपको ट्रेन से माउंट आबू तक पहुँचने के लिए लंबे मार्ग से जाना होगा।

सड़क मार्ग से दिलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू कैसे पहुंचे – How To Reach Dilwara Jain Temple By Road In Hindi

How To Reach Mount Abu By Road In Hindi

दिलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू जाने के लिए आपको राज्य परिवहन की बस मिल जाएँगी। अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों के लिए माउंट आबू पहुंचने का सबसे अच्छा तरीका दिल्ली से उदयपुर के लिए फ्लाइट पकड़ना है। यहां से माउंट आबू के लिए आपको निजी कार या टैक्सी मिल जाएगी।

और पढ़े: जयपुर में घूमने की अच्छी जगह

दिलवाड़ा जैन मंदिर का नक्शा – Dilwara Jain Temple Location

दिलवाड़ा जैन मंदिर की फोटो गैलरी – Dilwara Jain Temple Images

और पढ़े: उदयपुर पर्यटन के दर्शनीय स्थल

Leave a Comment