माउंट आबू वनजीव अभ्यारण की जानकारी – Mount Abu Wildlife Sanctuary Information In Hindi

Mount Abu Wildlife Sanctuary In Hindi, माउंट आबू सेंचुरी राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है जो राजस्थान के एकमात्र हिल स्टेशन माउंट आबू के पास स्थित है। यह जीव अभ्यारण विभिन्न वन्यजीवों से समृद्ध है अगर आप माउंट आबू घूमने के लिए जा रहे हैं तो आपको इस अभ्यारण को अपने पर्यटन स्थलों की सूची में जरूर शामिल करना चाहिए। आपको बता दें कि माउंट आबू अभ्यारण पर्वत श्रृंखलाओं के सबसे पुराने हिस्सों में से एक है और यह पर्यटकों को एक खास अनुभव प्रदान करता है। इस अभ्यारण को 1960 में क्षेत्र के वनस्पति और जीवो को संरक्षित करने के लिए एक वन्य जीव अभ्यारण का दर्जा दिया गया था। आज यह अभ्यारण राजस्थान का एक प्राकृतिक पर्यटन स्थल बन चुका है। यहां पर आप कई तरह के वन्यजीवों को उनके प्राकृतिक आवास के रूप में देख सकते हैं।

माउंट आबू वन्यजीव अभ्यारण 288 किलोमीटर तक फैला हुआ है जो गुरु शिखर में 300 मीटर से लेकर 1722 मीटर ऊंचे कई पर्वतों को पार करता है। गुरुशिख को अरावली पर्वत की सबसे ऊंची छोटी माना जाता है। इस वन्यजीव अभ्यारण में पानी और हवा के अपक्षय प्रभाव के कारण बड़ी गुहा वाली कई आग्नेय चट्टाने उपस्थित है। अगर आप एक प्रकृति और वन्यजीव प्रेमी है तो आपको इस अभ्यारण की यात्रा अवश्य करना चाहिए क्योंकि यह अभ्यारण कई मनोरम प्राकृतिक दृश्यों को प्रस्तुत करता है। इस आर्टिकल में माउंट आबू वन्यजीव अभ्यारण से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में बात करने वाले है इसीलिए इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े –

1. माउंट आबू वन्य-जीव अभ्यारण में पाए जाने वाले वनस्पति – Flora In Mount Abu Wildlife Sanctuary In Hindi

माउंट आबू वन्य-जीव अभ्यारण में पाए जाने वाले वनस्पति

माउंट आबू वन्यजीव अभयारण्य एक खूबसूरत हिल स्टेशन में स्थित है, जो घाटियों नदियों में मौजूद कई हरे-भरे जंगलों और उस कटिबंधीय कांटेदार जंगलों से समृद्ध है। यहां पर कई हर्बल औषधीय पौधे भी पाए जाते हैं। बता दें कि इस अभ्यारण में पेड़ों की 81 प्रजातियां, झाड़ियों की 89 प्रजातियां और पौधों की 17 प्रजातियां पाई जाती है। यहां के जंगलों में जंगली गुलाब की 3 प्रजातियां और फास्फोरस एवं ब्रायोफाइट्स और शैवालों की 16 प्रजातियां पाई जाती है। इस अभ्यारण्य के दक्षिण पश्चिमी भाग में बांस के जंगल काफी मात्रा में मौजूद है।

2. माउंट आबू वाइल्ड लाइफ सैंक्चुअरी में पाए जाने वाले जीव – Fauna In Mount Abu Wildlife Sanctuary In Hindi

माउंट आबू वाइल्ड लाइफ सैंक्चु

आपको बता दें कि इस अभयारण्य में जीवो की कई लुप्त प्रजातियां पाई जाती है यहां पर आप दुर्लभ हायना और सियार को देख सकते। यहां आप कई तरह की विभिन्न लुप्त प्रजातियों को देख सकते हैं। अभयारण्य में ऐसी शेर भी पाए जाते हैं जो आखिरी बार 1970 में देखे गए थे। इस अभ्यारण्य में जंगली बिल्ली, हाइना, सियार, आम लंगूर, जंगली सूअर, गेंडा, भारतीय हरे, हाथी और लोमड़ी शामिल हैं। यह अभ्यारण्य आलसी भालू के लिए एक आदर्श वातावरण प्रदान करता है। यह अभ्यारण्य पक्षी प्रेमियों के लिए बेहद खास है क्योंकि यहां पर पक्षियों की 250 से अधिक प्रजातियां पाई जाती हैं, जो इसे और भी ज्यादा खूबसूरत बनाते हैं।

3. माउंट आबू वाइल्ड लाइफ सैंक्चुअरी में जीप सफारी – Mount Abu Wildlife Sanctuary Jeep Safari In Hindi

माउंट आबू वाइल्ड लाइफ सैंक्चुअरी में जीप सफारी

माउंट आबू वन्यजीव अभ्यारण में आप जीप सफारी की मदद से पूरे अभ्यारण को अच्छी तरह से घूम सकते है। जीप सफारी में अभ्यारण में घूमने का शुल्क 300 रूपये प्रति व्यक्ति है लेकिन यह शुल्क पर्यटन सीजन में 600 रूपये प्रति व्यक्ति तक चला जाता है।

और पढ़े: कुम्भलगढ़ वन्यजीव अभयारण्य में घूमने की जानकारी 

4. माउंट आबू वन्यजीव अभ्यारण के खुलने और बंद होने का समय – Mount Abu Wildlife Sanctuary Timing In Hindi

माउंट आबू अभ्यारण साल के 365 दिन खुला रहता है। यह अभ्यारण पर्यटकों के लिए सुबहे के 9 बजे से शाम के 5.30 बजे तक खुला रहता है।

5. माउंट आबू अभयारण्य घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Mount Abu Wildlife Sanctuary In Hindi

माउंट आबू अभयारण्य घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

अगर आप माउंट आबू वन्यजीव अभयारण्य की यात्रा करने के लिए जा रहें हैं तो बता दें कि यहां की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय सर्दियों का मौसम होता है। इस मौसम के दौरान आप यहां ट्रेकिंग का भरपूर मजा ले सकते हैं। अक्टूबर और मार्च के बीच के महीने, जगह की यात्रा करने के लिए आदर्श समय हैं। क्योंकि इस दौरान मौसम सुखद होने की वजह से आप यहां के अन्य पर्यटन स्थलों की यात्रा का मजा ले सकते हैं। गर्मियों के मौसम में यहां की यात्रा करना बिलकुल भी सही नहीं है क्योंकि राजस्थान में इस दौरान बहुत ज्यादा गर्मी पड़ती है।

6. माउंट आबू सैंक्चुअरी की यात्रा के लिए टिप्स – Mount Abu Vanya Jeev Abhyaran Travel Tips In Hindi

माउंट आबू सैंक्चुअरी की यात्रा के लिए टिप्स

  • अगर आप माउंट आबू सैंक्चुअरी की यात्रा करने के लिए जा रहें हैं तो आपको यह सलाह देना चाहते हैं कि वहां मौजूद जानवरों को कुछ दूध न पिलाएं क्योंकि आपका उनके आहार में दखल देना आपको और उनके लिए खतरनाक साबित हो सकता है।
  • यहां की सैर के दौरान किसी भी जगह को गंदा न करें क्योंकि यहां पर कई तरह की जानवरों और पक्षियों का निवास है। आपकी एक गलती यहां के जीवों के लिए खतरनाक साबित हो सकती है।
  • यात्रा के दौरान ऐसे कपड़े पहने जो आपके लिए आरामदायक हो, जिससे कि आप इस अभ्यारण्य को अच्छी तरह से एक्सप्लोर कर सकें।
  • परिसर में प्लास्टिक ले जाने की अनुमति नहीं है।

और पढ़े: चैल वन्यजीव अभयारण्य की जानकारी और पर्यटन स्थल

7. माउंट आबू वन्यजीव अभ्यारण के पास घूमने लायक आकर्षण स्थल – Best Tourist Attraction Near Mount Abu Sanctuary In Hindi

अगर आप माउंट आबू अभ्यारण घूमने के बारे में सोच रहे है तो, माउंट आबू शहर में भी बहुत कुछ है घूमने लायक मौजूद है। माउंट आबू के यह आकर्षण स्थलों को भी जरुर घूमे।

7.1 दिलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू – Dilwara Jain Temple In Hindi

दिलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू

दिलवाड़ा जैन मंदिर राजस्थान की अरावली पहाड़ियों के बीच स्थित जैनियों का सबसे लोकप्रिय और सुंदर तीर्थ स्थल है। इस मंदिर का निर्माण 11 वीं और 13 वीं शताब्दी के बीच वास्तुपाल और तेजपाल ने किया था। दिलवाड़ा मंदिर अपनी जटिल नक्काशी और हर से संगमरमर की संरचना होने की वजह से प्रसिद्ध है। यह मंदिर बाहर से बहुत ही साधारण दिखाई देता है लेकिन जब आप इस मंदिर को अंदर से देखेंगे तो इसकी छत, दीवारों, मेहराबों और स्तंभों पर बनी हुई डिजाइनों को देखते ही आकर्षित हो जायेंगे। जैनियों का तीर्थ स्थल होने के साथ ही यह मंदिर एक संगमरमर से बनी एक ऐसी जादुई संरचना है, जो हर किसी को अपनी ओर आकर्षित करती है।

और पढ़े: दिलवाड़ा जैन मंदिर माउंट आबू की पूरी जानकारी

7.2 नक्की झील माउंट आबू – Nakki Lake In Hindi

नक्की झील माउंट आबू

माउंट आबू में अरावली पर्वतमाला में स्थित एक नक्की लेक है जिसे स्थानीय रूप से नक्की झील के नाम से भी जाना जाता है। यह झील प्रकृति प्रेमियों के लिए स्वर्ग के सामान मानी जाती है क्योंकि अद्भुत प्राकृतिक द्रश्यों से भरी हुई यह झील वास्तव में माउंट आबू का सबसे प्रमुख आकर्षण है। नक्की लेक भारत की पहली मानव निर्मित झील है जिसकी गहराई लगभग 11,000 मीटर और चौड़ाई एक मील है। माउंट आबू के केंद्र में स्थित यह आकर्षक झील हरे भरे पहाड़ों, पहाड़ों और अजीब आकार की चट्टानों से घिरी हुई है। माउंट आबू की उड़ने वाली हवाएं और सुखदायक तापमान में बोटिंग  करना आपके दिल को खुश कर देगी। बताया जाता है कि नक्की झील में, महात्मा गांधी की राख को 12 फरवरी 1948 को विसर्जित कर दिया गया था और गांधी घाट का निर्माण किया गया था। यह झील प्रकृति प्रेमियों और फोटोग्राफी के शौकीनों के लिए एक बेहद लोकप्रिय जगह है।

और पढ़े: नक्की झील

7.3 गुरु शिखर – Guru Shikhar In Hindi

गुरु शिखर

अगर आप शहर के तेज और व्यस्त जीवन बोर हो गए है तो गुरु शिखर आपके लिए सबसे अच्छी जगह है। गुरु शिखर अरावली रेंज की सबसे ऊँची चोटी है जो माउंट आबू से करीब 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस शिखर की समुद्र तल से ऊँचाई 1722 मीटर है जिसकी वजह से यहाँ से अरावली रेंज और माउंट आबू के हिल स्टेशन का बहुत ही आकर्षक दृश्य देखने को मिलता है। इस जगह पर आबू वेधशाला और गुरु दत्तात्रेय का गुफा मंदिर जो भगवान विष्णु को समर्पित है। ऑब्जर्वेटरी में 1.2 मीटर का इंफ्रारेड टेलीस्कोप है। 15 किलोमीटर की ड्राइव के बाद आपको गुरु शिखर पर जाने के लिए कुछ सीढ़ियां चढ़नी होंगी। अगर आप अक्टूबर और नवंबर के समय इस जगह पर जाते हैं तो यहाँ पर बहुत अधिक बादल और धुंध हो जाती है। यहां आने वाले पर्यटकों को इस समय ऐसा महसूस होता है जैसे वो बादलों की मदद से गुरु शिखर पर जा रहे हैं क्योंकि चारों ओर धुंध दिखाई देती है। यह जगह यहां आने वाले पर्यटकों के मन को आनंदित कर देती है।

और पढ़े: गुरु शिखर का इतिहास और जानकारी

7.4 अर्बुदा देवी मंदिर हिल पर्यटन माउंट आबू – Arbuda Devi Temple In Hindi

अर्बुदा देवी मंदिर हिल पर्यटन माउंट आबू

अर्बुदा देवी मंदिर को माउंट आबू का सबसे पवित्र तीर्थ बिंदु माना जाता है। इस मंदिर को 51 शक्तिपीठ में से छठा शक्तिपीठ माना जाता है। अर्बुदा देवी को कात्यायनी देवी का अवतार कहा जाता है। नवरात्र के मौके पर माउंट आबू का पर्यटन स्थान एक आध्यात्मिक नगरी के रूप में बदल जाता है। यहाँ पर दूर से लोग अर्बुदा देवी मंदिर के दर्शन के लिए आते हैं। आपको बता दें कि यह मंदिर एक गुफा के अंदर स्थित है जिसके दर्शन के लिए आपको 365 सीढ़ियां चढ़कर जाना होता है। बताया जाता है कि मंदिर के पास दूध के रंग के पानी से बना पवित्र कुआँ है। यहाँ के स्थाई निवासी इस कुएं को कामधेनु (पवित्र गाय) के रूप में मानते हैं। यह पवित्र कुआँ मंदिर के लिए पानी का मुख्य स्रोत भी है। विशाल ठोस चट्टानों से निर्मित यह मंदिर भारत के चट्टानों पर बने मंदिरों के सर्वश्रेष्ठ नमूनों में से एक है।

और पढ़े: अर्बुदा देवी मंदिर का इतिहास और पौराणिक कथा

7.5 ट्रेवर टैंक माउंट आबू – Trevors Tank In Hindi

ट्रेवर टैंक माउंट आबू

माउंट आबू से 5 किमी दूर स्थित ट्रेवर्स टैंक प्रकृति प्रेमियों के लिए एक बेहद लोकप्रिय जगह है। इसका नाम एक ट्रेवर नामक एक इंजीनियर के नाम पर रखा गया है जिसने इसे डिजाइन किया था। मगरमच्छ, पक्षी और अन्य वन्यजीवों को देखने के लिए लोकप्रिय एकांत जंगल में जलाशय बना हुआ है। वर्तमान में यह स्थानीय और यहां हर साल आने वाले पर्यटकों दोनों के लिए एक लोकप्रिय पिकनिक स्पॉट है। यह जगह आपको प्रकृति का शानदार नजारा दिखाती है।

7.6 टॉड रॉक माउंट आबू – Toad Rock In Hindi

टॉड रॉक माउंट आबू

टॉड रॉक को माउंट आबू के शुभंकर के रूप में जाना जाता है, यह चट्टानों से बनी एक बहुत ही अद्भुद जगह है जहां पर आपको बड़ी-बड़ी चट्टानें देखने को मिलेंगी। टॉड रॉक माउंट आबू आने वाले सभी पर्यटकों के द्वारा में सबसे ज्यादा बार देखी जाने वाली जगह है। आसपास की झील और हरे भरे पहाड़ी क्षेत्रों केआकर्षक दृश्यों को देखने के लिए आप यहाँ चट्टान पर चढ़ सकते हैं और अपने कैमरा की मदद से कुछ लुहावने दृश्यों को कैद कर सकते हैं।

7.7 श्री रघुनाथ मंदिर – Shri Raghunath Temple In Hindi

श्री रघुनाथ मंदिर
Image Credit: Ravinder Batta

भगवान विष्णु के पुनर्जन्म को समर्पित श्री रघुनाथ जी मंदिर नक्की झील के तट पर एक 650 साल पुराना मंदिर है। जो मुख्य रूप से वैष्णवों द्वारा देखा गया ऐसा मंदिर है जिसे पृथ्वी पर सबसे पवित्र मंदिरों में से एक माना जाता है। श्री रघुनाथ जी के बारे में  माना जाता है कि वे अपने अनुयायियों को सभी प्राकृतिक आपदाओं से बचाते हैं। इसके साथ ही उनके भक्तों का यह भी मानना है कि वे उन्हें जीवन के दर्द और सभी समस्याओं से मुक्त करेंगे। इस मंदिर की दीवारों पर मेवाड़ की स्थापत्य विरासत को शिलालेखों की मदद से देखा जा सकता हैं। इस मंदिर में नाजुक पेंटिंग और नक्काशी भी देखने को मिलती है। श्री रघुनाथ जी की उत्कृष्ट नक्काशीदार मूर्ति माउंट आबू का सबसे मुख्य आकर्षण है।

7.8 गौमुख मंदिर – Gaumukh Temple In Hindi

माउंट आबू में शहर से एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित गौमुख मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक मंदिर है। इस मंदिर के दर्शन करने के लिए आपको 700 सीढ़ियों की पवित्र चढ़ाई करके जाना होता है। यह मंदिर अपने आस-पास की घाटी का मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है। गौमुख मंदिर में पूरे साल पर्यटकों और भक्तों की भीड़ होती है। घने जंगल के बीच स्थित इस मंदिर में गौमुख (गाय काप्मुख) भगवान कृष्ण, भगवान राम और ऋषि वशिष्ठ की मूर्तियों के साथ नंदी की मूर्ति आपका स्वागत करता है। इस मंदिर में संगमरमर के बैल की मूर्ति (मुंह से पानी गिरने वाली) हिंदू पौराणिक कथाओं में भगवान शिव के बैल नंदी को समर्पित है। यहाँ आकर आप प्रकृति की सुंदरता देखने के साथ ट्रेकिंग का भी भरपूर आनंद ले सकते हैं। इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यह मंदिर संत वशिष्ठ के समर्पण में बनाया गया था जिन्होंने चार प्रमुख राजपूत वंशों के निर्माण के लिए एक यज्ञ किया था। जिस अग्नि कुंड में यज्ञ किया गया था वो इस मंदिर के मुख्य आकर्षणों में से एक है। रामायण की कथा से यह ज्ञात हुआ है कि राम वनवास के समय राम और लक्ष्मण ज्ञान की प्राप्ति के लिए इस जगह पर आये थे और उन्होंने यहां रहने वाले ऋषि वशिष्ठ से आशीर्वाद लिया था।

7.9 यूनिवर्सल पीस हॉल – Universal Peace Hall In Hindi

 यूनिवर्सल पीस हॉल

यूनिवर्सल शांति हॉल जो कि ब्रह्म कुमारी आध्यात्मिक विश्वविद्यालय का मुख्य सभा हॉल है जिसको ओम शांति भवन भी कहा जाता है। इस भवन का निर्माण 1983 में किया गया था। शांति से भरपूर सफेद संरचना के इस हाल में लगभग 5,000 लोग बैठ सकते हैं। इस हाल में किसी भी आयोजन के दौरान 16 बिभिन्न भाषाओं में अनुवाद की सुविधा है। जब से इस हाल को सार्वजनिक पर्यटन स्थल घोषित किया गया है तब से करीब 8,000 से अधिक लोग रोज यहां आते हैं। जब आप यूनिवर्सल पीस हॉल में आते हैं तो यहाँ पर ब्रह्मा कुमारियों का एक सदस्य आपको एक परस्पर संवादात्मक समूह में ले जायेगा जहां किसी भी इंसान की रोज की परेशानी और तनाव को दूर किया जाता है।

7.10 सूर्यास्त बिंदु – Sunset Point In Hindi

सूर्यास्त बिंदु –

अगर आप माउंट आबू घूमने के लिए आ रहे हैं तो आपकी यात्रा यहां के सनसेट पॉइंट पर्यटन के खास स्थल के बिना पूरी नहीं होगी। इस जगह पर आपको ऐसा नजारा देखने को मिलता है जो अपने कभी सोचा नहीं होगा। सूर्यास्त के समय बीहड़ अरावली पर्वतमाला के बाहर सूर्य की किरणों दृश्य पर्यटकों को बेहद आकर्षित करता है। इस जगह पूरे साल एक सुखद जलवायु होती है। यह जगह किसी भी प्रकृति प्रेमी के लिए बेहद खास है क्योंकि जब सूर्य डूबता है तो इसकी किरणे लाल और नारंगी रंग के रंगों में अरावली की समृद्ध हरियाली में बहुत खूबसूरत दिखाई देती हैं। जो भी पर्यटक शहर के भीड़-भाड़ वाले माहोल से दूर रह कर शांति से सूर्यास्त का आनंद लेना चाहते हैं, उनके लिए माउंट आबू की यह जगह बहुत अच्छी है।

और पढ़े: खाटू श्याम जी मंदिर जयपुर, राजस्थान

8. माउंट आबू में खाने के लिए फेमस स्थानीय भोजन – Mount Abu Local Food In Hindi

माउंट आबू में खाने के लिए फेमस स्थानीय भोजन

माउंट आबू एक लोकप्रिय और सरल हिल स्टेशन होने के साथ प्राकृतिक शुद्ध शाकाहरी भोजन मिलने की भी खास जगह है। एक बेहद लोकप्रिय जैन तीर्थ स्थल होने की वजह से यहां पर बड़ी संख्या में शुद्ध-शाकाहारी रेस्तरां हैं, इसलिए यहां पर आपको मांसाहारी भोजन मिलने की उम्मीद काफी कम रखना चाहिए। माउंट आबू में स्थानीय राजस्थानी, पंजाबी और चीनी भोजन आसानी से मिल जाता है। लेकिन आपको पंजाबी और चीनी भोजन शहर के केंद्र के आसपास के रेस्तरां में ही मिल पायेगा। इसलिए आप यहां के स्थानीय भोजन का स्वाद ही चखें तो ज्यादा अच्छा होगा।

और पढ़े: गलताजी मंदिर का इतिहास और घूमने की जानकरी

9. माउंट आबू वन्यजीव अभयारण्य कैसे जाए – How To Reach Mount Abu Wildlife Sanctuary In Hindi

अगर आप माउंट आबू वन्यजीव अभयारण्य जाने की योजना बना रहें हैं तो बता दें कि माउंट आबू एक बहुत प्रसिद्ध स्थान है, यहां जाने के लिए परिवहन में की कोई कमी नहीं है। आप यहां माउंट आबू के किसी भी हिस्से से अभयारण्य तक पहुंचने के लिए एक टैक्सी या कार किराए पर ले सकते हैं।

9.1 हवाई मार्ग से माउंट आबू अभयारण्य कैसे पहुंचे – How To Reach Mount Abu Sanctuary By Air In Hindi

हवाई मार्ग से माउंट आबू अभयारण्य कैसे पहुंचे

अगर आप माउंट आबू घूमने के लिए हवाई जहाज से जाने का प्लान बना रहे हैं, तो आपको बता दें कि माउंट आबू से कोई डायरेक्ट एयरपोर्ट  जुड़ा नहीं है। इसका निकटतम हवाई अड्डा उदयपुर राजस्थान में है,जो  माउंट आबू से लगभग  177 किमी की दूरी पर स्थित है, जिसमें सड़क मार्ग द्वारा आपको 3 घंटे का समय लग जायेगा। अगर आप किसी और देश से आ रहे हैं तो आपको अहमदाबाद हवाई अड्डा उतरना बेहतर होगा, जो एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा है। इसके अलावा आप दिल्ली, मुंबई, जयपुर से उदयपुर के लिए कनेक्टिंग फ्लाइट ले सकते हैं। इसके बाद आप माउंट आबू अभयारण्य पहुँचने के लिए टैक्सी या कैब ले सकते हैं।

9.2 माउंट आबू अभयारण्य ट्रेन के माध्यम से कैसे पहुंचे – How To Reach Mount Abu Abhyaran By Train In Hindi

माउंट आबू अभयारण्य ट्रेन के माध्यम से कैसे पहुंचे

अगर आप ट्रेन से सफर करना चाहते हैं तो आपको जयपुर और अहमदाबाद से माउंट आबू के लिए कई ट्रेन मिल जाएँगी। लेकिन अगर आप जयपुर और अहमदाबाद के अलावा किसी दूसरे शहर से माउंट आबू अभयारण्य की यात्रा करने आ रहे हैं तो हम आपको बता दें कि यहां पहुंचने के लिए आप टैक्सी को प्राथमिकता दें, क्योंकि ट्रेन से आने में आपको काफी दिक्कत हो सकती है। ट्रेन से माउंट आबू तक पहुँचने के लिए लंबे मार्ग से जाना होगा।

9.3 कैसे पहुंचे माउंट आबू सैंक्चुअरी सड़क मार्ग से – How To Reach Mount Abu Sanctuary By Road In Hindi

कैसे पहुंचे माउंट आबू सैंक्चुअरी सड़क मार्ग से

माउंट आबू सैंक्चुअरी जाने के लिए आपको राज्य परिवहन की बस मिल जाएँगी। अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों के लिए माउंट आबू पहुंचने का सबसे अच्छा तरीका दिल्ली से उदयपुर के लिए फ्लाइट पकड़ना है। इसके बाद वो उदयपुर से सड़क मार्ग द्वारा निजी कार या टैक्सी की मदद से माउंट आबू सैंक्चुअरी पहुंच सकते हैं।

और पढ़े: माउंट आबू घूमने की पूरी जानकारी और 11 खास जगह 

इस लेख में आपने माउंट आबू वन्यजीव अभयारण्य घूमने की जानकारी को जाना है आपको हमारा यह लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

10. माउंट आबू वाइल्ड लाइफ सैंक्चुअरी का नक्शा – Mount Abu Wildlife Sanctuary Map

11. माउंट आबू वन्यजीव अभयारण्य की फोटो गैलरी – Mount Abu Sanctuary Images

View this post on Instagram

chasing away the death.

A post shared by Vikas Khichar (@vikaskhichar01) on

और पढ़े:

Leave a Comment