Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Chail Wildlife Sanctuary In Hindi, चैल अभयारण्य चैल में स्थित है, जो हिमचल प्रदेश का एक हिल स्टेशन और एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। पहले यह चैल में रहने वाले शाही लोगों के लिए शिकार की एक जगह थी, साल 1976 में इस क्षेत्र को सरकार द्वारा एक वन्यजीव अभयारण्य घोषित किया गया था। इस अभयारण्य में पक्षियों और जानवरों की विभिन्न प्रजातियां पाई जाती हैं। चैल अभयारण्य 110 वर्ग किमी के विशाल क्षेत्र को कवर करता है।

इस अभ्यारण्य की कुछ अनोखी प्रजातियों में भारतीय मुंजटैक, तेंदुआ, जंगली सूअर के अलावा सांभर, रेड जंगल फाउल, कक्कर आदि पाए जाते हैं। शाम होते ही इस अभ्यारण्य में भौंकने वाले हिरन और कलिंजिन दिखाई पड़ते हैं। अगर आप चैल अभयारण्य यात्रा करना चाहते हैं तो आपको मार्च से अक्टूबर तक के महीने में यहाँ आना चाहिए।

चैल वन्यजीव अभयारण्य में वनस्पति और जीव – Flora And Fauna At Chail Wildlife Sanctuary In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य के खुलने का समय – Chail Wildlife Sanctuary Timings In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य प्रवेश शुल्क – Chail Wildlife Sanctuary Entry Fee In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Chail Wildlife Sanctuary In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य के पास घूमने के पर्यटन स्थल और दर्शनीय स्थान – Places To Visit Near Chail Wildlife Sanctuary In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य कैसे पहुँचे – How To Reach Chail Wildlife Sanctuary In Hindi

  1. फ्लाइट से चैल वन्यजीव अभयारण्य कैसे पहुंचें – How To Reach Chail Wildlife Sanctuary By Flight In Hindi
  2. सड़क मार्ग से चैल वन्यजीव अभयारण्य कैसे पहुंचें – How To Reach Chail Wildlife Sanctuary By Road In Hindi
  3. ट्रेन से चैल वन्यजीव अभयारण्य कैसे पहुँचे – How To Reach Chail Wildlife Sanctuary By Train In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य का नक्शा – Chail Wildlife Sanctuary Map

चैल वन्यजीव अभयारण्य की फोटो गैलरी – Chail Wildlife Sanctuary Images

1. चैल वन्यजीव अभयारण्य में वनस्पति और जीव – Flora And Fauna At Chail Wildlife Sanctuary In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य में वनस्पति और जीव

चैल वन्यजीव अभयारण्य घास के मैदान के अलावा, ओक और पाइन द्वारा घने वन पाए जीते हैं। यह पार्क विभिन्न प्रकार की वनस्पतियों और जीवों का निवास है। इस अभ्यारण्य की कुछ प्रमुख जानवरों की प्रजातियों में जंगली सूअर, चित्तीदार हिरण, हिमालयन काला भालू, गोरल, सांभर, हिमालयन काला भालू, आम लंगूर, भारतीय दलिया, उड़न गिलहरी आदि शामिल हैं। यहाँ पर यूरोपीय हिरणों को पटियाला के पूर्व महाराजा द्वारा 50 साल पहले भी पेश किया गया था लेकिन सर्वेक्षण के अनुसार वर्ष 1988 में इस हिरण को नहीं देखा गया।

चिर प्रजनन और पुनर्वास केंद्र ने आस-पास के क्षेत्रों में चीयर पक्षियों की संख्या बढ़ाने में मदद की है। इस पार्क गोल्डन ईगल, ग्रे हेडेड फ्लाईकैचर, खालिज तीतर, चिर तीतर, आदि जैसे पक्षियों की विविधता पाई जाती है। जो लोग प्रकृति और पक्षियों से प्यार करते हैं उनको इस अभ्यारण्य की यात्रा जरुर करना चाहिए। इस अभ्यारण्य में साल भर बर्डर्स, प्रकृति प्रेमियों और वन्यजीव प्रेमियों की भीड़ रहती है।

और पढ़े: कुल्लू मनाली के बारे में पूरी जानकारी 

2. चैल वन्यजीव अभयारण्य के खुलने का समय – Chail Wildlife Sanctuary Timings In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य के खुलने का समय

Image Credit: Arun Kaushik

चैल वन्यजीव अभयारण्य प्रतिदिन सुबह 10 बजे से रात 10 बजे तक खुला रहता है लेकिन पर्यटकों को इसमें सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक पार्क एक्स्प्लोर करने की अनुमति है।

3. चैल वन्यजीव अभयारण्य प्रवेश शुल्क – Chail Wildlife Sanctuary Entry Fee In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य ऐसा ऐसी जगह है जो देश के विभिन्न हिस्सों से सभी प्रकार के पर्यटकों को मनोरंजन देने में विश्वास करता है और इसलिए यहाँ पर्यटको से कोई प्रवेश शुल्क नहीं लिया जाता। पर्यटक यहाँ फ्री में पार्क को एक्स्प्लोर कर सकते हैं और यहाँ जानवरों की विभिन्न प्रजातियों और वन्यजीवों को देख सकते हैं।

4. चैल वन्यजीव अभयारण्य की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Chail Wildlife Sanctuary In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय

चैल वन्यजीव अभयारण्य दुनिया के विभिन्न हिस्सों के पर्यटकों के लिए पूरे वर्ष खुला रहता है, लेकिन अप्रैल से जून के बीच और सितंबर से नवंबर के बीच इस अभ्यारण्य की यात्रा करना अच्छा माना जाता है। बारिश के मौसम में इस अभ्यारण्य की यात्रा करना एक अच्छा समय नहीं है और सर्दियों के समय यहाँ का तापमान जब लगभग -4 डिग्री तक गिर जाता है, तो यह क्षेत्र काफी ठंडा हो जाता है। 28 डिग्री के मध्यम तापमान के साथ गर्मियों का मौसम यहाँ की यात्रा करने के लिए एक अच्छा विकल्प है और पार्क घूमने के लिए एक आदर्श समय है।

और पढ़े: त्रिउन्द घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल 

5. चैल वन्यजीव अभयारण्य के पास घूमने के पर्यटन स्थल और दर्शनीय स्थान – Places To Visit Near Chail Wildlife Sanctuary In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य किला सोलान के पास स्थित प्रमुख पर्यटन स्थल है। अगर आप चैल वन्यजीव अभयारण्य किले के अलावा यहाँ पास के प्रमुख पर्यटन स्थलों की यात्रा करना चाहते हैं तो नीचे दी गई जानकारी को जरुर पढ़ें, इसमें हम आपको चैल वन्यजीव अभयारण्य किले के पास के प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में बताने जा रहें हैं।

5.1 अर्की किला – Arki Fort In Hindi

अर्की किला

अर्की किला हिमाचल प्रदेश में स्थित सोलन का एक प्रमुख किला है जिसको पर्यटकों द्वारा बेहद पसंद किया जाता है। इस किले की संरचना यहाँ आने वाले लोगों को अपनी सुंदरता से प्रभावित करती है। राणा पृथ्वी सिंह द्वारा बनवाया गया था और अब इसे एक हेरिटेज होटल में बदल दिया गया है। आपको बता दें कि यह किला रक्तपात के इतिहास से भरा और उन लड़ाइयों का गवाह है जहाँ गोरखाओं ने अपनी वीरता और शौर्य का प्रदर्शन किया था। अर्की किला, चैल वन्यजीव अभयारण्य से 80 किलोमीटर दूर स्थित है।

और पढ़े: अर्की किले का इतिहास और आस-पास के पर्यटन स्थल

5.2 गोबिंद सागर झील – Gobind Sagar Lake In Hindi

गोबिंद सागर झील

Image Credit: Yogesh Bansal

गोबिंद सागर झील देश का तीसरा सबसे बड़ा जलाशय है जो हिमाचल प्रदेश और कई अन्य उत्तर भारतीय राज्यों जैसे राजस्थान, हरियाणा और पंजाब के लिए एक जीवन रेखा के रूप में काम करती है। बुलंद बांध या आसपास के ऊंचाई वाले क्षेत्रों से कृत्रिम झील के दृश्य को देखना पर्यटकों को बेहद आकर्षित करता है। इसके साथ ही यह झील कई मनोरंजक गतिविधियों जैसे कि वाटरस्पोर्ट्स, पिकनिक के लिए और अपनी प्राकृतिक सुंदरता के चलते बड़ी संख्या में पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है। गोबिंद सागर झील की चैल वन्यजीव अभयारण्य से दूरी लगभग 104 किलोमीटर है।

5.3 चैल – Chail In Hindi

चैल

चैल शिमला के पास एक शांत हिल स्टेशन है, जो दुनिया के सबसे ऊंचे क्रिकेट ग्राउंड, हेरिटेज होटल, चैल पैलेस और देवदार के पेड़ों के लिए जाना जाता है। हरी-भरी हरियाली से घिरे ऊंचाई पर स्थित इस पर्यटन स्थल को मनमोहक दृश्य देखने के लिए और हाइकर के स्वर्ग के रूप में जाना जाता है। चैल एक ऐसा पर्यटन स्थल है जो पर्यटकों की यात्रा को यादगार बनता है। यह जगह दुनिया के सबसे ऊंचे क्रिकेट और पोलो मैदान के लिए प्रसिद्ध है और इसमें तीन पहाड़ी पर स्थित एक शानदार रिसॉर्ट हैं। एक चैल वन्यजीव अभयारण्य भी है। चैल वन्यजीव अभयारण्य से चैल की दूरी 8 किलोमीटर है।

5.4 कसौली – Kasauli In Hindi

कसौली

कसौली, चंडीगढ़ से शिमला के रस्ते पर स्थित एक पहाड़ी छावनी शहर है, जो भीड़-भाड़ वाली दुनिया से दूर एक शांतिपूर्ण छुट्टी का स्थान है। चैल वन्यजीव अभयारण्य से कसौली की दूरी 73 किलोमीटर है। कसौली हिमाचल राज्य के दक्षिण-पश्चिम भाग में एक छोटा सा शहर है, जो हिमालय के अपेक्षाकृत निचले किनारों स्थित है। देवदार के सुंदर जंगलों के बीच स्थित कसौली ब्रिटिशों द्वारा निर्मित भव्य विक्टोरियन इमारतों के लिए जाना जाता है, जिसका रहस्यमय और निर्मल वातावरण हर किसी को अपनी तरफ आकर्षित करता है। भव्य विक्टोरियन संरचनाएँ इस हिल स्टेशन के गौरवशाली अतीत के बारे में बताती हैं।

बता दें कि इस क्षेत्र में घने जंगलों में कई तरह की लुप्तप्राय प्रजातियाँ भी पाई जाती है। भले ही कसौली विशेष आकर्षण या गतिविधियों में आगे नहीं है, लेकिन यहाँ का शांत वातावरण और आकर्षक शांति हर किसी को अपनी ओर खींचती है। अगर आप घूमने के लिए कोई शांति वाली जगह तलाश रहे हैं और भीड़-भाड़ भरी दुनिया से दूर जाना चाहते हैं, तो कसौली से अच्छी जगह आपके लिए और कोई नहीं हो सकती। यह प्राकर्तिक जगह आपके मन को शांति और एक आदर्श वातावरण प्रदान करेगी।

और पढ़े: कसौली के 10 प्रमुख पर्यटन स्थल

5.5 शूलिनी माता मंदिर – Shoolini Mata Temple In Hindi

शूलिनी माता मंदिर

Image Credit: Varun Thakur

शूलिनी मंदिर देवी शूलिनी को समर्पित है जो इस क्षेत्र के सबसे पुराने और पवित्रतम मंदिरों में से एक है। यह क्षेत्र हर साल जून के महीने में एक वार्षिक मेले का आयोजन करता है, जिसे बहुत भव्यता और जीवंतता के साथ मनाया जाता है। चैल वन्यजीव अभयारण्य किला से शूलिनी मंदिर की दूरी 48 किलोमीटर है।

5.6 कुथार का किला – Kuthar Fort In Hindi

कुथार का किला

Image Credit: Kuthar Palace

कुथार का किला सोलन का प्रमुख पर्यटन स्थल हैं जिसके लगभग 800 वर्ष पुराना होने का दावा किया जाता है। यह किला इस क्षेत्र का सबसे पुराना ऐतिहासिक स्मारक है। यह किला एक बड़े क्षेत्र में फैला हुआ है और इसमें कई ताजे पानी के झरने हैं। इसके अलावा अन्य स्मारकों जैसे कि गोरखा फोर्ट की सैर कर सकते हैं। चैल वन्यजीव अभयारण्य से कुथार किले की दूरी 81 किलोमीटर है।

और पढ़े: मनाली के मनु मंदिर घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

5.7 सिरमौर – Sirmour In Hindi

सिरमौर

Image Credit: Sanjay Sharma

अगर शहर की हलचल से थक चुके हैं और पहाड़ियों और जंगलों के बीच आराम करने के लिए सिरमौर बहुत अच्छी जगह है। हिमाचल प्रदेश राज्य में स्थित, सिरमौर एक शांत है जहां अभी भी 90% से अधिक लोग गांवों में रहते हैं। सिरमौर पर्यटकों के लिए सुरम्य परिदृश्य, ट्रेकिंग के लिए चट्टानी पहाड़ियां, बोटिंग लिए शांत झीलों और खूबसूरती से निर्मित मंदिरों प्रदान करता है। सिरमौर को “पीच बाउल ऑफ़ इंडिया” भी कहा जाता है क्योंकि यहाँ पर किए जाने वाले आड़ू की उच्च खेती होती है। इसके अलावा अदरक, आलू, टमाटर, सेब, आम और आड़ू जैसे बहुत सारे फल और सब्जियाँ यहाँ उगाई जाती है। चैल वन्यजीव अभयारण्य से सिरमौर की दूरी 155 किलोमीटर है।

5.8 मंजाथल अभयारण्य – Majathal Sanctuary In Hindi

मंजाथल अभयारण्य

मंजाथल अभयारण्य हिमाचल प्रदेश राज्य का सबसे विविध अभयारण्य है। यह अभ्यारण्य अपने अविरल और खड़ी इलाकों के लिए जाना- जाता है। मंजाथल अभयारण्य हिमालय के पश्चिमी क्षेत्र में स्थित है, और 39।4 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है। यह अभ्यारण्य अपने विभिन्न आकर्षणों से यहाँ आने वाले पर्यटकों को बेहद आकर्षित करता है। बता दें कि यहाँ यात्रा के दौरान पर्यटक पर्यटक तम्बू घरों में रह सकते हैं। माजाथल अभयारण्य की एक छोटी यात्रा के दौरान पर्यटक जंगल में रह कर एक अदभुद रोमांच का अनुभव कर सकते हैं।

और पढ़े: मजथल अभयारण्य घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

5.9 बरोग – Barog In Hindi

बरोग

Image Credit: Karanam Gangadhar

सोलन के निकट स्थित बरोग का हिमाचल प्रदेश में एक आदर्श पर्यटन स्थल है जो न केवल प्राकृतिक सुंदरता का एक संयोजन है। चैल वन्यजीव अभयारण्य से बरोग की दूरी 56 किलोमीटर है। बरोग एक ऐसा स्थान भी है जो पूर्व-औपनिवेशिक इतिहास और प्राचीन मिथक में डूबा हुआ है। यह शिमला की तरह खूबसूरत जगह है जहाँ छुट्टी के दौरान काफी पर्यटक आते हैं। बारोग हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले में लगभग 1560 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एक शहर है। यदि आप मानसून के दौरान शिमला का दौरा कर रहे हैं और ट्रेकिंग, कैम्पिंग के साथ आस-पास के स्थानों की यात्रा करना चाहते हैं, तो बरोग की यात्रा जरुर करना चाहिए।

5.10 दरलाघाट – Darlaghat In Hindi

दरलाघाट

Image Credit: Robin Singh

दरलाघाट एक वन्यजीव अभयारण्य है जिसमें तेंदुए, ब्लैक बीयर, सांभर और भौंकने वाले हिरण जैसे कई वन्यजीव प्रजातियां हैं। दरलाघाट शिमला-बिलासपुर मार्ग पर स्थित है जो शिमला से 87 किमी की दूरी पर है। दरलाघाट के लिए समय-समय पर HPTDC द्वारा कई इको ट्रेक का संचालन किया जाता है।

5.11 रामगढ़ किला – Ramgarh Fort In Hindi

रामगढ़ किला

रामगढ़ किला किला नालागढ़ किले के पास स्थित ऐतिहासिक स्मारक है जिसका निर्माण राजा राम चंदर द्वारा करवाया गया था। रामगढ़ किला चोटी पर अद्भुत शिवालिक पहाड़ियों वाली पहाड़ी पर स्थित है। यह अभी तक एक ऐतिहासिक किला है जिसको शानदार सुविधाओं के साथ एक हेरिटेज होटल में बदल गया है। आधुनिकीकरण के स्पर्श से इस किले की वास्तुशिल्प विशेषता जरा भी नष्ट नहीं हुई है। यह किला नालागढ़ से लगभग 1 घंटे की दूरी पर स्थित है और चैल वन्यजीव अभयारण्य से 111 किलोमीटर दूर है।

और पढ़े: नालागढ़ किला घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

6. चैल वन्यजीव अभयारण्य कैसे पहुँचे – How To Reach Chail Wildlife Sanctuary In Hindi

चैल वन्यजीव अभयारण्य से निकटतम ब्रॉड गेज रेलवे स्टेशन कालका में है जो 88 किमी दूर है। इसका निकटतम हवाई अड्डा जुब्बड़हट्टी में है, जो 45 किमी दूर है। यहाँ पर बस और टैक्सी आसानी से उपलब्ध हैं, जिनका इस्तेमाल आप चैल वन्यजीव अभयारण्य फोर्ट जाने के लिए कर सकते हैं।

6.1 फ्लाइट से चैल वन्यजीव अभयारण्य कैसे पहुंचें – How To Reach Chail Wildlife Sanctuary By Flight In Hindi

फ्लाइट से चैल वन्यजीव अभयारण्य कैसे पहुंचें

अगर आप हवाई जहाज से यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि यहाँ का निकटतम हवाई अड्डा जुब्बड़हट्टी में स्थित है जो चैल वन्यजीव अभयारण्य से लगभग 23 किमी दूर है। एक बार जब आप हवाई अड्डे पर पहुंच जाते हैं, तो चैल वन्यजीव अभयारण्य पहुंचने के लिए एक टैक्सी किराए पर ले सकते हैं, जिसमें केवल डेढ़ घंटे का समय लगेगा।

6.2 सड़क मार्ग से चैल वन्यजीव अभयारण्य कैसे पहुंचें – How To Reach Chail Wildlife Sanctuary By Road In Hindi

सड़क मार्ग से चैल वन्यजीव अभयारण्य कैसे पहुंचें

सड़क मार्ग से चैल वन्यजीव अभयारण्य की यात्रा करना भी काफी अच्छा है। दिल्ली से चैल वन्यजीव अभयारण्य पहुंचने के लिए आठ घंटे की बस यात्रा करनी होगी। इसके साथ ही दिल्ली, चंडीगढ़, शिमला और से चैल वन्यजीव अभयारण्य आसानी से पहुंचा जा सकता है। बता दें कि चैल वन्यजीव अभयारण्य जाने के लिए बस से यात्रा करना सबसे अच्छा तरीका है। शिमला से वन्यजीव अभयारण्य 40 किलोमीटर दूर स्थित है। वन्यजीव अभयारण्य तक पहुंचने के लिए कालका शिमला मार्ग पर कार से भी पहुँचा जा सकता है।

6.3 ट्रेन से चैल वन्यजीव अभयारण्य कैसे पहुँचे – How To Reach Chail Wildlife Sanctuary By Train In Hindi

ट्रेन से चैल वन्यजीव अभयारण्य कैसे पहुँचे

चैल वन्यजीव अभयारण्य का निकटतम रेलवे स्टेशन 88 किमी दूर स्थित है, जिसको कालका रेलवे स्टेशन के रूप में जाना जाता है। कालका रेलवे स्टेशन कुछ प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है, इसलिए, यह चैल वन्यजीव अभयारण्य तक पहुंचने का आप यहाँ के लिए ट्रेन ले सकते हैं। कालका स्टेशन से चैल वन्यजीव अभयारण्य पहुंचने के लिए आप आसानी से टैक्सी किराए पर ले सकते हैं।

और पढ़े: सोलन के टॉप पर्यटन स्थल और उनकी जानकारी 

7. चैल वन्यजीव अभयारण्य का नक्शा – Chail Wildlife Sanctuary Map

8. चैल वन्यजीव अभयारण्य की फोटो गैलरी – Chail Wildlife Sanctuary Images

View this post on Instagram

Every day is a new day.✌🏻#wildfree

A post shared by 🌻 N g a n t h o i 🌻 (@nganthoi_ningthouja) on

और पढ़े:

Write A Comment