Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Triund In Hindi, त्रिउन्द हिमाचल प्रद्रेश में धर्मशाला से कुछ किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक बहुत ही सुंदर जगह है जो 2828 मीटर की ऊंचाई पर पूरी कांगड़ा घाटी के सुंदर दृश्य पेश करने वाले अद्भुत ट्रेल्स के साथ ट्रेकिंग के लिए एकदम सही जगह है। त्रिउन्द के लिए ट्रेक बेहद सुंदर और छोटा है जहाँ आप या तो मैक्लॉडगंज या धर्मकोट से जा सकते हैं। त्रिउन्द में शाम को आकाश का दृश्य अपने आप में बेहद आकर्षक होता है, रात आपके लिए यहाँ डेरा डालना बेहद खास साबित हो सकता है।

ट्रेक धर्मकोट के गालू मंदिर से शुरू होता है और त्रिउन्द तक पहुंचने के लिए लगभग 7-8 किमी तक की ट्रेकिंग करना पड़ता है। त्रिउन्द ट्रेक रूट है जो भागसू फॉल और शिव कैफे से होकर जाता है जिसे सबसे ज्यादा चुनौतीपूर्ण ट्रेक में से एक माना जाता है। अगर आप त्रिउन्द के बारे में अन्य जानकारी चाहते हैं तो आर्टिकल को पूरा पढ़ें, इसमें हम आपको त्रिउन्द घूमने और इसके आसपास घूमने की खास जगहों के बारे में बताने जा रहें हैं।

त्रिउन्द ट्रेकिंग टिप्स और ट्रिक्स – General Tips And Tricks For Triund Trek In Hindi

त्रिउन्द यात्रा करने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Triund In Hindi

त्रिउन्द ट्रेक पर खाना – Local Food On The Triund Trek In Hindi

वन रेस्ट हाउस कैसे बुक करें – How To Book Forest Rest House In Triund In Hindi

त्रिउन्द के पास के प्रमुख पर्यटन स्थल और आकर्षण स्थान – Tourist Attraction Near Triund Dharamshala In Hindi

बेस कैंप तक कैसे पहुंचे – How To Reach Base Camp Triund In Hindi

त्रिउन्द तक कैसे पहुँचें – How To Reach Triund In Hindi

  1. रेल मार्ग से त्रिउन्द धर्मशाला कैसे पहुँचे – How To Reach Triund Dharamshala By Train In Hindi
  2. कार से त्रिउन्द धर्मशाला कैसे पहुँचे – How To Reach Triund Dharamshala By Car In Hindi
  3. बस से धर्मशाला कैसे पहुँचे – How To Reach Triund Dharamshala By Bus In Hindi
  4. हवाई जहाज से त्रिउन्द धर्मशाला कैसे पहुँचे – How To Reach Triund Dharamshala By Flight In Hindi

त्रिउन्द का नक्शा – Triund Map

त्रिउन्द की फोटो गैलरी – Triund Images

1. त्रिउन्द ट्रेकिंग टिप्स और ट्रिक्स – General Tips And Tricks For Triund Trek In Hindi

त्रिउन्द ट्रेकिंग टिप्स और ट्रिक्स

Image Credit: Sulabh Thakur

  • मौसम के हिसाब से अपनी यात्रा के दौरान गर्म कपड़े ले जाना न भूलें।
  • अपने खुद के ट्रेकिंग गियर और उपकरणों को ले जाएं और पूरी तरह से तैयार रहें।
  • रास्ते में अपने साथ चिकित्सा सहायता किट और सामान्य दवाइयाँ जरुर ले जाएँ
  • अच्छी क्वालिटी के हाइकिंग बूट्स या स्पोर्ट्स शूज़ कैरी करें
  • अगर आप मानसून के मौसम में यात्रा कर रहें हो तो अपने साथ रेनगियर जरुर ले जाएँ।
  • सुनिश्चित करें कि आपने इस जगह की ट्रेकिंग के लिए सभी जरुरी परमिट पहले से अच्छी तरह से प्राप्त कर लिए हैं।
  • अपने कैमरे के लिए अतिरिक्त बैटरी या पॉवर बैंक ले जाना न भूलें क्योंकि वहां पर इलेक्ट्रिसिटी नहीं मिलेगी।
  • साथ में एक प्रशिक्षित गाइड ले जाना आवश्यक है।

2. त्रिउन्द यात्रा करने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Triund In Hindi

त्रिउन्द यात्रा करने का सबसे अच्छा समय

Image Credit: Ashish Singh

अगर आप त्रिउन्द की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि यहाँ की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय मई-जून और सितंबर-अक्टूबर के महीने का होता है। क्योंकि इन महीनों में यहाँ का मौसम बहुत सुखद होता है। सर्दियों के मौसम में यहाँ काफी ठंडक मिलती है इसलिए देश के शहरों की चिलचिलाती गर्मी से बचने के लिए यहाँ आना एक अच्छा विकल्प है। यदि आप बर्फ में ट्रेकिंग करना चाहते हैं, तो आप जनवरी-मार्च में ट्रेकिंग के बारे में सोच सकते हैं।

3. त्रिउन्द ट्रेक पर खाना – Local Food On The Triund Trek In Hindi

त्रिउन्द ट्रेक पर खाना

त्रिउन्द ट्रेक पर खाने के बहुत सारे विकल्प उपलब्ध हैं क्योंकि यह एक प्रसिद्ध और लोकप्रिय ट्रेक है। मैजिक व्यू, सीनिक व्यू और स्नोलाइन कैफे जैसे कैफे चाय के स्टालों के अलावा कुछ विकल्प हैं जो बुनियादी जलपान प्रदान करते हैं।

4. वन रेस्ट हाउस कैसे बुक करें – How To Book Forest Rest House In Triund In Hindi

वन रेस्ट हाउस कैसे बुक करें

Image Credit: Pavel Zagalsky

वन विभाग के विश्राम गृह और ट्रायंड गेस्ट हाउस केवल दो रात भर रहने की सुविधा देते हैं। इन्हें आप जाने से पहले धर्मशाला से बुक कर सकते हैं। यहाँ डबल और ट्रिपल शेयर कॉटेज लगभग 700 रूपये में उपलब्ध है।

और पढ़े: करेरी झील घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

5. त्रिउन्द के पास के प्रमुख पर्यटन स्थल और आकर्षण स्थान – Tourist Attraction Near Triund Dharamshala In Hindi

त्रिउन्द धर्मशाला में ट्रेकिंग के लिए सबसे अच्छी जगहों में से हैं अगर आप इसके अलावा त्रिउन्द के पास के पर्यटन स्थलों की सैर करना चाहते हैं तो इस लेख को आगे पढ़ें।

5.1 भागसुनाग मंदिर – Bhagsu Nag Temple In Hindi

भागसुनाग मंदिर

Image Credit: Virginie Horward

सुंदर तालाब और हरे-भरे हरियाली से घिरा भागसुनाग मंदिर मैकलोडगंज से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सबसे प्राचीन मंदिरों में से एक है। यह भागसुनाथ मंदिर के नाम से भी प्रसिद्ध है जो स्थानीय गोरखा और हिंदू समुदाय द्वारा अत्यधिक पूजनीय है। इस मंदिर के पास के दो कुंड को बेहद पवित्र माना जाता है और कहा जाता है कि इनमें उपचार की चमत्कारिक शक्तियाँ हैं। बता दें कि भागसूनाथ मंदिर प्रसिद्ध भागसू झरनों की यात्रा के दौरान रस्ते में पड़ता है और पर्यटक इस मंदिर में आशीर्वाद लेने के लिए रुकते हैं और इसके बाद आगे की यात्रा करते हैं।

त्रिउन्द से भागसुनाग मंदिर की सिर्फ 1 किलोमीटर है।

5.2 अघंजर महादेव मंदिर – Aghanjar Mahadev Temple In Hindi

अघंजर महादेव मंदिर

Image Credit: Kartik Saini

अघंजर महादेव मंदिर धौलाधार की तलहटी में खनियारा में धर्मशाला शहर से 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित भगवान शिव को समर्पित एक मंदिर है। माना जाता है कि लगभग इस मंदिर को 500 साल पहले बनाया गया था, जो वनों के बीच पहाड़ की चोटियों के बीच बसा है। इस मंदिर के अलावा यहाँ पर एक छोटा झरना है जो इस पवित्र स्थल की सुंदरता को बढाता है। मंदिर के पास एक छोटी गुफा में एक शिवलिंग है और इस जगह को भी एक पवित्र स्थल माना जाता है। अघंजर महादेव मंदिर तीर्थयात्रियों के अलावा पर्यटकों भी अपने शांत वातावरण की वजह से आकर्षित करता है। मंदिर की प्राकृतिक सुंदरता इसे शिव भक्तों के अलावा प्रकृति प्रेमियों और फोटोग्राफी प्रेमियों के लिए भी एक खास जगह बनाती है।

त्रिउन्द से अघंजर महादेव मंदिर की दूरी 13 किलोमीटर है।

5.3 धर्मशाला क्रिकेट स्टेडियम – Dharamshala Cricket Stadium In Hindi

धर्मशाला क्रिकेट स्टेडियम

धर्मशाला की राजसी हिमालय पर्वत श्रृंखला की गोद में बसा एक छोटा सा क्रिकेट स्टेडियम है जो समुद्र तल से 1,457 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। आपको बता दें कि यह क्रिकेट मैदान दुनिया के सबसे ऊंचे खेल मैदानों में से एक है। धर्मशाला में क्रिकेट स्टेडियम का दौरा करते समय आपको कुछ अजीब महसूस हो सकता है, लेकिन शानदार प्राकृतिक पृष्ठभूमि और ठंडी हवाएं लगातार मैदान में बहती हैं, जो एचपीसीए स्टेडियम की यात्रा को खास बनती है।

धर्मशाला क्रिकेट स्टेडियम त्रिउन्द से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

और पढ़े: धर्मशाला में घूमने की 10 खास जगह 

5.4 युद्ध स्मारक धर्मशाला – War Memorial Dharamshala In Hindi

युद्ध स्मारक धर्मशाला

Image Credit: Ankit Saxena

वॉर मेमोरियल, त्रिउन्द 9 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और धर्मशाला में देखने की खास जगहों में से एक है। यह स्मारक शहर के पास देवदार के जंगलों में स्थित है और यह जगह यात्रा करने के लायक है। यहां एक सुंदर जीपीजी कॉलेज है जिसका निर्माण ब्रिटिश काल के दौरान किया गया था।यह स्मारक है जो धर्मशाला के प्रवेश बिंदु पर उन लोगों की याद में बनाया गया है जिन्होंने हमारी मातृभूमि की रक्षा के लिए लड़ाई लड़ी थी।

5.5 डल झील – Dal Lake In Hindi

धर्मशाला की डल झील घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल

डल झील निचली धर्मशाला से 11 किमी दूर है और पहाड़ियों के पास देवदार के पेड़ों के बीच स्थित है। यह स्थान ट्रेकिंग और भ्रमण के लिए एक शुरूआती बिंदु है जो वाक के लिए झील के चारों ओर कवर किया गया है। इस झील के किनारे छोटा शिव मंदिर भी स्थित है जहाँ पर हर साल एक शानदार मेला लगता है।

त्रिउन्द से डल झील की दूरी 5 किलोमीटर है।

और पढ़े: धर्मशाला की डल झील घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल 

5.6 ज्वालामुखी देवी मंदिर धर्मशाला – Jwalamukhi Devi Temple In Hindi

ज्वालामुखी देवी मंदिर धर्मशाला

ज्वालामुखी देवी मंदिर के बारे में बताया जाता है कि जब बहुत बुरी आत्माए यहाँ पर आती थी और देवताओं को परेशान करती थी तो भागवान शिव के कहने पर देवताओं ने उन्हें नष्ट करने का फैसला लिया और कई देवताओं ने अपनी शक्ति केद्रित की और वहां पृथ्वी से एक विशाल ज्वाला उत्पन्न हुई। इस ज्वाला से एक लड़की ने जन्म लिया, जिसे अब सीता या पार्वती के नाम से जाना जाता है। सती की जीभ समुद्र तल से लगभग 610 मीटर ऊपर ज्वालाजी में गिरी थी और देवी उस छोटी ज्वाला के रूप में प्रकट हुई थी। माना जाता है कि पांडवों भी इस पवित्र स्थान पर आये थे।

त्रिउन्द से ज्वालामुखी देवी मंदिर की दूरी 60 किलोमीटर है।

और पढ़े: ज्वाला देवी मंदिर कांगड़ा

5.7 भाग्सू फॉल्स धर्मशाला – Bhagsunag Falls In Hindi

भाग्सू फॉल्स धर्मशाला

Image Credit: Vipul Jhajharia

त्रिउन्द से भाग्सू फॉल्स जो धर्मशाला में घूमने की सबसे अच्छी जगहों में से एक है। भाग्सू फॉल्स हरियाली और प्रकृति के बीच अपने सबसे प्राचीन रूप में स्थापित है जो राजसी और बेहद भव्य है। धर्मशाला की यात्रा करने वाले सभी पर्यटकों को इस जगह जरुर आना चाहिए।

 त्रिउन्द से भाग्सू फॉल्स की दूरी 1 किलोमीटर है।

5.8 नामग्याल मठ – Namgyal Monastery In Hindi

नामग्याल मठ

नामग्याल मठ, त्सुगलाखंग परिसर के स्थित है जो यहां धर्मशाला के पास पर्यटकों द्वारा सबसे ज्यादा देखी जाने वाली जगहों में से एक है। यह परिसर दलाई लामा के निवास स्थान होने के साथ यहाँ पर मंदिर, किताबों की दुकानों, कई दूसरी दुकानें स्थित हैं। नामग्याल मठ, त्रिउन्द से 3 किलोमीटर कि दूरी पर स्थित है।

5.9 दलाई लामा मंदिर परिसर – Dalai Lama Temple Complex In Hindi

दलाई लामा मंदिर परिसर

तिब्बती संस्कृति से परिपूर्ण दलाई लामा मंदिर परिसर जिसे त्सुगलाखंग मंदिर भी कहा जाता है, यह धर्मशाला में एक राजनीतिक-धार्मिक केंद्र है। शांतिपूर्ण ध्यान और धार्मिक प्रार्थना के लिए मंदिर में पहियों या माला मौजूद हैं। दलाई लामा मंदिर परिसर बौद्धों के लिए श्रद्धेय तीर्थ स्थल बन गया है। इसके अलावा यहां का शांतिपूर्ण वातावरण दुनिया भर के पर्यटकों को बेहद आकर्षित करता है।

दलाई लामा मंदिर परिसर, त्रिउन्द से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

5.10 कांगड़ा कला संग्रहालय – Kangra Art Museum In Hindi

कांगड़ा कला संग्रहालय

Image Credit: Suneel Kumar

कांगड़ा संग्रहालय तिब्बती और बौद्ध कलाकृति के शानदार चमत्कार और उनके समृद्ध इतिहास को बताता है। यह धर्मशाला के बस स्टेशन के पास स्थित है। इस संग्रहालय में आप कई पुराने गहने, दुर्लभ सिक्के यादगार, पेंटिंग, मूर्तियां और मिट्टी के बर्तन जैसी चीज़ें देख सकते हैं।

और पढ़े: कांगड़ा किले का इतिहास और घूमने की जानकारी

5.11 मसरूर रॉक कट मंदिर – Masroor Rock Cut Temple In Hindi

मसरूर रॉक कट मंदिर

Image Credit: Gaurav Parmar

धर्मशाला में कांगड़ा से 32 किलोमीटर की दूरी पर मसरूर रॉक कट मंदिर स्थित है जो कि एक पुरातात्विक स्थल है जो वर्तमान में एक खंडहर है। यहां परिसर में इंडो- आर्यन शैली की वास्तुकला में डिज़ाइन किए गए 15 रॉक कट मंदिरों का एक संयोजन है। बताया जाता है कि इन्हे कि इसे 8 वीं शताब्दी में बनाया गया था जो हिंदू देवता शिव, विष्णु, देवी और सौरा को समर्पित हैं। इतिहास प्रेमी और पर्यटकों के लिए यह जगह किस्सी जन्नत से कम नहीं है।

मसरूर रॉक कट मंदिर त्रिउन्द से 27 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

और पढ़े: नग्गर घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल 

6. बेस कैंप तक कैसे पहुंचे – How To Reach Base Camp Triund In Hindi

बेस कैंप तक कैसे पहुंचे

त्रिउन्द में ट्रेक गालू के बेस कैंप से शुरू होता है यहाँ पर मैक्लोडगंज से टैक्सी या बस द्वारा पहुँचा जा सकता है। आप मैकलोडगंज या भागसू नाग से ट्रेकिंग शुरू कर सकते हैं, यह इस बात पर निर्भर करता है कि आप कितना चलना चाहते हैं। त्रिउन्द धर्मशाला से लगभग 18 किलोमीटर दूर स्थित है। यहाँ से ट्रेक लगभग 1,100 मीटर लंबा है और अपेक्षाकृत खड़ी चढ़ाई है। यदि आप ट्रेकिंग नहीं करना चाहते हैं, तो यहाँ पर टट्टू और घोड़े उपलब्ध हैं।

7. त्रिउन्द तक कैसे पहुँचें – How To Reach Triund In Hindi

त्रिउन्द जाने के लिए निकटतम हवाई अड्डा गग्गल हवाई अड्डा या धर्मशाला हवाई अड्डा है, जो आधार शिविर से लगभग 18 किलोमीटर दूर है। दिल्ली और कुल्लू से उड़ानें अक्सर दोनों स्थानों को जोड़ती हैं। त्रिउन्द के लिए मार्ग धर्मकोट से 7 किमी दूर है और यह गलु देवी मंदिर से गुजरता है। धर्मकोट से त्रिउन्द पहुँचने में 3-4 घंटे लगते हैं।

7.1 रेल मार्ग से त्रिउन्द धर्मशाला कैसे पहुँचे – How To Reach Triund Dharamshala By Train In Hindi

रेल मार्ग से त्रिउन्द धर्मशाला कैसे पहुँचे

त्रिउन्द धर्मशाला पहुंचने के लिए रात भर की ट्रेन यात्रा एक अच्छा विकल्प है। निकटतम प्रमुख रेलवे स्टेशन 85 किलोमीटर दूर पठानकोट में है। जम्मू-कश्मीर जाने वाली कई ट्रेनें पठानकोट में रुकती हैं। धर्मशाला पहुँचने के लिए आप पठानकोट से टैक्सी या बस ले सकते हैं। धर्मशाला से मात्र 22 किलोमीटर की दूरी पर एक छोटा रेलवे स्टेशन, कांगड़ा मंदिर भी है, लेकिन कोई भी महत्वपूर्ण ट्रेन यहाँ नहीं रुकती है।

7.2 कार से त्रिउन्द धर्मशाला कैसे पहुँचे – How To Reach Triund Dharamshala By Car In Hindi

कार से त्रिउन्द धर्मशाला कैसे पहुँचे

त्रिउन्द या धर्मशाला के लिए गागल हवाई अड्डे और पठानकोट रेलवे स्टेशन पर टैक्सी उपलब्ध हैं। पठानकोट से धर्मशाला पहुंचने में लगभग 3 घंटे का समय लगता है। दिल्ली से चंडीगढ़, कीरतपुर और बिलासपुर से लगभग 12-13 घंटे लग सकते हैं। दिल्ली और शिमला से कई लक्जरी बसें धर्मशाला जाती हैं।

7.3 बस से धर्मशाला कैसे पहुँचे – How To Reach Triund Dharamshala By Bus In Hindi

बस से धर्मशाला कैसे पहुँचे

बस से धर्मशाला के लिए यात्रा करना एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता। राज्य संचालित बसों के साथ-साथ निजी बस ऑपरेटर नेटवर्क के माध्यम से धर्मशाला दिल्ली और उत्तर भारत के कई शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। दिल्ली से धर्मशाला लगभग 520 किलोमीटर की दूरी पर है।

7.4 हवाई जहाज से त्रिउन्द धर्मशाला कैसे पहुँचे – How To Reach Triund Dharamshala By Flight In Hindi

हवाई जहाज से त्रिउन्द धर्मशाला कैसे पहुँचे

अगर आप त्रिउन्द के लिए हवाई जहाज से यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें निकटतम हवाई अड्डा धर्मशाला से लगभग 13 किलोमीटर दूर गग्गल में स्थित है। गग्गल हवाई अड्डा धर्मशाला को एयर इंडिया और स्पाइस जेट की उड़ानों की मदद से दिल्ली से जोड़ता है। अगर आप भारत के अन्य किसी हिस्से आ रहे हैं तो चंडीगढ़ तक उड़ान भरना और धर्मशाला के लिए अपनी यात्रा के लिए टैक्सी बुक करना सबसे अच्छा विकल्प होगा, जो लगभग 275 किलोमीटर दूर है।

और पढ़े: हिडिम्बा देवी मंदिर का इतिहास, कहानी और रोचक तथ्य 

8. त्रिउन्द का नक्शा – Triund Map

9. त्रिउन्द की फोटो गैलरी – Triund Images

और पढ़े:

Write A Comment