Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Mansa Devi Temple Haridwar In Hindi मनसा देवी मंदिर उत्तराखंड राज्य के पवित्र शहर हरिद्वार के हर की पौड़ी में देवी मनसा को समर्पित एक हिंदू मंदिर है। यह मंदिर हिमालय की सबसे दक्षिणी पर्वत श्रृंखला शिवालिक पहाड़ियों पर बिल्व पर्वत के ऊपर स्थित है। इस मंदिर को  बिल्वा तीर्थ के रूप में भी जाना जाता है और यह हरिद्वार के पंच तीर्थ में से एक है। यह मंदिर बहुत ही प्राचीन मंदिर है जो अपने महत्व के कारण दूर और आसपास के लोगों को आकर्षित करता है। वास्तव में ‘मनसा’ शब्द ‘मंशा’ शब्द का परिवर्तित रूप है, जिसका अर्थ है ‘इच्छा’। माना जाता है कि इस मंदिर में जो भी भक्त सच्चे मन से देवी की आराधना करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं। यही कारण है कि अपनी मन्नतें लेकर देश के कोने कोने से भारी संख्या में श्रद्धालु मनसा देवी मंदिर आते हैं।

  1. मनसा देवी मंदिर हरिद्वार के बारे में रोचक तथ्य – Interesting Facts About Mansa Devi Temple Haridwar In Hindi
  2. मनसा देवी के बारे में जानकारी – Information About Mansa Devi Temple Haridwar In Hindi
  3. मनसा देवी मंदिर का निर्माण – Mansa Devi Mandir Ka Nirman In Hindi
  4. मनसा देवी मंदिर में पूजा का समय – Mansa Devi Temple Pooja Timing In Hindi
  5. मनसा देवी मंदिर के दर्शन के लिए बेहतर समय – Best Time To Visit Mansa Devi Temple In Hindi
  6. मनसा देवी मंदिर कैसे पहुंचें – How To Reach Mansa Devi Temple In Hindi
  7. मनसा देवी मंदिर हरिद्वार का पता – Mansa Devi Temple Haridwar Location
  8. मनसा देवी मंदिर हरिद्वार की फोटो – Mansa Devi Temple Photos

1. मनसा देवी मंदिर हरिद्वार के बारे में रोचक तथ्य – Interesting Facts About Mansa Devi Temple Haridwar In Hindi

  • यह मंदिर अन्य मंदिरों की तरह ही अपनी विशेषता के लिए प्रसिद्ध है। जिसके कारण लोग यहां दर्शन के लिए जुटते हैं। आइये जानते हैं मनसा देवी मंदिर की विशेषता क्या है।
  • मनसा देवी मंदिर एक सिद्ध पीठ है। यह हरिद्वार में स्थित तीन पीठों में से एक है, अन्य दो पीठ चंडी देवी मंदिर और माया देवी मंदिर हैं। आंतरिक मंदिर में दो देवता हैं, एक आठ भुजाओं वाला और दूसरा तीन सिर और पाँच भुजाओं वाला। यही इस मंदिर की मुख्य विशेषता है।
  • मान्यता है कि मंदिर में स्थित एक पेड़ की शाखाओं पर धागे बाँधकर भक्त मनसा देवी से प्रार्थना करते हैं। एक बार जब उनकी इच्छा पूरी हो जाती है, तो पेड़ से धागा निकालने के लिए फिर से मनसा देवी मंदिर में आना जरूरी होता है। देवी मनसा की प्रार्थना के लिए नारियल, फल, माला और अगरबत्ती भी दी जाती है।
  • मनसा देवी के सात नाम जरत्कारू, जगतगौरी, मनसा, सियोगिनी, वैष्णवी, नागभगिनी, शैवी, नागेश्वरी, जगतकारुप्रिया, आस्तिकमाता और विषहरी है। माना जाता है कि इनके सात नामों का जाप करने से सर्प भय या सर्प काल से मुक्ति मिल जाती है।
  • मनसा देवी कमल पर विराजमान हैं और सात सांपों से घिरी हैं। भित्ति चित्रों में मनसा देवी को एक बालक के साथ दिखाया गया है जिसे वे गोद में लिये हैं।
  • इस मंदिर की विशेषता यह है कि पहले मनसा देवी की पूजा करने के बाद ही सर्पों या नागों की पूजा की जाती है।
  • गंगा दशहरा पर मनसा देवी मंदिर में विशेष पूजा होती है और इस पूजा में शामिल होने के लिए श्रद्धालुओं की भारी भीड़ जमा होती है। कुछ स्थानों पर कृष्णपक्ष पंचमी के दिन भी देवी की पूजा की जाती है।
  • यह भी मान्यता है कि मनसा देवी मंदिर में पूजा करने से घर की आर्थिक परेशानी दूर हो जाती है और व्यक्ति को बीमारियां नहीं लगती हैं।

2. मनसा देवी के बारे में जानकारी – Information About Mansa Devi Temple Haridwar In Hindi

मनसा देवी के बारे में जानकारी – Information About Mansa Devi Temple Haridwar In Hindi

मान्यता है कि मनसा देवी को पहले निम्न वर्ग के लोग आदिवासी देवी के रूप में पूजते थे लेकिन जब इनकी प्रसिद्धि फैली तो अन्य देवी देवताओं के साथ ही मनसा देवी की पूजा मंदिरों में होने लगी। मनसा देवी को कश्यप की पुत्री तथा नागमाता का रूप कहा जाता है। इसके अलावा इन्हें शिव पुत्री और विष की देवी के रूप में भी जाना जाता है। 14 वी सदी के बाद इन्हें मंदिरों में आत्मसात किया गया। यह भी मान्यता है कि नाग वासुकी की माता ने एक कन्या की प्रतिमा का निर्माण किया। यह प्रतिमा शिव वीर्य से स्पर्श होते ही एक नागकन्या बन गई, जिसे मनसा नाम दिया गया। जब भगवान शिव ने मनसा को देखा तो वे मोहित हो गए। मनसा ने जब उन्हें बताया कि वह उनकी बेटी है तो शिव मनसा को लेकर कैलाश पर्वत गए। वहां पार्वती ने भगवान शिव के साथ मनसा को देखकर उनकी एक आंख को जला दिया। बाद में मनसा ने ही शिव को हलाहल विष से मुक्त किया था और इनका विवाह जगत्कारु के साथ हुआ। लोग यह भी मानते हैं कि मनसा देवी का जन्म समुद्र मंथन के दौरान हुआ था। बंगाल के आसपास मनसा देवी की पूजा विष की देवी के रूप में होती थी लेकिन अंत में शैव मुख्यधारा तथा हिन्दू धर्म के ब्राह्मण परंपरा में इन्हें मान लिया गया।

3. मनसा देवी मंदिर का निर्माण – Mansa Devi Mandir Ka Nirman In Hindi

इस मंदिर का पूरा नाम माता मनसा देवी मंदिर है। इस मंदिर का निर्माण मणि माजरा के महाराजा गोपाल सिंह 1811-1815 ईस्वी में कराया था। मंदिर के निर्माण के बाद यहां धीरे धीरे पूजा करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या बढ़ने लगी है और बाद में यह मंदिर देशभर में प्रसिद्ध हो गया।

4. मनसा देवी मंदिर में पूजा का समय – Mansa Devi Temple Pooja Timing In Hindi

ऐसा कहा जाता है कि देवी मनसा और चंडी, देवी पार्वती के दो रूप हैं जो हमेशा एक दूसरे के निकट रहती हैं। यदि आप मनसा देवी मंदिर में दर्शन पूजन करने जाने के इच्छुक हैं तो आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मनसा देवी का मंदिर सुबह पांच बजे खुलता है और रात नौ बजे बंद होता है। चूंकि मंदिर पहाड़ी पर स्थित है इसलिए अन्य मंदिरों की अपेक्षा इसके खुलने और बंद होने के समय में विभिन्नताएं हैं। मंदिर खुलने के बाद सबसे पहले मनसा देवी की आरती होती है फिर पूरे दिन दर्शन के लिए भीड़ जुटती है। मौसम के अनुसार मंदिर खुलने और बंद होने का समय बदलता रहता है।

5. मनसा देवी मंदिर के दर्शन के लिए बेहतर समय – Best Time To Visit Mansa Devi Temple In Hindi

मनसा देवी मंदिर के दर्शन के लिए बेहतर समय - Best Time To Visit Mansa Devi Temple In Hindi

हरिद्वार एक ऐसा पर्यटन स्थल है जहां किसी भी समय जाया जा सकता है। लेकिन मनसा देवी मंदिर के दर्शन के लिए बेहतर समय मार्च से जून तक माना जाता है। इन महीनों में गर्मी होती है और हरिद्वार का पहाड़ी क्षेत्र आपको ठंडक प्रदान करता है और मंदिर में रोपवे या पैदल जाना भी काफी सुविधाजनक होता है। इसलिए ठंड शुरू होने से पहले और बारिश के बाद आप मनसा देवी के दर्शन के लिए जा सकते हैं।

6. मनसा देवी मंदिर कैसे पहुंचें – How To Reach Mansa Devi Temple In Hindi

मनसा देवी मंदिर तक दो तरह से पहुंचा जा सकता है: पैदल या फिर केबल कार से। मंदिर तक पैदल चलने के लिए डेढ़ किलोमीटर की चढ़ाई चढ़नी पड़ती है। थकान से बचने और अपनी सुविधा के लिए ज्यादातर लोग केबल कार या रोप वे से मंदिर तक जाना पसंद करते हैं। आमतौर पर केबल कार अप्रैल से अक्टूबर महीने के दौरान सुबह 7 बजे और बाकी महीनों में 8 बजे से चलना शुरू होती है। टिकट की कीमत 48 रुपये या इससे कुछ अधिक प्रति व्यक्ति है।

हरिद्वार स्टेशन से मनसा देवी मंदिर सिर्फ तीन किलोमीटर दूर है। यदि आप ट्रेन से आना चाहते हैं तो हरिद्वार स्टेशन पहुंचने के बाद आप सीधे मंदिर जा सकते हैं। दिल्ली से हरिद्वार 215 किलोमीटर दूर है, जहां से आप बस द्वारा भी पहुंच सकते हैं।

यदि आप हवाई यात्रा करना चाहते हैं तो जॉली ग्रांट एयरपोर्ट देहरादून से आ सकते हैं। यहां से 45 किमी की दूरी पर हरिद्वार है जहां आप बस, या टैक्सी से पहुंच सकते हैं। मनसा देवी मंदिर ऋषिकेश से 30 किमी, मसूरी से 85 किमी दूर है। हर की पौड़ी के लिए ऑटो और रिक्शा दोनों मौजूद है, जिससे आप यहां पहुंचकर फिर रोपवे से मंदिर जा सकते हैं।

आप रिक्शा से मंदिर जा सकते हैं हर की पौड़ी के लिए ऑटो (टुक टुक) भी उपलब्ध है।

और पढ़े: चंडी देवी मंदिर का इतिहास – Chandi Devi Temple Haridwar In Hindi

7. मनसा देवी मंदिर हरिद्वार का पता – Mansa Devi Temple Haridwar Location

8. मनसा देवी मंदिर हरिद्वार की फोटो – Mansa Devi Temple Photos

View this post on Instagram

#haridwar #mansadevi #mansadevitemple #india #uttarakhand

A post shared by Richa (@loginricha) on

और पढ़े: हरिद्वार में घूमने की जगह और दर्शनीय स्थल की जानकारी – Haridwar Tourist Places In Hindi

Write A Comment