राजस्थान के प्रमुख दुर्ग घूमने की जानकारी – Famous Forts Of Rajasthan In Hindi

Rajasthan Forts In Hindi, भारत का प्रमुख और ऐतिहासिक राज्य राजस्थान बहुत से राजाओं की रण भूमि के रूप में जाना जाता है। राजस्थान भारत का सबसे बड़ा राज्य है, जिसको पूर्व में राजपुताना राज्य के रूप में भी जाना जाता था। देश के सबसे रंगीन और जीवंत राज्यों में से एक राज्यस्थान अपनी संस्कृति, इतिहास, संगीत, भोजन और लोगों के मुस्कुराते हुए चेहरे के साथ पर्यटकों का स्वागत करता हैं। जहाँ सदियों पुरानी संस्कृति और सभ्यता के निशान अभी भी राजस्थान राज्य की हवा में महसूस किये जा सकते हैं। यह महाराजाओं के भव्य महलों और राजसी किलों का एक प्रमुख क्षेत्र था।

राजस्थान के प्रसिद्ध और लोकप्रिय किले पर्यटकों के लिए अति सुन्दर और व्यापक दृश्य प्रस्तुत करते हैं। जयपुर में अंबर का किला, जोधपुर में मेहरानगढ़ का किला और जैसलमेर का किला, राजस्थान में तीन सबसे आवश्यक और प्रसिद्ध किले हैं जो पर्यटकों के लिए प्रमुख आकर्षण का केंद्र बने हुए है। तो हम आपको यहाँ अपने लेख में राजस्थान राज्य के प्रमुख और लोकप्रिय किलो के बारे में अवगत कराने जा रहे है –

चित्तौड़गढ़ किला

चित्तौड़गढ़ किला

7 वीं शताब्दी में मौर्य शासकों द्वारा निर्मित चित्तौड़गढ़ का किला भारत के सबसे बड़े किलों में से एक है। जिसे चित्तौड़ के नाम से भी जाना जाता है, 590 फीट की ऊँचाई पर एक पहाड़ी पर स्थित चित्तौड़गढ़ किला  692 एकड़ भूमि में फैला हुआ है, जो लोकप्रिय राजपूत वास्तुकला का एक बेहतरीन उदाहरण है। किले की भव्य संरचना में मौर्य वंश के बाद के शासकों द्वारा निर्मित कई प्रवेश द्वार हैं। चित्तौड़गढ़ किला पहले मेवाड़ की राजधानी था और अब चित्तौड़गढ़ शहर में स्थित है। चित्तौड़गढ़ किला वीरता और बलिदान की कहानियों को फिर से प्रकट करता है और राजपूत संस्कृति और वास्तविक अर्थों में मूल्यों को प्रदर्शित करता है। और आपको बता दे  चित्तौड़गढ़ किले को वर्ष 2013 में यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल घोषित किया गया था। जिसमे किले के दो अन्य प्रमुख आकर्षण में विजय स्तम्भ और कीर्ति स्तम्भ भी शमिल है।

और पढ़े : चित्तौड़गढ़ दुर्ग घूमने की जानकारी

नाहरगढ़ किला

नाहरगढ़ किलाराजस्थान के गुलाबी शहर के नाम से मशहूर जयपुर में स्थित नाहरगढ़ किला राजस्थान के प्रसिद्ध किलो में से एक है, जो एक सुंदर ऐतिहासिक ईमारत है। यह नाजुक नक्काशी और पत्थर की नक्काशी के साथ जयपुर का  एक अभेद्य किला है जो अपने पड़ोसी किलों, (आमेर किले और जयगढ़ किले) के साथ मिलकर जयपुर शहर की रक्षा करने के लिए बनाया गया था। अरावली पहाड़ियों पर स्थित नाहरगढ़ किला महाराजा सवाई जय सिंह द्वितीय द्वारा वर्ष 1734 में बनाया गया, जिसे मूल रूप से सुदर्शनगढ़ किला कहा जाता था, लेकिन बाद में इसका नाम बदलकर नाहरगढ़ किला रख दिया गया था। इसके अलावा नाहरगढ़ किले में एक और आकर्षण है नाहरगढ़ बायोलॉजिकल पार्क, जो राजसी जानवरों जैसे कि बाघ, तेंदुए और एशियाई शेरों के लिए एक आश्रय स्थल है।

और पढ़े : नाहरगढ़ किले का इतिहास और घूमने की जानकारी 

कुंभलगढ़ किला

कुंभलगढ़ किला

राजस्थान के खूबसूरत शहर उदयपुर से लगभग 85 किमी दूरी पर स्थित कुंभलगढ़ किला राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध किलो में से एक है। जिसे 15 वीं शताब्दी में महाराणा राणा कुंभ द्वारा बनाया गया था। जो अरावली पर्वतमाला की चोटियों से घिरा हुआ है और 1,914 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। जिसकी दीवार ने चीन की महान दीवार के बाद दूसरी सबसे बड़ी दीवार के रूप में अपनी पहचान बनाई है। किले में सात किलेबंद फाटक हैं और इसके साथ ही लाखोला टैंक भी है जो कि किले के अंदर सबसे प्रसिद्ध टैंक है जो राणा लाखा द्वारा बनवाया गया था। इसके अलावा किले में कई हिंदू मंदिर और जैन मंदिर हैं जो शासकों की धार्मिक सहिष्णुता को दर्शाते हैं। जो पर्यटक और इतिहास प्रेमियों के साथ-साथ तीर्थ यात्रियों के लिए भी लोकप्रिय बना हुआ है।

और पढ़े : कुंभलगढ़ किले का इतिहास और इसके पास प्रमुख पर्यटन स्थल 

रणथंभौर किला

रणथंभौर किला

राजस्थान के रणथंभौर में 944 ईस्वी में निर्मित रणथंभौर किला एक शानदार किला है जो चौहान शाही परिवार से संबंधित है। रणथंभौर का शानदार किला रणथंभौर नेशनल पार्क बनाने वाले घने जंगलों के बीच स्थित जहाँ से घने जंगल का सुन्दर दृश्य देखा जा सकता हैं। रणथंभौर किला एक विशाल दीवार से घिरा हुआ है,जिसमे पत्थर के मजबूत रास्ते और सीढ़ियाँ हैं जो संरचना के शीर्ष भाग की ओर ले जाती हैं।

और पढ़े : रणथंभौर किले का इतिहास और घूमने की जानकारी

आमेर का किला

आमेर का किलागुलाबी शहर जयपुर की अरावली पहाड़ी की चोटी पर बसा आमेर किला, भारत के सबसे शानदार किलो में से एक है। जयपुर से केवल 11 किलोमीटर दूरी पर स्थित आमेर किला गुलाबी और पीले बलुआ पत्थरों से निर्मित है। जिसे 1592 में महाराजा मान सिंह प्रथम द्वारा बनबाया गया था जो राजपूत शासकों का मुख्य निवास था। जहां हर साल भारतीयों पर्यटकों के अलावा विदेशी पर्यटक भी बड़ी संख्या में पहुंचते हैं। आमेर एक छोटा सा शहर है जिसका क्षेत्रफल मुश्किल से चार वर्ग किलोमीटर है, यह कभी राजस्थान की राजधानी के रूप में जाना जाता था, जो आज दुनिया भर से आने वाले पर्यटकों के लिए एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण बना हुआ है।

और पढ़े : आमेर किले का इतिहास और घूमने की जानकारी

जैसलमेर किला

जैसलमेर किला

जैसलमेर का किला राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध किलो और दुनिया के सबसे बड़े किलो में से एक जैसलमेर शहर का सबसे लोकप्रिय पर्यटक स्थल है। जो यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में से एक है। तिरुकुटा पहाड़ी पर स्थित जैसलमेर का किला 1156 में राव जैसल द्वारा बनाया गया था, जो कि जैसलमेर के सबसे शक्तिशाली शासकों में से एक था। थार रेगिस्तान के सुनहरे हिस्सों पर स्थित होने के कारण, इस किले को ‘सोनार किला’ या ‘स्वर्ण किले’ के नाम से भी जाना जाता है। पिछली कुछ शताब्दियों में, इस किले ने कई लड़ाइयों को देखा है और राजस्थान में शानदार किलों में से एक होने का गौरव सफलतापूर्वक प्राप्त किया है। लगभग साठ फीट ऊंचा, प्रवेश द्वार बेहतरीन गुणवत्ता वाले शीशम से बनाया गया है। किले के अंदर, राजपूताना गौरव के पूर्व राजाओं के अस्तबल और किले भी हैं। जैसलमेर का किला जैसलमेर में घूमने के लिए सबसे आकर्षक जगहों में से एक है जो पर्यटकों के साथ-साथ इतिहास शोकिनो को भी आकर्षित करता हैl

और पढ़े : जैसलमेर किले के बारे में रोचक जानकारी 

मेहरानगढ़ किला

मेहरानगढ़ किला

जोधपुर में 1459 में राव जोधा द्वारा बनवाया गया मेहरानगढ़ किला देश के सबसे बड़े किलों में से एक है। यह 410 फीट ऊंची पहाड़ी की चोटी पर स्थित है। शहर के केंद्र में स्थित यह किला एक पहाड़ी के लगभग 5 किलोमीटर के क्षेत्र को कवर करता है। इसकी दीवारों की ऊंचाई 36 मीटर और चौड़ाई 21 मीटर है। किले की दीवारों पर जटिल नक्काशी, विशाल प्रांगण, संग्रहालय और दीर्घाएं दुनिया भर से पर्यटकों को आकर्षित करती हैं। जिसमे आपको किले तक पहुंचने के लिए विजय द्वार, फतेह गेट, गोपाल गेट, भैरों गेट, डेढ़ कमरा गेट, मार्टी गेट और लोहा गेट सहित सात द्वार पार करने पड़ते हैं। इसके अलावा किले के भीतर, शीश महल और फूल महल जैसे शानदार महल हैं। जो पर्यटकों के लिए आकर्षण बने हुए है।

और पढ़े : मेहरानगढ़ किले का इतिहास और घूमने की जानकारी

भानगढ़ किला

भानगढ़ किला

भानगढ़ का किला अलवर जिले की अरावली पर्वतमाला में सरिस्का अभ्यारण्य पर स्थित है। यह किला ढलान वाले इलाके में पहाड़ियों के तल पर बसा हुआ है जो देखने में बेहद भयानक लगता है। भानगढ़ किला अलवर शहर का एक बेहद प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है जो अपनी भुतिया किस्सों की वजह से सबसे ज्यादा चर्चा में बना रहता है। भानगढ़ किला यहां होने वाली घटनायों की वजह से इतना ज्यादा फेमस है कि कोई भी इस किले के अंदर अकेला जाने से डरता है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण या एएसआई ने इस किले में रात के समय पर्यटकों और स्थानीय लोगों के प्रवेश पर भी रोक लगा रखी है।

और पढ़े : भानगढ़ किले का रहस्य और खास बाते

जयगढ़ किला

जयगढ़ किला

जयगढ़ किला जयपुर के गुलाबी शहर में पहाड़ियों पर स्थित एक भव्य संरचना है। यह शानदार इमारत सवाई जय सिंह द्वितीय द्वारा 1726 में आमेर किले की सुरक्षा के लिए बनाई गई थी यह शानदार किला आमेर किले से भूमिगत मार्ग के माध्यम से जुड़ा हुआ है और प्रसिद्ध रूप से “किले का विजय” के रूप में जाना जाता है क्योंकि इस पर दुश्मनों ने कभी भी विजय हासिल नहीं की थी। जिसे राजस्थान के तीन सबसे मजबूत किलो में से एक कहा जाता है।  वर्तमान में जयगढ़ किला में पहियों पर दुनिया की सबसे बड़ी ‘जयवाना” तोप भी रखी हुई है। और आपको बता दे जयगढ़ किले को विद्याधर नामक एक प्रतिभाशाली वास्तुकार द्वारा डिजाइन और तैयार किया गया था।

और पढ़े : जयगढ़ किले का इतिहास और रहस्य 

जूनागढ़ किला

जूनागढ़ किला

राजस्थान के बीकानेर में स्थित जूनागढ़ का किला सन 1589 में राजा राय सिंह द्वारा निर्मित करवाया गया था। जिसके चारो और खुबसूरत बीकानेर शहर बसा हुआ है। जूनागढ़ किले को शुरू में चिंतामणि कहा जाता था और फिर इसे 20 वीं शताब्दी में जूनागढ़ या पुराने किले के रूप में नामित किया गया । जूनागढ़ किले की नींव 1478 में राव बीका द्वारा राखी गई थी जो 1589 में पूर्ण हुई। एक समृद्ध इतिहास होने के अलावा, जूनागढ़ किला वास्तुकला की एक उपलब्धि भी है। किले के अंदर महल, बगीचे और सुशोभित बालकनियाँ  मोजूद है। प्रभावशाली जूनागढ़ किला स्थापत्य प्रतिभा के प्रतीक के रूप में अपने सभी शाही गौरव के साथ खड़ा हुआ है। जहाँ इस किले की सुन्दरता और उत्कृष्ट संरचनाएं हर साल हजारों पर्यटकों को आकर्षित करती हैं।

और पढ़े : जूनागढ़ किला घूमने जाने की पूरी जानकारी

नीमराणा फोर्ट पैलेस

नीमराणा फोर्ट पैलेस

15 वीं शताब्दी 1464 में निर्मित, नीमराणा किला अपार सौंदर्य का प्रतीक है। यह राजसी किला पहाड़ी के ऊपर 10 हेक्टेयर क्षेत्र को कवर करता है। जो राजस्थानी परम्परा और आधुनिक शैली के आंतरिक मिश्रण को प्रदर्शित करता है। जो अब एक लक्जरी रिसॉर्ट में बदल गया है जिसके चारों ओर हैंगिंग गार्डन, दो पूल और खूबसूरत कमरे मोजूद है। शानदार, रोमांटिक और आनंद से भरा नीमराणा किला नीमराणा में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है। जो पर्यटकों के लिए लोकप्रिय बना हुआ है अपनी छुटियाँ के कुछ दिन विताने के लिए नीमराणा फोर्ट आपके जीवन का सबसे अच्छा स्थान हो सकता है, जहा आप आपकी लाइफ के कुछ पल सुखद माहोल में व्यतीत कर सकते हैं।

और पढ़े : नीमराना फोर्ट अलवर घूमने की जानकारी

गागरोन किला

गागरोन किला
Image Credit : Rajkumar Nagarajan

राजस्थान के झालावाड़ जिले में स्थित, गागरोन किला राजपूत वास्तुकला की एक उत्कृष्ट कृति के रूप राजस्थान के प्रसिद्ध किलो में एक है। पहाड़ी की चोटी पर बना किला नीचे के परिदृश्य का एक शानदार 360 डिग्री दृश्य प्रस्तुत करता है। किले के गेट के बाहर एक संग्रहालय के अलावा, सूफी संत मिटे शाह का एक मकबरा भी है। जहाँ हर साल मुहर्रम के दौरान उनके सम्मान के लिए एक मेला आयोजित किया जाता है। और आपको बता दे जून 2013 में गागरोन किले को यूनेस्को की विश्व विरासत स्थल सूची में भी शामिल कर लिया गया है।

और पढ़े : गागरोन किला घूमने की जानकारी

तारागढ़ किला बूंदी

तारागढ़ किला बूंदीअजमेर के प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों में से एक तारागढ़ फोर्ट का निर्माण वर्ष 1354 में किया गया था। तारागढ़ किला भारत के पर्यटक राज्य राजस्थान के अजमेर शहर की एक प्रभावशाली संरचनाओं में से एक है। जो अपने मनोरम दृश्य के लिए दुनिया भर में जाना जाता हैं। जो पर्यटकों के लिए राजस्थान वास्तुकला का एक शानदार और उत्कृष्ट उदाहरण पेश करता है। आपको बता दे तारागढ़ किले को अजमेर की सैन्य गतिविधि के एक महत्वपूर्ण केंद्र के रूप में इस्तेमाल किया गया था। जबकि कुछ वर्षों बाद में, अजमेर में ब्रिटिश कब्जे के दौरान, किले को एक अभयारण्य के रूप में इस्तेमाल किया जाने लगा था। जो आज अजमेर का एक प्रसिद्ध पर्यटक स्थल बना हुआ है।

और पढ़े : अजमेर का मशहूर तारागढ़ किला घूमने की जानकारी

खेजड़ला किला

खेजड़ला किला
Image Credit : Abhas Chhabra

खेजड़ला किला प्राचीन भारत के शाही राजाओं और रानियों के शानदार महल के रूप में पहचाना जाता है। मूल रूप से जोधपुर के महाराजा द्वारा 17 वीं शताब्दी में निर्मित, 400 साल पुरानी इमारत को एक होटल में बदल दिया गया है। यह ग्रेनाइट पत्थर और लाल बलुआ पत्थर से बना है, जो राजपूत वास्तुकला का एक तत्व है। विरासत का यह किला उन लोगों के लिए एक आदर्श स्थान है, जो छुट्टी का आनंद लेते हुए भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का अनुभव करना चाहते हैं।

लोहागढ़ किला

लोहागढ़ किला
Image Credit : Basant Maheshwari

18 वीं शताब्दी में जाट शासकों द्वारा निर्मित, लोहागढ़ किला राजस्थान में सबसे बेहतरीन वास्तुकला में से एक है। वास्तव में इस किलो को लोहागढ़ किले, या लौह किले के रूप में इसीलिए नामित किया गया था, क्योंकि ब्रिटिश शासक कभी भी इसे जीतने में सक्षम नहीं थे। लोहागढ़ किला अब तक का सबसे मजबूत किलो में से एक है। किले में प्रवेश दो द्वारों के माध्यम से किया जा सकता है: उत्तर की ओर अष्टधातु (आठ-धातु वाली) और दक्षिण में चौबर्जा (चार-स्तंभ)। इसके अलावा किले के अंदर किशोरी महल, महल खास, कोठी खास, मोती महल, और जवाहर बुर्ज, फतेह बुर्ज, काम महल और पुराण महल जैसे आकर्षक स्थल भी स्थित है। जिसमे एक सरकारी संग्रहालय भी है, जो विभिन्न युद्ध हथियारों का प्रदर्शन करता है।

और पढ़े : लोहागढ़ किले का इतिहास और घूमने की जानकारी 

बाबा किला

बाबा किला

बाला किला या अलवर किला अलवर शहर के ऊपर अरावली रेंज में स्थित अलवर शहर के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है, जिसका निर्माण 15 वीं शताब्दी में हसन खान मेवाती द्वारा किया गया था। बाबा किला अलवर शहर में 300 मीटर ऊंची चट्टान के ऊपर स्थित है जो शहर को एक राजसी दृश्य प्रदान करता है। किले में प्रवेश के लिए जय पोल, सूरज पोल, लक्ष्मण पोल, चांद पोल, कृष्ण पोल और अंधेरी गेट नामक छह द्वार हैं। जिनका नाम राजपूत वीरो के सम्मान में रखा गया है।

और पढ़े : अलवर जिले के बाला किला पर्यटन की जानकारी 

खिमसर किलाखिमसर किला

खिमसर किला राजस्थान का एक ऐतिहासिक किला है जिसका निर्माण 16 वीं शताब्दी में करमसोत वंश के स्वामित्व में, राव करमजी द्वारा किया गया था, जो राव जोधाजी के आठवें पुत्र और जोधपुर के संस्थापक थे। बता दें कि यह किला राजस्थान के नागौर जिले में खिंमसर गांव के पास स्थित है। खिमसर किले की अदभुद सुंदरता के कारण इसे अब एक हेरिटेज होटल में बदल दिया गया है और इसका एक हिस्सा शाही परिवार के वंशजों द्वारा कब्जे में हैं। इसकी भव्यता और शानदार डिजाइन के कारण, इसे भारत सरकार के पर्यटन विभाग द्वारा “ग्रैंड हेरिटेज अवार्ड फॉर एक्सीलेंस” से भी सम्मानित किया गया है।

और पढ़े : खिमसर का किला घूमने की जानकारी और इसके प्रमुख पर्यटन स्थल 

नागौर का किला

नागौर का किला

राजस्थान का एक प्राचीन आकर्षक केंद्र, नागौर का किला नागौर के प्रसिद्ध पर्यटन स्थलों में से एक है। पहले के समय में इसे युद्धों के प्रतीक के रूप में जाना जाता था और  इसकी ऐतिहासिक वास्तुकला इसे राज्य के महत्वपूर्ण स्थानों में से एक बनाती है। किला का निर्माण 4 वीं शताब्दी के आसपास नागवंशियों द्वारा किया गया था और बाद में इसे 12 वीं शताब्दी में गजनवी द्वारा इसका पुनिर्निर्माण करबाया गया था। इस नागौर किले के भीतर कई महल स्थित हैं जहाँ पर्यटक दीवारों के जटिल काम और अद्भुत सौंदर्य के आकर्षक दृश्य देख सकते हैं।

और पढ़े : नागौर किले का इतिहास और घूमने की अन्य की जानकारी

झालावाड़ किला

झालावाड़ किला
Image Credit : Sumeet Singroha

झालावाड़ किला, झालावाड़ शहर में स्थित एक प्रमुख आकर्षण है जिसे स्थानीय रूप से गढ़ पैलेस कहा जाता है। यह किला राजस्थान का एक प्रमुख पर्यटन स्थल हैं और भारी संख्या में पर्यटकों को आकर्षित करता है। झालावाड़ किले का निर्माण राणा मदन सिंह और उनके उत्तराधिकारियों करवाया गया था और यह अपने सुंदर चित्रों के लिए प्रसिद्ध है जो इसकी दीवारों पर बने हुए हैं। आपको बता दें कि इन चित्रों को आप इसके अधिकारियों की स्पेशल अनुमति के बिना नहीं देख सकते। जनाना खास और वीमेंस पैलेस यहां के प्रमुख आकर्षण है, जिनकी दर्पण से सजी दीवारें लोगों को प्रभावित करती हैं।

और पढ़े : झालावाड़ किला और इसके आसपास के पर्यटन स्थलों की जानकारी

किशनगढ़ किला

किशनगढ़ किला
Image Credit : Ashish Mehta

अजमेर से 27 किलोमीटर की दूरी पर स्थित किशनगढ़ किला राजस्थान के प्रमुख एतिहासिक पर्यटक स्थलों में से एक है। किशनगढ़  यह दुनिया का एकमात्र स्थान है जहां नौ ग्रहों का मंदिर है। अजमेर के पास स्थित किशनगढ़ किला के अंदर कई महल और स्मारक हैं । जिन्होंने राजस्थान की सांस्कृतिक और ऐतिहासिक विरासत में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

राजस्थान का विशाल किशनगढ़ किला भव्यता का एक अनुपम प्रतीक है जो भारत आने वाले पर्यटकों को रोमांचित करने में कभी असफल नहीं होता है। जहाँ किशनगढ़ किले के अंदरूनी हिस्सों को विस्तृत भित्ति चित्रों और खूबसूरती से सजाया गया है। यहीं से चित्रकला की बानी थानी शैली की शुरुआत हुई और जिसने बहुत लोकप्रियता हासिल की। और जिससे राजस्थान के शासकों की भव्य जीवनशैली का अंदाजा लगाया जा सकता है। और किले के पास एक शानदार झील भी स्थित है, जो कई दुर्लभ और विदेशी पक्षियों की मेजबानी करती है।

और पढ़े : अजमेर का किशनगढ़ किला घूमने की जानकरी

फोर्ट मसूदा अजमेर

फोर्ट मसूदा अजमेरअजमेर से 54 किलोमीटर की दूरी पर मसूदा में स्थित फोर्ट मसूदा अजमेर के प्राचीन पर्यटक स्थलों में से एक है। इस किले का निर्माण मूल रूप से 1595 ईस्वी के आसपास किया गया था लेकिन इस किले की हालत तेजी से ख़राब हुई और यह जल्द ही एक खंडर के रूप में तब्दील हो गया। लेकिन बाद में इसे नर सिंह जी मर्तिया द्वारा बहाल और पुनर्निर्मित करने का काम किया किया गया। वर्तमान में किला शानदार अंदाज में खड़ा हुआ हैं जिसमे कांच-महल, बड़ा-महल, चंद्र-महल आदि और कई महल शामिल हैं। जो पर्यटकों के आकर्षण बने हुए है।

अनूपगढ़ फोर्ट

अनूपगढ़ फोर्ट

पाकिस्तान की सीमा के करीब अनूपगढ़ शहर में स्थित अनूपगढ़ किला राजस्थान के प्राचीन किलो मे से एक है, जो वर्तमान में खंडहर है। हालाँकि, अपने सुनहरे दिनों में किला एक भव्य संरचना थी जिसने भाटी राजपूतों को खाड़ी में रखने में मदद की। किले का निर्माण वर्ष 1689 में मुगल गवर्नर द्वारा किया गया था, जो मुगल शासन के तहत अनूपगढ़ को रखना चाहते थे।

बदनोर फोर्ट

बदनोर फोर्ट
Image Credit : Vibhu Shankar

बदनोर फोर्ट भीलबाड़ा में एक छोटी सी पहाड़ी पर स्थित एक प्राचीन किला है जो  अपने इतिहास और वास्तुकला के लिए जाना जाता है।भीलवाड़ा का यह किला सात मंजिला हैं और बदनोर किले में मध्यकालीन भारतीय वास्तुकला का उत्कृष्ट उदाहरण देखने को मिलता है। इसके अलावा बदनोर किले की दीवारों के भीतर कई छोटे स्मारको और मंदिर भी स्थित है जहाँ पर्यटक भ्रमण कर सकते हैं।

और पढ़े : भीलबाड़ा के बदनोर फोर्ट का इतिहास और घुमने की जानकारी 

भटनेर का किला

भटनेर का किला
Image Credit : Akshay Joshi

भारत के सबसे पुराने किलों में से एक माने जाने वाला भटनेर किला या हनुमानगढ़ किला घग्गर नदी के तट पर स्थित है। जिसका निर्माण लगभग 1700 साल पहले, जैसलमेर के राजा भट्टी के पुत्र भूपत द्वारा किया गया था। किले के महत्व का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि सम्राट-अकबर ने भटनेर किले का उल्लेख ऐन-ए-अकबरी में किया था। भटनेर किला में कई शानदार द्वार और भगवान शिव और भगवान हनुमान को समर्पित मंदिर भी हैं।

जालौर किला

जालौर किला
Image Credit : Qayyum Khan

जालौर किला राजस्थान राज्य के प्रमुख आकर्षणों में से एक है। यह किला वास्तुकला का एक प्रभावशाली नमूना है। ऐसा माना जाता है कि इस किले का निर्माण 8 वीं और 10 वीं शताब्दी के बीच हुआ था। यह किला 336 मीटर की ऊँचाई पर एक खड़ी पहाड़ी से घिरा हुआ है जहां से शहर का शानदार दृश्य नजर देखा जा सकता है। यह किला परमार शासन के तहत मारू के 9 महलों में से एक था, जिसे सोनगीर या गोल्डन माउंट के नाम से भी जाना जाता था। यह किला जालौर आने वाले पर्यटकों को बेहद आकर्षित करता है। किले का प्रमुख आकर्षण ऊंची किलेनुमा दीवारें हैं और उन पर बने तोपों के गढ़ हैं।

और पढ़े : जालौर किला के इतिहास और इसके पर्यटन स्थल घूमने की पूरी जानकारी 

 तिमनगढ़ किला

 तिमनगढ़ किला
Image Credit : Manoj Jatt

राजस्थान के करौली जिले में हिंडौन ब्लॉक के पास स्थित तिमनगढ़ किला एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक किला है। आपको बता दें कि यह किला 1100 ईस्वी में बनाया गया था लेकिन एक हमले में यह किला नष्ट हो गया था। इस किले का निर्माण फिर से करवाने में यदुवंशी राजा तिमनपाल का बड़ा योगदान दिया था जो कि 12 वीं शताब्दी ईस्वी में एक बहुत शक्तिशाली शासक था। राजा के नाम से ही इस किले का नाम तिमनगढ़ पड़ा है। राजस्थान के अन्य किलों की तुलना में तिमनगढ़ दुर्ग की वास्तुकला बेहद अदभुद है जो पर्यटकों को बेहद आकर्षित करती है। बहुत से लोगों का ऐसा मानना है कि इस किले के मंदिर के नीचे आज भी मिट्टी की कई मूर्तियां छुपी हुई है।

और पढ़े :

Leave a Comment