Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Timangarh Fort In Hindi, तिमनगढ़ किला एक प्रसिद्ध ऐतिहासिक किला है जो राजस्थान के करौली जिले में हिंडौन ब्लॉक के पास स्थित है। आपको बता दें कि यह किला 1100 ईस्वी में बनाया गया था लेकिन एक हमले में यह किला नष्ट हो गया था। इस किले का निर्माण फिर से करवाने में यदुवंशी राजा तिमनपाल का बड़ा योगदान दिया था जो कि 12 वीं शताब्दी ईस्वी में एक बहुत शक्तिशाली शासक था। राजा के नाम से ही इस किले का नाम तिमनगढ़ पड़ा है। राजस्थान के अन्य किलों की तुलना में तिमनगढ़ किले की वास्तुकला बेहद अदभुद है जो पर्यटकों को बेहद आकर्षित करती है। बहुत से लोगों का ऐसा मानना है कि इस किले के मंदिर के नीचे आज भी मिट्टी की कई मूर्तियां छुपी हुई है। इसके अलावा मंदिरों के छतों और खंभों पर सुंदर ज्यामितीय और फूलों की संरचना किसी भी पर्यटक का मन मोह लेती हैं। अगर आप तिमनगढ़ किला देखने के लिए जाना चाहते हैं या इसके बारे में अन्य जानकारी चाहते हैं तो इस लेख को जरुर पढ़ें, यहां हम आपको तिमनगढ़ किले के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहें हैं।

1. तिमनगढ़ किले का इतिहास – Timangarh Fort History In Hindi

तिमनगढ़ किले का इतिहास

Image Credit: Reshi Kumar Kushwah

तिमनगढ़ किले का इतिहास की बात करें तो बता दें कि इस किले को दूसरी शताब्दी में बनाया गया है। इस किले का निर्माण करवाने में राजा यदुवंशी राजा तिमनपाल का बहुत बड़ा योगदान रहा है इसलिए तिमनपाल के नाम से ही इस किले का नाम तिमनगढ़ रखा गया है। मुगल शासन के दौरान इस किले पर मुगलों ने अपना अधिकार और शासन कर लिया था। आपको बता दें कि इस किले में कई सारे प्रवेश द्वार बने हुए हैं। यहां पड़ोसी गांव के लोग किले के बारे में कहते हैं कि इस किले पर नटनी नामक ट्रेपेज़ कलाकार का श्राप है। बताया जाता है कि एक राजा ने नत- नटनी को वहां किसी स्थान पर रस्सी के ऊपर चलने को कहा और उस राजा ने नट से वादा किया कि अगर वो यह करतब करने में सफल हो जायेगा तो वो पुरुस्कार के रूप में अपने राज्य का आधा हिस्सा देगा।

राजा की शर्त के अनुसार नटनी रस्सी पर चलकर वापस लौट रही थी तो रानी को लगा कि नटनी सफल हो जायेगा इसलिए उसने रस्सी काटने का आदेश दे दिया। रस्सी काटने की वजह से नटनी गिर गई और चट्टान से टकराकर मर गई। नटनी के मरने के बाद नट उसके वियोग में मर गया और मरते हुए राजा को श्राप दे गया कि उसका राज्य बर्बाद हो जायेगा।

2. तिमनगढ़ किले की वास्तुकला – Timangarh Fort Architecture In Hindi

तिमनगढ़ किले की वास्तुकला

Image Credit: Manoj Jatt

तिमनगढ़ किले की वास्तुकला भारत के अन्य किलों से बिलकुल अलग है। यह किला देश के प्राचीन इतिहास का एक अनूठा संकेत है। इस किले की सबसे खास बात यह है कि इसमें पांच प्रवेश द्वार बनाए गए है। इस किले की दीवारों पर पत्थर की कई मूर्तियां बनी हुई हैं। इसके अलावा दीवारों पर लोग, शहर, बाज़ार सभी के चित्र उकेरे गए हैं। किले के खंभों पर पत्थर के कई देवी-देवता के चित्र भी बने हुए हैं। किले की दीवारें यहां आने वाले लोगों को अपने पुराने समय में वापस ले जाती हैं। यहां किले के अंदर छत के ऊपर आप कई धार्मिक और ज्यामितीय फूलों से सजी डिज़ाइन देख सकते हैं।

और पढ़े: भारत के 10 ऐसे खूबसूरत किले जहां आपको एक बार जरुर जाना चाहिए

3. तिमनगढ़ किला करौली के आसपास में घूमने लायक प्रमुख पर्यटक और आकर्षण स्थल – Tourist Places To Visit Near Timangarh Fort In Hindi

अगर आप तिमनगढ़ किले की यात्रा करने जा रहें हैं तो किले के साथ यहां कई अन्य स्थान हैं जो तिमारागढ़ किले के पास स्थित हैं और इन जगहों की यात्रा आप किले के देखने के दौरान ही कर सकते हैं। आइये अब हम आपको तिमनगढ़ किले के पास के कुछ पर्यटन स्थलों के बारे में बताते हैं।

3.1 करौली सिटी पैलेस – Karauli City Palace In Hindi

करौली सिटी पैलेस

करौली सिटी पैलेस यहां का प्रमुख आकर्षण है जिसका निर्माण 14 वीं शताब्दी में अर्जुन पाल द्वारा करवाया गया था। इसके बाद 18 वीं शताब्दी में राजपा गोपाल सिंह द्वारा महल का पुनर्निर्माण किया गया था। आपको बता दें कि इस महल को बड़ी ही खूबसूरती के साथ लाल, सफेद और ऑफ-व्हाइट पत्थरों के उपयोग से बनाया गया है, जिसे देखने आपको जरुर जाना चाहिए।

3.2 श्री महावीरजी जैन मंदिर – Shri Mahavirji Jain Temple In Hindi

श्री महावीरजी जैन मंदिर

Image Credit: Pratyk Jain

श्री महावीरजी जैन मंदिर भगवान महावीर को समर्पित एक प्रसिद्ध मंदिर है जो अपनी शानदार वास्तुकला के लिए जाना जाता है। इस मंदिर के अंदर रखी भगवान की मूर्ति बहुत पुरानी है।इस मंदिर के अंदर विभिन्न पौराणिक स्थितियों के सोने से बनी सुंदर नक्काशी है जो भक्तों और यात्रियों को आकर्षित करती है।

और पढ़े: बीकानेर के करणी माता मंदिर के दर्शन की जानकारी और पर्यटन स्थल

3.3 कैला देवी मंदिर – Kaila Devi Temple In Hindi

कैला देवी मंदिर

Image Credit: Pankaj Sharma

कैला देवी मंदिर करौली से 23 किमी की दूरी पर स्थित है, जो देवी दुर्गा के 9 शक्ति पीठों में से एक है। यह मंदिर कालीसिल नदी के तट पर बसा हुआ है और इसे बहुत ही खूबसूरती के साथ बनाया गया है। अगर आप करौली के पर्यटन स्थलों की सैर करने जा रहें हैं तो आपको इस भव्य मंदिर के दर्शन करने के लिए जरुर जाना चाहिए।

3.4 देवी गोमती धाम – Devi Gomti Dham In Hindi

देवी गोमती धाम

Image Credit: Abhishek Pandey

नक्काश की देवी गोमती धाम मंदिर करौली का एक प्रसिद्ध मंदिर है जो भारी संख्या में भक्तों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। इस पवित्र धार्मिक स्थल में मां दुर्गा की मूर्तियाँ स्थापित हैं और यहां बहुत ही भक्ति के साथ माता की पूजा की जाती है। यहां स्थित एक निर्मंल जलसेन तालाब इस जगह की पवित्रता को और भी ज्यादा बढाता है। अगर आप करौली की यात्रा करने जा रहें हैं तो इस पवित्र स्थल के दर्शन करना न भूलें।

3.5 गुफा मंदिर करौली – Cave Temple Karauli In Hindi

गुफ़ा मंदिर करौली के पास जंगली जानवरों से भरे घने जंगलों में स्थित है। बता दें कि अगर आप यदि असली कैला देवी मंदिर की यात्रा करना चाहते हैं, तो आपको लगभग 8 किमी की पैदल दूरी तय करनी होगी। लेकिन आपको बता दें कि जंगल में जाते समय आपको बेहद सावधान रहना होगा क्योंकि किसी भी वक्त यहां जंगली जानवर हमला कर सकते हैं।

और पढ़े: ब्रह्माजी मंदिर पुष्कर के दर्शन और पर्यटन स्थल की जानकारी 

3.6 मेहंदीपुर बालाजी मंदिर – Mehandipur Balaji Temple In Hindi

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर

Image Credit: Manoj Kundu

राजस्थान में करौली के पास स्थित मेहंदीपुर मंदिर भगवान हनुमान को समर्पित है।हनुमान जी के इस मंदिर को बेहद पवित्र माना जाता है। बता दें कि यहां पर रोजाना भारी संख्या में भक्त बुरी आत्माओं से मुक्ति के लिए आते हैं। अगर आप इस मंदिर के दर्शन करने जाते हैं तो यहां पर कई बुरी आत्माओं से पीड़ित लोगों को देख सकते हैं।

3.7 भंवर विलास पैलेस – Bhanwar Vilas Palace In Hindi

भंवर विलास पैलेस

Image Credit: Joshua Tan

भंवर विलास पैलेस करौली के पास स्थित एक बहुत ही सुंदर महल है जिसको 1938 में करौली के शासक महाराजा गणेश पाल देव बहादुर की देख-रेख में बनाया गया था। यह महल पूरी तरह से प्राचीन तरीके और नक्काशी के साथ बनाया गया है। यह महल बेहद विशाल है और इसका निर्माण राजघराने के लोगों के लिए रहने के लिए किया गया था। भंवर विलास पैलेस अब आंशिक रूप से एक हेरिटेज होटल में बदल गया है जहाँ आप अपनी यात्रा के दौरान ठहर सकते हैं और यहां के उपचार का आनंद ले सकते हैं।

और पढ़े: राजसमंद झील घूमने की जानकारी और इसके पर्यटन स्थल

3.8 रामथरा का किला करौली – Ramathra Fort Karauli In Hindi

रामथरा का किला करौली

Image Credit: Hans Luyten

रामथरा का किला करौली से 15 किमी की दूरी पर स्थित है जिसको बेहद भव्य रूप से बनाया गया है। यह किला लगभग 4 शताब्दी पुराना है। इस किले में एक गणेश मंदिर और एक शिव मंदिर भी स्थित है। बता दें कि यहां स्थित संगमरमर की मूर्तियों को 18 वीं शताब्दी के शिल्पकार द्वारा खूबसूरती से तैयार किया गया है। किले पास स्थित झील और ग्रामीण इलाके किले की सुरम्य सुंदरता को बढाते हैं।

3.9 राजा गोपाल सिंह की छत्री – Raja Gopal Singh Ki Chhatri In Hindi

राजा गोपाल सिंह की छत्री नाडी गेट के बाहर स्थित है, जिसके बगल में एक एक सुंदर नदी स्थित है जो इसकी सुंदरता को और भी ज्यादा बढ़ाती है। राजा गोपाल सिंह की छत्री अपने आकर्षण से हर साल बहुत सारे पर्यटकों को आकर्षित करती है।

3.10 कैलादेवी वन्यजीव अभयारण्य – Kailadevi Wildlife Sanctuary In Hindi

कैलादेवी वन्यजीव अभयारण्य

कैलादेवी वन्यजीव अभयारण्य कैला देवी मंदिर के पास स्थित है जो 680 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला है। आपको बता दें कि इस अभयारण्य में न केवल बहुत सारे पशु और पक्षी पाए जाते हैं बल्कि यहां पर बल्कि दो नदियाँ भी बहती हैं जो बनास नदी और चंबल नदी है। इस अभ्यारण्य में नीलगाय, चिंकारा, जंगली हॉग, भेड़िये, भालू, बाघ, जंगली सुअर, जैकाल जैसे जानवर पाए जाते हैं।

और पढ़े: चित्तौड़गढ़ जिला के आकर्षण स्थल और घूमने की जानकारी 

4. तिमनगढ़ किले के आसपास कहा रुके – Where To Stay Near Timangarh Fort In Hindi

तिमनगढ़ किले के आसपास कहा रुके

तिमनगढ़ किले के पास आप अगर कुछ खाना चाहते हैं तो हम आपको कुछ अच्छे होटल के नाम बताने जा रहें हैं जो अच्छा खाना उपलब्ध कराते हैं और जिनमें फूड प्लाजा, मिडवे रेस्तरां, ज़ाफ़रान रेस्तरां और मनवार भोजनालय के नाम शामिल है।

5. तिमनगढ़ किले घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Timangarh Fort In Hindi

तिमनगढ़ किले घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

Image Credit: Vijay Singh

अगर आप अपने परिवार या दोस्तों के साथ करौली के तिमनगढ़ किले की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि इस किले की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय फरवरी, मार्च या सितंबर से दिसंबर तक का समय है। राजस्थान में स्थित होने की वजह से इस जगह की जलवायु बहुत ही जदय गर्म है। इसलिए यहां की यात्रा आपको गर्मी के मौसम में नहीं करना चाहिए। किले की यात्रा आपको अंधेरा होने के बाद भी नहीं करना चाहिए।

और पढ़े: भीलवाड़ा घूमने की जानकारी और प्रमुख पर्यटक स्थल 

6. तिमनगढ़ किले कैसे जाये – How To Reach Timangarh Fort Karauli In Hindi

तिमनगढ़ किला राजस्थान में करौली जिले में मशालपुर उप-तहसील में स्थित है। आप टैक्सी या बस से सड़क मार्ग द्वारा हिंदौन शहर तक पहुँच सकते हैं। राजस्थान राज्य राजमार्ग सबसे अच्छा विकल्प होगा।

6.1 हवाई मार्ग से तिमनगढ़ किले कैसे पहुँचे – How To Reach Timangarh Fort By Plane In Hindi

हवाई मार्ग से तिमनगढ़ किले कैसे पहुँचे

तिमनगढ़ किला जाने के लिए आगरा हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है जो भारत के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। इस हवाई अड्डे से करौली 170 किमी की दूरी पर है, जहां आप आसानी से उपलब्ध किराये की कारों से पहुंच सकते हैं।

6.2 तिमनगढ़ किले रेल से कैसे पहुंचे – How To Reach By Timangarh Fort By Train In Hindi

तिमनगढ़ किले रेल से कैसे पहुंचे

करौली के पास हिंडौन सिटी रेलवे स्टेशन और गंगापुर सिटी ट्रेन स्टेशन जंक्शन हैं। यह दोनों रेलवे स्टेशन करौली से लगभग 35 किमी की दूरी पर हैं। तिमनगढ़ किले तक पहुंचने के लिए आप वहां से कोई भी जीप या वैन ले सकते हैं।

6.3 तिमनगढ़ किले तक कैसे पहुंचे सड़क मार्ग से – How To Reach Timangarh Fort By Road In Hindi

तिमनगढ़ किले तक कैसे पहुंचे सड़क मार्ग से

जयपुर से करौली 170 किमी की दूरी पर स्थित है और जहां से पर्यटक किराये की कार या टैक्सी की मदद से अपने पर्यटन स्थल तक पहुंच सकते हैं। करौली को राजस्थान के प्रमुख शहरों से जोड़ने के लिए कई निजी और सार्वजनिक बसें चलती हैं।

और पढ़े: करौली जिले का इतिहास और आकर्षण स्थल की जानकारी

7. तिमनगढ़ किले करौली का नक्शा – Timangarh Fort Karauli Map

8. तिमनगढ़ किले की फोटो गैलरी – Timangarh Fort Images

View this post on Instagram

Timangarh fort's #entry $gate….

A post shared by chetan kumar dixit (@chetan.dixit01) on

और पढ़े:

Write A Comment