Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Kaila Devi Temple In Hindi, कैला देवी मंदिर भारत के राजस्थान राज्य में करौली जिले के कैलादेवी गाँव में स्थित एक हिंदू मंदिर है। यह मंदिर कैला देवी को समर्पित है जिन्हें महालक्ष्मी या धन की देवी के रूप में माना जाता है। कैला देवी साल में हर दिन भोग प्रसाद के साथ लाल झंडे चढ़ाने के लिए और मां के दर्शन करने के लिए जाते हैं। कैला देवी मंदिर की सबसे आकर्षक विशेषता मंदिर में जगतजी द्वारा किया जाने वाला  जागरण है। इस मंदिर के दो प्रमुख आकर्षणों में हनुमानजी मंदिर और भैरों बाबा का मंदिर शामिल हैं, जो मंदिर के प्रांगण में स्थित हैं। मंदिर के गर्भगृह में दो देवियों की, जिनमें से एक कैला देवी और दूसरी चामुंडा देवी की है। अगर आप कैला देवी मंदिर के इतिहास, पौराणिक कथा और दर्शन की जाकारी चाहते हैं तो इस लेख को जरुर पढ़ें, यहां हम आपको कैला देवी मंदिर के बारे में पूरी जानकारी दें रहें हैं।

1. कैला देवी मंदिर का इतिहास और कहानी – Kaila Devi Temple History And Story In Hindi

कैला देवी मंदिर का इतिहास और कहानी

Image Credit: Pankaj Sharma

कैला देवी मंदिर करौली राज्य के तत्कालीन राजपूत जादौन राजपूत शासकों की कुल देवी कैला देवी को समर्पित है। पौराणिक कथा के अनुसार राजा भोमपाल देवी कैला देवी के बहुत बड़े भक्त थे और देवी ने ही उन्हें इस जगह पर मंदिर बनवाने का निर्देश दिया था। जब राजा ने यहां मंदिर का निर्माण करवाया तो यह पवित्र मंदिर इतना ज्यादा प्रसिद्ध हो गया कि दूर-दूर से लाखों भक्त देवी के दर्शन करने के लिए इस मंदिर में आते हैं। इसके बाद में यादव वंश के महाराजा गोपाल सिंह ने गुंबद के साथ एक बड़ा और सुंदर मंदिर बनवाया जिसका शीर्ष स्वर्ण से बनाया गया था। महाराजा भंवरपाल ने यहाँ पर कई इमारतों का निर्माण किया और यह क्षेत्र ने जल्द ही अपनी पवित्रता और प्राकृतिक आकर्षण के रूप में बहुत कुछ हासिल कर लिया। गर्भगृह में दो मूर्तियाँ स्थापित हैं। यहां स्थित कैला देवी की मूर्ति थोड़ी झुकी हुई है क्योंकि देवी की गर्दन मुड़ी हुई है। यह मूर्ति बहुत पुरानी हैं और यह इस स्थान पर उपलब्ध पत्थर से बनी हुई है।

यह एक संगमरमर से बनी संरचना है जिसमें एक चैकोर मंजिल का बड़ा प्रांगण है। इस मंदिर के एक स्थान पर भक्तों द्वारा लगाए गए कई लाल झंडे हैं। कैला देवी मंदिर में मौजूद इन लाल झंडों को भक्तों द्वारा लगाया गया है। भक्त हर दिन कैला देवि मंदिर में इन झंडों के साथ भोग लगाते हैं। भगतजी द्वारा किया जाने वाला जागरण यहां का सबसे बड़ा आकर्षक है जो हर रात मंदिर में रात 09:00 बजे होता है। चैत्र के महीने में राजस्थान, यूपी, एमपी और पूरे भारत के विभिन्न क्षेत्रों से भक्त पैदल देवी के दर्शन करने के लिए आते हैं।

और पढ़े: उदयपुर घूमने की जानकारी और इसके 10 प्रमुख पर्यटन स्थल

2. कैला देवी मंदिर में होने वाली पूजा – Kaila Devi Temple Puja Timings In Hindi

कैला देवी के प्रमुख अनुष्ठान और पूजा में सुबह 7:00 बजे और शाम 06:30 बजे देवी को अर्पित की जाने वाली सामूहिक प्रार्थनाएं शामिल हैं।

3. कैला देवी मंदिर खुलने व बंद होने का समय – Kaila Devi Temple Timings In Hindi

कैला देवी मंदिर खुलने व बंद होने का समय

Image Credit: Rahul Chaudhary

सुबह 8:00 – 11:00 बजे तक और शाम को 7:00 – 9:00 बजे तक।

4. कैला देवी मंदिर में उत्सव और पूजा – Kaila Devi Temple Festivals And Poojas In Hindi

हर साल चैत्र के महीने में हजारों भक्त पैदल यात्रा करके देवी का आशीर्वाद लेने के लिए जाते हैं। चैत्र मास में कैला गाँव में कैला देवी के सम्मान में एक वार्षिक मेला आयोजित किया जाता है, जो एक पखवाड़े तक चलता है। कौरौली, धौलपुर, आगरा और पश्चिमी राजस्थान के कई हिस्सों में रहने वाले लोग देवी की ‘कुलदेवी’ के रूप में पूजा करते हैं।

5. कैला देवी मंदिर के दर्शन करने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Kaila Devi Temple In Hindi

कैला देवी मंदिर के दर्शन करने का सबसे अच्छा समय

Image Credit: Pawan Kushwah

कैला देवी मंदिर राजस्थान राज्य के करौली जिले के कैलादेवी गाँव का एक प्रमुख मंदिर है। अगर आप इस मंदिर की यात्रा करने के अच्छे समय के बारे में जानना चाहते हैं तो बता दें कि मंदिर की यात्रा करने का सही समय अक्टूबर से मार्च तक है क्योंकि इस दौरान करौली में मौसम ठंडा रहता है। गर्मियों में इस मंदिर की यात्रा करने की सलाह नहीं दी जाती क्योंकि करौली में इस दौरान भीषण गर्मी पड़ती है।

और पढ़े: अलवर का इतिहास और 10 प्रमुख पर्यटन स्थल

6. कैला देवी मंदिर के आसपास में घूमने लायक पर्यटन और आकर्षण स्थल – Kaila Devi Mandir Ke Nearby Darshaniya Sthal In Hindi

6.1 केदारनाथ गुफा और मंदिर – Kedarnath Cave Temple In Hindi

केदारनाथ गुफा कैला देवी का मूल मंदिर है। बता दें कि रणथंभौर के जंगल में जानवरों से खतरे के कारण इस जगह को असुरक्षित घोषित कर दिया गया था। यह शहर से 3 किमी दूर स्थित है। पूजा करने के लिए भारी संख्या में भक्त यहां चलकर आते हैं।

6.2 रणथंभौर अभयारण्य – Ranthambore Sanctuary In Hindi

रणथंभौर अभयारण्य

कैला देवी मंदिर इस रणथंभौर अभयारण्य की एक साइड से जुड़ा हुआ है। रणथंभौर नेशनल पार्क राजस्थान में स्थित देश के सबसे अच्छे बाघ अभ्यारण्यों में से एक है, जिसे यहां उपस्थित “फ्रेंडली” बाघों के लिए जाना जाता है और इस अभ्यारण में बाघ को देखने की संभावना भारत के दूसरे बाघ अभ्यारण्यों काफी ज्यादा होती है। रणथंभौर की समृद्ध वनस्पतियां और जीव इस स्थान को पर्यटन का एक बहुत ही खास स्थान बनाते हैं। विंध्य और अरावली पहाड़ियों की तलहटी में बसे रणथंभौर को अपने बाघ भंडार, वनस्पतियों और जीवों की विविधता जाना-जाता है।

और पढ़े: रणथंभौर नेशनल पार्क घूमने की जानकारी

6.3 मेहंदीपुर बालाजी मंदिर – Mehandipur Balaji Temple In Hindi

मेहंदीपुर बालाजी मंदिर

Image Credit: Manoj Kundu

मेहंदीपुर बालाजी राजथान का एक प्रमुख मंदिर है जो भगवान हनुमान को समर्पित है। पूरे देश भर से लोग इस मंदिर में हनुमान जी के दर्शन करने के लिए आते हैं। यह मंदिर करौली शहर से लगभग 95 किमी की दूरी पर स्थित है।

और पढ़े: अर्बुदा देवी मंदिर का इतिहास और पौराणिक कथा

6.4 कैलादेवी वन्यजीव अभयारण्य – Kailadevi Wildlife Sanctuary In Hindi

कैलादेवी वन्यजीव अभयारण्य

कैलादेवी वन्यजीव अभयारण्य कैला देवी मंदिर के पास स्थित है। यह 680 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है और इस अभयारण्य में न केवल बहुत सारे पशु और पक्षी है इसमें बल्कि दो नदियाँ बनास नदी और चंबल नदी स्थित हैं। अभ्यारण्य में पाए जाने वाले पशुओं में नीलगाय, भालू, बाघ, जंगली सुअर, चिंकारा, जंगली हॉग, भेड़िये, जैकाल और सुस्ती सहित कई अन्य जानवर शामिल हैं।

6.5 रामथरा का किला – Ramathra Fort In Hindi

रामथरा का किला करौली

Image Credit: Hans Luyten

रामथरा का किलाकरौली से 15 किमी की दूरी पर स्थित है। यह भव्य किला कम से कम 4 शताब्दी पुराना है। इस किले में एक गणेश मंदिर और एक शिव मंदिर भी स्थित हैं । इस मंदिर की संगमरमर की मूर्तियों को 18 वीं शताब्दी के शिल्पकार द्वारा खूबसूरती से तैयार किया गया है। यहां स्थित झील और ग्रामीण इलाके किले की सुरम्य सुंदरता को पूरा करते हैं।

और पढ़े: करौली जिले का इतिहास और आकर्षण स्थल की जानकारी

7. कैला देवी मंदिर कैसे जाये – How To Reach Kaila Devi Temple In Hindi

कैला देवी मंदिर एक हिंदू धर्म मंदिर है, जिसे देवी दुर्गा के 9 शक्ति पीठों में से एक माना जाता है। यह मंदिर करौली शहर से 23 किमी की दूरी पर कालीसिल नदी के किनारे स्थित है।

7.1 सड़क द्वारा कैला देवी मंदिर कैसे पहुंचे- How To Reach Kaila Devi Temple By Road In Hindi

सड़क द्वारा कैला देवी मंदिर कैसे पहुंचे

कैला देवी मंदिर करौली के दक्षिण-पश्चिम में 23 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहां से स्थानीय बस या स्थानीय टैक्सी द्वारा आसानी से पहुंचा जा सकता है।

7.2 कैला देवी मंदिर रेल से कैसे पहुंचे- How To Reach Kaila Devi Temple By Rail In Hindi

कैला देवी मंदिर रेल से कैसे पहुंचे

कैला देवी मंदिर की ट्रेन से यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि यह मंदिर दिल्ली, आगरा, मुंबई, चेन्नई, अजमेर, पाली, जयपुर, अहमदाबाद जैसे प्रमुख शहरों से रेलवे स्टेशनों के लिए निकटतम गंगापुर सिटी रेलवे स्टेशन (35 किमी) के माध्यम से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

7.3 कैला देवी मंदिर कैसे पहुंचे हवाई जहाज से – Kaila Devi Temple By Air In Hindi

कैला देवी मंदिर कैसे पहुंचे हवाई जहाज से

कैला देवी मंदिर का निकटतम जयपुर हवाई अड्डा 160 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जो दिल्ली, मुंबई के लिए नियमित घरेलू उड़ानों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

और पढ़े: राजस्थान के 10 प्रमुख पर्यटन स्थल 

8. कैला देवी मंदिर का नक्शा – Kaila Devi Temple Map

9. कैला देवी मंदिर की फोटो गैलरी – Kaila Devi Temple Images

View this post on Instagram

. . . . . . . #spiritual #instagram

A post shared by Sourabh Kadam (@mr.sourabhkadam) on

View this post on Instagram

This auspicious date marks the beginning of the Kailadevi Chaitra mela at Karauli—a fortnight of prayer and celebration, a coming together of devotees across India, a vibrant conglomeration of people drawn to this ancient site by an inner fire made incandescent by the blessings of the Shakti Kailadevi. The Chaitra Mela takes place during the Krishna Paksh of ‘chaitra’, starting from the 12th day of Chaitra Badi. In a few days Hindus across the world will begin a period of fasting and prayer for the Chaitra Navratri which is the prathama tithi of the Chitra Sudi, and the beginning of the Hindu lunar calendar. The nine-day auspicious period known as Navratri is the ultimate celebration of feminine energy and power in its purest form. At the Kailadevi temple in Karauli, among the most important Shakti peeths of Northern India, the devotion and energy are palpable as the devotees, many of whom have travelled entirely on foot, throng the halls to pay obeisance at the feet of the goddess. The goddess was first worshipped by the royal family of Karauli in the reign of Raja Chandrasen, who dedicated fixed offerings for the accoutrements of her worship from the royal treasury. His son Raja Gopal Das, famed for his victory at Daulatabad in the Deccan built the original temple. Later Maharaja Gopal Singh laid the foundation of a larger temple in 1723. He also established the statue of Chamunda Ji, bringing it from the fort of Gagraun where it had been placed by the Khinchi ruler Mukund Das Ji in 1150. Since then every ruler of Karauli has made significant offerings and improvements to the temple. The present Maharaja Krishna Chandra Pal and his son Yuvraj Vivasvat Pal serve the temple with great fervour and devotion, continuing the legacy of their ancestors These fair is among the most prominent celebrations of northern India, with more than four hundred thousand devotees from different communities coming to pay obeisance to the goddess Kaila devi with several traversing long distances while fasting! Among the distinctive elements of the Chaitra mela are the kanak-dandoti, devotees who travel to the temple prostrating themselves at regular intervals along the way.

A post shared by Bhanwar Vilas Palace Karauli (@bhanwarvilaspalace) on

और पढ़े:

Featured Image Credit: Akash Lakhera

Write A Comment