Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Nahargarh Fort In Hindi नाहरगढ़ किला राजस्थान की राजधानी जयपुर में स्थित है, जो कई अनगिनत महलों और सुंदर ऐतिहासिक इमारतों में से एक है जो इस शहर के शानदार और समृद्ध इतिहास को बताता है। नाजुक नक्काशी और पत्थर के शानदार वर्क के साथ नाहरगढ़ किला एक अभेद्य दुर्ग है जो अपने दो पड़ोसी किलों आमेर किले और जयगढ़ किले के साथ मिलकर जयपुर शहर के मजबूत रक्षक के रूप में खड़ा है। जो भी पर्यटक जयपुर घूमने के लिए जाता है वो इस ऐतिहासिक किले को देखे बिना रह नहीं पाता है। अगर आप नाहरगढ़ किले को देखना चाहते है तो आपको इस लिख को जरुर पढ़ना चाहिए क्योंकि इसमें हम आपको नाहरगढ़ किले के इतिहास, वास्तुकला और घूमने की जानकारी के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहे हैं।

नाहरगढ़ किले का इतिहास – Nahargarh Fort History In Hindi

नाहरगढ़ किले की कहानी – Nahargarh Fort Haunted Story In Hindi

नाहरगढ़ किले की वास्तुकला – Nahargarh Fort Architecture In Hindi

नाहरगढ़ किले में जैविक उद्यान – Nahargarh Biological Park In Hindi

नाहरगढ़ पैलेस में मूर्तिकला पार्क – Sculpture Park At Nahargarh Palace In Hindi

नाहरगढ़ किले के पास खाना – Local Food At Nahargarh Fort In Hindi

नाहरगढ़ किला जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Nahargarh Fort In Hindi

नाहरगढ़ किला कैसे पहुँचे – How To Reach Nahargarh Fort In Hindi

  1. फ्लाइट से नाहरगढ़ किला कैसे पहुंचे – How To Reach Nahargarh Fort By Flight In Hindi
  2. सड़क मार्ग से नाहरगढ़ किला कैसे पहुंचे – How To Reach Nahargarh Fort By Road In Hindi
  3. ट्रेन से नाहरगढ़ किला कैसे पहुंचे – How To Reach Nahargarh Fort By Train In Hindi

नाहरगढ़ किला की लोकेशन का मैप – Nahargarh Fort Location

नाहरगढ़ किला की फोटो गैलरी – Nahargarh Fort Images

1. नाहरगढ़ किले का इतिहास – Nahargarh Fort History In Hindi

नाहरगढ़ किले का इतिहास - Nahargarh Fort History In Hindi

कई महत्वपूर्ण ऐतिहासिक घटनाओं के ढेरों के साथ चिह्नित नाहरगढ़ किले को जयपुर शहर के संस्थापक, महाराजा सवाई जय सिंह ने 1734 में बनवाया था। इस किले का इस्तेमाल गर्मियों में महल के रूप में किया जाता था। इस किले की सबसे अच्छी बात यह है कि इस किले के लंबे इतिहास में कभी हमला नहीं हुआ। हालाँकि यह किला 18 वीं शताब्दी में मराठा सेनाओं के साथ संधियों पर हस्ताक्षर करने जैसी प्रमुख ऐतिहासिक घटनाओं का स्थल रहा है। इस किले को 1857 के सिपाही विद्रोह के दौरान कई यूरोपीय लोगों को आश्रय देने के लिए भी जाना जाता है। वर्ष 1868 में जब राजासवाई राम सिंह ने नाहरगढ़ किले के भीतर महल की एक श्रेणी बनाई तब यह पैलेस जीर्णोद्धार से गुजरा था। नाहरगढ़ किले रंग दे बसंती’ और ‘शुद्ध देसी रोमांस’ जैसी फिल्मों की शूटिंग भी हुई है।

और पढ़े: गलताजी मंदिर का इतिहास और घूमने की जानकरी

2. नाहरगढ़ किले की कहानी – Nahargarh Fort Haunted Story In Hindi

नाहरगढ़ किले की कहानी - Nahargarh Fort Haunted Story In Hindi

नाहरगढ़ किला राजस्थान का एक बहुत ही आकर्षक किला है जो अपने पीले रंग के साथ गुलाबी नगरी जयपुर में बहुत आकर्षक दिखाई देता है। इस किले को सवाई राजा मान सिंह ने अपनी रानियों के लिए बनवाया था, लेकिन राजा की मृत्यु के बाद नाहरगढ़ किले को भूतिया कहा जाने लगा था। लोगों का मानना है कि इस किले में राजा का भूत रहता है। यहां के स्थानीय लोगों अनुसार यहां पर एकदम से तेज हवाएं चलने लगती है और कई बार दरबाजे के कांच टूट कर गिर जाते हैं। यहाँ कभी-कभी एक दम से गर्मी और एक दम से ठण्ड महसूस होने लगती है। किले में जाने वाले कई लोगों को कुछ अजीब चीजों का एहसास हो चुका है। बताया जाता है कि इस किले के पुनर्स्थापना संगठन के मालिक को अपने घर में रहस्यमय तरीके से मारा हुआ पाया गया

3. नाहरगढ़ किले की वास्तुकला – Nahargarh Fort Architecture In Hindi

नाहरगढ़ किले की वास्तुकला - Nahargarh Fort Architecture In Hindi

नाहरगढ़ एक सुंदर इंडो-यूरोपियन आर्किटेक्चर है, जिसके अंदर कई खूबसूरत संरचनाओं का संग्रह है। जब आप इस किले के “ताड़गीट” नामक प्रवेश द्वार से किले में प्रवेश करेंगे तो आपको को बाईं ओर जयपुर शासकों समर्पित एक मंदिर मिलेगा। बता दें कि इस किले के परिसर में राठौर राजकुमार को समर्पित एक और मंदिर स्थित है। इसके साथ ही आपको एक परिसर में सवाई माधोसिंह द्वारा निर्मित एक “माधवेन्द्र भवन” भी देखने को मिलेगा। इस किले की संरचना दो मंजिला इमारत है जिन्हें राजा और उनकी बारह रानियों के लिए बनाया गया था। नौ समान अपार्टमेंट में विभाजित इस किले प्रत्येक में एक लॉबी, बेडरूम, शौचालय, रसोई और स्टोर बना हुआ है। इन सब के अलावा महल के अन्य आकर्षणों में दीवान-ए-आम भी है जहाँ राजा अपने लोगों से मिलते थे और उनकी समस्याओं और शिकायतों को सुनते थे।

और पढ़े: चोखी ढाणी जयपुर घूमने की पूरी जानकारी 

4. नाहरगढ़ किले में जैविक उद्यान – Nahargarh Biological Park In Hindi

नाहरगढ़ किले में जैविक उद्यान - Nahargarh Biological Park In Hindi

नाहरगढ़ किले के परिसर आकर्षक संरचनाओं के एक आलवा जैविक उद्यान भी स्थित है जो इस किले का एक खास आकर्षण है। नाहरगढ़ अभयारण्य के 7.2 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैले, जैविक पार्क को बारीक ग्रेनाइट और क्वार्टजाइट चट्टानों से सजाया गया है। यह पार्क अपने समृद्ध वनस्पतियों के लिए जाना जाता है जिसमें आप कई जानवरों को उनके प्राकृतिक परिवेश में देख सकते हैं। इस जैविक पार्क में एशियाई शेर, बंगाल टाइगर और भारतीय तेंदुआ भी पाए जाते हैं। सबसे खास बात तो यह है कि पार्क में पक्षियों की 285 प्रजातियां भी पाई जाती है जो पक्षी प्रेमियों को बेहद प्रसन्न करते हैं। नाहरगढ़ जूलॉजिकल यहाँ एक और ऐसा खास पर्यटक केंद्र है जहां पर एशियाई शेर, बंगाल टाइगर, पैंथर, भेड़िये, हिरण, लकड़बग्घा, मगरमच्छ, हिमालयी काला भालू, सुस्त भालू, जंगली सूअर, आदि जैसे जानवर पाए जाते हैं।

और पढ़े:  जंतर मंतर का इतिहास और घूमने की जानकारी

5. नाहरगढ़ पैलेस में मूर्तिकला पार्क – Sculpture Park At Nahargarh Palace In Hindi

नाहरगढ़ पैलेस में मूर्तिकला पार्क - Sculpture Park At Nahargarh Palace In Hindi

नाहरगढ़ किले में भव्य और आकर्षक माधवेंद्र पैलेस को महाराजा सवाई माधोसिंह द्वितीय ने अपने शानदार वापसी के रूप में बनवाया था। फिर दो शताब्दी के बाद क्यूरेटर पीटर नेगी ने इसे उत्कृष्ट मूर्तियों के साथ सुशोभित किया है। बता दें कि राजस्थान सरकार और एक एनजीओ के बीच के इस प्रोजेक्ट को 10 दिसंबर 2017 से जनता के लिए खोला गया, जो समकालीन कलाकरों के लिए अपने काम को प्रदर्शित करने का एक खास स्थान बन गया था। इस जगह पर भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय सहित 24 शीर्ष कलाकारों द्वारा बनाई गई 53 कलाकृतियां हैं।

समय: सुबह 10:00 बजे – शाम 5:30 बजे

प्रवेश शुल्क

भारतीय के लि- 50 रूपये

विदेशी के लिए शुल्क – 200 रुपये

और पढ़े: जयगढ़ किले का इतिहास और रहस्य

6. नाहरगढ़ किले के पास खाना – Local Food At Nahargarh Fort In Hindi

नाहरगढ़ किले के पास खाना - Local Food At Nahargarh Fort In Hindi

जयपुर भारत के सबसे खास पर्यटक शहरों में से एक है इसलिए आप यहां पर एक से बढ़कर एक व्यंजन का स्वाद ले सकते हैं। यहाँ पर कई ऐसे रंगीन स्थानीय भोजन उपलब्ध है जिसका स्वाद चखपर पर्यटक मोहित हो जाते हैं। महाराजाओं और महारानियों द्वारा प्रभावित एक पारंपरिक राजस्थानी थाली आप एक से बढ़कर एक चीजों का स्वाद चख सकते हैं। यहाँ के दाल बाटी चूरमा, इमरती और घेवर जैसी मिठाइयों और प्रसिद्ध चाट जैसे भव्य व्यंजनों को खाए बिना जयपुर की यात्रा अधूरी है। यहां की मिठाइयाँ बहुत लोकप्रिय हैं जिसमें घेवर, इमरती, हलवा, चोइर्मा, गजक, मूंग थाल और बहुत कुछ शामिल हैं। हालांकि जयपुर में बढ़िया भोजन के लिए कई विकल्प हैं लेकिन आप जहां के जोहरी बाज़ार की उत्तम और स्थानीय स्ट्रीट फूड का मजा भी ले सकते हैं।

7. नाहरगढ़ किला जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Nahargarh Fort In Hindi

नाहरगढ़ किला जाने का सबसे अच्छा समय - Best Time To Visit Nahargarh Fort In Hindi

अगर आप नाहरगढ़ फोर्ट जाने का प्लान बना रहें तो बात दें कि यहां जाने का सबसे अच्छा समय सर्दियों का होता है जो अक्टूबर से मार्च तक होती हैं और जयपुर शहर में यात्रा करने के लिए यह सबसे अच्छा समय है। इस मौसम में दिन बहुत अच्छे होते हैं लेकिन रातें 4 ° C से कम ठंडी होती हैं। अगर आप इन महीनों में यात्रा करते हैं तो अपने साथ ऊनी कपड़े जरुर ले जाएँ। यहां गर्मी अप्रैल से जून तक पड़ती है और इस इस दौरान मौसम बहुत गर्म और शुष्क होता है। इस समय जयपुर का तापमान 44 ° C – 45 ° C तक हो जाता है और गर्म हवाएं भी चलती हैं। जुलाई से सितंबर तक यहां मानसून का समय होता है लेकिन जयपुर में बारिश ज्यादा नहीं होती।

और पढ़े: बिरला मंदिर जयपुर हिस्ट्री और घूमने की जानकारी

8. नाहरगढ़ किला कैसे पहुँचे – How To Reach Nahargarh Fort In Hindi

नाहरगढ़ किला कैसे पहुँचे - How To Reach Nahargarh Fort In Hindi

नाहरगढ़ किला जयपुर से 19 किमी दूरी पर स्थित है। जयपुर से इस किले तक के लिए बस आसानी से मिल जायेंगी। इसके अलावा आप कैब और टैक्सी की मदद से भी पहुँच सकते हैं। जयपुर शहर रेलवे, वायुमार्ग और रोडवेज के माध्यम से देश के सभी बड़े शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

8.1 फ्लाइट से नाहरगढ़ किला कैसे पहुंचे – How To Reach Nahargarh Fort By Flight In Hindi

अगर आप आ नाहरगढ़ किला किला घूमने के लिए जयपुर जा रहे हैं तो आपको बता दें कि हवाई जहाज द्वारा जयपुर की यात्रा करना आपके लिए काफी सुविधाजनक रहेगा। सांगानेर हवाई अड्डा भारत के प्रमुख शहरों से नियमित रूप से चलने वाली कई एयरलाइनों से जुड़ा हुआ है। सांगानेर से नाहरगढ़ किले की दूरी करीब 34 किलोमीटर है, जहाँ पहुंचने के लिए आप किसी भी टैक्सी या कैब की मदद ले सकते हैं।

8.2 सड़क मार्ग से नाहरगढ़ किला कैसे पहुंचे – How To Reach Nahargarh Fort By Road In Hindi

राजस्थान राज्य सड़क परिवहन निगम (RSRTC) राजस्थान राज्य के भीतर जयपुर और प्रमुख शहरों के बीच कई लक्जरी और डीलक्स बसें चलाता है। आपको जयपुर के लिए नई दिल्ली अहमदाबाद, उदयपुर, वडोदरा, कोटा और मुंबई जैसे शहरों से नियमित बसें मिल जाएँगी।

8.3 ट्रेन से नाहरगढ़ किला कैसे पहुंचे – How To Reach Nahargarh Fort By Train In Hindi

अगर आप नाहरगढ़ किला ट्रेन से जाना चाहते हैं तो बता दें कि जयपुर रेलवे स्टेशन भारत के कई बड़े शहरों से एक्सप्रेस ट्रेनों की मदद से जुड़ा हुआ है। जयपुर रेलवे स्टेशन पहुंचने के बाद आप यहां से आप कैब या टैक्सी की मदद से अपनी मंजिल तक आसानी से पहुँच सकते हैं।

और पढ़े:  हवा महल की जानकारी और इतिहास 

9. नाहरगढ़ किला की लोकेशन का मैप – Nahargarh Fort Location

10. नाहरगढ़ किला की फोटो गैलरी – Nahargarh Fort Images

View this post on Instagram

Beauty of Jaipur nahargarh fort

A post shared by Natural_images (@natural_images160993) on

और पढ़े:

 

Write A Comment