Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Sawai Madhopur Tourism In Hindi, सवाई माधोपुर राजस्थान के प्रमुख जिलों और पर्यटन दर्शनीय स्थलों में से एक है। आपको बता दें कि इसे ‘गेटवे टू रणथंभौर’ के रूप में जाना जाता है। सवाई माधोपुर या रणथंभौर शहर की सबसे खास बात यह है कि इसने कई शासन और घटना देखी है। सवाई माधोपुर में आंशिक रूप से मैदानी और पहाड़ी इलाक़े हैं। जिले के दक्षिण और दक्षिण पूर्व हिस्से में पहाड़ियां और टूटी हुई जमीन है जो चंबल नदी की संकीर्ण घाटी को घेरते हुए बीहड़ क्षेत्र के एक विशाल ट्रैक का हिस्सा बनती है।
विंध्य और अरावली से घिरा सवाई माधोपुर एडवेंचर और इतिहास प्रेमियों के लिए स्वर्ग के समान है। रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान और यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल सूचि में शामिल रणथंभौर किला यहां का प्रमुख आकर्षण है। अगर आप सवाई माधोपुर (रणथंभौर) घूमने की योजना बना रहें हैं या फिर इसके पर्यटन दर्शनीय स्थलों की सैर करना चाहते हैं तो हमारे इस लेख को जरूर पढ़ें। यहां हम आपको सवाई माधोपुर के इतिहास और इसके पर्यटन स्थलों की जानकारी दे रहें हैं।

1. सवाई माधोपुर का इतिहास – Sawai Madhopur History In Hindi

सवाई माधोपुर का इतिहास

सवाई माधोपुर के इतिहास की बात करें तो बता दें कि चौहान राजपूत राजा गोविंदा से वाग्भट्ट, राणाकुंभ से लेकर अकबर और औरंगजेब तक लेकर कई शासकों द्वारा शहर का संरक्षण किया गया है। इन सभी शासकों को शहर के सौंदर्यीकरण और नवीनीकरण का कार्य किया है। अंतिम चौहान राव हम्मीर के शासन के दौरान रणथंभौर क्षेत्र शानदार रूप से समृद्ध हुआ। बता दें कि प्राचीन भारत में इस क्षेत्र को रणथंभौर के नाम से अधिक जाना जाता था। बाद में इसे अपना नाम सवाई माधोपुर, सवाईमाधो सिंह जी से मिला है। उन्होंने 1765 ईस्वी में शहर को इसकी वर्तमान योजना दी थी। महाराज द्वारा ब्रिटिश शासन के दौरान जयपुर और सवाई माधोपुर के बीच एक रेलवे लाइन निर्माण किया गया था। जिसके परिणामस्वरुप यह राजस्थान राज्य में एक केंद्रीय स्थान के रूप में जाना जाने लगा। आज सवाई माधोपुर भारत के लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में से एक के रूप में जाना जाता है।

और पढ़े: करौली जिले का इतिहास और आकर्षण स्थल की जानकारी 

2. सवाई माधोपुर में घूमने लायक पर्यटन और आकर्षण स्थल – Best Places To Visit In Sawai Madhopur Tourism In Hindi

अपनी सवाई माधोपुर की यात्रा के दौरान आप नीचे दिए गए पर्यटन स्थलों की सैर कर सकते हैं।

2.1 सवाई माधोपुर की ऐतिहासिक जगह रणथंभौर किला – Sawai Madhopur Me Ghumne Ki Historical Jagah Ranthambore Fort In Hindi

सवाई माधोपुर की ऐतिहासिक जगह रणथंभौर किला

रणथंभौर किला राजस्थान का एक बहुत ही शानदार किला है जो राज्य के रणथंभौर में स्थित चौहान शाही परिवार से संबध रखता है। बताया जाता है कि यह शाही किला 12 वीं शताब्दी से अस्तित्व में है और यह राजस्थान में उन लोगों के लिए एक परफेक्ट पर्यटन स्थल है जो रॉयल जीवन को देखने के इच्छुक हैं। यह आकर्षक किला रणथंभौर नेशनल पार्क के जंगलों के बीच स्थित है, जहां पर नेशनल पार्क से किले का दृश्य और किले से पार्क का दृश्य दोनों ही देखने लायक है। रणथंभौर किले को यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल घोषित किया गया है क्योंकि यह राज्य का एक खास पहाड़ी किला है। अगर आप सवाई माधोपुर की यात्रा करने जा रहें हैं तो आपको रणथंभौर किले की यात्रा जरुर करना चाहिए।

और पढ़े: रणथंभौर किले का इतिहास और घूमने की जानकारी

2.2 सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थल रणथंभौर नेशनल पार्क – Sawai Madhopur Ke Darshniya Sthal Ranthambore National Park In Hindi

सवाई माधोपुर के दर्शनीय स्थल रणथंभौर नेशनल पार्क

रणथंभौर नेशनल पार्क राजस्थान राज्य के सबसे अच्छे बाघ अभ्यारण्यों में से एक है जिसे “फ्रेंडली” बाघों के लिए जाना जाता है। रणथंभौर की समृद्ध वनस्पतियां और जीव इस स्थान का प्रमुख आकर्षण हैं। विंध्य और अरावली पहाड़ियों की तलहटी में बसे रणथंभौर को अपने बाघों, वनस्पतियों और जीवों के लिए जाना जाता है। रणथंभौर राष्ट्रीय उद्यान यहां स्थित रणथंभौर किले और आसपास की पहाड़ियों और घाटियों के साथ मिलकर इस जगह को एक अद्भुद पर्यटन स्थल बनाता है। जो भी पर्यटक वन्यजीव फोटोग्राफरों हैं उनके लिए रणथंभौर उद्यान स्वर्ग के सामान है। यह नेशनल पार्क 392 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला हुआ है और कईविदेशी प्रजातियों के लिए एक प्राकृतिक आवास की जगह है। बर्डवाचर्स के लिए यह जगह स्वर्ग के सामान है। अगर आप सवाई माधोपुर बर्डवाचर्स इस पार्क की सैर करके जानवरों को उनके प्राकृतिक आवास में देखकर अपनी यात्रा का भरपूर आनंद उठा सकते हैं।

और पढ़े: रणथंभौर नेशनल पार्क घूमने की जानकारी 

2.3 सवाई माधोपुर के धार्मिक स्थल श्री घुश्मेश्वर मंदिर – Sawai Madhopur Ke Dharmik Sthal Shree Gushmeshwar Temple In Hindi

सवाई माधोपुर के धार्मिक स्थल श्री घुश्मेश्वर मंदिर

Image Credit: Arvind Singh Shekhawat

घुश्मेश्वर मंदिर 12 भगवान शिव के ज्योतिर्लिंगों में से अंतिम माना जाता है। सवाई माधोपुर में सिवार गाँव में स्थित है और ऐसी कई पौराणिक कथाएँ हैं, जो इसके इर्द-गिर्द बुनी गई हैं। इस मंदिर की सबसे लोकप्रिय कहानी भगवान शिव की महानता के बारे में बताती है, जिन्होंने अपने भक्त घुश्मा के पुत्र को फिर से जीवित कर दिया था और उनके नाम पर घुश्मेश्वर के रूप में देवगिरी पहाड़ियों में निवास करने का वादा किया।

2.4 सवाई माधोपुर पर्यटन में घूमने लायक जगह टोंक – Sawai Madhopur Tourism Me Ghumne Layak Jagha Tonk In Hindi

सवाई माधोपुर पर्यटन में घूमने लायक जगह टोंक

टोंक राजस्थान राज्य के जयपुर शहर से 96 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक शांत शहर है जो अपने कई पर्यटन स्थलों के लिए जाना जाता है। टोंक राजस्थान के एक ऐसा ऐतिहासिक स्थल है जहां पर पहले अफगानिस्तान के ‘पठानों’ का शासन था। टोंक का प्रमुख आकर्षण सुनेरी कोठी, गोल्डन बंगला है जो बहार से दिखने में तो बेहद साधारण है लेकिन अगर से यह आश्चर्यजनक रूप से सजा हुआ है। यह टोंक शहर के सबसे पर्यटकों द्वारा सबसे ज्यादा देखे जाने वाले पर्यटन स्थलों में से एक है।

और पढ़े: टोंक जिले में घूमने लायक पर्यटन स्थल की पूरी जानकारी 

2.5 सवाई माधोपुर के पर्यटन स्थल सुनहरी कोठी टोंक – Sawai Madhopur Ke Paryatan Sthal Sunhari Kothi In Hindi

सवाई माधोपुर के पर्यटन स्थल सुनहरी कोठी टोंक

सुनहरी कोठी राजस्थान के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। सुनहरी कोठी (सोने की हवेली) राजस्थान में स्थित एक सुंदर महल है जो अपनी सुंदरता की वजह से जाना जाता है। इस महल की सबसे खास बात है कि इसके अंदर की दीवारों को सोने के पॉलिश से सजाया गया है इसके साथ ही दीवारों पर कांच की कलाकारी भी की गई है। बताया जाता है कि इस महल का निर्माण टोंक के नवाब मोहम्मद इब्राहिम अली खान (1867-1930) नृत्य और संगीत के लिए के लिए बनाया था। अगर आप टोंक की यात्रा करने जा रहें हैं तो आपको एक बार इस सुनहरी कोठी की यात्रा जरुर करना चाहिए।

और पढ़े: टोंक जिले की सुनहरी कोठी में ऐसा क्या है खास जो इसे सुनहरी कोठी बोलते है?

2.6 सवाई माधोपुर में देखने लायक जगह जामा मस्जिद – Sawai Madhopur Mein Dekhne Layak Jagah Jama Masjid In Hindi

सवाई माधोपुर में देखने लायक जगह जामा मस्जिद

Image Credit: Ankit Singh Gaur

सवाई माधोपुर के केंद्र में स्थित, जामाजजिद, राजस्थान की सबसे बेहतरीन मस्जिद है। यह मस्जिद जटिल पैटर्न के साथ अंदर और बाहर से नाजुक रूप से सजी हुई है, जो अपनी वास्तुकला के लिए जानी जाती है। इस मस्जिद का निर्माण टोंक के पहले नवाब, नवाब अमीर खां द्वारा शुरू किया गया था और उनके बेटे द्वारा 1298 में पूरा किया गया। अगर आप एक वास्तुकला प्रेमी हैं तो आपको सवाई माधोपुर की जामा मस्जिद की यात्रा जरुर करना चाहिए।

2.7 सवाई माधोपुर में घूमने लायक जगह कांधार फोर्ट – Sawai Madhopur Me Ghumne Ki Achi Jagah Khandar Fort In Hindi

सवाई माधोपुर में घूमने लायक जगह कांधार फोर्ट

Image Credit: Shatanu Kuila

कांधार खंडर किला सवाई माधोपुर से सिर्फ 45 किलोमीटर दूर स्थित है। जो सचमच देखने लायक जगह है। यहां पर शानदार किलेबंदी मेवाड़ के सिसोदिया राजाओं द्वारा लंबे समय तक शासन की गई थी जिसे बाद में मुगलों ने अपने कब्जे में ले लिया था। ऐसा कहा जाता है कि इस किले के राजा ने कभी युद्ध नहीं हारा। अगर आप सवाई माधोपुर की यात्रा करने के लिए जा रहें हैं तो आपको इस किले की यात्रा करने के लिए जरुर जाना चाहिए।

2.8 सवाई माधोपुर के आकर्षण स्थल हाथी भाटा – Sawai Madhopur Ke Aakarshan Sthal Hathi Bhata In Hindi

सवाई माधोपुर के आकर्षण स्थल हाथी भाटा

टोंक से लगभग 20-30 किलोमीटर की दूरी पर स्थित- सवाई माधोपुर राजमार्ग हाथी भाटा है। एक ही पत्थर से निर्मित यह शानदार जीवन आकार का पत्थर का हाथी है। इस स्मारक में एक शिलालेख है जो राजा नल और दमयंती की कहानी को बताता है।

2.9 सवाई माधोपुर के तीर्थ स्थल कैला देवी मंदिर – Sawai Madhopur Ke Tirth Sthal Kaila Devi Temple In Hindi

सवाई माधोपुर के तीर्थ स्थल कैला देवी मंदिर

Image Credit: Akash Lakhera

करौली से लगभग 23 किलोमीटर दूर स्थित कैला देवी मंदिर देवी को समर्पित है। यह मंदिर कैला देवी को समर्पित है जिन्हें महालक्ष्मी या धन की देवी के रूप में माना जाता है। कैला देवी साल में हर दिन भोग प्रसाद के साथ लाल झंडे चढ़ाने के लिए और मां के दर्शन करने के लिए जाते हैं। कैला देवी मंदिर की सबसे आकर्षक विशेषता मंदिर में जगतजी द्वारा किया जाने वाला जागरण है।

और पढ़े: कैला देवी मंदिर करौली के दर्शन और इसके पर्यटन स्थल की जानकारी

2.10 सवाई माधोपुर में प्रसिद्ध मंदिर श्री महावीर जी मंदिर – Sawai Madhopur Ke Prasidh Mandir Shri Mahaveer Ji Temple In Hindi

सवाई माधोपुर में प्रसिद्ध मंदिर श्री महावीर जी मंदिर

Image Credit: Dhruv R. Jain

श्री महावीर जी मंदिर राजस्थान में सवाई माधोपुर शहर से 110 किमी दूर है। पहले यह गांव चंदनपुर के नाम से जाना जाता था, लेकिन महावीर की एक प्राचीन मूर्ति की मिट्टी से खुदाई निकलने की वजह से यह स्थान जैन धार्मिक स्थल के रूप में प्रसिद्ध हो गया था और तब इसका नाम बदलकर श्री महावीर जी रख दिया गया था। बता दें कि 200 साल पहले जिस जगह से खुदाई में महावीर जी की मूर्ति मिली थी, उस जगह पर श्री महावीर जी मंदिर का निर्माण कर दिया गया। यह मंदिर इतना प्रसिद्ध है कि इस मूर्ति के दर्शन करने के लिए दूर-दूर से भक्त आते हैं।

और पढ़े: बीकानेर के करणी माता मंदिर के दर्शन की जानकारी और पर्यटन स्थल

3. सवाई माधोपुर की यात्रा पर जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Sawai Madhopur Tourism In Hindi

सवाई माधोपुर की यात्रा पर जाने का सबसे अच्छा समय

अगर आप सवाई माधोपुर जाने के अच्छे समय के बारे में जानना चाहते हैं बता दें कि यहां मार्च में गर्मी शुरू होती है और जून में समाप्त होता है। यह साल का सबसे गर्म मौसम है। इस मौसम में तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक जा सकता है। यह मौसम वन्यजीव गतिविधियों के लिए पार्क का दौरा करने का यह सबसे अच्छा समय है। यहां बारिश का मौसम जुलाई में शरू होता है और सितंबर में समाप्त होता है। इस मौसम में यहां की यात्रा करना आपके लिए मुश्किल भरा हो सकता है। सर्दियों की शुरुआत अक्टूबर में होती है और मार्च में समाप्त होती है। यह मौसम सवाई माधोपुर की यात्रा करने के लिए सबसे अच्छा समय है। इस मौसम में आप शहर के अन्य दर्शनीय स्थलों की सैर भी बड़ी आसानी से कर सकते हैं। रणथंभौर नेशनल पार्क में आप अपने छोटे बच्चों के साथ यात्रा कर सकते है और कई जानवरों को भी देख सकते हैं। पार्क में कई तरह के पक्षियों को देखने के लिए यह सबसे अच्छा समय है।

और पढ़े: नाहरगढ़ किले का इतिहास और घूमने की जानकारी

4. सवाई माधोपुर कैसे जाये – How To Reach Sawai Madhopur In Hindi

अगर आप सवाई माधोपुर की यात्रा करना चाहते हैं तो आप यहां पहुंचने के लिए हवाई या रेल और सड़क मार्ग द्वारा पहुंच सकते हैं। यह शहर सड़क या रेल द्वारा देश के अन्य राज्यों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

4.1 हवाई जहाज से सवाई माधोपुर कैसे पहुंचें – How To Reach Sawai Madhopur By Plane In Hindi

हवाई जहाज से सवाई माधोपुर कैसे पहुंचें -

हवाईजहाज से सवाई माधोपुर करने के लिए आपको जयपुर हवाई अड्डे के लिए फ्लाइट लेनी होगी, जो यहां का निकटतम हवाई अड्डा है। जयपुर हवाई अड्डे से वे सड़क या रेल द्वारा आसानी से शहर का उपयोग कर सकते हैं। जयपुर से रणथंभौर शहर के लिए कई ट्रेनें हैं। यहां पहुंचने के लिए कई टैक्सी या कार भी उपलब्ध हैं।

4.2 सवाई माधोपुर ट्रेन से कैसे पहुंचें – How To Reach Sawai Madhopur By Train In Hindi

सवाई माधोपुर ट्रेन से कैसे पहुंचें

अगर आप ट्रेन से यात्रा करने की योजना बना रहें हैं तो बता दें कि सवाई माधोपुर ट्रेन नेटवर्क द्वारा देश के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। पर्यटक दिल्ली, कोटा और ट्रेन की मदद से इस शहर तक आसानी से पहुंच सकते हैं। जयपुर इंदौर सुपर फास्ट, दयोदय एक्सप्रेस, हजरत निजामुद्दीन इंदौर एक्सप्रेस, और जयपुर चेन्नई एक्सप्रेस सहित कई ट्रेन यहां पर रूकती हैं। जयपुर इंदौर सुपरफास्ट ट्रेन की मध्य प्रदेश के अधिकांश शहरों से कनेक्टिविटी है। जन शताब्दी ट्रेन जो राजधानी राज्य दिल्ली को इस शहर से जोड़ती है यहां की यात्रा करने के लिए एक अच्छा आप्शन है।

4.3 कैसे पहुंचें सवाई माधोपुर सड़क मार्ग से – How To Reach Sawai Madhopur By Road In Hindi

कैसे पहुंचें सवाई माधोपुर सड़क मार्ग से

पर्यटक सड़क मार्ग से भी सवाई माधोपुर पहुंच सकते हैं। नेशनल हाईवे (टोंक- सवाई माधोपुर) और कोटा – लालसोट मेगा हाईवे के माध्यम से शहर तक पहुंचा जा सकता है। यह दोनों हाईवे सवाई माधोपुर को भारत प्रमुख शहरों से जोड़ते हैं। पर्यटक सड़क मार्ग द्वारा स्थानीय गांवों और कस्बों की झलक देखते हुए शहर की यात्रा कर सकते हैं।

और पढ़े: चित्तौड़गढ़ जिला के आकर्षण स्थल और घूमने की जानकारी 

5. सवाई माधोपुर का नक्शा – Sawai Madhopur Map

6. सवाई माधोपुर की फोटो गैलरी – Sawai Madhopur Images

और पढ़े:

Write A Comment