अरुणाचल प्रदेश राज्य की पूरी जानकारी – Complete Information About Arunachal Prdesh in Hindi

Arunachal Prdesh in Hindi : अरुणाचल प्रदेश राज्य पूर्वोत्तर भारत का एक प्रमुख राज्य है। अरुणाचल प्रदेश, जिसका अर्थ है “उगते सूरज की भूमि”, लंबे समय से भारतीय उपमहाद्वीप का एक मान्यता प्राप्त क्षेत्र रहा है। यह देश के चरम उत्तरपूर्वी भाग में एक पहाड़ी क्षेत्र का गठन करता है जिसकी सीमा पश्चिम में भूटान राज्य, उत्तर में चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र, म्यांमार (बर्मा),दक्षिण-पूर्व में नागालैंड और दक्षिण-पश्चिम में भारतीय राज्य असम से लगी हुई है। ईटानगर अरुणाचल प्रदेश की राज्य की राजधानी है।

अरुणाचल प्रदेश क्षेत्रफल के हिसाब से पूर्वोत्तर भारत के सेवन सिस्टर स्टेट्स में सबसे बड़ा राज्य है जिसका क्षेत्रफल 83,743 वर्ग किलोमीटर (32,333 वर्ग मील) है। 2011 की जनगणना के अनुसार, अरुणाचल प्रदेश की जनसंख्या 1,382,611 है। यह एक जातीय रूप से विविध राज्य है, जिसमें मुख्य रूप से पश्चिम में मोनपा लोग, केंद्र में तानी लोग, पूर्व में ताई लोग और राज्य के दक्षिण में नागा लोग हैं। यदि आप अरुणाचल प्रदेश राज्य के बारे में और डिटेल में जानना चाहते हैं तो इस लेख को पूरा जरूर पढ़े जिसमे आप अरुणाचल प्रदेश की कला, इतिहास, रहन सहन, वेशभूषा, जनजातियां सहित अन्य कई महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में जान सकेगें –

Table of Contents

अरुणाचल प्रदेश की राजधानी – Capital of Arunachal Pradesh in Hindi

बहुत से लोग अभी भी अरुणाचल प्रदेश की राजधानी कौन सी है ? सर्च करते है यदि आपको भी अभी तक अरुणाचल प्रदेश की राजधानी क्या है ? पता नही हैं तो हम आपको बता दे अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर है। ईटानगर अरुणाचल प्रदेश की राजधानी के साथ साथ राज्य का सबसे बड़ा शहर भी है।

अरुणाचल प्रदेश राज्य से जुड़े रोचक तथ्य और महत्वपूर्ण जानकारी – Interesting Facts And Important Information About Arunachal Pradesh in Hindi

  • अरुणाचल प्रदेश को 1972 में एक केंद्र शासित केंद्र का दर्जा दिया गया  जिसे 20 फरवरी 1987 को भारत के 24 वे राज्य के रूप में घोषित किया गया था।
  • 2011 की जनगणना के अनुसार अरुणाचल प्रदेश की जनसंख्या 1,382,611 थी।
  • अरुणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर है।
  • यह राज्य पूर्वोत्तर भारत के सेवन सिस्टर स्टेट्स का सबसे बड़ा राज्य है।
  • अरुणाचल प्रदेश का क्षेत्रफल 83,743 वर्ग कि.मी. है।
  • अरुणाचल प्रदेश में वर्तमान में 25 जिले है।
  • बता दे अरुणाचल प्रदेश राज्य को जनजातियों और विविध संस्कृतियों का केंद्र भी माना जाता है।
  • अरुणाचल प्रदेश का राजकीय पशु मिथुन या गयाल है।
  • राजकीय पक्षी ग्रेट इंडियन हॉर्निबल है।
  • अरुणाचल प्रदेश का राजकीय फूल द्रौपदी माला है।
  • राजकीय वृक्ष होलांग है।

और पढ़े : भारत के 101 रोचक तथ्य जिनके बारे में आपको पता होना चाहिए 

अरुणाचल प्रदेश का इतिहास – History of Arunachal Pradesh in Hindi

अरुणाचल प्रदेश का इतिहास – History of Arunachal Pradesh in Hindi

अरुणाचल के क्षेत्र में निवास करने वाले लोगों का इतिहास ग्यारह हजार साल पुराना है। अरुणाचल प्रदेश का आधुनिक इतिहास आज से लगभग 150 साल पुराना है जब अरुणाचल प्रदेश असम राज्य का हिस्सा था। 1912-13 में ब्रिटिश सरकार ने पूर्वोत्तर भारत के लोगों के साथ पश्चिम में बालीपारा सीमांत पथ, पूर्व में सादिया सीमांत पथ, और अबोर, मिशमी पहाड़ियों और तिरप सीमांत पथ की स्थापना के लिए समझौता किया। वे इलाके मिलकर नॉर्थ ईस्ट फ्रंटियर एजेंसी बन गए जिसे अब अरुणाचल प्रदेश राज्य के नाम से जाना जाता है।

स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद 1962 तक इस राज्य को नॉर्थ ईस्ट फ्रंटियर एजेंसी के नाम से ही जाना जाता था, उस समय तक यह राज्य संवैधानिक रूप से असम राज्य का एक हिस्सा ही था। लेकिन इसके बाद से ही अरुणाचल प्रदेश को एक अलग राज्य बनाये जाने के भरपूर प्रयास किये गये आखिरकार 1972 में अरुणाचल प्रदेश को केंद्र शासित प्रदेश के रूप में स्थापित किया  जिसका नाम बदलकर अरुणाचल प्रदेश कर दिया गया। कुछ बर्षों के बाद 20 फरवरी 1987 को अरुणाचल प्रदेश को भारतीय संघ के 24 वे राज्य के रूप में स्थापित कर दिया गया था।

अरुणाचल प्रदेश की भाषा और धर्म – Language and Religion of Arunachal Pradesh in Hindi

अरुणाचल प्रदेश का धार्मिक परिदृश्य विविधतापूर्ण है। अरुणाचल प्रदेश राज्य के अधिकतर निवासी स्वदेशी धर्म और अपने स्वयं के विशिष्ट पारंपरिक संस्थानों का पालन करते हैं, जो प्रकृति के प्रति अत्यधिक झुकाव रखते हैं। अरुणाचल प्रदेश की लगभग 30% आबादी ईसाई हैं। तिब्बती बौद्ध धर्म तवांग, पश्चिम कामेंग जिलों और तिब्बत से सटे अलग-अलग क्षेत्रों में प्रमुख है। थेरवाद बौद्ध धर्म का पालन म्यांमार सीमा के पास रहने वाले समूहों द्वारा किया जाता है। अरुणाचलियों की एक छोटी संख्या की पारंपरिक रूप से हिंदुओं के रूप में पहचान की है, हालांकि यह संख्या बढ़ सकती है क्योंकि एनिमिस्ट परंपराएं हिंदू धर्म में समाहित हो गई हैं।

यदि हम अरुणाचल प्रदेश राज्य में बोली जाने वाली भाषायों के बारे में बात करें तो आधुनिक समय का अरुणाचल प्रदेश पूरे एशिया में भाषाई रूप से सबसे समृद्ध और सबसे विविध क्षेत्रों में से एक है, जहां असंख्य बोलियों और उप-बोलियों के अलावा कम से कम 30 और संभवतः 50 अलग-अलग भाषाएं हैं। न्याशी, अपतानी, बोकार, गालो, टैगिन, आदि आम भाषाएं हैं जो तानी बोली के अंतर्गत आती हैं। मिश्मी भाषा राज्य के पूर्वी भाग में लोकप्रिय है। दिगारू, इडु और मिजू मिश्मी के अंतर्गत आते हैं और इन्हें लुप्तप्राय भाषाओं के रूप में मान्यता दी गई है। पश्चिमी और उत्तरी जिलों में, बोडिक भाषा आमतौर पर बोली जाती है जो दक्पा और तशांगला में उप-विभाजित होती है।आधुनिक अरुणाचल प्रदेश की अधिकांश भाषाएँ तिब्बती-बर्मन परिवार से संबंधित हैं।

अरुणाचल प्रदेश की संस्कृति और परम्परायें – Culture and Traditions of Arunachal Pradesh in Hindi

अरुणाचल प्रदेश अपनी प्राचीन संस्कृति के लिए जाना जाता है जो उनके लोकगीत, संगीत, चित्रकला और अन्य कला रूपों में स्पष्ट रूप से देखी जा सकती है। प्रत्येक जनजाति अपनी परंपराओं और रीति-रिवाजों का पालन करती है।नृत्य लोगों की विरासत का एक महत्वपूर्ण तत्व है और पारंपरिक नृत्य के साथ-साथ पुजारी / पुजारिन मंत्र, युद्ध नृत्य और बौद्ध संबंध के साथ अनुष्ठान नृत्य आदि ज्यादातर पुरुषों द्वारा किया जाता है। अच्छी उन्नति  और खुशियों को उत्सव के रूप में मनाने के लिए पुरुषो और महिलाओं दोनों द्वारा समूहों में पोनुंग / पोनू का प्रदर्शन किया जाता है। लोककथाओं और मंत्रों का एक समृद्ध मौखिक संग्रह, आमतौर पर एक गाथागीत, ऐतिहासिक घटनाओं, मिथकों, आत्माओं की शक्ति और देवताओं के आह्वान के रूप में गाया जाता है।

और पढ़े : भारत की 13 विचित्र और अजीबो गरीब परंपराएं जो आपको चौंका देंगी 

अरुणाचल प्रदेश की कला और शिल्प – Art and Craft of Arunachal Pradesh in Hindi

अरुणाचल प्रदेश को पारंपरिक रूप से शिल्पकार कौशल का उपहार दिया गया है जो पीढ़ियों से चला आ रहा है। अरुणाचल प्रदेश के स्थानीय पुरुष बुनाई, कालीन बनाने, लकड़ी की नक्काशी, पेंटिंग, मिट्टी के बर्तनों, आभूषण बनाने, बेंत और बांस के काम, स्मिथी के काम, टोकरी बनाने और कई अन्य में कुशल हैं।

जबकि महिलाएं हस्तशिल्प और हथकरघा बनाने में माहिर हैं।

अरुणाचल प्रदेश का रहन सहन – Arunachal Pradesh Living in Hindi

अरुणाचल प्रदेश का रहन सहन सादा और सामान्य है यहाँ के लोग मिलनसार, परिश्रमी, और प्रकृति प्रेमी है। अरुणाचल प्रदेश शहरी क्षेत्रों और आदिवासी क्षेत्रों दोनों के रहन सहन में भिन्नता पाई जाती हैं। अरुणाचल प्रदेश के ग्रामीण लोगो के जीवन यापन का मुख्य आधार कृषि है।

जबकि आदिवासी लोग टोकरियाँ बनाना, बुनाई करना, मिट्टी के बर्तन बनाना, लकड़ी की नक्काशी, पेंटिंग और बहुत कुछ करने जैसे किसी भी कौशल में उत्कृष्टता प्राप्त करते हैं जो इनके जीवन यापन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

अरुणाचल प्रदेश की जनजातियाँ – Tribes of Arunachal Pradesh in Hindi      

अरुणाचल प्रदेश की संस्कृति वास्तव में विशिष्ट है क्योंकि अरुणाचल प्रदेश में 100 से अधिक उप-जनजातियों के साथ लगभग 26 जनजातियाँ हैं। जिनमें से प्रमुख जनजातियाँ आदिस, अपटानिस, बुगुन, ह्रसोस, सिंगफोस, मिशमी, मोनपास, न्यिशिस, शेरडुकपेन्स, टैगिन्स, खमटिस, वांचोस, नोक्टेस, योबिन, खंबा और मेम्बा हैं। प्रत्येक जनजाति अपनी अपनी परंपरा और रीति-रिवाजों का पालन करती है।

और पढ़े : भारत के प्रमुख सेक्स मंदिर, जिनसे आप अनुमान लगा सकते है, की हमारे पूर्वज सेक्स को लेकर कितने सहज थे

अरुणाचल प्रदेश की वेशभूषा – Costumes of Arunachal Pradesh in Hindi

अरुणाचल प्रदेश राज्य की वेशभूषा जीवंत और बहुत रंगीन हैं, क्योंकि राज्य में पाई जाने वाली लगभग सभी जनजातियों की अपनी-अपनी वेशभूषा और गहने है। यहाँ पर महिलाओ और पुरुषो का पहनावा और वेशभूषा अपने आप में विशिष्ट है। आदिवासी लोग स्वदेशी वस्त्र स्कर्ट, शॉल, कोट पहनना पसंद करते हैं जिनको बकरी के बाल, मानव के बाल, पेड़ की छाल आदि से तैयार किया जाता हैं।

मोनपा जनजाति द्वारा पहनी जाने वाली टोपियों को गुरदम के रूप में जाना जाता है जो याक के बालों से बनी होती हैं। आदि जनजाति के पुरुष हिरण और भालू की खाल और बेंत से तराशे हुए हेलमेट पहनते हैं। जबकि सभी जनजाति की महिलाओं के वस्त्र और गहने भी अलग अलग होते है।

अरुणाचल प्रदेश में मनाये जाने वाले प्रसिद्ध उत्सव और त्यौहार – Festivals and Celebrations in Arunachal Pradesh in Hindi

अरुणाचल प्रदेश में मनाये जाने वाले प्रसिद्ध उत्सव और त्यौहार – Festivals and Celebrations in Arunachal Pradesh in Hindi

अरुणाचल एक ऐसा राज्य है जहां हर समय कोई न कोई त्योहार होता है। सबसे प्रसिद्ध जीरो म्यूज़िक फेस्टिवल हैं जो नॉर्थ ईस्ट की संगीत प्रतिभा को बढ़ावा देने के लिए सितंबर में आयोजित किए जाते हैं। सांगकेन फेस्टिवल जहां क्षेत्र के जनजाति प्रत्येक वर्ष अप्रैल में बौद्ध धर्म के सिद्धांतों का जश्न मनाने के लिए इकट्ठा होते हैं, तवांग में आयोजित लोसार दो सप्ताह तक चलने वाले उत्सव है जो नए साल का सम्मान करने के लिए मनाया जाता है। सोलुंग, एक कृषि त्यौहार जो मानसून के मौसम (जुलाई / अगस्त) के दौरान आयोजित किया जाता है, न्याकि जनजाति का न्योकुम त्यौहार, द्री त्यौहार, बौरी बूट, खान, गोमकुम गोम्पा, तमालु, मोपिन और अरान कुछ अन्य सांस्कृतिक त्यौहार हैं, जो अरुणाचल प्रदेश में बहुत उत्साह के साथ मनाये जाते हैं।

और पढ़े : भारत के राज्यों में मनाये जाने वाले प्रमुख त्योहारों की जानकारी

 अरुणाचल प्रदेश का खान पान – Food Of Arunachal Pradesh in Hindi

अरुणाचल प्रदेश का खान पान - Food Of Arunachal Pradesh in Hindi

अधिकांश उत्तर-पूर्वी स्थानों की तरह अरुणाचल प्रदेश का मुख्य भोजन चावल, मछली, मांस और सब्जियाँ हैं। व्यंजन बहुत कम मसाले का उपयोग करते हैं, और वे ज्यादातर जड़ी-बूटियों, जैविक प्रस्तुतियों का उपयोग करते हैं। मोमोज और थुकपा की अलग-अलग वेराइटी इस क्षेत्र में लोकप्रिय और व्यापक हैं। अरुणाचल प्रदेश में नाश्ते के रूप में उबले हुए चावल केक का भी व्यापक रूप से आनंद लिया जाता है। इसके अलावा यहां चीनी व्यंजन भी चलन में हैं और यह अरुणाचल प्रदेश की रसोई में अपना विशिष्ट स्थान रखता है। इनके अलावा चावल की बियर है जिसे अपांग कहा जाता है यहां काफी प्रसिद्ध है।

और पढ़े : भारत के राज्यों के प्रसिद्ध खाने की लिस्ट

अरुणाचल प्रदेश पर्यटन –  Arunachal Pradesh Tourism in Hindi

अरुणाचल प्रदेश पर्यटन -  Arunachal Pradesh Tourism in Hindi

अरुणाचल प्रदेश भारत के एक ऐसा सुंदर राज्य है, जो सुरम्य पहाड़ों, दर्रे, शांत झीलें और प्रसिद्ध मठों से भरा हुआ है। अगर आप छुट्टी मनाने के लिए भारत की सबसे अच्छी जगहें की तलाश में हैं, तो आपको अरुणाचल प्रदेश के पर्यटन स्थलों की सैर करने के लिए जरुर जाना चाहिए। अरुणाचल प्रदेश दक्षिण में असम, भूटान के पश्चिम में, उत्तर और चीन द्वारा उत्तर-पूर्व में, और म्यांमार द्वारा पूर्व में “भारत के ऑर्किड राज्य” या “बोटनिस्ट्स का स्वर्ग” के रूप में जाना जाता है। अरुणाचल प्रदेश में पक्षियों की 500 से अधिक प्रजातियाँ पाई जाती हैं, जिनमें से कई अत्यधिक लुप्तप्राय हैं। अरुणाचल प्रदेश निर्मल पहाड़ों से भरा हुआ है जो सर्दियों के दौरान पर्यटकों की यात्रा को यादगार बनाते हैं और लुहावने दृश्य प्रस्तुत करते हैं।

 प्रमुख पर्यटन स्थल

  • ईटानगर
  • बोमडिला
  • तवांग
  • नामची
  • जीरो
  • शिलांग
  • जाइरो
  • पासीघाट
  • भालुकपोंग
  • रोइंग
  • यिंगकिओनग
  • मेचुका
  • सेला पास तेजपुर
  • दिरांग
  • परशुराम कुंड
  • तेजु
  • चांगलांग
  • मेचुका
  • पखुई वन्यजीव अभयारण्य
  • गोरीचेन पीक
  • सेला दर्रा
  • माधुरी झील

और पढ़े : अरुणाचल प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी

अरुणाचल प्रदेश का मौसम – Weather of Arunachal Pradesh in Hindi

अरुणाचल प्रदेश का मौसम - Weather of Arunachal Pradesh in Hindi

बता दे अरुणाचल प्रदेश का मौसम लगभग पूरे साल सुखद मौसम का अनुभव करता है। राज्य में अक्टूबर और फरवरी के बीच सर्दियों का मौसम और मार्च और अप्रैल के बीच वसंत का मौसम होता है। जुलाई से सितंबर तक यहां पर मानसून का मौसम होता है, इस दौरान यह इलाका सुंदर हरे भरे स्वर्ग में बदल जाता है। यदि हम अरुणाचल प्रदेश घूमने जाने के लिए सबसे अच्छे समय की बात करें तो वह अक्टूबर और अप्रैल के महीनों के बीच का समय माना जाता है।

अरुणाचल प्रदेश कैसे जाये – How To Reach Arunachal Pradesh in Hindi

अरुणाचल प्रदेश की यात्रा करना कोई मुश्किल बात नहीं है क्योंकि यहां पर्यटक परिवहन के सभी साधनों आसानी से पहुँच सकते हैं। राज्य दिल्ली, मुंबई और कोलकाता सहित सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है।

फ्लाइट से अरुणाचल प्रदेश तक कैसे पहुंचे – How To Reach Arunachal Pradesh By Flight in Hindi

फ्लाइट से अरुणाचल प्रदेश तक कैसे पहुंचे – How To Reach Arunachal Pradesh By Flight in Hindi

अरुणाचल प्रदेश के लिए कोलकाता और गुवाहाटी से जुड़ा असम राज्य में लीलाबरी (उत्तर लखीमपुर) तेजपुर हवाई अड्डा निकटतम हवाई अड्डा है, जो 260 किमी (लगभग 4hours ड्राइव) है। आप दिल्ली, मुंबई और पुणे सहित सभी प्रमुख शहरों से कोलकाता और गुवाहाटी के लिए सीधी उड़ानें पकड़ सकते हैं। राज्य में टैक्सियां और बस सेवाएं आसानी से उपलब्ध हैं।

अरुणाचल प्रदेश ट्रेन से कैसे पहुंचे – How To Reach Arunachal Pradesh By Train in Hindi

अरुणाचल प्रदेश ट्रेन से कैसे पहुंचे – How To Reach Arunachal Pradesh By Train in Hindi

राज्य की राजधानी इटानगर से लगभग 43 किमी (सिर्फ एक घंटे की ड्राइव) पर हरमुटी रेलवे स्टेशन (असम) है जो अरुणाचल प्रदेश को भारत के अन्य प्रमुख शहरों से जोड़ता है।

सड़क द्वारा अरुणाचल प्रदेश कैसे जाये – How To Reach Arunachal Pradesh By Road in Hindi

सड़क द्वारा अरुणाचल प्रदेश कैसे जाये – How To Reach Arunachal Pradesh By Road in Hindi

राज्य सभी प्रमुख शहरों और आसपास के राज्यों से सड़क द्वारा आसानी से पहुंच योग्य है। अरुणाचल प्रदेश के सभी प्रमुख शहरों से मेघालय (लगभग 790 किमी), असम (560 किमी) और नागालैंड (456 किमी) से अंतर बस सेवाएं उपलब्ध हैं।

और पढ़े : भारत में राज्यों के प्रमुख पर्यटक स्थल

इस लेख में आपने अरुणाचल प्रदेश के बारे में जाना है आपको हमारा यह लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

और पढ़े : इंडिया में घूमने की 50 खूबसूरत जगह

अरुणाचल प्रदेश का मेप – Map of Arunachal Pradesh in Hindi

और पढ़े :

Leave a Comment