गुप्तकाशी के मंदिर के दर्शन और अन्य धार्मिक स्थलों की जानकारी – Guptakashi Tourism In Hindi

Guptakashi In Hindi, गुप्तकाशी का मंदिर भारत के उत्तराखंड राज्य में केदारनाथ से 47 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक प्रमुख तीर्थ स्थल है। आपको बता दें कि गुप्तकाशी हिंदू धर्म का एक प्रमुख धार्मिक स्थल है जो समुद्र तल से 1319 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है। गुप्तकाशी एक पर्यटन स्थल की तरह भी काम करता है जो चौखम्बा पहाड़ों की बर्फ से ढकी चोटियों का शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है। आपको बता दें कि गुप्तकाशी में दो प्राचीन मंदिर स्थित है जिनका नाम विश्वनाथ मंदिर और अर्धनारेश्वर मंदिर हैं। इसके अलावा यहां स्थित मणिकर्णिका कुंड (Manikarnika Kund) शहर का एक अन्य लोकप्रिय स्थान है, जो भारी संख्या में तीर्थ यात्रियों को अपनी तरफ आकर्षित करता है।

जो भी भक्त केदारनाथ की यात्रा करने के लिए यहां आते हैं उन्हें गुप्तकाशी के मंदिरों की यात्रा करने के लिए भी जाना चाहिए। अगर आप भी गुप्तकाशी तीर्थ स्थल की यात्रा करने की योजना बना रहें हैं तो इस लेख को जरुर पढ़ें, जिसमे हम आपको गुप्तकशी के इतिहास और यहां की यात्रा की पूरी जानकारी देने जा रहें हैं –

1. गुप्तकाशी का रहस्य और इतिहास – Guptakashi Mystery And History In Hindi

गुप्तकाशी का रहस्य और इतिहास
Image Credit: Meena S

गुप्तकाशी नाम से ही पता चलता है कि इसका मतलब है ‘छिपी काशी। काशी बनारस का पुराना नाम है। गुप्तकाशी को लेकर यह पौराणिक मिथक है कि इसका इतिहास महाभारत के समय का है। जब पांडव भगवान शिव को खोज रहे थे, तो वे केदारनाथ में भाग जाने से पहले गुप्तकाशी में छिप गए। जिसकी वजह से इस जगह का नाम गुप्तकाशी पड़ा।

और पढ़े: केदारनाथ मंदिर के दर्शन और यात्रा की पूरी जानकारी

2. गुप्तकाशी की यात्रा में क्या क्या कर सकते है – Things To Do In Guptakashi In Hindi

2.1 गुप्तकाशी में एडवेंचर लवर्स ले सकते हैं ट्रेकिंग का मजा – Guptakashi Mein Adventure Ke Liye Trekking In Hindi

गुप्तकाशी में एडवेंचर लवर्स ले सकते हैं ट्रेकिंग का मजा

गुप्तकाशी से हेमकुंड साहिब और फूलों की घाटी का ट्रेक यहां आने वाले लोगों को ट्रेकिंग का एक शानदार अनुभव प्रदान करता है। यहां पर पर्यटक फूलों की घाटी (Valley of Flowers ) तक की यात्रा करके शानदार अनुभव प्राप्त कर सकते हैं। आपको बता दें कि 10 किमी लंबी और 2 किमी चौड़ी, यह घाटी अप्रैल से जुलाई या अगस्त तक पर्यटकों के खुल जाती है। इस दौरान यह घाटी अपने सबसे खूबसूरत रूप में होती है। गुप्तकाशी से इस फूलों की घाटी की दूरी सिर्फ 53 किमी है।

और पढ़े: श्री हेमकुंड साहिब यात्रा की जानकारी और इसके प्रमुख पर्यटन स्थल

2.2 गुप्तकाशी टूर पर धार्मिक स्थल की ट्रैकिंग के लिए तुंगनाथ मंदिर – Guptakashi Tour Par Dharmik Sthal Ki Trekking Ke Liye Tungnath Temple In Hindi

गुप्तकाशी टूर पर धार्मिक स्थल की ट्रैकिंग के लिए तुंगनाथ मंदिर

अगर आप अपनी गुप्तकाशी यात्रा के दौरान किसी धार्मिक स्थल के लिए ट्रेकिंग करना चाहते हैं तो आप तुंगनाथ मंदिर (Tungnath temple) के लिए जा सकते हैं। आपको बता दें कि इस मंदिर के लिए ट्रेकिंग पर जाने का सबसे अच्छा समय मार्च से अक्टूबर तक है।

और पढ़े: भगवन शिव का प्राचीन तुंगनाथ मंदिर चोपता उत्तराखंड के दर्शन की पूरी जानकारी

2.3 गुप्तकाशी में एडवेंचर के लिए रिवर राफ्टिंग अलकनंदा नदी में – Guptakashi Me Adventure Ke Liye River Rafting In Hindi

गुप्तकाशी में एडवेंचर के लिए रिवर राफ्टिंग अलकनंदा नदी में

अगर आप अपने शरीर को एड्रेनालाईन से भरना चाहते हैं तो यहां पर स्थित औली स्की रिज़ॉर्ट और अलकनंदा रिवर राफ्टिंग के लिए भी जा सकते हैं जो यहां से सिर्फ क्रमश 5 और 4 घंटे की ड्राइव पर स्थित हैं।

और पढ़े : भारत में रिवर राफ्टिंग करने की 10 खास जगह

3. गुप्तकाशी में घूमने के लिए प्रमुख पर्यटन और दर्शनीय स्थल – Best Places To Visit In Gupkashi In Hindi

अगर आप गुप्तकाशी की यात्रा करने के लिए जा रहें हैं तो यहां पर नीचे दिए गए कुछ धार्मिक और दर्शनीय स्थलों को देखने के लिए जा सकते हैं।

3.1 गुप्तकाशी के धर्मिक स्थल विश्वनाथ मंदिर – Vishwanath Temple Guptakashi Me Dharmik Sthal In Hindi

गुप्तकाशी के धर्मिक स्थल विश्वनाथ मंदिर
Image Credit: Ravi Patel

विश्वनाथ मंदिर गुप्तकाशी के प्रमुख तीर्थ स्थलों में से एक है। विश्वनाथ मंदिर को काशी विश्वनाथ मंदिर के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि यह मंदिर वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर  से काफी मिलता जुलता है। आपको बता दें कि यह मंदिर ब्रह्मांड की रचना करने वाले भगवान भोलेनाथ यानि शिव को समर्पित है। इस मंदिर की संरचना की बात करें तो बता दें कि यह मंदिर पत्थरों से बना हुआ है और इसका टावर लकड़ी के फ्रेम से सजी है। अगर आप गुप्तकाशी की धार्मिक यात्रा पर जा रहें हैं इस मंदिर के दर्शन करने के लिए भी जरुर जाना चाहिए।

3.2 गुप्तकशी में देखने लायक जगह मणिकर्णिक कुंड – Guptakashi Me Dekhne Layak Jagha Manikarnik Kund In Hindi

गुप्तकशी में देखने लायक जगह मणिकर्णिक कुंड
Image Credit: Kuldeep Kumar Saxena

मणिकर्णिक कुंड विश्वनाथ मंदिर के परिसर के भीतर स्थित एक ऐसा स्थान है जहाँ शिव लिंग का निवास है। शिव लिंग को गणेश के सिर और गाय के सिर के पानी के दो स्रोत से स्नान कराया जाता है। इस जगह की सबसे ख़ास बात यह है कि ऐसा माना जाता है कि यह पानी गंगा और यमुना नदी से आ रहा है जो एक मनोरम दृश्य प्रस्तुत करता है।

3.3 गुप्तकाशी के दर्शनीय स्थल अर्धनारीश्वर मंदिर – Guptakashi Darshaniya Sthal Ardhanarishwar Temple In Hindi

गुप्तकाशी के दर्शनीय स्थल अर्धनारीश्वर मंदिर
Image Credit: Swapnil Dasture

अर्धनारीश्वर मंदिर विश्वनाथ मंदिर के बाईं ओर स्थित भगवान शिव को समर्पित एक प्रमुख मंदिर है। अर्धनारीश्वर मंदिर एक आकर्षक मंदिर है जो गुप्तकाशी के प्रमुख तीर्थस्थलों में से एक है। आपको बता दें कि इस मंदिर में स्थित मूर्ति भगवान शिव और देवी पार्वती को प्रस्तुत करने वाले आधे पुरुष और आधी महिला के रूप में। इस मूर्ति के बगल में आप स्वस्तिक का चित्र देख सकते हैं।

3.4 गुप्तकाशी का प्रमुख आकर्षण स्थल गौरीकुंड – Guptakashi Ka Pramukh Aakarshan Sthal Gaurikund In Hindi

गुप्तकाशी का प्रमुख आकर्षण स्थल गौरीकुंड

गौरीकुंड गुप्तकाशी में गौरीकुंड मंदाकिनी नदी के तट पर स्थित है। आपको बता दें कि आध्यात्मिकता और मोक्ष का प्रवेश द्वार माना जाता है। गौरी कुंड एक बेहद आकर्षक स्थल है जहाँ की सुंदरता हर किसी भी हैरान कर देती है। यह जगह भक्ति में लीन होने के लिए एक दम परफेक्ट जगह है। गौरीकुंड समुद्र तल से करीब 2000 मीटर की उंचाई पर स्थित है और इसे भक्तों द्वारा अत्यधिक माना जाता है। केदार नाथ के लिए जाने वाले वाले भक्त इस जगह को ट्रेक के लिए एक आधार शिविर मानते हैं। इसके अलावा यहां स्थित गौरीकुंड मंदिर और गौरी झील भी यहां के बेहद प्रसिद्ध स्थान है।

3.5 गुप्तकाशी में घूमने लायक जगह उखीमठ – Guptakashi Mein Ghumne Layak Jagah Ukhimath In Hindi

गुप्तकाशी में घूमने लायक जगह उखीमठ

ऊखीमठ एक लोकप्रिय स्थल है जो सर्दियों के मौसम के दौरान मध्यमहेश्वर और केदारनाथ के घर के रूप में जाना जाता है। उखीमठ गुप्तकाशी तीर्थ स्थल से सिर्फ 12 किमी की दूरी पर स्थित है, जो बर्फ से ढके राजसी हिमालय का मनोहारी दृश्य प्रस्तुत करता है। आपको बता दें कि ऊखीमठ में मुख्य रूप से केदारनाथ के मुख्य पुजारी रावल रहते हैं।

3.6 गुप्तकाशी का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल केदारनाथ – Kedarnath Guptakashi Prasidh Tirth Sthal In Hindi

 गुप्तकाशी का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल केदारनाथ

केदारनाथ हिंदू धर्म से सबसे प्रमुख मंदिरों में से एक है और उत्तराखंड में छोटी चार धाम यात्रा का एक हिस्सा है। केदारनाथ मंदिर गुप्तकाशी के पास स्थित एक प्रमुख तीर्थ स्थल है, जो भगवान शिव को समर्पित 12 ज्योतिर्लिंगों में सबसे ऊंचा है। भगवान शिव के इस आकर्षक मंदिर गौरीकुंड से एक ट्रेक के माध्यम से पहुँचा जा सकता है। आपको बता दें कि भारी बर्फबारी के कारण यह मंदिर छह महीने के लिए बंद रहता है। केदार भगवान शिव दूसरा नाम है। ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर के दर्शन करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। अगर आप गुप्तकाशी की यात्रा करने के लिए जा रहें हैं तो केदारनाथ मंदिर के दर्शन के लिए भी जा सकते हैं।

और पढ़े: केदारनाथ का इतिहास, जाने से पहले जरूर जान लें ये बातें

3.7 गुप्तकाशी का प्रसिद्ध पर्यटन स्थल चोपता – Chopta Guptakashi Ka Paryatan Sthal In Hindi

गुप्तकाशी का प्रसिद्ध पर्यटन स्थल चोपता

चोपता उत्तराखंड में स्थित एक छोटा स्थल है जो ट्रेकर्स के लिए स्वर्ग के सामान है। तुंगनाथ, देवरिया ताल और चंद्रशिला, चोपता जैसे ट्रेक का आधार शिविर मध्यवर्ती ट्रेकर्स के लिए एक आदर्श स्थल है। आपको बता दें कि पंच केदार का तीसरा मंदिर चोपता से लगभग 3।5 किमी दूर तुंगनाथ में स्थित है। चोपता के खुले घास के मैदानों में कैम्पिंग करना भी यात्रियों को एक खास अनुभव प्रदान करता है।

4. गुप्तकाशी घूमने जाने के लिए सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Guptakashi In Hindi

गुप्तकाशी घूमने जाने के लिए सबसे अच्छा समय
Image Credit: Anand Shukla

अगर आप गुप्तकाशी की यात्रा करने की योजना बना रहें है तो बता दें कि यहा की यात्रा करना का सबसे अच्छा समय ग्रीष्मकाल के दौरान है। यहां पर गर्मियों के समय मौसम बेहद सुहावना होता है। अगर आप सर्दियों के समय यहां की यात्रा करना चाहते हैं तो आपको नवंबर और दिसंबर के समय यात्रा करना चाहिए। आपको बता दें कि इस दौरान यहां का तापमान 0 डिग्री सेल्सियस तक नीचे चला जाता है। अगर आप गुप्तकाशी की यात्रा के दौरान केदारनाथ और बद्रीनाथ की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं, तो सर्दियाँ यहां आने के लिए सही नहीं है। आपको बता दें कि यम दूज के बाद मंदिर के द्वार बंद हो जाते हैं जो कि दिवाली के बाद दूसरा दिन होता है। मंदिर अक्षय तृतीया यानि मई के महीने खुलता है। 6 महीने तक भगवान शिव की मूर्ति को उखीमठ में मंदिर में रखा जाता है। सर्दियों में भारी बर्फबारी के कारण सभी ट्रैकिंग मार्ग और हेलीकाप्टर भी बंद कर दिया जाते हैं।

और पढ़े: तुंगनाथ की चंद्रशिला शिखर घूमने की पूरी जानकारी 

5. गुप्तकाशी उत्तराखंड कैसे पंहुचा जाये – How To Reach Guptakashi Uttarakhand In Hindi

गुप्तकाशी सड़क, रेल और वायु मार्ग से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। यहां का प्रमुख हवाई अड्डा जॉली ग्रांट अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो कि देहरादून में स्थित है। गुप्तकाशी का निकटतम रेलवे स्टेशन ऋषिकेश में प्रमुख भारतीय शहरों जुड़ा हुआ है। NH109 राजमार्ग गुप्तकाशी को दिल्ली, ऋषिकेश, श्रीनगर और अन्य प्रमुख शहरों से जोड़ता है। आइये अब आपको परिवहन के विभिन्न साधनों से गुप्तकाशी जाने के बारे दे रहे हैं।

5.1 हवाई जहाज द्वारा गुप्तकाशी कैसे पहुँचे – How To Reach Guptakashi By Flight In Hindi

 हवाई जहाज द्वारा गुप्तकाशी कैसे पहुँचे

जॉली ग्रांट हवाई अड्डा गुप्तकाशी के निकटतम हवाई अड्डे के रूप में काम करता है। यहां हवाई अड्डा गुप्तकाशी से करीब 190 किमी दूर स्थित है। यह हवाई अड्डा गुप्तकाशी से मोटर योग्य सड़क के माध्यम से जुड़ा हुआ है। हवाई अड्डे से आप गुप्तकाशी तक सड़क मार्ग द्वारा पहुंच सकते हैं।

5.2 सड़क मार्ग से गुप्तकाशी कैसे पहुंचे – How To Reach Guptakashi By Road In Hindi

सड़क मार्ग से गुप्तकाशी कैसे पहुंचे

अगर आप सड़क मार्ग से गुप्तकाशी जाना चाहते हैं तो आपको NH109 से होकर जाना होगा जो कि अपने पड़ोसी शहरों और राज्यों से सड़कों से जुड़ा हुआ है। पर्यटक राज्य और निजी बसों से दिल्ली से ऋषिकेश या श्रीनगर पहुँच सकते हैं। इसके बाद यहां से गुप्तकाशी पहुंच सकते हैं।

5.3 ट्रेन से गुप्तकाशी कैसे जाये – How To Reach Guptakashi By Train In Hindi

ट्रेन से गुप्तकाशी कैसे जाये

अगर आप ट्रेन से गुप्तकाशी की यात्रा करने जा रहें हैं तो बता दें कि यहां का प्रमुख रेलवे स्टेशन ऋषिकेश है। जो NH58 पर स्थित है। ऋषिकेश ट्रेनों के माध्यम से कई प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। गुप्तकाशी जाने के लिए आप स्टेशन के बाहर टैक्सी और बसें ले सकते हैं।

5.4 गुप्तकाशी में स्थानीय परिवहन – Local Transport In Guptakashi In Hindi

गुप्तकाशी में स्थानीय परिवहन

गुप्तकाशी एक बहुत छोटा शहर है जहाँ आप पैदल यात्रा या ट्रेकिंग कर सकते हैं। इसके अलावा आप एक स्थल से दूसरे स्थल जाने के लिए टैक्सी किराये पर ले सकते हैं।

और पढ़े: बागेश्वर पर्यटन में घूमने लायक खूबसूरत जगहों की जानकारी

इस आर्टिकल में आपने गुप्तकाशी की यात्रा के बारे में जाना है आपको हमारा यह लेख केसा लगा हमे कमेंट करके जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

6. गुप्तकाशी उत्तराखंड का नक्शा – Guptakashi Uttarakhand Map

7. गुप्तकाशी की फोटो गैलरी – Guptakashi Images

और पढ़े:

Featured Image Credit: Ramaprasad Ketanapalli

Leave a Comment