Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

India Gate Information In Hindi दिल्ली के सभी प्रमुख आकर्षणों में से इंडिया गेट सबसे ज्यादा देखे जाने वाले पर्यटन स्थलों में से एक है। इंडिया गेट के नाम से प्रसिद्ध अखिल भारतीय युद्ध स्मारक की भव्य संरचना विस्मयकारी है और इसकी तुलना अक्सर फ्रांस में आर्क डी ट्रायम्फ, मुंबई में गेटवे ऑफ इंडिया और रोम में कॉन्सटेंटाइन के आर्क (मेहराब) से की जाती है। दिल्ली शहर के केंद्र में स्थित, इंडिया गेट देश के राष्ट्रीय स्मारकों में सबसे लंबा यानि 42 मीटर लंबा ऐतिहासिक स्टेकचर सर एडविन लुटियन द्वारा डिजाइन किया गया था और यह देश के सबसे बड़े युद्ध स्मारक में से एक है। इंडिया गेट हर साल गणतंत्र दिवस परेड की मेजबानी के लिए भी प्रसिद्ध है। आज का हमारा आर्टिकल देश की सबसे ऊंची युद्ध स्मारक इंडिया गेट के बारे में है। इस आर्टिकल में आपको इंडिया गेट का इतिहास, डिजाइन और इंडिया गेट से जुड़े रोचक तथ्य जानने को मिलेंगे। साथ ही इस पर्यटन स्थल से जुड़े तमाम सवालों के जवाब भी आपको हमारे आर्टिकल के जरिए मिल जाएंगे।

  1. इंडिया गेट का इतिहास – History Of India Gate In Hindi
  2. इंडिया गेट डिजाइन – India Gate Design In Hindi
  3. इंडिया गेट में अमर जवान ज्योति – Amar Jawan Jyoti In Delhi In Hindi
  4. अमर जवान ज्योति हमेशा कैसे जली रहती है – How Is The Amar Jawan Jyoti Always Lit In Hindi
  5. इंडिया गेट से जुड़े रोचक तथ्य – Facts About India Gate In Hindi
  6. इंडिया गेट में क्या-क्या कर सकते हैं – Things To Do In India Gate In Hindi
  7. इंडिया गेट के आसपास के आकर्षण – Places Visit Near India Gate In Hindi
  8. इंडिया गेट पर क्या लिखा है – What Is Written On The India Gate In Hindi
  9. इंडिया गेट क्यों बनाया गया है – Why Is India Gate Built In Hindi
  10. इंडिया गेट पर कितने नाम उत्कीर्ण हैं – How Many Names Are Engraved On India Gate In Hindi
  11. इंडिया गेट का महत्व क्या है – What Is The Importance Of India Gate In Hindi
  12. इंडिया गेट की कहानी क्या है – What Is The Story Of India Gate In Hindi
  13. इंडिया गेट किस पत्थर से बना है – Which Stone Is India Gate Made Up Of In Hindi
  14. अमर जवान ज्योति कहां जलाई जाती है – Where Is The Amar Jawan Jyoti Lit In Hindi
  15. इंडिया गेट घूमने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit India Gate In Hindi
  16. इंडिया गेट कैसे पहुंचे – How To Reach India Gate In Hindi
  17. इंडिया गेट का पता – India Gate Location
  18. इंडिया गेट की फोटो – India Gate Images

1. इंडिया गेट का इतिहास – History Of India Gate In Hindi

इंडिया गेट का इतिहास - History Of India Gate In Hindi

इंडिया गेट का निर्माण वर्ष 1921 में शुरू हुआ था। यह उन सभी भारतीय और ब्रिटिश सैनिकों के लिए स्मारक बनाने की ब्रिटिश पहल का हिस्सा था, जिन्होंने प्रथम विश्व युद्ध में ब्रिटिश साम्राज्य का प्रतिनिधित्व किया था। द ड्यूक ऑफ कनॉट ने 10 फरवरी 1921 को युद्ध स्मारक की आधारशिला रखी थी और अंत में स्मारक का उद्घाटन भारत के वायसराय लॉर्ड इरविन ने 12 फरवरी 1931 को किया था। यह उन सभी सैनिकों को समर्पित था, जिन्होंने युद्ध के दौरान अपना जीवन व्यतीत किया था।

प्रथम विश्व युद्ध और तीसरे एंग्लो-अफगान युद्ध के दौरान मारे गए 80,000 भारतीय और ब्रिटिश सैनिकों को समर्पित इस स्मारक में 13,300 सैनिकों के नाम हैं। स्मारक का निर्माण 1931 में तत्कालीन वायसराय लॉर्ड अश्विन ने किया था। संरचना एडविन लुटियंस द्वारा डिजाइन की गई थी। यह ग्रेनाइट के साथ लाल और पीले सैंडस्टोन से बना है। स्मारक के नीचे आप एक अमर ज्योति देख सकते हैं जो उन सैनिकों को श्रद्धांजलि देती है जिन्होंने 1971 में भारत-पाक युद्ध में अपनी जान गंवाई थी। 1971 में बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के बाद निर्मित, अमर जवान ज्योति भारत के अनन्त अमर सैनिकों का प्रतीक है। अपनी समृद्ध ऐतिहासिक पृष्ठभूमि और आश्चर्यजनक वास्तुकला के कारण इंडिया गेट शहर में सबसे लोकप्रिय पिकनिक स्पॉट में से एक बन गया है।

2. इंडिया गेट डिजाइन – India Gate Design In Hindi

बेहतरीन युद्ध स्मारक डिजाइनरों में से एक सर एडविन लुटियंस ने नई दिल्ली में अखिल भारतीय युद्ध स्मारक के लिए डिजाइन का मसौदा तैयार किया। 625 मीटर के व्यास के साथ एक हेक्सागोनल परिसर के केंद्र पर स्थित, इंडिया गेट कुल 3,60,000 मीटर वर्ग का क्षेत्र है। यह 42 मीटर ऊँचा है और इसकी चौड़ाई 9.1 मीटर है। इंडिया गेट के टॉप पर एक गुंबद के आकार का कटोरा है जो विशेष अवसरों पर जलते हुए तेल से शायद ही कभी भरा जाता है। इंडिया गेट धार्मिक और सांस्कृतिक भावनाओं को छोड़कर एक धर्मनिरपेक्ष स्मारक है। लुटियन ने धार्मिक अलंकरण से मुक्त सार्वभौमिक वास्तुकला शैली का उपयोग किया। इसे आर्क डी ट्रायम्फ के रीमेक के रूप में भी कहा जाता है। इसके अलावा 150 मीटर की दूरी पर शानदार इंडिया गेट के ठीक पीछे, एक छतरी जैसी संरचना है, जिसे एडविन लुटियन ने भी बनाया था। इसमें लोर्ड जॉर्ज पंचम की मूर्ति थी लेकिन बाद में इसे हटा दिया गया था।

3. इंडिया गेट में अमर जवान ज्योति – Amar Jawan Jyoti In Delhi In Hindi

इंडिया गेट में अमर जवान ज्योति - Amar Jawan Jyoti In Delhi In Hindi

अमर जवान ज्योति या ज्वाला की अमर सेना का निर्माण 1971 में भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद उन सभी सैनिकों के सम्मान में किया गया था, जिन्होंने 1971 में भारत-पाक युद्ध में अपनी जान गंवाई थी। स्मारक का उद्घाटन भारत के तत्कालीन प्रधान मंत्री, इंदिरा गांधी द्वारा 26 जनवरी 1972 को किया गया था। ‘अमर जवान’ को सोने की चौपाई के चारों ओर लिपिबद्ध किया गया है। सेनोटैफ के शीर्ष पर एक उल्टे एल 1 ए 1 स्व-लोडिंग राइफल को एक सैनिक के हेलमेट के साथ रखा गया है। संगमरमर के पेडल चार कलशों से बंधे हैं, जिनमें से एक में लगातार जलती हुई ज्वाला है। स्मारक पर भारतीय सेना, भारतीय नौसेना और वायु सेना के सैनिकों का 24/7 पहरा रहता है।

4. अमर जवान ज्योति हमेशा कैसे जली रहती है – How Is The Amar Jawan Jyoti Always Lit In Hindi

“अमर जवान ज्योति” लॉ सीएनजी पर चलती है, जिसकी आपूर्ति एक पाइपलाइन के माध्यम से की जाती है। कस्तूरबा गांधी मार्ग से ज्योति तक 500 मीटर की पाइपलाइन बिछाई गई है ताकि सभी ज्योति जल सकें। ज्योति के बेस पर 4 ज्योत हैं, जिसमें से सालभर केवल एक जोत जलाई जाती है। बाकी की सभी लॉ 15 अगस्त और 26 जनवरी को जलती हैं। पांच दिन तक इन लॉ को जलाए रखने के लिए 16 एलपीजी सिलेंडरों का इस्तेमाल किया जाता है। बता दें कि एक एलपीजी सिलेंडर एक ज्योति को डेढ़ दिन तक जलाए रखने की क्षमता रखता है। स्मारक की छत पर सिलेंडरों को स्टॉक किया जाता है।

5. इंडिया गेट से जुड़े रोचक तथ्य – Facts About India Gate In Hindi

  • इंडिया गेट भारत के सबसे बड़े युद्ध स्मारकों में से एक है।
  • स्मारक का डिजाइन नई दिल्ली के मुख्य वास्तुकार एडविन लुटियंस ने किया था।
  • इंडिया गेट की आधारशिला 10 फरवरी 1921 को ड्यूक ऑफ कनॉट ने रखी थी।
  • स्मारक पर निर्माण कार्य पूरा करने में लगभग 10 साल लग गए, जो 1931 में समाप्त हुआ।
  • इंडिया गेट की दीवारों को प्रथम विश्व युद्ध और अफगान युद्धों में शहीद हुए भारतीय सैनिकों के नाम के साथ अंकित किया गया है।
  • स्मारक की ऊँचाई 42 मीटर है ।
  • इंडिया गेट, पेरिस में स्थित ‘आर्क डी ट्रायम्फ’ के समान है।
  • अमर जवान ज्योति का अनावरण 26 जनवरी 1972 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने किया था।
  • यह राष्ट्रपति और प्रधान मंत्री के लिए प्रथागत है, साथ ही राज्य के समारोहों के अवसर पर अमर जवान ज्योति पर श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए मेहमान आते हैं।
  • इंडिया गेट हरे-भरे बगीचों से घिरा हुआ है और एक झील के साफ पानी से घिरा हुआ है।
  • इंडिया गेट स्मारक दिल्ली में सबसे लोकप्रिय पिकनिक स्पॉट में से एक है ।
  • इंडिया गेट गणतंत्र दिवस परेड के आयोजन स्थल के रूप में जाना जाता है ।

6. इंडिया गेट में क्या-क्या कर सकते हैं – Things To Do In India Gate In Hindi

इंडिया गेट में क्या-क्या कर सकते हैं - Things To Do In India Gate In Hindi

  1. इंडिया गेट में आप पिकनिक माना सकतें हैं – आप इंडिया गेट के दृश्य का आनंद लेते हुए दोस्तों और परिवार के साथ यहां पिकनिक के लिए कुछ समय बिता सकते हैं।
  2. इंडिया गेट में आप सुबह की सैर कर सकते हैं – इंडिया गेट की ओर राजपथ पर सुबह की सैर दिन की शुरुआत करने का एक शानदार तरीका है।
  3. इंडिया गेट में आप फोटो और सेल्फी ले सकते हैं – फोटो और सेल्फी लेने के लिहाज से इंडिया गेट अच्छा स्थल है। सुबह हो या शाम आए दिन लोगों को यहां सेल्फी लेते और फोटोग्राफी करते देखा जाता है। यहां पर कई फोटोग्राफर भी मौजूद रहते हैं, जो इंडिया गेट के साथ आपकी फोटो क्लिक कर मिनटों में आपको फोटो उपलब्ध करा देते हैं।
  4. इंडिया गेट में स्ट्रीट फूड – इंडिया गेट के आसपास कई स्ट्रीट वेंडर हैं। मॉनसून में यहां आइसक्रीम का सेवन जरूर करें।
  5. इंडिया गेट में चिल्ड्रन पार्क – बच्चों के लिए पास में चिल्ड्रन पार्क इंडिया गेट में एक मजेदार जगह है।

7. इंडिया गेट के आसपास के आकर्षण – Places Visit Near India Gate In Hindi

7.1 दरियागंज

दरियांगज किताबों का सबसे बड़ा दिल्ली का बाजार है। इंडिया गेट से दरियागंज पहुंचने में मात्र 15 मिनट का समय लगेगा। रविवार को दरियागंज का संडे बुक मार्केट जाएं, यहां आपको हर तरह की दुलर्भ सैकंड हैंड बुक्स बहुत कम कीमत पर उपलब्ध होगी।

7.2 लाल किला

लाल किला

इंडिया गेट के साथ आप लाल किला भी देख सकते हैं। इंडिया गेट से लाल किला मात्र 5 किमी की दूरी पर है। लाल किला 1646 में शाहजहाँ द्वारा यमुना नदी के दाहिने किनारे पर बनवाया गया था। अब लाल किला विश्व धरोहर है, जिसे देखने के लिए दुनियाभर से लोग यहां आते हैं।

7.3 आंध्र भवन

आंध्र भवन एक कैंटीन है, जो इंडिया गेट से केवल 1 किमी की दूरी पर है। अगर आपको भूख लगे तो यहां सस्ते दामों पर अच्छा भोजन उपलब्ध होता है। न केवल पर्यटकों बल्कि स्थानीय लोगों के खाना खाने के लिए भी यह एक अच्छी जगह है। देखा जाए तो दिल्ली में ये सबसे कम बजट वाला रेस्टोरेंट है।

7.4 राजघाट

राजघाट

इंडिया गेट के बाद आप राजघाट देखने जा सकते हैं। इंडिया गेट से राजघाट पहुंचने में केवल 10 मिनट लगेंगे। यह जगह महात्मा गांधी की स्मारक है। 1948 में महात्मा गांधी के दाह संस्कार के स्थान पर काले संगमरमर का मंच बनाया गया है। यहां एक अनंत ज्योति भी जल रही है।

7.5 जनपथ मार्केट

इंडिया गेट देखने के बाद अगर आपको बढ़िया और बजट वाली शॉपिंग करनी हो तो जनपथ मार्केट अच्छा ऑप्शन है। इंडिया गेट से जनपथ केवल 1.7 किमी दूर है। यहां आपको गहने, कढ़ाई वाले कुशन, डिजाइनर बैग्स, कपड़े, कश्मीरी दुप्पटे आदि सस्ती कीमत पर मिलेंगे।

7.6 लोधी गार्डन

लोधी गार्डन

इंडिया गेट से लोधी गार्डन के लिए मात्र 30 मिनट का रस्ता है। 90 एकड़ के इस गार्डन में आप 15वीं शताब्दी की इमारतों और मकबरों से गुजरेंगे। यह एक पार्क है, जहां शाम को लोग समय बिताने आते हैं।

8. इंडिया गेट पर क्या लिखा है – What Is Written On The India Gate In Hindi

इंडिया गेट पर बड़े-बड़े अक्षरों में अमर जवान ज्योति (अमर सैनिक की लौ) लिखा है। नई दिल्ली में राजपथ पर स्थित, इंडिया गेट (जिसे मूल रूप से ऑल इंडिया वॉर मेमोरियल कहा जाता है) को एडविन लुटियंस ने प्रथम विश्व युद्ध और अफगान युद्धों में शहीद हुए भारतीय सैनिकों को याद करने के लिए बनवाया था।

9. इंडिया गेट क्यों बनाया गया है – Why Is India Gate Built In Hindi

इंडिया गेट स्मारक को भारत की धरोहर माना जाता है और यह नई दिल्ली में राज पथ पर स्थित है। इंडिया गेट सर एडविन लुटियन द्वारा डिजाइन किया गया था और इसे 1931 में बनाया गया था और शुरुआत में इसे ‘ऑल इंडिया वॉर मेमोरियल’ नाम दिया गया था।  इंडिया गेट को भारत पाक युद्ध में शहीद हुए सैनिकों के सम्मान के लिए बनाया गया था।

10. इंडिया गेट पर कितने नाम उत्कीर्ण हैं – How Many Names Are Engraved On India Gate In Hindi

इंडिया गेट की दीवारों पर लगभग 80,000 भारतीय भारतीय सैनिकों के नाम उकेरे गए हैं।

11. इंडिया गेट का महत्व क्या है – What Is The Importance Of India Gate In Hindi

इंडिया गेट का महत्व क्या है - What Is The Importance Of India Gate In Hindi

इंडिया गेट 80,000 से अधिक भारतीय सैनिकों के स्मरणोत्सव में बनाया गया स्मारक है, जो प्रथम विश्व युद्ध के दौरान मारे गए थे। सुरक्षा कारणों से स्मारक पर शहीदों के नाम पढ़ने के लिए पहुंचने पर रोक है। स्मारक 42 मीटर ऊंचे मेहराब का प्रतीक है और इसे प्रसिद्ध वास्तुकार एडविन लुटियन द्वारा डिजाइन किया गया था।

12. इंडिया गेट की कहानी क्या है – What Is The Story Of India Gate In Hindi

इंडिया गेट भारत के सबसे बड़े युद्ध स्मारकों में से एक है। स्मारक का डिजाइन नई दिल्ली के मुख्य वास्तुकार एडविन लुटियंस ने किया था। दिसंबर 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में शहीद हुए सैनिकों की देश को याद दिलाने के लिए अमर जवान ज्योति दिन-रात जलती है।

13. इंडिया गेट किस पत्थर से बना है – Which Stone Is India Gate Made Up Of In Hindi

इंडिया गेट बलुआ पत्थर से बना है, जो एक प्रकार की तलछटी चट्टान है। इंडिया गेट मुख्य रूप से पीले और लाल बलुआ पत्थर से बना है, जिन्हें खासतौर से भरतपुर से मंगवाया गया था।

14. अमर जवान ज्योति कहां जलाई जाती है – Where Is The Amar Jawan Jyoti Lit In Hindi

अमर जवान ज्योति इंडिया गेट के 42 मीटर ऊंचे राजसी मेहराब के नीचे जलती है। यह हमारे अनसुने युद्ध नायकों की स्मृति को सम्मानित करने के लिए जलाई जाती है। पूरे साल लौ को जीवित रखा जाता है।

15. इंडिया गेट घूमने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit India Gate In Hindi

इंडिया गेट घूमने का सबसे अच्छा समय - Best Time To Visit India Gate In Hindi

दिल्ली में गर्मी और सर्दियाँ असहनीय होती हैं। दिल्ली जाने के लिए अनुकूल महीने फरवरी से अप्रैल और अगस्त से नवंबर हैं। पूरे दिन कभी भी इंडिया गेट का आनंद लिया जा सकता है। रात का नजारा परफेक्ट लाइटिंग के साथ लुभावना दिखता है। इंडिया गेट को स्वतंत्रता दिवस (15 अगस्त) या गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) पर दुल्हन की तरह सजाया जाता है, जिससे यह दृश्य देखने योग्य होता है।

16. इंडिया गेट कैसे पहुंचे – How To Reach India Gate In Hindi

फ्लाइट से इंडिया गेट कैसे पहुंचे

दुनिया की सभी प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय एयरलाइंस दिल्ली के माध्यम से उड़ान भरती हैं। इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा मध्य दिल्ली के 23 किमी दक्षिण पश्चिम में स्थित है और पालम में घरेलू टर्मिनल अंतरराष्ट्रीय टर्मिनल से 5 किमी दूर है। हवाई अड्डे के कोच दिल्ली परिवहन निगम से इंटर स्टेट बस टर्मिनस (आईएसबीटी), कश्मीरी गेट और पूर्व सैनिकों की एयरलिंक परिवहन सेवा द्वारा कनॉट प्लेस तक संचालित होते हैं।

ट्रेन से इंडिया गेट कैसे पहुंचे

दिल्ली भारतीय रेल नेटवर्क का केंद्र है। शहर में नई दिल्ली और पुरानी दिल्ली में दो प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं। नई दिल्ली स्टेशन कनॉट प्लेस से पैदल दूरी पर है और मुख्य दिल्ली स्टेशन कनॉट प्लेस से लगभग 7 किमी दूर है। इंडिया गेट जाने के लिए आप दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन स्टेशन या फिर नई दिल्ली स्टेशन उतर सकते हैं। यहां से इंडिया गेट तक पहुंचने का सबसे आरामदायक विकल्प मेट्रो है। नई दिल्ली से निकटतम मेट्रो स्टेशन केंद्रीय सचिवालय मेट्रो स्टेशन है, जो येलो लाइन पर पड़ता है। अन्य मेट्रो स्टेशन प्रगति मैदान, रेस कोर्स और बाराखंभा हैं। इंडिया गेट तक पहुंचने के लिए आप मेट्रो स्टेशन के बाहर से ऑटो रिक्शा या टैक्सी ले सकते हैं। वैकल्पिक रूप से आप शहर के किसी भी बिंदु से डीटीसी बस ले सकते हैं। पटियाला हाउस की ओर जाने वाली बसें भी इंडिया गेट की ओर जाती हैं। पर्यटकों को वाहनों को स्मारक तक ले जाने की अनुमति नहीं है। इसलिए, शाहजहां रोड के पास इंडिया गेट पर्यटकों के लिए एक अधिकृत कार पार्किंग क्षेत्र उपलब्ध है। यह स्मारक से लगभग 600 मीटर की दूरी पर है।

बस से इंडिया गेट कैसे पहुंचे

दिल्ली जाने के लिए उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान के सभी प्रमुख स्थानों से बसें उपलब्ध हैं। दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) रेलवे स्टेशनों से शहर के विभिन्न हिस्सों में विशेष सेवाएं संचालित करता है।

और पढ़े: क़ुतुब मीनार की जानकारी – Qutub Minar Information In Hindi

17. इंडिया गेट का पता – India Gate Location

18. इंडिया गेट की फोटो – India Gate Images

View this post on Instagram

Such a lovely place.😍😍😍😍😍

A post shared by Saikat Roy (@saikatroy916) on

और पढ़े: लाल किला दिल्ली के बारे में पूरी जानकारी – Red Fort Delhi Information In Hindi

Write A Comment