Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Bhowali In Hindi, भवाली हिल स्टेशन उत्तराखंड राज्य में नैनीताल के निकट स्थित हैं और पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता हैं। भवाली समुद्र तल से लगभग 1706 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। भवाली पर्यटन स्थल अपने स्वादिष्ट आलूबुखारा, सेब, आड़ू, स्ट्रॉबेरी और खुबानी फलो के लिए प्रसिद्ध हैं। प्राकृतिक सुंदरता के साथ साथ अपने झरनों, झीलों, बागों, खेतों और चाय सम्पदा के लिए भी जाना जाता हैं। अल्मोड़ा, गोलू देवता मंदिर और बागेश्वर के अलावा भी कई आकर्षित और घूमने वाली जगह भवाली में स्थित है, जहां पर्यटक भारी संख्या में घूमने के लिए जाते हैं।

यदि आप भी उत्तराखंड राज्य के इस छोटे हिल स्टेशन भवाली के बारे में बड़ी बड़ी बाते जानना चाहते है तो हमारे इस लेख को पूरा जरूर पढ़े।

1. उत्तराखंड का सबसे खुबसूरत भवाली हिल स्टेशन के प्रमुख पर्यटन और आकर्षण स्थल – Best Tourist Places In Bhowali In Hindi

भवाली (भुवाली) पर्यटन स्थल उत्तराखंड राज्य में स्थित है और खूबसूरत पर्यटन स्थलों को अपनी भूमि समेटे हुए है। भवाली की यात्रा के दौरान आप इन आकर्षित पर्यटन स्थलों पर भी घूमने जा सकते हैं।

और पढ़े: उत्तराखंड के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

1.1 भोवाली का प्रमुख धार्मिक स्थल कैंची धाम – Bhowali Ka Pramukh Dharmik Sthal Kainchi Dham In Hindi

भोवाली का प्रमुख धार्मिक स्थल कैंची धाम

Image Credit: Ankur Chaudhary

भवाली का दर्शनीय स्थल कैंची धाम पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता हैं। यहाँ एक लोकप्रिय नीब करोरी महाराज मंदिर और आश्रम हैं जोकि पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र हैं। यह मंदिर देश-विदेश के पर्यटकों को अपनी ओर खीचता हैं और भुवाली से लगभग 17 किलोमीटर की दूरी पर नैनीताल हिल स्टेशन हैं जहां पर्यटक प्राकृतिक सुन्दरता का आनंद ले सकते हैं।

1.2 भवाली के आकर्षण स्थल श्यामखेत टी गार्डन – Shyamkhet Tea Garden Bhowali Ka Aakarshan Sthal In Hindi

भवाली के आकर्षण स्थल श्यामखेत टी गार्डन

भवाली में देखने लायक जगह श्यामखेत टी गार्डन ऐसे पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता हैं जोकि चाय पत्ती या चाय पीने के शौकीन हैं। भवाली में गोलू देवता मंदिर के निकट के स्थित श्यामखेत टी गार्डन में जैविक चाय के साथ साथ चाय की पत्तियों का निर्यात किया जाता हैं।

1.3 भवाली में घूमने लायक जगह रामगढ़ – Bhowali Me Ghumne Layak Jagah Ramgarh In Hindi

भवाली में घूमने लायक जगह रामगढ़

भवाली पर्यटन में घूमने के लिए रामगढ के शानदार जगह हैं जोकि अपनी प्राकृतिक सुंदरता और मनोरम दृश्यों के लिए जाना जाता हैं। उत्तराखंड राज्य के नैनीताल में स्थित रामगढ समुद्र तल से 1789 मीटर की ऊंचाई पर स्थित हैं। रामगढ में बर्फ से ढकी पर्वत मालाए, सेब, आलूबुखारा, आड़ू और खुबानी की वजह से रामगढ को “कुमाऊं का फल का कटोरा” नाम से भी जाना जाता हैं।

1.4 भवाली हिल स्टेशन में बाज़ार से क्या खरीदारी करे – Shopping In Bhowali Hill Station In Hindi

भवाली हिल स्टेशन में बाज़ार से क्या खरीदारी करे

भवाली में खारीदारी करने के अच्छे अवसर है खास कर फल प्रेमियों के लिए तो भुवाली का बाजार किसी स्वर्ग से कम नही हैं। भवाली के बाजार में मिलने वालो स्वादिष्ट फल खुबानी, आलूबुखारा, स्ट्रॉबेरी, आड़ू और सेब आदि की भरमार होती हैं। इसकी अलावा यहाँ आने पर्यटक जैम, अचार, स्प्रेड और फ्रूट क्रेश की खरीदारी करना बहुत पसंद करते हैं।

1.5 भोवाली की यात्रा के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल भीमताल – Bhimtal Bhowali Prasidh Paryatan Sthal In Hindi

भोवाली की यात्रा के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल भीमताल

भुवाली (भवाली) पर्यटन के दौरान आप भीमताल के आकर्षण का भी आनंद ले सकते हैं जोकि नैनीताल पर्यटन स्थल से लगभग 23 किलोमीटर की दूरी पर स्थित हैं। भीमताल की यात्रा में आपको आकर्षित झील, झरने, बांज, देवदार के पेड़ और घने जंगल एखने को मिलेंगे। पैडल बोटिंग, बिडिंग और नेचर वॉक के लिए भी भीम ताल की लौकप्रियता बहुत अधिक हैं। भीमेश्वर मंदिर भीमताल का प्रमुख आकर्षण हैं।

और पढ़े: भीमताल के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल की जानकारी

1.6 भवाली का दर्शनीय स्थल सत्तल पर्यटन उत्तराखंड – Bhowali Ka Darshaniya Sthal Sattal Tourism In Hindi

भवाली का दर्शनीय स्थल सत्तल पर्यटन उत्तराखंड

भवाली में पिकनिक मनाने के लिए एक शानदार जगह सत्तल के रूप में जानी जाती हैं। सत्तल पर्यटन ताजे पानी की सात झीलों का एक आकर्षित स्थान हैं। इन झीलों को पन्ना, राम, सीता, लक्ष्मण, भरत, नलद्यमंती ताल, और सुक्खा ताल के नाम से जाना जाता हैं। पर्यटकों को सत्तल में देखने के लिए प्राकृतिक सुंदरता, आकर्षित वादियाँ, रंग बिरंगे पक्षियों का झुण्ड आदि मिलते हैं। सत्तल भवाली के कुमाऊ क्षेत्र में स्थित है और समुद्र तल से लगभग 1370 में मीटर की ऊंचाई पर स्थित हैं।

और पढ़े: सत्ताल घूमने की जानकारी और इसके प्रमुख पर्यटन स्थल

1.7 भवाली पर्यटन में देखने लायक खुबसूरत जगह नैनीताल शहर – Bhowali Paryatan Mein Dekhne Layak Khubsurat Jagah Nainital Tourism In Hindi

 भवाली पर्यटन में देखने लायक खुबसूरत जगह नैनीताल शहर

भवाली पर्यटन का सबसे खूबसूरत स्थान नैनीताल पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करता हैं। नैनीताल हिल स्टेशन उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र में पर्वतमाला में स्थित हैं और समुद्र तल से लगभग 1938 मीटर की ऊँचाई पर स्थित हैं। नैनी झील के भीतर स्थित इस आकर्षित शहर को अंग्रेजों द्वारा कुम्ब्रियन झील से तुलना के अनुसार नैनी झील नाम दिया। नैनीताल के प्रमुख आकर्षण में शामिल हनीमून डेस्टिनेशन, नैनी झील, झीलों में नौका विहार, स्नो व्यू प्वाइंट, तिब्बती मार्केट, रोपवे की सवारी, स्थानीय व्यंजन और मॉल रोड पर खरीदारी का अनुभव अलग ही होता हैं।

और पढ़े:  नैनीताल में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल की जानकारी

1.8 भवाली उत्तराखंड के दर्शनीय स्थल श्री औरोबिन्दो आश्रम – Bhowali Uttarakhand Ke Darshaniya Sthal Aurobindo Ashram In Hindi

भवाली उत्तराखंड के दर्शनीय स्थल श्री औरोबिन्दो आश्रम

Image Credit: Nikhil Vasani

भवाली पर्यटन स्थलों की यात्रा करने के दौरान आप श्री औरोबिन्दो आश्रम में आराम कर सकते हैं। आराम करने, योग करने, मन और आत्मा को एक बार फिर से तरोताजा करने के लिए यह एक शानदार स्थान हैं। श्री औरोबिन्दो आश्रम घने जंगल के बीच स्थित शांति और प्राकृतिक माहोल के लिए जाना जाता हैं।

1.9 भुवाली के धार्मिक स्थल गोलू देवता मंदिर – Bhowali Ke Dharmik Sthal Golu Devta Temple In Hindi

भुवाली के धार्मिक स्थल गोलू देवता मंदिर

Image Credit: Shubham Agarwal

भुवाली के दर्शनीय स्थानों में से एक गोलू देवता मंदिर भक्तो की आस्था का केंद्र बना हुआ हैं। यह मंदिर भगवान शिव के एक रूप गोलू को समर्पित हैं। गोलू देवता चितई मंदिर का निर्माण चांद शासन के दौरान करबाया गया था। मंदिर का प्रमुख आकर्षण यहाँ कि घंटियाँ हैं। इस मंदिर को एक लाख घंटियों का मंदिर भी कहा जाता हैं।

1.10 भावली टूरिज्म में घूमने की अच्छी जगह रानीखेत – Bhowali Tourism Me Ghumne Ki Achi Jagah Ranikhet In Hindi

भावली टूरिज्म में घूमने की अच्छी जगह रानीखेत

भावली हिल स्टेशन की यात्रा के दौरान आप रानीखेत की यात्रा पर भी जा सकते हैं। जोकि कुमाऊँ क्षेत्र का प्रमुख आकर्षण हैं और समुद्र तल से 1829 मीटर की ऊंचाई पर स्थित हैं। रानीखेत घूमने के लिए पर्यटक भारी संख्या में आते हैं और यहाँ होने वाली गतिविधियों का लुत्फ़ उठाते हैं।

और पढ़े: रानीखेत के 5 प्रमुख दर्शनीय स्थल

1.11 भोवाली का फेमस टूरिस्ट प्लेस फोल्क कल्चर संग्रहालय – Folk Culture Museum Bhowali Tourist Place In Hindi

भोवाली का फेमस टूरिस्ट प्लेस फोल्क कल्चर संग्रहालय

Image Credit: Rohit Raj

भोवाली का मशहूर फोल्क कल्चर संग्रहालय भीमताल में स्थित हैं। फोल्क कल्चर संग्रहालय को ‘लोक सांस्कृतिक संग्राहलय’ के रूप में भी जाना जाता है। डॉ यशोधर मठपाल द्वारा स्थापित किया गया यह एक निजी स्वामित्व वाला संग्रहालय है जोकि वर्ष 1983 में स्थापित किया गया था। इस संग्रहालय में प्राचीन फोटो और तस्वीरों को संग्रहित करके रखा गया हैं।

2. भवाली नैनीताल घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Bhowali In Hindi

भवाली नैनीताल घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

भवाली नैनीताल की यात्रा के लिए सबसे अच्छा समय फरवरी से अप्रैल और सितम्बर से अक्टूबर के बीच का माना जाता हैं। क्योंकि इस मौसम के दौरान पर्यटक भवाली के प्रमुख पर्यटन स्थलों का दौरा बिना किसी परेशानी के कर सकते हैं।

3. भवाली हिल स्टेशन में कहां रुके – Where To Stay In Bhowali In Hindi

भवाली हिल स्टेशन में कहां रुके

भवाली और इसके प्रमुख पर्यटन स्थलों की यात्रा करने के बाद यदि आप यहाँ किसी अच्छे निवास स्थान की तलाश कर रहे हैं। तो हम आपको बता दें कि भवाली में आपको लो-बजट से लेकर हाई-बजट की रेंज होटल और रिसोर्ट मिल जाएंगे, जहां आप रुक सकते हैं।

  • विस्टा बैकपैकर्स हॉस्टल (Vista Backpackers Hostel)
  • मैगपाई रिट्रीट (Magpie Retreat)
  • होटल अवलोकन (Hotel Avlokan)
  • द पाइन क्रेस्ट (The Pine Crest)
  • ए हम्बल ड्वेलिंग इन भवाली (A Humble Dwelling IIn Bhowali)

4. भोवाली हिल स्टेशन का प्रसिद्ध स्थानीय भोजन – Famous Food Of Bhowali In Hindi

भोवाली हिल स्टेशन का प्रसिद्ध स्थानीय भोजन

भोवाली अपने खूबसूरत पर्यटन स्थलों के लिए तो प्रसिद्ध है ही लेकिन यहाँ का भोजन भी बहुत स्वादिष्ट होता हैं। भोवाली के लजीज भोजन का स्वाद आपको उंगलिया चाटने पर मजबूर कर देगा। भोवाली पर्यटन में भोजन का मजा यहाँ स्थित कुछ स्थानीय ढाबो और होटलों पर लिया जा सकता हैं जोकि लजीज भोजन की पेशकस करते हैं। यह आप को  प्रसिद्ध भोजन है रास (यह कई पकवानों से बनी एक डिश होती है) इसके अलावा बावड़ी भट्ट की चुरानी, आलू के गुटके (उबले आलू की मसालेदार डिश) अरसा एक स्वीट डिश, गुलगुला एक स्वीट स्नैक भी भोवाली नैनीताल में बहुत फेमस हैं।

और पढ़े: घांघरिया के फेमस दर्शनीय स्थल घूमने की जानकारी

5. भवाली उत्तराखंड कैसे जाए – How To Reach Bhowali Uttarakhand In Hindi

भवाली की यात्रा पर जाने के लिए आप फ्लाइट, ट्रेन और बस में से किसी का भी चुनाव कर सकते हैं।

5.1 फ्लाइट से भवाली नैनीताल कैसे जाए – How To Reach Bhowali By Flight In Hindi

फ्लाइट से भवाली नैनीताल कैसे जाए

भवाली का दौरा करने के लिए यदि आपने हवाई मार्ग का चुनाव किया हैं तो हम आपको बता दें कि भवाली का सबसे निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर में स्थित है। जोकि भवाली से लगभग 63 किमी की दूरी पर स्थित है। पंतनगर और दिल्ली के बीच नियमित रूप से उड़ाने भरी जाती हैं। हवाई अड्डे से आप बस या यहाँ के स्थानीय साधनों की मदद से भावोली पहुँच जाएंगे।

5.2 ट्रेन से भवाली कैसे पहुचे – How To Reach Bhowali By Train In Hindi

ट्रेन से भवाली कैसे पहुचे

भवाली की यात्रा के लिए यदि आपने रेल मार्ग का चुनाव किया हैं। तो हम आपको बता दें कि भवाली का सबसे निकटतम रेल्वे स्टेशन काठगोदाम (Kathgodam ) जोकि शहर से लगभग 29 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। स्टेशन से आप यहाँ चलने वाले स्थानीय साधन जैसे – ऑटो-रिक्शा, बसें और निजी टैक्सियाँ की मदद से भवाली आसानी से पहुँच जाएंगे।

5.3 बस से भवाली कैसे जाए – How To Reach Bhowali By Bus In Hindi

 बस से भवाली कैसे जाए

यदि भवाली जाने के लिए आपने बस का चुनाव किया हैं। तो हम आपको बता दें कि भवाली सड़क मार्ग के माध्यम से अपने आसपास के शहरो से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ हैं और काठगोदाम और हल्द्वानी भवाली के सबसे निकटतम बस स्टैंड हैं। इसलिए आप बस या अपने निजी साधनों की मदद से सड़क मार्ग से भी भवाली पर्यटन स्थल घूमने के लिए जा सकते हैं।

और पढ़े: बिनसर हिल स्टेशन के प्रमुख पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी

6. भोवाली उत्तराखंड का नक्शा – Bhowali Uttarakhand Map

7. भवाली की फोटो गैलरी – Bhowali Images

View this post on Instagram

Bhowali Range

A post shared by harry mann (@harry0126) on

View this post on Instagram

Beauty in the Oak Forest

A post shared by Mayank Panday (@nature_calling_diary) on

और पढ़े:

Write A Comment