नैनी झील और इसके आसपास घूमने की जगहें – Complete information About Naini Lake in Hindi

Naini Lake in Hindi : उत्तराखंड के खूबसूरत हिल्स स्टेशन नैनीताल के केंद्र में स्थित नैनी झील ताजे पानी की सुरम्य झील है जो नैनीताल के प्रमुख पर्यटक आकर्षणों में से एक है। उत्तर पश्चिम में नैनी पीक, दक्षिण पश्चिम में टिफिन प्वाइंट और उत्तर में बर्फ से ढकी चोटियों से घिरी, नैनी झील विशेष रूप से सुबह और सूर्यास्त के दौरान लुभावने दृश्य प्रदान करती है जो बेहद मन भावनीय होते है। यह नौका विहार, पिकनिक और शाम की सैर के लिए सबसे प्रसिद्ध है जो स्थानीय लोगो के साथ साथ बड़ी संख्या में पर्यटकों और हनीमून कपल्स को अपनी तरफ आकर्षित करती है।

सात पहाड़ियों से घिरी इस झील की प्राकृतिक सुन्दरता देखने योग्य है जो बकाई किसी जन्नत से कम नही है। यदि आप शहर की हलचल से दूर कही अपने फैमली या वाइफ के साथ रोमांटिक और क्वालिटी टाइम स्पेंड करना चाहते है तो नैनीताल की गौद में बसी इस सुन्दर झील से अच्छी और कोई जगह हो ही नही सकते है। इस झील से कई किंवदंतीयां भी जुड़ी हुई है जो इसे और भी दिलचस्प बनाती है। इस आर्टिकल में हम आपको नैनी झील और इसकी यात्रा से जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में बताने वाले है इसीलिए इस आकर्षक झील के बारे में जानने के लिए इस लेख को पूरा जरूर पढ़े –

Table of Contents

नैनी झील से जुड़े कुछ रोचक तथ्य और महत्वपूर्ण जानकारी – Some Interesting Facts Related To Naini Lake in Hindi

  • नैनीताल झील सात पहाड़ियों से घिरी हुई है जो नुकीले मुकुट का आधार बनाती है।
  • बता दे नैनी झील की खोज सर्वप्रथम 1839 में, एक यूरोपीय व्यवसायी पी. बैरॉन ने की थी।
  • हर साल जून के महीने में नैनी झील में वार्षिक किंगफिशर नौकायन प्रतियोगिता आयोजित की जाती है।
  • अक्टूबर और नवंबर के महीनों के दौरान, हर साल पर्यटन विभाग द्वारा कुमाऊं उत्सव का आयोजन भी किया जाता है।
  • बता दे इस झील माता सती को स्थापित 51 शक्तिपीठो में एक महत्वपूर्ण स्थल माना जाता है जहाँ माता सती के नैना या आँख गिरी थी।

नैनीताल झील का ऐतिहासिक महत्व – Historical Significance of Nainital lake in Hindi

हिंदू धर्म ग्रंथों जैसे कि स्कंद पुराण में ‘त्रिरषि सरोवर’ नामक एक झील का उल्लेख है, जिसे नैनी झील माना जाता है। यह नाम अत्रि, पुलस्त्य और पुलाहा नामक तीन महान ऋषियों के नामों से लिया गया था, जो यहां ध्यान करते थे। माना जाता है उन्होंने यहाँ एक गड्ढा खोदा जो जल्द ही पानी से भर गया जिसके बाद इसे नैनी झील या त्रिरिशी सरोवर के रूप में जाना जाने लगा। ऐतिहासिक रिकॉर्ड के अनुसार, 1839 में, एक यूरोपीय व्यवसायी पी. बैरॉन ने नैनी झील की खोज की थी। कहा जाता है वह एक बार शिकार के लिए निकले थे जिस दौरान उन्हें गलती से नैनी झील मिल गई और वो इसकी सुंदरता को देखकर मोहित हो गए। तब उन्होंने अंग्रेजों के लिए गर्मियों में वापसी के रूप में झील के किनारे पर एक यूरोपीय कॉलोनी बनाने का फैसला किया।

और पढ़े : वेलेंटाइन डे पर जाने के लिए इंडिया के रोमांटिक प्लेसेस

नैनी झील का इतिहास और पौराणिक कथाएं – Mythological Story Of Nainital Lake In Hindi

माना जाता है कि नैनी झील भारत के 51 शक्तिपीठों में से एक है। नैनीझील का इतिहास लोकप्रिय देवी सती की मृत्यु की कहानी पर आधारित है। जब देवी सती की मृत्यु हई तो शोक से बाहर आते हुए भगवान शिव सती के शव को लेकर ब्रह्मांड घूमते रहे। तब भगवान शिव ने सुदर्शन चक्र का उपयोग करते हुए देवी सती के शरीर को 52 हिस्सों में काट दिया, जो पृथ्वी स्थल पर गिरकर पवित्र स्थल बन गए, लेकिन जिस स्थान पर देवी सती की आंखें गिरी थी, उसे आंख की नैन ताल या झील कहा जाने लगा। इसके बाद से देवी शक्ति की पूजा नैना देवी के रूप में की जाती है। जिसे स्थानीय लोग नैनी देवी माता मंदिर के रूप में जानते हैं।

नैनी झील की जियोग्राफी  – Geography of Naini Lake Nainital in Hindi

नैनी झील की जियोग्राफी  – Geography of Naini Lake Nainital in Hindi

सात पहाड़ियों अर्थात् लारिया कांता, शेर का डंडा, चेना पीक, हांडी बांडी, आर्यपता और दियोपाटा से घिरी हुई नैनीताल झील मिश्रित वनस्पति का दावा करती है जिसमें शंकुधारी पेड़, ओक के पेड़ और नैनीताल (कुमाऊँ) के प्रसिद्ध बिचू बूटी संयंत्र शामिल हैं। यह झील इतनी बड़ी है की इसे दो भागो में विभाजित किया गया है जिसके उत्तरी भाग को मल्लीताल और दक्षिणी क्षेत्र को तल्लीताल कहा जाता है। खूबसूरत वादियों के बीच बसी इस झील का नजारा बेहद मनमोहक होता है हल्की हल्की धुंध और कोहरा होने पर झील एक अलग ही रूप धारण कर लेती है जिसकी कल्पना करना भी मुमकिन नही है। यदि आप इन नजारों को महसूस करना चाहते है तो एक बार इस खूबसूरत झील की यात्रा जरूर करनी चाहिए।

नैनी झील में नौका विहार –  Boating at Naini Lake in Hindi

नैनी झील में नौका विहार -  Boating at Naini Lake in Hindi
Image Credit : Mehtab Raza

बोटिंग या नौका विहार नैनी झील का सबसे प्रमुख आकर्षण और एक्टिविटीज है। यदि आप नैनीताल झील आयें और आपने बोटिंग नही करते तो यक़ीनन आपकी यात्रा अधूरी रह जायेगी। खूबसूरत पहाड़ियों के बीच बसी यह झील प्राकृतिक और मनमोहनीय नजारों का खजाना है। जब आप इस झील में नौका विहार करते हुए आगे बढ़ेगे तो कोमल हवाएं और सुन्दर परिदृश्य आपको एक अलग ही दुनिया का एहसास करायेगे। यदि आप हनीमून पर आये है या फिर अपने कपल के साथ यहाँ आयें है तो उनके साथ रोमांटिक टाइम स्पेंड करने के लिए नैनी झील में बोटिंग से अच्छी चीज कोई और हो ही नही सकती है। इस झील में बोटिंग के साथ साथ यचिंग और कयाकिंग भी उपलब्ध है।

और पढ़े : उत्तराखंड के प्रसिद्ध हिल स्टेशन लैंसडाउन यात्रा की पूरी जानकारी

नैनी झील में बोटिंग की टाइमिंग – Boating Timing in Naini Lake in Hindi

  • सुबह 6.00 बजे से शाम 6.00 बजे तक

नैनी झील में बोटिंग की फीस –  Boating Fees At Naini Lake in Hindi

  • आधे राउंड के लिए रो बोट : 160 रूपये
  • फुल राउंड के लिए रो बोट : 210
  • पैडल बोट के लिए : 210 प्रति घंटा

नैनीताल झील की टाइमिंग – Timings of Nainital lake in Hindi

जो भी पर्यटक नैनी झील की ट्रिप पर जाने से वाले है और इसकी टाइमिंग के बारे में जानना चाहते है हम उन्हें बता दे नैनी झील सुबह 6.00 बजे से शाम 6.00 बजे तक खुली रहती है इस दौरान आप कभी नैनी झील की ट्रिप आ सकते है और यहाँ की सुरम्य मौसम में टाइम बिता सकते है साथ ही बोटिंग को एन्जॉय कर सकते है। लेकिन ध्यान दे यदि आप अपनी ट्रिप को फुल एन्जॉय करना चाहते है तो यहाँ कम से कम 2 घंटे जरूर बितायें।

  नैनी झील की एंट्री फ़ीस – Entry Fee of Naini Lake in Hindi

बता दे नैनी झील में एंट्री या घूमने के लिए कोई भी फीस नही है लेकिन हाँ यदि आप यहाँ नौका विहार करना चाहते है तो उसके लिए आपको निश्चित शुल्क का भुगतान करना होगा।

नैनी झील की ट्रिप पर जाने के लिए टिप्स – Tips to visit Naini Lake in Hindi 

नैनी झील की ट्रिप पर जाने के लिए टिप्स – Tips to visit Naini Lake in Hindi 

यदि आप अपनी फैमली, फ्रेंड्स या फिर अपने कपल के साथ नैनी झील की ट्रिप पर जाने वाले है तो अपनी यात्रा में किसी भी असुविधा से बचने के लिए नीचे दिए गये टिप्स को जरूर फोलो करें –

  • यदि आप सर्दियों के महीनों के दौरान यात्रा की योजना बना रहे हैं तो अपने साथ पर्याप्त मात्रा में गर्म कपडे ले कर चलें क्योंकि इस समय मौसम काफी सर्द होता है।
  • जैसा कि आप इस मंत्रमुग्ध जगह की सुंदरता को कैप्चर करने से चूकना नहीं चाहेंगे, इसीलिए अपने साथ कैमरा ले जाना बिलकुल ना भूलें।
  • यदि आप अपनी वाइफ या फी अपनी गर्लफ्रेंड के साथ नैनीताल झील घूमने जाने वाले है तो अपने कपल या वाइफ के साथ रोमांटिक टाइम स्पेंड करने के लिए बोट राइड या पैडल बोट राइड को जरूर एन्जॉय करें।
  • एक और ध्यान देने योग्य बता यह भी है की अगर नैनी झील की ट्रिप में कुछ समय यहाँ रुकना चाहते है तो पहले होटल बुक जरूर कर लें क्योंकि पीक सीजन में तुरंत अच्छा रूम मिलना बेहद मुश्किल होता है।

नैनीताल झील के आसपास घूमने की जगहें – Places to visit around Naini lake in Hindi

नैनीताल उत्तराखंड के साथ साथ भारत के सबसे खूबसूरत पर्यटक स्थल में से एक है जहाँ घूमने के लिए नैनी झील के साथ साथ कई फेमस जगहें मौजूद है जो यहाँ आने वाले पर्यटकों को बेहद अट्रेक्ट करती है। इसीलिए यदि आप नैनी झील की ट्रिप पर आने वाले है तो नैनी झील के साथ साथ नीचे दिये इन प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों की यात्रा जरूर करें

नैनी झील घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Naini Lake Nainital in Hindi

नैनी झील घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Naini Lake Nainital in Hindi

यदि आप नैनीझील की ट्रिप को प्लान कर रहे है और यहाँ घूमने जाने के लिए सबसे अच्छे समय के बारे में सर्च कर रहे है तो हम आपको बता दे मार्च, अप्रैल, मई और जून के महीने नैनी झील घूमने जाने का सबसे अच्छे समय होता है यह टाइम यहाँ घूमने और नाव की सवारी का आनंद लेने के लिए भी सही समय है। जबकि नवंबर और दिसंबर के महीने उन पर्यटकों के लिए लोकप्रिय हैं जो ताजा बर्फबारी और सर्द मौसम का आनंद लेना चाहते हैं।

और पढ़े : नैनीताल में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल की जानकारी

नैनी झील की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स – Hotels in Nainital in Hindi

नैनी झील की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स – Hotels in Nainital in Hindi

जो भी पर्यटक नैनी झील की ट्रिप में रुकने के लिए होटल्स सर्च कर रहे है हम उन्हें बता दे नैनीताल उत्तराखंड राज्य के प्रमुख पर्यटक स्थलों में से एक है जिस बजह से यहाँ सभी बजट की होटल्स, रिसॉर्ट्स और होमेस्टे उपलब्ध है जिन्हें पर्यटक अपनी ट्रिप में आराम करने या कुछ दिन रुकने के लिए सिलेक्ट कर सकते है।

  • होटल लेकसाइड इन नैनीताल (Hotel Lakeside Inn Nainital)
  • शेरवानी हिलटॉप रिज़ॉर्ट (Shervani Hilltop Resort)
  • द हाइव कॉटेज (The Hive Cottage)
  • ग्रीन रूफ होटल (Green Roof Hotel)

 नैनी झील कैसे पहुंचे – How To Reach Naini Lake in Hindi

नैनी झील की ट्रिप पर जाने वाले पर्यटकों को बता दे सड़क मार्ग को छोड़कर नैनीताल के लिए कोई सीधी कनेक्टिविटी नहीं है। नैनीताल का निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम है, जो लगभग 35 किमी है। हवाई संपर्क के रूप में, निकटतम हवाई अड्डा लगभग 65 किमी दूर पंतनगर में है।

फ्लाइट से नैनी झील कैसे पहुंचे – How To Reach Naini Lake By Flight in Hindi

फ्लाइट से नैनी झील कैसे पहुंचे – How To Reach Naini Lake By Flight in Hindi

यदि आपने नैनीझील की ट्रिप पर जाने के लिए फ्लाइट से ट्रेवल करने के ऑप्शन को सिलेक्ट किया है तो हम आपको नैनीताल का सबसे निकटतम घेरलू हवाई अड्डा पंतनगर में है जो नैनीताल से लगभग 65 किलोमीटर की दूरी पर है। जबकि निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा नई दिल्ली में इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है।

ट्रेन से नैनीताल झील केसे पहुचें – How To Reach Nainital lake By Train in Hindi

ट्रेन से नैनी झील केसे पहुचें – How To Reach Naini Lake By Train in Hindi

जो भी पर्यटक ट्रेन से यात्रा करके नैनीझील जाना चाहते है हम उन्हें बता दे नैनीताल के लिए निकटतम रेलवे स्टेशन काठगोदाम है, जो नैनीताल शहर से लगभग 35 किमी दूर है। एक बार जब आप ट्रेन से यात्रा करके काठगोदाम रेलवे स्टेशन पर पहुच जाते है तो यहाँ से एक टेक्सी बुक करके या स्थानीय वाहनों की मदद से आसानी से नैनीझील जा सकते है।

सड़क मार्ग से नैनीझील केसे पहुचें – How To Reach Naini Lake By Road in Hindi

सड़क मार्ग से नैनीझील केसे पहुचें – How To Reach Naini Lake By Road in Hindi

सड़क मार्ग से नैनीझील की यात्रा करना सबसे आसान और सुविधाजनक है क्योंकि यहाँ खूबसूरत शहर सडक मार्ग से राज्य के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा  हुआ है। अगर आपका बजट अच्छा है तो आप टैक्सी से यात्रा करके भी नैनीताल पहुंच सकते हैं।

और पढ़े : उत्तराखंड के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

इस आर्टिकल अपने नैनी झील और इसकी यात्रा से जुड़ी पूरी जानकारी को जाना है आपको हमारा यह लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

नैनीझील का मेप – Naini Lake Map

और पढ़े :

 

Leave a Comment