मुक्तेश्वर धाम नैनीताल के दर्शन की पूरी जानकारी – Mukteshwar Temple Information In Hindi

Mukteshwar Temple In Hindi, मुक्तेश्वर मंदिर भारत के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है जो भारत के उत्तराखंड राज्य में स्थित है। आपको बता दें कि यह मंदिर भारत का एक बेहद प्राचीन मंदिर है जो लगभग 350 साल पुराना है। मुक्तेश्वर मंदिर इस संसार की रचना करने वाले भगवान् शिव को समर्पित है। यह मंदिर मुक्तेश्वर में सबसे ऊँचे स्थान पर स्थित है और इस स्थान का नाम भी इस मंदिर के नाम पर रखा गया है। मुक्तेश्वर मंदिर की समुद्र तल से उंचाई लगभग 2312 मीटर है।

यह प्राचीन मंदिर हिंदू धर्मग्रंथ में भगवान शिव को समर्पित अठारह सबसे महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक के रूप में जाना जाता है। मुक्तेश्वर मंदिर एक धार्मिक स्थल होने के साथ ही एक अदभुद पर्यटन स्थल भी है जो पर्यटकों को ऊंचाई से प्रकृति के शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है। यहां से पर्यटक पिक्चर क्लिक कर सकते हैं और अपनी यादों को तस्वीर में कैद कर सकते हैं। अगर आप एक प्रकृति प्रेमी हैं तो आपको इस मंदिर की यात्रा अवश्य करनी चाहिए और यहां लुभावने दृश्य का आनंद लेना चाहिए।

मुक्तेश्वर मंदिर में सफेद संगमरमर का शिव लिंग भी मौजूद है, जिसमें एक तांबे का योनी है। शिवलिंग के अलावा यहां पर भगवान गणेश, ब्रह्मा, विष्णु, पार्वती, हनुमान, और नंदी सहित अन्य देवताओं की मूर्तियाँ स्थापित हैं। यह मंदिर श्री मुक्तेश्वर महाराज जी का घर माना जाता है, जो ध्यान लगाने के लिए एक उपयुक्त स्थान है। मुक्तेश्वर मंदिर जाने के लिए तीर्थ यात्री पहाड़ी पर ट्रेकिंग कर सकते हैं और अपनी यात्रा को मजेदार बना सकते हैं। बता दें कि मंदिर जाने वाला ट्रेक अधिक चुनौतीपूर्ण नहीं है और पहाड़ी तक जाने का रास्ता फलों के बागों और जंगलों से ढका है, जिसकी वजह से मंदिर तक ​​पहुंचने में लगभग 2 घंटे लगते हैं।

1. मुक्तेश्वर मंदिर का इतिहास – Mukteshwar Temple History In Hindi

मुक्तेश्वर मंदिर का इतिहास
Image Credit: Jugal Pandey

मुक्तेश्वर मंदिर 10 वीं शताब्दी ईसा पूर्व का है। पुराणों के अनुसार मुक्तेश्वर मंदिर भगवान शिव को समर्पित 18 प्रमुख मंदिरों में से है। इस मंदिर के बारे में एक पौराणिक कथा कही जाती है जिसके अनुसार एक बार एक दानव और भगवान शिव के बीच बहुत बड़ी लड़ाई हुई थी। इस युद्ध में राक्षस पराजित हो गया, उसने मुक्ति प्राप्त कर ली। ऐसा भी माना जाता है कि कई देवता, साथ ही पांडवों ने भी मंदिर का दौरा किया था और अपनी उपस्थिति से इसे प्रतिष्ठित किया था। ऐसा कहा जाता है कि इस आकर्षक मंदिर का निर्माण भव्य वास्तुशिल्प सोमवमशी वंश के राजा ययाति प्रथम द्वारा किया गया था।

2. मुक्तेश्वर मंदिर का धार्मिक महत्व – Religious Importance Of Mukteshwar Temple In Hindi

मुक्तेश्वर मंदिर का धार्मिक महत्व
Image Credit: Manmohan Singh Bashera

मुक्तेश्वर मंदिर में भगवान शिव के भक्तों द्वारा कई महत्वपूर्ण समारोहों और धार्मिक कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। इस मंदिर के बारे में ऐसा भी कहा जाता है कि जो भी दंपति निसंतान होते हैं उन्हें यहां संतान की प्राप्ति होती है। माना जाता है कि निसंतान दंपति को यहां मिट्टी के दीपक के भगवान से प्रार्थना करने के बाद संतान का आशीर्वाद मिलता है।

और पढ़े: नैनीताल में घूमने की जगह और पर्यटन स्थल की जानकारी

3. मुक्तेश्वर मंदिर की वास्तुकला – Mukteshwar Temple Architecture In Hindi

मुक्तेश्वर मंदिर की वास्तुकला
Image Credit: Atul Pandey

मुक्तेश्वर मंदिर ओडिशा वास्तुकला का एक अदभुद नमूना है, जो भारत के संरक्षित स्मारकों की सूची में आता है। इस मंदिर की वास्तुकला बेहद आकर्षक है और यहां पर भगवान शिव के लिंग के साथ-साथ मंदिर में उनकी कई मूर्तियों को तरह तरह की ध्यान मुद्राएँ बनाते हुए देखा जा सकता है। यहाँ पश्चिम की ओर मुख वाले मुक्तेश्वर मंदिर की संरचना वास्तुकला की कलिंग शैली के प्रारंभिक और बाद के समय के बीच के बदलाव को बताती है। कलिंग शैली उस समय की वास्तुकला की सबसे प्रमुख शैली थी। इस मंदिर की मुख्य विशेषता बहुत ही खूबसूरती के साथ सजाया गया मेहराब है जिसे तोरण के रूप में भी जाना जाता है जो बौद्ध वास्तुकला का प्रतीक है। तोरण में महिलाओं की सुंदर नक्काशी, आभूषण आदि शामिल हैं।

मुक्तेश्वर मंदिर की ऊंचाई 35 फीट है और इसमें एक सामान्य संरचना है जो बहुत ज्यादा बड़ी नहीं है। मंदिर की खिड़कियों में हीरे की आकृति और जाली के डिजाइन बने हुए हैं। इनके अलावा आप पंचतंत्र की कहानियों से अपने हास्य कृत्यों के साथ बंदरों को मंदिर की दीवारों पर देख सकते हैं। यहां जगमोहन एक अद्वितीय विधानसभा हॉल है जो पर्यटकों को बेहद आकर्षित करता है। मुक्तेश्वर मंदिर का गर्भगृह, पोर्च सहित पूरा मंदिर एक विश्व स्तरीय वास्तुकला का मिश्रण है।

4. मुक्तेश्वर धाम मंदिर के दर्शन करने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Mukteshwar Temple In Hindi

मुक्तेश्वर धाम मंदिर के दर्शन करने का सबसे अच्छा समय
Image Credit: Nikhil Mace

अगर आप मुक्तेश्वर मंदिर जाने की योजना बना रहें हैं और यहां जाने के अच्छे समय के बारे में जानना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि मंदिर में जाने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से अप्रैल के महीनों के दौरान होता है इस दौरान मंदिर में मुक्तेश्वर उत्सव मंदिर में मनाया जाता है। यह त्यौहार एकाम्र उत्सव के एक भाग के रूप में मनाया जाता है, जिसे राज्य में रहने वाले हिंदू धर्म के लोग मानते हैं। मुक्तेश्वर उत्सव चार दिनों के लिए मनाया जाता है। अगर आप एक आरामदायक यात्रा का मजा लेना चाहते हैं तो सर्दियों और मानसून के मौसम से बचना ही बेहतर होगा।

और पढ़े: यमुनोत्री धाम की यात्रा और इसके प्रमुख पर्यटन स्थल की जानकरी 

5. कैसे पहुंचे मुक्तेश्वर मंदिर नैनीताल – How To Reach Mukteshwar Temple Nainital In Hindi

मुक्तेश्वर मंदिर उत्तराखंड राज्य में नैनीताल में मुक्तेश्वर के बाजार से 1 किमी की दूरी पर स्थित है। यह मंदिर सड़कों द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। आप मंदिर तक पहुंचने के लिए एक ऑटोरिक्शा किराए पर ले सकते हैं।

5.1 मुक्तेश्वर मंदिर तक फ्लाइट से कैसे पहुंचे – How To Reach Mukteshwar Temple By Flight In Hindi

मुक्तेश्वर मंदिर तक फ्लाइट से कैसे पहुंचे -

मुक्तेश्वर मंदिर हवाई मार्ग द्वारा जाने के लिए दिल्ली अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा इस हिल स्टेशन का निकटतम अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है। इस हवाई अड्डे पर उतरने के बाद पर्यटक बस या टेक्सी की मदद मुक्तेश्वर मंदिर पहुच सकते है।

5.2 मुक्तेश्वर मंदिर तक सड़क मार्ग से कैसे पहुंचे – How To Reach Mukteshwar Temple By Road In Hindi

मुक्तेश्वर मंदिर तक सड़क मार्ग से कैसे पहुंचे

भारत के सभी प्रमुख शहरों और कस्बों से मुक्तेश्वर के लिए बसें आसानी से उपलब्ध हैं जिनसे पर्यटक आरामदायक तरीके से यात्रा करके यहाँ पहुच सकते है।

5.3 ट्रेन से मुक्तेश्वर मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Mukteshwar Temple By Train In Hindi

ट्रेन से मुक्तेश्वर मंदिर कैसे पहुंचे

जो भी लोग ट्रेन द्वारा मुक्तेश्वर मंदिर जाना चाहते हैं उनके लिए बता दें कि काठगोदाम मुक्तेश्वर का निकटतम रेलवे स्टेशन है जो इस हिल स्टेशन से 73 किमी की दूरी पर स्थित है। इस रेल हेड से मुक्तेश्वर के लिए टैक्सी उपलब्ध हैं।

और पढ़े: देहरादून के प्रसिद्ध टपकेश्वर मंदिर के दर्शन की पूरी जानकारी

इस आर्टिकल में आपने मुक्तेश्वर मंदिर की यात्रा से जुडी जानकारी को जाना है आपको हमारा यह आर्टिकल केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

6. मुक्तेश्वर मंदिर उत्तराखंड का नक्शा – Mukteshwar Temple Nainital Map

7. मुक्तेश्वर धाम मंदिर की फोटो गैलरी – Mukteshwar Temple Images

View this post on Instagram

????

A post shared by ਮੋਹਿਤ ☬ ਚੌਧਰੀ (@mohitchoudhary_h) on

और पढ़े:

Featured Image: Jeewan Bhoj

Leave a Comment