Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Patal Bhuvaneshwar In Hindi, पाताल भुवनेश्वर एक गुफा मंदिर है जोकि भारत में उत्तराखंड राज्य के पिथौरागढ़ जिले में गंगोलीहाट से 14 किलोमीटर की दूरी पर एक चूना पत्थर की गुफा है। यह गुफा भुवनेश्वर गांव में स्थित है। यह भव्य और पर्यटन गुफा अपने आकर्षक गुणों के कारण भक्तो की आस्था का केंद्र बन गई है। ऐसा माना जाता है की यह गुफा भगवान शिव और तैंतीस करोड़ देवी देवताओं को हिन्दू संस्कृति में समाहित करती है। पाताल भुवनेश्वर गुफा में एक संकीर्ण सुरंग जैसा उद्घाटन है, जो यहां की कई गुफाओं की ओर जाता है। पाताल भुवनेस्वर गुफा मंदिर पूरी तरह से बिजली से रोशन है। पानी के प्रवाह से निर्मित पाताल भुवनेश्वर केवल एक गुफा मंदिर नहीं है। बल्कि गुफाओं के भीतर गुफाओं की एक श्रृंखला के रूप में जानी जाती है। पाताल भुवनेश्वर गुफ़ा किसी आश्चर्य से कम नहीं है।  यदि आप भी पाताल भुवनेश्वर के गुफा मंदिर की यात्रा करना चाहते हैं या इस दर्शनीय स्थल के बारे में जानना चाहते हैं। तो हमारे इस लेख को पूरा जरूर पढ़े।

1. पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर का इतिहास – Patal Bhuvaneshwar History In Hindi

पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर का इतिहास

Image Credit: Rajesh Misra

पाताल भुवनेश्वर मंदिर के इतिहास पर नजर डालने पर हम पाते हैं कि सूर्य वंश के राजा ऋतुपर्ण ने ‘त्रेता युग’ में गुफा की खोज की थी। स्कन्द पुराण ’के मानस कांड’ में इसकी व्याख्या की गई है। आदि शंकराचार्य 1191 ईस्वी में इस गुफा में आए और उन्होंने इस गुफा को बंद रखा। माना जाता है कि महाभारत काल के दौरान पांडव भगवान शिव की आराधना करते थे। यह गुफा मंदिर भगवान शिव की कहानियो से जुडी हुई हैं। पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर उतराखंड का प्राचीन पर्यटन स्थल के रूप में गुना जाता हैं।

2. पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर की संरचना – Patal Bhuvaneshwar Cave Temple Architecture In Hindi

पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर की संरचना

Image Credit: Raj Kumar

पाताल भुवनेश्वर केवल एक गुफा नहीं है  बल्कि यह गुफाओं के भीतर गुफाओं की एक श्रृंखला है। पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर की संरचना देखने पर हम इसमें चार द्वारों को पाते हैं। हालाकि दो प्रवेश द्वारो को बंद कर दिया गया हैं। पहला जब भगवान राम ने रामायण काल के युद्ध के दौरान लंका के राजा रावण का वध किया था और दूसरा महाभारत काल के क्रूर युद्ध के बाद बंद कर दिया गया था। वर्तमान में पाताल भुवनेश्वर मंदिर में दो प्रवेश द्वार हैं। इन गुफाओं की आकर्षित संरचना के लिए यह स्थल पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बन गया है। यह गुफा लगभग 1 किलोमीटर लम्बी हैं।

और पढ़े: बद्रीनाथ मंदिर के दर्शन की पूरी जानकारी 

3. पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर की कहानी – Patal Bhuvaneshwar Cave Temple Story In Hindi

पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर की कहानी

Image Credit: Heera Joshi

पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर अतिप्राचीन और धार्मिक स्थान है। इस स्थान के अलावा ऐसा कोई स्थान नही है जहा पर एक साथ चारो धाम के दर्शन किए जा सकते हैं। पाताल भुवनेश्वर गुफा बहुत ही पवित्र और रहस्यमयी गुफा है, जो अपने में सदियों पुराने रहस्य समेटे हुए है। प्राचीन काथाओं के अनुसार भगवान शिवजी ने पांडवो के  साथ यहां चौपड़ खेली थी। हिन्दू धर्म की प्राचीन कथाओं अनुसार भगवान शिवजी ने क्रोध में आकर भगवान गणेश जी का सिर काट दिया था लेकिन माता पार्वती के कहने पर हाथी का सिर भगवान गणेश जी को लगा दिया। माना जाता है कि भगवान गणेश का कटा हुआ सिर आज भी इस गुफा में स्थापित है।

4. पाताल भुवनेश्वर मंदिर खुलने और बंद होने का समय – Patal Bhuvaneshwar Temple Timing In Hindi

पाताल भुवेनश्वर गुफा मंदिर की यात्रा पर जाने के लिए आप सूर्य उदय से लेकर सूर्य अस्त तक किसी भी समय पाताल भुवनेश्वर गुफा  मंदिर में प्रवेश कर सकते है। क्योकि यह गुफा पूरा दिन खुली रहती है और यहां आने वाले पर्यटकों के लिए एक तीर्थ स्थल में शामिल हैं। यहाँ प्रतिदिन हजारो यात्री दर्शन के लिए आते है और भोलेनाथ के दर्शनों का लाभ उठा सकते हैं।

और पढ़े: जागेश्वर धाम यात्रा की जानकारी

5. पाताल भुवनेश्वर के घूमने लायक पर्यटन और आकर्षण स्थल – Patal Bhuvaneshwar Gufa Mandir Ke Darshaniya Sthal In Hindi

पाताल भुवनेश्वर जोकि उत्तराखंड राज्य में स्थित है अपने आप में कई पर्यटन स्थल को समेटे हुए है। प्राकृतिक प्रेमी और सुंदर वातावरण में रूचि रखने वाले लोगो के लिए पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर किसी स्वर्ग से कम नही हैं और यह एक अद्भुत हिल स्टेशन के लिहाज से भी सैलानियों की बीच लौकप्रिय है। पाताल भुवनेश्वर अपनी खूबसूरत और रमणीय पहाड़ियों के लिए प्रसिद्ध है। आइये हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपको पाताल भुवनेश्वर मंदिर के नजदीकी पर्यटक स्थलों की सैर कराते हैं।

5.1 हाट कालिका मंदिर – Haat Kalika Mandir In Hindi

हाट कालिका मंदिर

Image Credit: Nitesh Pathak

हाट कालिका मंदिर गंगोलीहाट के लिए दो सबसे आश्चर्यजनक और प्रसिद्ध स्थानों में से एक है, दूसरा पाताल भुवनेश्वर गुफा है।

5.2 कौसानी – Kausani In Hindi

कौसानी

कौसानी एक प्रशिद्ध पर्यटन स्थान है और पाताल भुवनेश्वर से 95 किलोमीटर दूर है। कौसानी में प्रकृति अपने सबसे अच्छे रूप में खिलती है। अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध, इस जगह में वनस्पति और जीवों की समृद्ध विविधता है। प्राकृतिक सुंदरता का आनंद लेने और प्रकृति की एक झलक पाने के लिए बहुत से पर्यटक इस आकर्षक शहर में आते हैं।

और पढ़े: कौसानी के 5 प्रमुख दर्शनीय स्थल

5.3 बेरीनाग मंदिर – Berinag Mandir In Hindi

बेरीनाग, एक छोटा सा हिल स्टेशन है, जो पिथौरागढ़ जिले के चौकोरी से 12 किमी की दूरी पर स्थित है, जो भारत के उत्तराखंड राज्य का सबसे पूर्वी हिमालयी जिला है। यह सड़क मार्ग से सुलभ है। निकटतम प्रमुख गांवों में गरावन, धनोली, बाना, भट्टीगांव, बनोली, क्वाराली, त्रिपुरादेवी और सांगर शामिल हैं।

5.4 स्थल पूर्णागिरि – Purnagiri Mandir In Hindi

स्थल पूर्णागिरि

Image Credit: Rajeev Sharma

पाताल भुवनेस्वर में घूमने और दर्शन करने वाली जगहों में पूर्णागिरि एक प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। जोकि समुद्र तल से लगभग 3000 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है और टनकपुर से लगभग 20 किलोमीटर की दूरी पर है। स्थान मार्च और अप्रैल के दौरान चैत्र नवरात्रि में आयोजित किए जाने वाले त्यौहार के लिए जाना जाता हैं। पूर्णगिरी बुराम देव मंडी, झूलाघाट और पुण्य पर्व जैसे दर्शनीय स्थलों के लिए भी फेमस है।

5.5 लोहाघाट – Lohaghat In Hindi

पाताल भुवनेस्वर की प्रसिद्ध जगहों में लोहाघाट अपनी एक अलग ही पहचान बनाता हैं और यह स्थल चंपावत के आदर्श स्थानों में सुमार है। चंपावत से  लोहाघाट की दूरी लगभग 14 किलोमीटर हैं और समुद्र तल से इसकी ऊँचाई 5,597 फीट है। लोहाघाट पर्यटन स्थल बुरांश फूलो के लिए सबसे अधिक फेमस हैं और लोहावती नदी के तट पर स्थित है।

5.6 बाणासुर का किला – Banasur Ka Kila In Hindi

बाणासुर का किला

Image Credit: Manish Bisht

पाताल भुवनेस्वर में घूमने वाली जगह बाणासुर का किला 1,859 मीटर की ऊंचाई  पर स्थित है। किले के बारे में कहां जाता हैं कि यह इसका निर्माण मध्यकालीन युग के दौरान  राजा बलि के सबसे बड़े पुत्र बाणासुर ने करवाया था।

5.7 मायावती आश्रम – Mayawati Ashram Or The Advaita Ashrama In Hindi

मायावती आश्रम

Image Credit: Sohaib

पाताल भुवनेस्वर में देखने की जगह में मायावती आश्रम या अद्वैत आश्रम यहां का एक प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। लोहाघाट से 9 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और समुद्र तल से आश्रम की ऊंचाई लगभग 1,940 मीटर हैं। आश्रम में एक छोटा संग्रहालय और एक पुस्तकालय बना हुआ हैं। वर्ष 1898 में स्वामी विवेकानंद ने अपने प्रकाशन कार्यालय ‘प्रबुद्ध भारत’ को मद्रास से यहां स्थानांतरित किया था।

5.8 नाग मंदिर – Naag Mandir In Hindi

पाताल भुवनेश्वर के पर्यटन स्थलों की सूचि में शामिल नाग मंदिर हिंदू पर्यटकों के लिए सबसे महत्वपूर्ण स्थान है। यह पेड़ों के समूह के बीच स्थित है और माना जाता है कि यह भगवान शेषनाग और भगवान विष्णु की मूर्ति है।

और पढ़े: उत्तराखंड के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

Patal Bhuvaneshwar

5.9 बिनसर – Binsar In Hindi

बिनसर

पाताल भुवनेश्वर से 105 किलोमीटर दूर बद्रीनाथ के पास एक अद्भुत पर्यटन स्थल बिनसर हैं। शहर बिनसर में भगवान शिव को समर्पित एक प्रसिद्ध मंदिर है।

5.10 अल्मोड़ा – Almora In Hindi

अल्मोड़ा

Image Credit: Raj Kumar

अल्मोड़ा, जिसे भारत के स्विट्जरलैंड के रूप में जाना जाता है, उत्तराखंड राज्य का एक खूबसूरत हिल स्टेशन है। अल्मोड़ा में पवित्र स्थान, क्रिस्टल झीलें, विचित्र कुटिया, घने जंगल और जंगली नदी आदि हैं।

5.11 पिथौरागढ़ – Pithoragarh In Hindi

व्यापक रूप से हिमालय पर्वतमाला के प्रवेश द्वार और पहाड़ियों में कैलाश और झील मानसरोवर के लिए जाने वाले तीर्थयात्रियों के लिए मार्ग के रूप में जाना जाता है, पिथौरागढ़ राज्य में एक अद्भुत जिला है और पाताल भुवनेश्वर से 99 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

5.12 चितई मंदिर – Chitai Mandir In Hindi

चितई मंदिर

Image Credit: Jatin Bajpai

गोलू देवता या भगवान गोलू भारत के उत्तराखंड राज्य के कुमायूं क्षेत्र के पौराणिक पौराणिक और ऐतिहासिक देवता हैं और उनके देवता हैं। गोलू देवता चितई, मंदिर बिनसर वन्यजीव अभयारण्य के मुख्य द्वार से लगभग 4 किमी और लगभग 10 किमी दूर है।

5.13 देवीधुरा शहर – Devidhura Mela Uttarakhand In Hindi

देवीधुरा शहर

पाताल भुवनेस्वर में देखने वाली जगहों में देवीधुरा एक पुराना शहर है। जोकि रक्षा बंधन के अवसर पर बग्वाल के त्योहार के लिए जाना जाता हैं जोकि बरही मंदिर में आयोजित किया जाता हैं। लोहाघाट इस पर्यटन स्थल की दूरी लगभग 58 किलोमीटर हैं।

5.14 वाराही माता मंदिर – Barahi Temple In Hindi

पाताल भुवनेस्वर का प्रसिद्ध दर्शनीय वाराही माता मंदिर देवीधुरा में स्थित है। जोकि चंपावत से लगभग 58 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और देवी वाराही को समर्पित है। इस मंदिर में विशाल पत्थर स्थित है जिसके बारे में कहां जाता हैं कि यह पांडवो द्वारा गेंद खेलने के लिए उपयोग किया जाता था।

और पढ़े: देवप्रयाग की यात्रा के बारे में पूरी जानकारी 

6. पाताल भुवनेश्वर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Patal Bhuvaneshwar In Hindi

पाताल भुवनेश्वर घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

Image Credit: Rajneesh Bhardwaj

पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर घूमने के लिए सबसे अच्छा समय नवम्वर से फरवरी का माना जाता हैं। क्योंकि गर्मी के मौसम में यहां का तापमान 47 डिग्री सेल्यिस तक पहुँच जाता है। हालांकि मानसून के दौरान इस स्थान पर जाने में बारिश के चलते कुछ असुविधा का सामना करना पड़ सकता हैं।

और पढ़े: हिडिम्बा देवी मंदिर का इतिहास, कहानी और रोचक तथ्य

7. पाताल भुवनेश्वर टेम्पल उत्तराखंड में लगने वाला प्रवेश शुल्क – Patal Bhuvaneshwar Cave Temple Entry Fee In Hindi

पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर में प्रवेश करने का कोई शुल्क नही लगता यह तीर्थ स्थल निशुल्क है। हमे आशा है आप उत्तराखंड के आकर्षक पर्यटन स्थलों के दर्शन करके बहुत ही आनंद की अनुभूति करेंगे।

8. पाताल भुवनेश्वर में कहां रुके – Where To Stay In Patal Bhuvaneshwar In Hindi

पाताल भुवनेश्वर में कहां रुके

पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर के दर्शन करने और यहां के आकर्षित स्थलों पर घूमने के बाद यदि आप यहां रुकना चाहते है। तो हम आपको बता दें कि पाताल भुवनेस्वर के आसपास आपको लो-बजट से लेकर हाई-बजट के होटल आपको मिल जाएगी। जोकि आप अपनी सुविधानुसार ले सकते हैं।

  • होटल ज्योनार पैलेस
  • ओजस्वी रिसॉर्ट
  • ट्री लीफ ग्रैंड ओक मैनर
  • बिनसर इको रिजॉर्ट
  • आयुष गेस्ट हाउस

9. पाताल भुवनेश्वर में खाने के लिए प्रसिद्ध स्थानीय भोजन – Famous Local Food Of Patal Bhuvaneshwar In Hindi

पाताल भुवनेश्वर में खाने के लिए प्रसिद्ध स्थानीय भोजन

पाताल भुवनेश्वर में मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है और इसीलिए इसे ‘भारत का मंदिर शहर’ कहा जाता है। यहां अधिकांश व्यंजन चावल के होते हैं क्योंकि यह इस क्षेत्र की मुख्य फसल है। इस क्षेत्र के अधिकांश लोग मांसाहारी हैं और मछली, केकड़े, भेड़ के बच्चे और चिकन से बने व्यंजन को पसंद करते हैं। यहां के लौकप्रिय भोजन मक्का घंटा, क्रेब कालिया, भिन्डी भाजा, चुडा और पोहा, खिचड़ी, मुर्ग सग्वाला, रसमलाई और मालपुआ प्रमुख हैं।

और पढ़े: मनसा देवी मंदिर हरिद्वार 

10. पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर कैसे जाये – Patal Bhuvaneshwar How To Reach In Hindi

पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर पहुंचने के लिए आप हवाई जहाज, रेल या फिर बस या टेक्सी किसी भी साधन का उपयोग कर सकते हैं।

10.1 फ्लाइट से पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर कैसे पहुंचे – How To Reach Patal Bhuvaneshwar Cave Temple By Flight In Hindi

फ्लाइट से पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर कैसे पहुंचे

यदि आपने हवाई मार्ग से  पाताल भुवनेश्वर जाने की योजना बनाई है तो हम आपको आसानी से पाताल भुवनेश्वर हवाई मार्ग से जा सकते है। पाताल भुवनेश्वर के लिए निकटतम हवाई अड्डा पंतनगर हवाई अड्डा है। पंतनगर हवाई अड्डा पाताल भुवनेश्वर से 244 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। पंतनगर हवाई अड्डे से पाताल भुवनेश्वर के लिए टैक्सी आसानी से उपलब्ध है।

10.2 पाताल भुवनेश्वर मंदिर उत्तराखंड ट्रेन से कैसे पहुँचे – How To Reach Patal Bhuvaneshwar Mandir By Train In Hindi

पाताल भुवनेश्वर मंदिर उत्तराखंड ट्रेन से कैसे पहुँचे

यदि आपने ट्रेन से पाताल भुवनेश्वर जाने की योजना बनाई है तो हम आपको बता दें कि ट्रेन से पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर आसानी से पहुँच जाएंगे। पाताल भुवनेस्वर से टनकपुर रेलवे स्टेशन की दूरी लगभग 154 किलोमीटर हैं। यह सबसे नजदीकी रेलवे स्टेशन हैं यहां से आप स्थानीय साधनों के माध्यम से पाताल भुवनेश्वर टेम्पल आसानी से पहुंच जाएंगे। टनकपुर रेलवे स्टेशन देश के प्रमुख शहरो जैसे – दिल्ली, लखनऊ, कोलकाता और आगरा से बहुत अच्छी तरह से जुड़े हुए हैं।

10.3 पाताल भुवनेश्वर उत्तराखंड कैसे पहुँचे बस से – How To Reach Patal Bhuvaneshwar Cave Temple By Bus In Hindi

पाताल भुवनेश्वर उत्तराखंड कैसे पहुँचे बस से

यदि आपने बस के माध्यम से पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर में पहुँचने की योजना बनाई है तो आप सड़क मार्ग से पाताल भुवनेश्वर गुफा मंदिर में पहुंचा जा सकता है। आमतौर पर बसें पिथौरागढ़, लोहाघाट, चंपावत और टनकपुर तक जाती है,  जहां से कोई भी टैक्सी ले सकता है या वांछित गंतव्य तक पहुंचने के लिए बस की सवारी कर सकता है।

और पढ़े: चंडी देवी मंदिर का इतिहास 

11. पाताल भुवनेश्वर मंदिर उत्तराखंड का नक्शा – Patal Bhuvaneshwar Cave Temple Map

12. पाताल भुवनेश्वर मंदिर उत्तराखंड की फोटो गैलरी – Patal Bhuvaneshwar Cave Temple Images

View this post on Instagram

Temple Cave…🤗😀

A post shared by Shubham Rawat (@shubhamrawat786) on

और पढ़े:

Write A Comment