Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Kailash Mansarovar Yatra In Hindi कैलाश मानसरोवर एक ऐसा पवित्र स्थान है जो अपने धार्मिक महत्त्व के लिए दुनिया भर में जाना-जाता है। बता दें कि कैलाश एक पर्वत है जो करीब 21,778 फीट लंबा है। हर साल भारी संख्या में लोग इस पर्वत की सुंदरता और भव्यता को देखने के लिए कैलाश मानसरोवर की यात्रा करते हैं। आपको बता दें कि कैलाश पर्वत तिब्बत के दक्षिण-पश्चिमी कोने में शक्तिशाली हिमालय पर्वतमाला के बीच स्थित है, जिसको दुनिया के सबसे ऊँचे स्थानों में से एक माना जाता है।

इन सब के अलावा यह विशाल पर्वत ब्रम्हा पुत्र, गंगा, सिंधु और सतलुज सहित एशिया की चार शक्तिशाली का स्त्रोत भी है। कैलाश पर्वत का अपना एक अलग धार्मिक महत्व है जिसकी वजह से हर साल विभिन्न धर्मों के लोग यहां की यात्रा करते हैं। कैलाश मानसरोवर एक ऐसा धार्मिक स्थान है जो आपको अपनी यात्रा के दौरान खुद को जानने और बदलने का अवसर प्रदान करता है। अगर आप भी कैलाश मानसरोवर की यात्रा करना चाहते हैं तो इस आर्टिकल को जरुर पढ़ें जिसमें हमने कैलाश मानसरोवर जाने की पूरी जानकारी दी है।

कैलाश पर्वत और मानसरोवर झील का धार्मिक महत्व – Religious Significance Of Mount Kailash And Mansarovar Lake In Hindi

कैलाश मानसरोवर यात्रा का वर्णन – Kailash Mansarovar Yatra In Hindi

कैलाश मानसरोवर यात्रा 2019 तिथियां – Kailash Mansarovar Yatra 2019 Dates In Hindi

कैलाश मानसरोवर यात्रा मार्ग – Kailash Mansarovar Yatra Route In Hindi

  1. उत्तराखंड के माध्यम से कैलाश मानसरोवर की यात्रा में लगने वाला समय – Kailash Mansarovar Ki Yatra Me Kitna Samye Lagta Hai In Hindi
  2. सिक्किम के माध्यम से कैलाश मानसरोवर की यात्रा में लगने वाला समय – Kailash Mansarovar Ki Yatra Me Kitna Samye Lagta Hai In Hindi

कैलाश मानसरोवर यात्रा खर्च 2019- Kailash Mansarovar Yatra Kharch 2019 In Hindi

कैलाश मानसरोवर यात्रा परिक्रमा – Kailash Mansarovar Yatra Parikrama In Hindi

कैलाश मानसरोवर यात्रा पर अन्य प्रमुख आकर्षण – Other Major Attractions On Kailash Mansarovar Yatra In Hindi

मानसरोवर की यात्रा का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Mansarovar In Hindi

कैलाश मानसरोवर कैसे पहुंचे- How To Reach Kailash Mansarovar In Hindi

  1. हवाई जहाज से कैलाश मानसरोवर कैसे पहुंचे- How To Reach Kailash Mansarovar By Airplane In Hindi
  2. सड़क मार्ग से कैलाश मानसरोवर कैसे पहुंचे – How To Reach Kailash Mansarovar By Bus In Hindi
  3. ट्रेन की मदद से कैलाश मानसरोवर कैसे पहुंचे- How To Reach Kailash Mansarovar By Train In Hindi

कैलाश मानसरोवर की लोकेशन का मैप – Kailash Mansarovar Location

कैलाश मानसरोवर की फोटो गैलरी – Kailash Mansarovar Images

1. कैलाश पर्वत और मानसरोवर झील का धार्मिक महत्व – Religious Significance Of Mount Kailash And Mansarovar Lake In Hindi

कैलाश पर्वत और मानसरोवर झील का धार्मिक महत्व - Religious Significance Of Mount Kailash And Mansarovar Lake In Hindi

मानसरोवर झील के साथ कैलाश पर्वत का अपना एक ऐतिहासिक महत्व है। आपको बता दें कि मानसरोवर दो शब्दों से मिलकर बना है- जिसमें ‘मानस’ का अर्थ मन और ‘सरोवर’ का अर्थ है झील। हिंदू पौराणिक कथाओं की माने तो सबसे पहले मानसरोवर झील को भगवान ब्रह्मा के दिमाग में बनाया गया था, जिसकी वजह से इसका नाम मानसरोवर पड़ा। हिंदू धर्म के अनुसार कैलाश पर्वत वह स्थान था जहां भगवान शिव निवास करते थे और इसलिए इस जगह को स्वर्ग के सामान माना जाता है। तिब्बती बौद्धों की मान्यताओं के अनुसार कैलाश पर्वत पर बुद्ध डेमचोक का निवास स्थान था जो सद्भाव का प्रतिनिधित्व करते हैं। इसी तरह जैन धर्म के अनुसार माउंट कैलाश को माउंट अष्टपद भी कहा जाता है और इस जगह उनके धर्म के निर्माता ऋषभदेव ने जन्म और पुनर्जन्म के चक्र से मुक्ति प्राप्त की थी।

मानसरोवर झील एक बहुत ही खूबसूरत जगह है जो कैलाश पर्वत से 20,015 फीट की ऊंचाई पर 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। बता दें कि यह झील पवित्रता का प्रतीक है जिसके बारे में कहा जाता है कि इस झील में नहाने से इंसान को अपने जीवन में किये गए सभी पापों से मुक्ति मिलती है। झील के बारे में कहा जाता है कि इसका रंग बदलता रहता है। झील का रंग तटों के पास नीला होता है जो केंद्र में हरे रंग में बदल जाता है।

2. कैलाश मानसरोवर यात्रा का वर्णन – Kailash Mansarovar Yatra In Hindi

जो भी लोग कैलाश मानसरोवर की यात्रा करने के लिए आते हैं उन्हें अपनी इस यात्रा में दो काम करने होते हैं। यहां आने वाली तीर्थ यात्री कैलाश पर्वत की परिक्रमा करते हैं और अपने पापों से मुक्ति पाने के लिए यहां की मानसरोवर झील में डुबकी भी लगाते हैं। बता दें यात्री कैलाश पर्वत की यात्रा या तो पैदल चलकर या फिर 4500 सीसी लैंड क्रूजर, हेलीकॉप्टर और लक्जरी एसी बसों से पूरी कर सकते हैं। देश मंत्रालय के माध्यम से या नेपाल या तिब्बत में एक निजी दौरे के माध्यम से पहले से ही बुकिंग करवानी होती है। इस यात्रा को पूरा करने में करीब 10 से 30 दिनों का समय लगता है जिसमें चिकित्सा स्वास्थ्य जांच भी शामिल है जो दिल्ली में की जाती है।

3. कैलाश मानसरोवर यात्रा 2019 तिथियां – Kailash Mansarovar Yatra 2019 Dates In Hindi

कैलाश मानसरोवर यात्रा 2019 तिथियां - Kailash Mansarovar Yatra 2019 Dates In Hindi

आपको बता दें कि कैलाश मानसरोवर यात्रा 1 मई 2019 और 26 सितंबर 2019 के बीच दो मार्गो से की जाएगी। कैलाश मानसरोवर की यात्रा एक बहुत ही महत्वपूर्ण और लोकप्रिय तीर्थयात्रा है। इस जगह को स्वर्ग के सामान मन जाता है। हर इंसान को अपनी जिंदगी में कैलाश मानसरोवर की यात्रा के लिए एक बार जरुर जाना चाहिए। जो भी इंसान इस जगह की यात्रा करता है वो अपने जीवन में एक नए अनुभव को हासिल करता है और दुनिया को एक नए रूप में देख पाता है।

4. कैलाश मानसरोवर यात्रा मार्ग – Kailash Mansarovar Yatra Route In Hindi

रूट नंबर 1- उत्तराखंड के माध्यम से

कैलाश मानसरोवर जाने के लिए एक रास्ता लिपुलेख पास से होकर जाता है जो उत्तराखंड में स्थित है। यहां की यात्रा में ट्रेकिंग भी शामिल है जिसमें लगभग 1.6 लाख रूपये प्रति व्यक्ति लागत आती है। यहां ट्रेकिंग के लिए बैचों को तैयार किया जाता है जिसमें हर बैच में 60 तीर्थयात्रियों के साथ कुल 18 बैच होते।

4.1 उत्तराखंड के माध्यम से कैलाश मानसरोवर की यात्रा में लगने वाला समय – Kailash Mansarovar Ki Yatra Me Kitna Samye Lagta Hai In Hindi

कैलाश मानसरोवर यात्रा 2019 तिथियां - Kailash Mansarovar Yatra 2019 Dates In Hindi

आपको बता दें कि कैलाश मानसरोवर की यात्रा 24 दिनों में एक बैच द्वारा पूरी होती है। बता दें कि इसमें 3 दिन दिल्ली में होने वाले सभी तैयारी कार्यों में लग जाते हैं। इस यात्रा के रास्तों में आपको नारायण आश्रम, छियालेख घाटी, पाताल भुवनेश्वर के मार्ग भी शामिल है। छियालेख घाटी को ओम पर्वत के नाम से भी जाना जाता जिसका कारण है कि यहां पर ‘ओम’ के आकार में बर्फ का पहाड़ स्थित है।

रूट नंबर 2- सिक्किम के माध्यम से

कैलाश मानसरोवर के लिए दूसरा रास्ता नाथू ला दर्रे से होकर जाता है जो सिक्किम में स्थित हैं। यह मार्ग उन बुजुर्ग लोगों के लिए बहुत अच्छा है जो ट्रेकिंग करने में असमर्थ हैं। इस मार्ग से यात्रा करने के लिए तीर्थ यात्रियों को 2 लाख रूपये प्रति व्यक्ति देने होते हैं। अगर आप इस साल कैलाश मानसरोवर की यात्रा करने का प्लान बना रहे हैं तो आपको बता दें कि इस वर्ष के लिए तीर्थयात्रियों को 8 बैचों में बांटा जायेगा जिसमें से प्रत्येक बैच में 50 तीर्थयात्री शामिल होंगे।

और पढ़े: पशुपतिनाथ मंदिर की यात्रा और रोचक तथ्यों की जानकारी

4.2 सिक्किम के माध्यम से कैलाश मानसरोवर की यात्रा में लगने वाला समय – Kailash Mansarovar Ki Yatra Me Kitna Samye Lagta Hai In Hindi

नाथू ला पास से होकर जाने वाले मार्ग से कैलाश मानसरोवर की यात्रा को पूरा करने में 21 दिन लगते हैं जिसमें दिल्ली में 3 दिन की तैयारी भी शामिल है।

कैलाश मानसरोवर की यात्रा के दौरान रास्ते में शामिल जगह

आप नाथू ला पास से होकर जाने वाले रास्ते में तीर्थयात्रियों को हंगू झील और तिब्बती पठार सहित कई सुंदर जगह देखने को मिल सकती है।

5. कैलाश मानसरोवर यात्रा खर्च 2019- Kailash Mansarovar Yatra Kharch 2019 In Hindi

कैलाश मानसरोवर के लिए दो रास्तों से यात्रा कर सकते हैं जिसमें से एक रास्ता एक रास्ता लिपुलेख पास से होकर जाता है जो उत्तराखंड में स्थित है और दूसरा रास्ता नाथू ला पास से होकर जाता है जो सिक्किम में है। अगर आप लिपुलेख पास वाले रस्ते से यात्रा करते हैं तो आपको प्रति व्यक्ति लगभग 1.6 लाख रूपये देने होंगे और अगर नाथू ला पास वाले मार्ग से यात्रा करते हैं तो लगभग 2 लाख रूपये प्रति व्यक्ति देने होंगे।

6. कैलाश मानसरोवर यात्रा परिक्रमा – Kailash Mansarovar Yatra Parikrama In Hindi

जब एक बार तीर्थ यात्री कठोर ट्रेक से गुजरने के बाद कैलाश पर्वत पर पहुँच जाते हैं तो उन्हें यहां पर्वत के शिखर पर या तो दक्षिण दिशा में या दक्षिण दिशा के विपरीत परिक्रमा करना होती है। इस परिक्रमा में जो यात्री अपने पैरों पर नहीं चल पाते उन्हें परिक्रमा को पूरा करने के लिए याक या पोनी किराये पर लेने का विकल्प भी प्रदान किया जाता है।

7. कैलाश मानसरोवर यात्रा पर अन्य प्रमुख आकर्षण – Other Major Attractions On Kailash Mansarovar Yatra In Hindi

अगर आप कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाते हैं तो आपको मानसरोवर झील के अलावा अन्य बहुत सारे सुंदर और अनोखे स्थान देखने को मिलते है।

  • तीर्थपूरी – जहां पार तीर्थयात्री अपनी यात्रा समाप्त करने के बाद वसंत कुंडों में स्नान करते हैं।
  • गौरी कुंड – जिसे करुणा की झील के रूप में जाना जाता है।
  • यम द्वार – यह यात्रा का प्रारंभिक बिंदु है।
  • अस्थपाद – जो कैलाश और तारबोचे का आधार है, इस जगह आपको कई प्रार्थना झंडे देखने को मिलेंगे। यह स्थान तिब्बती आध्यात्मिकता के संबंध में महत्व रखता है।

8. मानसरोवर की यात्रा का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Mansarovar In Hindi

मानसरोवर की यात्रा का सबसे अच्छा समय - Best Time To Visit Mansarovar In Hindi

कैलाश मानसरोवर की यात्रा का सबसे अच्छा समय गर्मियों और मानसून के मौसम के दौरान होता है जो मई से अक्टूबर तक रहता है। इन महीनों में यहाँ का तापमान 10 ° C से 15 ° C के बीच होता है। इस मौसम में आप बाहरी गतिविधियों, ट्रेकिंग, तीर्थयात्रा और आसपास के पर्यटक आकर्षणों की सैर करने का सबसे अच्छा समय होता है। यह मौसम सर्दियों के मौसम की तुलना में मौसम बेहतर होता है, लेकिन इस दौरान आपको कई बर्फीले मार्गों का सामना करना पड़ सकता है। इसलिए भारी ऊन ले जाने की सिफारिश की जाती है। तिब्बती बौद्ध त्योहार सागा दावा महोत्सव भी इस दौरान आयोजित किया जाता है।

9. कैलाश मानसरोवर कैसे पहुंचे- How To Reach Kailash Mansarovar In Hindi

9.1 हवाई जहाज से कैलाश मानसरोवर कैसे पहुंचे- How To Reach Kailash Mansarovar By Airplane In Hindi

आपको बता दें कि इस क्षेत्र में कोई बड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा स्थित नहीं है। इसका निकटतम हवाई अड्डा Ngari Gunsa हवाई अड्डा है, लेकिन यह केवल चीन और तिब्बत से जुड़ा हुआ है। अन्य निकटतम प्रमुख अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा लखनऊ, भारत में चौधरी चरण सिंह अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है। जो भारत के सभी शहरों दिल्ली, मुंबई, बैंगलोर और चेन्नई से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।

9.2 सड़क मार्ग से कैलाश मानसरोवर कैसे पहुंचे – How To Reach Kailash Mansarovar By Bus In Hindi

भारत, चीन और नेपाल के कुछ शहरों से कैलाश मानसरोवर के लिए बसें उपलब्ध हैं। भारत सरकार कैलाश मानसरोवर के लिए नियमित पर्यटन का आयोजन करती है, लेकिन इसमें सीटों की संख्या सीमित होती है। कैलाश मानसरोवर केवल सड़क मार्गों से पहुँचा जा सकता है- भारत के उत्तराखंड राज्य में पिथौरागढ़ के पास भारतीय सीमा, तिब्बत में शिगात्से, चीन में काशगर और नेपाल में सिमिकोट, हिलसा। इन सभी स्थानों से निजी बसें उपलब्ध हैं। इसके अलावा आप जीप सफारी या हेलीकाप्टर के माध्यम से भी कैलाश मानसरोवर पहुंच सकते हैं।

9.3 ट्रेन की मदद से कैलाश मानसरोवर कैसे पहुंचे- How To Reach Kailash Mansarovar By Train In Hindi

बता दें कि कैलाश मानसरोवर का अपना कोई रेलवे स्टेशन नहीं है। कैलाश मानसरोवर पहुंचने के लिए आपको लखनऊ रेलवे के लिए ट्रेन लेनी होगी। यह स्टेशन मानसरोवर पहुंचने के लिए निकटतम स्टेशन है। यहां से आप अपनी आगे की यात्रा के लिए टैक्सी या कैब किराये पर ले सकते हैं। कैलाश मानसरोवर जाने के लिए अन्य रेलवे स्टेशन कोटद्वार, ऋषिकेश, काठगोदाम, रामनगर और हरिद्वार जंक्शन हैं।

और पढ़े: नेपाल के दर्शनीय स्थल और घूमने की 10 खास जगह

10. कैलाश मानसरोवर की लोकेशन का मैप – Kailash Mansarovar Location

11. कैलाश मानसरोवर की फोटो गैलरी – Kailash Mansarovar Images

और पढ़े:

 

Write A Comment