राजस्थान की 10 सबसे प्रसिद्ध झीलें – Rajasthan Ki Jheel Ki Janakari In Hindi

Lakes Of Rajasthan In Hindi, राजस्थान भारत के पश्चिमी भाग में मौजूद एक सुंदर राज्य है, जो ज्यादातर अपने शाही अतीत के लिए जाना जाता है। इसके अलावा यह एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है जहाँ दुनिया भर से लोग आते हैं। राजस्थान व्यापक रूप से अपने स्थापत्य भवनों के लिए जाना जाता है। भारत का शाही राज्य राजस्थान उत्कृष्ट किलों, भव्य हवेलियों, शानदार महल और लक्जरी होटलों के अलावा लोकप्रिय झीलों के लिए भी प्रसिद्ध हैं।  राजस्थान में कई झीलें हैं जो राज्य की समृद्ध संस्कृति का वर्णन करती हैं और पर्यटकों के लिए सुन्दर और मनमोहक दृश्य प्रस्तुत करती है। चलिए आइये जानते है तो राजस्थान के प्रमुख और खूबसूरत झीलों के बारे में –

राजस्थान की 10 सबसे प्रसिद्ध झीलें – Lakes Of Rajasthan In Hindi

यहाँ हम आपको अपने लेख में राजस्थान की प्रमुख झीलों के बारे में अवगत कराने जा रहे हैं जिनकी जानकारी पाकर आप राजस्थान की यात्रा के लिए और अधिक उत्साहित हो सकते हैं –

पिछोला झील उदयपुर

पिछोला झील उदयपुर

उदयपुर के केंद्र में स्थित पिछोला झील एक कृत्रिम झील है। शहर की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी झीलों में से एक, पिछोला झील अपनी सुंदरता के कारण लाखों पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है। 1362 ई. में महाराणा लाखा के शासन काल के दौरान पिचू बंजारा द्वारा निर्मित, पिछोला झील की लंबाई 3 मील, चौड़ाई 2 मील और गहराई 30 फीट है। आपको बता दे महाराणा उदय सिंह ने झील के आकर्षण से मंत्रमुग्ध होकर इसे बड़ा किया और इस झील के तट पर एक बांध का निर्माण भी किया। उदयपुर का खूबसूरत सिटी पैलेस झील के पूर्वी किनारे पर विस्तृत है, जबकि मोहन मंदिर उत्तर-पूर्वी कोने में स्थित है। जबकि प्रसिद्ध लेक पैलेस पूरी तरह से बीच में बसा है और जग द्वीप पर जग मंदिर है। आप जब भी पिछोला झील की यात्रा पर आयें तो नोक विहार को जरूर एन्जॉय करने क्योंकि इसके बिना पिछोला झील की यात्रा अधूरी मानी जाती है।

और पढ़े: पिछोला झील का इतिहास और घूमने की पूरी जानकारी

फ़तेह सागर झील

फ़तेह सागर झील

उदयपुर के उत्तर-पश्चिम में स्थित, फतेह सागर झील एक शानदार झील है जो शहर के प्रमुख पर्यटन स्थलों में से एक है। अरावली पहाड़ियों से घिरी, यह शहर की दूसरी सबसे बड़ी कृत्रिम झील है जो अपनी सुंदर सुंदरता के लिए जानी जाती है। यहां का वातावरण शांत है जो पर्यटको  को शांति में समय बिताने के लिए आकर्षित करता है हैं। मोती मगरी रोड पर गाड़ी चलाकर कोई भी फतेह सागर झील की परिधि देख सकता है। आपको बता दे एक वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैली हुई फ़तेह सागर झील तीन अलग-अलग द्वीपों में विभाजित है। जो उदयपुर का एक प्रसिद्ध पिकनिक स्पॉट भी बना हुआ है इसके अलावा फतेह सागर झील नोक विहार के लिए भी लोकप्रिय बनी हुई है।

और पढ़े: फतेह सागर झील का इतिहास और घूमने की जानकारी

उदय सागर झील

उदय सागर झील

उदयपुर के पूर्व में लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित उदय सागर झील उदयपुर की पाँच अनोखी झीलों में से एक है। जिसका निर्माण 1559 में महाराणा उदय सिंह द्वारा शुरू किया गया था। झील वास्तव में महाराणा के राज्य को पर्याप्त पानी की आपूर्ति करने के लिए बेरच नदी पर बनाए जा रहे एक बांध का परिणाम है। आपको बता दे उदय सागर झील की लंबाई 4 किलोमीटर, चौड़ाई 2.5 किलोमीटर और इसकी गहराई 9 मीटर है जो उदयपुर की यात्रा करने वाले पर्यटकों के लिए लोकप्रिय जगह बनी हई है।

और पढ़े: उदय सागर झील घूमने की जानकारी 

दुध तलाई झील

दुध तलाई झील

छोटी-छोटी अद्भुद पहाड़ियों के बीच स्थित दुध तलाई झील उदयपुर का आकर्षक पर्यटक स्थल है। चारों ओर अद्भुत पहाड़ियों से घिरी हुई यह झील ऊंट और घोड़े की सवारी की आकर्षक गतिविधियाँ आयोजित करती है जो पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। दीन दयाल उपाध्याय पार्क और माणिक्य लाल वर्मा गार्डन भी दुध तलाई लेक का हिस्सा हैं जहाँ माणिक्य लाल वर्मा गार्डन, पिछोला झील और दुध तलाई झील पर्यटकों के लिए अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करता है। इसके अलावा पहाड़ी पर करणी माता का पवित्र मंदिर भी स्थित है जिसमे माता करणी की दूधिया सफेद मूर्ति स्थापित है।

जयसमंद झील उदयपुर

जयसमंद झील उदयपुर

उदयपुर शहर से 48 किलोमीटर की दूरी पर स्थित जयसमंद झील उदयपुर की सबसे प्रसिद्ध झील और एशिया की दूसरी सबसे बड़ी कृत्रिम झील है जिसे ढेबर के नाम से भी जाना जाता है। 1685 में, महाराणा जय सिंह ने गोमती नदी पर एक बांध के निर्माण के दौरान इस झील का निर्माण किया था। जयसमंद झील 36 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र को कवर करती है, यह 14 किलोमीटर की लंबाई और 9 किलोमीटर की चौड़ाई तक फैली है। इसके तटबंध पर छह, जटिल नक्काशीदार संगमरमर के सेनेटाफ हैं। और सात द्वीप शामिल हैं, जिनमें से एक भील मिनस जनजाति द्वारा बसा हुआ है। आपको बता दे की जयसमंद झील की यात्रा के दोरान पर्यटक मार्बल स्टेप्स से निकलता हुआ पानी को देखना और एक सुंदर नाव की सवारी का लुफ्त उठा सकते हैं।

और पढ़े: जयसमंद झील का इतिहास और घूमने की जानकारी

बड़ी झील उदयपुर

बड़ी झील उदयपुर

उदयपुर शहर की प्रसिद्ध झीलों में से एक बड़ी झील एक कृत्रिम झील है, जो महाराणा राज सिंह द्वारा सूखे के विनाशकारी प्रभावों को रोकने के लिए बनाई गई थी। उन्होंने झील का नाम जयन सागर अपनी माता जान देवी के नाम पर रखा। 1973 के सूखे के दौरान, झील उदयपुर के लोगों के लिए एक वरदान साबित हुई और आज यह झील शहर में स्थानीय लोगों और पर्यटकों दोनों के लिए एक लोकप्रिय आकर्षण बन गया है।  तीन छत्रियों से घिरी हई बड़ी झील देश को बेहतरीन ताज़ी पानी की झीलों में से एक और उदयपुर के प्रमुख पर्यटक आकर्षणों में गिना जाता है। शहर से लगभग 12 किमी दूर स्थित  झील अपने शांत और सुखद वातावरण के कारण स्थानीय लोगो के साथ-साथ पर्यटकों के लिए भी एक आकर्षक मनोरम स्थल बना हुआ है।

और पढ़े: उदयपुर घूमने की जानकारी और इसके 10 प्रमुख पर्यटन स्थल

फॉय सागर झील अजमेर

फॉय सागर झील अजमेर

अजमेर शहर के पश्चिम में स्थित मानव निर्मित फॉय सागर झील अजमेर के लोकप्रिय पर्यटक स्थलों में एक है। फॉय सागर झील का निर्माण 1892 में अंग्रेजी वास्तुकार मिस्टर फोय द्वारा सूखे के दौरान अजमेर में पानी की कमी को दूर करने के उद्देश्य के लिए किया गया था। इसीलिए इस झील का नाम उनके नाम पर रखा गया था। झील में स्थापित शिलालेख से देखा जा सकता है। इसकी मूल क्षमता 15 मिलियन क्यूबिक फीट है, और पानी 14,000,000 वर्ग फीट (1,300,000 मी 2) में फैला हुआ है। और अब यह झील पानी का एक महत्वपूर्ण स्रोत के साथ – साथ एक प्रसिद्ध पिकनिक स्पॉट भी बन गया है। जो पर्यटकों के लिए लोकप्रिय बना हुआ है। जहा से फॉय सागर झील की पडोसी अरावली चोटियों का सुरम्य नजारा भी देखा जा सकता है।

और पढ़े: फॉय सागर झील अजमेर घूमने की जानकारी 

आनासागर झील अजमेर

आनासागर झील अजमेर

अजमेर में आनासागर एक लुभावनी और शानदार कृत्रिम झील है, जो भारत के राजस्थान राज्य के अजमेर शहर में स्थित है। इस महत्वपूर्ण स्थल का निर्माण अंबाजी तोमर के आदेशानुसार करबाया गया था, जो राजसी राजा पृथ्वी राज चौहान के दादा थे। आनासागर झील हर साल गर्मियों के मौसम में सूख जाती है। लेकिन फिर भी सूर्यास्त के दौरान इसका नजारा देखने लायक होता हैं। झील के नजदीक बने कुछ मदिरों से भी झील का नजारा मंत्रमुग्ध करता है। वर्तमान समय में अना सागर झील अजमेर की सबसे लोकप्रिय और भारत की सबसे बड़ी झीलों में से एक हैं।

और पढ़े: आनासागर झील घूमने की जानकारी 

सिलीसेढ़ झील अलवर

सिलीसेढ़ झील अलवर

7 किलोमीटर के क्षेत्र में फेली हुई सिलीसेढ़ झील राजस्थान की सबसे खुबसूरत झीलो औरअलवर की लोकप्रिय जगहों में से एक है। पूर्व में 1845 में अलवर शहर को पानी की आपूर्ति के लिए सिलीसेढ़ झील को बनाया गया था जिसकी स्थापना का श्रेय महाराजा विनय खान को दिया जाता है| इस झील में एक शानदार झील महल है। जो कि महाराजा का  प्रिय माना जाता था। अलवर शहर से लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सिलीसेढ़ झील पर्यटकों के लिए एक लोकप्रिय पिकनिक स्थल है।

और पढ़े: अलवर सिलीसेढ़ झील घूमने की जानकरी

बालसमंद झील जोधपुर

बालसमंद झील जोधपुर
Image Credit : Hardik Bhansali

बेलसमंद झील एक कृत्रिम झील है जो मध्य शहर जोधपुर से केवल 5 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह 1159 ईस्वी में गुर्जर-प्रतिहार शासकों द्वारा बनाई गई थी। महाराजा सुर सिंह, जो इस कृत्रिम झील के निर्माता थे, उनको उनकी त्रुटिहीन सेवाओं के बदले सवाई राजा की उपाधि से सम्मानित किया गया था। जिसमे हरे-भरे बगीचों से घिरे, आम, पपीता, अनार, आदि जैसे विभिन्न प्रकार के पेड़ शामिल हैं। आप इस झील के पानी के पास लंबे समय तक टहल सकते हैं और आप बालसमंद पैलेस के रेस्तरां में खाने के साथ यहाँ बैठकर सुंदर झील और सूर्यास्त के दृश्य देख सकते हैं।

और पढ़े: जोधपुर के दर्शनीय स्थल 

पुष्कर झील

पुष्कर झील

अरावली पर्वतमाला के बीच स्थित पुष्कर झील, पुष्कर के प्रसिद्ध व लोकप्रिय पर्यटक स्थलों में से एक है। यह स्थान 52 स्नान घाटों और 500 से अधिक मंदिरों से घिरा हुआ हैं सम्पूर्ण भारत में इस झील को हिंदुओं के लिए एक पवित्र झील के रूप में जाना जाता है। पुष्कर झील में तीर्थयात्री पवित्र स्नान करने के लिए बहुत अधिक संख्या में आते हैं। हिंदू धर्मशास्त्रों के अनुसार पुष्कर झील को पांच पवित्र झीलों में से एक माना जाता हैं। जिन्हें सामूहिक रूप से पंच-सरोवर के नाम से जाना जाता हैं।

और पढ़े: पुष्कर झील घूमने की जानकारी और इसके आसपास के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल

अमर सागर झील जैसलमेर

अमर सागर झील जैसलमेर

अमर सागर झील राजस्थान के पश्चिमी जैसलमेर के बाहरी इलाके में, बाड़ा बाग से लगभग 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है जो अपने सुंदर और शांत वातावरण के कारण जैसलमेर का एक लोकप्रिय रमणिक स्थान है। यह झील सह नखलिस्तान है, जो अमर सिंह पैलेस से सटा है। इस महल का निर्माण 17 वीं शताब्दी के दौरान महारावल अखई सिंह ने अपने पूर्ववर्ती अमर सिंह के सम्मान में किया था। इस 5 मंजिला महल पूरा अपार्टमेंट के पैटर्न जैसा दिखता है जो अपने भित्ति चित्रों के लिए प्रसिद्ध है। अमर सिंह पैलेस से कई सीढ़ियाँ आपको सुंदर और शांत झील की ओर ले जाती हैं। महल और झील के परिसर में एक प्राचीन शिव मंदिर के साथ कई कुएं और तालाब भी स्थित हैं। झील के एक छोर पर आपको एक सौंदर्य नक्काशीदार जैन मंदिर देखने को मिलता है जो जैसलमेरी पत्थरों से सजी एक चमकदार वास्तुकला का दावा करता है।

और पढ़े: अमर सागर झील जैसलमेर घूमने की जानकारी

गडीसर झील जैसलमेर

गडीसर झील जैसलमेर
Image Credit : Seenu

जैसलमेर के तत्कालीन महाराजा महारावल गादी सिंह ने 1400 ईस्वी में गडीसर झील का निर्माण कराया था। झील को मूल रूप से वर्षा जल संचयन के लिए संरक्षण भंडार के रूप में बनाया गया था। प्राचीन काल में यह पूरे शहर के लिए प्रमुख जल स्रोतों में से एक था। कई मंदिरों के साथ झील भी बर्डवॉचर्स के लिए एक आदर्श स्थान है।

और पढ़े: जैसलमेर यात्रा में घूमने की जगहें

सांभर झील जयपुर

सांभर झील जयपुर

जयपुर से लगभग 80 किलोमीटर दूरी पर स्थित सांभर झील जयपुर के लोकप्रिय पर्यटक स्थलों में से एक है। जिसे राजस्थान की साल्ट लेक” के नाम से भी जाना जाता है जो 22.5 किलोमीटर क्षेत्र में फैली हुई है। भारत की इस सबसे बड़ी अंतर्देशीय नमक झील को ‘थार रेगिस्तान से एक उपहार’ भी माना जाता है। आपको बता दे की सांभर झील को नमकीन / नमक के उत्पादन के लिए जाना जाता है जो देश की सबसे बड़ी नमक विनिर्माण इकाइयों में से एक है। इसके अलावा सांभर झील ‘शाकम्बरी देवी’ मंदिर में देवी के दर्शन और पक्षी प्रेमियों के लिए भी आकर्षण का केंद्र बनी हई है जहा राजहंस, पेलिकन और जलप्रपात देखने को मिलते है। अगर आप अपनी देनिक गतिविधियों को छोड़कर कुछ दिन घूमने का प्लान बना रहे है तो सांभर झील जयपुर में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है।

और पढ़े: जयपुर सांभर झील घूमने की जानकारी 

नक्की झील माउंट आबू

नक्की झील माउंट आबू

नक्की लेक माउंट आबू में अरावली पर्वतमाला में स्थित एक लोकप्रिय झील है जिसे स्थानीय रूप से नक्की झील के नाम से भी जाना जाता है। यह झील प्रकृति प्रेमियों के लिए स्वर्ग के सामान मानी जाती है क्योंकि अद्भुत प्राकृतिक दृश्यों से भरी हुई यह झील वास्तव में माउंट आबू का सबसे प्रमुख आकर्षण है। नक्की लेक भारत की पहली मानव निर्मित झील है जिसकी गहराई लगभग 11,000 मीटर और चौड़ाई एक मील है। माउंट आबू के केंद्र में स्थित यह आकर्षक झील हरे भरे पहाड़ों, पहाड़ों और अजीब आकार की चट्टानों से घिरी हुई है। माउंट आबू की उड़ने वाली हवाएं और सुखदायक तापमान में बोटिंग करना आपके दिल को खुश कर देगी। बताया जाता है कि नक्की झील में, महात्मा गांधी की राख को 12 फरवरी 1948 को विसर्जित कर दिया गया था और गांधी घाट का निर्माण किया गया था। यह झील प्रकृति प्रेमियों और फोटोग्राफी के शौकीनों के लिए एक बेहद लोकप्रिय जगह है।

और पढ़े: नक्की झील घूमने की जानकारी और इतिहास

गैबसागर झील डूंगरपुर

गैबसागर झील डूंगरपुर

गैबसागर झील डूंगरपुर का एक प्राकृतिक चमत्कार है जो डूंगरपुर के प्रमुख पर्यटन स्थलों में शामिल है। गैबसागर झील यहां आने वाले लोगों को सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और आध्यात्मिक रूप से जोड़ता है। महाराजा गोपीनाथ द्वारा निर्मित झील से कई कहानियां जुड़ी हुई है। इस जिले के कई महल भी स्थित है। यहां श्रीनाथजी के प्रसिद्ध मंदिर स्थित है जो भगवान शिव को समर्पित है। यह मंदिर डूंगरपुर के प्रसिद्ध मूर्तिकारों की शानदार शिल्पकारी को दर्शाता है, जिन्होंने मंदिर परिसर में कुछ शानदार मंदिरों को उकेरा है। यहां की यात्रा करने वाले पर्यटक नाव की सवारी करके अपनी यात्रा को खास बना सकते हैं। अगर आप डूंगरपुर की यात्रा करने जा रहें हैं तो आपको गैब सागर झील घूमने के लिए जरुर जाना चाहिए।

और पढ़े: गैब सागर झील घूमने और इसके पर्यटन स्थल की पूरी जानकारी

आनंद सागर झील बांसवाड़ा

आनंद सागर झील बांसवाड़ा

बांसवाड़ा के पूर्वी हिस्से में स्थित आनंद सागर झील राजस्थान राज्य में सबसे अधिक चर्चित झीलों में से एक है। जो पर्यटकों के घूमने के लिए रमणीय स्थल बना हुआ है। आध्यात्मिक पेड़ों की कल्पित पंक्तियों- कल्प बृक्ष से सुशोभित और शांति में आच्छादित, इस झील को महाराणा जगमाल की रानी: लालची बाई द्वारा निर्मित किया गया था। आपको बता दे आनंद सागर झील के आसपास के पर्यटक कुछ ऐतिहासिक मकबरों को भी देख सकते हैं।

और पढ़े: बांसवाड़ा का इतिहास, राजस्थान के इतिहास से अलग कैसे है?

नवल सागर झील बूंदी

नवल सागर झील बूंदी

नवल सागर झील एक विशाल मानव निर्मित झील है जिसे तालगढ़ किले से देखा जा सकता है। आपको बता दें कि इस झील में कुछ छोटे द्वीप भी हैं। जिसके केंद्र में भगवान वरुण देव को समर्पित एक आधा जलमग्न मंदिर है। यह झील शहर के बीच में स्थित है इसलिए कोई भी इस झील में शहर का प्रतिबिंब देख सकता है। पूरे बूंदी शहर की दर्पण इमेज जब झील के निर्मल जल पर पड़ती है तो यह पर्यटकों को बेहद आकर्षक करती है।

जैतसागर झील बूंदी

जैतसागर झील बूंदी
Image Credit : Lovekush Mehra

तारागढ़ किले के करीब स्थित जैतसागर झील पहाड़ियों से घिरी हुई सुरम्य झील है, जो बूंदी के लोकप्रिय पर्यटक स्थलों में से एक है। आपको बता दे जैतसागर झील सर्दियों और मानसून के दौरान खिलने वाले सुंदर कमल के फूलों से ढकी हुई होती है। सुरम्य झील के बीच खिलने वाले सुंदर कमल के फूलों का मनमोहक दृश्य पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।

कनक सागर झील बूंदी

कनक सागर झील बूंदी

बूंदी शहर से लगभग 67 किलोमीटर दूर स्थित कनक सागर झील एक अद्भुत सपाट झील है। जो हेडेड हंस सहित कई प्रवासी पक्षियों का घर है। जहाँ पर्यटक कनक सागर झील की यात्रा के दोरान अधिकांश इन पक्षियों को झील में या झील के किनारे देख सकतें है।

इस लेख में आपने राजस्थान की प्रमुख झीलों के बारे में जाना है आपको हमारा यह लेख केसा लगा हमे कमेंट करके जरूर बतायें

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

और पढ़े:

Leave a Comment