Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Gobind Sagar Lake In Hindi, गोविन्द सागर झील 1976 में निर्मित एक मानव निर्मित जलाशय है, इसका झील का स्रोत भाखड़ा में हाइडल बांध है। दुनिया के सबसे ऊंचे गुरुत्व बांधों में से एक, भाखड़ा बांध इसकी सबसे कम नींव से 225.5 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। गोविन्द सागर झील यात्रियों के लिए एक पर्यटन स्थल का काम करती है और साहसिक गतिविधियों, मनोरंजन आदि के लिए प्रसिद्ध है। झील प्रकृति प्रेमियों और साहसिक गतिविधियों को पसंद करने वाले लोगों के लिए स्वर्ग के समान है। गोविन्द सागर झील सच्ची हिमालयी सुंदरता का प्रतीक है। हिमालयन रेंज के बीच में, हरे भरे पहाड़ इसकी सुंदरता को और भी अधिक बढ़ाते हैं। गोविन्द सागर झील इस क्षेत्र में सबसे अधिक देखी जाने वाली पर्यटक स्थलों में से एक है और विभिन्न प्रजातियों के मछलियों के अलावा वनस्पतियों और जीवों के लिए प्रसिद्ध है।

1962 में, झील को ‘जलपक्षी शरण’ के रूप में मान्यता दी गई थी। आज भी यह झील कई प्रजातियों के पक्षियों और जानवरों का घर है, जिनमें पैंथर, भेड़िया, चौसिंगा, सांभर, नीलगाय, चिंकारा और जंगली सूअर आदि के नाम शामिल हैं। आपको बता दें कि गोविन्द सागर झील में जल स्तर में उतार-चढ़ाव बना रहता है। एक पर्यटन स्थल होने के साथ यह झील तैराकी, सर्फिंग, रोइंग, कैनोइंग, वाटर-स्कीइंग, कयाकिंग और व्हाइट वाटर रिवर राफ्टिंग जैसी कई साहसिक खेल गतिविधियों का आनंद प्रदान करती है। अगर आप गोविन्द सागर झील घूमने की योजना बना रहें हैं तो इस लेख को जरुर पढ़ें, यहाँ हम आपको गोविन्द सागर झील घूमने के बारे जानकारी दे रहें हैं।

1. गोविन्द सागर झील में मनोरंजन के लिए क्या करे – Things To Do At Gobind Sagar Lake In Hindi

गोविन्द सागर झील में मनोरंजन के लिए क्या करे

Image Credit: Naveen Sharma

गोविन्द सागर झील की यात्रा के समय विशाल भाखड़ा बांध को देखना भी एक खास अनुभव साबित हो सकता है। जब भी आप झील की यात्रा करने तो इस बाँध को जरुर देखने के लिए जाएं। इसके अलावा नांगल बांध अपने दूसरे आधे भाग से भाखड़ा से 15 किमी नीचे है, जिसे एक साथ भाखड़ा-नांगल बाँध के रूप में जाना जाता है। यह झील मछली पकड़ने के लिए भी जानी जाती है, क्योंकि यहां 50 से अधिक प्रजातियों की मछलियां पाई जाती हैं।

और पढ़े: हिमाचल प्रदेश के 10 सबसे खास पर्यटन स्थल 

2. गोविन्द सागर झील में वाटर स्पोर्ट्स – Water Sports In Gobind Sagar Lake In Hindi

गोविन्द सागर झील में वाटर स्पोर्ट्स

Image Credit: Yogesh Bansal

गोविन्द सागर झील में वाटर स्पोर्ट्स मुख्य रूप से वर्ष के कुछ महीनों तक सीमित रहते हैं, आमतौर पर अगस्त से जनवरी के महीनों तक जब यहाँ पर पानी का स्तर अच्छा होता है। यहाँ पर रेगाटस (नाव दौड़) की एक श्रृंखला पर्यटन और नागरिक उड्डयन विभाग द्वारा आयोजित की जाती है। इस दौरान पर्यटक बोटिंग, सेलिंग और रोइंग का मजा ले सकते हैं। यहां फेरी की सवारी एक आम दृश्य है और स्पीड बोटिंग पर्यटकों के लिए एक प्रमुख आकर्षण है। इन वाटर स्पोर्ट्स के अलावा भी पर्यटक सतलज नदी के किनारों पर कायाकिंग, कैनोइंग और व्हाइट वाटर रिवर राफ्टिंग भी कर सकते हैं।

3. गोविन्द सागर झील घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Gobind Sagar Lake In Hindi

गोविन्द सागर झील घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

Image Credit: Amol Verma

गोविन्द सागर झील की यात्रा आप साल में कभी भी कर सकते हैं और यहाँ के लुभावने और विचित्र दृश्यों को देख सकते हैं। लेकिन जून से अगस्त तक झील की यात्रा करना बेहद सुखद होगा क्योंकि इन महीनों में बारिश होती है और यह वो समय है जब झील अपने रमणीय रूप में सबसे अच्छी है। सितंबर से दिसंबर तक महीनों के दौरान जब झील का जल स्तर अच्छा होता है तो पर्यटन विभाग मनोरंजक गतिविधियों को बढ़ावा देता है, इसलिए अगर आप साहसिक खेलों को पसंद करते हैं तो वर्ष में इस समय झील की यात्रा करें।

4. गोविन्द सागर झील के घूमने के लिए टिप्स – Tips For Visiting Gobind Sagar Lake In Hindi

गोविन्द सागर झील के घूमने के लिए टिप्स

Image Credit: Siddharth Nema

  • भाखड़ा बांध में आने वाले पर्यटकों के लिए नंगल शहर से प्रवेश की अनुमति प्राप्त करने के लिए वैध पहचान पत्र पेश करना जरुरी है।
  • डैम में और उसके आसपास फोटोग्राफी प्रतिबंधित है।
  • झील के कुछ क्षेत्रों में तैरने की अनुमति है लेकिन यह आप अपनी रिस्क पर ही करें। भँवर और गहरे पानी जैसे खतरों से सावधान रहें।

और पढ़े:  बिलासपुर हिमाचल प्रदेश के प्रमुख पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

5. गोविन्द सागर झील के आस पास घूमने लायक पर्यटन और आकर्षण स्थल – Places To Visit Near Gobind Sagar Jheel In Hindi

गोविन्द सागर झील हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर शहर से 33 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, आप अगर शहर की यात्रा पर हैं तो इसके अलावा झील के पास स्थित प्रमुख पर्यटन स्थलों की सैर भी कर सकते हैं।

5.1 व्यास गुफा – Vyas Cave In Hindi

व्यास गुफा

Image Credit: Chhatar Pal Singh

व्यास गुफा, सतलज नदी के तट पर है, जहाँ महाकाव्य महाभारत के लेखक ऋषि व्यास तपस्या के दिनों में यहाँ रहे थे। यह गुफा 610 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है और सतलुज के बाएं किनारे पर स्थित है। इन गुफाएँ की वजह से इस शहर को पहले शहर व्यासपुर के नाम से जाना जाता था। अगर आप इतिहास प्रेमी है तो आपको इन गुफाओं को देखने के लिए जरुर जाना चाहिए।

5.2 कंदूर ब्रिज – Kandrour Bridge In Hindi

कंदूर ब्रिज

Image Credit: Abhay Thakur

कंदूर ब्रिज कभी सतलज पर यह पुल कभी एशिया का सबसे ऊँचा पुल था और 80 मीटर की ऊँचाई पर बना था, जो आज भी दुनिया के सबसे ऊँचे पुलों में से एक है। यह पुल चूना पत्थर की चट्टानों से घिरा हुआ है और नीचे की नदी हिमालय के ग्लेशियरों के पिघलने के पानी के कारण ग्रीष्मकाल के दौरान कगार पर होती है।

5.3 भाखड़ा नांगल बांध बिलासपुर – Bhakra Nangal Dam In Hindi

भाखड़ा नांगल बांध बिलासपुर

भाखड़ा नांगल बांध हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले में सतलुज नदी पर भाखड़ा गाँव में स्थित है। बता दें कि इस बांध के जलाशय को गोबिंद सागर ’के रूप में जाना जाता है, जिसमें 9.34 बिलियन क्यूबिक मीटर पानी जमा होता है। यह बाँध हर साल देश भर से पर्यटकों की एक बड़ी संख्या को अपनी तरफ आकर्षित करता है। भाखड़ा बांध नांगल शहर से 15 किमी दूर है। भाखड़ा नंगल बहुउद्देश्यीय बांध भारत के स्वतंत्र होने के बाद नदी घाटी विकास योजनाओं में से हैं। यह दुनिया के सबसे ऊंचे गुरुत्वाकर्षण बांधों में से एक है।

और पढ़े: भाखड़ा नांगल बांध की जानकारी और प्रमुख पर्यटन स्थल 

5.4 नाहर सिंह – Nahar Singh Temple In Hindi

नाहर सिंह

Image Credit: Manish Patial

बता दें कि बिलासपुर के लोग बाबा नाहर सिंह में बहुत विश्वास रहते हैं और उनकी पूजा भी करते हैं। नाहर सिंह मंदिर उनके समर्पण में बनाया गया था जिसमें उनकी चप्पलें रखी हुई हैं। नाहर सिंह बाबा का मंदिर अपने आप में एक धार्मिक महत्व रखता है और मंदिर मई- जून के मध्य में मंगलवार को शहर में मेले का आयोजन भी करता है।

5.5 लक्ष्मी नारायण मंदिर – Laxmi Narayan Mandir In Hindi

लक्ष्मी नारायण मंदिर

Image Credit: Golu Rana

लक्ष्मी नारायण मंदिर बिलासपुर का एक प्रमुख अद्भुत मंदिर है जो देवी लक्ष्मी और उनके पति भगवान विष्णु को समर्पित है। यह मंदिर भगवान विष्णु और देवी लक्ष्मी के भक्तों के लिए धार्मिक महत्व रखता है। मंदिर में भक्त अक्सर पूजा करने और देवताओं से आशीर्वाद लेने के लिए आते हैं। सुंदर मंदिर का निर्माण शिखर शैली प्रकार की वास्तुकला के अनुसार किया गया है, जिसकी वजह से यह दुनियाभर से वास्तुकला प्रेमियों को आकर्षित करता है। मंदिर बिलासपुर बस स्टैंड के बहुत करीब स्थित है, अगर आप बिलासपुर की यात्रा कर रहें हैं तो आपको इस मंदिर में दर्शन के लिए जरुर जाना चाहिए।

और पढ़े: जाखू मंदिर का इतिहास और आस-पास घूमने की जगह

5.6 कोलडैम बांध – Koldam Dam In Hindi

कोल्डम बांध

Image Credit: Pankaj Yadav

कोलडैम बांध सतलुज नदी पर बनाया गया है और यह बिलासपुर से लगभग 18 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। कोलडैम बिलासपुर के सबसे प्रमुख आकर्षणों में से एक है और बड़ी संख्या में पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। यह बांध प्राकृतिक परिदृश्य से घिरा हुआ है और अक्सर इस क्षेत्र में लोग पिकनिक मनाने के लिए आते हैं।

5.7 फोर्ट बछरेटू – Bachhretu Fort In Hindi

फोर्ट बछरेटू

Image Credit: Ankush Kumar Sharma

बछरेटू किला बिलासपुर जिले में स्थित प्राचीन किला है जो 14 वीं शताब्दी में बिलासपुर के राजा रतन चंद के शासनकाल के दौरान बनाया गया था। यह शानदार संरचना अब खंडहर बन चुकीं है, लेकिन देश में काफी ऐतिहासिक महत्व का माना जाता है। बछरेटू किला समुद्र तल से 3000 फीट की ऊंचाई पर स्थित हैं। यह किला अब भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अंतर्गत आती है और पर्यटकों के लिए खुला हुआ है। बछरेटू किला इतिहास प्रेमियों और फ़ोटोग्राफ़ी के शौकीनों के लिए एक आदर्श आकर्षण है।

और पढ़े: मनाली अभयारण्य घूमने की जानकारी और पर्यटन स्थल 

5.8 मार्कंडेय ऋषि मंदिर – Markandeya Rishi Temple In Hindi

मार्कंडेय ऋषि मंदिर

Image Credit: Narender Thakur

मार्कंडेय जी मंदिर बिलासपुर से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित मार्कंडेय ऋषि को समर्पित धार्मिक स्थल है। इस मंदिर में भक्त ऋषि मार्कंडेय की पूजा करने के लिए जाते हैं। भले ही यह एक धार्मिक स्थल है लेकिन मंदिर की सुंदरता भी दुनिया भर से पर्यटकों को आकर्षित करती है। ऋषि मार्कंडेय मंदिर के पास एक झरना है जिसे बेहद पवित्र माना जाता है क्योंकि इसमें औषधीय गुण पाए जाते हैं। मार्कंडेय जी की मूर्ति की भी अपनी अलग खासियत है। भक्तों का यह भी मानना ​​है कि ऋषि मार्कंडेय उन्हें कई शारीरिक बीमारियों का इलाज कर सकते हैं। कई निःसंतान दंपति संतान प्राप्ति की उम्मीद में ऋषि मार्कंडेय की पूजा करने के लिए आते हैं।

5.9 कहलूर किला – Kahlur Fort In Hindi

कहलूर किला

कहलूर किला या कोट-कहलूर एक राजसी संरचना है जो बिलासपुर जिले में समुद्र तल से लगभग 3600 फीट ऊपर स्थित है। बिलासपुर को ब्रिटिश काल के दौरान एक रियासत कहलूर के रूप में जाना जाता था। पहाड़ी पर स्थित यह किला बिलासपुर का एक प्रमुख आकर्षण है और बिलासपुर से काफी पास होने की वजह से पर्यटक यहाँ पिकनिक मानाने के लिए अक्सर आते हैं। इतिहास प्रेमी और वास्तुकला के दीवाने लोगों को यह किला बहुत लुहावना लगता है। कहलूर किला पूरी तरह से पत्थर से बना एक प्राचीन ढांचा है। यहाँ से पर्यटक साफ नीले आसमान के नीचे हरियाली भरी पहाड़ी का सुंदर मनोरम दृश्य देख सकते हैं।

5.10 श्री नैना देवी जी मंदिर – Sri Naina Devi Ji In Hindi

श्री नैना देवी जी मंदिर

श्री नैना देवी जी का मंदिर हिमाचल प्रदेश राज्य के बिलासपुर जिले में एक पहाड़ी पर स्थित है। आपको बता दें कि यह मंदिर समुद्र तल से 1219 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है जिसका निर्माण  राजा बीर चंद ने 8 वीं शताब्दी के दौरान करवाया था। यह मंदिर निर्माण के बाद कई लोककथाओं के लिए जाना जाता है और आज पर्यटकों और तीर्थयात्रियों द्वारा बहुत पवित्र माना जाता है। इस मंदिर में नियमित रूप में पर्यटकों की भीड़ बनी रहती है। नैना देवी मंदिर के आसपास कई रहस्यमय लोक कथाएँ हैं, जो पर्यटकों को यात्रा करने के लिए आकर्षित करती हैं।

और पढ़े: श्री नैना देवी जी मंदिर के दर्शन की जानकारी और पर्यटन स्थल

6. गोविन्द सागर झील कैसे पहुंचे – How To Reach Gobind Sagar Lake In Hindi

भाखड़ा बांध पंजाब के नंगल शहर से केवल 13 किमी दूर है, यहाँ आप उचित मूल्य पर टैक्सी / कैब किराए पर लेकर आसानी से पहुँच सकते हैं। इसके अलावा आप वैकल्पिक रूप से हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर की यात्रा कर सकते हैं, जो शिमला और चंडीगढ़ जैसे प्रमुख पर्यटन स्थलों सड़क के माध्यम से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। बिलासपुर गोविन्द सागर झील से केवल 33 किमी दूर है। नई दिल्ली, हरिद्वार, अमृतसर, कोलकाता और अंबाला जैसे प्रमुख शहरों से नांगल बांध रेलवे स्टेशन के लिए ट्रेनें उपलब्ध हैं।

6.1 फ्लाइट से गोविन्द सागर झील बिलासपुर (एचपी) कैसे पहुंचे – How To Reach Gobind Sagar Lake Bilaspur (HP) By Flight In Hindi

फ्लाइट से गोविन्द सागर झील बिलासपुर (एचपी) कैसे पहुंचे

अगर आप हवाई जहाज से बिलासपुर की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि इस शहर के पास अपना कोई हवाई अड्डा नहीं है। बिलासपुर का निकटतम हवाई अड्डा शिमला हवाई अड्डा है जो बिलासपुर से 124 किमी दूर है। बिलासपुर से शिमला के बीच यातायात का सबसे अच्छा साधन टैक्सी किराए पर लेना है। आप शिमला से बिलासपुर के लिए बस भी जा सकते हैं।

6.2 सड़क मार्ग से गोविन्द सागर झील कैसे पहुंचें – How To Reach Gobind Sagar Lake By Road In Hindi

सड़क मार्ग से गोविन्द सागर झील कैसे पहुंचें

बिलासपुर हिमाचल प्रदेश के प्रमुख शहरों और आसपास के राज्यों के शहरों के साथ सड़क माध्यम से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। शिमला, दिल्ली और चंडीगढ़ जैसे प्रमुख शहरों से आप बिलासपुर के लिए बस की मदद से आसानी से पहुँच सकते हैं।

6.3 ट्रेन से गोविन्द सागर झील बिलासपुर (HP) कैसे पहुँचे – How To Reach Gobind Sagar Lake Bilaspur (HP) By Train In Hindi

ट्रेन से गोविन्द सागर झील बिलासपुर (HP) कैसे पहुँचे

बिलासपुर का अपना कोई रेलवे स्टेशन नहीं है इसलिए अगर आप ट्रेन से यात्रा करना चाहते हैं तो आपको पंजाब में कीरतपुर साहिब बिलासपुर का निकटतम रेलवे स्टेशन है। यह बिलासपुर से 94 किमी की दूरी पर स्थित है। कीरतपुर साहिब से बिलासपुर जाने का सबसे अच्छा तरीका एक टैक्सी किराए पर लेना या बिलासपुर के लिए बस जाना है।

और पढ़े: डलहौजी के 5 प्रमुख पर्यटन स्थल

7. गोविन्द सागर झील का नक्शा – Gobind Sagar Lake Map

8. गोविन्द सागर झील की फोटो गैलरी – Gobind Sagar Lake Images

View this post on Instagram

ਕੁਦਰਤ 😍

A post shared by @ jatinderpal_singh302 on

View this post on Instagram

Blessed are those who see beauty where others see nothing

A post shared by KhEdi (@madcap__photography) on

और पढ़े:

Write A Comment