अग्रसेन की बावली की कहानी और घूमने की जानकारी – Agrasen ki Baoli in Hindi

Agrasen ki Baoli in Hindi : अग्रसेन की बावली नई दिल्ली में हैली रोड पर स्थित एक ऐतिहासिक स्मारक है जिसे पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा अवशेष अधिनियम, 1958 के तहत एक संरक्षित स्मारक घोषित किया गया है। बता दे अग्रसेन की बावली को उग्रसेन की बावली के रूप में भी जाना जाता है। दिल्ली के व्यापारिक टावरों और आवासीय अपार्टमेंटों के बीच स्थित यह स्थान फोटोग्राफी प्रेमियों और कपल्स के लिए एक शानदार जगह है। यह बावली दिल्ली का लोकप्रिय पर्यटक स्थल होने के साथ साथ अपनी प्रेतवाधित गतिविधियों के कारण भी चर्चा का विषय बनी हुई है जिस वजह से इसकी गिनती दिल्ली की सबसे डरावनी जगहें में की जाती है। लेकिन इसके बाबजूद भी यहाँ स्थानीय लोगो और पर्यटकों की काफी भीड़ देखी जाती है। आमिर खान की फिल्म ‘पीके’ की शूटिंग के बाद यह जगह और भी लोकप्रिय हो गयी है।

यदि आप भी अग्रसेन की बावली घूमने जाने वाले है या फिर इस दिलचस्प बावली के बारे में जानना चाहते है तो हमारे इस लेख को पूरा जरूर पढ़े जिसमे हम अग्रसेन की बावली की भुतिया कहानी, इतिहास और अन्य जानकारी के बारे में बात करने वाले है –

Table of Contents

अग्रसेन की बावली प्रेतवाधित कहानियां – Agrasen ki Baoli Haunted story in Hindi

अग्रसेन की बावली शहरी किंवदंतियों के बारे में काफी प्रसिद्ध है जो इसे भुतिया और प्रेतवाधित साबित करते है। यह बावली कई असामान्य गतिविधियों का केंद्र रहा है जो इसे दिल्ली की डरावनी जगहें में से एक बनाती है। इसीलिए लोग आज भी शाम होने के बाद यहाँ आने से खोफ खाते है। कई लोग मानते है की यहाँ काले जादू या आत्मा का साया है। कहा जाता है एक बार अग्रसेन की बावली पानी काले पानी से भर गया था जो लोगों को आत्महत्या करने के लिए कूदने के लिए मजबूर करता था। इसके अलावा यहाँ कई बार लोगो ने अजीबोगरीब घटनायों को महसूस किया है।

अग्रसेन की बावली की हिस्ट्री – History of Agrasen Ki Baoliin Hindi 

अग्रसेन की बावली की हिस्ट्री - History of Agrasen Ki Baoli in hindi
Image Credit : Srikanth Murali

अग्रसेन की बाओली का इतिहास रहस्य में डूबा हुआ है, और इस बात की कोई प्रमाणिक पुष्टि नही है कि बावली के निर्माण के पीछे कौन था। किंवदंती के अनुसार आमतौर पर कहा जाता है कि इसका निर्माण राजा अग्रसेन ने महाभारत काल के दौरान किया था और फिर बाद में 14 वीं शताब्दी में अग्रवाल समुदाय द्वारा इसे फिर से बनवाया गया, जो राजा के वंशज हैं। जबकि बावली की वास्तुकला के आधार पर माना जाता है कि यह तुगलक या लोदी वंश के शासनकाल से संबंधित भी हो सकती है। इस जलाशय को एक महत्वपूर्ण सामुदायिक स्थान माना जाता था, जहाँ महिलाएँ ग्रीष्मकाल की गर्मी से दूर रहने और समय बिताने के लिए आती थीं। रस्म और धार्मिक अनुष्ठानों के लिए भी बाओली के अल्कोव का उपयोग किया जाता था।

उग्रसेन की बावली की वास्तुकला – Architecture of Agrasen ki Baoli in Hindi 

अग्रसेन की बावली की वास्तुकला - Architecture of Agrasen ki Baoliin Hindi
Image Credit : Udit Gautam

60 मीटर लम्बाई और 15 मीटर चौड़ाई के साथ अग्रसेन की बावली की संरचना अपने आप में अद्वितीय है क्योंकि इसका आकार उस समय के दिल्ली में मौजूद जलाशयों के पारंपरिक दौर के आकार से काफी अलग है। 103 चरणों की एक श्रृंखला में निर्मित, बाओली धीरे-धीरे जमीन में उतरती है। इन चरणों को तीन स्तरों पर बनाया गया है, जिनमें से प्रत्येक एक लैंडिंग के रूप में कार्य करता है जहां लोग आराम कर सकते हैं। ये स्तर धनुषाकार पत्थर की नक्काशी के समान हैं जो एक दूसरे के लिए सुंदर समरूपता में स्थित हैं। इसकी वास्तुकला की शैली प्रदर्शित करती है कि तुगलक काल के दौरान इसका पुनर्निर्माण किया गया था।

और पढ़े : कपल्स के लिए दिल्ली के बेस्ट रोमांटिक प्लेसेस

अग्रसेन की बावली में मस्जिद – Mosque at Agrasen ki Baoli in Hindi 

उग्रसेन की बावली का एक और प्रमुख आकर्षण मस्जिद है जो इसके दक्षिण-पश्चिम की ओर स्थित है। हलाकि इस मस्जिद की छत गिर गिर गई है, लेकिन उसके स्तंभ अभी भी मौजूद हैं जिनम बौद्ध-चैत्य नक्काशी की हुई है।

अग्रसेन की बावली खुलने का समय –  Timings of Agrasen ki Baoli in Hindi

अग्रसेन की बावली खुलने का समय –  Timings of Agrasen ki Baoli in Hindi
Image Credit : Nadir Wasim

बता दे अग्रसेन की बावली पर्यटकों के घूमने के लिए सुबह 7.00 बजे से शाम 6.00 बजे तक खुली रहती है इस दौरान आप कभी यहाँ घूमने आ सकते है।

अग्रसेन की बावली की एंट्री फीस – Entry Fee of Agrasen ki Baoli

अग्रसेन की बावली घूमने आने वाले पर्यटकों को बता दे यहाँ प्रवेश और घूमने के लिए कोई भी शुल्क नही है। पर्यटक यहाँ बिना किसी शुल्क का भुगतान किये आराम से घूम सकते है।

अग्रसेन की बावली के आसपास घूमने की जगहें – Places to visit around Agrasen ki Baoli in Hindi

यदि आप अपने फ्रेंड्स या फैमली के साथ उग्रसेन की बावली घूमने जाने का प्लान बना रहे है तो हम आपको दिल्ली अग्रसेन की बावली के साथ साथ अन्य कई प्रसिद्ध पर्यटक स्थलों से भरी हुई है जिन्हें आप अपनी यात्रा दौरान घूमने जा सकते है –

अग्रसेन की बावली घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Agrasen ki Baoli in Hindi

अग्रसेन की बावली घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best time to visit Agrasen ki Baoli in Hindi
Image Credit : Saleem sali

उग्रसेन की बावली और दिल्ली के अन्य पर्यटक स्थलों की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय शुरुआती वसंत या फरवरी का महिना है। दिसंबर और जनवरी के महीने में दिल्ली में तेज ठंड पड़ती है। इसलिए आप सितंबर से नवंबर और फरवरी से मार्च के महीने में दिल्ली की यात्रा कर सकते हैं और इस आकर्षक संरचना को देखने के लिए जा सकते हैं। अप्रैल से जून तक दिल्ली में गर्मी का मौसम होता है जो यात्रा करने के लिए आदर्श समय नहीं है।

और पढ़े : भारत की 12 प्रसिद्ध और प्राचीन बावड़ीयां

अग्रसेन की बावली की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स – Hotels in Delhi in Hindi 

अग्रसेन की बावली की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स - Hotels in Delhi in Hindi 

यदि आप उग्रसेन की बावली की यात्रा में रुकने के लिए होटल्स को सर्च कर रहे है तो आपको बिलकुल चिंतित होने की आवश्यकता नही है। क्योंकि भारत की राजधानी दिल्ली के ऐसा शहर जिसके कोने कोने में सभी बजट की होटल्स उपलब्ध है जिनको आप अपनी यात्रा में रुकने के लिए सिलेक्ट कर सकते है।

अग्रसेन की बावली दिल्ली केसे पहुचें – How to reach Agrasen ki Baoli in Hindi

अग्रसेन की बावली दिल्ली केसे पहुचें – How to reach Agrasen ki Baoli in Hindi

अग्रसेन की बावली का निकटतम मेट्रो स्टेशन राजीव चौक है। डीटीसी कई दर्शनीय स्थलों की बसों का संचालन करती है, जो दिल्ली के अधिकांश लोकप्रिय पर्यटक आकर्षणों पर रुकती हैं। आप टैक्सी किराए पर लेकर भी बावली पहुंच सकते हैं। लेकिन यदि आप दिल्ली के बाहर से अग्रसेन की बावली की यात्रा करने वाले है तो आप फ्लाइट, ट्रेन और सड़क मार्ग में से किसी से ट्रेवल करके पहले दिल्ली आ सकते है और उसके बाद एक टेक्सी, कब या मेट्रो की मदद से अग्रसेन की बावली जा सकते है।

फ्लाइट से दिल्ली कैसे पहुंचे – How To Reach Delhi By Air In Hindi

फ्लाइट से दिल्ली कैसे पहुंचे – How To Reach Delhi By Air In Hindi

इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा शहर के पश्चिम भाग में स्थित है और दुनिया के सबसे अच्छे हवाई अड्डों में से एक है। इसके तीन ऑपरेशनल टर्मिनल हैं- टर्मिनल 1 सी / 1 डी जो घरेलू टर्मिनल है, जिसका इस्तेमाल इंडिगो, स्पाइसजेट और गोएयर जैसे टर्मिनल 3, अंतरराष्ट्रीय उड़ानों और घरेलू वाहक जेट एयरवेज और एयर इंडिया और टर्मिनल 2 द्वारा उपयोग किए जाने वाले टर्मिनल 3 के दौरान किया जाता है। हवाई अड्डे से मुख्य शहर की यात्रा करने के लिए आप टर्मिनल 3 से चलने वाली दिल्ली एयरपोर्ट मेट्रो एक्सप्रेस का उपयोग कर सकते हैं। वैकल्पिक रूप से, आप हवाई अड्डे के बाहर उपलब्ध दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) बसों का उपयोग कर सकते हैं या टैक्सी बुक करके अपने गंतव्य तक पहुच सकते हैं।

सड़क मार्ग से दिल्ली कैसे पहुंचें – How To Reach Delhi By Road In Hindi

सड़क मार्ग से दिल्ली कैसे पहुंचें – How To Reach Delhi By Road In Hindi

दिल्ली देश के सभी प्रमुख शहरों से सड़क मार्ग से जुड़ा हुआ है। दिल्ली में कई बस टर्मिनल हैं और प्रमुख ऑपरेटर दिल्ली परिवहन निगम (DTC) है। कश्मीरी गेट आईएसबीटी, जिसे “आईएसबीटी” कहा जाता है, सबसे बड़ा टर्मिनल है। अन्य प्रमुख टर्मिनलों में सराय काले खान आईएसबीटी (हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के पास), आनंद विहार आईएसबीटी, बीकानेर हाउस (इंडिया गेट के पास), मंडी हाउस (बाराखंभा रोड के पास) और मजनू डी टीला हैं।

ट्रेन से दिल्ली कैसे पहुंचे – How To Reach Delhi By Train In Hindi

ट्रेन से दिल्ली कैसे पहुंचे – How To Reach Delhi By Train In Hindi

दिल्ली में चार मुख्य स्टेशन हैं – दिल्ली जंक्शन जिसे “पुराणी दिल्ली” भी कहा जाता है, मध्य दिल्ली में स्थित नई दिल्ली, शहर के दक्षिण भाग में हज़रत निज़ामुद्दीन और पूर्व में आनंद विहार है। दिल्ली जंक्शन और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन मेट्रो लाइन 2 से जुड़े हुए हैं, जबकि आनंद विहार मेट्रो लाइन 3 से जुड़ा हुआ है। हज़रत निज़ामुद्दीन दक्षिण की ओर जाने वाली अधिकांश ट्रेनों के लिए प्रस्थान बिंदु है और आनंद विहार पूर्व में चलने वाली अधिकांश सेवाओं को संचालित करता है। बता दे स्टेशनों के बाहर टैक्सी और बसें उपलब्ध हैं जिनसे यात्रा करके आप अग्रसेन की बावली आसानी से पहुच सकते है।

और पढ़े : दिल्ली से 300 किलोमीटर के दायरे में घूमने लायक 15 ऐसे खूबसूरत हिल स्टेशन जहा पर आपको जरुर जाना चाहिए

इस आर्टिकल में आपने अग्रसेन की बावली का रहस्य (Agrasen ki Baoli Haunted story in Hindi) और इसकी यात्रा से जुड़ी जानकारी को जाना है आपको हमारा यह लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में जरूर बतायें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

अग्रसेन की बावली का मेप – Agrasen ki Baoli Mep

और पढ़े :

Featured Image Credit : Pranat Sharma

Leave a Comment