भारत की 12 प्रसिद्ध और प्राचीन बावड़ीयां – 12 famous Stepwells in India In Hindi

12 famous Stepwells in India In Hindi, भारत की बावड़ीयां या स्टेपवेल्स जिन्हें आमतौर पर बावली के रूप में भी जाना जाता है, जैसा कि नाम से पता चलता है कि इसमें उतरते हुए सीढियों के साथ कुएं हैं। दूसरी और चौथी शताब्दी के बीच भारत में विशेषकर पश्चिमी भारत में बावड़ीयां एक सामान्य घटना थी और इन बावड़ीयों में आज भी सिंधु घाटी सभ्यता का पता लगाया जा सकता है। भारत की ये प्रसिद्ध बावड़ीयां पानी की स्त्रोत होने के अलावा वास्तुकला का भी एक अद्भुद नमूना हैं जो अलग अलग समय में राजायों द्वारा निर्मित कराई गयी थी। इनमे से कुछ बाबड़ियों का निर्माण जहाँ राजाओं ने अपनी रानियों के लिए करवाया था वहीँ कई बाबड़ियों का निर्माण प्रजा के लिए किया गया था।

भारत की शानदार बावड़ीयां आज भारतीय पर्यटन में महत्वपूर्ण हिस्सा बनी हुई है जो अपनी अद्भुद कारीगिरी और सुंदर वास्तुकला से बड़ी मात्रा में भारतीय और विदेशी पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। अगर आप भी घूमने के शौक़ीन है और प्राचीन कला के प्रेमी हैं तो आपको इन बावड़ीयों की यात्रा अवश्य करनी चाहिये। भारत में आज भी लगभग 2000 बावड़ीयां मौजूद है जिन्होंने अपने पानी को बनाये रखा है लेकिन इस लेख में हम आपको भारत की 12 सबसे प्रसिद्ध और एतिहासिक बावड़ीयों की सूची पेश करने जा रहे है जो वास्तव में देखने लायक है-

नीमराणा की बावड़ी राजस्थान – Neemrana Ki Bawdi In Hindi

नीमराणा की बावड़ी राजस्थान - Neemrana Ki Bawdi In Hindi
Image Credit : Deepanshu Soni

नीमराणा के अंदर स्थित नीमराणा की बावड़ी बहुत पुरानी और शानदार बहु-मंजिला संरचना है। जो नीमराना के प्रमुख पर्यटक स्थलों में से एक है, और जो पर्यटकों के लिए लोकप्रिय बनी हुई है। यह बावड़ी नीमराना महल के नजदीक स्थित है। जिसमे 170 चरण हैं, और जैसे-जैसे हम नीचे जाते हैं निर्माण छोटा होता जाता है। नीमराना बावड़ी पुरानी वास्तुकला की सुंदरता को दर्शाता है। जिसमे पुराने निर्माण कला की उत्कृष्टता देखी जा सकती है।

बता दे नीमराणा की बावड़ी 9 मंजिला ईमारत है, जिसकी  प्रत्येक मंजिल की ऊँचाई लगभग 20 फीट है। यह बावड़ी पानी और सिंचाई दोनों के लिए उपयोग के साथ साथ आकर्षक पर्यटक स्थल भी बना हुआ है जहा पर्यटकों कि विशाल भीड़ देखी जाती है।

और पढ़े : नीमराणा की बावड़ी का इतिहास और घूमने की जानकारी

चाँद बावड़ी राजस्थान – Chand Baori In Hindi

चाँद बावड़ी राजस्थान - Chand Baori In Hindi

चाँद बावड़ी राजस्थान के अभनेरी गाँव का एक प्रमुख पर्यटक आकर्षण स्थल है जो 10 वीं शताब्दी के स्मारकों से संबंधित है। आपको बता दें कि चाँद बाउरी बेहद अदभुद स्टेप वेल है जिसमें तीन तरफ सीढ़ियां हैं, जो जल स्टोर करने का काम करती हैं। बता दें कि यह स्टेप वेल 13 मंजिला से ज्यादा गहरी हैं, जिसमें 3500 से ज्यादा सीढ़ियां बनी हुई हैं। 1000 साल से अधिक पुराना होने के बावजूद यह स्टेप वेल आज भी पहले की तरह बना हुआ है। आपको बता दें कि यहां पर कई फिल्मों की शूटिंग भी हुई है, जिनमें भूल भुलैया, द फॉल, द डार्क नाइट राइज़ और बेस्ट एक्सोटिक होटल मैरीगोल्ड के नाम शामिल है।
बता दे चाँद बावड़ी एक वास्तुशिल्प चमत्कार है जिसमें राजस्थान के अर्ध-शुष्क क्षेत्र में जल भंडार के रूप में कई हजार सीढियां बनी हुई हैं। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा इसकी देखभाल की जाती है और यह सुंदर संरचना आज उपयोग में नहीं है। दुनिया का यह सबसे आकर्षक स्टेपवेल चांद बाउरी पूरी दुनिया से पर्यटकों को अपनी तरफ आकर्षित करता है। जो लोग वास्तुकला प्रेमी हैं वो इस आकर्षण को देखने के लिए जरुर आते हैं।

और पढ़े : चाँद बावड़ी आभानेरी के बारे में जानकारी

अग्रसेन की बावली दिल्ली – Agrasen ki Baoli Delhi In Hindi

अग्रसेन की बावली दिल्ली – Agrasen ki Baoli Delhi In Hindi

भारत की सबसे प्रसिद्ध बावड़ीयों में से एक अग्रसेन की बावली दिल्ली में कनॉट प्लेस के करीब शहर के असंभावित हृदय में बनी हुई है। बता दे यह बाबड़ी तीन मंजिला है और इसमें 108 सीढ़ियां है। बावली की वास्तुकला के आधार पर माना जाता है कि यह तुगलक या लोदी वंश के शासनकाल से संबंधित है। किंवदंती के अनुसार आमतौर पर कहा जाता है कि इसका निर्माण राजा अग्रसेन ने महाभारत काल के दौरान किया था और फिर बाद में 14 वीं शताब्दी में अग्रवाल समुदाय द्वारा फिर से बनवाया गया, जो राजा के वंशज हैं।

वर्तमान में अग्रसेन की बावली भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के तहत एक संरक्षित स्मारक है। अग्रसेन की बावली दिल्ली के लोकप्रिय दर्शनीय स्थलों में से एक है जो पर्यटकों के साथ साथ कॉलेज के बच्चों के लिए भी आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। यदि दिल्ली की या इसके आसपास की यात्रा पर जाने वाले हैं तो अपनी यात्रा में अग्रसेन की बावली घूमने अवश्य जायें।

रानी की वाव गुजरात – Rani ki Vav Gujarat In Hindi

रानी की वाव गुजरात – Rani ki Vav Gujarat In Hindi

रानी की वाव पाटन गुजरात में सरस्वती नदी के करीब स्थित है जिसे 1940 में खोजा गया था। इतिहासकारों के अनुसार रानी की वाव का निर्माण 11 वीं सदी में भीम प्रथम की पत्नी, उदयमति द्वारा किया गया था। इस बाबड़ी में मारू-गुर्जर शैली की वास्तुकला को देखा जा सकता है और बाबड़ी की दीवारों पर विष्णु के बिभिन्न अवतारों की नक्काशी भी देखी जा सकती है। माना जाता है इस बाबड़ी को पूजा स्थल के रूप में इस्तेमाल किया गया था।

आपकी जानकारी के लिए बता दे रानी की वाव सात मंजिला सरंचना है और प्रत्येक मंजिल कई मूर्तियों और धार्मिक कल्पना से सुशोभित होता है। इसे 2014 से यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों में से एक के रूप में सूचीबद्ध किया गया है। रानी की वाव बेहतरीन और सबसे शानदार बाबड़ीयों में से एक है, अपनी इन्ही विष्टतायों को देखते हुए रानी की वाव भारत के सबसे प्राचीन पर्यटक स्थलों में से एक है और प्रत्येक बर्ष कई हजारों भारतीय और विदेशी पर्यटक इस बाबड़ी का दौरा करते है।

पुष्करणी हम्पी – Pushkarani Hampi In Hindi

पुष्करणी हम्पी - Pushkarani Hampi In Hindi

पुष्करणी कर्नाटक में हम्पी में मंदिरों के बगल में स्थित एक शानदार सरंचना है जिन्हें विजयनगर साम्राज्य के दौरान निर्मित किया गया था। माना जाता है की प्राचीन में इस जगह को हम्पी के लोगों द्वारा पूजा स्थल के रूप में इस्तेमाल किया गया था, यहाँ तक ​​कि वार्षिक जल महोत्सव भी इन बाबड़ीयों में आयोजित किया गया था।

लेकिन आज यह अधिकाश बाबड़ीयां खंडहर में परिवर्तित हो गयी है उसके वावजूद भी यह बाबड़ी पर्यटकों को आकर्षित करने में विफल नही होती है। बता दे हम्पी की इन बाबड़ीयों में सबसे अधिक श्रद्धेय स्टेपवेल रॉयल एन्क्लोजर में स्थित है, जो हजारा राम मंदिर के पास स्थित है, जिसे स्टेप्ड वेल के रूप में जाना जाता है।

गौस अली शाह की बाबड़ी हरियाणा – Baoli Ghaus Ali Shah Haryana In Hindi

हरियाणा के फ़रुखनगर शहर में स्थित गौस अली शाह की बाबड़ी भारत की सबसे प्रसिद्ध बाबड़ीयों में से एक है। इस बाबड़ी को 18 वीं शताब्दी में मुगल वंश के फारुख सियार के अधीन एक स्थानीय प्रमुख गौस अली शाह द्वारा बनवाया गया था। बता दे गौस अली शाह की बाबड़ी अष्टकोणीय है जिसमें पत्थर के कदम और केंद्र में एक टैंक है। इस बाबड़ी का उपयोग साम्राज्य की महिलाओं द्वारा स्नान करने के लिए किया जाता था और यहां तक ​​कि उनके पास चैम्बर भी थे जहां वे आराम कर सकती थी। गौस अली शाह की बाबड़ी वर्तमान में हरियाणा के प्रमुख पर्यटक स्थलों के रूप में कार्यरत है जो हर साल हजारों पर्यटकों की मेजबानी करती है।

राजोन की बाबड़ी –  Rajon ki Baoli In Hindi

राजोन की बाबड़ी -  Rajon ki Baoli In Hindi
Image Credit : Rajan Bhatt

यदि आप रसीला महरौली पुरातत्व पार्क के चारों ओर बिखरे हुए स्मारकों की खोज कर रहे हैं, तो पार्क के अंदर राजोन की बावली का दौरा करना न भूलें। इसके शिलालेख के अनुसार, इसे 1512 में सिकंदर लोदी के शासनकाल के दौरान दौलत खान लोदी द्वारा राजमिस्त्री या राजमिस्त्रियों के उपयोग के लिए बनाया गया था। बता दे यह बाबड़ी चार मंजिला है और बाबड़ी के केंद्र में एक कुआँ बना हुआ है।

और पढ़े : रोमांचक गतिविधियों के लिए मशहुर भारत के अद्भुत मनोरंजन पार्क 

सूर्या कुंड गुजरात – Surya Kund, Gujarat In Hindi

सूर्या कुंड गुजरात - Surya Kund, Gujarat In Hindi
Image Credit : Ramesh Kooverjee

भारत के सबसे प्राचीन और शानदार बाबड़ीयों में शुमार सूर्या कुंड गुजरात में प्रसिद्ध सूर्य मंदिर के परिसर में स्थित है। मंदिर सूर्य देव को समर्पित है और 11 वीं शताब्दी में चालुक्य वंश के भीम  के शासनकाल के दौरान बनाया गया था। बता दे यह स्टेपवेल आयताकार है और इसमें चार छतों हैं। हैं जो जलाशय में उतरते हैं। यह काफी व्यापक है और इसमें भगवान गणेश, विष्णु और अन्य स्थानीय देवताओं के 180 लघु मंदिर हैं। इसका उपयोग न केवल पानी के भंडारण के लिए किया जाता था, बल्कि धार्मिक समारोहों के प्रदर्शन के लिए भी किया जाता था।

यह बाबड़ी गुजरात की एक अद्भुद संरचना है जो यहाँ आने वाले  पर्यटकों के लिए मनमोहक दृश्यों की पेशकश करती है और वास्तव में इस स्थान की वास्तुकला आँखों के लिए उपचार के रूप में कार्य करती है ।

तूरजी का झालरा राजस्थान – Toor Ji ki Jhalra, Rajasthan In Hindi

तूरजी का झालरा राजस्थान - Toor Ji ki Jhalra, Rajasthan In Hindi
Image Credit : Piyush Javeria

1740 में निर्मित, तूरजी का झालरा, जिसे आमतौर पर जोधपुर का सौतेला परिवार कहा जाता है। जो जोधपुर की पारंपरिक जल प्रबंधन प्रणालियों को दर्शाती कुछ शेष संरचनाओं में से एक है। इस वास्तु आश्चर्य को महाराजा अभय सिंह की रानी-संघ द्वारा बनाया गया था, जो उस क्षेत्र की सदियों पुरानी परंपरा का संकेत है जहाँ शाही महिलाएँ सार्वजनिक जल कार्यों की देखरेख करती थीं। आपको बता दे 250 साल पुरानी इस संरचना को जोधपुर में पाए जाने वाले प्रसिद्ध गुलाब-लाल बलुआ पत्थर का उपयोग करके बनाई गई थी।

तूरजी का झालरा की प्रभावशाली डिजाइन कई पर्यटकों को आकर्षित करती है, और गर्मी को मात देने के लिए स्थानीय लोगो और पर्यटकों के लिए मनोरंजक पानी के खेल में संलग्न होने के लिए जोधपुर का एक मजेदार स्थान माना जाता है।

रानी जी की बावड़ी कोटा  – Raniji Ki Baori Kota In Hindi

रानी जी की बावड़ी कोटा  - Raniji Ki Baori Bundi Kota In Hindi
Image Credit : Siva Sankar

राजस्थान के कोटा में बूंदी के पास एक प्राचीन बावड़ी हैं जिसे बूंदी की रानी जी की बावड़ी के नाम से जाना जाता हैं। इसका निर्माण राजपूतों के द्वारा किया गया था यह बावड़ी हड़ताली वास्तु कला का दावा प्रस्तुत करती हुयी नजर आती हैं। यह लगभग 50 सीढ़ियों वाली बूंदी की सबसे बड़ी बावड़ी है। बाउरी को स्टेप वेल्स या स्थानीय बोली में वाव, कुंड या सागर भी कहा जाता है। आपको बता दें कि बूँदी में रानीजी की बावड़ी के साथ –साथ कुल 50 पुराने कुएँ और टैंक हैं,जो पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बने हुए है। बावड़ी में एक मजबूत संकीर्ण प्रवेश द्वार है जिसमें चार स्तंभ हैं जो की ऊँची छत पर झुका हुआ। बूंदी की रानी जी की बावड़ी कोटा शहर की बहुत ही महत्वपूर्ण धरोहर स्मारक और पर्यटक स्थल है और हर साल देश विदेश के बिभिन्न कोनो से पर्यटक इस प्राचीन स्थल का दौरा करते है।

और पढ़े : रानीजी की बावड़ी घूमने की जानकारी

शाही बाबड़ी  लखनऊ – Shahi Baoli, Lucknow In Hindi

शाही बाबड़ी  लखनऊ - Shahi Baoli, Lucknow In Hindi
Image Credit : Padmanabhan Pa

इंडो-इस्लामिक वास्तुशिल्प डिजाइनों में निर्मित, शाही बावली भारत की सबसे शानदार संरचनाओं में से एक है। शाही बाबड़ी का निर्माण अवध के नवाब आसफ-उद-दौला द्वारा बनाया गया था जिसे मुसलमानों द्वारा प्रार्थना कक्ष के रूप में भी उपयोग किया जाता है। बता दे शाही बाबड़ी  को दिल्ली के मुगल वास्तुकार द्वारा डिजाइन किया गया था और इस स्टेप वेल की अनूठी वास्तुकला आगंतुकों को एक गुप्त दृश्य प्रदान करती है।

दादा हरी बाबड़ी अहमदाबाद – Dada Hari Baoli Ahmedabad In Hindi

दादा हरी बाबड़ी अहमदाबाद - Dada Hari Baoli Ahmedabad In Hindi
Image Credit : M Bhavsar

दादा हरी बाबड़ी अहमदाबाद से 15 किमी दूर असरवा में स्थित है, जिसे शुरुआत में बाल हरिर स्टेपवेल के रूप में जाना जाता था, और यह इस क्षेत्र के दो प्रसिद्ध कदम-कुओं में से है। बता दे दादा हरी बाबड़ी का निर्माण 1499 ईस्वी में सुल्तान बेगरा के हरम की एक महिला द्वारा किया गया था। इस प्राचीन संरचना में बीगोन युग की वास्तुकला को दर्शाया गया है। दादा हरी बाबड़ी सात मंजली संरचना है जो एक समय बहुत सारे पर्यटकों को समायोजित कर सकता है, और यह बाबड़ी पर्यटकों के साथ साथ गर्मियों के दौरान स्थानीय लोगों के लिए राहत स्थल के रूप में भी कार्य करती है।

और पढ़े :

Leave a Comment