Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Adhai Din Ka Jhopara In Hindi, अढाई दिन का झोपड़ा एक मस्जिद है जो कुतुब-उद-दीन-ऐबक द्वारा बनाई गई है। बता दें कि कुतुब-उद-दीन-ऐबक 1199 ईस्वी में दिल्ली का पहला सुल्तान था। ऐसा माना जाता है कि इस इंडो-इस्लामिक आर्किटेक्चर साइट का निर्माण ढाई दिनों में किया गया था और इसी वजह से इसका नाम “अढाई दिन का झोपड़ा” पड़ा है। यह एक पुरानी मस्जिद का अवशेष है जिसका निर्माण हिंदू और जैन मंदिरों के अवशेषों के साथ किया गया था। बता दें कि यहां के अधिकांश प्राचीन मंदिर आज खंडहर में हैं, लेकिन मस्जिद का क्षेत्र अभी भी धार्मिक स्थल के रूप में उपयोग किया जाता है।

अढाई दिन का झोपड़ा राजस्थान के अजमेर में स्थित एक प्रमुख ऐतिहासिक स्थल है जो धनुषाकार स्क्रीन, खंडहर मीनारों और अलग-अलग सुंदर स्तंभों के साथ यात्रा करने के लिए एक बेहद आकर्षक जगह है। अगर आप अढ़ाई दिन का झोपड़ा के बारे में अन्य जानकारी चाहते हैं तो इस लेख को अवश्य पढ़ें यहां हम आपको इसके इतिहास, वास्तुकला और जाने के बारे में पूरी जानकारी देने जा रहें हैं।

1. अढाई दिन का झोंपड़ा नाम के पीछे का इतिहास – The History Behind The Name Adhai Din Ka Jhopra In Hindi

अढाई दिन का झोंपड़ा नाम के पीछे का इतिहास

Image Credit: Ravii Bhatt

इस मस्जिद का नाम अढाई दिन का झोंपड़ा है जिसका अर्थ है ढाई दिन का शेड। मस्जिद के नाम से जुड़ी कई रोचक बाते हैं। एक पौराणिक कथा के अनुसार, मनुष्य का जीवन पृथ्वी पर ढाई दिन का होता है। इतिहासकारों का कहना है कि प्राचीन काल में यहां पर ढाई दिन तक मेला लगता था।

इसके साथ ही कुछ लोगों का मानना है कि मराठा युग के दौरान उर्स को मानाने के लिए फ़कीर आये थे, इसलिए इस मस्जिद को अढाई दिन का झोपड़ा कहा जाता है। उस समय उर्स ढाई दिन के लिए आयोजित किया गया था, इसलिए इस मस्जिद का नाम अढाई दिन का झोंपड़ा पड़ा। वहीँ कुछ लोग यह भी अफवाह उड़ाते हैं कि यह मस्जिद ढाई दिन में बनकर तैयार हुई थी इसलिए वजह से इसका नाम रखा गया।

2. अढ़ाई दिन का झोपड़ा का निर्माण किसने करवाया था – Adhai Din Ka Jhonpra Kisne Banaya Tha In Hindi

अढ़ाई दिन का झोपड़ा का निर्माण दिल्ली का पहले सुल्तान कुतुब-उद-दीन-ऐबक द्वारा करवाया गया था।

और पढ़े: अजमेर घूमने की जानकारी और प्रमुख पर्यटन स्थल 

3. अढ़ाई दिन का झोपड़ा की कहानी – Adhai Din Ka Jhopra History In Hindi

अढ़ाई दिन का झोपड़ा की कहानी

Image Credit: Ajeet Bhamu

अढाई दिन का एक मस्जिद है जिसे मोहम्मद गोरी के आदेश से ढाई दिनों के भीतर बनाया गया है। मोहम्मद गोरी ने इस मस्जिद को 60 घंटों के भीतर बनाने का आदेश दिया और श्रमिकों ने दिन-रात काम करके केवल एक स्क्रीन की दीवार का निर्माण करने में सक्षम थे ताकि सुल्तान अपनी प्रार्थना की पेशकश कर सके। चौहान वंश के अंतर्गत अधाई दिन का झोंपड़ा विग्रहराज चतुर्थ द्वारा निर्मित एक संस्कृत महाविद्यालय था, जिसे विसलदेव के नाम से भी जाना जाता था, जो शाकंभरी चाह्मण या चौहान वंश के थे। इस महाविद्यालय का निर्माण चौकोर आकार में में किया गया था और इसके प्रत्येक कोने पर एक गुंबद के आकार का मंडप बनाया गया था। यहां एक मंदिर भी था जो ज्ञान की देवी देवी सरस्वती को समर्पित था। इमारत के निर्माण में हिंदू और जैन वास्तुकला का इस्तेमाल किया गया था। कुछ इतिहासकारों का कहना है कि मस्जिद का निर्माण कुछ पुराने और परित्यक्त हिंदू मंदिरों को तोड़ कर उनकी सामग्रियों द्वारा किया गया था। वहीँ कई लोगों का कहना है कि यह संस्कृत कॉलेज जैनियों का एक कॉलेज था।

स्थानीय लोगों का कहना है तराइन की दूसरी लड़ाई में मोहम्मद गोरी द्वारा पृथ्वी राज चौहान III की हार के बाद मस्जिद का निर्माण किया गया था। पृथ्वी राज चौहान III को हराने के बाद, एक बार मोहम्मद गोरी अजमेर से गुजर रहा था, यहां उसने कई हिंदू मंदिरों को देखा जिसके बाद उसें कुतुबुद्दीन ऐबक को मस्जिद बनाने का आदेश दिया ताकि वह यहां नमाज़ अदा कर सके। उसने यह भी आदेश दिया कि मस्जिद को ढाई दिनों के भीतर बनाया जाना है। श्रमिकों ने कड़ी मेहनत की और एक स्क्रीन वॉल का निर्माण करने में सक्षम थे जहां सुल्तान नमाज पढ़ सकते थे। एक शिलालेख के अनुसार इस मस्जिद का निर्माण 1199 में पूरी हुई। कुतुबुद्दीन ऐबक के उत्तराधिकारी इल्तुमिश ने मेहराब और उस पर शिलालेखों के साथ एक दीवार का निर्माण किया।

4. अढ़ाई दिन का झोपड़ा की वास्तुकला – Adhai Din Ka Jhopra Architecture In Hindi

अढ़ाई दिन का झोपड़ा की वास्तुकला

Image Credit: Adnan Shaikh

अढ़ाई दिन का झोपड़ा भारत की सबसे पुरानी मस्जिद में से एक है जो इंडो-इस्लामिक वास्तुकला का शानदार नमूना है। मोहम्मद गोरी ने इस मस्जिद के निर्माण का आदेश दिया और उनके साथ साथ आये हेरात के “अबू बक्र” द्वारा इसे डिजाइन किया गया था। इस भवन के प्रत्येक पक्ष की ऊँचाई 259 फीट है। पर्यटक दक्षिणी और पूर्वी द्वार से मस्जिद में प्रवेश कर सकते हैं।

5. अढ़ाई दिन का झोपड़ा मस्जिद की बाहरी संरचना – Adhai Din Ka Jhonpra Mosque Exterior Structure In Hindi

इस मस्जिद में कुल स्तंभों की संख्या 344 थी और वास्तविक इमारत में 124 स्तंभ थे, जिनमें से 92 पूर्वी तरफ थे और 64 दूसरी तरफ थे। इल्तुमिश ने एक विशाल स्क्रीन भी बनाई थी जिसके मेहराब का निर्माण पीले चूना पत्थर के उपयोग से किया गया था। आपको बता दें कि यहां 7 बड़े मेहराब हैं जिसमें से सबसे बड़े की उंचाई 60 फीट है और बाकी इससे छोटे हैं। इन मेहराब में पवित्र कुरान के छंद भी हैं। इसके साथ ही कुफिक और तुघरा लिपि में शिलालेख ही लिखें हैं।

6. अढ़ाई दिन का झोपड़ा मस्जिद की आंतरिक संरचना – Adhai Din Ka Jhonpra Mosque Interior Structure In Hindi

मस्जिद के आंतरिक भाग 200 फीट x 175 फीट है। इसके अंदर स्तंभों का डिज़ाइन हिंदुओं और जैनियों के मंदिरों के सामान दिखता है। कई इतिहासकारों का कहना है कि यहां के कई स्तंभ हिंदू और जैन मंदिरों के थे, लेकिन कुछ का निर्माण मुस्लिम शासकों द्वारा किया गया था। मस्जिद की छत भी हिंदू और इस्लामी वास्तुकला मिश्रण देखने को मिलता है।

7. अढ़ाई दिन का झोंपड़ा के खुलने और बंद होने के समय – Adhai Din Ka Jhonpra Timings In Hindi

  • अधाई दिन का झोंपड़ा सुबहे 6 बजे से शाम के 6 बजे तक खूला रहता है।
  • अधाई दिन का झोंपड़ा को अन्दर से घूमने के लिए कोई प्रकार का प्रवेश शुल्क नही लिया जाता है।

8. अढ़ाई दिन का झोंपड़ा घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Reach Adhai Din Ka Jhonpra In Hindi

अढ़ाई दिन का झोंपड़ा घूमने जाने का सबसे अच्छा समय

अजमेर आने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च जिसमें मानसून और सर्दियों का मौसम शामिल है। अप्रैल और जून के दौरान गर्मी की चिलचिलाती धूप आपको परेशान कर सकती है।अधिकांश त्यौहार, धार्मिक और सांस्कृतिक दोनों अक्टूबर और नवंबर के दौरान मनाये जाते हैं।

और पढ़े: बूंदी शहर के बेस्ट दर्शनीय स्थल की जानकारी 

9. अढ़ाई दिन का झोंपड़ा के पास घुमने लायक आकर्षण स्थल – Best Places To Visit Near Adhai Din Ka Jhonpra In Hindi

अगर आप अढ़ाई दिन का झोंपड़ा और अजमेर के अन्य पर्यटन स्थल घूमना चाहते है तो इस लेख को पूरा जरुर पढ़े।

9.1 अजमेर शरीफ की मजार

अजमेर शरीफ की मजार
अजमेर में बनी मोइनुद्दीन चिश्ती की मजार भारत में न केवल मुसलमानों के लिए बल्कि हर धर्म के अनुयायियों के लिए एक पवित्र स्थान माना जाता हैं। मोईन-उद-दीन चिश्ती के अंतिम विश्राम स्थल के रूप में यह मकबरा इस्लाम के नैतिक और आध्यात्मिक मूल्यो को जनता के बीच फैलाने में अहम योगदान दे चुका हैं। यहा आने वाले तीर्थ यात्रियों में एक अजीब तरह की आकर्षित सुगंध की लहर पूरे समय तक दौड़ती रहती हैं। जो पर्यटकों को आध्यात्मिकता के प्रति एक सहज और अपरिवर्तनीय आग्रह के साथ प्रेरित करती है। दरगाह शरीफ निस्संदेह राजस्थान का सबसे लौकप्रिय तीर्थस्थल है।

और पढ़े: अजमेर शरीफ दरगाह राजस्थान घूमने की पूरी जानकारी 

9.2 आनासागर झील

आनासागर झील

अजमेर में आनासागर एक लुभावनी और शानदार कृत्रिम झील है, जो भारत के राजस्थान राज्य में अजमेर शहर में स्थित है। आनासागर झील हर साल गर्मियों के मौसम में सूख जाती है। लेकिन सूर्यास्त के दौरान इसका नजारा देखने लायक होता हैं। झील के नजदीक बने कुछ मदिरों से भी झील का नजारा मंत्रमुग्ध करता है। यदि आप अजमेर की यात्रा पर हैं तो एना सागर झील घूमना कदापि न भूले और इस झील की सुंदरता का आनंद जरूर ले। वर्तमान समय में अना सागर झील अजमेर की सबसे लोकप्रिय और भारत की सबसे बड़ी झीलों में से एक हैं। इस महत्वपूर्ण स्थल का निर्माण अंबाजी तोमर के आदेशानुसार करबाया गया था, जो राजसी राजा पृथ्वी राज चौहान के दादा थे। झील का नाम राजा अनाजी के नाम पर रखा गया है।

और पढ़े: आनासागर झील घूमने की जानकारी 

9.3 अकबर का महल और संग्रहालय

अकबर का महल और संग्रहालय

Image Credit: Sumeet Parmar

अजमेर में घूमने लायक जगह अकबर का महल और संग्रहालय हैं। अकबर का यह महल 1500 ए। डी। में उस जगह पर निर्मित करबाया गया था जहां सम्राट अकबर के सैनिक अजमेर में रुके थे और यह अजमेर शहर के केंद्र में स्थित है। इस संग्रहालय में पुराने सैन्य हथियारों और उत्कृष्ट मूर्तियों को चित्रित किया गया हैं। अजमेर में बने इस संग्रहालय में राजपूत और मुगल शैली के जीवन और लड़ाई के विभिन्न पहलुओं को प्रदर्शित किया गया हैं। महल मे काली जी की मूर्ती स्थापित हैं जोकि संगमरमर की बनी हुई हैं।

9.4  नारेली का जैन मंदिर

नारेली का जैन मंदिर
अजमेर से लगभग 7 किलोमीटर बाहर स्थित नारेली में जैन मंदिर हैं। जोकि कोणीय और हड़ताली आकर्षक डिजाइन के साथ एक सुंदर संगमरमर का मंदिर है। अजमेर का यह खूबसूरत मंदिर पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करने कामयाब रहा हैं, दूर-दूर से आने वाले पर्यटकों की भीड़ इस मंदिर में लगी रहती हैं। जो लोग शांत वातावरण में एकान्त में समय बिताना चाहते हैं उनके लिए यह पसंदीदा स्थान हैं।

9.5 क्लॉक टावर

क्लॉक टावर अजमेर
अजमेर में अलवर के चर्च रोड पर स्थित क्लॉक टॉवर प्राचीन राजपूत शासन काल का एक शाही मोहरा माना जाता है, जोकि अजमेर के निकट के इलाके का दृश्य प्रस्तुत करता है। यदि आप अजमेर जाएं तो क्लॉक टावर का नजारा भी जरूर देखे।

और पढ़े: झालावाड़ किले घूमने और इसके पर्यटन स्थल की जानकारी

9.6 दुर्गाबाघ गार्डन

दुर्गाबाघ गार्डन अजमेर में दौलत बाग राजसी अना सागर झील के तट पर स्थित एक आकर्षक उद्यान है। इस गार्डन में शिमला की एक रमणीय पृष्ठभूमि (पिछला भाग) है  जिसे महाराजा मंगल सिंह द्वारा तैयार करवाया गया था। दौलत बाग के परिसर में बने गार्डन में संगमरमर का मंडप बगीचे का प्रमुख आकर्षण हैं। इसके अलावा गार्डन के सुंदर खिले हुए फूल, ऊंचे पेड़ हैं और शांत हवा मन को मोहित  कर देती हैं।

9.7 किशनगढ़ शहर

किशनगढ़ शहर अजमेर

Image Credit: Dilshad Agwan

किशनगढ़ शहर को भारत के संगमरमर शहर के रूप में जाना जाता हैं। किशनगढ़  शहर न केवल एक पर्यटक स्थल के रूप में जाना जाता हैं बल्कि यह शहर कला और संस्कृति के लिए प्रसिद्ध है। किशनगढ़ शहर यह नौ ग्रहों के मंदिर के साथ दुनिया में एकमात्र स्थान है।  किशनगढ़ किला, खोदा गणेश जी मंदिर, फूल महल पैलेस और गोंडुलव झील शहर के कुछ प्रमुख आकर्षित स्थलों में से हैं।

9.8 सोनी जी की नसियां

सोनी जी की नसियां

अजमेर का दर्शनीय स्थल सोनी जी की नसियां जिसे लाल मंदिर के नाम से भी जाना जाता हैं एक जैन मांदरी हैं, जो जैन धर्म के पहले तीर्थकर को समर्पित हैं। सोनी जी की नसियां मंदिर का मुख्य आकर्षण मुख्य कक्ष है जिसे स्वर्ण नगरी या सोने के शहर के नाम से भी जाना जाता हैं। इस मंदिर में सोने की लकड़ी की कई आकृतियां बनी हुई है जोकि जैन धर्म की कई आकृतियों को दर्शाती हैं। मंदिर में आने वाले पर्यटकों की लम्बी कतार लगी रहती हैं।

9.9 तारागढ़ किला बूंदी

अजमेर में घूमने लायक जगह तारागढ़ किला बूंदी

अजमेर में घूमने लायक जगहों में से एक तारागढ़ फोर्ट बूंदी का निर्माण वर्ष 1354 में किया गया था। तारागढ़ किला भारत के पर्यटक राज्य राजस्थान के अजमेर शहर में एक प्रभावशाली संरचनाओं में से एक है। बूंदी राज्य की स्थापना राव देव द्वारा की गई थी। बूंदी शहर अरावली पर्वतमाला के नाग पहाड़ी में स्थित एक आकर्षित शहर हैं और अपने मनोरम दृश्य के लिए दुनिया भर में जाना जाता हैं।

और पढ़े: अजमेर का मशहूर तारागढ़ किला घूमने की जानकारी 

9.10 अब्दुल्ला खान का मकबरा

अजमेर का दर्शनीय स्थल अब्दुल्ला खान के मकबरे का निर्माण अब्दुल्ला खान के दो बेटों द्वारा किया गया था। यह एतिहासिक मकबरा अजमेर की भव्यता और अखंडता को ओर अधिक बढाता हैं। इस मकबरे के विपरीत ही अब्दुल खान की पत्नी की कब्र बनी हुई हैं।

9.11  पृथ्वीराज चौहान स्मारक

अजमेर में देखने लायक स्मारकों में पृथ्वीराज चौहान स्मारक बहुत लौकप्रिय हैं। अजमेर में तारागढ़ रोड पर स्थित पृथ्वीराज चौहान स्मारक एक निर्भय और वीर राजपूत राजा को समर्पित हैं। स्मारक के रूप में पृथ्वीराज चौहान की विशाल मूर्ती स्थापित हैं जिसमे वीर राजपूत राजा को काले घोड़े पर बैठे हुए दर्शाया गया हैं। इसके अलावा यह स्मारक एक पहाड़ी के ऊपर हैं, जहां से नीचे देखने पर घाटी का एक मनोरम दृश्य दिखाई देता हैं।

9.12 अकबरी मस्जिद अजमेर राजस्थान

अकबरी मस्जिद

Image Credit: Iqbal Ansari

अकबरी मस्जिद शाहजहानी गेट और बुलंद दरवाजा के बीच में एंडर कोटे रोड पर स्थित है। लाल सैंडस्टोन में निर्मित अकबरी मस्जिद को सफेद और हरे रंग के पत्थर से सजाया गया है। चार लम्बे लम्बे मीनारों ने प्रवेश द्वार को फ्लैंक किया और मस्जिद की सुंदरता को ओर अधिक बढ़ा दिया हैं।

9.13 मेयो कॉलेज संग्रहालय

मेयो कॉलेज संग्रहालय
मेयो कॉलेज संग्रहालय अजमेर के झलवर हाउस में स्थित है और मेयो कॉलेज संग्रहालय को श्री टी एन व्यास ने बनाया था।

9.14 साईं बाबा मंदिर

अजमेर का दर्शनीय स्थल साईं बाबा मंदिर

Image Credit: Hemant Shesh

अजमेर का दर्शनीय स्थल साईं बाबा मंदिर पर्यटकों और भक्तो को बड़ी संख्या में आकर्षित करता हैं। 5 बीघा क्षेत्र में फैला हुआ साईं बाबा मंदिर श्री सुरेश के लाल द्वारा निर्मित किया गया था। अजमेर के अजय नगर में स्थित मंदिर का उद्घाटन वर्ष 1999 में किया गया था।

9.15  अकबरी किला

अजमेर का आकर्षक स्थल अकबरी किला और संग्रहालय अजमेर के नए बाजार में संग्रहालय रोड पर स्थित है। किले और संग्रहालय में हड़ताली वास्तुकला का घमंड – मुगल और राजपुताना शैलियों का मिश्रण देखने को मिलता है। इस किला का निर्माण मुगल शासक सम्राट अशोक के द्वारा करबाया गया था। यह किला एक बार राजकुमार सलीम का निवास स्थान भी रह चुका हैं।

9.16 फोर्ट मसूदा

फोर्ट मसूदा अजमेर से 54 किलोमीटर की दूरी पर मसूदा में स्थित है। इस किले का निर्माण मूल रूप से 1595 ईस्वी के आसपास किया गया था लेकिन इस किले की हालत तेजी ख़राब हुई और यह जल्द ही एक खंडर के रूप में तब्दील हो गया। लेकिन बाद में इसे नर सिंहजी मर्तिया द्वारा बहाल और पुनर्निर्मित करने का काम किया किया गया। वर्तमान में किला शानदार अंदाज में खड़ा हुआ हैं और इसमें कई महल हैं। जैसे कांच-महल, बड़ा-महल, चंद्र-महल आदि।

9.17 सांभर झील

सांभर झील
अजमेर की घूमने लायक जगहों में से सांभर झील अजमेर से लगभग 64 किलोमीटर दूरी पर स्थित एक खूबसूरत झील हैं। जोकि राष्ट्रीय राजमार्ग 8 पर स्थित है और भारत में खारे पानी की सबसे बड़ी झील हैं। हालाकि इसे गुलाबी राजहंस और जलपक्षी पक्षियों की उपस्थिति के कारण रामसर साइट के रूप में भी नामित किया जा चुका हैं।

और पढ़े: नाहरगढ़ किले का इतिहास और घूमने की जानकारी

10.अढ़ाई दिन का झोंपड़ा अजमेर कैसे जाये – How To Reach Adhai Din Ka Jhopra Ajmer In Hindi

अधाई दिन का झोंपड़ा अजमेर का एक प्रमुख पर्यटन स्थल है। यह शहर रेल और सड़क नेटवर्क के माध्यम से भारत के कई प्रमुख और छोटे शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। अजमेर में अपना हवाई अड्डा नहीं है लेकिन जयपुर और दिल्ली यहां के लिए निकटतम हवाई अड्डे हैं जहां से कई घरेलू और विदेशी उड़ानें संचालित होती हैं।

10.1 हवाई जहाज से अढ़ाई दिन का झोंपड़ा कैसे पहुंचें – How To Reach Adhai Din Ka Jhonpra By Air In Hindi

हवाई जहाज से अढ़ाई दिन का झोंपड़ा कैसे पहुंचें

अजमेर में अपना कोई हवाई अड्डा नहीं है लेकिन निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा जयपुर का सांगानेर हवाई अड्डा है जो अजमेर से लगभग 130 किमी दूर है। जो पर्यटक अढ़ाई दिन का झोंपड़ा की यात्रा करना चाहते हैं, वे हवाई मार्ग यात्रा द्वारा जयपुर आ सकते हैं और फिर यहां से अजमेर आने के लिए ट्रेन या बस पकड़ सकते हैं या टैक्सी किराए पर लेकर अपनी मजिल तक पहुंच सकते हैं।

10.2 अधाई दिन का झोंपड़ा ट्रेन से कैसे पहुंचें – How To Reach Adhai Din Ka Jhonpra By Train In Hindi

अधाई दिन का झोंपड़ा ट्रेन से कैसे पहुंचें

अगर आप अधाई दिन का झोंपड़ा की यात्रा ट्रेन द्वारा करना चाहते हैं तो बता दें कि अजमेर रेलवे नेटवर्क के माध्यम से भारत के कई शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। अजमेर में राजधानी, शताब्दी, जनशताब्दी, गरीब रथ सुपरफास्ट और फास्ट ट्रेन रूकती हैं। इसके अलावा कई ट्रेनें भी यहां शुरू और समाप्त होती हैं। अजमेर, चेन्नई को छोड़कर सभी महानगरों से रेल मार्ग द्वारा जुड़ा हुआ है।

10.3 कैसे पहुंचें अधाई दिन का झोंपड़ा सड़क मार्ग द्वारा – How To Reach Adhai Din Ka Jhonpra By Road In Hindi

कैसे पहुंचें अधाई दिन का झोंपड़ा सड़क मार्ग द्वारा

अगर आप अधाई दिन का झोंपड़ा की यात्रा सड़क मार्ग द्वारा करना चाहते हैं तो बता दें कि राजस्थान राज्य सड़क परिवहन निगम अजमेर से दिल्ली, जयपुर, मुंबई, इलाहाबाद, लखनऊ और अन्य स्थानों से डीलक्स और सेमी-डीलक्स एसी और नॉन एसी बसों से जोड़ता है। इसके अलावा, निजी बस और टैक्सी ऑपरेटर भी हैं जो आपको अजमेर तक पहुंचा सकते हैं।

और पढ़े: ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती दरगाह राजस्थान घूमने की पूरी जानकारी 

11. अढ़ाई दिन का झोंपड़ा अजमेर का नक्शा – Adhai Din Ka Jhonpra Ajmer Map

12. अढ़ाई दिन का झोंपड़ा की फोटो गैलरी – Adhai Din Ka Jhonpra Images

और पढ़े:

Write A Comment