Generic selectors
Exact matches only
Search in title
Search in content
Search in posts
Search in pages

Yogmaya Temple Delhi In Hindi, योगमाया मंदिर भारत का एक प्रसिद्ध मंदिर है जो कुतुब परिसर के करीब महरौली, नई दिल्ली में स्थित है। योगमाया मंदिर एक प्राचीन हिंदू मंदिर है जिसे जोगमाया मंदिर के रूप में भी जाना जाता है जो देवी योगमाया, कृष्ण की बहन को समर्पित है। यह मंदिर महाभारत काल के पांच जीवित मंदिरों में से एक माना जाता है। योगमाया मंदिर भारत की वास्तुकला, संस्कृति और आध्यामिकता का प्रतीक है जो भक्तों और पर्यटकों को अपनी तरफ बेहद आकर्षित करता है। योगमाया मंदिर दिल्ली में कुतुबमीनार के एक दम नजदीक स्थित है। अगर आप योगमाया मंदिर के बारे में अन्य जानकारी चाहते हैं तो इस लेख को जरुर पढ़ें, यहां हम आपको मंदिर के इतिहास, पौराणिक कथा और वास्तुकला के बारे में जानकारी दे रहें हैं।

1. योगमाया मंदिर का इतिहास हिंदी में – Yogmaya Temple History In Hindi

योगमाया मंदिर का इतिहास हिंदी में

Image Credit: Vikrant Kumar

12 वीं शताब्दी के जैन शास्त्रों में, महरौली को मंदिर के बाद योगिनीपुरा के रूप में भी वर्णित किया गया है। ऐसा माना जाता है कि मंदिर का निर्माण महाभारत युद्ध के अंत में पांडवों द्वारा किया गया था। महरौली उन सात प्राचीन शहरों में से एक है जो दिल्ली की वर्तमान स्थिति को बनाते हैं। पहली बार मुगल सम्राट अकबर द्वितीय (1806–37) के शासन के दौरान लाला सेठमल द्वारा मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया था। मंदिर कुतुब परिसर में लौह स्तंभ से 260 गज की दूरी पर लाल कोट की दीवारों के भीतर स्थित दिल्ली का पहला किला गढ़ है, जिसका निर्माण तोमर वंश के राजपूत राजा अनंगपाल प्रथम ने 731 ईस्वी के आसपास किया था और 11 वीं शताब्दी राजा अनंगपाल द्वितीय द्वारा इसका विस्तार किया था, जिसने लाल कोट का निर्माण किया था।

2. योगमाया मंदिर की पौराणिक कथा और कहानी – Yogmaya Mandir Ki Kahani In Hindi

योगमाया मंदिर की पौराणिक कथा और कहानी

Image Credit: Anirban Chanda

द्वापर युग में जब भगवान् कृष्ण का जन्म हुआ था तब ठीक उनके पहले माता दुर्गा ने योगमाया के रूप लिया था। लेकिन माता ने यह अवतार कुछ समय के लिए ही लिया था। गर्गपुराण के अनुसार तो भगवान कृष्ण की मां देवकी के सातवें गर्भ को बदलकर योगमाया ने रोहिणी के गर्भ में पहुँचाया है जिससे बलराम जन्मे थे। इसके बाद यशोदा की गर्भ से योगमाया का जन्म हुआ। जब योगमाया का जन्म हुआ तो यशोदा गहरी नींद में होने के कारण अपनी बच्ची को देख नहीं पाई थी। देवकी के आठवे पुत्र का जन्म होने के बाद वासुदेव ने उसे यशोदा के बाद लिटा दिया था, जिसकी वजह से नींद खुलने के बाद यशोदा ने बालिका के स्थान पर पुत्र को पाया। वसुदेव जन्मी बालिका को मथुरा लेकर आ गये लेकिन जब कंस ने उस बालिका को मारने की कोशिश की तो वो कंश के हाथ से छुट कर चली गई और जाते हुए आकाशवाणी करती गई। योगमाया को श्रीकृष्ण की बड़ी बहन कहा जाता है क्योंकि वो कृष्ण से जन्मी थी। इस समय मां योगमाया का मंदिर भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित है जो यहां महाभारत के समय से स्थित है। माना जाता है कि योगमाया ने योगविद्या और महाविद्या बनकर कृष्ण के साथ मिलकर कंस, चाणूर और मुष्टिक समेत कई ताकतवर असुरों का वध किया था।

और पढ़े: दिल्ली के लोटस टेंपल घूमने की जानकरी 

3. योगमाया मंदिर की वास्तुकला – Yogmaya Temple Architecture In Hindi

योगमाया मंदिर की वास्तुकला

Image Credit: Rashi Sehgal

योगमाया मंदिर 1827 में निर्मित एक संरचना है जो एक प्रवेश द्वार और एक गर्भगृह के साथ एक सरल लेकिन समकालीन संरचना है इसम मंदिर में 2 फीट (0.6 मीटर) चौड़ाई और 1 फीट (0.3 मीटर) के गहरे संगमरमर के कुएं में रखे काले पत्थर से बने योगमाया की मुख्य मूर्ति है। गर्भगृह एक सपाट छत के साथ 17 फीट (5.2 मीटर) वर्ग है जिस पर एक नुकीला शिकारा (टॉवर) बनाया गया है। इस मीनार के अलावा, गुंबद मंदिर में दिखाई देने वाली दूसरी विशेषता है।

और पढ़े: दिल्ली के शनिधाम मंदिर दर्शन की पूरी जानकारी 

4. योगमाया मंदिर नई दिल्ली में मनाये जाने वाले त्यौहार – Yogmaya Temple New Delhi Festivals In Hindi

4.1 फूलवालों की सैर – Phoolwalon Ki Sair Festival In Hindi

फूलवालों की सैर योगमाया मंदिर में बड़ी ही धूम-धाम से मनाया जाता है। इस त्यौहार का नाम बताता है कि यह एक फूलों का उत्सव है। इस मौके पर क़ुतुब साहिब दरगाह और योगमाया मंदिर परिसर के पास कई सांस्कृतिक कार्यक्रम किये जाते हैं और पतंग भी उड़ाई जाती है।

4.2 महाशिवरात्रि – Maha Shivaratri In Hindi

महाशिवरात्रि

यह त्योहार हर साल फरवरी या मार्च के महीने में मनाया जाता है हिंदू धर्म के सभी लोग महाशिवरात्रि का यह त्यौहार बड़ी ही धूम धाम से मनाते हैं इस पवित्र उत्सव पर शिव के मंदिर को चारों तरफ से सजाया जाता है और भगवान की आरती की जाती है

4.3 नवरात्री का त्यौहार – Navaratri In Hindi

नवरात्री का त्यौहार

नवरात्री का त्यौहार एक साल में दो बार मनाया जाता है जिसमें से एक चैत्र की नवरात्री और दूसरी शारदीय नवरात्रि होती है। नवरात्री के दौरान दुर्गा देवी की पूजा की जाती है और देवी को कई तरह के आभूषण से सजाया जाता है। इस पवित्र त्योहार के दौरान देश भर से भक्त देवी के दर्शन करने के लिए मंदिर में आते हैं। इस उत्सव को बड़ी ही धूम-धाम के साथ मनाया जाता है।

और पढ़े: दिल्ली में घूमने वाली सबसे अच्छी जगहें 

5. योगमाया मंदिर खुलने और बंद होने का समय – Yogmaya Temple Delhi Timings In Hindi

योगमाया मंदिर खुलने और बंद होने का समय

Image Credit: Ravinder kumar

यह मंदिर खुलने और बंद होने का समय सुबह 5.00 बजे और रात्रि 8.30 बजे है। इस दौरान देवी योगमाया मंदिर में अर्चना, आरती और अभिषेकम किये जाते हैं।

6. योगमाया मंदिर के दर्शन करने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Yogmaya Temple In Hindi

योगमाया मंदिर के दर्शन करने का सबसे अच्छा समय

Image Credit: Vaibhav Goyal

योगमाया मंदिर दिल्ली में स्थित है। दिल्ली जाने के लिए अक्टूबर से मार्च का समय सबसे अच्छा है। दिल्ली में गर्मी बहुत ज्यादा पड़ती है, तापमान 42 डिग्री तक चला जाता है, इसलिए इस समय यहां आना उचित नहीं होता। मानसून के दौरान तापमान में थोड़ी गिरावट आती है, लेकिन बारिश से आपके दर्शनीय स्थलों की योजना में बाधा आ सकती है। इसलिए सर्दी / वसंत का मौसम दिल्ली जाने के लिए सबसे अच्छा महीना होता है।

और पढ़े: लाल किला दिल्ली के बारे में पूरी जानकारी 

7. योगमाया मंदिर नई दिल्ली कैसे जाये – How To Reach Yogmaya Temple In Hindi

7.1 रेल द्वारा योगमाया मंदिर कैसे पहुँचें – How To Reach Yogmaya Temple Delhi By Train In Hindi

रेल द्वारा योगमाया मंदिर कैसे पहुँचें

योगमाया मंदिर का निकटतम रेलवे स्टेशन दिल्ली रेलवे स्टेशन है जो योगमाया मंदिर से 10 किलोमीटर दूर है।

7.2 योगमाया मंदिर दिल्ली सड़क मार्ग से कैसे पहुँचें – How To Reach Yogmaya Temple By Road In Hindi

योगमाया मंदिर दिल्ली सड़क मार्ग से कैसे पहुँचें

योगमाया मंदिर नई दिल्ली के महरौली में स्थित है, जो कुतुब परिसर के करीब है। यह भारत के सभी प्रमुख शहरों के साथ, सड़कों और राष्ट्रीय राजमार्गों के नेटवर्क द्वारा दिल्ली अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। दिल्ली में तीन प्रमुख बस स्टैंड कश्मीरी गेट, सराय काले-खान बस टर्मिनस और आनंद विहार बस टर्मिनस में इंटर स्टेट बस टर्मिनस (ISBT) हैं।

7.3 योगमाया मंदिर कैसे पहुँचें हवाई जहाज से – How To Reach Yogmaya Temple By Air In Hindi

योगमाया मंदिर कैसे पहुँचें हवाई जहाज से

योगमाया मंदिर तक निकटतम इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से पहुंचा जा सकता है जो देश के प्रमुख शहरों से नियमित घरेलू उड़ानों से जुड़ा हुआ है।

और पढ़े: गुड़गांव के 10 पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी

8. योगमाया मंदिर का नक्शा – Yogmaya Temple Map

9. योगमाया मंदिर की फोटो गैलरी – Yogmaya Temple Delhi Images

View this post on Instagram

#YogmayaTemple #Mehrauli #Heritage #Delhi

A post shared by Pradhuman Bhati (@pbhati43) on

और पढ़े:

Featured Image Source: Anirban Chanda

Write A Comment