डिब्रूगढ़ के टॉप पर्यटन स्थलों की जानकारी – Top Tourist Places Of Dibrugarh In Hindi

Dibrugarh In Hindi, डिब्रूगढ़ गुवाहाटी से 439 किमी दूर स्थित भारत के असम का सबसे बड़ा शहर है। आपको बता दें कि डिब्रूगढ़ राज्य का एक प्रमुख शहर होने के साथ ही कई आकर्षक पर्यटन स्थलों का केंद्र भी है। डिब्रूगढ़ में असम राज्य का एक प्रमुख हवाई अड्डा है जो कुछ भारतीय शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। डिब्रूगढ़ शहर को अपना नाम डिब्रूमुख शब्द से मिला है जिसमें ‘डिब्रू’ नदी का नाम है और ‘मुख’ का अर्थ मुंह है।

डिब्रूगढ़ शहर असम राज्य में डिब्रूगढ़ जिले का मुख्यालय है। डिब्रूगढ़ शहर भारत और विदेशों के पर्यटकों के लिए व्यापार और पर्यटन स्थलों कि यात्रा करने के लिए एक लोकप्रिय स्थल के रूप में उभर रहा है।यह शहर पूरी तरह से प्रकृति और संस्कृति से भरा हुआ है, जहां की यात्रा करने के लिए हर किसी को जीवन में एक बार अवश्य जाना चाहिए। अगर आप डिब्रूगढ़ के बारे में और जानना चाहते हैं या फिर यहां के पर्यटन स्थलों की यात्रा करना चाहते हैं तो इस लेख को अवश्य पढ़ें। यहां पर हम आपको डिब्रूगढ़ पर्यटन यात्रा की पूरी जानकारी देने जा रहें हैं।

Table of Contents

भारत की टी सिटी डिब्रूगढ़ के बारे में – Tea City Of India Dibrugarh In Hindi

Tea City Of India Dibrugarh In Hindi

डिब्रूगढ़ भारत की टी सिटी के नाम से भी जाना जाता है। क्योंकि यह शहर पूरी तरह से हरे भरे और विशाल चाय बागानों से भरा हुआ है। डिब्रूगढ़ शहर ब्रह्मपुत्र की एक सहायक नदी, डिब्रूगढ़ नदी के तट पर स्थित है, जिसे देश का सबसे बड़ा चाय उत्पादक माना जाता है। यह शहरी कई तरह के प्राकृतिक आकर्षणों से भरा हुआ जिसमें नदियाँ, चाय के बागान और हरियाली वाले क्षेत्र शामिल है। डिब्रूगढ़ भारत का एक ऐसा पर्यटन स्थल है जो प्रकृति प्रेमियों के लिए स्वर्ग के समान है। इसके अलावा यह शहर कई तरह की एडवेंचर एक्टिविटी के लिए भी लोकप्रिय होता जा रहा है।

डिब्रूगढ़ में घूमने लायक पर्यटन स्थल – Best Places To Visit In Dibrugarh In Hindi

अगर आप डिब्रूगढ़ की यात्रा करने के लिए जा रहें है तो यहां पर नीचे दिए गए टॉप 5 पर्यटन स्थलों की यात्रा आपको अवश्य करना चाहिए।

डिब्रूगढ़ के दर्शनीय स्थल देहिंग पटकाई वन्यजीव अभयारण्य – Dibrugarh Ke Darshaniya Sthal Dehing Patkai Wildlife Sanctuary In Hindi

डिब्रूगढ़ के दर्शनीय स्थल देहिंग पटकाई वन्यजीव अभयारण्य - Dibrugarh Ke Darshaniya Sthal Dehing Patkai Wildlife Sanctuary In Hindi

असम में एकमात्र वर्षावन, देहिंग पटकाई डिब्रूगढ़ में और आंशिक रूप से तिनसुकिया जिले में स्थित है। आपको बता दें कि यह अभ्यारण्य 111.19 वर्ग किमी के क्षेत्र में फैला हुआ है और असम के गीले उष्णकटिबंधीय सदाबहार वन श्रेणी के अंतर्गत आता है। देहिंग पटकाई वन्यजीव अभयारण्य के तीन भाग हैं जो डीरोक वर्षावन, ऊपरी दीहिंग नदी और जेयपोर हैं। देहिंग पटकाई को वर्ष 2004 में इसे अभयारण्य का दर्जा मिला। इसके अलावा यह देहिंग-पटकाई हाथी अभ्यारण्य का एक हिस्सा है।

यहां पर पर्यटकों सिर्फ जंगली जानवरों को ही नहीं बल्कि और भी बहुत कुछ देख सकते हैं। आपको बता दें कि द्वितीय विश्व युद्ध का कब्रिस्तान, डिगबोई तेल रिफाइनरी (देश में सबसे पुराना) यहां निकट ही स्थित है। देहिंग पटकाई रेनफॉरेस्ट का एक हिस्सा अभयारण्य है और इस जंगल का एक हिस्से में डिब्रू-डेओमाली नामक एक और हाथी रिजर्व स्थित है। यह वह जंगल जिसे पूर्व के अमेज़ॅन के रूप में भी जाना जाता है। अगर आप डिब्रूगढ़ के पर्यटन स्थलों की यात्रा करने के लिए जा रहें हैं तो देहिंग पटकाई वन्यजीव अभयारण्य को अपनी सूची में अवश्य हामिल करें।

और पढ़े : गुवाहाटी के पर्यटन स्थल और घूमने की जानकारी

डिब्रूगढ़ के आकर्षण स्थल नामफाके मोनेस्ट्री ग्राम – Dibrugarh Ke Aakarshan Sthal Namafake Monastery In Hindi

डिब्रूगढ़ के आकर्षण स्थल नामफाके मोनेस्ट्री ग्राम – Dibrugarh Ke Aakarshan Sthal Namafake Monastery In Hindi
Image Credit : Bhaskarjyoti Bora

डिब्रूगढ़ असम में प्रमुख शहरों में से एक के रूप में माना जाता है और यहां कई तरह के आकर्षणों से भरा हुआ है। डिब्रूगढ़ के कई पर्यटकों के आकर्षण में नामफाके गांव का नाम भी शामिल है जो लगभग 37 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यह गाँव कई ताई फाके परिवारों के लिए घर है जो यहाँ रहते हैं। इस गांव में नामफाके मोनेस्टी स्थित है जो कि एक सुंदर बौद्ध मठ है। इस मठ को एक ध्यान केंद्र के रूप में माना जाता है और यह यहां के एक बहुत ही लोकप्रिय पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया गया है।

नामफाके मोनेस्टी के आसपास का शांत और प्राकृतिक सौंदर्य इसे बेहद खास बनाते हैं। यहां रहने वाले लोग बौद्ध धर्म के अनुयायी हैं और उनकी मान्यताएं और परंपराएं इस धर्म को लेकर काफी मजबूत हैं। गाँव में पास में एक अशोक स्तंभ और एक बौद्ध शिवालय है। मुख्य मठ में प्रवेश करने पर पर्यटक यहां सोने से बनी भगवान बुद्ध की मूर्ति देख सकते है। इसके अलावा मठ के अंदर एक पानी की टंकी जिसका पानी बहुत पवित्र माना जाता है।

और पढ़े : मानस राष्ट्रीय उद्यान घूमने की जानकारी

डिब्रूगढ़ में घूमने लायक जगह नहरकटिया टाउन – Dibrugarh Me Ghuumne Layak Jagah Naharkatia Town In Hindi

डिब्रूगढ़ में घूमने लायक जगह नहरकटिया टाउन - Dibrugarh Me Ghuumne Layak Jagah Naharkatia Town In Hindi
Image Credit : Dhanjyoti Hazarika

नहरकटिया असम के डिब्रूगढ़ जिले में स्थित एक शहर है। आपको बता दें कि यह जिले का एक वाणिज्यिक शहर है जिसमें कई गाँव और चाय के बागान हैं। आपको बता दें कि यह जगह एक बहुत ही दुखद इतिहास के साथ जुडी हुई है। यहां पर लिया नाम के एक अहोम कुलीन ने शहर के रेलवे स्टेशन के पास राजकुमार नाहर की हत्या कर दी थी और इस घटना के बाद से ही यह सहता नहरकटिया के नाम से जाना जाने लगा। यह शहर आज एक पर्यटन स्थल के रूप में लोकप्रिय हो गया है और यहां पर बड़ी संख्या में पर्यटक यात्रा करने के लिए आते हैं। अगर आप डिब्रूगढ़ की यात्रा करने के लिए जा रहें हैं तो आपको नहरकटिया टाउन का दौरा करने के लिए भी जाना चाहिए, क्योंकि आप यहां पर कई आकर्षक स्थानों को एक्सप्लोर कर सकते हैं। यहां के कुछ आकर्षक स्थानों में सासोनी गोजपुरिया, नम्पहाके, मर्बिल इको टूरिज्म और गोभुरो डोलोंग के नाम शामिल हैं।

डिब्रूगढ़ के पर्यटन स्थल रडोंगा डोल – Dibrugarh Ke Paryatan Sthal Raidonga Dol In Hindi

यह डिब्रूगढ़ के सबसे पुराने और महत्वपूर्ण स्मारकों में से एक माना जाता है, जो कालाखोवा क्षेत्र में स्थित है। बता दें कि यह डोल लगभग 45 फीट ऊँचा है जो अहोम साम्राज्य का अवशेष हैं जिसमें 14 मूर्तियाँ शामिल हैं। ऐतिहासिक साक्ष्य की माने तो यह डोल को स्वदेशदेव प्रमत्त सिंघा ने अपनी बहन की शादी के लिए रैडनोगिया बरुआ को दहेज के रूप में दिया था। यहां पास में एक आकर्षक तालाब भी स्थित है जो इसकी सुंदरता को और भी अधिक बढ़ा देता है।

और पढ़े : कामाख्या देवी मंदिर के बारे में रोचक तथ्य और इतिहास

डिब्रूगढ़ के बेस्ट टूरिस्ट प्लेस डिब्रू सैखोवा राष्ट्रीय उद्यान – Dibru-Saikhowa National Park Dibrugarh Tourist Place In Hindi

डिब्रूगढ़ के बेस्ट टूरिस्ट प्लेस डिब्रू सैखोवा राष्ट्रीय उद्यान - Dibru-Saikhowa National Park Dibrugarh Tourist Place In Hindiडिब्रू सैखोवा राष्ट्रीय उद्यान शहर से लगभग 12 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है और इसमें वनस्पतियों और जीवों की दुर्लभ प्रजातियां पाई जाती हैं। इस उद्यान में कई सुगंधित और औषधीय पौधे भी पाए जाते हैं। यहां बगीचे में एक तालाब भी है यहां पर पर्यटक बोटिंग का मजा ले सकते हैं। यह उद्यान प्रवासी पक्षियों को देखने के लिए एक बहुत अच्छी जगह है। अगर आप डिब्रूगढ़ के पर्यटन स्थलों की यात्रा करने के लिए जा रहें हैं तो आपको इस राष्टीय उद्यान का दौरा करने के लिए अवश्य जाना चाहिए।

डिब्रूगढ़ में खाने के लिए प्रसिद्ध भोजन – Famous Food In Dibrugarh In Hindi

डिब्रूगढ़ में खाने के लिए प्रसिद्ध भोजन – Famous Food In Dibrugarh In Hindiअसमिया व्यंजन अपनी खास तकनीक और शैलियों के लिए जाना जाता है। यहां का प्रमुख मुख्य घटक चावल है। यह व्यंजनों को बहुत कम पकाया जाता है और इनमें कम ही मसालों का इस्तेमाल किया जाता है। मछली, बत्तख, स्क्वाब आदि का यहां व्यजनों में काफी इस्तेमाल किया जाता है। यहाँ पर चावल को दाल , मसूर जूल (मछली करी), मंग्सो (मांस करी) के साथ खाया जाता है। बत्तख और कबूतर जैसे पक्षी भी व्यंजनों में उपयोग किए जाते हैं। पोर्क और मटन व्यंजन यहाँ की युवा पीढ़ी के बीच काफी लोकप्रिय हैं।

डिब्रूगढ़ की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय क्या है – Best Time To Visit Dibrugarh In Hindi

डिब्रूगढ़ की यात्रा करने का सबसे अच्छा समय क्या है - Best Time To Visit Dibrugarh In Hindiअगर आप डिब्रूगढ़ की यात्रा करने की योजना बना रहें हैं तो इस शहर की जलवायु की स्थिति हमेशा सुखद होती है, जिसकी वजह से आप वर्ष के किसी भी समय यहां की यात्रा कर सकते हैं। गर्मी के मौसम के दौरान यहां काफी हल्की गर्मी होती है। इसलिए यह इस क्षेत्र का दौरा करने के लिए एक आदर्श समय है। मानसून के मौसम में राज्य के अन्य हिस्सों में मानसून में अच्छी बारिश होती है जिस दौरान हरे भरे दृश्य देखे जा सकते हैं। सर्दियां हल्की ठंडी और हल्की होती हैं, जिसे आप गर्म कपड़ों से दूर कर सकते हैं।

और पढ़े : असम राज्य के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी 

डिब्रूगढ़ कैसे पहुंचें – How To Reach Dibrugarh In Hindi

अगर आप डिब्रूगढ़ की यात्रा करना चाहते हैं तो बता दें कि यह वायुमार्ग और रेलवे के माध्यम से भारत के प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। उत्तर पूर्व से डिब्रूगढ़ से प्रमुख शहरों को जोड़ने वाली नियमित बसें हैं। डिब्रूगढ़ गुवाहाटी से लगभग 443 किलोमीटर की दूरी पर है।

फ्लाइट से डिब्रूगढ़ कैसे जाए – How To Reach Dibrugarh By Flight In Hindi

फ्लाइट से डिब्रूगढ़ कैसे जाए - How To Reach Dibrugarh By Flight In Hindiजो भी पर्यटक हवाई जहाज से डिब्रूगढ़ की यात्रा करना चाहते हैं उनके लिए बता दें कि डिब्रूगढ़ हवाई अड्डा शहर का मुख्य हवाई अड्डा है। यहां के लिए निकटतम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा गुवाहाटी में स्थित है जो भारत के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। पवन हंस (Pawan Hans) अन्य उत्तर पूर्वी शहरों से डिब्रूगढ़ तक हेलीकाप्टर सेवाएं प्रदान करता है। हवाई अड्डे से आप अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए टैक्सी या कैब सुविधा ले सकते हैं।

सड़क मार्ग से डिब्रूगढ़ कैसे पहुंचे- How To Reach Dibrugarh By Road In Hindi

सड़क मार्ग से डिब्रूगढ़ कैसे पहुंचे- How To Reach Dibrugarh By Road In Hindiजो पर्यटक सड़क मार्ग से डिब्रूगढ़ जाने की योजना बना रहें हैं उनके लिए बता दें कि यह शहर गुवाहाटी, जोरहाट, तेजपुर लखीमपुर, डिग्बो, कोहिमा आदि स्थानों से सड़क मार्ग द्वारा अच्छी तरह से जुड़ा है। अगर आप अपने वाहन से यात्रा नहीं करना चाहते तो बता दें कि इन सभी शहरों से डिब्रूगढ़ जाने के लिए दैनिक बस सेवाएं और टैक्सी सेवाएं उपलब्ध हैं।

ट्रेन से डिब्रूगढ़ कैसे जाये – How To Reach Dibrugarh By Train In Hindi

ट्रेन से डिब्रूगढ़ कैसे जाये - How To Reach Dibrugarh By Train In Hindi

अगर ट्रेन से डिब्रूगढ़ शहर की यात्रा करने की योजना बना रहें हैं तो बता दें कि इस शहर में दो रेलवे स्टेशन हैं। ऐतिहासिक डिब्रूगढ़ टाउन स्टेशन (DBRT) पूरे उत्तर-पूर्व भारत में पहला रेलवे स्टेशन और नवनिर्मित डिब्रूगढ़ स्टेशन (DBRG) है। डिब्रूगढ़ देश के विभिन्न हिस्सों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। डिब्रूगढ़ भारत का एकमात्र गैर-राजधानी शहर है, जहाँ से राजधानी एक्सप्रेस संचालित होती है। रेल मार्ग से डिब्रूगढ़ की यात्रा करना पहाड़ी परिवेश का एक सुंदर दृश्य प्रस्तुत करता है और यह आपके लिए एक शानदार अनुभव भी साबित हो सकता है।

डिब्रूगढ़ का नक्शा – Dibrugarh Map

डिब्रूगढ़ की फोटो गैलरी – Dibrugarh Images

View this post on Instagram

#naturephotography #teagardenassam #withoutedit

A post shared by Ankita Das (@__.learner.__) on

और पढ़े :

Leave a Comment