अलवर के आकर्षक स्थलों की जानकारी – Alwar Mein Ghumne Wali Jagah In Hindi

Alwar Mein Ghumne Wali Jagah In Hindi, अलवर राजस्थान का एक प्रमुख पर्यटन शहर है जो दिल्ली से राजस्थान की यात्रा करते समय सबसे पहले आता है। अलवर दिल्ली से 150 किलोमीटर और जयपुर शहर से 150 किलोमीटर उत्तर में स्थित है। अलवर शहर भानगढ़ किले, झीलों, सरिस्का टाइगर रिजर्व और हेरिटेज हेरलिस जैसे पर्यटन स्थलों की वजह से काफी लोकप्रिय है। राज्य का एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल होने के साथ ही यह कई बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग की वजह से भी काफी फेमस है। अगर आप अलवर शहर की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं तो आप यहां बाला-क्विला, भानगढ़ किला, पांडु पोल और अन्य मंदिरों को देखने के लिए जा सकते हैं। इस लेख में हम अलवर शहर की जानकारी दे रहे हैं इसके साथ ही अलवर के प्रमुख पयर्टन स्थलों के बारे में भी बता रहे हैं।

Table of Contents

अलवर का इतिहास – Alwar History In Hindi

अलवर का इतिहास - Alwar History In Hindi

1106 में विक्रमी संवत आमेर का राजा ने अपने नाम के तहत अलपुर शहर की स्थापना की, जो बाद में अलवर बन गया। इस शहर पर कई राजपूत राजाओं ने शासन किया है जिनमें खानजादा राजपूत, निकुंभ राजपूत, बडगुजर राजपूत और अंत में नरुका राजपूत के नाम शामिल है। राजपूत राजा ने प्रताप सिंह ने एक समझौते पर भरतपुर के जाट राजा से अलवर किले पर कब्जा कर दिया था और उन्होंने आधुनिक अलवर की नींव रखी जो उपनिवेशवाद के दौरान एक रियासत बन गया। 18 मार्च 1948 में राज्य का तीन 3 पड़ोसी रियासतों- भरतपुर, धौलपुर और करौली में मिल गया था। 15 मई 1948 को में अलवर को पड़ोसी रियासतों और अजमेर के क्षेत्र में आधुनिक राजस्थान बनाने के लिए जोड़ा गया। इसके बाद इसको राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र भी बनाया गया, जिसके बाद इसका तेजी से विकास हुआ।

अलवर के प्रसिद्ध आकर्षण स्थल – Most Popular Tourist Places In Alwar In Hindi

राजस्थान का प्रसिद्ध शहर अलवर वैसे तो पर्यटक और धार्मिक स्थलों से भरा पड़ा है लेकिन फिर भी यहाँ के कुछ प्राचीन प्रसिद्ध स्थल है जो पुरे देश में लोकप्रिय बने हुए –

बाबा किला

बाबा किला

बाला किला या अलवर किला अलवर शहर के ऊपर अरावली रेंज में स्थित है। यह किला अलवर शहर के प्रमुख पर्यटन शहरों में से एक है जिसका निर्माण 15 वीं शताब्दी में हसन खान मेवाती द्वारा किया गया था। बाला किला अलवर शहर में 300 मीटर ऊंची चट्टान के ऊपर स्थित है जो शहर को एक राजसी दृश्य प्रदान करता है। अगर आप बाला किला घूमने के लिए जाते हैं तो यहां का हर हिस्सा अपने इतिहास को बताता है। जो पर्यटकों के लिए अलवर के प्रमुख आकर्षणों में से एक माना जाता है।

अलवर का भानगढ़ किला

अलवर का भानगढ़ किला

भानगढ़ का किला अलवर जिले की अरावली पर्वतमाला में सरिस्का अभ्यारण्य पर स्थित है। यह किला ढलान वाले इलाके में पहाड़ियों के तल पर बसा हुआ है जो देखने में बेहद भयानक लगता है। भानगढ़ किला अलवर शहर का एक बेहद प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है जो अपनी भुतिया किस्सों की वजह से सबसे ज्यादा चर्चा में बना रहता है। भानगढ़ किला यहां होने वाली घटनायों की वजह से इतना ज्यादा फेमस है कि कोई भी इस किले के अंदर अकेला जाने से डरता है। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण या एएसआई ने इस किले में रात के समय पर्यटकों और स्थानीय लोगों के प्रवेश पर भी रोक लगा रखी है।

सिटी पैलेस

सिटी पैलेससिटी पैलेस अलवर में देखने की सबसे अच्छी जगहों में से एक है जिसको विनय विलास महल के रूप में भी जाना जाता है। यह महल मुगल और राजस्थानी डिजाइन के सुंदर मिश्रण के साथ वास्तुकला का एक चमत्कार है जो आपको शाही जीवन शैली की झलक देता है। सिटी पैलेस की दीवार, छत पर भित्ति चित्र और मिरर वर्क इस महल को बेहद आकर्षित बनाते हैं। जो पर्यटकों के लिए अलवर की सबसे आकर्षक जगहों में से एक बनी हुई है।

और पढ़े : सिटी पैलेस अलवर घूमने और इसके दर्शनीय स्थल की जानकारी

मूसी महारानी की छतरी अलवर

मूसी महारानी की छतरी अलवर

मूसी महारानी की छतरी अलवर के मुख्य महल के बाहर स्थित राजस्थान के सबसे प्रसिद्ध स्मारकों में से एक है। मूसी महारानी की छतरी को विनय सिंह ने 1815 में महाराजा बख्तावर सिंह और उनकी रानी मूसि की स्मृति के रूप में बनाया था। यह सुंदर सेनोटाफ राजा और रानी की कब्र को आश्रय देता है, जो संगमरम और लाल बलुआ पत्थर से मिलकर बनी अद्भुद संरचना है।अरावली पहाड़ियों की पृष्ठभूमि में स्थापित दो मंजिला संरचना सूर्यास्त के दौरान और अधिक आकर्षक लगती है। इमारत की शीर्ष मंजिल को पूरी तरह से संगमरमर से और ईमारत की आंतरिक छत को कुछ सुंदर पौराणिक चित्रों और भित्तिचित्रों से सजाया गया है। अपनी आश्चर्यजनक वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध मूसी महारानी की छतरी पर्यटकों ओर इतिहास प्रेमियों के लिए अलवर की आकर्षक जगहों में से एक है।

नीमराणा की बावड़ी

नीमराणा की बावड़ी

नीमराणा के अंदर स्थित नीमराणा की बावड़ी बहुत पुरानी और शानदार बहु-मंजिला संरचना है। जो नीमराना के प्रमुख पर्यटक स्थलों में से एक है, और जो पर्यटकों के लिए लोकप्रिय बनी हुई है। यह बावड़ी नीमराना महल के नजदीक स्थित है। जिसमे 170 चरण हैं, और जैसे-जैसे हम नीचे जाते हैं निर्माण छोटा होता जाता है। नीमराना बावड़ी पुरानी वास्तुकला की सुंदरता को दर्शाता है। जिसमे पुराने निर्माण कला की उत्कृष्टता देखी जा सकती है। नीमराणा की बावड़ी 9 मंजिला ईमारत थी और प्रत्येक मंजिल की ऊँचाई लगभग 20 फीट है। यह अंदर से ठंडा और नम है। यह बावड़ी पानी और सिंचाई दोनों के लिए उपयोग के साथ साथ आकर्षक पर्यटक स्थल भी बना हुआ है। जहा पर्यटकों कि भीड़ देखी जाती है।

और पढ़े : नीमराणा की बावड़ी का इतिहास और घूमने की जानकारी

विजय मंदिर महल

विजय मंदिर महल
Image Credit : Jai Singh

विजय मंदिर महल अलवर शहर के केंद्र से 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, जो अलवर के सबसे खास पर्यटन स्थलों में से एक है। बताया जाता है कि विजय मंदिर पैलेस को जुनूनी राजा जय सिंह ने अपनी जुनून के परिणामस्वरूप बनाया था। जय सिंह वास्तुकला के संरक्षक थे, और उन्हें खूबसूरत महल बनाने का जूनून था। विजय मंदिर महल झील के पास शानदार उद्यानों के बीच में स्थित है और इस महल में 105 कमरे हैं जो अच्छी तरह से सजे हुए हैं। महल के एक प्रमुख आकर्षण सीता राम मंदिर है।

अलवर के धार्मिक स्थल और प्रमुख मंदिर – Famous Temples Of Alwar In Hindi

आपको बता दे राजस्थान का प्रसिद्ध शहर अलवर  महलो, किलो, पार्को, के अलावा अपने धार्मिक स्थलों और लोकप्रिय मंदिरों के लिए भी प्रसिद्ध है जो तीर्थ यात्रियों के लिए आकर्षण केंद्र बने हुए है। तो हम आपको यहाँ अलवर के प्रमुख धार्मिक स्थलों के बारे में बताने जा रहे है-

नारायणी माता मंदिर अलवर

नारायणी माता मंदिर अलवर
Image Credit : Pavan Jonwa

नारायणी माता मंदिर राजस्थान के मुख्य शहर अलवर से लगभग 80 और अमनबाग से 14 किलोमीटर दूर सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान के किनारे पर स्थित अलवर का एक बहु प्रतिष्ठित मंदिर है। जहा नारायणी माता भगवान शिव की पहली पत्नी सती का अवतार रूप मानी जाती है। नारायणी माता मंदिर का निर्माण सफेद संगमरमर से किया गया है और इसे बहुत अच्छी तरह से सजाया और डिजाइन किया गया है। मंदिर की साइड में छोटा सा गर्म पानी का झरना इसे और अधिक लोकप्रिय बनाता है। आपको बता दे नारायणी माता मंदिर भारत में सैन समाज का एकमात्र मंदिर है जिसकी पवित्रता माउंट आबू, पुष्कर और रामदेवरा में मंदिरों के समान मानी जाती है। जो सैन समाज के लिए उनकी आस्था का महत्वपूर्ण केंद्र बना हुआ है।

और पढ़े : नारायणी माता मंदिर के दर्शन की जानकारी

पांडुपोल हनुमान मंदिर अलवर

पांडुपोल हनुमान मंदिर अलवर

पांडुपोल का हनुमान मंदिर राजस्थान के सरिस्का राष्ट्रीय बाघ अभयारण्य के अंदर स्थित है। जिसमे भगवान हनुमान की एक विशाल मूर्ति वैराग्य स्थिति में स्थापित है। अरावली रेंज के ऊंचे कगार वाले पहाड़ी के बीच,स्थित पांडुपोल का प्राचीन हनुमान मंदिर अलवर में सबसे अधिक देखी जाने वाली जगहों में से एक हैL मंदिर के परिसर में, लंगूर, मकाक और कई प्रकार के पक्षियों और अपने भव्य 35-फुट झरने के लिए भी प्रसिद्ध है।

पांडुपोल का संबंध महाभारत के महाकाव्य की अवधि से माना जाता है। माना जाता है कि पांडवों ने निर्वासन के दौरान अपने जीवन कुछ साल पांडुपोल में बिताए थे। एक अन्य कथा के अनुसार, यह पांडुपोल वही स्थान  था जहा भगवान हनुमान ने भीम को पराजित कर उसके अभिमान पर अंकुश लगाया। पांडुपोल हनुमान मंदिर घूमने के लिए तीर्थ यात्रियों के साथ-साथ प्रकृति व जीव प्रेमियों के लिए भी अलवर की शानदार जगहों में से एक है।

और पढ़े : पांडुपोल के हनुमानजी के मंदिर के दर्शन की जानकारी

भर्तृहरि मंदिर अलवर

भर्तृहरि मंदिर अलवर
Image Credit : Manoj kumar

भर्तृहरि मंदिर अलवर शहर से लगभग 30 किमी दूर और प्रसिद्ध सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान के करीब स्थित अलवर में सबसे प्राचीन पवित्र स्थलों में से एक है। जो आस्था और शांति का महत्वपूर्ण केंद्र बिंदु है। मंदिर का नाम भरत  (उज्जैन का शासक) के नाम पर रखा गया है। मंदिर पारंपरिक राजस्थानी शैली में विस्तृत दीर्घाओं, शिखर और मंडपों के पुष्प डिजाइन किए गए स्तंभों के साथ बनाया गया है। जो अलवर में ऐतिहासिक महत्व रखता है।

भर्तृहरि मंदिर मंदिर तीन दिशाओं से पहाड़ियों से घिरा होने के कारण  श्रद्धालुओं के लिए और अधिक लोकप्रिय बना हुआ है। पहाड़ियों पर झरने के साथ स्थित भर्तृहरि मंदिर, मन को शांत करने के लिए अलवर एक आदर्श स्थान है। जहा मंदिर केअनुयायी राजस्थान के कोने-कोने से आते हैं। तो अगर आप अपनी देनिक परेशानियों का भूलकर आस्था और शांति का अनुभव करना चाहते है तो भर्तृहरि मंदिर आपके लिए अलवर का आदर्श स्थान हो सकता है।

तिजारा जैन मंदिर अलवर

तिजारा जैन मंदिर अलवर

तिजारा जैन मंदिर दिल्ली से 110 किलोमीटर और दिल्ली-अलवर राजमार्ग पर अलवर से 55 किलोमीटर दूर स्थित जैनों का लोकप्रिय तीर्थ स्थल है। वर्ष 1956 में स्थापित प्राचीन जैन मंदिर आठ जैन तीर्थंकरों, यानी जैन धर्म गुरु को समर्पित है। जो जैन समुदाय के लिए महत्वपूर्ण केंद्र माना जाता है और यह जैनों के साथ- साथ प्राचीन इतिहास प्रेमियों के लिए भी लोकप्रिय बना हुआ है। जो अलवर में घूमने के लिए सबसे आकर्षक जगहों में से एक है।

और पढ़े : तिजारा जैन मंदिर अलवर के दर्शन की जानकारी

नीलकंठ महादेव मंदिर अलवर

नीलकंठ महादेव मंदिर अलवर

अलवर जिले के राजगढ़ तहसील में स्थित नीलकंठ मंदिर भगवान शिव के निवास के लिए प्रसिद्ध है, जो उनके नीलकंठ अवतार को समर्पित है। बता दे की मंदिर का निर्माण 6 वीं और 9 वीं शताब्दी ई के बीच महाराजा धिराज मथानदेव द्वारा किया गया था, जिसकी संरचना समय के साथ-साथ जीर्ण-शीर्ण हो गई है, जिसमे मंदिर का एक बड़ा हिस्सा अब क्षतिग्रस्त हो गया है जबकि थोड़ा हिस्सा अभी भी बरकरार है। फिर भी यह भगवान शिव के भक्तों के बीच एक अत्यधिक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल बना हुआ है। और आपको बात दे नीलकंठ मंदिर अपने धामिक महत्त्व, उत्कृष्ट पत्थर की नक्काशी और यहां के हरे-भरे जंगलों के लिए नीलकंठ मंदिर घूमने के लिए अलवर के आकर्षक तीर्थ स्थलों में से एक है।

और पढ़े : नीलकंठ मंदिर अलवर के दर्शन की जानकारी 

मोती डूंगरी

अपने हंसमुख महल, गणेश और लक्ष्मी नारायण मंदिरों के लिए प्रसिद्ध, मोती डूंगरी पर्यटकों का पसंदीदा स्थान है। पहाड़ी की तलहटी में स्थित गणेश मंदिर अपने भक्तों के लिए प्रमुख आस्था केंद्र बना हुआ है। मोती डूंगरी मूल रूप से वर्ष 1882 में बनाया गया था। वर्ष 1928 तक, यह अलवर के शाही परिवार का मुख्य निवास था। 1928 के बाद, महाराजा जय सिंह ने पुराने महल को ढहाने का फैसला किया और बाद में इसकी जगह एक और शानदार इमारत बनाई गई थी।

तालवृक्ष धाम

तालवृक्ष धाम
Image Credit : Sanjay Kumar Bari

सरिस्का-अलवर मार्ग पर यह एक रमणीय स्थल है, जहा पर्यटक गर्म पानी के कुंड में स्नान करते है जो पर्यटकों के लिए लोकप्रिय बना हुआ है। जहाँ बजती हुई मंदिर की घंटियाँ और चहलकदमी करते लंगूर यहाँ एक अनोखा माहौल प्रस्तुत करते  हैं। और आपको बता दे यह स्थान पर मांडव ऋषि के तपस्या स्थल के रूप में भी जाना जाता है।

नालदेश्वर

नालदेश्वर
Image Credit : Jairam Meena

नालदेश्वर अलवर से 24 किलोमीटर दक्षिण चट्टानी पहाड़ियों के बीच में स्थित है, जो अलवर के प्रसिद्ध तीर्थ स्थलों में से एक माना जाता है। नालदेश्वर के पुराने शिव मंदिर में दो प्राकृतिक तालाब हैं जो आसपास की पहाड़ियों से जुड़े हए है और वहा से पानी प्राप्त करते हैं। जहाँ पर्यटक सुरम्य और शांतिपूर्ण वातावरण को महसूस करते है। और आपको बता दे मंदिर तक पहुचने के लिए अपनी कारो और परिवहन के अन्य साधनों को सड़क पर ही छोड़ना होता है जहा से आपको मंदिर तक पहुचने के लिए रोमांच से भरपूर पैदल करनी होती है।

अलवर में घूमने लायक जगह – Best Places To Visit In Alwar Tourism In Hindi

सरिस्का पैलेस

सरिस्का पैलेस
Image Credit : Sivakaran Pk

सरिस्का पैलेस का निर्माण अलवर के महामहिम महाराजा सवाई जय सिंह द्वारा 1892 ने करवाया था। भव्य सरिस्का पैलेस अलवर शहर में देखने की सबसे अच्छी जगह है। इस खूबसूरत महल का हर कौना बेहद आकर्षित है। यह भव्य महल 20 एकड़ के हरे भरे परिदृश्य में फैला है जो पर्यटकों को अपनी भव्यता में डूबने पर मजबूर कर देता है। सरिस्का पैलेस की सुंदरता का सबसे मुख्य कारण है कि यह सरिस राष्ट्रीय उद्यान के किनारे पर स्थित है। महाराजा सवाई जय सिंह इस खूबसूरत महल को अपने मेहमानों और खुद के लिए शिकार लॉज के रूप में बनाया था। बता दें कि सरिस्का पैलेस अब 5 स्टार होटल के रूप में पर्यटकों के लिए खुला है और राजस्थान के सबसे लोकप्रिय धरोहर होटलों में से एक है।

नीमराणा फोर्ट पैलेस

नीमराणा फोर्ट पैलेस

15 वीं शताब्दी 1464 में निर्मित, नीमराणा किला अपार सौंदर्य का प्रतीक है। यह राजसी किला पहाड़ी के ऊपर 10 हेक्टेयर क्षेत्र को कवर करता है। जो राजस्थानी परम्परा और आधुनिक शैली के आंतरिक मिश्रण को प्रदर्शित करता है। जो अब एक लक्जरी रिसॉर्ट में बदल गया है जिसके चारों ओर हैंगिंग गार्डन, दो पूल और खूबसूरत कमरे मोजूद है। शानदार, रोमांटिक और आनंद से भरा नीमराणा किला नीमराणा में घूमने के लिए सबसे अच्छी जगहों में से एक है। जो पर्यटकों के लिए लोकप्रिय बना हुआ है अपनी छुटियाँ के कुछ दिन विताने के लिए नीमराणा फोर्ट आपके जीवन का सबसे अच्छा स्थान हो सकता है, जहा आप आपकी लाइफ के कुछ पल सुखद माहोल में व्यतीत कर सकते हैं।

और पढ़े : नीमराना फोर्ट अलवर घूमने की जानकारी

केसरोली अलवर

केसरोली अलवर

केसरोली अलवर के दुर्लभ होटलों में से एक है जो 14 वीं शताब्दी से अस्तित्व में है। हिल फ-केसरोली उन लोगों के लिए बहुत अच्छी जगह है जो अपने शहर से दूर सप्ताह भर की छुट्टी मानाने के लिए किसी जगह की तलाश में हैं। नीमराना का हिल फूट-केस्रोली एक शानदार प्राचीन विरासत महल है जो किसी को भी इतिहास में वापस ले जाता है। इस होटल में एक बड़ा स्विमिंग पूल और एक सुंदर बगीचा के साथ कई शानदार सुविधाएं भी हैं। इस होटल के कमरों को पूरी तरह से राजस्थानी शैली में बनाया गया है जो पर्यटकों को रॉयल्टी का अहसास बनाते हैं। अगर आप अलवर शहर की यात्रा करने के लिए आ रहे हैं तो इस केसरोली को देखने जरुर जाएँ।

सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान अलवर

सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान अलवर

अरावली पहाड़ियों में बसा सरिस्का नेशनल पार्क लगभग 800 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फेला हुआ है जिसे 1982 में एक राष्ट्रीय उद्यान के रूप में घोषित किया गया था। जो अलवर में देखने के लिए शीर्ष स्थानों में से एक है। घास के मैदान, शुष्क पर्णपाती वन और चट्टानी परिदृश्य को कवर करता हुआ  सरिस्का वन्यजीव अभयारण्य अब एक सरिस्का रिजर्व टाइगर के रूप में जाना जाता है।

रिजर्व अपने राजसी रॉयल बंगाल टाइगर्स के लिए प्रसिद्ध है। जो बाघों (रणथंभौर से) को सफलतापूर्वक स्थानांतरित करने वाला पहला बाघ अभयारण्य है। जो इसे एक महान पर्यटक आकर्षण बनाता हैं। सरिस्का नेशनल पार्क इतिहास प्रेमियों के साथ-साथ प्रकृति प्रेमियों, वन्यजीव उत्साही लोगों के लिए लोकप्रिय बना हुआ है। जो अलवर में घूमने के लिए आदर्श स्थानों में से एक है।

और पढ़े : अलवर में प्रसिद्ध सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान घूमने की जानकारी

सिलीसेढ़ झील अलवर

सिलीसेढ़ झील अलवर

7 किलोमीटर के क्षेत्र में फेली हुई सिलीसेढ़ झील राजस्थान की सबसे  खुबसूरत झीलो में से एक है जो अलवर कि लोकप्रिय जगहों में से एक है। पूर्व में 1845 में अलवर शहर को पानी की आपूर्ति के लिए सिलीसेढ़ झील को बनाया गया था जिसकी स्थापना का श्रेय महाराजा विनय खान को दिया जाता है| इस झील में एक शानदार झील महल है। जो कि महाराजा का  प्रिय माना जाता था। अलवर शहर से लगभग 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित सिलीसेढ़ झील पर्यटकों के लिए एक लोकप्रिय पिकनिक स्थल है।

और पढ़े : अलवर सिलीसेढ़ झील घूमने की जानकरी 

पैलेस संग्रहालय

पैलेस संग्रहालय – Palace Museum In Hindi
Image Credit : Amritansh Trivedi

अलवर में स्थित पैलेस म्यूजियम को सरकारी संग्रहालय के नाम से भी जाना जाता है जिसमे राजस्थान इतिहास और विशेष रूप से अलवर के इतिहास को प्रस्तुत करने वाले कलाकृतियों का अद्भुत श्रृंखला का संग्रह है। आपको बता दे संग्रहालय का पूरा संग्रह रॉयल परिवारों के भंडार से आता है और इसमें 234 मूर्तियां, 11 शिलालेख, 9702 सिक्के, 35 धातु की वस्तुएं, 2565 पेंटिंग और पांडुलिपियां, 2270 हथियार और स्थानीय कला, शिल्प और संगीत वाद्ययंत्र के 1809 विकल्प भी शामिल हैं। जो पर्यटकों के साथ-साथ इतिहास प्रमियों के लिए भी अलवर का प्रमुख आकर्षक केंद्र माना जाता है।

फतेह जंग गुंबद

फतेह जंग गुंबद
Image Credit : Jasram Meena

अलवर में स्थित फतेह जंग गुंबद मुगल सम्राट शाहजहाँ का एक दयालु मंत्री फतेह जंग को समर्पित है, जो फ़तेह जंग का एक मकबरा है। यह शानदार मकबरा गुंबदों और मीनारों का एक अद्भुद संयोजन है जो उच्च गुणवत्ता वाले बलुआ पत्थर से निर्मित है, जो हिंदू और मुस्लिम वास्तुकला का मिश्रण है। और जिसके विशाल गुंबद को दूर से देखा जा सकता है जो पर्यटकों के लिए लोकप्रियता का कारण बना हुआ है।

पुरजन विहार

पुरजन विहार
Image Credit : Shorya Vaish

कंपनी बाग या कंपनी गार्डन के रूप में लोकप्रिय पुरजन विहार, सिटी पैलेस के समीप स्थित एक सुंदर और सौंदर्य से भरपूर उद्यान है। जिसे महाराजा शिव दान सिंह द्वारा 1868 में निर्मित करबाया गया था। और आपको बता दे इस बगीचे को मूल रूप से कंपनी गार्डन नाम दिया गया था जिसे बाद में महाराजा जय सिंह ने इसे बदलकर पूरजन विहार कर दिया।

इस क्षेत्र में शानदार लॉन, अच्छी तरह से छंटनी वाले बगीचे और एक समग्र चित्र सुंदरता है। जो पर्यटकों के लिए आकर्षण बनी हुई है। इसके अलावा यहाँ विशाल गुंबद के साथ ’शिमला’ या ’समर हाउस’ नामक एक छोटा कक्ष भी है। जिसका तामपान हमेशा ठंडा और आसपास के क्षेत्रों और मुख्य शहर की तुलना में अधिक सुखद होता है। जिस कारण से पूरजन विहार अलवर के सबसे लोकप्रिय पर्यटक स्थलों के रूप में बना हुआ है।

गर्भजी वाटर फॉल्स

गर्भजी वाटर फॉल्स

अरावली नहर की गोद में जंगल के बीच में स्थित और प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर गर्भजी फॉल्स अलवर का लोकप्रिय पर्यटक स्थल है। जहाँ चट्टान के ऊपर से गिरते  हुए पानी का एक मनमोहनीय दृश्य देखा जा सकता है। जो शहर की भीड़-भाड़ से दूर एकांत जंगल में स्थित गर्भजी जलप्रपात लोगों के लिए एक आदर्श, रोमांटिक और पारिवारिक पिकनिक के लिए एक आदर्श स्थान माना जाता है। पर्यटकों के साथ-साथ फ़ोटोग्राफ़िक शौकीन और प्रकृति प्रेमियों के लिए भी गर्भजी फॉल्स अलवर की पसंदीदा जगहो में से एक बनी हुई है।

लाल मस्जिद तिजारा

लाल मस्जिद तिजारा
Image Credit : Abhimanyu Singh

अलवर शहर से लगभग 55 किमी दूर तिजारा टाउन के पूर्व में स्थित मस्जिद को लाल मस्जिद के नाम से जाना जाता है। लाल बलुआ पत्थर की संरचना आयताकार है जिसके चारो कोने मेहराबदार हैं। जिसमे से तीन मेहराबदार दरवाजे एक हॉल में खुले थे जिसमें तीन गुंबद हुआ करते थे। जो आज अलवर के प्रमुख आकर्षक स्थलों में से एक मानी जाती है।

और पढ़े : हनुमानगढ़ के प्रमुख पर्यटन स्थल की जानकरी 

अलवर की यात्रा में आप क्या-क्या कर सकते है – Things To Do In Alwar In Hindi

अगर आप राजस्थान के प्रसिद्ध शहर अलवर की यात्रा की योजना बना रहे है तो हम आपको बता दे की आप यहाँ के पर्यटक स्थलों में घूमने के अलावा भी अन्य रोचक गतिविधियों का आनंद उठा सकते हैं जो अलवर आने वाले लगभग हर पर्यटक की पसंद बनी हुई है –

अलवर के बाज़ार से खरीददारी

अलवर के बाज़ार से खरीददारी

राजस्थान का मशहूर शहर अलवर अपने पर्यटक स्थलों के अलावा स्थानीय हस्तशिल्प वस्तुयों के लिए भी प्रसिद्ध है। जहा आप अपनी अलवर की यात्रा के दोरान अलवर के हलचल भरे बाजारों में घूम कर यहाँ की स्थानीय हस्तशिल्प वस्तुयों जैसे -टेराकोटा की मूर्तियां, बुने हुए कालीन, चमड़े की मोजरियां (जूते), कढ़ाई वाले जूतों (फुटवियर), चूड़ियाँ, मिट्टी के बर्तन आदि की खरीददारी करके अपनी यात्रा को यादगार बना सकतें हैं। जिनमे से सराफ बाजार, मालाखेरा बाजार और केडलगंज बाजार शहर के कुछ महत्वपूर्ण और प्रसिद्ध शॉपिंग सेंटर हैं।

सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान सफारी

सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान सफारी

अलवर के लोकप्रिय पर्यटक स्थल सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान की यात्रा के दोरान आप यहाँ उद्यान की रोमांचक सफारी का लुफ्त उठा सकते हैं। जिसमे आप सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान के वन्यजीवों की एक विस्तृत श्रृंखला को नजदीक से देख सकते हैं। इसके अलावा आप यहाँ की हरियाली, पहाड़ियों और घाटियों का सुन्दर नजारा भी सफारी के दोरान देख सकतें है। जो सरिस्का राष्ट्रीय उद्यान आने वाले पर्यटकों के लिए प्रमुख पसंद बनी हुई है।

सिलीसेढ़ लेक में बोटिंग

सिलीसेढ़ लेक में बोटिंग

अलवर के घने जंगल से घिरा हुए सिलीसेढ़ लेक में शांत, और सुखद माहोल के बीच आप एक शानदार नाव सफारी का आनंद उठा सकते हैं। जहाँ आप सुबह से सूर्यास्त के बीच कभी भी मोटर बोटिंग और पैडल बोटिंग का शानदार अनुभव प्राप्त कर सकते हैं। और आपको बात दे सिलीसेढ़ लेक में आप शाम के समय बोटिंग के अलावा यहाँ से सनसेट(सूर्यास्त) का सुन्दर नजारा भी देख सकते हैं।

अलवर का लोकप्रिय मत्स्य उत्सव

अलवर का लोकप्रिय मत्स्य उत्सव

नवंबर में दो दिनों तक आयोजित होने वाला अलवर का मत्स्य उत्सव राजस्थान के सभी मेलों और त्योहारों में सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। जो क्षेत्र की समृद्धि, पारंपरिक मूल्यों और रंगीन रीति-रिवाजों को महिमा मंडित करने के लिए धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। आपको बता दे यह मातस्य उत्सव अपनी सामाजिक और सांस्कृतिक विरासत, मौज-मस्ती और रंगीन रीति-रिवाजों के लिए जाना जाता है। जहाँ त्योहार की वास्तविक किस्मों का अनुभव करने के लिए, उत्सव में प्रतियोगिताओं, खेल, लोक संगीत, गाने और नृत्य का आयोजन किया जाता है। जो स्थानीय लोगो के साथ पर्यटकों के लिए भी लोकप्रिय बना हुआ है।

और पढ़े : राजस्थान के इतिहास और संस्कृति के बारे में जानकारी

अलवर में खाने के लिए प्रसिद्ध भोजन – Food Available In Alwar In Hindi

अलवर में खाने के लिए प्रसिद्ध भोजन - Food Available In Alwar In Hindi

अलवर शहर अलवर का मावा (दूध का केक) और कलाकंद का घर है। यह मिठाइयाँ शहर की परिभाषा है जिनका स्वाद लिए बिना आपकी यात्रा पूरी नहीं होगी। अलवर आपको लोकप्रिय राजस्थानी व्यंजन और नाश्ते की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है। यहां शहर के रेस्टोरेंट के मेनू में पुरी, दाल बाटी चोइर्मा, रबड़ी, लस्सी, गट्टे की सब्जी जैसे व्यंजन शामिल होते हैं।

अलवर कैसे पहुँचे – How To Reach Alwar In Hindi

अगर आप राजस्थान के  लोकप्रिय शहर अलवर घूमने जाने का प्लान बना रहे है तो हम आपको बता दे कि आप  ट्रेन, सड़क या हवाई मार्ग से अलवर पहुंच सकते हैं।

फ्लाइट से अलवर कैसे पहुँचे –  How To Reach Alwar By Flight In Hindi

फ्लाइट से अलवर कैसे पहुँचे –  How To Reach Alwar By Flight In Hindi

अगर आप अपने परिवार या दोस्तों के साथ हवाई मार्ग से अलवर घूमने की योजना  बना रहे है तो हम आपको अवगत करा दे की अलवर के लिए कोई सीधी फ्लाइट कनेक्टिविटी नहीं है। अलवर का निकटतम हवाई अड्डा दिल्ली में है जो अलवर से 165 किमी दूर स्थित है। तो आप भारत के किसी भी प्रमुख शहर से यात्रा करके दिल्ली हवाई अड्डा पहुंच सकते है और वहा से अलवर पहुंचने के लिए आप बस या टैक्सी किराए पर ले सकते हैं।

सड़क मार्ग से अलवर कैसे जाये – How To Reach Alwar By Road In Hindi

सड़क मार्ग से अलवर कैसे जाये – How To Reach Alwar By Road In Hindiअगर आप सड़क मार्ग से यात्रा करके अलवर जाने की योजना बना रहे है तो आपको बता दे की राज्य के विभिन्न शहरों से अलवर के लिए नियमित बस सेवाएं उपलब्ध हैं। चाहे दिन हो या रात इस रूट पर नियमित बसे उपलब्ध रहती हैं। जयपुर, जोधपुर आदि स्थानों से आप बस, टैक्सी या कैब किराए पर लेकर या अपनी कार से यात्रा करके अलवर पहुंच सकते हैं।

ट्रेन से अलवर कैसे जाए – How To Reach Alwar  By Train In Hindi

ट्रेन से अलवर कैसे जाए – How To Reach Alwar  By Train In Hindi

यदि आपने अलवर जाने के लिए रेल मार्ग का चुनाव किया है तो हम आपको बता दे की अलवर का अपना रेलवे जंक्शन है जो शहर का प्रमुख रेलवे स्टेशन है जहां के लिए भारत और राज्य के कई प्रमुख शहरों से नियमित ट्रेन संचालित हैं। तो आप भारत के प्रमुख शहरो से ट्रेन से यात्रा करके अलवर पहुंच सकते है।

अलवर का नक्शा – Alwar Map

अलवर की फोटो गैलरी – Alwar Images

https://www.instagram.com/p/B7TbuwehDNF/?utm_source=ig_web_button_share_sheet

और पढ़े :

Leave a Comment