चौरासी खंभों की छतरी बूंदी घूमने की जानकारी – Bundi Ki Chaurasi Khambon Ki Chhatri In Hindi

Chaurasi Khambon Ki Chhatri In Hindi, चौरासी खंभों की छतरी बूँदी का एक ऐतिहासिक स्थल है जो इतिहास में रूचि रखने वाले लोगों के लिए आदर्श जगह है। आपको बता दें कि 84 खंभों की छतरी एक बरामदा है जो 84 खंभों के सपोर्ट पर स्थित है। इस बरामदा का निर्माण देवसेना की सेवाओं का सम्मान करने के लिए राव अनिरुद्ध सिंह द्वारा 1683 में किया गया था जिन्हें संगीत महारानी की छतरी के रूप में भी जाना जाता है। चौरासी खंभों की छतरी एक डबल मंजिला संरचना है जिसे खूबसूरती से कलात्मक चित्रों के साथ सजाया गया है जो उस समय की कला का चित्रण था।  चौरासी खंभों की छतरी बूँदी के प्रमुख आकर्षण केंद्रों में से एक जो पर्यटकों के घूमने के लोकप्रिय पर्यटक स्थल बना हुआ है साथ ही यह एक पूजा स्थल के रूप में भी काम करता है।

यदि आप चौरासी खंभों की छतरी के बारे में जाड्या से जाड्या जानना चाहते है तो इस आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़े –

Table of Contents

84 खंभों की छतरी की इतिहास – 84 Pillared Cenotaph History In Hindi

84 खंभों की छतरी की इतिहास

84 खंभों की छतरी का इतिहास लगभग 300 सौ साल पुराना माना जाता है, चौरासी खंभों की छतरी का निर्माण राव अनिरुद्ध सिंह द्वारा 1683 में करवाया गया था। इस बरामदा का निर्माण देवसेना की सेवाओं के सम्मान के रूप में किया गया था। देवसेना के नर्स थी जो राजकुमार का विशेष ध्यान रखती थी।

बूंदी के चौरासी खंभों की छतरी की वास्तुकला – Architecture Of Chaurasi Khambon Ki Chhatri In Hindi

चौरासी खंभों की छतरी एक डबल मंजिला संरचना है जिसे खूबसूरती से कलात्मक चित्रों के साथ सजाया गया है। छतरी के अंदरूनी हिस्सों को सुंदर ढंग से डिज़ाइन किया गया है और विस्तृत स्टाइलिश पैटर्न के साथ सजाया गया है। इस छतरी में प्रत्येक 4 भुजा पर 4 छत्र हैं। और इस संरचना के निचले स्तर पर, एक शिव लिंग भी स्थापित है।

और पढ़े : व्यास छतरी जैसलमेर घूमने की जानकारी

84 खंभों की छतरी बूंदी खुलने और बंद होने का समय – 84 Khambon Ki Chhatri Timing In Hindi

चौरासी खंभों की छतरी पर्यटकों के घूमने के लिए प्रतिदिन सुबह 9.00 बजे से शाम 6.00 बजे तक खुला रहता है, और आपकी जानकारी के लिए बता दे 84 खंभों की छतरी की पूर्ण और विस्तृत यात्रा के लिए 1-2 घंटे का समय अवश्य निकाले।

चौरासी खंभों की छतरी की एंट्री फीस – 84 Khambon Ki Chhatri Entry Fees In Hindi

अगर आप अपने परिवार या दोस्तों के साथ चौरासी खंभों की छतरी घूमने जाने का प्लान बना रहे है तो हम आपको बता दे 84 खंभों की छतरी पर्यटकों के घूमने के लिए निशुल्क है यहाँ आप बिना किसी शुल्क का भुगतान किये घूम सकते हैं।

84 खंभों की छतरी घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time Visit To Chaurasi Khambon Ki Chhatri In Hindi

अगर आप बूँदी में चौरासी खंभों की छतरी की यात्रा के बारे में विचार कर रहे हैं तो हम आपको बता दें की 84 खंभों की छतरी घूमने जाने के लिए सबसे अच्छा समय अक्टूबर से मार्च तक का समय होता है। क्योंकि सर्दियों का मौसम बूँदी की यात्रा करना एक अनुकूल समय होता है। लेकिन मार्च से शुरू होने वाली ग्रीष्मकाल के दौरान बूँदी की यात्रा से बचे क्योंकि इस समय बूँदी राजस्थान का तापमान 45 डिग्री सेल्सियस तक पहुँच जाता है जो आपकी बूँदी की यात्रा को हतोत्साहित कर सकता है।

और पढ़े : बूंदी शहर के बेस्ट दर्शनीय स्थलों की जानकारी

84 खंभों की छतरी के आसपास के प्रमुख पर्यटन स्थल – Tourist Places Around Chaurasi Khambon Ki Chhatri In Hindi

अगर आप राजस्थान के प्रसिद्ध शहर बूँदी में चौरासी खंभों की छतरी की यात्रा की योजना बना रहे है तो हम आपकी जानकारी के लिए अवगत करा दें की बूँदी में चौरासी खंभों की छतरी के अलावा भी अन्य प्रसिद्ध पर्यटक स्थल है जिन्हें आप अपनी चौरासी खंभों की छतरी बूँदी की यात्रा के दौरान अवश्य घूम सकते हैं

चौरासी खंभों की छतरी बूंदी कैसे जाये – How To Reach Chaurasi Khambon Ki Chhatri Bundi In Hindi

अगर आप राजस्थान के प्रसिद्ध शहर बूँदी में चौरासी खंभों की छतरी घूमने जाने का प्लान बना रहे, तो आप फ्लाइट, ट्रेन और बस में से किसी का भी अपनी सुविधानुसार चुनाव करके 84 खंभों की छतरी  बूँदी पहुंच सकते हैं।

फ्लाइट से चौरासी खंभों की छतरी बूंदी कैसे पहुंचे – How To Reach Chaurasi Khambon Ki Chhatri By Flight In Hindi

फ्लाइट से चौरासी खंभों की छतरी बूंदी कैसे पहुंचे – How To Reach Chaurasi Khambon Ki Chhatri By Flight In Hindi

अगर आप हवाई मार्ग से चौरासी खंभों की छतरी बूंदी की यात्रा करना चाहते हैं, तो हम आपको बता दें बूँदी का सबसे निकटतम हवाई अड्डा जयपुर हवाई अड्डा है, जो बूँदी से लगभग 150 किमी की दूरी पर स्थित है। जयपुर हवाई अड्डा, हवाई मार्ग से भारत के प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है तो आप भारत के किसी भी प्रमुख शहर से फ्लाइट से यात्रा करके जयपुर हवाई अड्डा पहुंच सकते है और हवाई अड्डा से टैक्सी या कैब की मदद से 84 खंभों की छतरी बूँदी पहुँच सकते हैं।

सड़क मार्ग से चौरासी खंभों की छतरी बूंदी कैसे पहुंचें – How To Reach 84 Khambon Ki Chhatri Bundi By Road In Hindi

सड़क मार्ग से चौरासी खंभों की छतरी बूंदी कैसे पहुंचें – How To Reach 84 Khambon Ki Chhatri Bundi By Road In Hindi

जो भी पर्यटक 84 खंभों की छतरी बूंदी की यात्रा सड़क मार्ग द्वारा करना चाहते हैं। तो बता दें कि यह शहर राज्य के कई शहरों जैसे जयपुर, अजमेर, कोटा के अलावा देश के अन्य राज्य उत्तर प्रदेश, दिल्ली से भी सडक मार्ग जुड़ा हुआ है। बूँदी शहर के लिए नियमित बस सेवाएं उपलब्ध हैं जो निजी और सरकारी मालिकों दोनों के द्वारा संचालित की जाती हैं। आप राजस्थान के प्रमुख शहरों से बस, टैक्सी या अपनी कार से यात्रा करके चौरासी खंभों की छतरी  बूँदी पहुंच सकते हैं।

ट्रेन से चौरासी खंभों की छतरी बूंदी कैसे पहुंचें  – How To Reach Chaurasi Khambon Ki Chhatri By Train In Hindi

ट्रेन से चौरासी खंभों की छतरी बूंदी कैसे पहुंचें  – How To Reach Chaurasi Khambon Ki Chhatri By Train In Hindi

अगर आप चौरासी खंभों की छतरी बूंदी की यात्रा ट्रेन द्वारा करना चाहते हैं तो हम आपको बता दें कि बूँदी का निकटतम रेलवे स्टेशन कोटा में है, जो बूँदी से 35 किमी दूर है। कोटा रेल्वे जंक्शन दिल्ली-मुंबई रेल मार्ग पर स्थित हैं, और दिल्ली, कोलकाता,  मुंबई,  पुणे और चेन्नई आने-जाने वाली ट्रेन कोटा स्टेशन पर रुकती हैं। तो आप किसी भी प्रमुख शहर से ट्रेन के माध्यम से यात्रा करके कोटा रेलवे स्टेशन पहुंच सकते है और रेलवे स्टेशन से टैक्सी, केब या ऑटो बुक करके 84 खंभों की छतरी बूँदी पहुंच सकते हैं।

और पढ़े : माउंट आबू के टॉड रॉक घूमने की जानकारी

इस लेख में आपने चौरासी खंभों की छतरी के बारे में जाना है आपको हमारा यह लेख केसा लगा हमे कमेंट्स में बताना ना भूलें।

इसी तरह की अन्य जानकारी हिन्दी में पढ़ने के लिए हमारे एंड्रॉएड ऐप को डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक करें। और आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं।

84 खंभों की छतरी बूंदी का नक्शा – Chaurasi Khambon Ki Chhatri Bundi Map

84 खंभों की छतरी की फोटो गैलरी – 84 Khambon Ki Chhatri Images

View this post on Instagram

84, Pillared Cenotaph,Bundi Rajasthan

A post shared by Taha Padrawala (@taha.padrawala) on

और पढ़े

Leave a Comment