हीराकुंड बांध का इतिहास और घूमने की पूरी जानकारी – History and Complete information about Hirakud Dam in Hindi

Hirakud Dam in Hindi,हीराकुंड बांध ओडिशा राज्य के संबलपुर में स्थित है। महानदी नदी पर निर्मित हीराकुंड बांध दुनिया का सबसे लंबा मानव निर्मित बांध है और भारत में पहली बड़ी बहुउद्देशीय नदी घाटी परियोजनाओं में से एक है। बांध की झील को हीराकुंड जलाशय कहा जाता है, जो एक महत्वपूर्ण पर्यटक आकर्षण है। सर्दी के मौसम में यहां प्रवासी पक्षियों की पर्याप्त संख्या देखी जा सकती है। हीराकुंड बांध न केवल यह एक प्राकृतिक दृश्यों का स्थल है बल्कि एक आदर्श वातावरण है जो वन्यजीवों के फलने-फूलने की सुविधा प्रदान करता है। बांध के निर्माण के दौरान, कुछ पुराने मंदिरों की खोज की गई थी पर्यटक इन मंदिरों में मई और जून में नाव से जा सकते हैं। इसके आलवा पर्यटक हीराकुंड के पानी का पता लगाने के लिए स्कूबा डाइविंग जैसी रोमांचक गतिविधि का विकल्प चुन सकते है।

तो हीराकुंड बांध के महत्वपूर्ण तथ्य और यात्रा से सम्बंधित जानकारी के लिए आप हमारे इस लेख को पूरा अवश्य पढ़े –

हीरा कुंड डेम का इतिहास –  History of Hirakud Dam in Hindi

महानदी नदी पर स्थित हीराकुंड डेम का निर्माण सन 1948 में शुरू हुआ जो 1953 में बनकर पूर्ण हुआ। जबकि वर्ष 1957 में यह बाँध पूरी तरह से काम करने लगा था।

हीराकुंड बांध की वास्तुकला – Architecture of Hirakud Dam in Hindi

हीराकुंड बांध की वास्तुकला – Architecture of Hirakud Dam in Hindi
Image Credit : Sujeet_Vishwakarma

ओडिशा राज्य में स्थित हीराकुंड बांध देश की इंजीनियरिंग प्रतिभा का एक उत्कृष्ट उदाहरण है और मिट्टी, कंक्रीट और चिनाई की एक समग्र संरचना है। बांध की लंबाई 4.8 किलोमीटर है जिसे बुर्ला और हीराकुंड की दो पहाड़ियों के बीच बहुत समझदारी से बनाया गया है। हीराकुंड जलाशय की 639 किमी से अधिक की तटरेखा है। बाँध पर दो अवलोकन टॉवर हैं जो दोनों तरफ एक एक हैं। जिसमे से एक को  “गांधी मीनार” है और दूसरी “नेहरू मीनार” के नाम से जानी जाती है। दोनों अवलोकन टॉवर झील के शानदार दृश्य प्रस्तुत करते हैं।

और पढ़े : भारत के 10 सबसे बड़े और ऊँचे बांध

हीराकुंड बांध के महत्वपूर्ण तथ्य – Important Facts of Hirakud Dam in Hindi

  • बता दे हीराकुंड बांध का निर्माण 1957 में महानदी पर किया गया है।
  • हीराकुंड बांध की लम्बाई 8 किलोमीटर है जिससे 810 करोड़ घन मीटर जल संचित होता है।
  • यह बांध 1,33,090 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में फैला है, जो कि श्रीलांका के क्षेत्र से दोगुना है।
  • हीराकुंड बांध बिजली उत्पादन और 7,500,000 हेक्टेयर भूमि की सिंचाई करता है।
  • बता दे हीराकुंड बांध की झील एशिया की सबसे बड़ी मानव निर्मित झील है, इसका उद्देश्य बाढ़ पर नियंत्रण एवं विद्युत उत्पादन है।

हीराकुंड बांध की यात्रा में आप क्या क्या कर सकते हैं – What you can do in A Trip to Hirakud Dam in Hindi

हीराकुंड बांध की यात्रा में आप क्या क्या कर सकते हैं – What you can do in A Trip to Hirakud Dam in Hindi
Image Credit : A_B

यदि आप अपने परिवार या दोस्तों के साथ भारत के सबसे बड़े बांधो में से हीराकुंड बांध घूमने जाने वाले है तो आप अपनी यात्रा में बिभिन्न गतिविधियों को एन्जॉय कर सकते है जो हम आपको नीचे बताने जा रहे है-

  • बता दे हीराकुंड डेम की यात्रा में हीराकुंड झील के पानी का पता लगाने के लिए स्कूबा डाइविंग जैसी रोमांचक गतिविधि का विकल्प चुन सकते है।
  • हीराकुंड डेम की यात्रा में आप संबलपुर के कई अन्य आकर्षणों जैसे हुमा मंदिर, बदरमा-सकोठी वन्यजीव अभयारण्य और देवलाझारी की यात्रा कर सकते है।
  • बांध की अपनी यात्रा के बाद संबलपुर में स्थानीय भोजनालयों में स्थानीय व्यंजनों का लुफ्त उठा सकते हैं।

हीराकुंड बांध के खोये हुए मंदिर – Lost Temples of Hirakud Dam in Hindi

शायद यह जानकर आपको थोड़ी हैरानी हो सकती है की खोये हुए मंदिर भी दिख सकते हैं लेकिन यह सत्य है। माना जाता है कि 1957 में बांध के पूरा होने के बाद, और इसके आसपास मौजूद मंदिरों के अवशेष पानी में डूब गए थे। लेकिन गर्मियों के मौसम के दौरान, जब पानी का स्तर कम हो जाता है तब इन  मंदिरों को देखा जा सकता है। इन मंदिरों कई इतिहासकारों और पर्यटकों का ध्यान आकर्षित किया है और एक लोकप्रिय स्कूबा डाइविंग स्पॉट बन गया है। इन खोए हुए मंदिरों को खोजने में दिलचस्पी तब पैदा हुई जब पद्मापुर गाँव के पद्मासेनी मंदिर से लिखित (शिला लेख) कहे जाने वाले दो पत्थरों को खोजा गया। हालाँकि उस लगभग 200 डूबे हुए थे, जिनमें से 150 खराब हो चुके हैं और वर्तमान में  50 अन्य मंदिरो को केवल ग्रीष्मकाल के दौरान देखा जा सकता हैं।

और पढ़े : भारत के प्रमुख प्राचीन विश्वविद्यालय

हीराकुंड बांध घूमने जाने का सबसे अच्छा समय – Best Time To Visit Hirakud Dam in Hindi

हीराकुंड बांध घूमने जाने का सबसे अच्छा समय - Best Time To Visit Hirakud Dam in Hindi
Image Credit : Pramod Kumar Mahapatra

इस जगह की जलवायु बहुत चरम पर है, गर्मियों में तापमान लगभग 40 डिग्री सेल्सियस और सर्दियों में 1 डिग्री सेल्सियस तक कम हो जाता है। मानसून के मौसम में क्षेत्र में भारी वर्षा होती है। इसीलिए हीराकुंड संबलपुर जाने का सबसे अच्छा समय सितंबर से मार्च तक का समय माना जाता है क्योंकि इस दौरान मौसम ज्यादातर सुहावना रहता है। इसके अलावा यदि हीराकुंड बांध को पूर्ण आक्रोश के साथ देखना चाहते है तो आपको मानसून के मौसम में हीराकुंड बांध करनी चाहिए।

हीराकुंड बांध केसे जायें – How To Reach Hirakud Dam in Hindi

यदि आप अपने दोस्तों के साथ ओडिशा राज्य के संबलपुर में स्थित हीराकुंड डेम घूमने जाने का प्लान बना रहे है और सोच रहें की हम हीराकुंड डेम केसे पहुचें ? तो हम आपकी जानकारी के लिए बता दे आप फ्लाइट, ट्रेन या सड़क मार्ग में से किसी का भी अपनी सुविधानुसार चुनाव करके हीराकुंड बांध की यात्रा कर सकते है।

फ्लाइट से हीराकुंड बांध केसे जायें – How To Reach Hirakud Dam By Flight in Hindi

फ्लाइट से हीराकुंड बांध केसे जायें – How To Reach Hirakud Dam By Flight in Hindi

यदि आपने हीराकुंड बांध संबलपुर की यात्रा के लिए फ्लाइट से सफ़र करना चाहते है तो हम आपको बता दे हीराकुंड बांध का निकटतम एयरपोर्ट रायपुर   हवाई अड्डा है जो हीराकुंड डेम से लगभग 271 की दूरी पर स्थित है। फ्लाइट से हीराकुंड बांध की यात्रा थोड़ी असुविधाजनक हो सकती है। लेकिन यदि आप फ्लाइट से ही यात्रा करने वाले है तो रायपुर हवाई अड्डा पहुचने के बाद आप बस या टेक्सी बुक करके हीराकुंड डेम पहुच सकते हैं।

हीराकुंड बांध ट्रेन से केसे पहुचें – How To Reach Hirakud Dam By Train in Hindi

हीराकुंड बांध ट्रेन से केसे पहुचें - How To Reach Hirakud Dam By Train in Hindi

यदि आपने हीराकुंड बांध घूमने जाने के लिए रेल मार्ग का चुनाव किया है तो हम आपको बता दे हीराकुंड के निकटतम शहर संबलपुर में खेतराजपुर और संबलपुर दो रेलवे स्टेशन हैं। हालाकि खेतराजपुर रेलवे स्टेशन संबलपुर का प्रमुख रेलवे स्टेशन है और अधिकांश ट्रेनें यहाँ रुकती हैं। दोनों रेलवे स्टेशन हीराकुंड डेम से कुछ मिनटों की दूरी पर स्थित है। रेलवे स्टेशन पहुचने के बाद आप स्थानीय वाहनों की मदद से अपने गंतव्य स्थल पहुच सकते हैं।

सड़क मार्ग से हीराकुंड बांध केसे जाएँ – How To Reach Hirakud Dam By Road in Hindi

सड़क मार्ग से हीराकुंड बांध केसे जाएँ – How To Reach Hirakud Dam By Road in Hindi

संबलपुर में दो रेलवे स्टेशन की तरह दो बस स्टेंडड भी मौजूद है जो बसों के माध्यम से संबलपुर को ओडिशा के कई प्रमुख शहरों से जोड़ते है। इसके अलावा मुम्बई को कोलकाता से जोड़ने वाला राष्ट्रीय राजमार्ग 6 संबलपुर से होकर गुजरता है। जबकि संबलपुर राष्ट्रीय राजमार्ग 42 के माध्यम से भुवनेश्वर से जुड़ता है। इस प्रकार सड़क मार्ग से हीराकुंड की यात्रा के लिए बस, टेक्सी या अपने निजी वाहनों से यात्रा कर सकते हैं।

और पढ़े : कोटा बैराज के बारे में महत्वपूर्ण जानकरी

हीराकुंड बांध का मेप – Map of Hirakud Dam in Hindi

और पढ़े :

Leave a Comment